Monday, July 31, 2017

सांसद दुष्यंत चौटाला का रोजगार मेला सात कंपनियों की सूची जारी, 1758 का हुआ चयन


हिसार : हरियाणा में अपनी तरह का पहला रोजगार मेला लगाने वाले सांसद दुष्यंत चौटाला ने अपनी वेबसाइट पर सात कम्पनियों का रिजल्ट जारी कर दिया है। इन सात कम्पनियों में 2132 को रोजगार मिल है। शेष कम्पनियों के भी शीघ्र ही रिजल्ट जारी किया जाएगा। सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि हरियाणा के इतिहास में पहली बार उन्होंने प्राइवेट कंपनियों को एक साथ एकत्र कर 14 जुलाई को स्थानीय पंचायत भवन में रोजगार मेले का आयोजन किया था। इस मेले के लिए 12 हज़ार से भी ज्यादा ने आवेदन किया था। इंटरव्यू के लिए 7200 के करीब युवा आए। जिनमें से चार हजार का चयन करना था। सांसद ने बताया कि अब तक छह कंपनियों ने अपनी सूचि हमें भेजी, जो जारी कर दी गयी हैं। उन्होंने बताया कि बिरला गु्रप की सुतलेज टेक्सटाइल में 602 का चयन हुआ है। इसी तरह मल्टीनेशनल कंपनी डोमिनोज में 252 युवाओं का चयन हुआ है। सांसद ने बताया कि मदरसन सुमि सिस्टम लिमिटेड में 409, रिलायन्स रिटेल में 168, फ्लिपकार्ट में 205 तथा एयरटेल 4जी में 122 युवाओं का चयन हुआ है। सांसद ने बताया कि शेष कंपनियों के रिजल्ट भी शीघ्र ही जारी कर दिया जाएगा। उन्होंने सभी चयनित युवाओं को बधाई देते हुए आह्वान किया कि वे जिस भी संस्थान में चयनित हुए हैं, वहां मेहनत और लगन से काम कर हिसार व हरियाणा का नाम रोशन करें।

Sunday, July 30, 2017

दुष्यंत की लोकप्रियता से घबराई भाजपा: दिग्विजय चौटाला


भिवानी। इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने सीएम की प्रेमनगर रैली को फ्लॉप शो करार देते हुए कहा कि भाजपा आज तानाशाही रवैये से काम कर रही है। जिसका जीता जागता उदाहरण प्रेमनगर रैली में हिसार के सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला का नाम शिलान्यास पट्ट पर न होना है। दुष्यंत चौटाला जिनका लोकसभा क्षेत्र के अन्तर्गत प्रेमनगर में हुए मेडिकल कालेज शिलान्यास समारोह में उन्हें निमंत्रण तक न देना, भाजपा का दुष्यंत चौटाला की कार्यशैली से घबराना दर्शाता है कि देश के सबसे युवा सांसद ने कड़ी मेहनत करके लोगों के दिलों में जगह बनाई। पिछले दिनों उन्होंने निजी कंपनियों से निवेदन करके हिसार में जहां सात हजार बेरोजगार शिक्षित युवाओं को नौकरियां देने का काम किया वहीं उनके मुकाबले भाजपा सरकार इतनी नौकरियां नहीं दे पाई। दिग्विजय सिंह ने कहा कि मेडिकल कालेज के नाम के ऊपर पहले तो इन लोगों ने जमकर राजनीति की और फिर मनमाफिक नाम रख दिया। जबकि हरियाणा के विकास में जननायक ताऊ देवीलाल व चौधरी बंसीलाल का अहम योगदान रहा था। प्रेमनगर रैली में जनता को मुख्यमंत्रभ् से बहुत आश थी लेकिन उन्होंने पुरानी बातों को दोहरा कर जनता को निराश ही किया। कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए दिग्विजय ने कहा कि मुख्यमंत्री के सामने महिला का पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाना इस बात को दर्शाता है कि मौजूदा सरकार में शासन व प्रशासन में जमकर लूट मचाई हुई है।  बवानीखेड़ा हलके को मेडिकल कालेज के साथ-साथ पीने के पानी, कच्ची गलियां, युवाओं को रोजगार, किसानों की फसल बर्बादी का मुआवजा, बसों की कमी, टैक्रीकल कालेज के साथ-साथ अनेक मुलभूत असुविधाओं ने घेर रखा है जिस पर सांसद दुष्यंत चौटाला अपने संसदीय कोष से पूरा पैसा खर्च कर रहे हैं वहीं मुख्यमंत्री महोदय पुराने पन्नों को पढ़कर लोगों के  साथ भद्दा मजाक कर रहे हैं। दुष्यंत चौटाला को समारोह का निमंत्रण न देना और शिलान्यास पट्ट पर उनका नाम नहीं लिखवाना भाजपा का दुष्यंत की लोकप्रियता से बौखलाना साफ दिखाई दे रहा है।

Saturday, July 29, 2017

खट्टर सरकार छात्र संघ की मांग को हल्के में लेने की भूल न करे-दिग्विजय चौटाला
छात्र संघ के चुनाव की घोषणा के लिए 5 अगस्त का अल्टीमेटम


हिसार: इनसो छात्रों के हितों की लिए कृत संकल्प है। दो वर्ष गैप इयर के बाद इनसो का अगला मुद्दा दाखिलों के दौरान एनसीसी, एनएसएस व ग्रामीण क्षेत्र के अंकों की गई कटौति को बहाल करवाना, प्रदेश में इवनिंग कक्षाएं व कालेजों में 25 प्रतिशत सीटें बढ़वाना है। यह बात इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने शनिवार को चौ. देवीलाल सदन में आयोजित विद्यार्थियों की बैठक को संबंधित करते हुए कही। दिग्विजय चौटाला ने सोनीपत में हो रहे 14 वें स्थापना दिवस के लिए विद्यार्थियों को न्यौता दिया। इनसो के जिला अध्यक्ष सिल्क पूनिया के आह्वान पर बैठक में भारी संख्या में छात्र दिग्विजय चौटाला को सुनने पहुंचे। 
इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने कहा कि इनेलो की सरकार बनने पर बेरोजगारों को किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा बल्कि योग्यता के आधार पर युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाएगी। उन्होंने कहा कि खट्टर सरकार पिछले तीन वर्षों से युवाओं को रोजगार के लिए दर-दर की ठोकरें खाने पर मजबूर कर रही है। उन्होंने प्रदेश की भाजपा सरकार को प्रदेश में छात्र संघ चुनाव को बहाल करने का अल्टीमेटम दिया। उन्होंने कहा कि 5 अगस्त तक समय खट्टर सरकार का है और यदि छात्र संघ के चुनाव बहाल इस तारीख तक घोषित नहीं हुए तो अगला निर्णय सोनीपत में इनसो की बैठक में होगा। 



उन्होंने कहा कि इनसो प्रदेश के कालेज व विश्वविद्यालय नहीं चलने देगी। इनसो अध्यक्ष ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि छात्र प्रदर्शन के दौरान अगर कोई अप्रिय घटना होती है तो उसकी जिम्मेदारी भाजपा सरकार की होगी।  उन्होंने कहा कि सरकार की छात्र विरोधी नीतियों के चलते शिक्षण संस्थानों में ग्रामीण परिवेश से आने वाले बच्चों का दाखिला लेना मुश्किल हो गया है। विश्वविद्यालयों में दाखिले की जो मैरिट बना करती थी उसमें ग्रामीण क्षेत्र, एनएसएस और एनसीसी वाले छात्रों को पांच-पांच अंकों का अतिरिक्त महत्व दिया जाता था, जो सरकार ने बंद कर दिया। दूसरी ओर दिल्ली और पंजाब के शिक्षण संस्थानों में हरियाणा के विद्यार्थियों को 10 अंक कम करके आंका जाता है जो भाजपा की छात्र विरोधी और शिक्षा विरोधी नीतियों को उजागर करता है। उन्होंने कहा कि सरकार छात्र-शक्ति को हल्के में लेने की भूल न करे। 


बैठक में जिला प्रधान राजेंद्र लितानी, शीला भ्याण, विधायक अनूप धानक, युवा प्रधान अमित बूरा, पार्षद जस्सी पेटवाड़, डा. अमन मोर, अमन बरवाला, दीप पंघाल, अंकित सिंघरान, रवि कड़वासरा, अजय सांगवान, गुजवि की मंजू, सुशीला, साहिल, नवीन चैन्नत, , सुनील जमावड़ी, संजय भंडारी, मोदी नैन, मनीष सरसौद, सोनू राजली, दीपक, संजय धनखड़, बिट्टू सहित भारी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे। 

Friday, July 28, 2017

दुष्यंत चौटाला रोजगार दें रहे हैं, खट्टर साहब दिल्ली दरबार में व्यस्त: दिग्विजय चौटाला
छात्र संघ चुनाव 5 अगस्त तक बहाल नहीं किए तो हरियाणा में होगा तख्तापलट बड़ा आंदोलन
डा.अंबेडकर ने छात्रों को पढऩे का अधिकार दिया, बीजेपी छिनने में लगी

भिवानी : भाजपा की खटारा सरकार युवाओंं को रोजगार देने में विफल साबित हुई है। डी.सी.रेट पर नौकरी देकर युवाओं को बरगलाने का काम किया जा रहा है। और तो और डा.अंबेडकर के द्वारा शिक्षा के अधिकार को भी ये लोग छिनने में लगे हुए हैं। लेकिन दुष्यंत चौटाला ने देश की सबसे बड़ी पंचायत में आवाज उठाकर गैप ईयर जैसे मामले को बहाल किया। प्रदेश के अन्दर सभी भर्तियों पर अनियमितताओं के कारण रोक लगी हुई है। जिसके कारण युवाओं को पक्की नौकरियां नहीं मिल रही। वहीं दुष्यंत चौटाला के अथक प्रयासों के कारण हिसार में रोजगार मेले के द्वारा सात हजार युवाओं को नौकरी देने का अनूठा काम किया। यह आरोप इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने पांच अगस्त को सोनीपत में होने वाले इनसो के 14वें स्थापना दिवस का निमंत्रण देते हुए स्थानीय जाट धर्मशाला में उपस्थित हजारों छात्रों को संबोधित करते हुए कहे। दिग्विजय सिंह चौटाला ने मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री को चेताते हुए कहा कि यदि पांच अगस्त तक प्रदेश के अन्दर छात्र संघ चुनाव बहाल नहीं किए गए तो हरियाणा प्रदेश का छात्र तख्तापलट के लिए बड़ा आंदोलन शुरू कर देगा,जिसकी जिम्मेवारी भाजपा सरकार की होगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता मनदीप सुई ने की। वहीं मंच संचालन मनीष छिल्लर ने किया। दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि छात्र संघ चुनाव के लिए इनसो पांच अगस्त के बाद कालेज पर ताला जडऩे तक से लेकर अनिश्चिताकालीन भूख हड़ताल भी कर सकती है। वहीं उन्होंने भिवानी में मेडिकल कालेज का नाम बंसीलाल के नाम पर रखने में कोई दिक्कत न होने की बात कही। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार गाय और गीता के मुद्दे पर अटकी पड़ी है लेकिन युवा रोजगार चाहता है। 


