Thursday, June 29, 2017

इनेलो ने राष्ट्रपति चुनाव में NDA के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने का ऐलान किया 


चंडीगढ़, 29 जून: आज पंचकूला में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार श्री रामनाथ कोविंद ने इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के सांसदों, विधायकों एवं पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए उनके समर्थन का आग्रह किया। उनके साथ राज्य के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर, हरियाणा के भाजपा प्रभारी श्री अनिल जैन एवं भाजपा के राज्याध्यक्ष श्री सुभाष बराला भी थे। 
श्री रामनाथ कोविंद का स्वागत करते हुए नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने उन्हें बताया कि कुछ दिन पूर्व इनेलो की राज्य कार्यकारिणी की मीटिंग में राष्ट्रपति पद के दोनों उम्मीदवारों की योग्यताओं बारे चर्चा की गई थी और अंत में यह निश्चय किया गया था कि आम राय जानने के बाद चौधरी ओमप्रकाश चौटाला पर अंतिम निर्णय छोड़ दिया जाएगा। सभी से विचारविमर्श करने के पश्चात पार्टी ने यह निश्चय किया कि श्री रामनाथ कोविंद से बेहद उम्मीदवार इस समय और कोई नहीं। 


इनेलो के सांसदों, विधायकों एवं पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुए श्री कोविंद ने स्वर्गीय चौधरी देवीलाल जी को भावभीनी श्रद्धांजलि दी और यह स्वीकार किया कि हरियाणा में विकास के मानदण्ड को उन्हीं द्वारा स्थापित किया गया था। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल जी द्वारा छोड़ी गई विरासत सभी की सांझी है। साथ ही उन्होंने कहा कि देश की संसद के परिसर में जब चौधरी देवीलाल जी की मूर्ति की स्थापना के बाद अनावरण हुआ था तो वह क्षण भी उन्हें भलीभांति याद है। 
श्री कोविंद ने यह आश्वासन भी दिया कि वह केवल राष्ट्रपति चुने जाने के बाद ही दलगत राजनीति से ऊपर नहीं होंगे क्योंकि ऐसा वह उसी क्षण से कर चुके हैं जब उन्हें दो वर्ष पूर्व बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया गया था। राज्यपाल का कार्यभार सम्भालते हुए उन्होंने जिस प्रकार अपने दायित्व को निभाया है उसी को देखते हुए जब बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने उनसे यह कहा कि जिस प्रकार उन्होंने उस पद की गरीमा बनाए रखी, वैसा बिहार की राजनीति में कभी नहीं हुआ था, तो यह उनके लिए एक सुखद क्षण और अनुभूति थी। उन्होंने इनेलो को यह आश्वासन भी दिया कि उनके लिए राष्ट्र हित और लोक कल्याण सर्वोपरि हैं और राष्ट्रपति चुने जाने के बाद भी यही उनकी प्राथमिकताएं होंगी और इन्हीं के प्रति वह समर्पित रहेंगे।

भय के साये में चिकित्सक - दिग्विजय चौटाला

भिवानी, 29 जून : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने आज यहां जारी ब्यान में कहा कि जब से प्रदेश के अंदर भाजपा की सरकार बनी है। कानून व्यवस्था का पहले से और ज्यादा दिवाला निकल गया है। आए दिन लूट, हत्या, बलात्कार की घटनाऐं आम हो गई हैं। भिवानी के वरिष्ठ चिकित्सक और सामाजिक ताने बाने को मानने वाले डा. अंचल को असामाजिक तत्वों से धमकी मिलना इस बात की और इसारा करता है की भिवानी के सरारती तत्व बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए तैयार बैठे हैं वहीं प्रशासन और सरकार की कार्यशैली पर प्रश्र चिहन लगाते हुए चौटाला ने कहा कि पहले भी डा. बावा की निर्मम हत्या और बवानीखेड़ा के वरिष्ठ चिकित्सक डा. जगदीश को धमकी देने वालों की अभी तक गिरफ्तारी न होना पुलिस कार्यवाई पर प्रश्र चिहन लगाती है। चौटाला ने कहा कि डा. अंचल को धमकी देने वाले शरारती तत्वों को जल्द ही गिरफ्तार नहीं किया गया तो इनसो शहर के अंदर विरोध प्रदर्शन करेगी। जिसके जिम्मेदार स्वयं सरकार होगी। समस्त इनसो और इनेलो डा. अंचल जैसे सामाजिक व्यक्तित्व को रखने वाले इन्सान के साथ है।
एन्हांसमेेंट को लेकर सांसद दुष्यंत गंभीर, मुख्यमंत्री को लिखा पत्र




हिसार, 29 जून : सेक्टरवासियों पर एन्हांसमेंट के नाम पर बार बार पड़ रहे आर्थिक भार पर सांसद दुष्यंत चौटाला ने कडा संज्ञान लेते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री से इस बारे में आपत्ति दर्ज कराते हुए सेक्टर वासियो को राहत देने की मांग उठाई है। उन्हेांने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर ऐसे मामले में हुडा विभाग द्वारा एन्हांसमेंट की राशि खुद वहन करने की मांग की है ताकि प्रदेश के किसी भी सेक्टर में कोई एन्हांसमेंट न आए। गौरतलब है कि पिछले दिनों हुडा ने हिसार के सेक्टर 9-11 के प्लाट होल्डर्स को करोड़ो रुपए के एन्हांसमेंट नोटिस थमा दिए। जिसे लेकर सेक्टर वासियों में हुडा के साथ साथ प्रदेश सरकार के प्रति भारी रोष है। इसी सम्बन्ध में रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएसन का एक प्रतिनिधिमंडल ने सांसद को लिखित में ज्ञापन सौंपा था। मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में सांसद चौटाला ने कहा कि हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण हिसार की ओर से समय समय पर जमीन अधिगृहित कर सेक्टर काटे गए थे। जिसके बाद विभाग ने तयशुदा रेटों पर प्लाट आबंटित कर दिए। लेकिन अब कई साल बीत जाने के बाद प्लाट धारकों पर लाखों रुपए की एन्हांसमेंट लगा दी गई। इस बारे में सेक्टर 9-11 की रेजिडेंट वेलफेयर सोसायटी सहित अन्य सेक्टरवासी भी अपनी आपत्ति दर्ज करा चुके हैं। एन्हांसमेंट के कारण इन सेक्टरों में रहने वाले हजारों परिवारों पर आर्थिक बोझ आ पड़ा है। उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि हिसार के सेक्टर 9-11 में रह रहे हजारों परिवारों को एन्हांसमेंट से राहत दिलाई जाए तथा एन्हांसमेंट की राशि विभाग खुद वहन करे। इसके साथ ही ऐसा प्रावधान किया जाए कि भविष्य में प्रदेश के किसी सेक्टर में कोई एन्हांसमेंट न आए।

Tuesday, June 27, 2017

  29 जून को कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करेंगे अभय सिंह चौटाला

गुड़गांव 27 जून : आगामी 29 जून ब्रहस्पतिवार को दोपहर बाद 3 बजे गांव बसई स्थित कम्यूनिटी सैन्टर में इंडियन नैशनल लोकदल के वरिष्ठ नेता एंव जलयुद्ध नायक व नेता प्रतिपक्ष चौ0 अभय सिंह चौटाला जिला कार्यकारिणी की बैठक को सम्बोधित करेंगे। उक्त जानकारी इनेलो के जिला प्रवक्ता कपिल त्यागी ने प्रैस के नाम जारी अपने बयान में बताया। उन्होंने बताया कि नेता प्रतिपक्ष हरियाणा में बीजेपी सरकार के 3 साल बीत जाने के बाद भी चुनावों में किये गये वायदे को पूरा न करने बारे व प्रदेश में सरकार की बेरूखी के कारण बिजली, पानी, सड़क, सुरक्षा, सीवर, शिक्षा, चिकित्सा व बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को घेरने का काम करेंगे। श्री त्यागी ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा कोई गम्भीर कदम ना उठाये जाने के कारण आज स्कूल अपग्रेड कराने के लिए लड़कियों को सड़कों पर अनसन व प्रदेर्शन करना पड़ रहा है। आये दिन जेबीटी टीचर्स व टेक्नीशियनों के अलावा व्यापारियों, किसान व मजदूरों द्वारा किये जाने वाला विरोध प्रदेर्शन सरकार के निकम्मेपन को उजागर करता है। माननीय सुप्रिम कोर्ट हरियाणा की जीवनरेखा एसवाईएल नहर का फैसला हरियाणा में करने के बावजूद केन्द्र सरकार द्वारा इसे लागू ना करवाना एक गंभीर मुददा है और हरियाणा की बीजेपी सरकार का मौन रहना हरियाणा के किसानों के हितो पर कुठाराघात है। इन सभी मुददों तथा पार्टी की आगामी रणनीति को लेकर नेता प्रतिपक्ष कार्यकर्ताओं से रूबरू होंगे। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी पदाधिकारियों को जिम्मेवारियां सौंप दी गई है। 
ओमप्रकाश चौटाला ने गांव दयालपुर पहुंचकर मृतक बच्चों के पिता को बंधाया ढांढस


कुरुक्षेत्र 27 जून : इनेलो प्रमुख एवं हरियाणा के पूर्व मु यमंत्री चौ. ओमप्रकाश चौटाला ने कुरुक्षेत्र के निकटवर्ती गांव दयालपुर में पहुंचकर पीडि़त परिवार को सांत्वना दी और कहा कि दुख की इस घड़ी में वे तथा उनकी पूरी पार्टी पीडि़त परिवार के साथ है। उल्लेखनीय है कि गत दिनों गांव दयालपुर में रसोई गैस सिलेंडर में लीकेज के कारण आग लगने से एक ही परिवार के चार बच्चों की मौत हो गई थी। जलकर मरने वालों में तीन बहनें रीना, मीना, रजनी और उनका भाई गौरव शामिल है, जबकि इन बच्चों की माता रेशो देवी गंभीर अवस्था में पीजीआई चंडीगढ़ में उपचाराधीन है। बच्चों का पिता जसबीर सिंह जो कि मजदूरी करने कुवैत गया हुआ था, इस घटना के तीन दिन पश्चात अपने गांव पहुंचा। इस घटना का दुखद पहलू यह है कि बच्चों के संस्कार के समय माता पिता दोनों में से कोई भी अपने बच्चों के अंतिम दर्शन नहीं कर सके, जहां माता रेशो देवी पीजीआई चंडीगढ़ में उपचाराधीन होने के कारण नहीं अंतिम संस्कार में नहीं आ सकी, वहीं पिता जसबीर विदेश में होने के कारण अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके। चौ. ओमप्रकाश चौटाला ने फूट फूट कर रो रहे जसबीर सिंह को ढांढस बंधाया और कहा कि अनहोनी बलवान है, परमात्मा के आगे किसी का बस नहीं चलता। उन्होंने पीडि़त परिवार के प्रति सहानूभूति दर्शाई।
इस अवसर पर राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप, इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, विधायक जसविंद्र सिंह संधू, इनेलो के राष्ट्रीय प्रवक्ता डा केसी बांगड़, हलका प्रधान रणबीर किरमिच, नगर पार्षद एवं युवा इनेलो के प्रदेश सचिव नितिन भारद्वाज लाली, पार्षद पंकज चोचड़ा, इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य मायाराम चंद्रभानपुरा, शहरी प्रधान  रामस्वरूप चोपड़ा, युवा इनेलो के जिला प्रधान सुनील राणा, इनसो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जसविंद्र खैरा, डा संतोष दहिया,  इनेलो जिला उप प्रधान बलजिंद्र सिंह बब्बू, सतबीर शर्मा,  युवा इनेलो के जिला प्रचार सचिव मोहित सैनी, इनेलो एससी प्रकोष्ठ के जिला महासचिव एवं अजराना गांव के सरपंच संदीप बाल्मीकि, तून खान, डा जीत सिंह शेर, जीता रामपाल, सुभाष मिर्जापुर, मनोज कौशिक, डा बाबू राम गुप्ता, पूर्व पार्षद मनु जैन, पिंकी अरोड़ा, जनेंद्र जैन, अफसर सिंह गुर्जर, चंद्रभान बाल्मीकि, जगतार सिंह काजल, नरेंद्र घराड़सी, राजकुमार शर्मा, दलीप दयालपुर, प्रवीण कश्यप सहित पार्टी अनेक नेता उपस्थित थे। 
अभय चौटाला ने सीएम को लिखा पत्र, प्रदेश में नंदिशालाओं के लिए कर्मचारियों से दान मांगने पर उठाए सवाल



