Tuesday, April 25, 2017

प्रदेश की जनता को गुमराह कर रहे हैं मुख्यमंत्री, हरियाणा हितों की उन्हें कोई चिंता नहीं - अभय चौटाला



चंडीगढ़, 25 अप्रैल: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पीएम से एसवाईएल व किसानों के कर्जे के मुद्दे पर नहीं बल्कि भाजपा के विधायकों द्वारा उनके खिलाफ शुरू किए गए अभियान को लेकर मिलने गए थे और  भाजपा की अंदरूनी कलह पर अपनी सफाई देकर आए हैं। यह बात इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मंगलवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बाद मुख्यमंत्री 19 नवम्बर को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी और उस बैठक में एक प्रस्ताव पारित करके यह निर्णय लिया गया था कि सीएम की अगुआई में सभी दलों के लोग पीएम व राष्ट्रपति से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखेंगे ताकि प्रदेश में जल्द से जल्द एसवाईएल के जरिए अपने हिस्से का पानी लाया जा सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री पांच महीनों तक तो पीएम से एसवाईएल पर मिलने का समय नहीं ले पाए और अब अकेले मिलने की बात कहकर वे न सिर्फ अपनी विफलताएं छुपा रहे हैं बल्कि प्रदेश के लोगों के साथ भारी धोखा करने का प्रयास कर रहे हैं। इनेलो नेताओं ने प्रदेश में गम्भीर बिजली-पानी संकट, ठप पड़े विकास कार्यों और बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर भी प्रदेश सरकार की तीखी आलोचना की। उन्होंने एसवाईएल का निर्माण पूरा करने की मांग को लेकर जंतर मंतर पर चले रहे इनेलो के धरने के तम्बू उखाडऩे की भी कड़े शब्दों में आलोचना करते हुए कहा कि 29 अप्रैल को दिल्ली में होने वाली इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में व्यापक विचारविमर्श के बाद इनेलो की ओर से अगली रणनीति तैयार की जाएगी।
इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वदलीय बैठक के बाद प्रदेश के सभी दल सीएम की अगुआई में राष्ट्रपति से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखकर आए थे लेकिन मुख्यमंत्री पीएम से समय नहीं ले पाए। केंद्रीय गृह मंत्री से इस मुद्दे पर इनेलो ने न सिर्फ अलग से ज्ञापन देकर उन्हें एसवाईएल पर अब तक आए सभी फैसलों और कानूनी वस्तुस्थिति से अवगत करवाया बल्कि इनेलो नेता राजनाथ सिंह से मिलने के लिए सीधे अलग से गए थे। उन्होंने कहा कि अब अगर मुख्यमंत्री एसवाईएल पर पीएम से मिलने जा रहे थे तो सर्वदलीय बैठक के अनुसार उन्होंने अन्य दलों को भरोसे में क्यूं नहीं लिया और पीएमओ से भी एसवाईएल व किसानों के कर्ज माफी पर कोई विज्ञप्ति जारी क्यों नहीं हुई? इनेलो नेताओं ने कहा कि भाजपा के करीब डेढ दर्जन विधायक मुख्यमंत्री के खिलाफ पिछले काफी समय से मुखर हो गए हैं और उस मामले में सीएम प्रधानमंत्री को अपनी सफाई देने गए थे। इनेलो नेताओं ने कहा कि दस साल प्रदेश को कांग्रेस ने दोनों हाथों से लूटा और अब पिछले अढाई सालों से भाजपा सरकार प्रदेश को बर्बाद करने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा के बागी विधायक ठप पड़े विकास कार्यों का मुद्दा उठा रहे हैं क्योंकि आज प्रदेश का हर वर्ग सरकार से नाराज है और सत्तापक्ष के विधायकों को लोगों के बीच जाने में भी मुश्किल आ रही है। 


इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो हरियाणा को अपने हिस्से का पानी एसवाईएल के माध्यम से दिलाने के लिए संघर्षरत है और इसी के अंतर्गत हमने न सिर्फ एसवाईएल खुदाई के लिए पंजाब की ओर कूच किया बल्कि संसद का घेराव भी किया और पंजाब में गिरफ्तारियां देने के अलावा दिल्ली में पुलिस की लाठियां भी सहन की। उन्होंने कहा कि अब इनेलो कार्यकर्ता जंतर-मंतर पर शांतिपूर्वक धरना दे रहे थे लेकिन भाजपा सरकार ने केंद्र से कहकर इनेलो कार्यकर्ताओं के धरनास्थल के तम्बू उखाडऩे का काम किया। उन्होंने इसकी कड़े शब्दों में आलोचना करते हुए कहा कि 29 को राज्य कार्यकारिणी की बैठक में इन सभी मुद्दों पर व्यापक विचारविमर्श कर आगामी रणनीति तय की जाएगी। उन्होंने सरकार की नीति और नीयत पर भी सवाल उठाया। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज प्रदेश की जनता बिजली-पानी को लेकर त्राहि-त्राहि कर रही है और प्रदेशभर में सुबह साढे चार से लेकर शाम साढे छह बजे तक 14 घंटे का निरंतर कट लगाया जा रहा है। एक तरफ सरकार सरप्लस बिजली होने का दावा करती है दूसरी तरफ लोगों को पीने के पानी के लिए भी बिजली नहीं मिलती और जिन फीडरों पर बिजली बिलों की सौ फीसदी वसूली हो रही है वहां भी बिजली के कट लगाए जा रहे हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि कोयले की दरों में कटौती के बावजूद बिजली की दरें कम नहीं की जा रही और सरकार आए दिन अलग-अलग उत्सव मनाकर सरकारी खजाने को दोनों हाथों से लुटाने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि इनेलो इन मुद्दों को आगामी विस सत्र में भी प्रमुखता से उठाएगी। इनेलो प्रदेशअध्यक्ष ने सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों को सभी सुविधाएं दिए जाने और विभिन्न स्कूलों व कॉलेजों में फीस के नाम पर मचाई जा रही लूट बंद करवाए जाने की भी सरकार से मांग की। उन्होंने सरकार पर वादों के विपरीत काम करने का आरोप लगाया। पत्रकारों द्वारा सरकार द्वारा सूचना आयुक्त व मुख्य सूचना आयुक्त के पद पर की जा रही विवादित नियुक्तियों संबंधी सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि वे बुधवार को इस संबंध में होने वाली बैठक में अपनी बात रखेंगे और बैठक के बाद ही इस बारे में अपना पक्ष मीडिया के समक्ष रख पाएंगे। उन्होंने पिछले चुनाव के समय कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए नेताओं पर टिप्पणी करते हुए कहा कि इनमें से ज्यादातर लोग कांग्रेस संस्कृति के हैं और आज भाजपा की हालत कांग्रेस से भी ज्यादा बुरी है। पत्रकार सम्मेलन में नेता प्रतिपक्ष व इनेलो प्रदेशाध्यक्ष के अलावा विधायक परमेंद्र सिंह ढुल, आरएस चौधरी, महेंद्र सिंह मलिक, डॉ. केसी बांगड़, बीडी ढालिया, राम सिंह बराड़, अशोक शेरवाल व प्रवीन आत्रे समेत अनेक प्रमुख इनेलो नेता मौजूद थे।

एस वाई एल को लेकर नूँह विधानसभा के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली 25 अप्रैल: इनेलो ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल को लेकर राजनीति करने और दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद सरकार इस मुद्दे पर गम्भीरता दिखाने की बजाय टाल मटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत मंगलवार को नूँह जिले के नूँह विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का नेतृत्व नूँह से इनेलो विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन, जिलाध्यक्ष मास्टर बदरुद्दीन व इनेलो के कार्यालय सचिव नछत्तर सिंह मल्हान ने किया। धरने में विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट,हाजी इसराईल, मौ0 तलहा एडवोकेट, अल्ली प्रधान, हाजी फते मौ0, शोकत सरपंच, राजीव यादव एडवोकेट, हाजी अब्दुल्ला सरपंच, मनोज यादव, जगन पार्षद, अमर सिंह, जाकिर भड़ंगाका, जेकम चंदेनी, शहनाज घासेड़ा, हाजी आसम, रमजान सरपँच रोजकामेव, हाजी अलीन,  इमरान खतोली, जाकिर सलंबा, इसराईल रेहना, कासम किरंज, तय्यब सरपंच मेवली, युनुस इन्ना सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
  विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोई दिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एस वाई एल के पानी से अहीरवाल और मेवात क्षेत्र को भी भरपूर सिँचाई का पानी मिलेगा।
   इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने न सिर्फ  गम्भीर प्रयास किए बल्कि पंजाब में एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करवाकर उसके निर्माण के लिए भी चौधरी देवीलाल के नेतृत्व वाली सरकार ने सरकारी खजाने से पंजाब को धनराशि भी जारी की। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य हुआ और यह बात पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बंसीलाल  ने खुद हरियाणा विधानसभा में स्वीकार की जो कि रिकार्ड में दर्ज है। उन्होंने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एसवाईएल के मामले में सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि 2004 में इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई और सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से नहर के अधूरे निर्माण को किसी केंद्रीय एजेंसी से पूरा करवाए जाने के आदेश दिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नदी जल समझौते रद्द करने का एक असंवैधानिक बिल पारित कर दिया ताकि नहर के निर्माण कार्य को लटकाया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और दो साल तक पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस नहर को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर एक शब्द तक नहीं बोला और मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी इस दौरान भाजपा की गठबंधन सरकार रही लेकिन नहर निर्माण के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर पंजाब में अलग व हरियाणा में दूसरी भाषा बोलते हैं जिससे साफ है कि उनकी भाषा न सिर्फ दोहरी है बल्कि उन्हें हरियाणा के हितों से भी कोई लेना-देना नहीं। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी और बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।


आज नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट का जन्मदिन था। चौ0 ताहिर हुसैन ने अपना जन्मदिन अपने पिता चौ0 ज़ाकिर हुसैन व नूँह विधानसभा के इनेलो कार्यकर्ताओं के साथ जलयुद्ध में भाग लेकर जंतर-मंतर पर मनाया। इस अवसर पर सभी इनेलो कार्यकर्ताओं ने युवा इनेलो नेता चौ0 ताहिर हुसैन को जन्मदिन की मुबारक़बाद भी दी। ताहिर हुसैन आज  इनेलो द्वारा एस वाई एल के निर्माण के लिए दिए जा रहे जंतर-मंतर पर धरने में शामिल हुए थे। उन्होंने हरियाणा व मेवात के हितों के लिए तथा एस वाई एल के पानी के लिए अपने जन्मदिन की भी परवाह ना करते हुए अपना पूरा दिन धरने पर गुजारा।
चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट ने मरहूम चौधरी मौ0 यासीन खाँ व मरहूम चौ0 तय्यब हुसैन के पद्चिन्हों पर चलते हुए अपना जन्मदिन संघर्ष में मनाकर मिसाल कायम की है।
इस अवसर पर ताहिर हुसैन एडवोकेट ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोई दिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एस वाई एल के पानी से अहीरवाल और मेवात क्षेत्र को भी भरपूर सिँचाई का पानी मिलेगा।