भिवानी को डा.अजय सिंह चौटाला की कर्मभूमि बताते हुए दिग्विजय सिंह चौटाला ने उपस्थित जनसमूह से गदगद होकर सोनीपत में होने वाली इनसो के 14वें स्थापना दिवस को ऐतिहासिक होने का दावा किया। इनसे प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप देशवाल ने कहा कि भाजपा सरकार इनसो को हल्के में न ले क्योंकि देश के अन्दर सबसे बड़े आंदोलन का आगाज छात्रों के द्वारा जयप्रकाश की अगुवाई में हुआ था। जिसने देश की सरकार का तख्तापलट कर दिया था। उपस्थित छात्रों को दिशा निर्देश देते हुए प्रदीप देशवाल ने पांच अगस्त को सोनीपत पहुंचने का आहवान किया। कार्यक्रम को मनदीप सुई, सेठी धनाना, सचिन जताई, सुरज बेनीवाल, बबलू चौधरी, दीपक सिवाड़ा, रविंद्र दादरी, रवि आर्य, सुनिल बिड़ोला, सुखबीर संडवा, मनीष छिल्लर, मनदीप घणघस, राहुल शर्मा, विवेक ख्यालिया, मनजीत रासीवासिया, सोनू बामला, बिन्नू राजपूत, विकास राव, प्रदीप बिधनोई, सुरेंद्र राठी, जितेंद्र शर्मा, पार्षद संजय तिगड़ाना, राजेश भारद्वाज, सिलोचना पोटलिया, इंदु परमार, गुडडी लांग्यान, दिनेश नंबरदार, टोनी टिटाणी, नवीन चौधरी आदि ने भी संबोधित किया। वहीं कार्यक्रम में मुख्य रूप से इनेलो के प्रदेश सचिव बलदेव घणघस, जिला प्रधान सुनील लांबा, दादरी के प्रधान नरेश द्वारका, कुलवंत कोंटिया, जितेंद्र शर्मा, शकुंतला श्याणी, रामफल फौजी, होशियार सिंह थानेदार, राजेंद्र आर्य, प्रवक्ता राजू मेहरा, अशोक शर्मा,संजय कारखल, वजीर मान, बल्लू बामला, रोहित मोगली, अजय दलाल, वजीर धनानिया, देवेंद्र नकीपुर,दीपक लांबा, अनुज शेषमा, राकेश बड़सी, मनजीत प्रेमनगर, नवीन ओला , बिन्नू बामला, दिविज घणघस, संदीप धनाना, विजय श्योराण, प्रदीप सिहाग, नीर चौधरी, सोनु दुर्जनपुर, आशीष शर्मा, मोहित खरकिया, अंकुर शर्मा, मनजीत बामला, रमन सिंह, विकास परमार, विकास बिधनोई, प्रेमोद गुलिया, रोहित वशिष्ठ, मनीष पंवार, लोकेश ग्रेवाल, मनबीर सिवाड़ा, निशांत कौशिक, सत्या तालू, उधम सिंह, रविंद्र, नरेश अत्री, सोमबीर सारसर, मिता, अमित मंढाणा, अजय पंघाल, पोनी मिताथल, सुमित ठाकन, संदीप शर्मा, सोमबीर लोहचब, सोमबीर लिवाच समेत अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे।

इनेलो का 4 से 14 अगस्त तक जनजागरण अभियान



चंडीगढ़ : नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों को जनता के सामने लाने के लिए प्रदेशव्यापी जनजागरण अभियान की शुरुआत 4 अगस्त से करेंगे। इस प्रदेशव्यापी अभियान में इनेलो के नेता हलकास्तर पर गांवों और शहर  के व्यापारियों एवं कार्यकर्ताओं से बातचीत करेंगे।
इस अभियान के अंतर्गत 4 अगस्त को झज्जर एवं बादली और बहादुरगढ़ शहर में बैठक की जाएगी। महेंद्रगढ़ जिले में 5 अगस्त को बैठकों का दौर शुरू होगा जो अटेली, नारनौल के गांवों और महेंद्रगढ़ शहर के व्यापारियों के साथ बातचीत की जाएगी। भिवानी के लौहारू, तोशाम और भिवानी शहर में 6 अगस्त, हिसार जिला के नलवा, हांसी और हांसी शहर में 7 अगस्त, 8 अगस्त को रतिया, फतेहाबाद एवं फतेहाबाद शहर, ऐलनाबाद, रानियां शहर 9 अगस्त को, डबवाली व सिरसा शहर 10 अगस्त को, कालांवाली और डबवाली शहर 11 अगस्त को बैठकें की जाएंगी। इसके अलावा 12 अगस्त को नरवाना और उचाना के साथ जींद शहर में, कलायत, पुण्डरी और कैथल शहर में 13 अगस्त को मीटिंग होगी। 14 अगस्त को नारायणगढ़ और मुलाना के गांवों और शाम को अम्बाला कैंट में व्यापारियों और कार्यकर्ताओं के साथ इनेलो नेता बातचीत करेंगे।
इनसो को हलके में न लें खट्टर सरकार: दिग्विजय चौटाला

इनसो स्थापना दिवस के बाद हरियाणा में युवा बदलेगा राजनैतिक समीकरण





भिवानी : अमरजैंसी के दौरान छात्रों के आंदोलन ने ही देश के अंदर परिवर्तन किया था। सन् 1989 के चुनाव में देश के अंदर कांग्रेस पार्टी का सफाया भी छात्र आंदोलन के कारण हुआ था। इसलिए हरियाणा की भाजपा सरकार और उनके मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को इनसो आंदोलनों को हलके में न लेकर हरियाणा के सभी कॉलेजों में छात्रों की दाखिलों की मांग, छात्रसंघ चुनाव, युवाओं को रोजगार, बहन बेटीयों को सुरक्षा मुहिया आदि तुरंत करवानी चाहिए। प्रदेश सरकार को यह चेतावनी इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने यहां जारी ब्यान करते हुए कहे। इनसो अध्यक्ष ने प्रदेश सरकार पर छात्रा हितों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि यदि 5 अगस्त तक छात्रों की मांगों को नहीं मना गया तो इनसो अपने पंद्रवें स्थापना दिवस पर भाजपा सरकार के खिलाफ पूरे प्रदेश में आंदोलन का बीगूल बजा देगी। दिग्विजय चौटाला ने अन्ना हजारे आंदोलन का उदाहरण देते हुए कहा कि 2012-13  में हुए इस आंदोलन के अंदर युवा और छात्रों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया था। परिणाम स्वरूप कांग्रेस की बूरी गती हुई थी। आज देश का सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला छात्र हितों के लिए संसद में आए दिन आवाज उठाते हैं वहीं अन्य राजनैतिक दल छात्रों को केवल मात्र बरगलाते हैं। यदि समय रहते छात्रों की मांगों को नहीं मना गया तो कांग्रेस कि तरह भाजपा सरकार की भी बूरी गती होगी। सोनीपत में 5 अगस्त को होने वाले इनसो के स्थापना दिवस के बाद प्रदेश की राजनैतिक हालात बदलेंगे। उन्होंने सोनीपत में एक से डेढ लाख छात्र एकत्रित होंगे। इनसो ने हमेशा सामाजिक कार्यों में भाग लेकर प्रदेश में अपनी उपस्थिति को दमदार तरिके से दर्ज करवाया है। नेत्रदान करने का विश्व रिकॉर्ड, रक्तदान करने का विश्व रिकॉर्ड व पौधे लगाने का विश्व रिकॉर्ड भी इनसो ने बनाया है।

 29 जुलाई को दिग्विजय सिंह चौटाला सिरसा में

सौरभ शर्मा चैयरमेन देवीलाल विश्वविधालय इनसो सिरसा ने बताया कि  इनसो के 15वें स्थापना दिवस को लेकर इनसो राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला 29 जुलाई को चौधरी देवीलाल विश्वविधालय में 2 बजे इनसो कार्यकताओं और युवा साथियों को न्योता देने पहुँचेगें। सौरभ शर्मा ने बताया कि हर साल की तरह इनसो स्थापना दिवस 5 अगस्त को धूमधाम से मनाया जाएगा इस बार कार्यक्रम का आयोजन सोनीपत में किया जाएगा जिसमे हरियाणा के साथ-साथ चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान से इनसो के कार्यकर्ता और युवा साथी पहुँचेगे। इनसो सिरसा इकाई प्र्रत्येक कालेज में जाकर न्योता देगी युवाओं के मनोरंजन के लिए कई हरयाणवी  और पंजाबी गायक भी अपनी सुरीली आवाज का जादू बिखरेंंगे। सौरभ शर्मा ने कहा कि स्थापना दिवस समारोह को लेकर युवाओं में काफी जोश और उत्साह है सिरसा जिले से हजारों की संख्या में युवा साथी सोनीपत पहुँचेंगे।










Dushyant Chautala's efforts forces Haryana government to revoke its decision on debarring students from appearing again in college exams

INLD MP raised the issue in parliament & also wrote to HRD ministry 

Chandigarh: 
Indian National Lok Dal (INLD)  leader and Member of Parliament Dushyant Chautala today said the move of the Harayana government to allow students with gap of two years for admission in the colleges was the result of the continuous effort he made to oppose this move at various administrative level. 
In a press statement issued here, Chautala said the Haraya Government has banned the admission for students with two years of gap in the colleges which debarred many students from getting the right of education. 
"After this draconian move, I took up the matter at various state government level but the education department remained unmoved. I even wrote to the vice-chancellors of the universities but nobody bothered ," said Chautala. 
The MP said it was only after he took up the matter in the Lok Sabha and met the Union Human Resource and Development  Parkash Javedkar who assured that he would direct the state government to revert the decision. 
"It was only the directions from the Union Minister that the Harayana Government took back the decision," said the MP, claiming that it was a big victory for the student power. 
This move was going to affect future of thousands of students especially from the rural areas, said the MP.


आर्मी चीफ से मिलकर दुष्यंत ने की युवाओं की नौकरी की मांग

रोहतक में बस के साथ दो वर्ष पहले छात्राओं के साथ छेड़छाड़ का मामला
आरोमुक्त हुए युवकों को नौकरी पर देने की मांग को लेकर दुष्यंत सेना प्रमुख से मिले
युवकों को सेना में भर्ती की रखी मांग

हिसार: रोहतक में दो लड़कियों द्वारा बस में युवकों की पिटाई का मामले में अदालत से बरी होने वाले युवाओं के मामले में इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने सेना प्रमुख बिपिन रावत मुलाकात की। दुष्यंत ने सेना प्रमुख से उपरोक्त मामले में अदालत से बरी हुए उन दो युवकों को सेना में नौकरी देने की मांग की जिन्होंने सेना में भर्ती प्रक्रिया के दो चरणों को पास किया था। मुलाकात के दौरान दुष्यंत के साथ जुलाना से इनेलो विधायक परमेंद्र ढुल भी थे। 
इनेलो संसदीय दल के नेता ने सेना प्रमुख को बताया कि दिसंबर 2014 में लोकसभा में रोहतक में तीन युवकों द्वारा दो छात्राओं के साथ छेड़छाड़ का मामला उठा था। इन युवकों की बस में छात्राओं ने पिटाई कर दी थी। इनमें से दो युवकों ने सेना में भर्ती के लिए आवेदन किया हुआ था और उन्होंने दो चरणों की परीक्षा पास कर ली थी। लोकसभा और मीडिया में मामला छाने के बाद इनमें से दो आरोपी युवकों का सेना में भर्ती से वंचित कर दिया था। सांसद दुष्यंत चौटाला ने सेना प्रमुख को बताया कि इस मामले में अदालत ने आरोपी युवकों को बरी कर दिया है। उन्होंने कहा कि अदालत का फैसला दो वर्ष बाद आया है तो पर अब सेना में भर्ती के लिए निर्धारित आयु सीमा को पार कर चुके हैं। युवा सांसद ने सेना प्रमुख से युवकों को सेना में भर्ती करने की मांग की। दुष्यंत चौटाला ने इस मामले को पिछले सत्र में लोकसभा में भी उठाया था।  
यहां बता दें कि दो वर्ष से अधिक चली इस लम्बी कानूनी के दौरान उनकी युवकों की सामाजिक प्रतिष्ठा पर भी असर पड़ा वहीं उनकी इनमें से दो युवाओं का भारतीय सेना में शामिल होने का ख्वाब भी टूट गया। कानूनी अडचनों के चलते सेना के भर्ती के शुरआती दो चरण पास करने के बाद उनका रजिस्ट्रेशन रद्द हो गया. अब सेना में शामिल होने की उम्र भी निकल गई है। 

