Sunday, April 30, 2017

इनेलो के पहली मई से दिए जाने वाले धरनों में एसवाईएल व बिजली-पानी मुद्दा उठाएगी इनेलो

इनेलो की ओर से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करने की मांग को लेकर पहली मई से शुरू किए जा रहे विधानसभा क्षेत्र स्तरीय धरनों में प्रदेश में मौजूदा बिजली-पानी संकट को भी प्रमुखता से उठाया जाएगा और रोजाना एक विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ता अपने उपमण्डल मुख्यालय अथवा जिला मुख्यालय पर धरने दिया करेंगे। इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बताया कि धरनों के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को अलग-अलग जिलों का प्रभारी नियुक्त किया गया है और पहली मई से 31 मई तक दिए जाने वाले धरनों के कार्यक्रम को अंतिम रूप भी दे दिया गया है। उन्होंने बताया कि इन धरनों में पार्टी कार्यकर्ता एसवाईएल का निर्माण जल्द पूरा करने और बिजली-पानी संकट दूर किए जाने की मांग को लेकर स्थानीय प्रशासन के माध्यम से सरकार को ज्ञापन भी सौंपेंगे।
इनेलो नेताओं ने बताया कि नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला सोनीपत, रोहतक, झज्जर व पानीपत जिलों के, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा भिवानी, दादरी, रेवाड़ी, महेंद्रगढ़ व कुरुक्षेत्र जिलों के, पूर्व सीपीएस रामपाल माजरा सिरसा व फतेहाबाद, इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला जींद व हिसार, विधायक दल के उपनेता व पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू अम्बाला, कैथल व पंचकूला, पूर्व स्पीकर सतबीर सिंह कादियान गुडग़ांव, करनाल व यमुनानगर और पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत, मेवात, पलवल व फरीदाबाद जिलों के इन धरनों के लिए प्रभारी नियुक्त किए गए हैं। इन धरनों में इनेलो के इन जिला प्रभारी नेताओं के अलावा पहले से नियुक्त हलका प्रभारी, स्थानीय विधायक, सांसद, पूर्व विधायक, पूर्व मंत्री व पार्टी के स्थानीय नेता भी प्रमुख रूप से हिस्सा लेंगे। 
इनेलो नेताओं ने बताया कि 1 मई को झज्जर जिले के बहादुरगढ़, 2 मई को महेंद्रगढ़ जिले के अटेली, 3 मई को भिवानी विस क्षेत्र, 4 मई को पलवल व 5 मई को जींद जिले के जुलाना विस क्षेत्र के कार्यकर्ता धरने व प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे। उन्होंने बताया कि 8 मई को सोनीपत जिले के राई, 9 मई को पानीपत जिले के इसराना, 11 मई को  करनाल जिले के घरौंडा, 12 मई को कुरुक्षेत्र जिले के शाहबाद, 15 मई को कैथल जिले के चीका, 16 मई को जींद जिले के नरवाना, 17 मई को महेंद्रगढ़ जिले के नारनौल, 18 मई को भिवानी जिले के बवानीखेड़ा व 19 मई को हिसार जिले के नारनौंद विस क्षेत्र के कार्यकर्ता धरने में हिस्सा लेंगे। उन्होंने बताया कि 22 मई को मेवात जिले के पुन्हाना, 23 मई को फतेहाबाद जिले के रतिया, 24 मई को भिवानी जिले के बाढड़ा, 25 मई को अम्बाला जिले के अम्बाला शहर, 26 मई को यमुनानगर जिले के रादौर, 29 मई को करनाल जिले के नीलोखड़ी, 30 मई को हिसार जिले के आदमपुर व 31 मई को सिरसा जिले के कालांवाली हलके के इनेलो कार्यकर्ता धरने व प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे और प्रशासन के माध्यम से सरकार को ज्ञापन सौंपेंगे।
सांसद दुष्यंत चौटाला ने एसपी कार्यालय में किया सीसीटीवी कैमरा परियोजना का उदघाटन


