Monday, September 11, 2017

विश्वविद्यालयों में आर. एस. एस. की विचारधारा को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा - प्रदीप देशवाल

  • महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय में इनसो ने नहीं चलने दिया प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण
  • प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा सरकार छात्रों की नहीं सुनती तो फिर छात्र जबरदस्ती नरेन्द्र मोदी का भाषण क्यों सुने - प्रदीप देशवाल
रोहतक, 11 सितम्बर : महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय में इनसो छात्र संघ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण नहीं चलने दिया। विश्वविद्यालय में छात्रों को कक्षाओं से उठाकर जबरदस्ती शिक्षकों द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भाषण सुनाने के लिए टैगोर ऑडिटोरियम ले जाया गया। टैगोर ऑडिटोरियम में छात्रों को नरेन्द्र मोदी का भाषण सुनाया जाना था। परन्तु भाषण शुरू होने से पहले ही सैकड़ों इनसो कार्यकर्ता प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप देशवाल की अगुवाई में टैगोर ऑडिटोरियम में पहुंच गए। इनसो कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। देखते ही देखते इनसो कार्यकर्ताओं ने मंच पर कब्जा कर लिया। इनसो प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप देशवाल ने कुलपति से माईक लेकर छात्रों को सम्बोधित करना शुरू कर दिया। मंच से प्रदीप देशवाल ने पूछा कि नरेन्द्र मोदी व भाजपा सरकार जब छात्रों व युवाओं की नहीं सुनती तो छात्र जबरदस्ती प्रधानमंत्री का भाषण क्यों सुनें।
प्रदीप देशवाल ने कहा कि विश्वविद्यालय की सैकड़ों एकड़ जमीन पर आर एस एस के लोगों ने कब्जा कर रखा है। बार-बार पत्र लिखकर सरकार से मांग की गई है कि मदवि की जमीन को खाली कराया जाए परन्तु भाजपा नेता नहीं चाहते कि मदवि की जमीन से अवैध कब्जा खाली हो। भाजपा सरकार विश्वविद्यालय को बेचना चाहती है। मदवि कुलपति व रजिस्ट्रार भाजपा नेताओं के हाथों की कठपुतली बने हुए है।
प्रदीप देशवाल ने कहा कि शहीद भगत सिंह की याद में कार्यक्रम की अनुमति मांगी गई तो रजिस्ट्रार ने अनुमति नहीं दी जबकि हर रोज विश्वविद्यालय में आर. एस. एस. व भाजपा के राजनैतिक कार्यक्रम विश्वविद्यालय के खर्चे पर हो रहे है। छात्रों के पैसे को आर. एस. एस. के प्रचार में दोनों हाथों से प्रशासन द्वारा लुटाया जा रहा है। सरकार विश्वविद्यालय में आर एस एस की विचारधारा का भगवाकरण नहीं होने दिया जाएगा। प्रदीप देशवाल ने मंच से कहा कि हरियाणा में भाजपा सरकार में 3 बार दंगे हो चुके जिसमें सैकड़ों युवाओं की जान चली गई परन्तु नरेन्द्र मोदी एक शब्द नहीं बोले। हरियाणा सरकार ने दाखिलों पर पाबन्दी लगा दी थी जिसको इनसो ने संघर्ष के दम पर हटवाया लेकिन नरेन्द्र मोदी ने कोई शब्द नहीं कहा। प्रदेश में 1996 से छात्र संघ चुनाव बंद है लेकिन नरेन्द्र मेादी जी एक शब्द भी नहीं बोले। छात्र संघ चुनाव पर आज तक। एस सी छात्रों की छात्रवृति रोक ली गई परन्तु प्रधानमंत्री जी मौन बने रहे। इसके अतिरिक्तक जब छात्र कक्षाओं में बैठकर पढ़ाई कर रहे थे तो उनको जबरदस्ती नरेन्द्र मोदी का भाषण सुनाने ले जाया गया।
प्रदीप देशवाल ने मंच से कुलपति को कहा कि वो पहले विश्वविद्यालय की जमीन पर आर. एस. एस. के लोगों द्वारा किए गए अवैध कब्जे को हटवाए उसके बाद ही उनसे कोई बात की जाएगी। इनसो के प्रदर्शन के आगे मदवि प्रशासन बेबस व लाचार नजर आया। प्रदीप देशावल ने कुलपति सहित सभी अधिकारियों को कई मुद्दों पर घेरा। इनसो के दबाव में नरेन्द्र मोदी का भाषण बिल्कुल भी नहीं चल पाया। मोदी के भाषण की जगह छात्रों को फिर दंगल फिल्म दिखाई गई। उसके बाद ही इनसो कार्यकर्ता शांत हुए। वहीं दूसरी तरफ  प्रदीप देशवाल पर कार्यवाही करने के लिए कुलपति ने अपने कार्यालय के सभी विभाग अध्यक्षों, डीन व उच्च अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई। लेकिन इनसो कार्यकर्ता प्रशासन की किसी कार्यवाही से डरने की बजाय दोबारा से बड़े आन्दोलन की तैयारी में लग गए है। इनसो प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप देशवाल ने सभी विश्वविद्यालय एवं कॉलेज इकाईयों को बड़ें प्रदर्शन के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए है।

No comments:

Post a Comment