Saturday, July 22, 2017

पंचायती जमीन न होने वाले गांवों को दी जाए विकास के लिए प्राथमिकता के आधार पर दी जाए विशेष अनुदान राशि- कश्यप

कुरुक्षेत्र: राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप ने सरकार से मांग की है कि जिन पंचायतों के पास पंचायती जमीन न होने के कारण आय का कोई स्त्रोत नहीं है, उन्हें सरकार विकास के लिए प्राथमिकता के आधार पर विशेष अनुदान दे, ताकि ऐसे गांवों में भी समान रूप से विकास कार्य हो सकें। सांसद कश्यप सैक्टर 8 स्थित अपने निवास स्थान पर पत्रकारों से वार्तालाप कर रहे थे। 
सांसद कश्यप ने कहा कि हरियाणा में काफी ग्राम पंचायतें ऐसी हैं जिनके पास पंचायती जमीन नहीं है और इसके अलावा उनके पास आय का कोई साधन नहीं है। ऐसी पंचायतों को सरकार की ओर से बहुत कम अनुदान राशि मिलती है। जिस कारण ये गांव अभी तक मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं। ऐसे गांवों में स्वास्थ्य व शिक्षा सेवाएं बेहतर नहीं हैं। न ही पक्की गलियां हैं और पानी की निकासी का भी कोई साधन नहीं है, पेयजल की भी उचित व्यवस्था नहीं है। इसलिए ऐसे गांवों में शिक्षक व डाक्टर नियुक्ति से कतराते हैं। जिस कारण ऐसे गांव विकास की दृष्टि से पिछड़ गए हैं। जिन पंचायतों के पास आय के अपने साधन हैं, पंचायती जमीन है, वहां पर अधिक विकास कार्य हो रहे हैं। ऐसी स्थिति में आर्थिक असंतुलन पैदा हो गया है। समाज में ऐसे असंतुलन होने से खाई बन जाती है, जो कि द्वेष का रूप ले लेती है। ऐसे हालात में आर्थिक संसाधन हीन गांव हीन भावना का शिकार हो जाते हैं और विकास की धारा से अलग हो जाते हैं, जिसके फलस्वरूप विभिन्न प्रकार के अपराध कुरीतियां और अन्य राजनैतिक द्वेष फैलने लगते हैं। 
कश्यप ने बताया कि उन्होंने इस मामले को संसद के वर्तमान मानसून सत्र में राज्यसभा में भी उठाया है और केंद्रीय सरकार से मांग की है कि वे प्रदेश सरकार को तत्काल इस प्रकार के निर्देश दे कि आयहीन पंचायतों को विशेष अनुदान राशि दी जाए, ताकि ऐसे गांवों में भी समान विकास हो सके। सरकार सबका साथ, सबका विकास के नारे को ध्यान में रखते हुए ऐसे गांवों की ओर प्राथमिकता के आधार पर ध्यान दे और उन्हें विकास के लिए विशेष अनुदान राशि उपलब्ध करवाकर इन गांवों को भी अन्य सांप्रदायों की तरह विकास की धारा में जोड़ कर देश को विकास के पथ पर अग्रसर करे। 


Thursday, July 20, 2017

कृषि नीति निर्माण के समय किसानों की भागीदारी हो सुनिश्चित - दुष्यंत चौटाला


हिसार: किसानों की आर्थिक हालत सुधारने, फसलों का न्यूनतम लाभाकारी मूल्य देने और उन्हें समृद्ध बनाने के लिए जीएसटी कांऊसिल की तर्ज पर एक कृषि कांउसिल बननी चाहिए। इस कांऊसिल में न केवल किसानों का प्रतिनिधित्व हो बल्कि उनकी अपील-दलील सुनने के बाद ही फसलों का न्यूतम समर्थन मूल्य तय होना चाहिए। यह मांग इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में रखी। उन्होंने नीति आयोग में भी किसान पृष्ठभूमि के सदस्यों की नियुक्ति भी मांग की। इनेलो सांसद ने कहा कि देश भर के किसानों का कर्ज माफ हो। 

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्रीय कृषि मंत्री के बयान का हवाला देते हुए कहा कि सरकार स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें को लागू नहीं कर सकती। उन्होंने सरकार को सुझाव दिया कि किसानों की फसलों का न्यूतनतम मूल्य तय करने के लिए जीएसटी कांउसिल की तर्ज पर पूरे देश के राज्य के कृषि मंत्रियों को एक मंच पर आना चाहिए और एक आयोग का गठन करना चाहिए। आयोग द्वारा फसलों का न्यूनतम मूल्य तय करने से पहले आयोग में किसानों को अपनी बात रखने का अधिकार होना चाहिए। इसके बाद आयोग फसलों न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करे। 


किसानों की दर्शा पर आयोजित चर्चा में भाग लेते हुए युवा सांसद ने कहा कि पिछले 60 वर्षों से हम सदन किसानों की समृद्धि की बात कर रहे हैं परन्तु किसानोंं की दशा में सुधार नहीं हुआ। युवा सांसद ने कहा कि जब तक नीति निर्मण में किसानों की भागीदारी नहीं होगी तब तक किसान समृद्ध नहीं हो सकता। उन्होंने सरकार से पूछा कि किसान की सोच के कितने व्यक्ति नीति आयोग में काम कर रहे। उन्होंने केंद्र सरकार से नीति आयोग में किसानों की नियुक्ति बतौर सदस्य करने की मांग की। दुष्यंत चौटाला ने किसान क्रेडिट कार्ड की सीमा छह माह से बढ़ा कर एक वर्ष करने की मांग की। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि गन्ने की फसल पक कर मार्केट में बेचने के बाद किसान की जेब में पैसे आने में एक वर्ष का समय लग जाता है तो वह ऐसे में क्रेडिट कार्ड के पैसे का भुगतान छह माह में कैसे करेगा। यदि किसान क्रेडिट कार्ड का पैसा जमा नहीं करवाया जाता तो उसकी जमीन कुर्क कर दी जाती है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कर्ज माफी की मांग करते हुए कहा कि पूरे देश में हर किसान का सरकार किसान कर्ज माफ करे, इसके बाद वह डिफाल्टर होता है तो इसपर आगे की कार्रवाई हो। 
मुनाफा

--देश के सबसे युवा सांसद ने कहा कि-आईसीसीआई बैंक ने फसल बीमा योजना से किसानों सेप्रीमियम के रूप में 57 करोड़ रूपये एकत्रित किए और किसनों की फसलों के नुकसान के लिए केवल 38 लाख रूपये क्लेम दिया। और बजाज कंपनी ने 51 करोड़ रूपये प्रीमियम के किसानों से लिए और करीब डेढ़ करोड़ रूपये किसानों को नुकसान की भरपाई के लिए दिया गया। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि फसल बीमा योजना का मुनाफा निजी कंपनियां कमा रही हैं और सर्वे के लिए सरकारी मनशीनरी का प्रयोग हो रहा है। 

...आलू का भाव 20 पैसे और खुदाई डेढ़ रूपये, कैसे होगा किसान समृद्ध
सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभ में सुरजमुखी से खरीद से लेकर आलू के नामात्र भाव मिलने का मुद्दा बखूबी उठाया। उन्होंने कहा कि किसानों को सुरजमुखी बेचने के लिए पांच दिन जेल में रहना पड़ा। उन्होंने हरियाणा में सुरजमखी मंडियों में दुगर्ति होने का जिक्र करते हुए कहा कि हरियाणा के सीएम आए तो कुछ दिन मंडी में सुरजमुखी की खरीद हुई और सीएम के जाते ही सुरजमुखी की खरीद बंद कर दी ओर आज भी मंडिया में बारिश में किसानों की फसल भीग रही है। उन्होंने सदन में कहा कि किसान की आलू की फसल इस बार 20 पैसे प्रति किलोग्राम बिकी और किसान ने आलू की आलू की खुदाई पर खर्च किया एक रूपया 50 पैसे। उन्होंने सवाल उठाया कि ऐसे में कैसे किसान समृद््ध होगा। 




Wednesday, July 19, 2017

प्राइवेट कंपनी के हिस्से से बने IIIT में गरीबों के बच्चों को न हो परेशानी - दुष्यंत चौटाला


हिसार: सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज लोकसभा में प्रदेश में लाला लाजपतराय पशु एवं विज्ञान विश्वविद्यालय और हॉर्टिक्लचर विश्वविद्यालय का आधारभूत ढांचा न बनने का मुद्दा लोकसभा में उठाया। सांसद ने कहा कि विश्वविद्यालयों की स्थापना की घोषणा हुए तो कई बरस बीत चुके हैं परन्तु प्रदेश सरकार द्वारा विश्वविद्यालय की स्थापना को सिरे न चढ़ाने को लेकर गंभीरता न दिखाने के कारण दोनों विश्वविद्यालय के परिसर बनाने के नाम पर अभी एक ईंट भी नहीं लगी। उन्होंने लोकसभा में यह मुद्दा इंडियन इंस्टीच्यूट आफ इन्फॉर्मिेशन टेक्नोलॉजी अंडर पीपीपी मॉडल 2017 की चर्चा में भाग लेते हुए उठाया। 




युवा सांसद ने इस बिल का समर्थन किया परन्तु इसके क्रियान्वन के समय आने वाली दिक्कतों को देखते हुए भविष्य में इस संशोधन का सुझाव भी दिया। लोकसभा में पेश बिल के अनुसार पीपीपी माडल के तहत शिक्षण संस्थान स्थापना के लिए 50 प्रतिशत खर्च केंद्र सरकार, 35 प्रतिशत राज्य सरकार और 15 प्रतिशत खर्च इसमें भागीदार इंडस्ट्री द्वारा वहन किया जाएगा। इस योजना के तहत विभिन्न स्थानों पर 20 संस्थान बनाए जाएंगे। 
इनेलो सांसद ने कहा कि इस बिल के प्रावधान के अनुसार शिक्षण संस्थानों की स्थापना के लिए सडक़, बिजली व जमीन आदि उपलब्ध करवाने की जिम्मेवारी प्रदेश सरकार की होगी। सांसद ने इस प्रावधान पर सवाल खड़ा करते हुए उदाहरण दिया कि हरियाणा के करनाल में प्रस्तावित हॉर्टिकल्चर यूनिवर्सिटी और हिसार लाला लाजपतराय विश्वविद्यालय की बिल्डिंग भी कई वर्ष बीत जाने के बाद भी नहीं बनी। हॉर्टिकल्चर विश्वविद्यालय की घोषणा केंद्र सरकार द्वारा की गई थी जबकि हिसार में पशु विज्ञान विश्वविद्यालय की स्थापना पिछली राज्य सरकार द्वारा की गई थी।  
युवा सांसद ने सरकार से पूछा कि जब देश में 20 ऐसे संस्थान बनेंगे तो उनके लिए प्रदेश सरकारों के पास धन की व्यवस्था कहां से होगी? युवा सांसद ने कहा कि इस माडल पर पहले भी संस्थान हैं परन्तु उन शिक्षण संस्थानों में अभी तक पूरी फैकल्टी भी नहीं है। उन्होंने कहा कि ये संस्थानों की फीस लाखों रूपये होती और गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले विद्यार्थी मोटी फीस अदा करने में सक्षम नहीं होते। उन्होंने सदन में सरकार से पूछा कि उद्योग के सहयोग से स्थापित होने वाले इन शिक्षा संस्थानों में क्या सरकार ऐसा प्रावधान करने जा रही है जिससे कि वहां गरीब का बच्चा भी पढ़ सके।

