Friday, May 19, 2017

बीजेपी सरकार में महिलाए नही सुरक्षित - नैना चौटाला


सोनीपत, 19 मई : इनेलों पार्टी की महिलाए भारी संख्या में पी डब्लु डी रेस्ट हाऊस रेलवे रोड सोनीपत इक्ठका हुई और कालुपूर के संत कबीर नगर की निर्भया कांड के विरोध में जोरदार प्रर्दशन किया। इस प्रर्दशन का नेतृत्व डबवाली से विधायक श्रीमति नैना चौटाला ने किया।  उनके साथ महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्यान व सोनीपत की महिला जिलाध्यक्ष प्रोमिला मलिक मौजूद रही। सभी महिलाए रेस्ट हाऊस से गीता भवन चौक तक सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए पहुंची। महिलाओं की भारी संख्या होने के कारण प्रशासन के हाथ-पैर फु ल गए। चारों तरफ शहर में जाम लग गया। प्रदर्शनकारी महिलाओं में सरकार के विरोध में भारी रोष देखने को मिला। प्रर्दशन की अध्यक्षता महिला जिलाध्यक्ष प्रोमिला मलिक ने की।
प्रर्दशन का नेतृत्व कर रही श्रीमति नैना चौटाला ने कहा कि कालुपूर के संत कबीर नगर की निर्भया कांड एक शर्मनाक घटना है। अपराधियों ने जिस प्रकार कानून को ठेगां दिखाकर लडकी का सोनीपत से अपरहण किया। सामूहिक बलात्कार के बाद रोहतक में बर्बरता पूर्ण हत्या कर दी गई। वर्ष 2012 दिल्ली में निर्भया हत्या कांड ने जिस तरह सारे देश को झकझोर करके रख दिया था। उसी प्रकार इस घटना ने राज्य की अन्र्त-आत्मा को झंझोड कर रख दिया है। यदि अपरहण से लेकर बलत्कार और हत्या तक की घटना को लेकर पुलिस समय पर आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही करती, तो इस घटना को समय से पहले ही रोका जा सकता था। लेकिन प्रदेश में आज महिलाओं में सुरक्षा का अभाव है। सरकार 1600 करोड़ रूपये बेटी बचाओ बेटी पढ़ओ के विज्ञापन में खर्च करने का काम करती है, सरकार महिलाओं की थोड़ी सी भी हितेषी होती तो महिलाओं के सुरक्षा में यह राशी लगाई जाती। मुख्मंत्री को अपनी कुर्सी की चिंता हैं। लोग अपनी बहु-बेटियों को बाहर भेजने में कतराने लगे है। वैसे भी बेटी बचाओं, बेटी पढाओं, का नारा देकर, सत्ता पाने वाली  बीजेपी सरकार का यह अभियान प्रदेश की जनता के लिए, खोखला एंव भ्रामक नारा बन कर  रह गया है। 


महिलाध्यक्ष श्रीमती शीला भ्यान ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार की वास्तविकता यह है कि इसके कार्यकाल में सामान्य तौर पर बिगडती  कानून व्यस्था और विशेष रूप से महिलाओं के विरूद्ध बढते अपराधों की घटनाए, आज चरम सीमा पर है। महिलाओं की जान-माल की सुरक्षा करने में असफल रही है। 
इस मौके पर जिलाध्यक्ष पद्म सिंह दहिया, डा. के. सी. बांगड़, ब्रिगेडियर ओ. पी. चौधरी, तेलूराम जोगी, महिला प्रदेश उपाध्यक्ष बबीता दहिया, निर्मल चौधरी, अनीता खांडा, मंजू जाखड़, उमेश देवी, संतरा मलिक, विद्या मोर, अंजू आंतिल, गायत्री गहलावत, बबली मलिक, रेखा बाल्याण, अंजू बाला खटक, सुमन मलिक, अनीता कुराड़, सुनीता दहिया, सरोज शामड़ी, कमलेश मलिक, ईशवंती, सरोज गन्नौर, राजेश देवी, मनीषा गुलिया, दीपा गुलिया, ओमी देवी, सरोज चौधरी आदि महिला कार्यकर्ता मोजूद रही।

No comments:

Post a Comment