चंडीगढ़, 27 जून: नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर का ध्यान सरकार द्वारा बिना साधनों का प्रावधान किए महत्वकांक्षी योजनाओं को घोषित करने बारे पत्र लिखा है। उन्होंने कहा कि ऐसी ही एक महत्वकांक्षी योजना को ‘नंदीशाला’ जैसा रोचक नाम दिया गया है।
सरकार द्वारा गाय और उसकी प्रजाति के कल्याण के लिए कार्य करना निश्चित रूप से एक प्रशंसनीय प्रयास है। परंतु जब इस योजना के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए संदेहास्पद साधनों का प्रयोग किया जाता है तो उससे लक्ष्य के उद्देश्य पर भी प्रश्न चिह्न लग जाते हैं।
उन्होंने कहा कि सामान्यत: सरकारें किसी योजना की घोषणा करने से पहले उसे लागू करने के लिए आवश्यक साधनों का प्रबंध कर लेती है। परंतु इस सिद्धांत के विपरीत खट्टर सरकार द्वारा योजना की घोषणा के बाद उसके लिए वित्तीय साधनों को तलाश करने का कार्य किया। ‘नंदीशाला’ के संदर्भ में तो सरकार ने सभी सीमाओं को पार कर उसे सफल बनाने के लिए सरकारी कर्मचारियों से आग्रह किया कि वे अपने वेतन में से उन्हें चलाने के लिए दान करें।
चौधरी अभय चौटाला ने कहा कि उन्हें बताया गया है कि विभागों के मुखियाओं से कहा गया है कि वे दान देने और न देने वालों की एक सूची बनाएं। यदि ऐसा है तो इससे राज्य में एक ऐसी नई परंपरा प्रारम्भ होगी जिसके परिणाम चिंताजनक होंगे।
इनेलो नेता ने यह भी कहा कि कुछ समाचारों के अनुसार सरकार के इस प्रकार के आग्रह से ‘प्रेरित’ होकर जींद जिले के एसपी ने तो उसे तुरंत लागू कर अपने जिले के सभी पुलिस कर्मियों से नंदीशाला कोष में दान देने के लिए कहा जिसके परिणामस्वरूप 11 लाख रुपए उस कोष के नाम एकत्रित भी हो गए।
नेता विपक्ष ने यह भी चिंता जताई कि इससे राज्य के सिविल एवं पुलिस अधिकारियों में सत्तापक्ष को प्रसन्न रखने की होड़ प्रारंभ होने की सम्भावना है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि दान की भावना को बनाए रखना हो तो वह स्वेच्छा से होता है। यदि वह स्वेच्छा से नहीं है तो उसे ‘ऐंठना’ कहा जाता है। जब भी कोई विभागाध्यक्ष अपने अधीनस्थ कर्मचारियों से दान का आग्रह करते हुए एक दिन के वेतन का सुझाव देता है तो उसमें से दान की आत्मा मृत हो जाती है।
अंत में श्री चौटाला ने कहा कि इस प्रकरण का एक अन्य चिंताजनक पहलू भी है। यदि जींद के एसपी के उदाहरण को देखते हुए अन्य अधिकारी भी उनका अनुसरण करने लगे तो बहुत शीघ्र सभी अधिकरयों का लक्ष्य सत्तापक्ष के मनमाने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कार्यरत रहना ही रह जाएगा। परिणामस्वरूप अधिकारियों की संविधान और कानून के प्रति प्रतिबद्धता प्रभावित होगी जिससे 1975 के आपातकाल से अधिक काला अध्याय लिखा जाएगा क्योंकि अधिकारी को जब झुकने के लिए कहा जाएगा तो वे रेंगना शुरू कर देंगे।
सरकार ने GST के माध्यम से ट्रैक्टरों व् अन्य कृषि उपकरणों पर टैक्स लगाकर किसानों को बर्बाद करने का काम किया - दुष्यंत 


चंडीगढ़, 26 जून: इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) की राज्य कार्यकारिणी के सदस्यों, जिला, हलका एवं विभिन्न प्रकोष्ठों के अध्यक्षों को सम्बोधित करते हुए सांसद श्री दुष्यंत चौटाला ने प्रदेश के युवाओं और किसानों के समक्ष समस्याओं के बारे में चर्चा की। 
उन्होंने भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए सरकार पर आरोप लगाया कि उसके द्वारा किसानों पर तीन दिशाओं से आक्रमण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो एसवाईएल नहर के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद जो न्यायोचित हिस्सा राज्य का नदियों  के जल का बनता है, उसे प्रदेश के सूखे खेतों में पहुंचने से रोका जा रहा है तो दूसरी तरफ स्वामीनाथन कमीशन की सिफारिशों को लागू न कर किसानों को गरीबी, कर्ज और निराशा के कगार पर खड़ा कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस दोहरे हमले से भी संतुष्ट न होकर भाजपा ने अब किसानों पर जीएसटी के माध्यम से ट्रैक्टरों एवं अन्य कृषि उपकरणों पर टैक्स लगाकर उन्हें बर्बाद करने की दिशा में एक और कदम उठाया है।
श्री दुष्यंत चौटाला ने ये भी कहा कि आज समाज में एक बहुत बड़ा वर्ग युवाओं का है और इसलिए उन्हें राज्य के हितों की सुरक्षा के लिए अपनी प्रतिबद्धता भी दिखानी होगी। इसी संदर्भ में इनेलो के युवा प्रकोष्ठ ने यह बीड़ा उठाया है कि वह हर सम्भव यत्न द्वारा हरियाणा को उसके हिस्से का नदी जल दिलवाकर रहेंगे ताकि उसके खेत सूखे न रहें। श्री दुष्यंत चौटाला ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को आश्वासन दिया कि इस दिशा और लक्ष्य को प्राप्त करने में प्रदेश का युवावर्ग किसी से भी पीछे नहीं होगा। 
इनेलो सांसद ने हरियाणा के युवा के अंधकारमय भविष्य की भी चर्चा की और कहा कि हालांकि गुरुग्राम और उस जैसे कुछ अन्य समृद्धि और खुशहाली के टापू राज्य में हैं परंतु उनमें हरियाणा के युवाओं का कोई स्थान नहीं है। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम जैसे स्थान जहां अधिकांश उद्योग और व्यवसाय केंद्रित हैं, वहां हरियाणा के युवाओं को कुल रोजगार का केवल आठ या दस प्रतिशत हिस्सा ही प्राप्त होता है। उन्होंने यह मांग की कि राज्य में लगने वाले सभी सार्वजनिक एवं निजी उद्योगों में हरियाणा के युवाओं के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया जाए।
इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में आगामी राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवारों को समर्थन देने समेत कई मुद्दों को लेकर प्रस्ताव पास किए गए 


चंडीगढ़, 26 जून: इंडियन नेशनल लोकदल की प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्यों, जिला, हलका एवं विभिन्न प्रकोष्ठों की एक बैठक में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू कर फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य के फार्मूले बारे, एसवाईएल नहर के अधूरे निर्माण कार्य को पूरा करने, बिगड़ती कानून व्यवस्था और आगामी राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवारों को समर्थन देने बारे प्रस्ताव पारित किए गए।
नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष श्री अशोक अरोड़ा द्वारा किसानों के प्रति इनेलो की प्रतिबद्धता पर बल दिया। श्री अभय चौटाला ने याद दिलाया कि स्व. चौधरी देवीलाल के समय से ही यह पार्टी किसानों के हितों के लिए राजनैतिक एवं संवैधानिक पदों का भी त्याग करती रही है। श्री अरोड़ा ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि जब अभी हाल में पार्टी का एक प्रतिनिधिमण्डल मंदसौर में हुई किसानों पर गोलीबारी के पीडि़त परिवारों के साथ सहानुभूति जताने गया तो उन किसानों ने इस बात पर आभार व्यक्त किया कि स्व. चौधरी देवीलाल के परिवार का कोई सदस्य उनके इस दुख एवं संकट की घड़ी में हमदर्दी के लिए आया था।
श्री अभय चौटाला ने इस बात पर बल दिया कि इनेलो और हरियाणा के लोग एसवाईएल नहर के माध्यम से राज्य के हिस्से के न्यायोचित जल को प्रदेश में लाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्होंने हरियाणा के युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए वे पहल करें और उसमें सफलता प्राप्त करें। आगामी 10 जुलाई को अम्बाला के निकट पंजाब-हरियाणा की सीमा पर पंजाब से आने वाली सभी गाडिय़ों को रोकने के निर्णय को उचित ठहराते हुए उन्होंने एसवाईएल नहर के लिए इनेलो के लम्बे संघर्ष की गाथा को याद करते हुए कांग्रेस और भाजपा दोनों द्वारा दिए गए धोखों को भी याद किया। उन्होंने कहा कि वह चरणबद्ध तरीके से इस विषय को लेकर चेतावनी भी देते आए हैं और एक श्रृंखला के रूप में विरोध प्रदर्शन भी किए हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को लागू नहीं किया गया तो उसके गम्भीर परिणाम सभी को भुगतने पड़ेंगे।