 हिसार :  दो वर्ष की जद्दोजहद के बार आखिर हिसार नगरवासियों को सीसीटीवी कैमरों की सौगात मिल गई। देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज एसपी कार्यालय में सीसीटीवी कैमरे परियोजना का उदघाटन किया। करीब 15 लाख की इस योजना को हिसार वासियों को समर्पित करने के बाद सांसद दुष्यंत चौटाला ने बरवाला और हांसी मेंं भी सीसीटीवी कैमरे लगाने की घोषणा की। दुष्यंत चौटाला ने इन दोनों शहरों में सीसीटीवी लगाने की येाजना पर काम करने को कहा है ताकि जलद से जल्द वहां भी कैमरे लगए जा सकें। हिसार में सीसीटीवी परियोजना के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला ने एसपी मनीषा चौधरी व डीएसपी जितेंद्र सिंह का आभार व्यक्त किया। 
हिसार नगर में विभिन्न स्थानों पर सांसद निधि कोष से 15 लाख रूपये की लागत से 14 स्थानों पर 41 कैमरे लगाए गए हैं। इन कैमरों को सीधा एसपी कार्यालय में स्थित कंट्रौल रूम से जोड़ा गया है। कंट्रौल रूप में दो बड़ी स्क्रीन लगाई गई हैं जहां तैनात पुलिस कर्मी 24 घंटे इन कैमरों के माध्यम से 14 बिंदुओं पर अपनी पैनी निगाह रखेंगे। उद्घाटन के बाद सांसद दुष्यंत चौटाला ने स्वयं ने स्क्रीन पर मिल रहे इनपुट की की गुणवत्ता, उनका रेजोल्यूशन तथा पिक्चर की क्वालिटी चैक की।  


सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि अपराधों पर लगाम लगाने मं सीसीटीवी कैमरों की अहम भूमिका हो रहेगी। उन्होंने कहा कि कई बड़ी वारदातों में शामिल अपराधी सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से ही पुलिस की गिरफ्त में आए हैं। उन्होंने कहा कि हांसी पूरे हरियाणा में अपराधिक गतिविधियों में अव्वल रहा है। निसंदेह सीसीटीवी कैमरों से अपराधों में कमी आएगी। उन्होंने कहा कि जब तक लोग निर्भय नहीं होंगे तब वह अपनी वाणिज्यिक व सामाजिक गतिविधियां नहीं चला सकते। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास है कि हिसार लोकसभा क्षेत्र में अपराधिक गतिविधियों पर पूरी तरह से लगाम लगे। उदघाटन के समय विधायक वेद नांरग, सत्यवान विचपड़ी, सतपाल पालू, कर्ण सिंह दैप्पल,  एडवोकेट मनदीप बिश् नोई, अमित ग्रोवर, सिल्क पूनिया सहित अन्य लोग उपस्थित थे। 
जिले में बिजली व पानी की बढ़ती समस्या के समाधान के लिए सांसद दुश्यंत चौटाला ने बिजली व जल आपूर्ति विभग के अधिकारियों के साथ बैठक की और उन्हें लोगों को पर्याप्त मात्रा में बिजली व पानी उपलब्ध करवाने के कड़े निर्देश दिए। सांसद दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों से जवाबतलबी की तो अधिकारियों ने कहा कि 31 मई तक सतरोड़ में बन रहे जलापूर्ति घर से शहर में जलापूर्ति शुरू कर दी जाएगी। गांव बुड़ाक व बधावड़ सहित कई गांवों के साथ हिसार शहर के मिलगेट क्षेत्र ,कालोनियों व सेक्टरों  में पेयजल की समस्स्या पर भी बैठक में रखी गई। बालसमंद क्षेत्र नहरी पानी की कमी और लोगों को पीने का पानी न मिलने बात अधिकारियों के सामने रखी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों ने जब हुड्डा अधिकारियों से पानी के टैंकर के लिए लोगों को पेमेंट करने का आधार जाना तो वे इसका जवाब नहीं दे पाए। अधिकारियों ने सांसद को बताया कि ऐसा कोई उनके पास सर्कुलर तो नहीं है और यह फैसला अधिकारी स्तर का है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने टोकस-पातन गांव में नहर के उपर पुल के निर्माण में हो देरी के लिए भी नहरी विभाग के अधिकारियों के साथ जवाबतलबी की। 