Monday, April 24, 2017

दुष्यंत चौटाला हिसार के 28 गांवों में भेजेंगे वाटर टैंकर

हिसार : पूरे हिसार लोकसभा क्षेत्र में बिजली पानी के लिए हा-हाकार मचा हुआ है लेकिन शासन एवं प्रशासन के कानों तक जूं नहीं रेंग रही है। एसी कमरों में रहने वाली प्रदेश की सरकार लोगों को मूलभूत सुविधाएं देने में पूरी तरह से विफल हुई है। यह आरोप इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने लगाते हुए कहा कि जिले में पानी की कमी को देखते हुए वह अपने सांसद निधि कोष से 28 गांवों में वाटर टैंकर भेजेंगे। इसके अतिरिक्त प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत कर हर गांव एवं शहर के वार्ड में पीने का शुद्ध पानी सुनिश्चित करने बारे निर्देश देंगे। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोग बिजली पानी के लिए सडक़ों पर उतर रहे हैं पर सरकार या प्रशासन ने उनकी समस्या का समाधान करना तो दूर उनसे बातचीत तक नहीं की। इससे जाहिर है कि सरकार जानबूझ कर लोगों को सडक़ों पर आने के लिए मजबूर कर रही है। सांसद ने कहा कि जो सरकार मूलभूत सुविधाएं अपने प्रदेश के लोगों को उपलब्ध नहीं करवा सकती, उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है।
सांसद दुष्यंत ने बताया कि पिछले वर्ष भी उन्होंने अपने सांसद निधि कोष से हिसार शहर सहित 8 गांवों में पीने के पानी की व्यवस्था के लिए टैंकर भिजवाए थे। इस बार भी मसूदपुर, सिंधड़, खानपुर, गोरछी, किन्नर, नाड़ा, रावलवास खुर्द, मैहजद, गढ़ी अजिमा,  हैबतपुर, भाडा खेड़ा, राखीशाहपुर, गामड़ा, कागसर, धर्मखेड़ी, खारिया, भकलाना, रोशनखेड़ा, सिंघवा, रावलवास कलां, फरीदपुर, बधावड़, सीसर, हिसार शहर का मेला गांउड सेक्टर एरिया, बडाला, लोहारी राघो, खेड़ी लालब, सिसाय कालीरावण, बालसंमद गांव में पानी के टैंकर भेजने के लिए अतिरिक्त उपायुक्त पत्र लिख दिया गया है। सांसद चौटाला ने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोगों को बिजली एवं पानी उपलब्ध करवाना उनकी प्राथमिकता है। इसके लिए वह पिछले तीन साल से प्रयासरत हैं और एक हजार से अधिक ढाणियों में बिजली कनेक्शन देकर उनको रोशन किया जा चुका है।
इनेलो ने प्रदर्शन कर क्षेत्रवासियों के लिए प्रशासन से मांगा बिजली-पानी 


चरखी दादरी : दादरी जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में व्याप्त बिजली व पेयजल संकट को लेकर सोमवार को इनेलो कार्यकर्ता विधायक राजदीप फौगाट के नेतृत्व में सड़कों पर उतरे। शहर की सोनी धर्मशाला में आम बैठक के बाद 
कार्यकर्ता उपायुक्त कार्यालय पहुंचे। यहां उनकी गैरमौजूदगी में तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर बिजली, पानी सहित सभी जन समस्याओं का जल्द समाधान करने की मांग की। विधायक राजदीप फौगाट व मौजूद सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी कि समय रहते समस्याएं दूर नहीं करने की सूरत में इनेलो संबंधित सरकारी कार्यालयों के सामने बेमियादी धरना शुरू करने को मजबूर होगी। सरकारी विभागों द्वारा आम जनता की समस्याओं की अनदेखी किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 
विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि भीषण गर्मी में लोग बिजली, पानी के संकट से जूझ रहे हैं। बार-बार लिखित, मौखिक शिकायतों पर भी अधिकारी कोई गौर नहीं कर रहे, आखिरकार लोगों को धरना, प्रदर्शन करना पड़ रहा है। लोगों की समस्याएं जानना और तत्परता से समाधान करना विभागीय अधिकारियों की डयूटी है, लेकिन देखने में आ रहा है कि अफसरशाही बेलगाम है और लोग परेशान, इनेलो इन हालातों को कतई सहन नहीं करेगी। फौगाट ने कहा कि वर्तमान में बिजली संकट के कारण किसान, व्यापारी सहित हर वर्ग का जीना मुहाल हो गया है, कामकाज ठप हो रहा है। बिजली के साथ ही पेयजल संकट भी परेशानी का कारण बनी है। अधिकतर गांव के तालाब, जलघर सूखे पड़े हैं ऐसे में आमजन व पशुओं को पानी नहीं मिल रहा। विधायक फौगाट ने कहा कि अधिकतर क्षेत्रों में वर्षों पुराने तार लगे हैं जो पूरी तरह जर्जर हो चुके हैं, ऐसे में लाइन लॉस के नाम पर लंबे-लंबे कट घोषित करना भीषण गर्मी में आम उपभोक्ता से नाइंसाफी है।


रोष प्रदर्शन करते हुए उपायुक्त कार्यालय पहुंचे इनेलो कार्यकर्ताओं ने तहसीलदार राजकुमार को ज्ञापन सौंपकर बिजली, पानी व्यवस्था सुचारु करने, पुरानी जर्जर हाल तारों को बदलने, लाइन लॉस दूर करने, जलापूर्ति की लाइनों को डबल करने के अलावा जिले के विभिन्न हिस्सों में जनसंख्या के हिसाब से और नए जलघर बनाने की मांग रखी ताकि आम जन को बिजली, पानी संबंधी कोई परेशानी न हो। सैकड़ों ने किया रोष प्रदर्शन इस मौके पर विधायक राजदीप फौगाट, हलकाध्यक्ष रामनिवास मिर्च, पं. मनफूल शर्मा रावलधिया, महेंद्र जाखड़, अजीत जांघु, शकुंतला श्योराण, विनोद कुमारी, राकेश कलकल, मेहरचंद एडवोकेट, राजेश सोनी, अवतार सांगवान, रमेश वर्मा, सतपाल वर्मा, विनोद मौड़ी, अशोक सिहाग, पार्षद मनोज वर्मा, आनंद महराणा, नप वाइस चेयरमैन बबलू श्योराण, राजेंद्र सैनी, आशीष निमड़ी, रणसिंह लांबा, जयसिंह लांबा, सुशील शर्मा सरपंच, राजेश सरपंच, रणबीर, हरिसिंह, प्यारेलाल लांबा, रवींद्र तक्षक, वेदपाल कादियान, बाबूलाल यादव, मा. वीरेंद्र, दलजीत फौगाट, सुरेंद्र पैंतावास, बलजीत रासीवास, प्रदीप गुप्ता, सत्यपाल अटेला, शमशेर डोहका, बलवंत सिंह, लीलाराम डोहकी, नीटू बिरही, राजकुमार, सुखबीर, धर्मबीर, जगदीश यादव, सूरज बेनीवाल, बबलू चौधरी, ललित फौगाट व संजीत धवन सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। 
एसवाईएल को लेकर कोसली हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली : इनेलो ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल को लेकर राजनीति करने और दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद सरकार इस मुद्दे पर गम्भीरता दिखाने की बजाय टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत सोमवार को रेवाड़ी जिले के कोसली विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का नेतृत्व इनेलो के जिलाध्यक्ष डॉ. राजपाल यादव, कोसली के हलका प्रधान जगफूल यादव, इनेलो व्यापार प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष सुभाष गर्ग व इनेलो के कार्यालय सचिव नछत्तर सिंह मल्हान ने किया। धरने में रामफल कोसलिया, जस्सु लाल, संदीप टुना, महावीर, मंगल, आजाद, राजू, सज्जन सिंह व कुणाल गहलावत सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोईदिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने न सिर्फ  गम्भीर प्रयास किए बल्कि पंजाब में एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करवाकर उसके निर्माण के लिए भी चौधरी देवीलाल के नेतृत्व वाली सरकार ने सरकारी खजाने से पंजाब को धनराशि भी जारी की। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य हुआ और यह बात पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बंसीलाल  ने खुद हरियाणा विधानसभा में स्वीकार की जो कि रिकार्ड में दर्ज है। उन्होंने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एसवाईएल के मामले में सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि 2004 में इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई और सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से नहर के अधूरे निर्माण को किसी केंद्रीय एजेंसी से पूरा करवाए जाने के आदेश दिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नदी जल समझौते रद्द करने का एक असंवैधानिक बिल पारित कर दिया ताकि नहर के निर्माण कार्य को लटकाया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और दो साल तक पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस नहर को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर एक शब्द तक नहीं बोला और मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी इस दौरान भाजपा की गठबंधन सरकार रही लेकिन नहर निर्माण के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर पंजाब में अलग व हरियाणा में दूसरी भाषा बोलते हैं जिससे साफ है कि उनकी भाषा न सिर्फ दोहरी है बल्कि उन्हें हरियाणा के हितों से भी कोई लेना-देना नहीं। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी और बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।

Sunday, April 23, 2017

मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द भरवाया जाए - ज़ाकिर हुसैन

   


नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने मेवात क्षेत्र में पीने के पानी, सूखे पड़े जौहड़ों व बिजली की गंभीर समस्या के सिलसिले में उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा से मुलाकात की। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि मेवात क्षेत्र जलसंकट के दौर से गुजर रहा है।  पेयजल की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। पूरे मेवात क्षेत्र के जोहड़ सूखे पड़े हुए हैं। गाँवों में बिजली की सप्लाई सही तरीके से नहीं हो पा रही है। श्री हुसैन ने उपायुक्त से आग्रह किया कि जल्द से जल्द मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को भरवाया जाए। जिन गाँवों मे पेयजल की समस्या है उन गाँवों में टैंकरों द्वारा पीने के पानी की आपूर्ति की जाए।
उन्होंने उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा को अवगत कराते हुए कहा कि जोहड़ों के ना भरने में सबसे बड़ी कठिनाई है ड्रैनों से गाँवों के जोहड़ों तक नालियों का ना होना। उन्होंने कहा कि सरकार जल्द से जल्द ड्रैनों से नालियों की खुदाई का प्रावधान करे और मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द से जल्द भरवाया जाए।
श्री हुसैन ने कहा कि मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द नहीं भरवाया गया तो पशु प्यासे मर जाएँगे, जिसके गंभीर परिणाम होंगे। उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा ने विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन को आश्वासन दिया कि मेवात क्षेत्र के सभी जोहड़ों को एक हफ्ते के अंदर अंदर भरवा दिया जाएगा। उन्होंने विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन की उपस्थिति में ही डी डी पी ओ नूँह व अन्य अधिकारियों को मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को भरवाने के निर्देश जारी कर दिए।
इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने 25 अप्रैल मंगलवार को कार्यकर्ताओं से दिल्ली में जंतर-मंतर पर एस वाई एल के निर्माण के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुँचनें की अपील की। इनेलो विधायक ने कहा कि एस वाई एल के निर्माण में केंद्र व राज्य की भाजपा सरकार उदासीन है इसलिए इनेलो ने प्रत्येक विधानसभा द्वारा अलग-अलग दिन जंतर-मंतर पर एक दिन का धरना देने का क्रम चालू किया है, जिससे एस वाई एल का निर्माण शीघ्र हो और हरियाणा खासतौर पर अहीरवाल व मेवात क्षेत्र को एस वाई एल का पानी मिल सके तथा इस इलाके में भी सिँचाई हो सके। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि 25 अप्रैल को नूँह विधानसभा का दिन धरने के लिए निश्चित है तथा सभी कार्यकर्ता 25 अप्रैल को सुबह 7 बजे उनके नूँह निवास पर पहुँचे। उनके निवास स्थान से सुबह 7 बजे सभी कार्यकर्ता दिल्ली जंतर-मंतर के लिए प्रस्थान करेंगे।
इनेलो नेताओं ने किया अनाज मंडी में गेहूं खरीद का निरीक्षण


हिसार : इनेलो नेताओं ने इनेलो के किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष पूर्ण ङ्क्षसह डाबड़ा के साथ उकलाना की अनाज मंडी का दौरा किया और गेहूं खरीद के बारे में किसानों और व्यापारियों से बातचीत की। अनाज मंडी में किसानों और व्यापारियों द्वारा कच्चे स्थान पर मिट्टी में गेहूं डालने पर इनेलो नेताओं ने इसे सरकार की विफलता बताया और कहा कि भाजपा सरकार में किसान और व्यापारी दुखी हैं। 
डाबड़ा ने कहा कि अनाज मंडी गेहूं से अटी पड़ी हैं और किसानों को मजबुरन अपनी गेहूं कच्चे में डालनी पड़ रही है। गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है। अगर बरसात आ गई तो इससे किसानों और व्यापारियों को भारी नुकसान हो सकता है। सरकार से मांग करते हैं कि गेहूं उठान में तेजी लाई जाए। उन्होंने कहा कि बीमा पॉलिसी पूरी तरह से किसान विरोधी है और भाजपा सरकार ने तीन कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए इसे लागू किया गया है। आगजनी की घटनाओं का किसानों को बीमा देने से इंकार किया जा रहा है। सरकार किसानों से जबरन फसल बीमा की राशि वसूल रही है।
उन्होंने कहा कि सरकार सरसों खरीद में किसानों के साथ धोखाधड़ी कर रही है। हिसार जिले में सरसों की खरीद केवल हिसार शहर में की जा रही है। किसानों को सरसों की फसल बेचने के लिए 60 किलोमीटर दूर अपनी फसल लानी पड़ रही है। उसके बाद भी किसानों को फसल का पूरा भाव नहीं दिया जा रहा है।
इस मौके पर इनेलो जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी, विधायक अनूप धानक, शील्ला भ्याण, रवि लांबा, होशियार ङ्क्षसह बिठमड़ा, सुंदर बंसल, रणधीर पूनिया, सुभाष फरीदपुरिया, गुलशन आहुजा, ङ्क्षबद्र, कै. छज्जु राम, कली राम खेदड़, इकबाल, स. गुरबख्श सिंह, धूप सिंह थाकन आदि मौजूद रहे।

Friday, April 21, 2017

युवा सांसद दुष्यंत चौटाला को आशीर्वाद देने पहुंची देश की प्रमुख हस्तियां


देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला की मैरेज रिसेप्शन पर देश की प्रमुख हस्तियों ने पहुंचकर नवदम्पत्ति को अपना आशीर्वाद देते हुए जीवन के नए अध्याय की शुरुआत पर अपनी ओर से शुभकामनाएं दी। दुष्यंत चौटाला की शादी वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी परमजीत सिंह अहलावत की बेटी मेघना के साथ दो दिन पहले सम्पन्न हुई थी और गुरुवार रात दिल्ली के अशोक होटल में उनकी रिसेप्शन का आयोजन हुआ। चौटाला परिवार की ओर से इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला, नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला व चौधरी रणजीत सिंह सहित परिवार के सभी प्रमुख लोगों ने आयोजन में शामिल हुए अतिथियों का स्वागत किया और आभार जताया। दुष्यंत को आशीर्वाद देने वालों में कांग्रेस, भाजपा, इनेलो, लोक जन शक्ति, नेकां, जदयू सहित अनेक दलों के प्रमुख नेता शामिल थे। 
इस आयोजन में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल, केंद्रीय मंत्री रामबिलास पासवान, डॉ. हर्षवर्धन, हरसिमरत कौर बादल, जेडीयू नेता शरद यादव, सुखबीर बादल, परिवहन मंत्री कृष्ण पंवार, रामबिलास शर्मा, विपुल गोयल, ज्ञानचंद गुप्ता, किरण चौधरी,  पूर्व सांसद नवीन जिंदल, डॉ. केवी सिंह, सुभाष बराला, भाजपा प्रभारी अनिल जैन, कांग्रेस विधायक जगबीर मलिक व श्रीकृष्ण हुड्डा, कुलदीप शर्मा, रेणुका, हिमाचल के राज्यपाल आचार्य देवव्रत, अकाली दल सांसद पे्रम सिंह चंदूमाजरा, सुखदेव सिंह ढींढसा, बलविंदर सिंह भंूदर, विक्रमजीत सिंह मजीठिया, पंजाब के बिजली मंत्री गुरजीत राणा, सांसद रवनीत बिट्टू, पूर्व विधायक अजीत इंद्र सिंह मोफर, मुख्यमंत्री पंजाब के सलाहकार भरतेंद्र सिंह चहल, सीपीएस बख्शीश् सिंह विर्क, सीमा त्रिखा, अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी विजेंद्र व सुशील कुमार के अलावा अनेक वरिष्ठ आईएएस व आईपीएस अधिकारी, वरिष्ठ पत्रकार एवं राजनेताओं के अलावा सामाजिक लोगों ने हिस्सा लिया।
इससे पहले गुडग़ांव में आयोजित दुष्यंत की शादी समारोह में हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु, केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह, केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री व पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह, योग गुरु बाबा रामदेव, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेडकर, केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौर, केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारुख अब्दुल्ला, कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह, चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के छोटे भाई व पूर्व सांसद रणजीत सिंह, दिग्विजय सिंह चौटाला, कर्ण चौटाला, अर्जुन चौटाला, पूर्व स्पीकर सतबीर सिंह कादियान सहित अनेक प्रमुख राजनेता, वरिष्ठ पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी, अनेक राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी और  परिवार के करीबी लोग शामिल थे। 
जंतर-मंतर पर सोहना हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने दिया धरना, सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी


इनेलो की ओर से एसवाईएल को लेकर जंतर-मंतर नई दिल्ली पर दिए जा रहे धरने में गुडग़ांव जिले के सोहना विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने शामिल होकर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द पूरा करवाए जाने की मांग की। इनेलो कार्यकर्ताओं का नेतृत्व इनेलो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंत राम तंवर ने किया और भाजपा सरकार पर हरियाणा विरोधी नीतियां अपनाने का आरोप लगाया। धरने में इनेलो के जिला उपाध्यक्ष किशोर यादव, सतीश राघव, राजबीर बालियबस, नछत्तर सिंह मल्हान, कुणाल गहलावत, नगेंद्र डागर, दीपक डागर, सुरेंद्र, विरेंद्र जाखड़, सतीश घाटीवाल, राजू सरपंच, जयपाल नम्बरदार, मनीष सचदेवा, पप्पू पठान, अजमत सरपंच, अश्पाक खतखडी भी शामिल थे। इनेलो नेताओं ने कहा कि अलग राज्य बनने के बावजूद हरियाणा के साथ पिछले पचास सालों से एसवाईएल के पानी को लेकर भारी अन्याय हो रहा है और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बावजूद प्रदेश को उसके हिस्से का पानी नहीं मिल पा रहा। 


इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के पानी को लेकर पहले कांग्रेस हरियाणा के साथ निरंतर अन्याय करती रही है और अब भाजपा सरकार भी उसी रास्ते पर चलते हुए इस मामले को जानबूझकर लटका रही है ताकि प्रदेश को उसके हक से वंचित किया जा सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि उनकी पार्टी इस अन्याय को किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेगी और एसवाईएल के मुद्दे पर निरंतर न सिर्फ संघर्ष जारी रखेगी बल्कि बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसके मुकम्मल होने से न सिर्फ प्रदेश को अपने हिस्से का पानी मिल पाएगा बल्कि राज्य की प्यासी भूमि खुशहाल होने के साथ-साथ लोगों की पेयजल समस्या भी हल हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल के मुद्दे पर पिछले पांच महीनों से मुख्यमंत्री प्रदेश का पक्ष रखने के लिए पीएम से अभी तक मिलने का समय नहीं ले पाए और इसी से जाहिर होता है कि उनकी प्रदेश के हितों में कोई दिलचस्पी नहीं है। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक एसवाईएल का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता तब तक इनेलो का बेमियादी धरना निरंतर जारी रहेगा।
बत्ती छोडऩे से नहीं, अनाप-शनाप सुविधाएं छोडऩे से खत्म होगा वीआईपी कल्चर - बलवान दौलतपुरिया