बिजली के दाम उद्योगों के साथ अन्याय - अशोक अरोड़ा

कुरुक्षेत्र: इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बिजली के रेट बढ़ाने की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विधानसभा मेें आश्वासन दिया था कि भविष्य में बिजली के रेट नहीं बढ़ाए जाएंगे, लेकिन सरकार ने बिजली के रेट बढ़ाकर सदन तथा जनता से वायदाखिलाफी की है। उन्होंने बिजली के बढ़े हुए रेट तुरंत वापिस लेने की मांग की। 
इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि जीएसटी तथा नोटबंदी के कारण बाजार में आर्थिक मंदी छाई हुई है। व्यापारियों का कामधंधा ठप पड़ा है। किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य न मिलने से वे हताश और निराश हैं और किसान वर्ग आर्थिक मंदी का शिकार है। ऐसे हालात में बिजली के रेट बढ़ाना सरासर अन्याय है। अरोड़ा ने कहा कि बिजली का रेट बढ़ाने की बजाये बिजली की सप्लाई दुरुस्त की जानी चाहिए। भीषण गर्मी के मौसम में प्रदेश की जनता बिजली के अघोषित कटों से परेशान है। दिन में दर्जनों बार बिजली के कट लगते हैं। जनता सडक़ों पर आकर धरने और प्रदर्शन कर रही है, लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही। बिजली की कटौती के कारण लोगों को पीने का पानी तक उपलब्ध नहीं हो रहा।  24 घंटे बिजली देने का सरकार का दावा खोखला साबित हुआ है। उन्होंने मांग की कि बिजली के बढ़े हुए रेट तुरंत वापिस लेकर जनता को राहत दी जाए और बिजली की सप्लाई सुचारू की जाए। 

मुख्यमंत्री ने जनता से विश्वासघात किया: अभय सिंह चौटाला

चंडीगढ़, 19 जुलाई: नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि बिजली की दरों में वृद्धि करके मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपना वह वादा तोड़ दिया जिसमें उन्होंने स्वयं हरियाणा विधानसभा में किया था कि उनके कार्यकाल में बिजली की कोई दरें नहीं बढ़ेंगी तथा वे बिजली सस्ती करेंगे। लेकिन 1 जुलाई से प्रदेश में बढ़ी हुई बिजली दरें लागू होंगी इसलिए सीएम ने प्रदेश की जनता से विश्वासघात किया है। पहले से महंगाई की मार झेल रही जनता पर बढ़ी हुई बिजली की दरें लागू करके उनकी जेबों पर डाका डालने का काम किया है।
इनेलो नेता ने कहा कि उनको आशंका है कि हरियाणा बिजली विनियामक आयोग (एचईआरसी) के अधिकारियों पर कहीं न कहीं दबाव डालकर सरकार ने यह अनुचित काम करवाया है, नहीं तो हर कोई यह जानता है कि आज कोयले और डीजल के दाम घटे हैं तथा केंद्र सरकार खुद यह दावा करती है कि कोयले की गुणवत्ता में भी भारी सुधार हुआ है। इनेलो नेता ने बताया कि केंद्रीय बिजली मंत्री पीयूष गोयल स्वयं यह बात कहते हैं कि इससे अब बिजली का उत्पादन बहुत सस्ता हुआ है। जब सारे देश में बिजली सस्ती है तो फिर हरियाणा में बिजली महंगी क्यों की गई ? प्रदेश में बिजली की दरें बढऩे से यहां नए उद्योग लगना तो बहुत दूर की बात है जो यहां पहले से लगे हुए हैं वे भी यहां से पलायन कर सकते हैं।
नेता विपक्ष ने कहा कि उनको पहले से अंदेशा था कि सरकार फ्यूल सरचार्ज एडजेस्टमेंट (एफएसए) के खेल में बिजली की दरें बढ़ा सकती है और सरकार ने वही जनविरोधी फैसला किया है। सरकार कहती है कि उन्होंने एक जुलाई से 28 पैसे प्रति यूनिट सरचार्ज घटा दिया और अब 37 पैसे ही एफएसए रह गया है। उन्होंने कहा कि एफएसए किस बात का जब बिजली ही ज्यादातर बाहर से प्राइवेट बिजली कंपनियों से ली जा रही है और अपने प्लांट तो अधिकतर समय बंद ही रहते हैं। ऐसे में एफएसए लेने का तो प्रश्र ही पैदा नहीं होता?
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि यह सरकार प्राइवेट बिजली कंपनियों से और कई महंगे पावर प्रचेज एग्रीमेंट (पीपीए) करके बिजली उपभोक्ताओं की कमर तोडऩा चाहती है, जबकि खुद सरकार यह दावा करती है कि बिजली सरप्लस है, लेकिन ग्रामीण उपभोक्ताओं को मुश्किल से दो घंटे ही बिजली मिलती है। उन्होंने कहा कि बिजली की दरों में भारी वृद्धि करके सीएम जनता के बीच में झूठे साबित हो गए हैं। उन्होंने कहा कि 25 से 50 पैसे प्रति यूनिट बिजली महंगी होने से महंगाई और अधिक बढ़ेगी तथा इससे व्यापारियों, उद्यमियों और घरेलू उपभोक्ताओं पर इसका भारी असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इनेलो बिजली दरों में की गई भारी वृद्धि के खिलाफ सडक़ों पर उतरेगी। इनेलो नेता ने कहा कि बिजली कंपनियों के कुप्रबंधन की मार उपभोक्ता क्यों वहन करे? बिजली की दरों में की गई वृद्धि से आज प्रदेश के 58 लाख से अधिक बिजली उपभोक्ता सरकार के खिलाफ खड़े हो गए हैं लेकिन सरकार को जनता के हितों से कोई सरोकार नहीं है।

आगामी आंदोलन को लेकर दिशा निर्देश के लिए दिशा निर्देश के लिए होगी हिसार में मीटिंग


हिसार : इंडियन नेशनल लोकदल की एक महत्वपूर्ण बैठक बुधवार को सिरसा रोड स्थित चौधरी देवीलाल सदन में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता जिला प्रधान राजेंद्र लितानी ने की। बैठक में 23 जुलाई को किसान प्रकोष्ठ की प्रस्तावित बैठक को लेकर विस्तार से विचार विमर्श किया गया। 
जिला प्रधान राजेंद्र लितानी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि 23 जुलाई को सुबह दस बजे आयोजित होने वाली उक्त बैठक में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला, किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक सरदार निशान सिंह सहित अन्य इनेलो नेता विशेष तौर पर भाग लेंगे। बैठक में भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीतियों पर विस्तार से विचार विमर्श करते हुए कार्यकर्ताओं को आगामी आंदोलन को लेकर दिशा निर्देश दिए जाएंगे। इनेलो जिलाध्यक्ष लितानी ने कहा कि भाजपा सरकार किसान विरोधी साबित हुई है। भाजपा सरकार ने अपने वादे के अनुरूप न तो किसानों के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशो को लागू किया है और न ही एसवाईएल को लेकर गंभीर प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के चलते आज किसान वर्ग लगातार पिछड़ता जा रहा है। इनेलो किसानों के दर्द को समझती है। उन्होंने कहा कि 23 जुलाई की बैठक में किसानों की समस्याओं पर चर्चा करते हुए आगामी रणनीति तैयार की जाएगी। इसके साथ ही संगठन को लेकर भी विस्तार से चर्चा की जाएगी। इस मौके पर किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष रवि लांबा, प्रदेश सचिव बिजेंद्र लोहान, कलीराम खेदड़, बलवान कुलाना, ओमप्रकाश भेरियां, बहादुर सिंह, श्योरण सिंह, सत्यनारायण पूनिया, मांगेराम बुगाना, सत्यवान राजली, सत्यवान कोहाड़, जोगीराम पंघाल, सतबीर सिंह खरकड़ी, राजेश शास्त्री, राजबीर काजल, दशरथ पूनिया व विजय सिहाग सहित अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। 

Tuesday, July 18, 2017

पीड़ित दुकानदार से मिले विधायक राजदीप, मदद का दिया आश्वासन 


चरखी दादरी : दादरी हलके के विधायक राजदीप फौगाट ने झज्जर रोड पर आग की लपटों में राख हुई कन्फेक्शनरी की दुकान व क्षतिग्रस्त मकान का जायजा लिया। उन्होंने सरकार से पीड़ित दुकानदार, मकान मालिक को मुआवजा देने की मांग की। इस दौरान विधायक ने कन्फेक्शनरी व मकान में आग लगने से हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए तहसीलदार व अन्य अधिकारियों को भी मौके पर बुलाया। दादरी नगर परिषद के चेयरमैन संजय छपारिया भी मौजूद थे। गौरतलब है कि तीन दिन पूर्व शार्ट सर्किट के चलते झज्जर रोड पर टोनी कन्फेक्शनरी 
में आग लग गई थी। जिसमें लाखों का सामान जलकर राख हो गया था। साथ ही मकान भी काफी क्षतिग्रस्त हो गया। सोमवार को पीड़ित दुकानदार टोनी व मकान मालिक से मिलने विधायक राजदीप फौगाट पहुंचे। विधायक राजदीप ने कहा कि आग लगने से दुकानदार टोनी को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। मकान भी आग लगने से क्षतिग्रस्त हो गया है। दोनों को सरकार की ओर से पूरी आर्थिक मदद मिलनी चाहिए। उन्होंने पीड़ित दुकानदार टोनी व मकान मालिक को भरोसा दिलाया कि उन्हें ज्यादा से ज्यादा मुआवजा दिलाने का भरसक प्रयास किया जाएगा। दुकानदार टोनी ने कहा कि उनकी जीवन भर की पूंजी एक झटके में राख हो गई। वह दुकान के सहारे ही अपने परिवार की आजीविका चलाता था। अब गुजर-बसर का यह साधन भी नहीं रहा। करीब 10 लाख रुपये का सामान जलने के साथ ही दुकान की इमारत व साथ के मकान में भारी नुकसान हुआ है। पुराना झज्जर रोड निवासी शिवकुमार ने बताया कि कुछ समय पूर्व ही उसने नये भवन का निर्माण कराया था। इसमें नीचे दुकान व ऊपर मकान बनाया गया था।   जिसमें उनका परिवार रहता है। शार्ट-सर्किट के चलते लगी इस आग में दुकानदार को लाखों रुपये के नुकसान के अलावा भवन का भी काफी हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। इस दौरान नगर परिषद के वाइस चेयरमैन बबलू श्योराण, पार्षद मनोज वर्मा, पार्षद प्रतिनिधि जयसिंह लांबा, पार्षद आनंद महराणा भी विधायक के साथ थे। 
राजकुमार सैनी पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो - अभय सिंह चौटाला 

नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने भाजपा सांसद राजकुमार सैनी के उस बयान की कड़े शब्दों में निंदा की है जिसमें उसने किसानों के मसीहा दीनबंधु सर छोटू राम के प्रति अनैतिक शब्दावली का इस्तेमाल किया था। इनेलो नेता ने कहा कि सांसद सैनी को हरियाणा के इतिहास और महापुरुषों के संघर्ष का थोड़ा सा भी ज्ञान होता तो वो इस तरह की बात न करते।  किसानों को बंधुआ मजदूरी और कर्जे के बोझ से निजात दिलाने वाले महापुरुष को गलत बोलना उसे शोभा नहीं देता। सर छोटू राम गरीबों और किसानों के मसीहा थे। उन्होंने हमेशा समाज के हित में कार्य किए हैं और गरीब का शोषण करने वालू पूंजीपतियों के खिलाफ रहे हैं।
महापुरुषों का अपमान करने की परम्परा एक विचारधारा विशेष की पार्टी और उसके लोगों में शुरू से रही है। नेता विपक्ष ने बताया कि सांसद सैनी जातिगत राजनीति कर रहे हैं और जाति विशेष को निशाना बनाकर भाईचारे को तोडऩे का काम कर रहे हैं। हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन में हिंसाभडक़ाने का जो कार्य उसने किया था, प्रदेशवासी उसे अभी तक नहीं भूले हैं। सैनी को सांसद की गरिमा का ख्याल रखते हुए अपना बयान वापिस लेते हुए प्रदेशवासियों से माफी मांगनी चाहिए।
इनेलो नेता ने सरकार से मांग की कि उस पर तुरंत देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर सलाखों के पीछे डाल देना चाहिए। जिन रहबरे-आजम के बारे में आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया है, वह पूरे भारतीय महाद्वीप के किसान और कमेरे वर्ग के रहनुमा थे और उनकी यह पहचान देश के किसी भी अन्य नेता से कम नहीं है।

प्रदेश में भूपेंद्र हुड्डा के दस साल के कार्यकाल में सबसे अधिक दलितों पर अत्याचार हुए - अशोक शेरवाल 


इनेलो एससीएसटी सैल के संयोजक अशोक शेरवाल ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पार्टी में अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिए दलितों व किसान-मजदूरों के कंधों का इस्तेमाल कर रहे हैं जबकि प्रदेश की जनता भलीभांति जानती है कि हुड्डा का इन वर्गों से दूर-दूर तक का कोई वास्ता नहीं है।
इनेलो के दलित नेता अशोक शेरवाल ने हुड्डा पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी ही पार्टी के प्रदेश् अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर जो स्वयं दलित हैं और उनकी हुड्डा समर्थकों ने दिल्ली में लाठी-डंडों से पिटाई की थी। उन्होंने कहा जब उनकी पार्टी में वे एक दलित अध्यक्ष को ही नहीं बख्शते तो वे दलितों के समर्थक कैसे हो सकते हैं? शेरवाल ने कहा कि उनके दस साल के कार्यकाल में सबसे अधिक दलितों पर अत्याचार हुए हैं। प्रदेश की जनता गोहाना काण्ड और मिर्चपुर कांड को आज तक नहीं भूली है। मिर्चपुर में दलितों के साथ जो अत्याचार हुए थे तो खुद इन्हीं की पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी बिना हुड्डा को बताए मिर्चपुर में दलितों के प्रति हमदर्दी जताने आए थे।
अशोक शेरवाल ने कहा कि प्रदेश की जनता को भलीभांति पता है कि हुड्डा केवल और केवल प्रॉपर्टी डीलरों के लिए काम करते थे, उनका जनता के हितों से कोई सरोकार नहीं था। आज हुड्डा को किसान याद आ गए, यह बात वे भूल गए कि वे किसानों को डरा धमकाकर उनकी बेशकीमती जमीन को हड़पकर बिल्डरों को महंगे दामों पर बेच देते थे जिनके वे मुकदमे फेस कर रहे हैं। आज हुड्डा को किसान याद आ गए जबकि वे खुद उस कमेटी के चेयरमैन थे जिन्होंने किसानों के उत्थान के लिए निर्णय लेने थे तब उन्होंने कुछ नहीं किया। उन्होंने पुन: इस बात को दोहराया कि जिस पार्टी में हुड्डा समर्थक दलित अध्यक्ष की पिटाई करते हों वह व्यक्ति दलित हितैषी कैसे हो सकता है?
नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने गौशाला में गायों की मृत्यु पर चिंता जताते हुए सीएम को लिखा पत्र 

चंडीगढ़, 18 जुलाई: नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने राज्य के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर  का ध्यान कुछ समय पूर्व कुरुक्षेत्र जिले की एक गौशाला में अनेक गायों के मरने के समाचार की ओर दिलाते हुए यह आरोप लगाया कि ऐसा कुप्रबंधन और सरकार की अनदेखी के कारण हो रहा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इस प्रकार मुख्यमंत्री भी परोक्ष रूप से इन गायों की मृत्यु के जिम्मेदार हैं। 
उन्होंने मुख्यमंत्री को याद दिलाया कि जब उनकी पार्टी सत्ता में आई थी तो उनके घोषित लक्ष्यों में पशुधन का कल्याण एवं संरक्षण भी था। इसी आशय का इस सरकार के कार्यकाल के प्रारम्भ में ही एक विधेयक भी पारित किया गया था। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि मुख्यमंत्री स्वयं, उनका राजनैतिक दल और उनका मूल संगठन सभी गायों के प्रति अपना पे्रम एवं श्रद्धा जतलाने में पीछे नहीं रहते। गायों के प्रति इस प्रकार की श्रद्धा समाज के अन्य समुदायों में भी है। इसी कारण जब भी गायों के कल्याण के लिए कोई भी कदम उठाया जाता है तो सभी पार्टियां दलगत राजनीति से ऊपर उठकर उसका समर्थन करते हैं। इंडियन नेशनल लोकदल ने भी सरकार के हर कदम का इस विश्वास के साथ समर्थन किया है कि गायों के प्रति दिखाया जा रहा उनका पे्रम और श्रद्धा वास्तविक है। परंतु न तो इनेलो और न ही प्रदेश की जनता ने यह सोचा था कि गायों के प्रति इस प्रकार की श्रद्धा एवं पे्रम केवलमात्र राजनैतिक फसल काटने के लिए है। इनेलो ने यह भी नहीं सोचा था कि कोई राजनैतिक दल लोगों की गायों के प्रति आस्था का लाभ उठाकर उन्हें अन्य लोगों के प्रति हिंसा करने पर उकसाएगा।
इसी संदर्भ में नेता विपक्ष ने कहा कि कुरुक्षेत्र में गायों की मृत्यु शर्म और चिंता का कारण है। साथ ही उन्होंने यह मांग भी की कि जो दोषी हैं उन्हें दण्ड भी दिया जाए और वे पश्चाताप भी करें। खबरों के अनुसार उस गौशाला में गायों की मृत्यु इस कारण हुई क्योंकि लगातार बारिश होने से वहां कीचड़ हो गया था। यह कीचड़ पशुओं द्वारा बेचैनी में इधर-उधर जाने के प्रयास में दलदल जैसा बन गया। भूख के कारण बहुत कमजोर हो चुकी यह गाय उसी कारण उस कीचड़ में धंस गई और वहां से निकलने के असफल प्रयास के कारण मृत्यु को प्राप्त हुई। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य, जिसे अपने पशुधन पर गर्व है उसके लिए यह घटना एक काला धब्बा है।
नेता विपक्ष ने इस संदर्भ में भगवान कृष्ण के जीवन के उस पक्ष की ओर ध्यान दिलाया जब उन्होंने मूसलाधार बारिश से अपने लोगों एवं गायों को बचाने का प्रयास किया था। नेता विपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री को गोवर्धन पर्वत की घटना तो अवश्य याद होगी। परंतु उस घटना के विपरीत, यहां कुरुक्षेत्र, जिस भूमि पर भगवान कृष्ण ने गीता का उपदेश दिया उसमें सरकार के कुप्रबंधन के कारण गायों की मृत्यु हुई।
नेता विपक्ष ने इस बात पर भी चिंता जताई कि इस दुर्घटना का दायित्व सरकार पर भी इस कारण बनता है क्योंकि उस द्वारा अपने कर्तव्य पालन में कोताही बरती गई थी। कुरुक्षेत्र की दुर्घटना पहली नहीं है और इस प्रकार की घटनाओं के समाचार ऐसे समय में भी आते रहते हैं जब गौरक्षा के नाम पर समय-समय पर सरकारी संरक्षण के कारण अराजकता घटती है। ऐसे वातावरण में सरकार को तुरंत प्रभाव से गौरक्षकों को दिया जाने वाला प्रोत्साहन बंद करना चाहिए ताकि गौरक्षा के नाम पर वह कानून अपने हाथ में न ले सके।
अंत में नेता विपक्ष ने यह कहा कि मुख्यमंत्री पूर्ण रूप से गायों को सुरक्षा प्रदान करने में असफल रहे हैं और इस कारण वह गौ-हत्या के भी दोषी हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को याद दिलाया कि एक हिन्दू श्रद्धालु होने के नाते उन्हें अवश्य पता होगा कि इस प्रकार के अपराध का क्या पश्चाताप है? परंतु वह पश्चाताप अनिवार्य है।
उपराष्ट्रपति पद के लिए वेंकैया नायडू का समर्थन करेगी इनेलो - अभय चौटाला 

चंडीगढ़,18 जुलाई : नेता विपक्ष एवं इनेलो के वरिष्ठ नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने पार्टी सुप्रीमो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला से विचारविमर्श करने के बाद उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार एम. वेंकैया नायडू के समर्थन की घोषणा की है। वैकेंया नायडू से इनेलो के बहुत पुराने पारिवारिक संबंध हैं। 
उन्होंने कहा कि वेंकैया नायडू स्वयं एक किसान परिवार से आते हैं, उन्होंने हमेशा गरीब, किसान, मजदूर की आवाज उठाई है। पार्टी सुप्रीमो एवं हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला से उनके मधुर संबंध हैं। सांसद दुष्यंत चौटाला स्वयं वेंकैया नायडू का नामांकन पत्र भरवाने के लिए साथ गए हैं। 
इनेलो नेता ने कहा उन्होंने स्वयं एम. वैंकया नायडू को उपराष्ट्रपति की विजय के लिए अग्रिम बधाई दी है, श्री नायडू देश की अखंडता और राज्यों की भलाई के लिए हमेशा अग्रणी रहकर सेवा करेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वेंकैया नायडू केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री होते थे, उस समय चण्डीगढ़ में हरियाणा पंचायत भवन का उद्घाटन भी श्री नायडू और चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने किया था। उस दौरान हरियाणा के ग्रामीण विकास के लिए श्री नायडू ने दिल खोलकर मदद की थी। उनके हरियाणा के प्रति प्रेम को देखते हुए इनेलो उनको समर्थन करती है। वेंकैया नायडू दलगत राजनीति से ऊपर उठकर काम करने वाले व्यक्ति हैं, साथ ही उनका जीवन किसानों के लिए समर्पित है। देश के पूर्व उपप्रधानमंत्री जननायक चौधरी देवीलाल की नीतियों में वेंकैया नायडू की हमेशा अटूट श्रद्धा रही है।

Monday, July 17, 2017

रेलवे की मांगों को लेकर विधायक नैना चौटाला व सांसद रोड़ी ने लिखा रेलवे मंत्री को पत्र

