Friday, April 7, 2017

एसवाईएल निर्माण को लेकर जंतर-मंतर पर होडल के कार्यकर्ताओं ने की धरने की शुरुआत



इनेलो की ओर से एसवाईएल के निर्माण को लेकर जंतर-मंतर पर शुरू किए गए बेमियादी धरने में रोजाना पार्टी के एक विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ता धरना दिया करेंगे और पार्टी की ओर से धरना कार्यक्रमों को अंतिम रूप दे दिया गया है। यह जानकारी देते हुए पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बताया कि नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला व पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ व्यापक विचारविमर्श के बाद इस धरना कार्यक्रमों को अंतिम रूप दिया गया है। इसी के अंतर्गत शुक्रवार 7 अप्रैल को पलवल जिले के होडल विस क्षेत्र के इनेलो कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और एसवाईएल के अधूरे निर्माण कार्य को जल्द पूरा किए जाने की मांग की। 10 अप्रैल को मेवात जिले के फिरोजपुर झिरका विस क्षेत्र के कार्यकर्ता, 11 अप्रैल को फरीदाबाद जिले के तिगांव हलके और 12 अप्रैल को गुरुग्राम जिले के पटौदी हलके के कार्यकर्ता जंतर-मंतर पर धरना देंगे।
इनेलो नेता ने बताया कि 17 अप्रैल को रोहतक शहर, 18 अप्रैल को सोनीपत शहर, 19 अप्रैल को फरीदाबाद जिले के पिरथला, 20 अप्रैल को पलवल जिले के हथीन और 21 अप्रैल को गुरुग्राम जिले के सोहना हलके के कार्यकर्ता धरने में शामिल होंगे। इनेलो नेता ने कहा कि 23 अप्रैल को रेवाड़ी जिले के कोसली, 25 अप्रैल को मेवात जिले के नूंह, 26 अप्रैल को फरीदाबाद जिले के बडख़ल, 27 अप्रैल को रेवाड़ी जिले के बावल और 28 अप्रैल को महेंद्रगढ़ जिले के अटेली विस क्षेत्र के इनेलो कार्यकर्ता धरने में शामिल होंगे। इनेलो नेता ने कहा कि हररोज धरने में पार्टी के विधायक भी शामिल हुआ करेंगे और हर हफ्ते पार्टी के एक सांसद भी इनेलो कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाने के लिए धरनास्थल पर मौजूद रहकर धरने में शामिल हुआ करेेंगे।
इनेलो नेता ने बताया कि शुक्रवार को धरने पर होडल हलके के कार्यकर्ताओं के साथ हथीन के विधायक केहर सिंह रावत, राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप, पूर्व मंत्री जगदीश नैयर और जिला प्रधान अजीत सिंह के अलावा इनेलो के प्रदेश कार्यालय सचिव एनएस मल्हान, इनेलो नेता सुरेंद्र सरोत, रतन सिंह सरोत, रामबीर गहलब, धर्मपाल नम्बरदार, जीतू दिघोट, देशराज चौहान, अजय गढ़ी, सरपंच विरेंद्र, मोहन सिंह, सियाराम, तारीफ सरपंच के अलावा कुनाल गहलावत सहित अनेक इनेलो नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे। इनेलो नेताओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा करवाए जाने की मांग की। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और सर्वोच्च न्यायालय का फैसला एसवाईएल को लेकर हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद अभी तक नहर का निर्माण पूरा न होने से न सिर्फ प्रदेश को अपने पानी से वंचित रखा जा रहा है बल्कि यह सीधे-सीधे सर्वोच्च न्यायालय के फैसले व संविधान का भी अपमान है। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का निर्माण पूरा नहीं हो जाता तब तक इनेलो अपना संघर्ष जारी रखेगी और इस नहर के निर्माण के लिए बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।

No comments:

Post a Comment