Thursday, May 3, 2018

दलितों को अपमानित कर रहे हैं सीएम खट्टर- अभय चौटाला 


फतेहाबाद: नेता प्रतिपक्ष एवं इनेलो के शीर्ष नेता अभय चौटाला ने कहा कि समाज में जात-पात का जहर घोलने वाली भाजपा सरकार ने अब अति पिछड़े वर्ग दलितों को अपमानित करने का नया तरीका खोज निकाला है। भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं की तर्ज पर अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी दलितों के घर खाना खा फोटो खिंचवा, दलित वर्गों को अपमानित करने का काम कर रहे है। यदि भाजपा सरकार की दलितों के प्रति जरा भी हमदर्दी होती तो एससी-एसटी एक्ट में संशोधन की नौबत न आती। दलितों को अपना हक पाने के लिए सड़कों पर न उतरना पड़ता और दमनकारी भाजपा सरकार दलितों की आवाज को दबाने के लिए उन पर अनाप-शनाप मामले न दर्ज करती। वे आज इनेलो विधायक बलावान दौलतपुरिया के अनाज मंडी स्थित कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर किसान प्रकोष्ठ प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह, विधायक बलवान दौलतपुरिया, प्रो रविन्द्र बलियाला, जिलाध्यक्ष बलविन्द्र कैरों, वरिष्ठ नेता मोलूराम रूहलानियां, कुलजीत कुलडि़या, महिला प्रकोष्ठ प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण भी मुख्य रूप से उपस्थित रहे। इस दौरान उन्होंने पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से एसवाईएल मुद्दे पर चल रहे जेल भरो आंदोलन बारे चर्चा की और 22 मई को फतेहाबाद में जेल भरो कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए।
अभय चौटाला ने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि जिस भाजपा सरकार ने प्रदेश को जात-पात के नाम पर 4 साल के कार्यकाल में ही हरियाणा को 3 बार हिंसा की आग में झौंक दिया। प्रदेश के आपसी भाईचारे को तार-तार करके रख दिया, वह दलितों की हितैषी कतई नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि दलितों की हमदर्द होने का दंभ भरने वाली खट्टर सरकार में सफाई कर्मचारी सुविधाओं के अभाव में जिन्दगी और मौत के बीच संघर्ष करके ड्यूटी देने को मजबूर है। यदि प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल दलितों के घर खाना खाने का राजनीतिक स्टंट करने की बजाय उन्हें सुविधाएं देने की तरफ ध्यान देते तो अपने परिवार का मुखिया रहा सफाई कर्मी हरियाणा में सीवर की गंदगी में दम तोड़ने को मजबूर न होता। अभय चौटाला ने कहा कि प्रदेश के सीएम को दलितों के घर खाना खा वाहवाही लूटने जैसी ओछी हरकत करने की बजाय उन्हें रोजी-रोटी कमाने के संसाधन देने की तरफ ध्यान देना चाहिए, जिससे दलित वर्ग अपने परिवारों का भरण-पोषण सही तरीके से कर सकें। अभय चौटाला ने चुटकी लेते हुए कहा कि 4 साल तक गांवों की सुध न लेने वाले मुख्यमंत्री चुनाव नजदीक आता देख ग्रामीणों के बीच रात्रि प्रवास करने का स्वांग रचने लगे है। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा सरकार ने ग्रामीणों व किसानों के लिए 4 साल में अच्छी नीतियां बनाई होती तो ग्रामीण स्वयं सीएम को इस तरह बिन बुलाए मेहमान की तरह गांवों में न जाना पड़ता, ग्रामीण स्वयं उन्हें अपने गांवों में बुलाते। उन्होंने आगजनी से गेहूं की फसल जलने पर उसका मुआवजा देने और किसानों के कर्जे का ब्याज माफ करने की मांग भी उठाई।
अभय चौटाला ने कहा कि एसवाईएल के मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के पश्चात आज तक प्रदेश सरकार ने हरियाणा में एसवाइएल में पानी लाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया जिस कारण इनेलो बसपा गठबंधन को मजबूर होकर 1 मई से जेल भरो आंदोलन शुरू करना पड़ा है। उन्होंने कहा कि 1 मई को भिवानी में जेल भरो आंदोलन के दौरान सरकार ने कार्यकर्ताओं के लिए बनाई गई खुली जेल में कोई मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवाई। अब 4 मई को यमुनानगर जिले में जेल भरो आंदोलन के दौरान जब तक सरकार लिख कर नहीं देगी कि वह मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवा सकती तब तक गठबंधन के कार्यकर्ता रिहा नहीं होंगे। इनेलो नेता ने सरकार से मांग की कि वे श्वेत पत्र जारी करके बताए कि कितने युवकों को रोजगार दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि जो भी भर्ती की जा रही हैं उनमें आरएसएस के लोगों को नौकरी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि इनेलो की सरकार बनने पर युवकों से नौकरी के लिए आवेदन करने की कोई फीस नहीं ली जाएगी और एक घर से एक युवक को रोजगार दिया जाएगा। रोजगार से वंचित रहने वालों को 15 हजार रुपये महीना बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा। इस अवसर पर वरिष्ठ नेता अजीत गिल्लाखेडा, जिला उपाध्यक्ष सुरेन्द्र लेगा, हलकाध्यक्ष भरत सिंह परिहार, बिकर सिंह हड़ोली, हरि सिंह मेहरिया, शहरी प्रधान पवन चुघ, राजेन्द्र सूरा, रमेश लाली, हरबंस खन्ना, एडवोकेट राजेश शर्मा व जिला प्रवक्ता प्रमोद बजाज सहित पार्टी के अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

No comments:

Post a Comment