राष्ट्रपति पद के भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए और कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए एवं अन्य के उम्मीदवारों बारे चर्चा करते हुए उन्होंने श्री रामनाथ कोविंद और श्रीमती मीरा कुमार की योग्यताओं, गुणों एवं अनुभव को सभी के समक्ष रखा। उन्होंने याद दिलाया कि बहुत समय पहले चौधरी देवीलाल जी ने यह आशा प्रकट की थी कि वह एक दिन किसी दलित को राष्ट्रपति भवन में निवास करता देखना चाहते हैं। आज देश के दोनों ही प्रमुख राष्ट्रीय दल वोट बैंक की राजनीति के कारण किसी दलित को अपना उम्मीदवार बनाने के लिए विवश हो गए हैं। इस विषय को लेकर कार्यकारिणी एवं अन्य ने एकमत से यह निर्णय किया कि किस उम्मीदवार को इनेलो का समर्थन दिया जाए इसका अंतिम निर्णय चौधरी अभय सिंह इनेलो सुप्रीमो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला जी से सलाह कर तय करें।
कानून व्यवस्था बारे प्रस्ताव पूर्व डीजीपी डॉ. एमएस मलिक द्वारा रखा गया और सरकार की निंदा की गई कि वह राज्य के निवासियों विशेषकर महिलाओं, दलित और समाज के कमजोर वर्ग को सुरक्षा देने में असफल रही है। स्वामीनाथन कमीशन की सिफारिशों को लागू करने बारे प्रस्ताव को पूर्व विधायक और इनेलो के किसान प्रकोष्ठ के अध्यक्ष स. निशान सिंह कम्बोज द्वारा रखा गया। बैठक का संचालन पूर्व मंत्री श्री रामपाल माजरा ने किया और इसमें अन्य लोगों के अतिरिक्त श्री आरएस चौधरी, श्री बीडी ढालिया, डॉ. केसी बांगड़, पार्टी के सांसद एवं विधायकों सहित इनसो के अध्यक्ष श्री दिग्विजय सिंह चौटाला भी थे।

Saturday, June 24, 2017

एसवाइएल पर अभय चौटाला को मिल रहे समर्थन से सुरजेवाला का मानसिक संतुलन बिगड़ा - गंगवा
हिसार, 24 जून : एसवाईएल के लिए नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला के द्वारा चलाये जा रहे अभियान को प्रदेश के किसानों का अभूतपूर्व समर्थन मिल रहा है। जिससे प्रदेश की भाजपा सरकार के अलावा कांग्रेस की भी नींद उड़ी हुई है। इसी कारण कांग्रेस नेता इनेलो के बारे में अनर्गल बयान बाजी कर रहे है। यह बात इनेलो विधायक रणवीर गंगवा ने कांग्रेस विधायक रणदीप सुरजेवाला के उस  बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही, जिसमे उन्होंने एसवाईएल न बनने के लिए इनेलो को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने सुरजेवाला के बयान को मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति द्वारा दिया गया बयान बताते हुए कहा कि गद्दार तो स्वयं सुरजेवाला है, जिन्होंने पंजाब के उस चुनावी घोषणा पत्र को जारी किया, जिसमें हरियाणा को एक बूंद भी पानी न देने की बात कही थी। रणवीर गंगवा ने सुरजेवाला को एसवाईएल पर कुछ भी बोलने से पहले अपने ज्ञान को दुरुस्त करने की सलाह दी। इनेलो विधायक गंगवा ने कहा कि जब 1966 में हरियाणा बना तो पंजाब व हरियाणा का पानी का बंटवारा भी हुआ था, परंतु कांग्रेस सरकार में इसे 10 वर्ष तक दबाए रखा बाद में जननायक चौधरी देवीलाल के संघर्ष के दबाव में 1976 में एक मसौदा बना कर फिर ठंडे बस्ते में डाल दिया। 1977 में देवीलाल के मुख्यमंत्री बनने के बाद पंजाब को एस वाइ एल के लिए जमीन अधिगृहित करने के लिए पैसे जारी किये। परन्तु बाद की कांग्रेस सरकारों ने फिर इसको कानूनी रूप से उलझा दिया। गंगवा ने कहा कि कांग्रेस ने तो राजीव लौंगोवाल समझौते के माध्यम से भी प्रदेश के हितों पर कुठाराघात करने की कोशिश की थी, जिसमे चंडीगढ़ पंजाब को देने के साथ साथ एस वाई एल के लिए दोबारा से कमेटी गठित करके इसे ठंडे बस्ते में डालने की योजना थी। परन्तु चौधरी देवीलाल के संघर्ष की बदौलत कांग्रेस कामयाब न हो सकी और 1987 में लोकदल को 90 में से 85 सीट जीताकर इस प्रदेश से कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया। सत्ता में आने के बाद फिर से तत्कालीन मुख्यमंत्री देवीलाल ने नहर के निर्माण का कार्य तेज किया और अधिकतर कार्य पूरा भी करवा दिया। इसके बाद फिर से कांग्रेस सरकार ने इस मामले को अदालत में उलझा दिया। 1999 में इनेलो के फिर से सत्ता में आने के बाद अदालत में पैरवी करके पहले 2002 में व फिर 2004 में हरियाणा के हक में फैसला करवाया। आज भी सुप्रीम कोर्ट ने इनेलो सरकार के समय दिए गए फैसले पर अपनी मोहर लगाई है। उन्होनें कहा कि कांग्रेस ने तो आजतक इस पर केवल राजनीति की है अगर कांग्रेस गंभीर होती तो 2005 से लेकर 2007 तक हरियाणा, पंजाब के साथ साथ केंद्र में भी उनकी सरकार थी तो वे एसवाईएल का पानी प्रदेश को दिला सकते थे, लेकिन उस वक्त प्रदेश के किसी भी कांग्रेस नेता ने एसवाईएल को लेकर कोई प्रयास नही किया। यहां तक कि 2005 से 2014 तक प्रदेश कांग्रेस सरकार की तरफ से अदालत में भी कोई प्रयास नहीं किया गया। आज कांग्रेस अपनी गिरती साख को बचाने के लिए मात्र घडिय़ाली आंसू बहा रहे है।
भाजपा सरकार को किसानों की कोई परवाह नहीं - लितानी


हिसार, 24 जून : मौजूदा केंद्र व प्रदेश भाजपा सरकार को किसानों की कोई परवाह नहीं है। अगर इनको किसानों की परवाह होती तो एसवाईएल के निर्माण के साथ साथ स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट भी लागू कर दी जाती। यह बात इनेलो जिला अध्यक्ष राजेंद्र लितानी ने कही। वे शनिवार को ताऊ देवीलाल सदन में जिला व हलका पदाधिकारियों से संगठन की मजबूती के साथ साथ भाजपा सरकार में किसानों व मजदूरों की हो रही बेकद्री को लेकर चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने अपने घोषणा पत्र में प्रमुख रूप से वायदा किया था कि सत्ता में आने बाद स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को हूबहू लागू करके प्रदेश के किसानों को तोहफा देंगे। मगर केंद्र व प्रदेश में सत्ता आने के बाद भाजपा अपने वायदे को पूरी तरह से भूल चुकी है। नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला इस गूंगी बहरी सरकार को जगाने का हर सम्भव प्रयास कर रहे है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद भी भाजपा सरकार एसवाईएल को लेकर हाथ पर हाथ धरे बैठी है। अभय सिंह चौटाला को उनके संघर्ष में आज प्रदेश के किसानों का बेहद सहयोग मिल रहा है। लितानी ने कहा कि अभय सिंह चौटाला के नेतृत्व में आगामी 10 जुलाई को पंजाब के वाहनों को हरियाणा में प्रवेश नही करने दिया जाएगा। इसी कड़ी में इनेलो नेता अभय चौटाला एक जुलाई को दोपहर 3 बजे ताऊ देवी लाल सदन में इनेलो जिला कार्यकर्ताओ की बैठक लेकर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश देंगे। बैठक में इनेलो नेताओ ने संगठन सदस्यता अभियान को लेकर भी विचार विमर्श किया गया। लितानी ने इनेलो की नीतियों को घर घर तक पहुंचाकर ज्यादा से ज्यादा सदस्य बनाने का आह्वान युवा कार्यकर्ताओं से किया गया। इस मौके पर विधायक रणवीर गंगवा, अनूप धानक, पूर्व विधायक पूर्ण सिंह डाबड़ा, महिला प्रकोष्ठ की प्रदेशाध्यक्षा शीला भ्याण, चत्तर सिंह, युवा जिला अध्यक्ष अमित बूरा, हलका अध्यक्ष सतबीर सिसाय, सत्यवान, सतपाल सरपंच, भागीरथ नंबरदार, राव इंद्र फौजी, राजीव शर्मा, रणधीर पुनिया, डॉ राज कुमार दिनोदिया, पूर्व चेयरमैन सतबीर वर्मा, सतपाल पान्नू, सत्यवान कोहाड़,  परवीन ढांडा, मास्टर तारा चंद, बाली भाटोल, कांता रानी, कृष्णा खर्ब, दर्शना लाठर सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे। 

Friday, June 23, 2017

भाई-चारे की प्रतीक है रोजा-ए-इफतार पार्टी - अभय सिंह चौटाला


सोनीपत 23 जून : सोनीपत की ईदगाह कालौनी में वीरवार को प्रतिपक्ष नेता चौ0 अभ्य ङ्क्षसंह चौटाला ने शिरकत की। ईदगाह में इनेलों के सोनीपत हल्का से पूर्व प्रत्याशी सुरेन्द्र पवार दरा रोजा-ए-इफतार पार्टी का आयोंजक किया गया। इस आयोंजन में आस-पास के सभी मुस्लिम भाईयोंं ने बढ-चढ कर भाग लिया। इस आयोंजन की अध्यक्षता सुरेन्द्र छिक्कारा ने की। मुख्य अतिथि प्रतिपक्ष नेता अभय सिंह चौटाला रहे। इस अवसर पर चौटाला ने कहा कि रोजा इफतार पार्टी की शुरूआत पूर्व मुख्यमन्त्री दरा 1987 में शुरू की गई। तब से लेकर अबतक हरवर्ष हरियाणा प्रदेश के अलग-2 जिलों में इसको मनाया जाता है। रमजान के महीने में रोजा-ए-इफतार के दरा मुस्लमान भाईयों का रोजा खुलवाया जाता है। इस बार युमनानगर, पानीपत, सोनीपत व मेवात के नँहु में इफतार पार्टी का आयोंजन किया गया है। क्योकि रोजा-ए-पार्टी के दा्रा भाई-चारा को बढाव मिलता है। आपस में सभी समाज के लोगों को मिलने का मौका मिलता है। 


इस अवसर पर चौटाला ने कहा कि कपडा व्यापारियो के साथ, मुख्यमन्त्री का बर्ताव अशोभनीय था। जो कि दर्शाता है, बीजेपी सरकार न किसानों की, न व्यापारियों और न कर्मचारियों की हितेषी है। कपडा व्यापारियों के सामने मुख्यमन्त्री स्वयं स्वीकार किया है कि कपडें के व्यापार में टैक्स चौरी व भष्ट्राचार होता है। क्योंकि मुख्यमन्त्री मनोहर लाल खट्टर पूर्व में कपडा व्यापारी रहे थे। अत: उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। वर्तमान सरकार हर मोर्च पर विफल है। कानून व्यस्था चौपट है। पुलिस की सह पर काईम्र पनप रहा है। सरकार अपराधियों को सरक्षण दे रही है। प्रदेश में टैफिक व्यस्था चौपट है। 
इस अवसर पर राष्ट्रीय प्रवक्ता डा0 के सी बांगड, जिलाध्यक्ष पद्मसिंह दहिया,ड बिग्रिडयर ओ पी चौधरी, पिछडा वर्ग के प्रदेश सयोंजक तेलुराम जोगी,  सुमित राणा, रणबीर दहिया, प्रेस प्रवक्ता फुलकवांर चौहान, प्रौमिला मलिक, कुणाल गहलावत, मौलाना इमरान, हाजी लतीफ, हाजी रहीसु, डा0 यूसीफ, मतलूब मलिक, हाजी इस्लाम, गफूर, नहीम ठेकेदार, साबर अली, लिहाज, हरिप्रकाश मण्डल, निर्मल चौधरी, हल्काध्यक्ष सुरेश त्यागी, रामकिशन तुषीर, बलजीत नैन, अशोक राणा, अनिता खाण्डा, अन्जू बाला खटक, ओमप्रकाश गोयल, अजीत आतिलं, सन्दीप, जेपी रेवली प्रौ0 बसंीलाल, रविन्द्र सफियाबाद, सुधीर धनखड, आदि मौजूद थे।    