फतेहाबाद : इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने अपने अनाज मंडी स्थित प्रतिष्ठान पर पहुंचते ही शुक्रवार सुबह निजी वाहन पर लगी बत्ती हटा दी। इसके बाद कार्यालय में पहुंचे समर्थकों से बातचीत करते हुए उन्होंने भाजपा सरकार के मंंत्रियों के साथ-साथ मुख्यमंत्री पर कटाक्ष किया कि इस तरह लाल बत्ती हटा कर वीआईपी कल्चर खत्म करने का स्वांग रचने की बजाय वे अगर सही मायनों में एक स्वच्छ व आमजन की राजनीति करना चाहते हैं तो सबसे पहले सुरक्षा कर्मियों, एस्कोर्ट, सरकारी बंगलों जैसी उन तमाम सुख-सुविधाओं को छोडऩे का साहस भी दिखाएं, जो करोड़ों रुपये के सरकारी खजाने को बर्बाद करने का काम कर रहे हैं। 
इनेलो विधायक ने कहा कि जिस तरीके की होड़ भाजपा मुख्यमंत्री, प्रदेशाध्यक्ष व मंत्रियों ने लाल बत्ती हटाने में दिखाई, यदि वह ऐसी ही उत्सुकता मंडियों में किसानों की समस्याओं का निदान करने, बुजूर्गों की पेंशन बढ़ाने, बेरोजगारों को रोजगार देने जैसे जनहितैषी कार्यों में दिखाएं तो सही मायनों में उसे ही वीआईपी कल्चर खत्म होने की शुरूआत माना जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार नियमों को ताक पर रखकर केवल मात्र अपने चहेते विधायकों पर सीपीएस पद के रूप में सरकारी खजाना लुटाने का काम कर रही है। वीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री को अपनी सरकार में नियुक्त किए गए सभी सीपीएस को प्रदान की गई मंत्रियों के स्तर की सुविधाएं वापस लेनी चाहिए। दौलतपुरिया ने कहा कि भाजपा सरकार जनता को रिझाने के लिए केवल मात्र दिखावों की सरकार बनकर रह गई है। उन्होंने स्पष्ट किया कि विधायक चाहे किसी भी पार्टी का हो उसे बत्ती का प्रयोग करने देना चाहिए, क्योंकि उसके पास बत्ती के अलावा अन्य किसी तरह के गार्ड या सरकारी तंत्र का दुरुपयोग करने वाले संसाधन नहीं होते। उन्होंने कहा कि इनेलो जनता के बीच रहकर उनके अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाली पार्टी है। इनेलो सत्ताकाल में स्वयं मुख्यमंत्री औमप्रकाश चौटाला जनता के बीच उनका नुमाईंदा बनकर उनकी समस्याएं खुला दरबार लगाकर सुनते थे। आज भी जनता इनेलो के उस कार्यकाल की मिसाल देती है। इसके विपरित भाजपा ने अपने अब तक के कार्यकाल में सिवाय वीआईपी कल्चर खत्म करने या अन्य लोक लुभावने अभियान चलाने के कोई ठोस कदम जनहित में नहीं उठाया। इस अवसर पर पार्टी के कई प्रमुख पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।

दादरी-दिल्ली मुख्य मार्ग से हटा डिवाइडर, ग्रामीणों, चालकों ने जताया विधायक राजदीप का आभार 


चरखी दादरी : कई सालों से दादरी-दिल्ली मुख्य मार्ग पर गांव मोरवाला से आगे बीच रास्ते बना डिवाइडर आखिरकार हटा दिया गया है। इस समस्या से परेशान आसपास के दर्जनों गांवों के लोगों ने हलके के विधायक राजदीप फौगाट से समाधान की मांग रखी थी। फरवरी माह की तीन तारीख को विधायक राजदीप ने मौका मुआयना किया और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को टूटे हुए सड़क मार्ग के निर्माण व डिवाईडर को रास्ते से हटाने के लिए कहा था। उस दौरान अधिकारियों ने एक माह के अंदर इस कार्य को पूरा करने का भरोसा दिया था। आखिरकार विधायक के प्रयासों से सड़क मार्ग निर्माण शुरू किया गया और अब डिवाइडर को भी हटा दिया गया है। अब इस मार्ग पर आवागमन सरल होगा। विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि यह डिवाडर पिछले कई साल से सड़क हादसों का कारण बन रहा था। रात के समय दिखाई न देने व सड़क के बीचों-बीच होने से चालक संतुलन खो बैठता था। राजदीप ने कहा कि दस साल के हुड्डा शासन में गांव इमलोटा से दादरी तक सड़क मार्ग की अनदेखी की गई। जिस कारण यह मार्ग पूरी तरह खस्ताहाल था। इसी मार्ग पर मोरवाला से आगे बीच रास्ते डिवाईडर आवागमन में बाधा व हादसों का पर्याय बना था। इस समस्या को लेकर गांव बिगोवा, मोरवाला,  इमलोटा, सरूपगढ़, सांतौर के सैकड़ों ग्रामीण उनसे मिले थे। दादरी से इमलोटा सड़क मार्ग का लगभग निर्माण पूरा होने व डिवाईडर हटाए जाने पर विधायक राजदीप फौगाट के प्रयासों की सराहना की है। ग्रामीणों का कहना है कि अब रास्ता भी सीधा हो गया है। पुलिस पर बने इस डिवाईडर के कारण कई हादसे हो चुके हैं। विधायक ने बताया कि करीब 20 करोड़ की लागत से 21.51 किलोमीटर का पूर्व साइज में ही सड़क मार्ग का निर्माण जोरों पर है। विधायक ने कहा कि यहां फोरलेन निर्माण की मांग को लेकर जल्द ही वे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात करेंगे। सरपंच ओमप्रकाश, मोरवाला से सरपंच जयकिशन, सुरेश इमलोटा, नरेश बिगोवा, देशराज, अनूप डूडी, जितेंद्र, अशोक, राजेश, देवेंद्र, रामनिवास  मिर्च, रामकिशन इमलोटा, सन्नी इत्यादि ने कहा कि अब सड़क मार्ग पर आवागमन सरल हो पाएगा।

Thursday, April 20, 2017

एसवाईएल निर्माण को लेकर हथीन के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


इनेलो की ओर से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करने की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत गुरूवार को पलवल जिले के हथीन विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया। धरने का नेतृत्व पलवल जिलाध्यक्ष अजित बाबी व हथीन से इनेलो विधायक केहर सिंह रावत ने किया। इस अवसर पर प्रवीण डागर हलका प्रधान, नछत्तर सिंह मल्हान, कुणाल गहलावत, महेंद्र सहरावत, जीतू दीघोट, सुखराम डागर, उदयवीर सहरावत, दलीप बृजेश, सुंदर रावत, चंद्रपाल, चरण सिंह डागर, मोहन रावत च राजबीर चेयरमैन सहित अनेक प्रमुख इनेलो नेता व पार्टी कार्यकत्र्ता भी मौजूद थे।
इनेलो नेताओं ने धरना स्थल पर इनेलो कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस व भाजपा एसवाईएल पर राजनीति कर रहे हैं और दोनों दलों को हरियाणा के हितों से कोई लेना-देना नहीं है। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के बारे सर्वोच्च न्यायालय हरियाणा के पक्ष में फैसला दे चुका है और अदालत के फैसले अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर है। केंद्र सरकार इस मामले में ढुलमुल रवैया अपनाए हुए है और प्रदेश की भाजपा सरकार भी हरियाणा के हितों की लड़ाई लडऩे में बेहद कमजोरी दिखा रही है। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि  सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार जब तक एसवाईएल के अधूरे निर्माण का काम शुरू नहीं हो जाता तब तक इनेलो कार्यकर्ता इस मुद्दे को लेकर जंतर-मंतर पर अपना धरना जारी रखेंगे। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसके पूरा होने से न सिर्फ हरियाणा को अपने हिस्से का पानी मिल पाएगा बल्कि प्रदेश की बंजर भूमि खुशहाल होने के साथ-साथ लोगों को पीने के पानी के लिए आ रही समस्या भी दूर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल का निर्माण कार्य सबसे पहले चौधरी देवीलाल ने हरियाणा का मुख्यमंत्री रहते हुए पंजाब सरकार से जमीन अधिग्रहण की अधिसूचना जारी करवाकर और इसके लिए पैसों की अदायगी करके शुरू करवाई थी और सबसे ज्यादा निर्माण कार्य भी चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में ही हुआ था। ये बात पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल ने हरियाणा विधानसभा में खूद स्वीकार की थी। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने प्रदेश का मुख्यमंत्री रहते हुए एसवाईएल को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके परिणामस्वरूप अदालत का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इस मामले में हमेशा अड़चनें खड़ा करने का काम किया है और अब भी कांग्रेस किसी न किसी बहाने इस मामले में अड़ंगे लगाने में लगी हुई है। इनेलो नेताओं ने कहा कि पंजाब में कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल को लेकर अलग भाषा बोलते हैं और हरियाणा में आकर उनकी भाषा एकदम अलग हो जाती है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर के दोनों दलों के राष्ट्रीय नेतृत्व को एसवाईएल पर पार्टी का राष्ट्रीय स्तर पर लिए जाने वाला स्टेंड स्पष्ट करना चाहिए ताकि दोहरी भाषा बोलने वाले इन राजनेताओं की वास्तविकता का प्रदेशवासियों को पता चल सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के मुख्यमंत्री पिछले करीब पांच महीनों से प्रधानमंत्री से मिलने का समय नहीं ले पाए हैं जिससे साफ है कि भाजपा के लिए एसवाईएल जैसे अहम मुद्दे की भी कोई गम्भीरता नहीं है। धरने पर बैठे इनेलो कार्यकर्ताओं ने केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार तुरंत पूरा करवाए जाने की मांग की।

Wednesday, April 19, 2017

पिरथला हलके के कार्यकर्ताओं ने जंतर मंतर पर दिया धरना, सरकार के खिलाफ की नारेबाजी



