Wednesday, September 13, 2017

बिजली छापों की एवज में बिजली व पुलिसकर्मियों को दी जाने वाली कमीशन की जाए बंद - अशोक अरोड़ा

बिल भरने वालों की बजाये बिजली का बिल न भरने वालों पर मारे जाएं छापे - अरोड़ा


कुरुक्षेत्र 13 सितंबर: इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने थानेसर हलके के लगभग एक दर्जन से अधिक गांवों मे जनसभाओं में संबोधित करके लोगों को जननायक देवीलाल की जयंती के अवसर पर 25 सितंबर को भिवानी में आयोजित सम्मान रैली में पहुंचने का न्यौता दिया। गांव पलवल, खेड़ी रामनगर, फतुहपुर, चंद्रभानपुर, खासपुर, अमीन, बीड़ अमीन, तिगरी, कुंवारखेड़ी, ईशहाकपुर, सलारपुर, सुनहेड़ी खालसा, आलमपुर और खेड़ी ब्राह्मणान में आयोजित जनसभाओं में अरोड़ा ने कहा कि भिवानी की रैली में अपार जनसमूह उमड़ेगा और यह रैली पिछली सभी रैलियों के रिकार्ड तोड़ेगी। इन जनसभाओं को हलका प्रधान रणबीर किरमिच, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य माया राम चंद्रभानपुरा, फतेह सिंह खेड़ी, पूर्व जिप सदस्य चंद्रभान बाल्मीकि, दीपक फौजी, राजपाल खासपुर, सुभाष पलवल, राजबीर, रामस्वरूप चोपड़ा, सतीश शर्मा इत्यादि इनेलो नेताओं ने भी संबोधित करते हुए लोगों को भारी संख्या में भिवानी की रैली में पहुंचने की अपील की।
इनेलो प्रदेशाध्यक्ष ने प्रदेश सरकार पर कड़े प्रहार करते हुए कहा कि भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल है। आगामी चुनावों में भाजपा का सूपड़ा साफ होगा और इनेलो सत्ता में आएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा के राज में बढ़ती महंगाई से जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। पेट्रोल और डीजल के भाव बढ़ाए जा रहे हैं। भाजपा सरकार ने फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों को लूटा और बड़े-बड़े पूंजीपतियों की बीमा कंपनियों को लाभ पहुंचाया। किसान के धान की फसल औने-पौने दाम में खरीदी गई। प्रदेश का किसान तबाही के कगार पर है। आज हर वर्ग में भाजपा सरकार के प्रति गहरा रोष है। कानून व्यवस्था का दिवाला पिट चुका है। कोई भी सुरक्षित नहीं है। तीन साल के भाजपा राज में तीन बार सेना बुलानी पड़ी, जो कि शर्मनाक बात है। देश की सेना सीमाओं की रक्षा के लिए होती है। बार बार सेना बुलाने से सेना की अहमियत घटती है। अरोड़ा ने कहा कि डीजल के दामों में साढ़े चार रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई, जबकि पेट्रोल के रेट साढ़े सात रुपये लीटर से अधिक बढ़ गए। भाजपा सरकार ने कोई भी चुनावी वायदा पूरा नहीं किया। जनता में भाजपा की पोल खुकी है। प्रदेश की जनता विकल्प के रूप में इनेलो की ओर देख रही है।

थानेसर से चार बार विधायक रह चुके एवं पूर्व मंत्री अशोक अरोड़ा ने थानेसर हलके में बिजली कर्मचारियों द्वारा लोगों के घरों में और व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर मारे जा रहे बिजली छापों की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि इस इलाके के लोग समय पर बिजली का बिल भरते हैं। छापे वहां मारे जाने चाहिए, जो लोग बिजली के बिल नहीं भरते। बिजली के छापे मारने की एवज में बिजली कर्मियों और साथ गए पुलिस कर्मचारियों को उपभोक्ता पर किए गए जुर्माने का 18 प्रतिशत कमीशन दी जाती है। उन्होंने कहा कि यह कमीशन बंद होनी चाहिए। अरोड़ा ने बिजली छापों पर स्थानीय भाजपा विधायक द्वारा चुप्पी साधने की भी कड़ी आलोचना की। 

No comments:

Post a Comment