गांव जुगलान बना देश का पहला फ्री वाईवाई युक्त गांव


हिसार : ईब तो गाम म्ह मुफ्त का इंटरनेट लाग ग्या, ताई ईब त तूं भी इंटरनेट चलाणा सीख ले, तांसले भी छुड़वा दूंगा, मोबाइल पर रोटी बनाने के नए नए तरीके सिखयगी त ताऊ भी खुश हो ज्यागा अर खेत में घणा काम करेगा’। यह शब्द आज इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने गांव जुगलान में फ्री वाई-फाई परियोजना का उदघाटन करने के बाद सांसद चौटाला ने ग्रामीण महिलाओं को प्रोत्साहित करते हुए कहे। दो वर्ष की लंबी जंग के बाद आखिर गांव जुगलान देश का फ्री वाइफाई युक्त देश का पहला गांव बन गया। इस परियोजना को कम समसावधि में शुरू करने के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला ने बीएसएनल के महाप्रबंधक राकेश वर्मा व उनकी टीम का आभार भी व्यक्त किया। इस दौरान सांसद चौटाला ने ग्रामीणों की अन्य समस्याओं को भी सुना और जल्द से जल्द उनका समाधान कराने का आश्वासन दिया। उन्होंने विश्वास दिलवाया कि फोर लेन रोड पर उनके गांव के कट के लिए वह पूरी लड़ाई लड़ रहे हैं और इसके लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों से उनकी बात हो चुकी है। उम्मीद है जल्द ही रोड पर कट की समस्या जल्द हल होगी। उन्होंने कहा कि जब तक जुगलान गांव के लिए मुख्य रोड पर कट नहीं बनेगा तब तक वह चैन से नहीं बठैगे। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार डिजिटल इंडिया की बात तो कर रही है, लेकिन यह तभी साकार होगी, जब लोगों के हाथों में फोन ही नहीं बल्कि उसमें इंटरनेट भी होगा। आज इस डिजिटल इंडिया की सही शुरूआत जुगलान गांव से हुई है। अब यह ग्रामीणों पर निर्भर करता है कि वे इस सुविधा का किस तरह से सही इस्तेमाल करते हैं। गांव में पहुंचने पर ग्रामीणों ने दुष्यंत का जोरदार स्वागत किया। 
ग्रामीणों को संबोधित करते हुए सांसद चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार ने शहरों में वाईफाई सुविधा तो शुरू की है, लेकिन अभी तक ग्रामीण इस सुविधा से वंचित रहे हैं। लेकिन गांव जुगलान देश का ऐसा पहला गांव बन गया है, जो पूर्ण रूप से  वाईफाई सुविधा से युक्त होगा। वाईफाई की इस सुविधा को गांव में इसलिए लाया गया है, क्योंकि शहर में तो पहले से ही सारी सुविधाएं है। जहां बीएसएनएल भी बेहतर ब्रॉडबैंड लगा रही है। लेकिन प्रदेश के सात हजार गांवों में से चार हजार से भी अधिक ऐसे गांव हैं, जहां थ्री जी की भी सुविधा नहीं है।
युवा सांसद ने कहा कि गांव जुगलान में वाईफाई लगाने के लिए दो साल संसद तक लड़ाई लडऩी पड़ी। बीएसएनएल में सांसद निधि से पैसे भी दे दिए, लेकिन सांसद निधि से गांवों में वाईफाई लगाने कोई प्रावधान न होने के कारण इतनी देरी लगी। इसके लिए उन्होंने संसद में प्रधानमंत्री के समक्ष इस बात को प्रमुखता से उठाते हुए गांवों के लिए इस तरह का प्रावधान करने की बात की थी। जिसके बाद इतिहास में पहली बार सांसद निधि कोश से वाईफाई लगाने की अनुमति दी गई। अब गांव के हर व्यक्ति के मोबाइल पर मुफ्त में इंटरनेट होने वाला जुगलान गांव देश का पहला गांव होगा। उन्होंनें युवाओं से आह्वान किया कि वे महिलाओं व बुजुर्गों को भी मोबाइल पर इंटरनेट का इस्तेमाल करना सिखाएं।
इनेलो सांसद ने कहा कि गांव में जो सुविधा आई है, इसके इस्तेमाल में शुरू-शुरू में थोड़ी दिक्कत आएगी। सांसद चौटाला ने खुशी जताई कि पहले दिन ही गांव के 32 लोगों ने इस सुविधा का लाभ उठाया। उन्होंने अधिकारियों से निवेदन किया कि वे हर हफ्ते की रिपोर्ट बनाएं कि कितने लोग इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस साल यह सुविधा मुफ्त में है, अगली साल बिल भरना पड़ेगा, जो करीबन सवा लाख रुपए आएगा। इसके लिए उन्होंने सरपंच को जिम्मेदारी सौंपी। सांसद चौटाला ने कहा कि गांव के युवा, महिलाएं, बुजुर्ग सहित सभी ग्रामीण ऐतिहासिक सुविधा के रूप में वाईफाई का इस्तेमाल करें ताकि देश में पता चले कि हरियाणा का कोई गांव इस सुविधा का लाभ उठा रहा है। दौरे में उनके साथ बरवाला के विधायक वेद नारंग, हलका प्रधान सत्यवान बिचपड़ी, इनसो के जिला अध्यक्ष सिल्क पूनिया सहित अन्य पदाधिकारी व ग्रामीण उपस्थित थे।
इनेलो 1 मई से एसवाईएल पर जंतर-मंतर की बजाय उपमण्डल व जिलास्तर पर धरना-प्रदर्शन करेगी - अभय चौटाला


इनेलो ने एसवाईएल की मांग को लेकर अलग-अलग विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं द्वारा किए जाने वाले धरने/प्रदर्शन अब जंतर-मंतर की बजाय उपमण्डल व जिलास्तर पर करने का निर्णय लिया है और इन प्रदर्शनों के लिए पार्टी के सात प्रमुख नेताओं को अलग-अलग जिलों की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है। इन धरनों में इन प्रमुख नेताओं के अलावा स्थानीय विधायक, सांसद, पूर्व विधायक व पार्टी के प्रमुख पदाधिकारी हिस्सा लेंगे और जिला प्रशासन के माध्यम से ज्ञापन देकर एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करवाए जाने की मांग करेंगे। यह निर्णय इनेलो राज्य कार्यकारिणी की शनिवार को चंडीगढ़ में हुई बैठक में लिया गया। बैठक की अध्यक्षता इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने की। बैठक में पार्टी के सभी विधायक, पूर्व विधायक, सांसदों, प्रदेश पदाधिकारियों, जिला, हलका व शहरी अध्यक्षों के अलावा विभिन्न प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजकों ने भी हिस्सा लिया।


बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि युवा इनेलो कार्यकर्ता 10 जुलाई को एक दिन के लिए सांकेतिक तौर पर पंजाब की ओर से अम्बाला जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग पर हरियाणा में प्रवेश करने वाली मंत्रियों, विधायकों व सरकारी अधिकारियों की गाडिय़ों के अलावा सरकारी बसों को भी रोककर अपना विरोध जताएंगे लेकिन इस दौरान आम लोगों व मरीजों को कोई असुविधा न हो, इसका भी पूरा ख्याल रखा जाएगा। बैठक में इनेलो ने चार अलग-अलग प्रस्ताव पारित करके सरकार से बिजली-पानी का संकट दूर किए जाने, एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द पूरा करवाए जाने, जिन किसानों को एमएसपी से कम दाम पर सरसों की फसल बेचनी पड़ी उनके नुकसान की सरकार द्वारा भरपाई किए जाने और आगजनी से बर्बाद हुई फसलों के लिए किसानों को 25 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा दिए जाने की मांग करते हुए चारों प्रस्ताव बैठक में सर्वसम्मति से पारित किए गए। बैठक को सम्बोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने 15 मार्च को कार्यकर्ताओं पर किए गए बेवजह लाठीचार्ज और 24 अप्रैल को धरने पर बैठे कार्यकर्ताओं के साथ दुव्र्यवहार व शामियाने उठाने के मामले की न्यायिक जांच करवाए जाने की मांग की। एसवाईएल पर पूर्व सीपीएस रामपाल माजरा की ओर से प्रस्ताव रखा गया था। उन्होंने कहा कि अब इनेलो ने पहली मई से अलग-अलग हलकों के कार्यकर्ताओं द्वारा संबंधित उपमण्डल व जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है। इसके लिए अभय सिंह चौटाला, अशोक अरोड़ा, दुष्यंत चौटाला, रामपाल माजरा, जसविंदर संधू, सतबीर कादियान व गोपीचंद गहलोत को अलग-अलग जिलों का प्रभारी नियुक्त किया गया है। 


