Wednesday, April 11, 2018

बाबा साहेब को भारत रत्न देने में कांग्रेस व भाजपा ने अटकाए थे रोड़े - दिग्विजय 


भिवानी, 11 अप्रैल : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि एक तरफ तो भाजपा के केंद्रीय मंत्री संविधान को मिटाने की बात करते हैं वहीं दूसरी तरफ भाजपा के मुख्यमंत्री व मंत्री अखबारों में बड़े-बड़े इस्तहार देकर अम्बेडकर जयंती मनाने का झूठा ढकोसला रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि डा. भीम राव अम्बेडकर एक साधारण परिवार से थे लेकिन उन्होंने अपनी असाधारण प्रतिभा से देश का संविधान लिखा, यही नहीं उन्होंने ऐसे कानून बनाए जिससे आम आदमी को कोई कठिनाई न हो। उन्होंने कहा कि जब से देश व प्रदेश के अंदर भाजपा की सरकार बनी है आए दिन जात-पात, धर्म-मजहब के नाम पर लोगों को आपस में लड़ाया जा रहा है। सोशल मीडिया का दुरुपयोग सबसे ज्यादा भाजपा के नुमाईंदे करते हैं। इनसो मत डालने के अधिकार व शिक्षा का अधिकार देने वाले संविधान निर्माता डा. भीम राव अम्बेडकर की विचाराधारा को मानती है इसलिए इनसो संविधान के ऊपर आंच नहीं आने देगी। जब डा. भीम राव अम्बेडकर ने संविधान को लिखा तो कांग्रेस के दिग्गज इस बात से नाराज थे। कांग्रेसियों ने संविधान को मानने से इंकार भी कर दिया था लेकिन बाबा साहेब के द्वारा लिखे गए संविधान का कोई तोड़ नहीं था लिहाजा गरीब के हक के इस संविधान को लागू किया गया। यही नहीं बाबा साहेब को जब भारत रत्न की उपाधि के लिए चुना गया था उस समय कांग्रेस व भाजपा के दिग्गजों ने बाबा साहेब के भारत रत्न उपाधि पर सवालिया निशान लगाया था। उस समय देश के तीसरे मोर्चे के नायक चौधरी देवीलाल ने सबसे पहले बाबा साहेब को भारत रत्न देने की पैरवी भी की और वो इस लड़ाई में शामिल भी हुए। क्योंकि भीम राम अम्बेडकर ने बिना किसी लोभ लालच के देश के गरीब लोगों को ऊपर उठाने के लिए संविधान को लचीला रूप दिया था।


दिग्विजय सिंह ने बताया कि बाबा साहेब देश के महानायक थे और हमेशा रहेंगे। उन्होंने कांग्रेस व भाजपा पर चुटकी लेते हुए कहा कि 14 अप्रैल को जब ये लोग वोट की राजनीति करने के लिए मंचों पर भाषण दें तो सभी को एकजुट को लेकर इन लोगों से संविधान के बारे में पूछना चाहिए और खासकर भाजपा के दोमुहे रूप पर स्पष्टीकरण लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षा का अधिकार देने वाले बाबा साहेब की विचारधारा को वे इनसो यात्रा के दौरान प्रत्येक कॉलेज में जाकर छात्रों को बताने का काम करेंगे।

No comments:

Post a Comment