इनेलो एसवाईएल के मुद्दे पर आरपार की लड़ाई लड़ेगी और जब तक नहर का निर्माण शुरू नहीं किया जाता तब तक इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी। यह बात इनेलो नेताओं ने बुधवार को जंतर-मंतर पर इनेलो की ओर से दिए जा रहे अनिश्चितकालीन धरने को सम्बोधित करते हुए कही। इनेलो नेताओं ने केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और भाजपा सरकार पर हरियाणा के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। आज इनेलो नेता देवेंद्र सिंह चौहान व पूर्व विधायक राजेंद्र बिसला के नेतृत्व में फरीदाबाद जिले के पिरथला हलके के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करवाए जाने की मांग की।
धरने में रामजीत भाटी हलका अध्यक्ष, रूपचन्द लांबा, शशिबाला तेवतिया, देवेन्द्र तेवतिया, पवन रावत, अरविन्द भारद्वाज, नछत्तर सिंह मल्हान, कुणाल गहलावत, ठाकुर राजाराम, जगजीत जौर, प्रेम सिंह धनखड़, सन्तोष शर्मा, घासीराम भड़ाना, दुर्गपाल रावत, रविंदर पाराशर, अमर सिंह दलाल, सचिन कौशिक, बोधराज रावत, धर्मबीर कालीरामण, बच्चू सिंह तेवतिया, महाशय इन्दर देव, सावित्री तंवर, अनिल खुटेला, नाहर सिंह धारीवाल, देवी सिंह लांबा, मास्टर अमीचंद, प्रसादी लाल, सोहन लाल तंवर, श्रीपाल, सतप्रकाश, जगमोहन तेवतिया, राजबीर सिंह, मनमोहन अलावलपुर, प्रेम देवी, माया, रेखा, बबिता, ठाकुर प्रताप सिंह, मोनू डागर, सोनू, सुमन मलिक, रचना, शिव देवी, हीरावती, रामदेवी, कांता, ब्रजवती, होरी लाल, महताब सिंह जवान, रत्न सिंह, शिव चरण, कर्मचारी नेता शीलकराम भी मौजूद थे और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नारायण पीडी अग्रवाल ने भी धरनास्थल पर आकर प्रदर्शनकारियों का हौसला बढ़ाया और इनेलो की मांगों का समर्थन किया।
इनेलो नेताओं ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सरकार इस मामले में गम्भीरता दिखाने की बजाय मामले को लटकाने के लिए मात्र टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नही मांग रहा बल्कि अलग राज्य के रूप में अस्तित्व में आने के बाद उसको मिले अपने हिस्से का पानी मांग रहा है। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज हरियाणा के पक्ष में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बावजूद इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा न करना न सिर्फ हरियाणा के साथ घोर अन्याय है बल्कि संवैधानिक मर्यादाओं का हनन और सर्वोच्च न्यायालय की भी अवमानना है। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल का निर्माण पूरा होने से जहां हरियाणा को अपने हिस्से का पूरा पानी मिल पाएगा वहीं प्रदेश की प्यासी धरती खुशहाल होगी और लोगों को पीने के पानी के लिए आ रही दिक्कतें भी दूर हो जाएंगी। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज अलग राज्य बनने के 50 साल बाद भी हरियाणा को अपने जायज हिस्से का पानी पाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि स्व. जननायक चौधरी देवीलाल के संघर्ष के बलबूते पर ही हरियाणा अलग राज्य के तौर पर अस्तित्व में आया था और उन्होंने ही एसवाईएल का निर्माण कार्य करवाने में अहम भूमिका निभाई। इनेलो नेताओं ने कहा कि चौधरी देवीलाल की नीतियों पर चलते हुए इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने हरियाणा के हिस्से का पानी प्रदेश में लाने और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की और उसी का नतीजा था कि एसवाईएल पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाण के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि पिछले दस सालों तक केंद्र व प्रदेश में कांग्रेस की सरकारें थी और उन सरकारों ने एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर इस पर एक शब्द तक नहीं बोला। इनेलो नेताओं ने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से प्रदेश व केंद्र में भाजपा की सरकार है और नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी भी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसलिए इस नहर को केंद्र जल्द पूरा करवाए अन्यथा इनेलो प्रदेश का हक पाने के लिए हर बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने को तैयार है और संघर्ष निरंतर जारी रखेगी।

Tuesday, April 18, 2017

एसवाईएल पर सोनीपत हलके के कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


एसवाईएल को लेकर इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर शुरू किया गया बेमियादी धरना मंगलवार को भी जारी रहा। सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने आज पूर्व विधायक व पार्टी के जिलाध्यक्ष पदम सिंह दहिया, हलका प्रधान सुरेंद्र छिकारा व सुरेंद्र पंवार के नेतृत्व में जंतर-मंतर पर धरना दिया गया और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द पूरा करवाए जाने की मांग करते हुए सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद अभी तक नहर का निर्माण न होना यह दर्शाता है कि कांग्रेस व भाजपा की इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने में कोई रूचि नहंीं है। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसके अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए इनेलो कोई भी बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगी और जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता तब तक इनेलो का आंदोलन जारी रहेगा। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण में स्व. जननायक चौधरी देवीलाल की अहम भूमिका रही और उनके मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए एसवाईएल के लिए पंजाब क्षेत्र में भूमि अधिग्रहण की अधिसूचना जारी हुई और इस नहर के लिए सबसे पहले चौधरी देवीलाल ने ही बतौर मुख्यमंत्री पंजाब को धनराशि दी थी। सबसे ज्यादा निर्माण कार्य भी चौधरी देवीलाल के मुख्यमंत्री रहे हुए हुआ और यह बात खुद पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी बंसीलाल ने हरियाणा विधानसभा में खुले मन से स्वीकार करते हुए कहा था कि सबसे ज्यादा काम चौधरी देवीलाल के समय में हुआ है और वे चौधरी देवीलाल के चाहे राजनीतिक विरोधी हैं इसके बावजूद सच्चाई को झुठलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने एसवाईएल के मामले को ठण्डे बस्ते में डालने का काम किया और चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने मुख्यमंत्री बनते ही इस नहर को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते सर्वोच्च न्यायालय का फैसला 2002 में हरियाणा के पक्ष में आया।


इनेलो नेताओं ने कहा कि इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार ने पुनर्विचार याचिका दायर की और पंजाब की याचिका 2004 में न सिर्फ खारिज हो गई बल्कि सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से अपनी किसी एजेंसी के माध्यम से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के आदेश दिए। इस फैसले में अड़ंगा लगाने के लिए उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने पंजाब विस में नदी जल समझौते रद्द करने वाला बिल पारित कर दिया जो कि पूरी तरह से असंवैधानिक था। 2005 से 2007 तक पंजाब, हरियाणा व केंद्र में कांग्रेस की सरकारें थी लेकिन कांग्रेस ने नहर पूरी करवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। इतना ही नहीं दस साल तक हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार रही और इस दौरान केंद्र में भी कांग्रेस की सरकार थी और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर किसी भी अदालत का कोई स्थगन आदेश नहीं था इसके बावजूद भूपेंद्र हुड्डा के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नहर को पूरा करवाना तो दूर मामले पर पूरी तरह से चुप्पी साधे रखी।
इनेलो नेताओं ने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और इस दौरान पंजाब में भी भाजपा गठबंधन की सरकार रही लेकिन भाजपा नेताओं ने नहर को पूरा करवाने में कोई रूचि नहीं दिखाई। इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री पिछले करीब पांच महीनों से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के मामले में प्रधानमंत्री से मिलने का समय नहीं ले पाए हालांकि उन्होंने कहा था कि वे विपक्षी दलों को साथ लेकर प्रधानमंत्री के समक्ष हरियाणा का पक्ष रखने के लिए समय लेंगे और सर्वदलीय प्रतिनिधिमण्डल लेकर जाएंगे। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा के नेता आज भी एसवाईएल पर दोहरी भाषा बोल रहे हैं। एक तरफ जहां वे पंजाब में हरियाणा को एक बूंद भी पानी न देने की बात करते हैं वहीं हरियाणा में उनकी भाषा अलग होती है और दोनों दलों का आलाकमान आज तक इस मुद्दे पर अपना स्टेंड स्पष्ट नहीं कर पाया है। इनेलो नेताओं ने कहा कि अलग राज्य बनने के बावजूद हरियाणा को उसके हिस्से का पानी न मिलना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है और हरियाणा के साथ घोर अन्याय व सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना भी है। उन्होंने कहा कि इनेलो प्रदेशवासियों को साथ लेकर अपना संघर्ष जारी रखेगी। इस अवसर पर राजकुमार रिढाउ, नछत्तर सिंह मल्हान, युवा जिला प्रधान कुणाल गहलावत, हरिप्रकाश मंडल, प्रोमिला मलिक, जिले सिंह दहिया, जितेंद्र वर्मा, फूल कुमार चोहान, बैयराज दहिया, अंजू अंतिल, मुकेश बागड़ी, डॉ भगत, मास्टर अजमेर, राजेंद्र मलिक व विकास मलिक सहित भारी संख्या में इनेलो नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।

Monday, April 17, 2017

एसवाईएल निर्माण को लेकर इनेलो रोहतक हलके के कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


चंंडीगढ़ : इनेलो की ओर से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर शुरू किए गए अनिश्चितकालीन धरना निरंतर जारी है। इस धरने में सोमवार को रोहतक हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया और एसवाईएल का निर्माण जल्द करवाए जाने की मांग करते हुए सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने में जंतर मंतर रोहतक विधानसभा सतीश नांदल जिला प्रधान रोहतक, राजेश सैनी हल्का प्रधान, रमेश कपूर, रविंदर सांगवान सहित अनेक प्रमुख नेताओं व कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। इनेलो नेताओं ने केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार पर एसवाईएल के मुद्दे पर ढुलमुल रवैया अपनाने और प्रदेश के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा एसवाईएल के मुद्दे पर गम्भीर नहीं है और मामले को लटकाने के लिए आए दिन नए-नए बहाने तलाश किए जा रहे हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि अगर कांग्रेस व भाजपा नेताओं को प्रदेश के हितों की चिंता है तो उन्हें राजनीति से हट कर इनेलो के संघर्ष में शामिल होना चाहिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के साथ ही केंद्र सरकार को इस नहर का निर्माण कार्य शुरू करवाना चाहिए क्योंकि अदालत ने केंद्र को नहर का निर्माण पूरा करवाने की जिम्मेदारी सौंपी है। उन्होंने कहा कि केंद्र अपनी जिम्मेदारी निभाने की बजाय प्रदेश के हितों के साथ खिलवाड़ कर रहा है जो कि हरियाणा की जनता किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेगी और इनेलो के नेतृत्व में निर्णायक संघर्ष करने के मूड में है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल न सिर्फ हरियाणा की जीवनरेखा है बल्कि इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करने से ही प्रदेश की बंजर भूमि उपजाऊ हो सकती है और लोगों को पीने के पानी के संकट से उभारा जा सकता है। इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं मांग रहा बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि अलग राज्य बनने पर हरियाणा को अपने हिस्से में मिला था।