नेता प्रतिपक्ष ने पंजाब भाजपा के अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री विजय सांपला द्वारा पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह से मिलकर उनको एसवाईएल पर भाजपा की ओर से सहयोग और समर्थन देने की घोषणा की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि इससे साफ हो गया है कि हरियाणा के हितों पर कुठाराघात पहुंचाने के लिए कांग्रेस व भाजपा आपस में मिले हुए हैं। उन्होंने कहा कि 10 जुलाई को सांकेतिक विरोध के दौरान आम लोगों व मरीजों को कोई असुविधा न हो, इसका पूरा ख्याल रखा जाएगा और इनेलो कार्यकर्ता आम लोगों को रोकने पर उन्हें गुलाब का फूल भेंट करने के साथ-साथ अपना एक शिकायत पत्र भी सौंपेंंगे जिसमें कहा जाएगा कि आपको एक क्षण रोकने से भारी पीड़ा हुई है तो पंजाब ने पिछले 50 साल से हरियाणा का पानी रोक रखा है तो ऐसे में हरियाणावासियों को अब तक कितनी पीड़ा हुई होगी, सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। नलवा के विधायक रणबीर गंगवा ने एमएसपी पर सरसों की खरीद न होने पर एक प्रस्ताव रखते हुए कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने सरकार से बार-बार अनुरोध किया था कि सरसों की सरकारी खरीद एमएसपी पर तुरंत शुरू की जाए लेकिन सरकार द्वारा मंडियों से खरीद न करने पर किसानों को 200 से लेकर 500 रुपए प्रति क्विंटल कम में सरसों बेचनी पड़ी। अब सरसों व्यापारियों के पास आने के बाद सरकार ने अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकारी खरीद शुरू कर दी है। इनेलो ने सरकार के इस सौतेले व्यवहार की निंदा करते हुए किसानों को हुए आर्थिक नुकसान की सरकार से भरपाई किए जाने की मांग की।


इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत ने प्रदेश में बिजली-पानी के संकट का उल्लेख करते हुए एक प्रस्ताव रखा और सरकार से ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवाने और लोगों के लिए पीने का पानी उपलब्ध करवाने के साथ-साथ पशुधन के लिए जोहड़ों में पानी की आपूर्ति सुनिश्चित किए जाने की मांग की। इनेलो ने सरकार द्वारा बारह-बारह घंटे घोषित और इसके अलावा कई-कई घण्टे अघोषित कट लगाने जाने की भी निंदा करते हुए कहा कि आज बिजली-पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। इनेलो नेता निशान सिंह द्वारा किसानों की फसलों को आगजनी से हुए नुकसान संबंधी एक प्रस्ताव रखते हुए 25 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा देने और जहां-जहां आग बुझाने के लिए अग्रिशमन विभाग की गाडिय़ां भेजी गई उनके बिलों की अदायगी भी सरकार द्वारा किए जाने की मांग की गई। इनेलो कार्यकारिणी में नक्सली हमले में हुए शहीदों के साथ-साथ सांसद विनोद खन्ना व कई अन्य इनेलो नेताओं के पारिवारिक सदस्यों व रिश्तेदारों के आकस्मिक निधन पर दुख जताते हुए दो मिनट का मौन रखकर शोक संतप्त परिवारों को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। बैठक में पार्टी संगठन को और ज्यादा मजबूत व सुदृढ़ बनाने के लिए पार्टी का सदस्यता अभियान भी चलाने का निर्णय लिया गया है। 