डबवाली, 16 जुलाई : डबवाली की विधायक नैना सिंह चौटाला ने डबवाली रेलवे की समस्याओं व मांगों को गंभीरता से लेते हुए केन्द्रीय रेलवे मंत्री को पत्र लिखा है। पत्र में विधायक नैना चौटाला ने रेलवे मंत्री से विशेष तौर पर डबवाली में रेलवे अंडरब्रिज के निर्माण कार्य को पूरा करवाए जाने की अपील की है। पत्र में डबवाली रेलवे से संबंधित करीब दर्जन भर मांगों व समस्याओं को भी उठाया गया है। विधायक के साथ साथ सिरसा से सांसद चरणजीत रोड़ी ने भी रेलवे मंत्री को इन्हीं मांगों के लिए पत्र लिखा है। पत्र की एक कापी डी.आर.एम. बीकानेर को भी भेजी गई है। दरअसल डबवाली में नवनिर्मित रेलवे अंडरब्रिज का निर्माण कार्य काफी समय से बीच में रूका हुआ है जिसकी वजह से शहर के लोग बहुत परेशान है। इसको लेकर विधायक नैना चौटाला ने रेलवे मंत्री सुरेश प्रभू को पत्र लिख कर अवगत करवाया है कि डबवाली शहर रेलवे लाइन के कारण 2 भागों में बंटा हुआ है। इसके लिए 2 अंडरब्रिज की अति आवश्यकता है। लेकिन अभी शहर में एक ही अंडरब्रिज बना है और उसका भी काम अधुरा पड़ा है। इसलिए इसका निर्माण कार्य जल्द से जल्द पूरा करवाए जाए। इसके अलावा शहर के लोगों की सुविधा के लिए एक ओर अंडरब्रिज की आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसको लेकर भी रेलवे को तुरंत प्रभाव से कदम उठाने चाहिए। पत्र में विधायक ने वरिष्ठ पुरूष नागरिकों को स्त्री वरिष्ठ नागरिकों के बराबर 50 प्रतिशत किराए में छूट देने की मांग की है, जबकि अभी पुरूषों को केवल 33 प्रतिशत की ही छूट मिल रही है। इसके अलावा मांग की गई है कि डबवाली का रेलवे स्टेशन शहर के बीचों बीच है इसलिए सारा दिन आम लोग व स्कूली बच्चें पैदल ही रेलवे टैक के उपर से गुजरते रहते है इसलिए रेलवे टैक के उपर से फुटब्रिज बनाया जाए। साथ ही डबवाली का रेलवे स्टेशन जोकि एक आदर्श रेलवे स्टेशन बन चुका है पर ए.टी.एम. लगाने, साफ  पेयजल के लिए आर.ओ. सिस्टम लगाने की भी मांग भी विधायक व सांसद ने की है।
डबवाली को मिले ओर गाडिय़ां
पत्र में विधायक नैना चौटाला ने रेलवे मंत्री सुरेश प्रभू से डबवाली को गाडिय़ों की सुविधा ओर बढाए जाने की मांग की है। जिसके लिए उन्होंने मांग की है कि भठिंडा से जम्मू जाने वाली गाड़ी न. 19225-19226 को गंगानगर तक वाया डबवाली, हनुमानगढ, सादुलशहर तक बढाया जाए। इसके अलावा बीकानेर से दिल्ली सराय रौहल्ला जाने वाली गाड़ी को मलोट, अबोहर की बजाय वाया सादुलशहर, हनुमानगढ, डबवाली, भठिंडा से होकर दिल्ली चलाई जाए। क्योंकि मलोट, अबोहर साइड में कई गाडिय़ां चलती है। एक अन्य मांग में उन्होंने गाड़ी न. 19107 व 19108 जन्मभूमि एक्सप्रेस उधमपुर से अहमदाबाद, अहमदाबाद से उधमपुर  गाड़ी का डबवाली रेलवे स्टेशन पर 2 मिनट का ठहराव करवाया जाने की मांग की है। इसके अलावा मांग की गई है कि पैसेंजर गाड़ी न. 5470.4 जोधपुर से हनुमानगढ होते हुए डबवाली स्टेशन पर 3:45 बजे आती है। यह गाड़ी यहां से रवाना होकर एक घंटे में भठिंडा चली जाती है लेकिन इस गाड़ी को भठिंडा के आउटर सिंगनल पर रोक दिया जाता है जिससे इंटर सिटी गाड़ी जोकि 5:05 बजे प्रात भठिंडा से अंबाला जाती है उस गाड़ी से मेल नहीं हो पाता। कृपया इस गाड़ी को भठिंडा 5:00 बजे प्रात से पहले पहुंचाया जाए ताकि वहां से 4 बजे प्रात जाने वाली गाडिय़ां मिल सके। विधायक नैना चौटाला ने कहा है कि रेलवे मामूली फेरबदल करके इन गाडिय़ों की सुविधा डबवाली के लोगों को दे सकता है, जिससे क्षेत्र के बहुत लोगों को लाभ होगा।
इसके अलावा विधायक नैना चौटाला ने नांदेड़ साहिब के लिए सीधी गाड़ी चलाने की मांग भी की है। चूंकि डबवाली व इसके आसपास का क्षेत्र पंजाबी बैल्ट का है, जहां से बड़ी संख्या में श्रद्धालु नांदेड़ साहिब को जाते रहते है लेकिन अभी उन्हें इसके लिए भठिंडा जाकर गाड़ी पकडऩी पड़ती है। जबकि गंगानगर से हजूर साहिब नांदेड़ साहिब के लिए 3 दिन गाड़ी चलती है। विधायक ने मांग कि है कि इस गाड़ी को 2 दिन के लिए गंगानगर से वाया हनुमानगढ, संगरिया, मंडी डबवाली, भठिंडा होते हुए नांदेड़ साहिब के लिए चलाया जाए ताकि इस क्षेत्र के लोगों को नांदेड़ साहिब जाने में कठिनाई न हो।
सांसद दुष्यंत ने भिवानी रोहिला गाँव में शुरू किया पौधा रोपण अभियान 


सांसद दुष्यंत चौटाला ने आदर्श ग्राम योजना के तहत हिसार के गोद लिए गांव भिवानी रोहिला में पौधा रोपण अभियान की शुरूआत की। इस अभियान के प्रथम चरण में 300 पौधे लगाए गए। पौधा रोपण के बाद सांसद दुष्यंत चौटाला अचानक सरकारी स्कूल में पहुंचे और विद्यार्थियों से बतियाने लगे। सांसद ने वहीं पर बच्चों को एक-एक पौधा लगाकर उसकी देखभाल करने का संकल्प दिलाया। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने विद्यार्थियों से रूबरू होते हुए कहा कि पेड़-पौधे हमारे जीवन का अभिन्न अंग हैं। वर्तमान समय में ग्लोबल वार्मिंग के लिए लगातार पेड़ों का कम होना और उनके स्थान पर नए पौधे न लगाना भी एक प्रमुख कारण है। पेड़-पौधे न होने के कारण ही असामान्य बारिश होती है जिसका खमियाजा हमारे किसानों को भुगतना पड़ता है। पौधा रोपण का यह सर्वोत्तम समय है और आने वाले कुछ महीनों तक लगातार पौधा रोपण किया जा सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों से आह्वान किया कि वे अपने जन्मदिवस पर घर, खेत और आसपास के खाली पड़े स्थानों पर एक-एक पौधा अवश्य लगाए। इस अवसर पर विधायक रणबीर गंगवा, शहरी हलका प्रधान राजेंद्र चुटानी, होशियार सिंह सिंघरान, हरफूलखान भट्टी, पूर्व सरपंच जिले सिंह, कर्ण सिंह, राजा श्योराण, महेश सेठ सहित अन्य कार्यकत उपस्थित थे। 
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने रोजगार मेले के सफल आयोजन के लिए जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और पार्टी कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने इस मेले में पूरा सहयोग किया बल्कि पुलिस विभाग ने मेले की व्यवस्था बनाए रखने में पूरा सहयोग किया। युवा इनेलो और इनसो कार्यकर्ताओं ने सुबह से देर सायं तक कठिन मेहनत की और रोजगार मेले में आने वाले हजारों युवक-युवतियों को साक्षात्कार स्थल तक समय से पहुंचाने में मदद की।
देश की सुरक्षा एजेंसियों पर नहीं है सरकार का नियंत्रण - दुष्यंत चौटाला


कुरुक्षेत्र 15 जुलाई : केंद्रीय सरकार देश की आंतरिक व बाहरी सुरक्षा के मोर्चे पर पूर्णतया विफल रही है और उत्तर प्रदेश की विधानसभा में विस्फोटक मिलना सुरक्षा एजेंसियों की बहुत बड़ी चूक नाकामी है। इससे स्पष्ट है कि सुरक्षा व्यवस्था कमजोर है और सरकार का सुरक्षा एजेंसियों पर नियंत्रण नहीं है। यह आरोप इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने कुरुक्षेत्र के सैक्टर-8 में राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप के निवास स्थान पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए लगाया। यहां पहुंचने पर राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप तथा पार्टी के पदाधिकारियों ने पुष्प गुच्छ भेंट करके दुष्यंत चौटाला का स्वागत किया और सांसद कश्यप ने दुष्यंत चौटाला को स मान स्वरूप शॉल भेंट की। इस अवसर पर पार्टी प्रदेशाध्यक्ष के सुपुत्र हिमांशु अरोड़ा, जिला इनेलो प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, उप प्रधान सतबीर शर्मा, युवा इनेलो के जिला प्रधान सुनील राणा, इनसो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जसविंद्र खैरा, जगबीर मोहड़ी, राजू त्यौड़ा, युवा इनेलो के प्रदेश सचिव सुलतान ब्राह््मण माजरा, कुलदीप जखवाला, धर्म सिंह ढांडा एडवोकेट, इनेलो लीगल सैल के जिला प्रधान राहुल पूनिया एडवोकेट, डा जीत सिंह शेर, ओमप्रकाश कश्यप एडवोकेट तथा सतबीर ढांडा सहित अनेक पार्टी पदाधिकारी उपस्थित थे।
एक प्रश्न के उत्तर में सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उनकी पार्टी के सांसद एसवाईएल के मामले को लेकर नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से भेंट करेंगे और संसद के मानसून सत्र में इनेलो एसवाईएल का मुद्दा प्रभावी ढंग से उठाएगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा के सभी लिकेंज मेें पानी आना चाहिए। एसवाईएल की पंजाब में खोदाई करवाना सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार केंद्रीय सरकार की जि मेवारी है। एसवाईएल हरियाणा के लोगों की जीवनरेखा है और इनेलो एसवाईएल में पानी लाने के लिए कोई भी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगी। 


युवा चौपाल के बारे में जानकारी देते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि युवा वर्ग के लिए रोजगार सबसे बड़ी समस्या है। वे युवा चौपाल आयोजित करके युवा वर्ग को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने में लगे हुए हैं। एक प्रश्र के उत्तर में दुष्यंत चौटाला ने बताया कि अभी तक 100 से अधिक युवा चौपाल कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं। प्रदेश के प्रत्येक जिले में 6 युवा चौपाल कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। युवा शक्ति को संगठित करना इस कार्यक्रम का उद्देश्य है।
भाजपा सांसद राजकुमार सैनी द्वारा राज्यसभा समाप्त करने की मांग के संबध में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि लोकतंत्र में लोकसभा में निर्वाचित सदस्य जाते हैं, जबकि राज्यसभा में देश के बुद्धिजीवी व अपने अपने क्षेत्र की प्रतिभावान हस्तियां मिल बैठकर देश की समस्याओं पर चिंतन करती हैं। इसलिए जो लोग राज्यसभा को समाप्त करने की मांग कर रहे हैं वे लोकतंत्र के विरोधी हैं। यदि ऐसे लोगों का वश चले तो वे लोकतंत्र को ही समाप्त कर दें।
इस अवसर पर राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप ने कहा कि वे पार्टी के निर्देशानुसार एसवाईएल के मुद्दे को राज्यसभा में उठाएंगे। उन्होंने कहा कि वे पहली बार राष्ट्रपति तथा उप राष्ट्रपति के चुनाव में अपने वोट का प्रयोग करेंगे और पार्टी द्वारा लिए गए निर्णयानुसार राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद के पक्ष में मतदान करेंगे।