इनेलो करेगी 27 से 30 जून तक 11 जिलों में हलकास्तरीय प्रदर्शन
चंडीगढ़, 23 जून : नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने संयुक्त बयान जारी किया कि प्रदेश की भाजपा सरकार  किसानों के हितों की रक्षा नहीं करना चाहती और न ही उनकी किसानों के साथ कोई हमदर्दी है लेकिन इनेलो पार्टी एसवाईएल का हक लेकर रहेगी जिसके लिए अगले चरण में उन्होंने हलका स्तर पर पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन जारी रखने की अपील की है।
इनेलो नेताओं ने बताया कि 27 जून को हलका असंध के कार्यकर्ताओं द्वारा असंध, हलका सढौरा के बिलासपुर व हलका लोहारू में, 28 जून को ऐलनाबाद और हांसी के कार्यकर्ता व पार्टी पदाधिकारी भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करके एसवाईएल का निर्माण कार्य पूरा करवाने बारे प्रदर्शन करेंगे।
इनेलो नेताओं ने बताया कि 29 जून को इनेलो कार्यकर्ता रेवाड़ी, उचाना व पंचकूला में कालका से भी, 30 जून को खरखौदा, कलानौर व फरीदाबाद में इन हलकों के कार्यकर्ता प्रदेशवासियों को साथ लेकर प्रदेश सरकार के खिलाफ पुरजोर प्रदर्शन करेंगे।

Wednesday, June 21, 2017


जीएसटी के नाम पर गुलामी की आहट - दिग्विजय चौटाला

भिवानी, 21 जून : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे विश्व का चक्कर लगाकर आ गए लेकिन अभी तक किसी भी विदेशी कंपनी ने भारत में पैसा लगाना तो दूर अपना रूख भी नहीं किया है देश की तरफ। जीएसटी लगाकर केंद्र सरकार जहां छोटे व्यापारियों को खत्म कर रही है वहीं मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के द्वारा कपड़ा व्यापारियों को चोर तक कह देना इस बात का प्रमाण है की देश और प्रदेश के हालात और खराब होने जा रहे हैं। जीएसटी को आजादी से तुलना करना इस बात का प्रमाण है कि देश एक बार फिर से गुलामी की तरफ जा रहा है। यह आरोप इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने आज यहां जारी ब्यान में कहे। इनसो अध्यक्ष ने कहा कि जीएसटी लगाने से पहले भाजपा सरकार को व्यापारियों का सेमिनार बुलाना चाहिए था और उनसे विचार विमर्श करना चाहिए था हद तो तब हो गई जब जीएसटी जैसे फालतू कानून को देश की आजादी के साथ तुलना करने का प्रचार किया जा रहा है। एक समाचार पत्र का हवाला देते हुए चौटाला ने कहा कि जब आधी रात को 1947 के अंदर तत्कालीन संसद बुलाकर आजादी की घोषणा की गई थी तो देश की जनता खु:शी के आशु रो रही थी और देश का प्रत्येक नागरीक खु:श था लेकिन जीएसटी को भाजपा के द्वारा आधी रात को संसद बुलाकर लागू करवाना आजादी के साथ-साथ आजादी के प्रवानों की तौहिन है। जबकि देश की आजादी में भाजपा और संघ का कोई योगदान नहीं था। भाजपा सरकार फालतू का प्रचार करके अपनी रोटियां शेक रही है। दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि जिस तरह से मुख्यमंत्री ने  कपड़ा व्यापारियों को टैक्स
चोर कहा उससे व्यापारी वर्ग में भारी रोष है। अब तो स्वयं मुख्यमंत्री ने भी मान लिया है की वे पहले टैक्स चोर थे। उन्हें इस तरह की औच्छी मानसिकता से व्यापारियों से बात करना उनके पद कि गरिमा के अनुरूप नहीं है। मुख्यमंत्री को तुंरत अपने पद से त्याग पत्र दे देना चाहिए। वहीं दिग्विजय सिंह चौटाला ने राष्ट्रपति जैसे गरिमां मई पद के अंदर भी भाजपा की जात-पात की राजनीति को गलत करार दिया और कहा कि भाजपा कम से कम राष्ट्रपति के पद का तो ख्याल रखती। वह उनके चुनाव में तो जात-पात की बात न करती।
बार प्रधान कोहली के पुत्र व सीटीएम शालिनी चैतल के पिता के निधन पर शोक व्यक्त करने पहुंचे सांसद दुष्यंत


हिसार, 21 जून : इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने  बार एसोसिएशन हिसार के प्रधान ओमप्रकाश कोहली के पुत्र के अकस्मात निधन पर उनके घर गांव तलवंडी राणा जाकर शोक व्यक्त किया और कोहली के परिवार के साथ ये दुख सांझा किया। सांसद चौटाला ने हिसार की सीटीएम शालिनी चैतल के पिता व वरिष्ठ अधिवक्ता संतोष चैतल की मौत पर भी सीटीएम शालिनी चैतल से मिलकर गहरा दुख प्रकट किया। गौरतलब है कि बार प्रधान कोहली के पुत्र व बार के पूर्व प्रधान संतोष चैतल का पिछले दिनों आकस्मिक निधन हो गया था। उस वक्त सांसद दुष्यंत चौटाला टेबल टेनिस फेडरेशन के चुनावों के सिलसिले में विदेश गए हुए थे। इस मौके पर उनके साथ इनेलो जिलाध्यक्ष राजेन्द्र लितानी, विधायक रणवीर गंगवा, एडवोकेट मनदीप बिश्नोई, कुलदीप कनोरिया, अमित सैनी, अमित ग्रोवर, योगेश गौतम भी उपस्थित थे।


 इसी महीने इनेलो क़ानूनी प्रकोष्ठ के जिला संयोजकों की नियुक्ति की जाएगी - जसबीर सिंह ढिल्लो 


पानीपत, 20 जून :  इनैलो कानूनी प्रकोष्ठ के जिला संयोजकों की नियुक्ति इसी माह कर दी जायेगी। जिला संयोजक के साथ सभी जिलों में एक-एक आरटीआई एक्टीविस्ट भी बनाया जायेगा। इनैलो कानूनी प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रधान एवं एचपीएससी के पूर्व सदस्य जसबीर सिंह ढिल्लों ने आज यहां इनेलो के जिलाध्यक्ष सुरेश काला के निवास पर वकीलों की बैठक को सम्बोधित करते हुए यह जानकारी दी। श्री ढिल्लो ने बताया कि इनैलो कानूनी प्रकोष्ठ को राज्य में मजबूत बनाने के लिए सभी जिलों में बैठक की जा रही है। झज्जर, बहादुरगढ़, सोनीपत व पानीपत में आज बैठक की गई। जिसमें इनैलो से जुड़े वकीलों से जिला संयोजक व आरटीआइ एक्टीविस्ट बनाने की राय ली गई। उन्होंने बताया कि सभी जिलों का दौरा करके इनैलो हाईकमान को सूची सौंप दी जायेगी। उसके बाद हाईकमान की सहमति से जिला से जिला संयोजक बनाये जायेगें। जिला  संयोजक ों को अपनी कार्यकारिणी बनाने का अधिकार दिया जायेगा। श्री ढिल्लो ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था का दिवाला निकला हुआ है सरकार से सभी वर्ग परेशान हैं।  उन्होंने कहा कि हरियाणा में आने वाली सरकार इनैलो की होगी। बैठक में जिलाध्यक्ष सुरेश काला, ग्रामीण हल्का प्रधान कुलदीप राठी, जिला प्रेस संयोजक शेर सिंह खर्ब एडवोकेट, पूर्व एचपीएससी सदस्य सतबीर सिंह बडेसर, राजेन्द्र सिंह जागलान एडवोकेट, यशवीर खर्ब एडवोकेट व संदीप ङ्क्षसह आदि प्रमुख रूप से मौजूद थे।


साइबर चौपाल के माध्यम से युवा सांसद से लाखों युवा हुए रूबरू


हिसार, 20 जून : सोशल मीडिया के युग मे हिसार से युवा सांसद अक्सर युवाओ से फेसबुक के माध्यम से कई बार रूबरू हो चुके है। सांसद बनने के बाद देश के सबसे कम उम्र के सांसद अब से पहले 11 बार साईबर चौपाल लगा चुके है। इसी कड़ी में गत रात्रि सांसद दुष्यंत चौटाला ने अपने हिसार स्थित आवास से लाइव साइबर चौपाल के माध्यम से सोशल मीडिया से जुड़े लोगों से रूबरू हुए। अपने फेसबुक पेज पर इस दौरान सांसद चौटाला लगभग एक घंटे लगातार युवाओं से मुखातिब हुए।
देश व प्रदेश के लाखों लोगो ने सांसद को अपने अपने क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जानकारी देते हुए उनका हल करवाने की मांग की। इस मौके पर सांसद के आवास पर सैंकडों कार्यकर्ता  व आम शहरी भी उपस्थित थे। उन्होंने भी सांसद को शहर की सड़कों, सफाई व्यवस्था व पीने के पानी की समस्या को लेकर अपनी बात लिखित में रखी तथा अपने सुझाव भी दिए। सांसद की इस साइबर चौपाल को देश व प्रदेश के लाखों लोगों ने देखा और लाइक किया तथा सांसद की इस आधुनिक सोच की काफी सराहना की। फेसबुक पर लोगो ने अपनी भावनाओ का इजहार करते हुए युवा सांसद आधुनिक युग का जननायक बताया।
साइबर चौपाल के बाद वँहा उपस्थित लोगों से चर्चा करते हुये सांसद चौटाला ने बताया कि आज का युग टेक्नोलॉजी का युग है प्रत्येक व्यक्ति सोशल मीडिया से जुड़ा हुआ है इसीलिये उन्होंने गांवों में युवा चौपाल लगाने के साथ साथ सोशल मीडिया के माध्यम से भी साइबर चौपाल लगाने का फैसला लिया जिसे प्रदेश व देश के युवाओ ने काफी पसंद किया है। उन्होंने कहा कि इसी साइबर चौपाल के माध्यम से हिसार के एक युवा अधिवक्ता ने हिसार में पासपोर्ट कार्यालय खुलवाने की मांग करने के साथ पासपोर्ट मेला लगवाने का सुझाव दिया जिस पर सार्थक प्रयास किया गया तथा हिसार में पहले पासपोर्ट मेला व बाद में पासपोर्ट सेवा केंद्र भी खुलवा दिया गया। इस साइबर चौपाल के माध्यम से कम समय मे लाखो लोगो से रूबरू होने के साथ साथ उनसे बहुमूल्य सुझाव भी मिल जाते है जिन पर सार्थक प्रयास करके उन कामो को सफल बनाया जा सकता है। सांसद ने बताया कि आने वाले दिनों में इस तरह की साइबर चौपाल प्रदेश के अलग अलग गांवों में भी लगाई जाएगी। इस मौके पर इनेलो जिला अध्यक्ष राजेंद्र लितानी, विधायक अनूप धानक, प्रदेश प्रवक्ता दलबीर धनखड़, एड्वोकेट मनदीप बिश्नोई, राजेन्द्र चुटानी, अमित बूरा,  सतपाल पालु, जिला पार्षद जस्सी पेटवाड़, प्रभु दयाल जाखड़, अमित ग्रोवर, रमेश चुघ, रवि आहूजा, सुनील रावत, राजेन्द्र बिश्नोई, सतपाल पान्नू, विक्रम प्रजापति, दिलबाग जाखड़, हरदीप मलिक, संजय बिश्नोई, दिलदार पुनिया सहित बहुत से कार्यकर्ता उपस्थित थे।
सांसद ने बरसात के खड़े पानी पर दिखाई सख्ती,  बस अड्डे पर वाटर लैस यूरिनल बनाए जाएं