 
इनेलो नेताओं ने कहा कि पिछले 50 सालों से हरियाणा को अपने हक के पानी से वंचित किया जा रहा है और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बावजूद नहर का निर्माण न होना न सिर्फ अदालत की अवमानना है बल्कि संविधान पर भी चोट पहुंचाने का प्रयास है। इनेलो नेताओं ने कहा कि पंजाब के कांग्रेसी मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह ने एसवाईएल के निर्माण को लेकर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बाद पंजाब विधानसभा से एक ऐसा गैर संवैधानिक कानून पारित किया जिसके अंतर्गत नदी जल समझौते रद्द करने की बात कही गई थी और यह बिल देश के संघीय ढांचे पर प्रहार था। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा नहर के निर्माण में अड़ंगे लगाने का काम किया और जब भी नहर का निर्माण शुरू होने की उम्मीद बनती तो कांग्रेस किसी न किसी तरह इसमें अवरोधक खड़े करने का काम करती रही है। उन्होंने कहा कि दस साल तक हरियाणा व केंद्र में कांग्रेस की सरकार रही लेकिन कांग्रेस ने नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई।
 इनेलो नेताओं ने कहा कि पिछले अढाई साल से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और अब भाजपा भी इस मुददे पर टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो इस मुद्दे पर अब निर्णायक संघर्ष लडऩे के मूड में है और जब तक नहर का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो जाता तब तक इनेलो अपना संघर्ष जारी रखेगी। जंतर-मंतर पर दिए गए धरने में पार्टी के अन्य नेताओं के अलावा नछत्तर सिंह महलान, कुणाल गहलावत, चिंटू शर्मा, उमेश देवी, सुनील फोगाट, फूल राणा, जितेंद्र गहलावत, जितेंद्र मालिक, रामचंद्र राठी, सुशील शर्मा, शीला खरैटी व कृष्णा देवी सहित अनेकों इनेलो कार्यकर्ता धरने में शामिल हुए। इस मौके पर पूर्व विधायक स्वामी अग्निवेश ने आज धरने पर आकर इस सतलुज यमुना लिंक नहर को खोदने के लिए दिए जा रहे इनेलो पार्टी के धरने को समर्थन दिया और कहा कि इनेलो प्रदेश के हित में मजबूती से लड़ाई लड़ रही है और इस संघर्ष से निश्चित तौर पर नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने में मदद मिलेगी और प्रदेश की प्यासी धरती नहर बनने से निश्चित तौर पर खुशहाल हो जाएगी।
मंडियों में खानापूर्ति नहीं, किसानों-व्यापारियों की समस्याएं दूर करे सरकार - दौलतपुरिया


फतेहाबाद : इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने प्रदेश की भाजपा सरकार के मंत्री, विधायकों के अनाज मंडी में किए जा रहे दौरों को केवल मात्र खानापूर्ति करने के लिए किया जा रहा राजनीतिक ड्रामा बताया। दौलतपुरिया ने कहा कि गत दिवस फतेहाबाद अनाज मंडी में भी खाद्य एवं आपूर्ति राज्य मंत्री कर्णदेव कंबोज ने भी मात्र 15 मिनट मेें पूरी अनाज मंडी का भ्रमण कर यह स्पष्ट कर दिया कि भाजपा सरकार मंडियों व किसान-आढ़तियों के सामने आ रही दिक्कतों को लेकर कितनी गंभीर है। इनेलो विधायक ने आज पार्टी पदाधिकारियों संग अनाज मंडी में काम कर रहे मजदूरों के साथ-साथ आढ़तियों से भी उनकी समस्याएं जानी। इस दौरान आढ़तियों-मजदूरों ने साफ कहा कि गत दिवस भाजपा सरकार में मंत्री कर्णदेव कंबोज बिना उनकी समस्याएं जाने केवल मात्र मंडी का भ्रमण करके वापस चले गए, जबकि मंडी में गेंहू उठान के लिए वाहनों की समस्या, मजदूरों के लिए पेयजल व्यवस्था आदि गंभीर रूप लिए हुए है। दौलतपुरिया ने उन्हें आश्वस्त किया कि यदि सरकार उनकी समस्याओं के निदान के प्रति गंभीर होकर कोई ठोस नीति नहीं बनाती तो इनेलो जिला मुख्यालयों पर लघु सचिवालय का घेराव करने जैसे कदम उठाने से पीछे नहीं हटेगी। 
बलवान दौलतपुरिया ने कहा कि खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कर्णदेव कंबोज ने जिस तरीके से मंडिय़ों में ई-टे्रडिंग से आढ़तियों की मुफ्त की कमीश्नखोरी खत्म होने जैसा असंसदीय ब्यान दिया है, उसकी जितने कड़े शब्दों में निंदा की जाए वह कम है। उन्होंने कहा कि अनाज मंडिय़ों में व्यापार को गतिमान रखने में आढ़ती और किसान एक-दूसरे के पूरक है। इतना ही नहीं जब कभी किसान को संकट के समय आर्थिक मदद या किसी अन्य तरह की सहायता की जरूरत पड़ती है तो मंडी का आढ़ती ही अपने किसान साथी की मदद को आगे आता है, न कि सरकार। मंडियों में आढ़ती मेहनतकश वर्ग का अहम हिस्सा है, ऐसे में उसे मुफ्तखोर कह कर राज्य मंत्री ने व्यापारी वर्ग के प्रति भाजपा सरकार की सोच का प्रमाण दिया है। इनेलो विधायक ने इस ब्यान पर माफी मांगने तक की बात कहते हुए कहा कि किसानों और व्यापारियों में फूट डाल कर भाजपा के मंत्री जिस तरीके से अपने राजनीतिक हित साधने में लगे हुए है, वह एक ओच्छी राजनीति का परिचायक है। उन्होंने कहा कि इनेलो मंडी में बिना किसी भेदभाव के मजदूरों, किसानों के साथ-साथ व्यापारियों की समस्याओं का हल करवाने के लिए भी संकल्पबद्ध है। इस अवसर पर उनके साथ युवा नेता पवन ढाका, विकास मेहता, धीरज शर्मा, पवन चुघ आदि उपस्थित थे।
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर के मंडियों में दौरे के दौरान भाजपा पर कांग्रेस सरकार में लगे शिलान्यास पत्थर उखाडऩे जैसी प्रतिक्रियाओं को इनेलो विधायक ने हास्यस्पद करार दिया। इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने कहा कि यदि उनका अनाज मंडियों का दौरा किसान, व्यापारी और मजदूरों की समस्याओं को जान उन्हें दूर करवाने के लिए था तो उन्हें अपने कार्यकाल में लगाए गए पत्थरों का रोना रोने की बजाय, उनकी समस्याओं को गंभीरता से उठाने की तरफ ध्यान देना चाहिए था। साथ ही दौलतपुरिया ने कहा कि जिन शिलान्यास पत्थरों का जिक्र कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष तंवर कर रहे हैं, कांग्रेस ने अपने दस साल के कार्यकाल में केवल मात्र 2 बार शिलान्यास पत्थर ही लगावाए। पहला पत्थर पूर्व सीएम भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने लगाया तो दूसरा कांग्रस प्रदेशाध्यक्ष ने, जबकि 10 साल में कांग्रेस अनाज मंडी की चार दीवारी को पूरा करवाने तक का काम नहीं कर पाई। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार में भी अपने स्तर पर उन्होंने लगातार फतेहाबाद अनाज मंडी को शुरू करवाने का मुद्दा विधानसभा में रखा, सीएम के समक्ष पत्रों के माध्यम से भी इसे जल्द पूरा करवाने की मांग उठाई तब भाजपा सरकार ने मामला उछलता देख इसे पूरा करवाने का काम किया।

Friday, April 14, 2017

नेता प्रतिपक्ष सहित अनेक प्रमुख नेताओं ने कार्यक्रमों में लिया हिस्सा, संविधान निर्माता को श्रद्धासुमन अर्पित किए


सिरसा : संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 126वीं जयंती पर इनेलो की ओर से प्रदेशभर में पूरी श्रद्धा और सम्मान के साथ मनाई गई। पार्टी की ओर से बाबा साहेब की याद में सभी जिला मुख्यालयों पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किए गए जिनमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया और बाबा साहेब को श्रद्धासुमन अर्पित किए। इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने सिरसा में आयोजित कार्यक्रम में बाबा साहेब को श्रद्धांजलि अर्पित की और लोगों से बाबा साहेब की नीतियों पर चलते हुए आपसी सद्भाव और भाईचारा बनाए रखने की अपील की गई। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इनेलो ने सत्ता में रहते हुए बाबा साहेब की नीतियों पर चलकर दलित वर्ग के लिए अनेक कल्याणकारी नीतियां बनाकर उन्हें लागू किया और समाज के हर वर्ग के उत्थान के लिए काम किया।


नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पिछले साल बाबा साहेब की 125वीं जयंती को इनेलो ने पूरा वर्ष सद्भावना समारोह के रूप में मनाकर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए थे और प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों व हलकों में विशेष सद्भावना कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा महापुरुषों का सम्मान नहीं कर रही बल्कि कोरी घोषणाएं करके लोगों को बहकाने में लगी हुई है। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता सिरसा के सांसद चरणजीत सिंह रोडी ने की और विशिष्ट अतिथियों में विधायक मक्खन लाल सिंगला, रामचंद कम्बोज व बलकौर सिंह ने हिस्सा लेते हुए संविधान निर्माता को श्रद्धासुमन अर्पित किए और सांसद चरणजीत सिंह रोडी ने सिरसा में अम्बेडकर भवन के मुख्य गेट व बाबा साहेब की प्रतिमा की स्थापना के लिए अपने सांसद कोष से 15 लाख रुपए दिए जाने की घोषणा की। इस अवसर पर अम्बेडकर सभा के प्रधान आत्मा प्रकाश मेहरा भी मौजूद थे। 


जींद में आयोजित बाबा साहेब की 126वीं जयंती समारोह में इनेलो विधायक पिरथी सिंह नम्बरदार, पूर्व विधायक कलीराम पटवारी, सूरजभान काजल, कृष्ण मिढडा, हरीश अरोड़ा, झंडी राम चौहान, चंद्रभान इगरा, बिजेंद्र रेडू व गुरदीप सांगवान सहित अनेक प्रमुख नेता मौजूद थे।


रेवाड़ी में पूर्व विधायक गंगा राम, डॉ. राजपाल यादव, टेकचंद सैनी, जगदीश प्रसाद डहीनवाल, डॉ. रविद्र कुमार, पवन धनकोट, सुरेंद्र मोरिया, रामप्रकाश तोंदवाल, वीडी मेहरा, मुंशीराम, सतीश कुमार, सौरव, जोगेंद्र यादव व राजवंत सिंह डहीनवाल ने बाबा साहेब को पुष्प अर्पित किए। 


करनाल में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व विधायक मामू राम गोंदर, बृज शर्मा, भीमा सिंह जलाला, मनोज वधवा, ओमप्रकाश सलूजा, ज्ञान सिंह चावला, प्रहलाद चहल, फूल सिंह मंजूरा, जयपाल पुनिया, राजेश पधाना, सोनिका गिल व हाकम सिंह ने बाबा साहेब को श्रद्धांजलि अर्पित की।



इसके अलावा भिवानी, अम्बाला, यमुनानगर, कैथल, झज्जर, पलवल, फरीदाबाद, मेवात व महेंद्रगढ़ में भी बाबा साहेब की जयंती पर विशेष कार्यक्रम आयोजित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई और उनके दिखाए रास्ते पर चलने का संकल्प लिया गया।


पंजाबी धर्मशाला में श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाई गई बाबा साहेब जी की जयंती
 

कुरुक्षेत्र : इनेलो द्वारा बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की 126वीं जयंती स्थानीय पंजाबी धर्मशाला में श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बाबा साहेब को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि बाबा साहेब ने सद्भावना और समरसता का संदेश दिया था। समाज में आपसी भाईचारा और सद्भावना रखकर ही बाबा साहेब को सच्ची श्रद्धांजलि दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि इनेलो ने पूरा वर्ष प्रदेश में सद्भावना स मेलन आयोजित करके बाबा साहेब की जयंती मनाई है। इनेलो समाज के बीच में आपसी भाईचारा कायम रखने के लिए प्रतिबद्ध है। अरोड़ा ने कहा कि बाबा साहेब द्वारा बनाए गए सविंधान के कारण ही आज देशवासियों को सवैधानिक अधिकार मिले हुए हैं। महापुरुष किसी एक जाति या वर्ग के नहीं होते बल्कि पूरे समाज के होते हैं। इस अवसर पर जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, रामकरण काला, चंद्रभान बाल्मीकि, रणबीर किरमिच, सुरेश सैनी, सरपंच संदीप बाल्मीकि अजराना, पूर्व पार्षद ओमप्रकाश ओपी, दीपक, मांगे राम पूर्व सरपंच, सुभाष बटेहड़ी, जीत सिंह शेर, गुलशन बाल्मीकि, सुरेंद्र सैनी, अजायब सिरसला, रविंद्र चनारथल, सुभाष मिर्जापुर, राजेश सैनी, हरप्रीत भ_ी सहित अनेक इनेलो नेताओं ने बाबा साहेब की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित करके उन्हें नमन किया।



बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कार्यक्रम आयोजित किया गया 


फतेहाबाद : इनेलो की जिला फतेहाबाद इकाई ने बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की 126वीं जयंती के उपलक्ष्य में फतेहाबाद के लालबत्ती चौक पर माल्यार्पण कार्यक्रम आयोजित किया। कार्यक्रम में फतेहाबाद के विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया व रतिया विधायक रविंद्र बलियाला पहुंचे और डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम में उपस्थिजनों को संबोधित करते हुए विधायक बलवान सिंह व रविंद्र बलियाला ने कहा कि अंबेडकर बहुत प्रतिभाशाली एवं जुंझारू लेखक थे। उन्होंने अपने समकालिन सभी राजनेताओं की तुलना में सबसे अधिक लिखा है। सामाजिक संघर्ष में हमेशा सक्रिय और व्यस्त होने के बावजुद भी उनकी इतनी सारी किताबें, निबंध, लेख एवं भाषणों का इतना बड़ा यह संग्रह वाकई अद्भुत हैं। वे असामान्य प्रतिभा के धनी थे और यह प्रतिभा एवं क्षमता उन्होंने अपने कठिन परिश्रम से हासिल की थी। वक्ताओं ने कहा कि डॉ. भीमराव ने देश में निम्र वर्ग के उत्थान के लिए जमीन से जुडक़र कार्य किया और उनके परिश्रम की बदौलत आज निम्र वर्ग सामान्य वर्ग के समान मुख्यधारा में आगे बढ़ रहा है। डॉ. भीमराव ने जिस तरह से निम्र व कमजोर वर्ग की आवाज बने उसी तरह हमें भी चाहिए कि बाबा साहेब से प्रेरणा लेकर उनके दिखाए मार्ग पर चलें और पिछड़े, निम्र व कमजोर वर्ग के लोगों को हक दिलाने के लिए हम आगे रहें। इनेलो विधायकों ने कहा कि पिछले वर्ष स्व. देवीलाल जी के सम्मान दिवस समारोह को डॉ. भीमराव को समर्पित कर सद्भावना दिवस के रूप में मनाया था। इनेलो सभी वर्गों को साथ लेकर चलने वाली पार्टी और इसी के चलते पार्टी की ओर से डॉ. भीमराव अंबेडकर जयंति के अवसर पर प्रदेश के सभी जिलों में माल्यार्पण कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। इसी के तहत फतेहाबाद में भी लालबत्ती चौक पर कार्यक्रम आयोजित अंबेडकर जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर इनेलो जिला प्रधान बलविंद्र सिंह कैरों, हलका प्रधान भरत सिंह परिहार, बिकर सिंह हड़ौली, कुलजीत कुलडिय़ा, मोलूराम रूल्हानिया, सरोज सांगा, विद्या रत्ति, पवन चुघ, डॉ. रणजीत ओड, विकास मेहता, गुरचरण सिंह, सतबीर दहमन, हरि सिंह हड़ौली, दुर्जन सिंह, राजकुमार ओड, नरेश वाल्मीकि, फीकाराम ओड सहित अनेक पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे।
इनेलो कार्यकर्ताओं ने लिया सामाजिक सौहार्द बनाने का संकल्प


हिसार : समाज के सभी वर्गों के हितों के लिए कार्य करना ही बाबा साहब भीम राव अम्बेडकर को सच्ची श्रदांजली होगी। यह बात इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बहादुर सिंह नायक ने कही। वे शुक्रवार को देवीलाल सदन मे बाबा साहब भीम राव अम्बेडकर की 126 वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम के प्रभारी के तौर पर इनेलो कर्तकर्ताओ को सम्बोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता इनेलो अनुसूचित प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष डॉ सत्यनारायण मंगाली ने की, वहीं इनेलो जिला अध्यक्ष राजेंद्र लितानी कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। इससे पूर्व इनेलो कार्यकर्ताओ ने डॉ भीम राव अम्बेडकर की मूर्ति पर पुष्प व माल्यार्पण करके उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी और उनके दिखाये मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। कार्यक्रम को इनेलो जिला अध्यक्ष राजेंद्र लितानी, इनेलो विधायक रणवीर गंगवा, वेद नारंग, अनूप धानक, राष्टीय सचिव चतर सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष सतवीर वर्मा व विक्रांत बागड़ी ने भी सम्बोधित किया। 


कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रभारी बहादुर सिंह नायक ने कहा कि जननायक चौधरी देवी लाल भी बाबा साहब अम्बेडकर की जीवन शैली से बड़े प्रभावित थे। उन्होंने भी अपने जीवन में बाबा साहब से प्रेरणा लेकर समाज के वंचित वर्ग के उत्थान के लिए कार्य किये। यंहा तक कि जब वे देश के उप प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने बाबा साहब को देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न दिलवाने में अहम भूमिका निभाई। इनेलो नेता नायक ने कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर ने समता, समानता और स्वाधीनता का नारा देकर शोषित व वंचित समाज को ऊपर उठाने का भरसक प्रयास किया। उनके बनाए गए संविधान के कारण ही आज भारत को विश्व का सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश होने का गौरव प्राप्त है। हमें ऐसे महापुरुष के दिखाए मार्ग पर चलने का प्रण लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि डॉ. अंबेडकर ने संविधान के माध्यम से सभी को समान अधिकार दिलाए। विशेष तौर पर महिलाओं व शोषित समाज के उत्थान के लिए किए गए कार्यों के लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा। उन्होनें कहा कि आज हमें उनके सिद्धांतों को अपनाने की जरूरत है, तभी हम जात पात व भेदभाव को जड़ से खत्म कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि महापुरुष किसी जाति व समाज के नहीं होते, बल्कि वे पूरे देश के पूजनीय होते हैं।  उन्होंने कहा कि डॉ. अंबेडकर ने हमेशा से ही शोषित व वंचित वर्ग को ऊपर उठाने का भरसक प्रयास किया। उन्होनें शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करोÓ का  नारा देकर एक अलग क्रांति की शुरूआत की थी, जो आज के दौर में भी पूरी तरह से प्रासंगिक है। बाबा साहब अम्बेडकर ने पीडि़त, उपेक्षित, महिलाओं आदि को शिक्षा, आरक्षण, सामाजिक और आर्थिक स्तर पर अधिकार देते हुये मजबूत किया। उन्होंने उपस्थित कार्यकर्ताओं व नागरिकों से आह्वान किया कि वे वे डॉ. अंबेडकर के दिखाए मार्ग पर चलते हुए देश व प्रदेश के विकास में अपना सहयोग दें। इस मौके पर हरफूल खान भट्टी, राज सिंह मोर, सतबीर सिसाय, सजन लावट, सतपाल सरपंच, भागीरथ नम्बरदार, डॉ उमेद खन्ना, सतबीर मुंगेरिया, राज कुमार बाल्मिकी, डॉ राज कुमार दिनोदिया, सत्यवान बिछपड़ी, ललिता टाक, श्रवण बागड़ी, मुकेश डुलक्च, शंकर गहलोत, पोटु राम बाल्मिकी, रणधीर पुनिया, कैप्टेन छाजू राम, एड़वोकेट मनदीप बिश्नोई, राजेश बिल्लू, पिरथी सिंह डाबला, रामफल गुराना, नफे सिंह देवां, रवि नागर, गुलाब सिंह खेदड़, कृष्ण खरकड़ी, रामदिया, जगन बाल्मिकी,मास्टर दलबीर सहित बहुत से कार्यकर्ता उपस्थित थे।
भाईचारे को कायम रखकर बाबा साहेब के दिखाए रस्ते पर चलकर ही सम्भव है देश का समुचित विकास - पदम् दहिया 


सोनीपत : इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विधायक पदम सिंह दहिया ने कहा हरियाणा की जनता को जातपात का जहर फैलाने वाले लोगों से सावधान रहकर आपसी भाईचारा बनाए रखना चाहिए। दहिया शुक्रवार को इनेलो जिला सोनीपत के सैकड़ो कार्यकर्ताओं के साथ  अम्बेडकर पार्क सोनीपत में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 126 वीं जयंती के अवसर पर कार्यकर्ताओं साथ मिलकर पुष्प अर्पित किए और लडडू बाटें।  
जयंती के अवसर पर उपस्थित कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए दहिया ने कहा कि हरियाणा चौधरी देवीलाल के संघर्ष से अस्तित्व में आया प्रदेश है और इनेलो चौधरी देवीलाल और बाबा साहेब की नीतियों पर चलते हुए कांग्रेस व भाजपा को प्रदेश का आपसी भाईचारा बिगाडऩे और प्रदेश को किसी भी कीमत पर बर्बाद होने नहीं देगी। 
पूर्व विधायक रमेश खटक ने कहा हमें बाबा साहेब के कार्यो से प्रेरणा लेकर समाज के उत्थान के लिए काम करना चाहिए। खटक ने कहा गरीब समाज को अपने बच्चों की पढ़ाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए। खटक ने कहा इनेलो पार्टी जरूरतमदं छात्रों के कल्याण के लिए हमैशा आगे रहती है। 
इस मौके पर ब्रिगेडियर ओ. पी. चौधरी ने कहा बाबा साहेब के दिल में गरीब समाज के लिए पिड़ा थी, उन्होने गरीबों के उत्थान के लिए अनेक कार्य किए। बाबा साहेब हमेशा गरीब व अमीर की खाई को पाटना चाहते थे। 
इस मौके पर ब्रिगेडियर ओ. पी. चौधरी,पूर्व विधायक रमेश खटक, सुरेन्द्र पवार, प्रोमिला मलिक, जिला प्रवक्ता फुलकुवार चौहान, सुरेन्द्र छिक्कारा, हरिजन सैल के जिलासयोंजक हरिप्रकाश मण्डल, कुणाल गहलावत, जितेन्द्र वर्मा, संजय मलिक, मुकेश बागडी, अंजू बाला खटक, रवि दहिया, प्रो. बंसीलाल कुण्डू,  विकास मलिक, आशीष सुहाग, प्रदीप सैनी, संदीप गहलावत, निर्मला खत्री, सुनीता देवी, भीम मेहरा, एडवोकेट नकीन मेहरा, राहूल आंतिल, आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे। 

बाबा साहेब द्वारा बनाये गए संविधान की बदौलत हम खुलकर लेते हैं साँस - सतीश नांदल


रोहतक : भारतवर्ष के सबसे बड़े सम्मान भारत रत्न से सुशोभित, संविधान रचियेता, महान शिक्षाविद, दूरदर्शी सोच के धनी डॉ बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर का जीवनकाल बचपन से ही संघर्ष भरा रहा था। बाबा साहेब का जन्म महाराष्ट्र के जिला महू में 14 अप्रैल वर्ष 1891 को एक दलित परिवार में हुआ था। बचपन से पढाई के शौकीन बाबा साहेब प्रतिदिन सुबह जल्द उठकर पढ़ने बैठ जाते थे। वे बचपन से ही छुआछूत, भेदभाव के शिकार होते रहे। उच्च कोटि की पढ़ाई हेतु वे अमेरिका गये। अमेरिका से पढाई कर जब उन्होंने फिर से छुआछूत को महसूस किया तो उन्होंने इस अन्याय के विरुद्ध बिगुल बजा दिया। उन्होंने बहुजन समाज ही नही अपितु पिछड़े वर्ग के लोगों व महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई लड़ने का काम किया था। उक्त कथन इनेलो के जिलाध्यक्ष व प्रदेश प्रवक्ता सतीश नांदल ने कहे।
इनेलो नेता सतीश नांदल ने कहा कि भारत में सदियों से बहुजन समाज को अन्याय व गुलामी का शिकार रहा है। अनेक समाज सुधारकों ने समय समय पर इस अन्याय से मुक्ति दिलवाने का प्रयास किया परन्तु बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर ने इस गुलामी को जड़ से उखाड़ने का काम किया। बाबा साहेब ने मानवतावादी संविधान लिख कर न केवल बहुजन समाज को एक नया जीवन दिया अपितु छत्तीस बिरादरी के हित । उन्होंने समानता, स्वतंत्रता का दिलाकर न केवल समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का कार्य किया। 


सतीश नांदल ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए की आज प्रदेश के अंदर इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो छत्तीस बिरादरी को साथ ले कर चलती है। जननायक ताऊ देवीलाल का सपना था कि समाज के अंदर प्रत्येक वर्ग को उनका अधिकार मिलना चाहिए। उन्होंने दलित, पिछड़े ओर पीड़ित वर्ग के लोगों के लिए मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए अनेकों जनकल्याणकारी नीतियां बनाने का काम किया। ताऊ देवीलाल ने ही प्रदेश में दलित तबके को न केवल राजनीति में लाकर अपितु विधानसभा में भेजकर अपनापन दर्शाने का काम किया। जननायक ताऊ की नीतियों का अनुसरण करते हुए ही इनेलो सुप्रीमो चौधरी औमप्रकाश चौटाला ने भी दलित पिछड़े वर्ग के तबके को न केवल विधानसभा अपितु हिंदुस्तान की सबसे बड़ी पंचायत के सदस्य बनाने का काम किया। इनेलो ने पिछले वर्ष भी प्रदेश के सभी हल्कों में बाबा साहेब की जयंती पर सद्भावना सम्मेलन आयोजित कर बाबा साहेब को याद करने का काम किया। सतीश नांदल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अनुरोध करते हुए कहा कि हमे आज बाबा साहेब के दिखाये हुए मार्ग पर चलने की जरूरत है।
दलित प्रकोष्ठ के जिला संयोजक सूरत सिंह खटक ने भी बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि दलितों, दबे कुचले वर्ग की आवाज को उठा कर उन्हें समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का काम किया। वे प्रत्येक तबके की आवाज थे। बाबा साहेब की बदौलत ही हम खुलकर साँस लेते हैं।
इस अवसर पर सूरत सिंह खटक, राजन बोहत, दर्शन आसन, हवासिंह धानक, काला काहनौर, शिवा वैध, विष्णु बिड़लान, राजकुमार तंवर ईटीओ, हरिसिंह खटक, महेंद्र सुंडाना, मुकेश चहल, जगदीश किराड़, सूरज देहराज, श्यामफूल धानक, सुभाष भगवतीपुर इत्यादि के अलावा दलित व पिछड़े वर्ग के मौजीज व्यक्ति विशेष रूप से मौजूद थे।

इनेलो कार्यकर्ताओं ने डॉ भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर किया याद 


पानीपत : इनैलो जिला पानीपत कार्यकारिणी द्वारा सविधान निर्माता बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर जी की 126वीं जयन्ती लघु सचिवालय, पानीपत में स्थित बाबा साहेब की प्रतिमा को फूल मालाए अर्पित कर मनाई गई। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता इनैलो जिला अध्यक्ष श्री शुगन चन्द रोड जी ने की।  
इस जयन्ती के अवसर पर जिलाध्यक्ष शुगन चन्द रोड, जिला पार्षद दयानन्द उरलाना, प्राण रत्नाकर, सुरेश भटटी, मा0 बलबीर सिंह ने अपने-अपने सम्बोधन में डा0 भीम राव अम्बेडकर की जीवनी का उल्लेख किया। 
इस अवसर पर जिला प्रैस संयोजक शेर सिंह खर्ब, एडवोकेट, कुलदीप राठी, सूबेदार प्रताप, प्रेमलता छौक्कर, बलराज देशवाल, जयदेव नौलथा, कृष्ण भौक्कर, सुरेन्द्र शर्मा, गुरदास मौर्य, महेन्द्र डाहर, कपूर सिंह, अंकित, महेन्द्र नरायणा, सुखबीर थर्मल, महाबीर गिल, नरेश डाहर, रणबीर आदि मुख्य रूप से मौजूद रहें। 

इनेलो कार्यालय में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई डॉ भीमराव अम्बेडकर की जयंती 




गुड़गांव : गुड़गांव के सैक्टर 12 स्थित इंडियन नैशनल लोकदल के जिला कार्यालय पर पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा बाबा साहेब की तस्वीर पर फूल माला व पुष्प अर्पित कर संविधान निर्माता व भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर का 126 वां जन्मदिवस बड़े धूम धाम से मनाया। उक्त जानकारी पार्टी प्रवक्ता कपिल त्यागी ने प्रैस के नाम जारी विज्ञप्ति में कहे। इस अवसर पर पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत ने कहा कि आज हम सभी इनेलो कार्यकर्ता बाबा साहेब के दिखाये रास्ते पर चलकर समाज को शिक्षित, संगठित व संघर्षशील बनाने की प्रण लेते है। उन्होंने कहा कि आज हमें जो संवैधानिक अधिकार मिले हुए है वे सभी बाबा साहेब की देन है। श्री गहलोत ने कहा कि बाबा साहेब ने समाज सुधार के लिए अनेक आन्दोलनों को प्रेरित किया व श्रमिकों व महिलाओं के अधिकारों का समर्थन किया। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री व भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार थे जिन्हें मराणोपरान्त भारत रत्न से सम्मानित किया गया। बाबा साहेब ने अपनी दूरगामी सोच का इस्तेमाल करते हुए समाज के प्रत्येक वर्ग के नागरिकों को वोट डालने का अधिकार प्रदान किया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष एंव पूर्व विधायक गंगाराम, रमेश दहिया, सन्तलाल जोतरीवाल, देवा प्रधान, प्रताप कदम, सुखबीर तंवर, रणधीर सिंह, कीर्ति प्रसाद, कांसीराम पूर्व सरपंच, साहब सिंह सोलंकी, नारायण सरपंच, गौरव छौक्कर, जितेन्द्र पंवार, विक्रम छौक्कर, नरेश खरब, प्रताप सिंह सहित अनेक कार्यकर्ता एंव पदाधिकारी उपस्थित थे।