Friday, May 19, 2017

प्रदेश के हितों की लड़ाई के लिए पीछे नहीं हटेगी इनेलो


नारनौंद, 19 मई: इनेलो जिलाध्यक्ष राजेद्र लितानी ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा दोनों दल नहीं चाहते कि एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा को अपने हिस्से का पानी मिले। लेकिन इनेलो प्रदेश के हितों के लिए न सिर्फ बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने के लिए तैयार है बल्कि संघर्ष के मामले में भी पीछे नहीं हटेगी। लितानी शुक्रवार को नारनौंद तहसील पर एसवाईएल को लेकर दिए गए धरने को संबोधित कर रहे थे। धरने की अध्यक्षता हलका प्रधान सतबीर सिसाय ने की और उनके साथ विधायक रणबीर गंगवा, अनूप धानक व राजसिंह मोर सहित अन्य वरिष्ठ इनेलो नेता इस दौरान विशेष तौर पर उपस्थित रहे। धरने के उपरांत प्रदर्शन करते हुए एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करने और प्रदेश में व्यापक बिजली-पानी संकट का समाधान किए जाने की मांग को लेकर एसडीएम राजीव अहलावल के माध्यम से ज्ञापन सौंपा।
धरने को संबोधित करते हुए इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल का पानी हरियाणा में आने पर प्रदेश को खुशहाल बनाने का काम करेगा और खेतों के साथ-साथ आम लोगों के पीने की प्यास भी बुझ पाएगी। उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और केंद्र व प्रदेश की सरकार पर हरियाणा विरोधी रवैया अपनाने और प्रदेश के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद नहर का निर्माण कार्य पूरा न होना प्रदेश के साथ भारी अन्याय होने के साथ-साथ संविधान व सर्वोच्च न्यायालय की भी अवमानना है। उन्होंने कहा कि हरियाणा अपने हिस्से का पानी लेने के लिए पिछले 50 सालों से निरंतर संघर्षरत है और स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने ही एसवाईएल का निर्माण कार्य शुरू करवाया था और इस नहर की पंजाब क्षेत्र में जमीन अधिग्रहण करने बारे सरकारी खजाने से पैसा भी उन्होंने जारी किया था। यह बात स्व. पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल ने भी विधानसभा में स्वीकार की थी कि एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य चौधरी देवीलाल के समय में हुआ। 


इनेलो नेता ने कहा कि इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की जोरदार पैरवी के चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला एसवाईएल को लेकर हरियाणा के पक्ष में आया। इसके बाद कांग्रेस निरंतर इसके निर्माण में अडग़े लगाती रही और ऐसे प्रयास करती रही ताकि प्रदेश को उसके हिस्से का पानी न मिल पाए। इनेलो नेताओं ने कहा कि अब एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की मांग को लेकर इनेलो ने आंदोलन छेड़ रखा है और एसवाईएल का कार्य शुरू होने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है और केंद्र सरकार ने अपनी किसी एजेंसी से एसवाईएल का निर्माण पूरा करवाना है। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व हरियाणा दोनों जगह भाजपा की सरकार है और अदालत के फैसले को तुरंत लागू करवाया जाना चाहिए। इस मौके पर युवा जिला प्रधान अमित बूरा, धर्मवीर सिहाग, प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य राजपाल डेविड, जसी पेटवाड, राजेश मौर, योगेश गौतम, बाली भाटौल, नरेन्द्र भकलाना, याज्ञवेंद्र खरब, महिला जिला प्रधान छन्नों देवी, पूर्व नारनौंद नगरपालिका चेयरमैन काँता देवी, हलका प्रेस प्रवक्ता राजेश उर्फ बिल्लू, करण सिंह, सुनील दलाल, संता खान व हलका नारनौंद के अन्य गणमान्य व्यक्ति तहसील परिसर में धरने पर मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment