Tuesday, September 12, 2017

प्रदेश सरकार का कानून व्यवस्था से पूरी तरह नियंत्रण समाप्त हो चुका है -  अभय सिंह चौटाला 


सिरसा 12 सितम्बर: ऐलनाबाद के विधायक व नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि आगामी 25 सितम्बर को न केवल हरियाणा बल्कि देश के अनेक राज्य से लाखों की सख्यां में लोग किसानों के मसीहा व पूर्व उपप्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल को उनकी 104वीं जयंति पर श्रद्धासुमन अर्पित करने आयेगें।
वे मंगलवार को गांव दड़बा, माखोसिरानी, शकंरमदोरी, रूपान विश्नोइया, रूपाना जटान, जोगिवाला, चाहरवाला व गांव तरक्कावाली में आयोजित ग्रामीण जनसभाओं में चौधरी देवीलाल जयन्ती का न्योता दे रहे थे। चौटाला ने कहा कि वे अब तक हरियाणा के ज्यादातर जिलों का दौरा कर चुके है और सभी जिलों में इस जयंति समारोह को लेकर विशेष उत्सव पाया जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि लोगों का उत्साह इस जयंति समारोह को लेकर जिस प्रकार देखा जा रहा है उसके तहत भिवानी में होने वाले इस समारोह के लिए 600 एकड़ में पंडाल लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान मेें मौजूदा प्रदेश-केन्द्र की भाजपा सरकार से प्रत्येक वर्ग दुखी और त्रस्त है। जनकल्याण के झूठे वायदे कर सत्ता हथियाने वाली भाजपा के शासन में आज व्यापारी, कर्मचारी, मजदूर सहित सभी वर्ग परेशान है। उन्होंने इसे बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया कि सबका साथ सबका विकास का नारा देने वाली भाजपा के शासन में हरियाणा बलात्कार के मामले में पूरे देश में अव्वल है जो कि हरियाणा वासियों के लिए शर्मिंदगी का विषय है। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि पिछले दिनों हुए अपराधिक मामलों में गुरूग्राम में सात वर्षीय अबोध बालक की निर्मम हत्या जैसे केसों से ये साबित हुआ की प्रदेश सरकार का कानून व्यव्स्था से पूरी तरह नियंत्रण समाप्त हो चुका है। चौटाला ने कहा कि सरकारी स्कूलों में अध्यापक, अस्पतालों में डॉक्टर व् दवाईयां नही है, किसानों की खेती व पानी का अभाव है। प्रदेश के पतन की तस्वीर दर्शाता है। जनसमर्पक अभियान के दोरान व गांव तरक्कावाली में हनुमान यादव के निवास पर पहुँचकर शोक सतंप्त परिवार को ढांढस बंधाया। उन्होंने परिजनों व ग्रामीणों से हत्याकांड के सन्दर्भ में विस्तृत जानकारी ली। उन्होने पुलिस प्रशासन से मांग की कि घटनाक्रम में शामिल लोगों की जल्द से जल्द धर-पकड़ करे ताकि पीड़ित परिवार को न्याय मिल सके। इस अभियान के दौरान युवा जिलाध्यक्ष धर्मवीर नैन, विनोद बैनीवाल, महेन्द्र बाना, हरपाल कासनियां, सुभाष हंजीरा, दिनेश बैनीवाल, अरिवन्द शास्त्री, अजब ओला, राजेन्द्र जोधकां, नरेश कुसुम्बी सहित काफी सख्यां में पदाधिकारी मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment