Saturday, October 7, 2017

भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने वाली भाजपा के नेता ही निकले भ्रष्टाचारी: इनेलो

 भाजपा महिला मोर्चा की जिला सचिव ने नौकरी के नाम पर ऐंठे रुपए, भाजपा लगी है बचाने में सरकार के भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने की खुल चुकी है पोल


फतेहाबाद: ईमानदारी व भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने का दावा करने वाली भाजपा सरकार की पोल खुलकर जनता के सामने आने लगी है। प्रतिदिन भाजपा के मंत्रियों व नेताओं पर भ्रष्टाचार के मामलों का खुलासा हो रहा है और भाजपा सरकार आंखें मूंद कर इनको बचाने में अधिक लगी हुई है। यह बात आज इनेलो की जिला ईकाई ने जाट धर्मशाला में आयोजित पार्टी मीटिंग के दौरान की। मीटिंग की अध्यक्षता इनेलो जिला प्रभारी स. निशान सिंह ने की। मीटिंग में मुख्य रूप से विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, जिला प्रधान बलविन्द्र सिंह कैरों, वरिष्ठ नेता कुलजीत कुलडिय़ा, हलका प्रधान भरत सिंह परिहार, बीकर सिंह हड़ौली, हरिसिंह मेहरिया, पवन चुघ, जिला परिषद सदस्य जोगेन्द्र सिहाग, विकास मैहता, यशपाल यश तनेता आदि इनेलो नेता उपस्थित थे। 
आज के राष्ट्रीय समाचार पत्रों में आई रिपोर्ट के अनुसार, रामसिंह नामक व्यकित ने भाजपा निगरानी कमेटी के लोकसभा संयोजक भारत भूषण मिढ़ा व पुलिस को दी शिकायत में बताया है कि गांव खाराखेड़ी निवासी भाजपा महिला मोर्चा की सचिव रजनी देवी ने भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला व जिला प्रधान वेद फूलां के नाम पर उसके भाई को कंडक्टर लगाने के नाम पर 3.60 हजार रुपए की मांग की थी। उसने 1 लाख से अधिक रुपए दे दिए, लेकिन ना तो उसके भाई को नौकरी मिली और ना ही रूपए वापिस दिए गए। जब वह रूपये वापिस लेने गया तो उसे पैसे देने से साफ मना कर दिया गया और कहा कि वो पड़ा थाना और वो पड़ा एसपी करले जो करना है। इनेलो नेताओं ने कहा कि इस मामले में सबसे हास्यास्पद तो भारत भूषण मिढ़ा का ब्यान है, जिन्होंने मीडिय़ा को कहा कि वह अगर अपने ही पार्टी के नेताओं को नहीं बचाएंगे तो किसे बचाएंगे। इससे साफ जाहिर है कि भाजपा में भ्रष्टाचार की जड़ें कितनी गहरी हो चली हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि इससे पहले भी भाजपा नेताओं का एक बड़ा मुद्दा टोहाना में सामने आ चुका है। पीएनडीटी एक्ट के इस मामले में डा. अशोक ने करीब 40 लाख रुपये की रिश्वत लेने का मामला सामने आ चुका है। इसमें भाजपा के शीर्ष नेताओं व पुलिस के बड़े अधिकारी का नाम सामने  आया था। इस मामले में पुलिस के कुछ कर्मचारियों को ढाल बनाकर उन पर कार्रवाई कर दी गई, लेकिन भाजपा के शीर्ष नेताओं व पुलिस के उच्चाधिकारी को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। इनेलो नेताओं ने कहा कि अगर सीएम सचमें ईमानदार हैं तो इस मामले में भलीभांति जांच करवाकर दोषी भाजपा नेताओं के खिलाफ कारवाई करवाए। उन्होंने कहा कि जो मामले सामने आ रहे हैं, उससे भाजपा की तस्वीर सामने आ चुकी है कि वह जीरो टोलरेंस सिर्फ अपने ब्यानों में बोलती है, असल में भाजपा भ्रष्टाचार की जड़ों को ओर गहरा करने का काम कर रही है। इनेलो नेताओं ने कहा कि नौकरी के नाम पर जनता को ठगने वाले भाजपा नेताओं के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की जाए, अन्यथा इनेलो इस मुद्दे को लेकर बड़ा आंदोलन भी करेगी।

No comments:

Post a Comment