Tuesday, September 12, 2017

काले कानूनों से व्यापारियों को सताया जा रहा है- दुष्यंत चौटाला

दुष्यंत चौटाला का मंडी में अभूतपूर्व स्वागत


हिसार/आदमपुर, 12 सितम्बर: किसान और व्यापारियों का चोली-दामन का साथ है और यह हमेशा बना रहेगा परन्तु भाजपा सरकार काले कानून बना कर इन रिश्तों को बिगाड़ना चाहती है। यह बात इनेलो संसदीय दल के नेता व सांसद दुष्यंत चौटाला ने आदमपुर मंडी में आयोजित सभा में कही। दुष्यंत का यहां मंडी में पहुंचने पर व्यापारियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया। आदमपुर व्यापार मंडल के प्रधान लीलाधर गर्ग, उपप्रधान दीनदयाल गोयल, सचिव राजकुमार गोयल, कोषाध्यक्ष गौरव मेहता व अन्य व्यापारियों ने स्वागत किया। एसोएिसशन की ओर से व्यापारियों की समस्याएं भी रखी। 


व्यापारियों ने सांसद दुष्यंत चौटाला को बताया कि भाजपा सरकार द्वारा लागू की जा रही ई-मार्केट प्रणाली न केवल व्यापारियों के लिए नुकसानदायक है बल्कि यह किसानों के लिए माफिक नहीं है। व्यापारियों ने इसे काले कानून की संज्ञा दी। उन्होंने बताया कि फसल की ऑन लाइन बोली होने से गुणवत्ता के निर्धारण व् किसान को भुगतान करने में परेशानी आती है। उन्होंन बताया कि कई बार किसान को अनायास ही धन की जरूरत पड़ जाती है तो इस प्रणाली में किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। व्यापारियों ने सांसद से इस मुद्दे को केंद्र सरकार के समक्ष उठाने की मांग की। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार न तो कि व्यापारियों आढ़तियों की समस्या समझ रही है और न ही किसानों का साथ दे रही है। उन्होंने कहा कि जीएसटी भी व्यापारियों के लिए जी का जंजाल बना हुआ है और कागजी कार्रवाई में पूरी करने में दुकानदारों और व्यापारियों का सारा ध्यान लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा किसानों के साथ-साथ व्यापारियों को बर्बाद करने पर तुली हुई है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने व्यापारियों को भरोसा दिलवाया कि उनकी मांग को उचित प्लेटफार्म के माध्यम से केंद्र के समक्ष उठाया जाएगा। इस अवसर पर उनके साथ जिला प्रधान राजेंद्र लितानी,विधायक वेद नारंग व अनूप धानक, विधायक रणबीर गंगवा,  हलका प्रधान भागीरथ नंबरदार, महिला विंग की प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण, राजेश गोदारा, रमेश गोदारा, सतबीर वर्मा, अमित बूरा, कानूनी प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष व जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्नोई, हरफूलखान भट्टी, कृष्णा भाटी, राजकुमार जांगड़ा, सिद्धार्थ गोदारा सहित अन्य व्यापारी मौजूद थे। 

No comments:

Post a Comment