रोगजार मेले में पहुंचे सैंकड़ों युवाओं ने सांसद दुष्यंत  का जताया आभार 


हिसार, 14 जुलाई : निजी क्षेत्र में नौकरी पाने के लिए हजारों बेरोजगार युवक-युवतियों की भारी भीड़ रोजगार मेले में उमड़ी। सांसद दुष्यंत चौटाला द्वारा लगाए गए रोजगार मेले के लिए 12 हजार से अधिक लोगों ने अपना पंजीकरण करवाया था परन्तु मेले में पंजीकृत के अलावा भी सैकड़ों युवक इस मेले में पहुंचे। इन युवाओं को रोजगार देने के लिए देश भर की नामी-गिरामी 16 कंपनियोंं ने मेले में पहुंच कर हजारों युवक-युवतियों का साक्षात्कार लिया। पंचायत भवन में सांसद दुष्यंत चौटाला ने रोजगार मेले का उदघाटन किया। इस अवसर पर रोजगार सेवा प्रदान करने वाली कंपनी सेंटम की उत्तर क्षेत्र की बिजनेस हेड अनुपमा लूथरा भी उपस्थित थी। 
इनेलो सांसद ने कहा कि युवा चौपाल के दौरान हजारों युवक रोजगार की मांग को लेकर उनसे मिलते थे। तब से उनके मन में युवाओं को रेाजगार दिलवाने की तीव्र इच्छा थी। उन्होंने बेबाक कहा कि यह उनका पहला प्रयास है और भविष्य में वे इस प्रकार के और आयोजन भी करेंगे। सांसद ने कहा कि इस मेले की शुरूआत में विभिन्न कंपनियों से 4 हजार नौकरियां उपलब्ध थी लेकिन साक्षात्कार के लिए पंजीकरण की संख्या में भारी इजाफा होने के बाद उन्होंने विभिन्न कंपनियों के मुखियाओं से बात की और कंपनियों ने हजारों खाली पदों के लिए अपनी सहमति जताई है। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्रों में नौकरियों की न केवल अपार संभावनाएं हैं बल्कि मेहनत करने वालों के लिए उन्नति के अनंत अवसर भी हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को जीवन में आगे बढऩे के लिए एक बार घर और जिले से दूर रहने की आदत डालनी चाहिए। 


इनेलो सांसद ने कहा कि नौकरी कोई छोटी-बड़ी नहीं होती। निजी क्षेत्र में हर बड़े उद्यमी या कारोबारी ने अपने जीवन की शुरूआत एक छोटी नौकरी अथवा उद्यमी से की होती है। उन्होंने कहा कि इस तरह के रोजगार मेलों से युवाओं को अपनी काबिलियत दिखाने का मौका मिलता है। रोजगार मेले में जिला प्रधान राजेंद्र लितानी, पूर्व मंत्री सुभाष गोयल, विधायक रणबीर गंगवा, अनूप धानक व वेद नारंग, शीला भ्याण, पूर्ण सिंह डाबड़ा,  एसडीएम अशोक बंसल व राजसिंह मोर सहित अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
युवा न केवल सरकारी नौकररियों के लिए क्रेज नहीं बल्कि निजी क्षेत्र की नौकरियों की ओर भी हरियाणा के युवा आकर्षित हो रहे हैं। आज मेले में उमड़ी भारी भीड़ से यह साबित हो गया। इस रोजगार मेले में न केवल शहरी क्षेत्रों से युवा साक्षात्कार पहुंचे बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों से युवाओं के साथ साथ युवतियां भी बड़ी संख्या में निजी कंपनियों में रोजगार पाने के लिए पंचायत भवन पहुंची। निजी क्षेत्र में अपनी सेवाओं देने प्रति बेरोजगार युवकों का क्रेज इस कदर था कि भारी उमस व गर्मी के बावजूद युवा लंबी-लंबी कतारों में खड़े रहे। निजी कंपनियों ने साक्षात्कार लेने की प्रक्रिया आज सुबह आठ बजे ही शुरू कर दी थी और देर सायं तक साक्षात्कार की प्रक्रिया जारी थी। नौकरी के लिए पंजीकरण करवाने वाले हर आवेदक का साक्षात्कार लिया गया। 
रोजगार मेले में पहुंची सेंटम की क्षेत्रीय बिजनेस अधिकारी अनुपमा लूथरा ने रोजगार मेला लगाने के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला की सराहना की। उन्होंने कहा कि देश भर में उन्होंने किसी भी सांसद या विधायक को विपक्ष में रहते हुए इस प्रकार का आयोजन करते हुए पहली बार देखा है। उन्होंने कहा कि इस मेले में आकर उन्हें न केवल सांसद दुष्यंत चौटाला की बेरोजगार युवकों को रोजगार दिलवाने के उत्साह को नजदीक से देखने को मिला है बल्कि यहां साक्षात्कार के लिए युवाओं के क्रेज को देखकर दंग रह गई। उन्होंने विश्वास दिलवाया कि युवा सांसद द्वारा भविष्य में भी इस प्रकार के आयोजन करवाते हैं तो वह उसमें सहयोग के लिए तत्पर रहेंगी। 
नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने पीएम को लिखा पत्र, कहा पंजाब के कुछ राजनैतिक दल एसवाईएल के मुद्दे को उठाकर राजनैतिक वातावरण बिगाड़ने का प्रयास कर रहे है   


चंडीगढ़, 14 जुलाई: विपक्ष के नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखकर उनका ध्यान पंजाब में कुछ राजनैतिक दलों द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की उल्लंघना करते हुए वहां के राजनैतिक वातावरण को बिगाडऩे का प्रयास किया जा रहा है।
उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के तीन न्यायधीशों की बेंच द्वारा सुनी जा रही हरियाणा की उस याचिका की ओर ध्यान दिलाया जिसमें सतलुज-यमुना लिंक नहर को बनवाने बारे सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदेश दिए गए थे। अपने आदेश में विद्वान न्यायधीशों ने कहा कि जब वह न्यायालय किसी डिक्री के आदेश देता है तो उसका सम्मान और पालन भी होना चाहिए। किन्तु यह देखते हुए कि दोनों राज्यों के बीच किसी समझौते पर पहुंचने के लिए आपसी बातचीत चल रही है तो न्यायालय ने उन्हें किसी समझौते पर पहुंचने के लिए कुछ समय दिया है। न्यायालय ने यह भी कहा कि यह देखते हुए हुए कि नदी जल विवाद और एसवाईएल का निर्माण न्यायालय के विचाराधीन है, इसलिए ऐसे समय में पंजाब और हरियाणा दोनों को यह निर्देश दिया जाता है कि उनके राज्यों में इस विषय को लेकर कोई आंदोलन न हो। इसके अतिरिक्त न्यायालय ने देश के नागरिकों को उनके उस कर्तव्य का भी ध्यान दिलाया जिसका पालन उन्हें उस स्थिति में करना चाहिए जब कोई विवाद का विषय न्यायालय के विचाराधीन होता है। नेता विपक्ष ने प्रधानमंत्री को यह जानकारी भी दी कि दोनों राज्यों के एडवोकेट जनरलों ने यह विश्वास दिलाया है कि सर्वोच्च न्यायालय के इन निर्देेशों बारे पूरी जानकारी अपनी-अपनी राज्य सरकारों को दे दी जाएगी। 
नेता विपक्ष ने इस संदर्भ में कहा कि उन्हें खेद है कि जैसे ही सर्वोच्च न्यायालय ने इस प्रकार के निर्देश दिए, वैसे ही पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री स. प्रकाश सिंह बादल ने एक सार्वजनिक बयान देकर कह डाला कि पंजाब हरियाणा को एक भी बंूद पानी नहीं देगा। पंजाब के एक अन्य विपक्षी दल, लोक इंसाफ पार्टी ने भी यह घोषणा कर दी है कि एसवाईएल नहर बनाने की स्थिति में वह जेल भरो आंदोलन प्रारम्भ करेगी।
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने यह भी कहा कि इन बातों को देखते हुए यह स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि पंजाब में सर्वोच्च न्यायालय मान-सम्मान और अधिकारों को चुनौती देने के लिए कमर कसे हुए हैं। इसके विपरीत हरियाणा में सभी राजनैतिक दल इस बात पर सहमत हैं कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दी गई डिक्री का तुरंत पालन होना चाहिए। नेता विपक्ष ने यह चिंता भी प्रधानमंत्री को जताई कि पंजाब में कुछ राजनैतिक दलोंं द्वारा इस क्षेत्र के वातावरण को बिगाडऩे का प्रयास किया जा रहा है। परंतु सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार पंजाब में शांति बनाए रखने का दायित्व पंजाब के मुख्यमंत्री का है। इस निर्देश को ध्यान में रखते हुए चौधरी अभय सिंह चौटाला ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि वह पंजाब के मुख्यमंत्री पर दबाव बनाएं ताकि कोई ऐसा कदम पंजाब में न उठाया जाए जिसकी विपरीत प्रतिक्रिया हरियाणा में हो।

Thursday, July 13, 2017


सांसद दुष्यंत चौटाला ने गाँव धनकोट व् घामड़ौज में लगाई युवा चौपाल 



गुड़गांव 13 जुलाई : इंडियन नैशनल लोकदल के युवा चौपाल कार्यक्रम के तहत आज गड़गांव के गांव धनकोट व घामड़ौज में पंहुचे देश के सबसे युवा सांसद दुष्यन्त चौटाला। वहीं इनेलो के युवा प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेन्द्र तंवर की ताई के आकस्मिक निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए उनके निवास स्थान गांव रामगढ पंहुचकर शोक संवेदना प्रकट की। उक्त जानकारी पार्टी जिला प्रवक्ता कपिल त्यागी ने प्रैस के नाम जारी विज्ञप्ति में दी। इस अवसर पर गांव में पंहुचने पर श्री चौटाला का फूल मालाओं व ग्रामवासियों द्वारा सम्मान की प्रतीक पगड़ी बांधकर जोरदार स्वागत किया। युवा कार्यकर्ताओं ने ढोल नगाड़े बजाकर श्री चौटाला के साथ रोड़ शो कर युवा चौपाल कार्यक्रम में पंहुचे। 


कार्यक्रम से पहले गांव के मन्दिर में इनेलो नेताओं व कार्यकर्ताओं द्वारा पौधारोपण किया गया। श्री चौटाला ने गांव घामड़ौज में शहीदों की प्रतिमा पर माला पहनाकर शहीदों को नमन किया। उक्त कार्यक्रम में श्री चौटाला ने बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश व प्रदेश में सत्ता में आने से पहले भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में साफ लिखा था कि यदि देश व प्रदेश में भाजपा की सरकार आती है तो प्रतिवर्ष लगभग 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का काम करेंगे परन्तु लगभग 3 साल बीत जाने के उपरान्त युवा आज रोजगार को लेकर दर दर की ठोकर खाने पर मजबूर हो रहे है। भाजपा के सभी चुनावी वायदे चुनावी जुमले साबित हो रहे है।


श्री चौटाला ने कहा कि आज हरियाणा प्रदेश में बिजली, पानी, सड़क, सीवर, शिक्षा, चिकित्सा, कानून व्यवस्था का दिवाला पिट चुका है और प्रत्येक वर्ग चाहे किसान, मजदूर, व्यापारी व कर्मचारी भाजपा की गलत नीतियों के कारण आये दिन धरना प्रदर्शन कर सरकार को कोसने का काम कर रहे हैं परन्तु भाजपा सरकार के कानों तले जूं तक नहीं रेंगी। इससे साफ जाहिर होता है कि ये सरकार जनविरोधी सरकार है व हरियाणा की जनता के हितों से इन्हें कोई लेना देना नहीं है। युवा सांसद ने कहा कि हरियाणा में स्थित कंपनियों में हरियाणा के युवाओं को 50 प्रतिशत रोजगार सुनिश्चित करने के लिए आगामी 14 जुलाई को हिसार में रोजगार मेला का आयोजन किया जा रहा है जिसमें 4000 युवाओं को नौकरी देने का काम करेंगे। इस मेले में लगभग 12 कंपनियां हिस्सा ले रही है। उन्होंने बताया कि रोजगार मेले के लिए न तो कोई रजिस्ट्रेशन फीस है और ना ही कोई फाईल चार्ज लिया जायेगा। 


श्री चौटाला ने कहा कि हिसार में आयोजित रोजगार मेले के सफल आयोजन के उपरान्त प्रदेश के प्रत्येक जिले में इसी प्रकार के मेलों का आयोजन कर प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने का काम करेंगे। इस अवसर पर इनेलो के वरिष्ठ नेता एंव पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनन्तराम तंवर, युवा प्रदेश प्रभारी प्रदीप गिल, जिलाध्यक्ष किशोर यादव, प्रधानमहासचिव रमेश दहिया, हल्काध्यक्ष रिषीराज राणा, शैलेश खटाणा चैयरमैन, महेश चौहान, अटलबीर कटारिया, बेगराज गुर्जर, दलबीर धनखड़, कपिल त्यागी, सतीश राघव, पवन धनकोट, रविन्द्र काले प्रधान, दीपक राघव,दिनेश सहरावत सरपंच, कृष्ण प्रधान गाड़ौली, योगेश शर्मा, अमरपाल राठी, नरेश सहरावत, गौरव छौक्कर, ओमबीर नाहरवाल, पवन मैम्बर, जबरसिंह कटारिया, उपेन्द्र राघव, विजय डागर, प्रवीन राघव, रामफल कटारिया, दीपक राघव, अशोक यादव सरपंच, ज्ञान सरपंच, रमेश पूर्व सरपंच, शाहिल शर्मा, बन्टी, नगेन्द्र डागर, विनोद चौहान, राजेश डागर, योगेन्द्र घंघोला, दीपक डागर, सुभाष तंवर, राजबीर बालियावास, हरनेक सिंह, सहित सैंकड़ों युवा कार्यकर्ता एंव पदाधिकारी मौजूद थे।
एफएसए के खेल में बिजली की दरें बढ़ाने की फिराक में सरकार - अभय सिंह चौटाला
चंडीगढ़, 13 जुलाई: नेता विपक्ष एवं इनेलो के वरिष्ठ नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर सरकार एफएसए (फ्यूल सरचार्ज एडजेेस्टमेंट) के खेल में बिजली की दरें बढ़ाना चाहती है, यदि सरकार ने बिजली की दरें बढ़ाकर प्रदेश की जनता की जेबों पर डाका डालने का काम किया तो इनेलो इस फैसले को बर्दाश्त नहीं करेगी।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि सरकार यह कह रही है कि उन्होंने एफएसए घटा दिया है और पहली जुलाई से 37 पैसे प्रति यूनिट ही एफएसए लिया जाएगा। हैरानी होती है जब अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में डीजल, कोयले के दाम घटे हैं और केंद्र सरकार भी दावा करती है कि अब कोयले की क्वालिटी में भारी सुधार हुआ है और बिजली उत्पादन सस्ता हुआ है। खुद केंद्रीय बिजली मंत्री पीयूष गोयल यह कहते हैं कि पहले से बिजली बहुत सस्ती हो गई है। अब जब बिजली सस्ती हुई है तो एफएसए किस बात का? यह तो वैसे ही खत्म हो जाना चाहिए।
नेता विपक्ष ने कहा कि हरियाणा तो वैसे भी ज्यादातर बिजली बाहर से प्राइवेट बिजली कंपनियों से खरीदती है तो एफएसए लेने का सवाल ही पैदा नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अब सरकार बिजली की दरों में वृद्धि कर व एफएसए कम बताकर लोगों की आंखों में धूल झोंकना चाहती है, जिसे इनेलो सहन नहीं करेगी।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में बिजली वैसे ही नहीं मिलती, मुश्किल से दो घंटे बिजली रहती है, ऊपर से सरकार कहती है कि बिजली उनके पास सरप्लस है तो फिर यह सरप्लस बिजली गांवों में क्यों नहीं दी जाती? सरकारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश के पास 10963 मेगावाट बिजली का प्रबंध है और सरकार दावा करती है कि उनको 8000 से 8500 मेगावाट बिजली की जरूरत है तो ऐसे में 2500 से 3000 मेगावाट बिजली सरप्लस है। यह सरप्लस बिजली तुरंत ग्रामीण क्षेत्र में दी जाए।
नेता विपक्ष ने कहा कि सरकार बगैर बिजली लिए इन कई प्राइवेट बिजली कम्पनियों को कई हजार करोड़ रुपए फिक्स चार्ज के नाम का दे रही है तो इस बिजली का इस्तेमाल क्यों नहीं किया जा रहा। उन्होंने कहा कि आज 37286 किसान ट्यूबवैल के लिए बिजली का कनेक्शन मांग रहे हैं, उनको डार्क जोन का बहाना बनाकर बिजली कनेक्शन देने के लिए मना कर दिया जाता है और उनकी लाखों रुपए सिक्योरिटी सरकार सालों से लिए हुए है। सरकार बिजली उपभोक्ताओं को महंगी बिजली देकर, बिजली कम्पनियों को फायदा पहुंचाना चाहती है।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि सरकार को प्राइवेट बिजली कंपनियों की तो फिक्र है लेकिन ग्रामीणों और किसानों की कोई चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने बिजली की दरें बढ़ाई तो इनेलो इसके खिलाफ सडक़ों पर उतरने से भी गुरेज नहीं करेगी।

Wednesday, July 12, 2017


आज से इनेलो का सदस्यता अभियान शुरू 


सिरसा 12 जुलाई: इनेलो कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को पार्टी का सदस्य बनायें, तथा पार्टी का  संदेश आमजन तक पहॅुचाऐ। यह बात इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन ने इनेलो कार्यालय में पार्टी सदस्यता अभियान आरम्भ करते हुए कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कही। जैन ने कहा कि आज से इनेलो का सदस्यता अभियान आरम्भ हो गया है, तथा पार्टी कार्यकर्ता आम आदमी से मिलकर पार्टी की जनहितेषी नितियों को बताते हुए उन्हें पार्टी का प्राथमिक सदस्य बनायें। जिलाध्यक्ष ने कहा कि संगठन को मजबूत बनाने में कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका होती है और कार्यकर्ताओं कि मेहनत के  बदौलत ही पार्टी सत्ता में आती। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि जिस प्रकार एस.वाई.एल के मुद्दे पर नेता प्रतिपक्ष चौ० अभय सिंह चौटाला की एक आवाज पर रास्ता रोको आन्दोलन की कामजाबी कार्यकर्ताओं के कारण हुई। जिलाध्यक्ष ने कहा कि कार्यकर्ता जी-जान से जुट जाऐ ताकि आने वाला समय इनेलो का है और जनता इनेलो को सत्ता में देखना चाहती है। इस मौके पर हल्का सिरसा विधायक मक्खन लाल सिंगला, शहरी उपाध्यक्ष कृष्ण गर्ग, प्रदीप मैहता, डा. हरी सिंह भारी, महावीर शर्मा, सुशील कम्बोज, धर्मपाल फ ौजी, वेद प्रकाश वधवा, श्याम लाल इन्दौरा, मुक्तयार सिंह कम्बोज, हेमकांत शर्मा, धर्मपाल कायत, रामस्वरूप जोरसिया, ेेेेेेेेेेसुरेश दड़वा, जग्गा सिंह, विजय वर्मा, प्रहलाद सोनी, शाम बामनिया आदि इनेलो कार्यकर्ता मौजूद थे।   














Tuesday, July 11, 2017

पंजाब न माने तो प्रधानमंत्री करवाएं एसवाइएल नहर का निर्माण - दुष्यंत

हिसार, 11 जुलाई : इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि पंजाब सरकार को सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों को मानते हुए अपने हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण कार्य तुरंत शुरू करना चाहिए। यदि पंजाब सरकार सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों पर अमल नहीं करती है तो माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आगे आकर इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए हरियाणा के हकों की रक्षा के लिए आगे आना चाहिए। सांसद ने यह मांग आज सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद की। उन्होंने कहा कि यदि अब पंजाब स्वयं एसवाईएल नहर का निर्माण नहीं करवाती है तो केंद्र सरकार को पेरा मिल्ट्री फोर्स लगाकर अथवा अन्य किसी एजेंसी से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाए। 
इनेलो सांसद ने कहा कि हरियाणा के किसान पिछले चार दशकों से अपने हक के पानी के लिए तरस रहे हैं। अब माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले पर फैसला देते हुए पंजाब सरकार को उसके हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा अपने हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण पहले ही कर चुका है और अब पंजाब के हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण चार दशकों से अधूरा पड़ा है। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनेलो एसवाईएल नहर का पानी लाने के लिए लगातार आंदोलनरत है और कल भी हरियाणा पंजाब सीमा पर पांच स्थानों पर इनेलो कार्यकर्ताओं ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर अपनी मांग रखी, इसके लिए इनेलो कार्यकर्ता बधाई के पात्र हैं। उन्होंने इस मुद्दे पर माननीय सर्वोच्च अदालत द्वारा अगली सुनवाई दो माह बाद करने बारे अपनी टिप्पणी करते हुए कहा कि वह हरियाणा सरकार से मांग करते हैं कि अपने अधिवक्ता के माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय से जल्द तारीख रखने की अपील करे जिससे कि एसवाईएल नहर के जल बंटवारे की पर सुनवाई शुरू हो सके। 
सांसद दुष्यंत चौटाला हरियाणा के पांचों सांसदों को एक मंच पर लाकर पीएम से करेंगे मुलाकात: सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एसवाईएल नहर का पानी हरियाणा में लाने के लिए प्रदेश के राजनीतिज्ञ राजनीति से ऊपर उठकर काम करें ताकि प्रदेश के किसानों का भला हो सके। उन्होंने कहा कि 17 जुलाई से शुरू हो रहे मानसून सत्र में वह दलगत राजनीति से उपर उठ कर एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के सभी दलों के राज्यसभा और लोकसभा सांसदों से स्वयं मुलाकात करेंगे और एसवाईएल के मुद्दे पर एकजुट होने का आह्वान करेंगे। उन्होंने कहा कि वह सभी सांसदों को एकजुट होकर माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर हरियाणा को उसके हक का एसवाईएल नहर का पानी दिलवाने के लिए हस्तक्षेप की मांग करनी चाहिए। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार के अनुसार भी हरियाणा का भू-जल स्तर लगातार नीचे चला गया और इसके 80 प्रतिशत हिस्से को डार्क-जोन घोषित कर दिया गया है। इसलिए हरियाणा के लिए एसवाईएल नहर का पानी अति आवश्यक है।