हिसार, 20 जून: सोमवार रात हुई बरसात के पानी को शहर की मुख्य सडक़ों पर खड़े देखकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने दिशा की बैठक में अधिकारियों की जम कर क्लास ली। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि अधिकारियों ने कागजों में बाढ़ से निपटने के बड़े-बड़े दावे किए हैं परन्तु उनकी असली तैयारी बारिश के पहले पानी से निपटने की भी नहीं थी। शहर की हर सडक़ और चौराहा इसका गवाह है। सांसद के मूड को भांप कर जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी एक बार बार तो बगलें झांकने लगे, दूसरे ही पल बोले सर, सीवरेज पूरी तरह से साफ करवा रखे हैं और विश्वास दिलवाते हैं कि आगली बारिश में शहर की सडक़ों और चौराहों पर दो घंटे से अधिक बरसात का पानी नहीं ठहरेगा। इतना ही सांसद दुष्यंत चौटाला ने बैठक में अधिकारियों के टाल-मटोल और टरकाऊ रवैया को भांप कर उन्हें विभागीय कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहने की चेतावनी भी दे ढाली।
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कई अधिकारी दिशा की बैठक में काम पूरा करने के लिए तारीख पर तारीख लेते रहते हैं और जब काम पूरा करने का समय आता है तो वे कोई न कोई बहाना करके एक दूसरे को बचाने का प्रयास करते हैं। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि  आज की बैठक में तय होने वाली समय सीमा में कार्य पूरे नहीं किए गए तो संंबंधित अधिकारियों केखिलाफ सरकार को चिठ्ठी लिखी जाएगी। महीनों से लटक पड़े टोकस पानत पुल, गांव गंगवा से गुजरने वाली सडक़ पूरा करने का मामला हो या फिर सीसीटीपी कैमरे का जिम्मा नगर निगम को सौंपने में हो रही देरी की बात हो। सरकारी निर्माण कार्यों और फाइलें सरकाने में देरी के हर मामले को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने कड़ाई से संज्ञान लिया। उन्होंने हर विभाग की प्रगति रिपोर्ट जानी और उनकी समीक्षा की। 
दुष्यंत चौटाला ने सांसद निधि कोष से विद्युत निगम में भेज गए सभी एस्टीमेट निगम की नई लागत नीति के अनुसार एक सप्ताह में दोबारा तैयार करने के भी निर्देश दिए। विद्युग निगम के अधिकारियों ने बैठक में कहा कि निगम ने 22 सौ बिजली के खंबे खरीद लिए हैं ओर जल्द ही पेंडिंग ढाणियों में बिजली लगाने का काम पूरा हो जाएगा। बैठक में नलवा के विधायक रणबीर गंगवा द्वारा गंगवा गांव में अधर में पड़ी सडक़ का निर्माण कार्य पूरा करने को लेकर भी अधिकारियों से जम कर जवाबतलबी की। विधायक रणबीर ने कहा कि गांव गंगवा से गुजरने वाली सडक़  को खोदे चार वर्ष बीतने को हैं और इसके निर्माण की प्रक्रिया शुरू हुए भी दो वर्ष बीत चुके हैं परन्तु विभाग इसे पूरी नहीं करवाने में नाकाम रहा है। उन्होंने कहा कि उबड़-खाबड़ सडक़ पर वाहन पलटने के कारण गांव के एक युवा की मृत्यु भी हो चुकी है। इस बारे में वे लोकनिर्माण के आला अधिकारियों के सात कई बार बैठक कर चुके हैं परन्तु मामला ज्यों का त्यों है।
हिसार में स्वाइन फ्जू के मामले सामने आए-दिशा की बैठक में स्वास्थ्य विभाग की ओर रखी जा रही सिविल सर्जन की रिपोर्ट में सामने आया कि हिसार में अब तक पांच मामले सामने आए हैं जिनमें दो मामले स्थानीय तथा तीन मामले बाहर के है। दुष्यंत चौटाला ने हैरानी व्यक्त की कि हांसी के सरकारी अस्तपाल में प्राथमिक उपचार की भी व्यवस्था नहीं है। उन्होंने पिछले दिनों हांसी के पास भैंस व्यापारी हमले में युवक की मौत का हवाला दिया। उन्होंने सीएमओ को हांसी के सामान्य अस्पताल में चिकित्सक की डयूटी 24 घंटे लगाने के लिए, अगली बैठक में डयूटी चार्ज पेश करने और समय से फोगिंग का चार्ट तैयार कर शहरों और गांवों में फोगिंग करने को कहा।

इनेलो सांसद ने स्व. लाल सिंह शेखावत की याद में प्याऊ का करवाया निर्माण


भिवानी, 20 जून : इनेलो सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने देवीलाल सदन के सामने जीणमाता प्याऊ का उदघाटन स्व. लालसिंह शेखावत की याद में उनके परिजनों की उपस्थिति में अपने निजि कोष से करवाते हुए कहा कि आज जल के बिना कुछ भी संभव नहीं है। इसलिए हमें जल को बर्बाद नहीं करना चाहिए। इसके बाद सदन में कार्यकत्र्ताओं को संबोधित करते हुए सांसद चौटाला ने कहा कि आज जनता भाजपा की जनविरोधी नीतियों के कारण दुखी है। 23 जून से दूधवा गांव से वे स्वयं चौपाल मिलन समारोह का आगाज कर ग्रामीणों के रूबरू होंगे। बता दें की दुष्यंत चौटाला 23 जून से ग्रामीण चौपाल के तहत प्रदेश के गांव में शिरकत करेंगे। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि आज भाजपा सरकार केवल फिता कटाई पर लगी हुई है। धरातल पर करने को कुछ नहीं। उन्होंने उपस्थित कार्यकत्र्ताओं को कड़े दिशा निर्देश देते हुए कहा कि पार्टी संगठन के लिए मेहनत करने वाले लोगों को पद दिए जाएंगे। भिवानी को डा. अजय सिंह चौटाला की कर्मभूमि बताते हुए दुष्यंत ने कहा कि प्रदेश में इनेलो सरकार बनने पर दौबारा से युवाओं को लाखों रोजगार एक कलम से दिए जाएंगे। इस अवसर पर उनके साथ विधायक औमप्रकाश गौरा, पूर्व विधायक धर्मपाल औबरा, सुनील लांबा, नरेश द्वारका,  बलदेव घणघस, कुलवंत कोटिया, जगदीश धनाना, नारायण सिंह शेखावत, महेंद्र शास्त्री, साधू शेखावत, संत शेखावत, कुलदीप शेखावत, भूपेंद्र भुप्पी कोच, महेंद्र सिंह शेखावत, कमला रानी, रविंद्र पटौदी, अशोक ढाणी माहू, अनूप बागनवाला, होशियार सिंह थानेदार, गजेंद्र मंढोली, विजय प्रकाश चिफ, रामफल जाखड़, ऋषिपाल फौगाट, भगवती जाटू लौहारी, शकुंतला स्याणी, शुलोचना पोटलिया, नरेंद्र गागड़वास, मनोज यादव, प्रवक्ता राजू मेहरा, राजकुमार ढुल, देवेंद्र नकीपुर, करतार पंघाल, राजबीर तालू, मनमोहन भूरटाना, रामेश्वर चांग, बलवंत औरंग नगर, संजय तिगड़ाना, मनदीप सुई, उमेद पूनिया, बलबीर ग्रेवाल, दिलबाग तालू, कल्याण सिहाग, जयसिहं पातूवान, वजीरमान, मेनपाल नंबरदार, दिनेश नंबरदार, प्रेम धनाना, सेठी धनाना, ईश्वर फतेगढ़, प्रो. जगमेंद्र श्योराण, रामकुमार मित्ताथल, अत्तर फौजी, अशोक सिहाग, अजीत तंवर, दिलबाग चेयरमैन, रामसिंह वैद, बलराज चौहान, पंकज महता, राहुल मुंढाल, दीपक सिवाड़ा, रमेश तालू, प्रदीप तालू, रामअवतार बाढड़ा, रवि आर्य तोशाम, कपुर निंगाणा, सुखबीर संढवा, पृथ्वी लांबा, बलवंत औरंग नगर, राजमल, सतपाल फौजी, वजीर धनाना, प्रदीप खरकिया, सुनील बिढौला, सचिन जताई, शैंडी चौधरी, नवीन चौधरी, मनदीप तालू समेत अनेक कार्यकत्र्ता मौजूद थे।
आधिक से अधिक युवा वकीलों को जोडा जाएगा इनेलों के कानूनी प्रकोष्ठ में - जसवीर सिंह ढिल्लो


सोनीपत, 20 जून : इण्डियन नैशनल लोकदल के कानूनी प्रकोष्ठ के प्रदेश सयोंजक जसवीर सिंह ढिल्लों ने मंगलवार को जिला पार्टी कार्यालय सोनीपत में कानूनी प्रकोष्ठ को सम्बोधित करते कहा कि इनेलों के कानूनी प्रकोष्ठ में युवा वकीलों को ज्यादा से ज्यादा संख्यां में जोडा जाएगा। ताकि पार्टी के संगठन को और अधिक मजूबती मिले। क्योकि आज प्रदेश में, जो हालात है, उसको पार्टी का लीगल सैल भली-भाङ्क्षत जानता है और समय आने पर ये सैल इनेलों पार्टी के ग्राफ को बढाने का का काम करेगा। जल्द ही सोनीपत जिला पार्टी के कानूनी प्रकोष्ठ के नए पदाधिकारी बनाए जाएगें। कानूनी प्रकोष्ठ का जिला सयोंजक सभी की सहमति से जल्द ही बनाया जाएगा। 
इस मौके पर जिलाध्यक्ष पद्म सिंह दहिया, पिछडा प्रकोष्ठ के प्रदेश सयोंजक तेलुराम जोगी, बार के प्रधान कृष्ण मलिक, रणबीर दहिया, पूर्व प्रधान राजेश छिक्कारा, सुरेन्द्र खासा, पवन रावल, बाल किशन शर्मा, रमन छिल्लर, ओमप्रकाश गंगाना, बलजीत खत्री, जिला प्रवक्ता फूलकंवार चौहान, सचिव संजय मलिक, इत्यादि मौजूद थे। 
विधायक दौलतपुरिया ने सीएम को पत्र लिख उठाई मांग, फतेहाबाद में बने ट्रामा सेंटर



