Monday, April 9, 2018


सरकार अपनी नाकामी व भविष्य में जांच के डर से कर रही हाई वोल्टेज ड्रामा- दिग्विजय चौटाला


भिवानी : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने कहा कि एचएसएससी मामले में पर्दे के पीछे के सच को सरकार के द्वारा छिपाने का आरोप लगाया है। चौटाला ने कहा कि जब सरकार पारदर्शिता की बात करती है तो उसे उच्च स्तरीय कमेटी बनानी चाहिए थी, लेकिन आरएसएस के लोगो को हरियाणा में हुई भर्तियों में तवज्जो दी गई ओर नियमो को ताक पर रख कर भर्ती की गई। दिग्विजय ने कहा कि अब सरकार अपने बचाव के लिए ओर भविष्य में जांच से बचने के लिए हाई वोल्टेज ड्रामा कर रही है। 
दिग्विजय ने मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की मांग की ओर कहा कि मुख्यमंत्री व उनके मंत्री पाक साफ है तो हाईकोर्ट के मौजूदा जज या सेवानिवृत जज से मामले की निष्पक्ष जांच करवाएं। दिग्विजय ने कहा कि निश्चित तौर पर यदि उच्च स्तरीय जांच होगी तो सरकार की पोल खुलती नजर आएंगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा स्टाफ सेलेक्शन कमीशन ने सरकार के ईशारे पर आरएसएस  के आदमियों को भर्ती करके भारी भ्रष्टाचार किया है वह हरियाणा में पिछली भर्तियों में भारी गोलमाल को दर्शाता है। इनसो अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा ने हरियाणा के नौजवानों के साथ गद्दारी की है। जिसे युवा किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेगा ओर 2019 के चुनाव में भाजपा को सबक सिखाएगा। प्रादर्शिता का राग अलापने वाली भाजपा सरकार का असली चेहरा जनता के सामने आ चुका है। दिग्विजय ने कहा कि पूरे घटनाक्रम को देखा जाए तो यह बात साफ हेै कि हरियाणा स्टाफ सेलेक्शन कमीशन ने यह गिरोह किसी के कहने से सक्रिय था। यदि सरकार पारदर्शिता से भर्ती करना चाहती थी तो उसे उच्च स्तरीय कमेटी बनानी चाहिए थी लेकिन जनता को बेवकूफ बनाने के लिए पहले तो भाजपा ने लिखित परीक्षा के नबंर बढ़ाए जिससे की किसी को शक ना हो ओर फिर इंटरव्यू के नबंरो में चंडीगढ़ बैठकर इशारे के साथ मनमाने ढंग से अंक लगाकर युवाओं के साथ खिलवाड़ किया। यही नहीं जब सरकार को इस बात का अंदेशा हुआ कि भविष्य में उच्च स्तरीय जांच हो सकती है तो उन्होंने हाई वोल्टेज ड्रामा रच डाला। इस पूरे घटनाक्रम की प्रदेश सरकार के द्वारा जांच ना हो कर के किसी मौजूदा जज या सेवानिवृत जज से करवाई जाएं तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा, लेकिन सरकार बचने के लिए ऐसा करती नजर नही आ रही। लिहाजा खट्टर साहब यह पब्लिक है यह सब जानती है।

No comments:

Post a Comment