Tuesday, April 3, 2018

भाजपा सरकार लगातार लोकतान्त्रिक अधिकारों का हनन कर रही है - अभय चौटाला 


सिरसा, 3 अप्रैल: नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपने आवास पर अपनी मांगों को लेकर मिलने पहुंचे जनप्रतिनिधियों को अपमानित करने का काम किया। ऐसे में राज्यभर में सरपंच धरने-प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री को जनप्रतिनिधियों से क्षमा मांगनी चाहिए। अभय सिंह चौटाला आज यहां सिरसा में खंड विकास एवं पंचायत कार्यालय के बाहर धरने पर बैठे जनप्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। अभय सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार लगातार लोकतांत्रिक अधिकारों के हनन जैसे निर्णय ले रही है। इसी क्रम में अभी हाल में ग्राम पंचायतों को ई-प्रणाली से जोडऩे का निर्णय कर सरकार ने चुने हुए सरपंचों के हकों पर डाका डालने का काम किया है। सरकार के इस निर्णय को अभय सिंह ने पंचायती राज के लिए खतरा बताते हुए कहा कि भाजपा सरकार लगातार लोकतांत्रिक मूल्यों एवं अधिकारों का हनन कर रही है। सरपंचों के धरने को मुख्यमंत्री ने पहले दिन जब अपने आवास पर बुलाकर जनप्रतिनिधियों को अपमानित किया, उसी दिन इनैलो ने निर्णय ले लिया था कि अगर मुख्यमंत्री चुने हुए प्रतिनिधियों को अपमानित करते हैं तो हम इसकी निंदा करते हैं। यह सरपंचों का ही नहीं पूरे प्रदेश की जनता का अपमान है। हमारी पार्टी ने सरपंचों का समर्थन किया है और मुख्यमंत्री को जनप्रतिनिधियों को अपमानित करने के लिए सरपंचों से माफ़ी मांगनी चाहिए। साथ ही सभी जनप्रतिनिधियों की जायज मांगों को तत्काल पूरा किया जाए। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि चौ. ओमप्रकाश चौटाला के शासनकाल में चुने हुए प्रतिनिधियों का मान-सम्मान था और उनकी हर जायज मांगों को पूरा किया जाता था। इसके विपरीत मनोहर लाल एक अनुभवहीन मुख्यमंत्री हैं और उन्हें चुने हुए प्रतिनिधियों के मान-सम्मान की कोई परवाह नहीं है। अभय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि हैं, ऐसे में वे तानाशाही रवैया छोड़कर उनकी मांगों को पूरा करें। पत्रकारों द्वारा इनैलो के किसी राजनीतिक दल से गठबंधन की संभावना के सवाल पर अभय सिंह ने कहा कि इनैलो भाजपा और कांग्रेस को छोडक़र किसी भी दल से गठबंधन कर सकती है। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि गांवों में शौचालय बनाने के लिए केंद्र सरकार से 1-1 लाख की राशि आई, जिसे हड़प लिया गया और ग्राम पंचायतों ने स्वयं शौचालयों का निर्माण करवाया। अभय सिंह ने इस दौरान एस.सी.-एस.टी. एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार पर उचित तरीके से पैरवी न करने का आरोप लगाया। इस एक्ट के विरोध में बीते दिवस अनुसूचित जाति के संगठनों द्वारा किए गए भारत बंद के दौरान हुई हिंसा की निंदा की और कहा कि इनैलो हिंसा का समर्थन नहीं करती। उन्होंने इस हिंसा के पीछे सरकार का हाथ होने की आशंका जताई। इस अवसर पर उनके साथ सिरसा के विधायक मक्खन सिंगला, पार्टी के जिलाध्यक्ष पदम जैन, कालांवाली के विधायक बलकौर सिंह, पूर्व चेयरमैन अमीर चावला, विनोद बैनीवाल, विनोद दड़बी, तरसेम मिढ़ा, महावीर शर्मा, लक्की चौधरी, भगवान कोटली, विनय श्योराण मौजूद थे।
इस दौरान सरपंच एसोसिएशन सिरसा खंड के प्रधान व सरपंच आत्मा राम, झोरडऩाली के सरपंच दयाराम, एसोसिएशन के संरक्षक व मोरीवाला के सरपंच सुरेंद्रपाल, सचिव व गांव मंगाला के सरपंच राजकुमार,  माधोसिंघाना गांव के सरपंच पवन बैनीवाल, भरोखां के सरपंच शीशपाल, संगर सरिस्ता से सरपंच प्रतिनिधि विनोद कुमार, बेगू के सरपंच चंद्रभान, भावदीन से गुरजीत सिंह, रंगड़ी से चंद्रशेखर, झोंपड़ा से गुरप्रीत सिंह, बगुवाली से लखवीर, चन्नू शहीद से बेअंत सिंह, भम्भूर से सावनराम, पनिहारी से सुरेंद्र सिंह व चंद्रप्रकाश मौजूद थे।

मीडिया सेंटर में पत्रकारों संग की मुलाकात


खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी, सिरसा कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठे जनप्रतिनिधियों संग मुलाकात करने के बाद विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने मीडिया सेंटर में पहुंचे। मीडिया सेंटर पहुंचने पर पत्रकारों ने अभय सिंह का स्वागत किया। इस दौरान उन्होंने मीडिया सैंटर का अवलोकन किया और पत्रकारों की समस्याओं पर चर्चा की। वरिष्ठ पत्रकार राजेंद्र ढाबां की ओर से पत्रकारों की ओर से मीडिया सैंटर के एयरकंडीशनर सम्बन्धी मांग पर अभय सिंह ने सिरसा के सांसद चरणजीत रोड़ी के कोटे से 2 एयरकंडीशनर मीडिया सेंटर में लगवाने की मांग की।

No comments:

Post a Comment