फतेहाबाद : जिला मुख्यालय पर ट्रामा सेंटर बनाए जाने की मांग ने एक बार फिर जोर पकड़ा है। इस बार इस मांग को मजबूत आधार मिलना इस लिए भी कहा जा सकता है, क्योंकि स्थानीय इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने इस मुद्दे पर सीएम मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिख इसे पूरा करने की मांग की है। स्थानीय विधायक दौलतपुरिया ने सीएम के नाम लिखे अपने पत्र में न केवल इस मांग को मजबूती से उठाया है, बल्कि ट्रामा सेंटर बनाए जाने के लिए वर्तमान बस स्टैंड के रूप में जगह का सुझाव भी सरकार के समक्ष रखा है।
इस बाबत इनेलो विधायक दौलतपुरिया ने कहा कि विधायक बनने से पहले और बनने के बाद से यह मुद्दा लगातार उनके जहन में रहा है। उन्होंने कहा कि  जिला मुख्यालय पर ट्रामा सेंटर खुलवाना कोई राजनीतिक विषय नहीं है और यह इन्सानी जिन्दगी से जुड़ा सबसे अहम मुद्दा है। अक्सर देखने में आता है कि राष्ट्रीय राजमार्ग या जिले के किसी भी हिस्से में कोई छोटा-बड़ा सड़क हादसा होता है तो उसमें गंभीर घायल को स्थानीय अस्पताल में उस स्तर का उपचार नहीं मिल पाता जिसकी उसे जरूरत होती है। ऐसे में उसे फतेहाबाद से हिसार या रोहतक रेफर कर दिया जाता है, जहां ट्रामा सेंटर जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं। दौलतपुरिया ने कहा कि हिसार-रोहतक तक किसी गंभीर रोगी को ले जाना परिजनों के लिए बेहद संकटकारी समय रहता है और अनेक मामलों में घायल इन जगहों पर पहुंचने से पहले ही जिन्दगी की जंग हार जाता है। एमएलए बलवान दौलतपुरिया ने बताया कि क्षेत्र की जनता की जिन्दगी से जुड़े इस गंभीर विषय का स्थाई हल हो सके, इसके लिए ही उन्होंने प्रदेश के सीएम मनोहरलाल को पत्र लिख इसे जल्द पूरा करने की मांग उठाई है। उन्होंने बताया कि धांगड़ के नजदीक जिला मुख्यालय के नये बस स्टैंड का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। ऐसे में वर्तमान बस स्टैंड की जगह निकट भविष्य में खाली होना भी निश्चित है। ऐसे में यदि वर्तमान बस स्टैंड की जगह पर ट्रामा सेंटर बनाया जाता है तो नेशनल हाइवे पर होने की वजह से इसका लाभ जिला फतेहाबाद के अलावा अन्य क्षेत्रों के लोगों को भी मिलेगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि पत्र के साथ-साथ वे इस मांग को विधानसभा सत्र में भी उठाएंगे ताकि इस मांग को पूरा करवाने में किसी तरह की ढिलाई न रहे।
पानी निकासी प्रबंधों का जायजा विधायक राजदीप ने


चरखी दादरी : दादरी हलके से इनेलो विधायक राजदीप फौगाट ने सोमवार को शहर में बरसाती जलभराव की स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान शहर की मुख्य डूंगरवाली खाडी में पड़े मलबे से बढ़ रहे अतिक्रमण को देख विधायक हैरान रह गए। उन्होंने कहा कि शहर में जलभराव के लिए नगर परिषद, जन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाह कार्यशैली सामने आ रही है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। राजदीप फौगाट ने 
जन स्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता, एसडीओ को मौके पर पहुंचने के लिए कहा, लेकिन वे नहीं पहुंचे। विधायक ने शहर में बरसाती पानी निकासी के प्रबंधों का जायजा लेने पहुंचे विभाग के चीफ इंजीनियर से भी 
फोन पर खाड़ी के हालातों से अवगत कराया, लेकिन उन्होंने भी मौके पर आने से परहेज किया। अधिकारियों के उदासीन रवैये को देख विधायक ने स्थानीय एसडीएम व उपायुक्त को स्थिति से अवगत कराते हुए समय रहते पानी निकासी प्रबंध करने के लिए कहा। मौजूद दुकानदारों, शहर के लोगों ने विधायक को बताया कि डूंगरवाली खाडी 


में करीब 17 मार्केटों का बरसाती पानी पहुंचता है। खाड़ी में अतिक्रमण बढ़ने से शहर में जलभराव की विकट स्थिति से इंकार नहीं किया जा सकता। विधायक ने बरसाती नालों का भी जायजा लिया और उपायुक्त को अवगत कराया कि महज खानापूर्ति की गई है, कुछेक क्षेत्रों में गाद निकाल कर उच्चाधिकारियों को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है जो जनहित में नहीं है। लोगों को जलभराव से निजात दिलाने के लिए धरातल पर गंभीरता से काम किया जाए। विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों की लीपापोती किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 
विधायक ने उपायुक्त से बात कर सुझाव दिया है कि मानसून के दौरान जलभराव व अन्य विकट स्थिति से निपटने के लिए जरूरी है कि सभी संबंधित विभागों की एक संयुक्त टीम बनाई जाए। जिससे सरपंचों, पार्षदों को जगह-जगह चक्कर न लगाने पड़े और किसी भी समस्या का समय पर समाधान हो सके। हर साल बरसाती पानी की चपेट में आने वाले गांवों में समय रहते निकासी के पुख्ता प्रबंध किए जाएं। उपायुक्त ने जल्द ही अधिकारियों की बैठक बुलाने का आश्वासन दिया। 
एसवाईएल को लेकर इनेलो ने बरवाला में किया धरना-प्रदर्शन


बरवाला, 19 जून : इनेलो पार्टी के बरवाला व उकलाना हलके के कार्यकर्ताओं ने उपमंडल स्तर पर सोमवार को बरवाला में धरना प्रदर्शन किया और मांगों का एक ज्ञापन एसडीएम को सौंपा।
सोमवार को इनेलो कार्यकर्ता पार्टी जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी के नेतृत्व में पुराना बस स्टैंड पर एकत्रित हुए। लितानी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा सरकार एसवाइएल मुद्दे को लेकर गंभीर नहीं है और प्रदेश की जनता को गुमराह कर रही है। लेकिन इनेलो पार्टी हर कीमत पर एसवाइएल का पानी लाकर रहेगी और जब तक प्रदेश के किसानों को एसवाइएल का पानी नहीं मिल जाता तब तक सड़कों पर आकर लड़ाई लड़ी जाएगी। एसवाइएल पर प्रदेश की जनता का हक है और इसे लेकर इनेलो पूरी गंभीरता से लड़ाई लड़ रही है। प्रदेश की इनेलो ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो धरातल पर लड़ाई लड़ते हुए नहर की खुदाई के लिए गई थी और गिरफ्तारियां भी दी गई। अब सरकार को दस जुलाई तक का एल्टीमेटम दिया गया है। अगर सरकार ने उचित कदम नहीं उठाया तो इनेलो पार्टी विरोध स्वरूप पंजाब से हरियाणा ओन वाले वाहनों का रास्ता बंद करेगी। एसवाइएल के नाम पर किसानों को बहकाकर भाजपा राजनीति कर रही है। जिसका कड़ा विरोध किया जाएगा। इनेलो पार्टी दस जुलाई तक पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन करेगी और फिर दस जुलाई से पंजाब के वाहन रोको आंदोलन शुरू किया जाएगा। इसके बाद इनेलो कार्यकर्ता बरवाला के पुराने बस स्टेंड से विरोध प्रदर्शन करते हुए एसडीएम कार्यालय पहुंचे और धरना दिया तथा नारेबाजी करके सरकार को जमकर कोसा। मांगों को इनेलो नेताओं ने एसडीएम को एक ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक पूर्ण सिंह डाबड़ा, विधायक अनूप धानक, विधायक वेद नारंग, शीला भ्याण, सतबीर वर्मा, सत्यवान बिचपड़ी, गुलाब खेदड़, रवि लांबा, प्रताप बुरा, होशियार सिंह बिठमड़ा, कै. छज्जु राम, कलीराम, मुनीष गोयल, सजन गर्ग, डा. अनंत राम बरवाला, राजकुमार, सुनील बुरा, धोलु राम आदि मौजूद रहे।

दुष्यंत ने चौ.देवीलाल की तरह अधिकारियों की मौजूदगी में सुनी ग्रामीणों की समस्याएं


भिवानी, 19 जून : भले ही सरकार प्रदेश के भिवानी सहित विभिन्न जिलों को ओडीएफ घोषित करने के दावे कर रही हो मगर सरकार के दावे फेल हैं। गांव घुसकानी में नौ माह से स्वच्छ भारत मिशन के तहत एक पैसा नहीं आया है जबकि सरकार करोड़ों रूपये खर्च करने के दावे कर रही है। यह बात इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने आदर्श ग्राम योजना के तहत खुद के  द्वारा गोद लिए गए गांव घुसकानी में अधिकारियों के साथ पहुंचने पर कहे। गांव की चौपाल में बैठकर ग्रामीणों के सामने ही अधिकारियों से विचार विमर्श कर गांव के विकास की पटकथा उन्होंने तैयार की व कहा कि तीन माह बाद जब दोबारा मीटिंग होगी तो सब कामों की समीक्षा की जाएगी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने मौके पर ही घुसकानी गांव में पेंशन विकलांग कैंप, 30 दिनों में सभी घरों गैस सिलेंडर, गांव में आधार कार्ड व राशन कार्ड, अगले रविवार को रोजगार विभाग के द्वारा कैंप लगाना, एक सितम्बर से पहले तिगड़ाना से घुसकानी तथा घुसकानी से धनाना रोड को बनाने, घुसकानी गांव के जोहड़ के चारों तक पौधे लगाने, एक माह के अन्दर कृषि से सम्बंधित समस्याओं को दूर करना, सप्ताह में एक दिन वैटनरी सर्जन, 90 दिनों में सभी घरों में शौचालय, पीने के पानी की पाईप लाईन को बदलने की बात, गांव में बसों की समस्या हेतू 7 दिन तक अधिकारी मौजूद रहने की बात, इसके साथ-साथ यदि घुसकानी गांव के युवा प्रस्ताव फाईल पास करवाएंगे तो युवाओं को गांव के अन्दर खेल स्टेडियम व जिम के सामान आदि समस्याओं के निपटारे की बात कही।


दुष्यंत चौटाला ने घुसकानी गांव के विकास की पटकथा लिखते हुए चौपाल पर ही  50 से अधिक अधिकारियों को बुलाया और अधिकारियों से ग्रामीण स्तर के जीवन को जमीनी स्तर पर देखने की बात कही। जब दुष्यंत चौटाला ने ग्राम महिला सरपंच को उसकी पॉवर बताई दुष्यंत चौटाला जब अधिकारियों से बातचीत कर रहे थे तो उसी दौरान उन्होंने गांव की महिला सरपंच पिंकी को अन्य अधिकारियों के साथ स्टेज से नीचे कुर्सी पर बैठे हुए देखा तो उन्होंने महिलाओं के प्रति सम्मान की बात कही और पूरे मान सम्मान से स्टेज पर स्थान ग्रहण करवाया। दुष्यंत चौटाला के द्वारा इस तरह से ग्रामीण चौपाल लगाना वहां बैठे बुजुर्गों को चौधरी देवीलाल व चौधरी औमप्रकाश चौटाला के शासनकाल की याद दिला गया। वहीं महिला सरपंच के प्रति दुष्यंत चौटाला की मान सम्मान की सोच को उपस्थित ग्रामीणों व आला अधिकारियों ने सराहना की। इसके बाद दुष्यंत चौटाला ने गांव तालू में नवनिर्मित चौपाल का उद्घाटन किया और हलके के लोगों को सांसद राहत कोष से और अधिक सहायता देने की बात कही।  इस मौके पर उनके साथ जिला प्रधान सुनील लांबा, प्रदेश सचिव बलदेव घणघस, हलका अध्यक्ष जगदीश धनाना, पिंकी देवी  सरपंच,पूर्व सरपंच सतबीर, राजू राठी सरपंच प्रतिनिधि।कपूर सिंह, मनमोहन भुरटाना, मनदीप सुई, रामफल जाखड़, दिलबाग चेयरमैन, ईश्वर पूनिया, रामकला सिहाग, राजबीर तालू, मनदीप तालू, बलवंत औरंगनगर, प्रेम धनाना, अजीत तिगड़ाना, पार्षद संजय तिगड़ाना, पारस भैणी, दीपक सिवाड़ा, बलराज चौहान, रामसिंह वैद, राजकुमार ढुल,आजाद गिल, रामेश्वर चांग, जिला प्रवक्ता राजू मेहरा, सतबीर पूर्व पंच, सुरेंद्र पंच, सतपाल पंच, टीकाराम, होशियार सिंह थानेदार, राजमल, भरथरी पंच, ओमप्रकाश, हनुमान शर्मा, शिवकुमार शर्मा, दिलबाग सिंह, मेजर धर्मबीर सिंह, राजबीर सिंह, हवासिंह दलाल, सैंडी चौधरी, धर्मबीर पूर्व सरपंच, मेनपाल नंबरदार, ज्ञानीराम दलाल, मांगेराम पंच, ईश्वर बीडीसी, संजय कारखल, राजकुमार रतेरा, कृष्ण फौगाट, मा.रोशन, आजाद गिल, राजेंद्र कशवा, सतबीर पानू, सुरेंद्र ओला, संजय महता, विक्रम बड़ेसरा, मनबीर सिवाड़ा, वजीर घणघस, मा.हरिराम, सेठी धनाना, सचिन जताई, शकुंतला श्याणी, भगवती जाटू लोहारी, देवेंद्र केलंगा, अजय कौशिक, मानू गुज्जर, सुरेंद्र मिताथल सहित अनेक गणमान्य लोग मौजूद थे।
अभय चौटाला ने सरकारी खर्च पर पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी मनाने पर जताई आपत्ति, सीएम को लिखा पत्र   


चंडीगढ़, 19 जून: नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिख कर कहा कि एक किसान होने और चौधरी देवी लाल जी, जिन्होंने देश की स्वतंत्रता में भूमिका निभाने के साथ राज्य में मुजारों के अधिकार की लड़ाई का नेतृत्व भी किया था, के पौत्र होने के नाते इस बात पर खेद व्यक्त किया कि राज्य सरकार द्वारा चंपारण सत्याग्रह की शताब्दी को याद भी नहीं किया गया। उन्होंने राज्य की स्वर्ण जयंती समारोह की आड़ में सरकारी खर्चे से पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी मनाने के निर्णय पर भी आपत्ती जताई है। उन्होंने याद दिलाया कि पंडित दीन दयाल उपाध्याय मूल रूप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जन संघ के एक चिंतक थे। कालांतर में इसी भारतीय जन संघ ने वर्तमान की भारतीय जनता पार्टी का रूप लिया जो आज राज्य और केन्द्र में सत्तासीन है।
श्री अभय सिंह चौटाला ने कहा कि उनकी जानकारी में हरियाणा के उत्थान अथवा उसके निर्माण या विकास में पंडित दीन दयाल उपाध्याय का किसी भी प्रकार का योगदान नहीं है। इसीलिए उन्हें आश्चर्य है कि सरकारी कोष से एक ऐसे व्यक्ति का जन्म शताब्दी समारोह मनाया जा रहा है जिसका हरियाणा के जीवन में किसी प्रकार का योगदान नहीं है। उन्होंने तो इस बात की भी आशंका जताई कि उनका आधुनिक भारत के निर्माण में कोई योगदान है और कहा कि शायद उनकी कथित उपलब्धियां भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने के बाद किवदंतियां बन कर उभर रही हैं और यह जन्म शताब्दी समारोह उसी कड़ी का हिस्सा हो।
नेता विपक्ष ने यह स्वीकार किया कि पंडित दीन दयाल उपाध्याय राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सदस्यों के लिए प्रेरणा का स्रोत होंगे। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि वह भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं और मुख्यमंत्री सहित सभी नेताओं के लिए वह प्रेरणा भी होंगे। परंतु उन्होंने आशा व्यक्त की कि मुख्यमंत्री यह स्वीकार करेंगे कि पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के लिए एक आंतरिक समारोह  उत्सव की तरह मनाया जा सकता है। ऐसे में जब उसे मनाने के लिए हरियाणा राज्य के कोष से करोडों रूपये खर्च किये जाएं तो व्यक्तिगत स्तर भी और नेता विपक्ष होने के नाते उन्हें आपत्ती है और वह सत्ता के ऐसे दुरुपयोग का विरोध करते हुए उसे भ्रष्टाचार की संज्ञा देते हैं।
अंत में श्री अभय सिंह चौटाला ने स्वीकार किया कि वह इस बात की संभावना से इन्कार नहीं करते कि उन्होंने यह टिप्पणी समय से पहले ही कर दी हो और शायद हरियाणा सरकार हरियाणा के उन सभी सपूतों का जीवन उत्सव मनाने की योजना बना रही हो जिन्होंने हरियाणा के निर्माण में योगदान भी किया और बलिदान भी दिया। यदि ऐसा है तो उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि उन लोगो की सूचि उन्हें प्रेषित करने के साथ उसे सार्वजनिक भी करें, परंतु यदि ऐसा नहीं है तो उन्होंने कहा कि इस प्रकार से सरकारी कोष से किये जाने वाले खर्चे का विरोध करते हुए यह आग्रह करते हैं कि इसे तुरंत प्रभाव से रोका जाए।
किसानों की मदद करने के बजाय मौत की नींद सुला रही भाजपा - दिग्विजय


सिरसा, 19 जून : लोकसभा चुनाव में देश के किसानों को स्वामिनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने, कर्जे माफ करने, फसलों की लागत के अनुसार लाभकारी समर्थन मूल्य देने के बड़े-बड़े वादे करने वाली भाजपा सत्ता हासिल करने के बाद अपने इन वादों को भूल गई। अब जब किसान उन्हें उनके वादे याद करवाने के लिए देश भर में सड़कों पर उतर रहे हैं तो मध्य प्रदेश सरकार गोलियां मारकर उन्हें मौत के घाट उतार रही है। ऐसी सरकार को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं इसलिए मध्य प्रदेश सरकार को बर्खास्त किया जाए। यह बात इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने आज लघु सचिवालय में किसानों की मांगों के समर्थन तथा एमपी में किसानों पर गोलियां चलाकर उन्हें मौत के घाट उतारने की कार्रवाई के खिलाफ एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान का पुतला फूंककर रोष प्रदर्शन करते हुए कही। इस दौरान उन्होंने एसडीएम विजेंद्र सिंह हुड्डा को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा, जिसमें एमपी सरकार को बर्खास्त करने, स्वामिनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने, किसानों द्वारा लिए गए कृषि संबंधि सभी प्रकार के ऋणों को माफ करने, फसलों व सब्जियों के उत्पादन लागत के हिसाब से 50 प्रतिशत मुनाफे के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करने, निर्धारित कीमत से कम पर की जाने वाली खरीद को गैर कानूनी बनाने, आपात व प्राकृतिक आपदा के कारण नष्ट फसल के नुकसान की भरपाई के लिए स्थाई कोष स्थापित कर किसानों की मदद करने की मांग की। इससे पहले दिग्विजय चौटाला गत सात दिनों से धरना दे रहे किसानों के बीच पहुंचे और उन्हें अपना समर्थन दिया। सभा का मंच संचालन जिला सह प्रैस प्रवक्ता महावीर शर्मा ने किया।



प्रदर्शन को संबोधित करते हुए दिग्विजय चौटाला ने कहा कि पहले तो पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने चुनावी वादों को पूरा करने में असमर्थता जता दी तो अब किसानों को बरगलाने के लिए एक नया वादा लेकर आए हैं कि वे 2022 तक किसानों की आमदनी को दुगुना कर देंगे, जो कि मात्र ढकोसला मात्र है। जो पीएम पहले के वादों को ही पूरा नहीं कर सकता वह इस नए वादे को क्या पूरा करेगा। चौटाला ने कहा कि किसान केवल कृषि से होने वाली आय पर अपने परिवार का पेट पालता है। बीज, खाद अन्य कृषि संबंधित उपकरण महंगे होने के कारण इन्हें खरीदने के लिए किसान को सहकारी बैंकों व आढ़तियों से ब्याज पर कर्ज लेना पड़ता है, लेकिन जब खेती निरंतर घाटे का सौदा बन जाए तो लिए गए कर्ज के भुगतान के तनाव से वह मानसिक रूप से परेशान हो जाता है और ऐसे में जब सरकार ही मदद करने से हाथ पीछे खींच ले तो वह आत्महत्या करने के लिए विवश हो जाता है। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में औसतन 17 हजार किसानों ने आत्महत्या की है। इसी समस्या से निपटने के लिए ही स्वामीनाथन की अध्यक्षता में कृषि आयोग स्थापित किया गया था, जिसने किसान हित में अनेक सिफारिशें की थी और इन्हें ही लागू करने का भाजपा ने चुनाव दौरान वादा किया था, जिसे अब वह पूरा नहीं कर रही। इसी के रोषस्वरूप देश भर में किसान सड़क पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं तो उन्हें मौत के घाट उतारा जा रहा है, जो किसी भी प्रकार से न्यायसंगत नहीं है। उन्होंने कहा कि इनेलो ने सदैव किसान हित की बात की है और किसानों का साथ दिया है। इस मुद्दे पर भी इनेलो किसानों के साथ है और उनके साथ मिलकर लगातार संघर्ष कर रही है, जिसकी कड़ी में ही आज प्रदर्शन किया गया है। इस मौके पर सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, सिरसा विधायक मक्खनलाल सिंगला, कालांवाली विधायक बलकौर सिंह, रानियां विधायक रामचंद्र कम्बोज, इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन, पूर्व मंत्री भागीराम, मोहनलाल झोरड़, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जसवीर जस्सा, सर्वजीत मसीता, कुलदीप जम्मू, मनोहर मेहता, सुरेंद्र सिंह वैदवाला, डा. सीताराम, कृष्ण गुम्बर, प्रदीप मेहता, रमेश मेहता, कश्मीर सिंह करीवाला, धर्मवीर नैन, सुभाष नैन, रामकुमार नैन, वेद वधवा, योगेश शर्मा, गुरविंद्र सरपंच, महंगा सिंह, धर्मपाल कायत, भगवान कोटली, श्याम बामनिया, मोहित शर्मा, लक्की चौधरी, गिरधारी बिस्सू, हरपाल कासनिया, जरनैल चांदी, विनोद बेनीवाल, राजा कसवां, बुध सिंह सुखचैन, डा. हरिसिंह भारी, आत्माराम पूर्व सरपंच, महंगा सिंह, रणदीप, नछत्तर सिंह, जिप चेयरमैन प्रतिनिधि महेंद्र बाना, अजब भोला, भरपूर गदराना, भगवान कोटली, मीनूदीन पहलवान, मुकेश रोहिला, मदनलाल शर्मा आदि उपस्थित थे।

मंदसौर में पीड़ित किसान परिवारों से मिले अभय सिंह चौटाला 



नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला इनेलो के 18 विधायकों और दो सांसदों के साथ मंदसौर में शोक-संतप्त परिवार से मिले जिनके परिवार के सदस्य मध्यप्रदेश की पुलिस के हाथों गोली से मारे गए थे। 
किसान आंदोलन में मारे गए 17 वर्षीय अभिषेक के विकलांग दादा ने नेता प्रतिपक्ष को बताया कि हमारे यहां सोयाबीन की खेती होती है जिसका भाव 5200 रुपए मिलता था। सरकार की अनदेखी के कारण सोयाबीन का रेट मात्र 2200 रुपए प्रति क्विंटल रह गया है इससे तो किसान की लागत भी पूरी नहीं होती जिस कारण किसान कर्ज के बोझ तले इतना दब गया है कि आत्महत्या करने पर मजबूर है। अभिषेक के दादा ने बताया कि हमारे हालात इतने नाजुक हैं कि खेती घाटे का सौदा बनकर रह गई है।


इस दौरान अभय सिंह चौटाला अन्य पीडि़त परिवारों से भी मिले जिनकी मौत आंदोलन के दौरान पुलिस के हाथों हुई थी जिसमें 23 वर्षीय चैन राम पाटीदार गांव नयाखेड़ा जिला नीमच, 38 वर्षीय कन्हैया लाल गांव चिल्लौड़ पिपलिया, 23 वर्षीय पूनम चंद उर्फ बबलू गांव तकरावत के परिवार शामिल हैं। आंदोलन में मारे गए किसान कन्हैया लाल के पुत्र ने नेता प्रतिपक्ष को किसानों की तरफ से एक ज्ञापन भी सौंपा। 


अभय सिंह चौटाला ने सभी पीडि़त परिवारों को भरोसा दिलाया कि इस दुख की घड़ी में पूरी इनेलो पार्टी उनके साथ खड़ी है और यह भी भरोसा दिलाया कि आप सभी किसानों की मांगों को इनेलो देश की संसद में जोरशोर से उठाएगी और मांग करेगी कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसल की बिक्री को सरकार सुनिश्चित करे। नेता प्रतिपक्ष ने पीडि़त परिवारों को मुआवजा, सरकारी नौकरी व मारे गए किसानों को शहीद का दर्जा देने की भी मांग की व उन्हें सांत्वना देते हुए गहरी संवेदना व्यक्त की।

Friday, June 16, 2017


किसानों का कर्ज माफ करके लागू की जाएं स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें - अशोक अरोड़ा


कुरुक्षेत्र 16 जून : मंदसौर की घटना के विरोध में इनेलो कार्यकर्ताओं ने पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में प्रदर्शन किया और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पुतला फूंका। जिला भर से आए सैकड़ों इनेलो कार्यकर्ता जाट धर्मशाला में इक_े हुए और वहां से भाजपा सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए महाराणा प्रताप चौक पर पहुंचे, जहां शिवराज सिंह चौहान के पुतले को जलाया गया। इस अवसर पर पार्टी के प्रदेश महासचिव बूटा सिंह लुखी, जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, रामकरण काला, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य माया राम चंद्रभान पुरा, जिला उप प्रधान सतबीर शर्मा, सुभाष मिर्जापुर, बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान मनोज कौशिक, हलका प्रधान रणबीर किरमिच, सुरेश सैनी, रामस्वरूप चोपड़ा, रणधीर मथाना, पार्षद संदीप टेका, कुलदीप जखवला, सुरेश नैन, युवा इनेलो के जिला प्रचार सचिव मोहित सैनी, सुभाष बटेड़ी, जोगध्यान, चंद्रभान बाल्मीकि, जसविंद्र खैरा, रजत दूहन, वीरेंद्र, राजू त्यौड़ा, राजू, सुलतान सिंह ब्राह्मण माजरा, राजेश पायलट, मांगे राम सरपंच, तरसेम हरियापुर, सतबीर ढांडा एडवोकेट, बलजिंद्र सिंह बब्बू, राजकुमार काला, डा. संतोष दहिया, कलावती, संगीता पांचाल सहित भारी संख्या में इनेलो कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन में भाग लिया।


प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि मंदसौर में पुलिस की गोली से मारे गए किसानों की घटना से भाजपा का किसान विरोधी चेहरा सामने आ गया है। उन्होंंने कहा कि भाजपा की किसान विरोधी नीतियों के कारण आज किसान कर्जे के बोझ नीचे दब कर आत्महत्या करने को मजबूर हैं। भाजपा सरकार बड़े बड़े पूंजीपतियों का अरबों रुपये का कर्जा माफ कर रही है, लेकिन किसानों का कोई कर्जा माफ नहीं किया जा रहा। जब किसान अपने अधिकार के लिए शांतिपूर्वक संघर्ष करते हैं तो उनकी छाती में गोली मारी जाती है। उन्होंने कहा कि देश में पूंजीपतियों की सरकार है। भाजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने का वायदा किया था, लेकिन सत्ता में आते ही भाजपा ने अपने चुनावी वायदे को भूला दिया। 
प्रदेश भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए अरोड़ा ने कहा कि हरियाणा सरकार हर मोर्चे पर विफल है। उन्होंने कहा कि पिछले दो सालों में प्रदेश की जनता पर 62 हजार करोड़ का कर्जा बढ़ा है। कर्जे के पैसे से सरकार के मंत्री विदेशों में सैर कर रहे हैं। जनता के पैसे से ऐश की जा रही है। कहीं स्वर्ण जयंती के नाम पर तो कभी हेमामालिनी को 36 लाख रुपये डांस के देकर जनता का पैसा बर्बाद किया जा रहा है, लेकिन किसानों का कोई कर्जा माफ नहीं किया जा रहा। उन्होंने कहा कि किसानों का कर्जा माफ किया जाए और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाए। 
अशोक अरोड़ा ने बताया कि हरियाणा के नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला के नेतृत्व में इनेलो के विधायकों, सांसदों व अन्य वरिष्ठ नेताओं का प्रतिनिधिमंडल मंदसौर में पुलिस की गोली से मारे गए किसानों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए वहां जा रहा है। यह प्रतिनिधि मंडल 17 जून को मंदसौर पहुंचेगा और वहां पीडि़त परिवारों से मुलाकात करेगा। इसके अतिरिक्त जो किसान कर्ज के नीचे दबकर आत्महत्या कर रहे हैं, उनके परिवारों से भी मिलेगा। 
जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी प्रताप सिंह को इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अरोड़ा के नेतृत्व में ज्ञापन सौंपा गया। देश के राष्ट्रप्रति के नाम सौंपे गए इस ज्ञापन में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने, किसानों का कर्जा माफ करने तथा एसवाईएल का निर्माण कार्य शुरू करने के साथ साथ हरियाणा की शाहाबाद मंडी में सूरजमुखी और मक्का की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करने की मांग की गई। 
अशोक अरोड़ा ने किसान संगठनों द्वारा शुरू किए गए आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि सरकार को किसानों की कर्जा माफी व स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की मांग पूरी करनी चाहिए, क्योंकि आज देश के कई प्रदेशों में किसान आंदोलन कर रहे हैं और यह आंदोलन देश के अन्य प्रदेशों में भी फैल रहा है। उन्होंने कहा कि इनेलो किसान संगठनों के इस आंदोलन का समर्थन करता है।
इनेलो ने फूंका मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान का पुतला, किसानों के मुद्दों को लेकर डीसी के  माध्यम से राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन

 
16 जून: इनेलो द्वारा आज सभी जिला मुख्यालयों पर एक विरोध प्रदर्शन कर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की किसान विरोधी नीतियों एवं पुलिस फायरिंग में मारे गए किसानों के विरोध में उनका पुतला जलाया गया और राष्ट्रपति से उनकी सरकार को बर्खास्त करने की मांग की। 


इस अवसर पर इनेलो ने जिलाधीशों के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी दिया जिसमें मांग की गई कि किसानों के सभी कर्जे माफ किए जाएं, उनके द्वारा उत्पादित सभी फसलों व सब्जियों के न्यूनतम समर्थन मूल्य स्वामीनाथन रिपोर्ट द्वारा सुझाए फार्मूले का अनुसरण करते हुए तय कर उन्हें उत्पादन लागत पर 50 प्रतिशत मुनाफा दिया जाए। उपरोक्त आधार पर निर्धारित मूल्य से कम कीमत पर किसानों से की जाने वाली खरीद को गैर कानूनी बनाया जाए तथा आपात एवं प्राकृतिक प्रकोप की स्थिति में किसानों की सहायता के लिए एक स्थाई किसान कोष स्थापित किया जाए।  


ज्ञापन में याद दिलाया गया कि 2014 में लोकसभा चुनावों के पूर्व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने घोषणा पत्र में किसानों से स्वामीनाथन रिपोर्ट की सिफारिशों के अनुसार उनके उत्पाद की कीमत तय करने का वायदा किया था। इस वायदे को चुनाव अभियान के दौरान प्रधानमंत्री पद के तत्कालीन दावेदार श्री नरेन्द्र मोदी ने बार-बार हर मंच से दोहराया था। उन्हीं के साथ भाजपा के अन्य नेताओं ने भी अपनी चुनावी सभाओं में बार-बार उस वायदे को दोहराया था। देश के किसानों को विश्वास में लेकर भाजपा सरकार ने भी कांग्रेस की तरह विश्वासघात करते हुए सत्ता में आने के बाद इस वायदे को लागू करने में अपनी असमर्थता व्यक्त कर दी। 


ज्ञापन में इनेलो ने कहा कि कृषि क्षेत्र के संकट के कारण देशभर के किसान लगातार कर्ज में डूबते चले जा रहे हैं। इसी का परिणाम है कि हर वर्ष लगभग 17 हजार किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हो जाते हैं। इस समस्या से निपटने का एकमात्र उपाय स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट में ही दिया गया है और जब तक उसे लागू नहीं किया जाता तब तक किसान संकट के दौर से गुजरते रहेंगे।


इनेलो के इस विरोध प्रदर्शन को न केवल किसानों बल्कि जनता का भी व्यापक समर्थन प्राप्त हो रहा है। आज पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन हुए, जिनमें हिसार में हुए प्रदर्शन एवं विरोध का नेतृत्व सांसद दुष्यंत चौटाला, कुरुक्षेत्र में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष  अशोक अरोड़ा, अम्बाला में पूर्व डीजीपी डॉ. एमएस मलिक, रोहतक में डॉ. केसी बांगड़, झज्जर में श्री दिग्विजय चौटाला और रेवाड़ी में रणवीर गंगवा ने किया।