Friday, April 28, 2017

छत्तीसगढ़ नक्सली हमले में शहीद परिवार को सांत्वना देने पंहुचे पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला


सोनीपत 29 अप्रैल: इनैलो सुप्रिमों एवं पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले में शहीद नरेश कुमार के घर सोनीपत जिले के जैनपुर गांव में पंहुचे। चौटाला ने शहीद के बच्चों से मिलकर उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त करने की लिए प्रैरित किया। चौटाला ने सांत्वना व्यक्त करते हुए कहा कि वे हर समय इस परिवार की मदद के लिए तैयार हैं। 
इस मौके पर इनेलो के जिलाध्यक्ष पदम सिंह दहिया, र्ईन्द्रजीत दहिया, रणबीर दहिया, निर्मल चौधरी, कुणाल गहलावत, अशोक राणा, अजीत आंतिल, अशोक कौशिक, ओमप्रकाश रसोई, जे. पी. रेवली, रमेश बडौली, शियानंद त्यागी, फुलकुवार चौहान, सुमित राणा, संदीप ठरू, रविन्द्र सफियाबाद, प्रो. बंसीलाल कुण्डू, संजय मलिक, अमित आंतिल, भैयराज दहिया, जितेन्द्र वर्मा, प्रदीप बड़वासनी, आशीष सेरसा, मनोज मलिक, विनय आंतिल, मुकेश हरसाना, मनोज त्यागी आदि मोजूद रहे।

Thursday, April 27, 2017

एसवाईएल को लेकर बावल हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली : इनेलो ने एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाए जाने की मांग को लेकर आज जंतर-मंतर पर धरना दिया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए इसका निर्माण जल्द से जल्द पूरा करवाए जाने की मांग की। रेवाड़ी जिले के बावल हलका के इनेलो कार्यकर्ताओं ने हलका प्रधान रामकिशन छिल्लर, रविंद्र सिंह पाली, महिपाल सैनी व नछत्तर सिंह मल्हान के नेतृत्व में धरना दिया और इस धरने में पार्टी के वरिष्ठ नेता अशोक सैनी, हरीश कुमार जांगड़ा, राजू बावल, एडवोकेट आनंद कुमार, डॉ. संजय मेहरा, राजेश कुमार, बिट्टू नयागांव, जीत राम, राजा नंगल जमालपुर, भीम सिंह, हरचंदपुर, मंशा राम, सुरेंद्र, सोनू, महापाल नम्बरदार, सुमेर सरपंच व कुनाल गहलावत सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेताओं व कार्यकर्ताओं ने भाग लिया और एसवाईएल के निर्माण को लेकर सरकार द्वारा अपनाए जा रहे टालमटोल के रवैये की कड़े शब्दों में निंदा की।
जंतर-मंतर पर पार्टी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के मुद्दे पर इनेलो निर्णायक संघर्ष करेगी और जब तक एसवाईएल का अधूरा निर्माण सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार फिर से शुरू नहीं हो जाता तब तक इनेलो का आंदोलन जारी रहेगा। इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा एसवाईएल के माध्यम से अपने हिस्से का पानी मांग रहा है और किसी से खैरात नहीं मांग रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा को अलग राज्य बने 50 साल होने के बावजूद अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी न मिलना हरियाणवासियों के साथ भारी अन्याय है और इस अन्याय के खिलाफ इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगी। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल को लेकर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आ चुका है और इस फैसले के अनुसार नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर है। उन्होंने कहा कि पहले कांग्रेस एसवाईएल पर निरंतर राजनीति करती रही है और मामले को लटकाने में सबसे ज्यादा कांग्रेस पार्टी ही जिम्मेदार रही है। उन्होंने कहा कि अब भाजपा भी कांग्रेस के रास्ते पर चल रही है और केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के बावजूद इस मामले को जानबूझकर लटकाया जा रहा है।
इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा एसवाईएल पर निरंतर दोहरी भाषा बोलते आ रहे हैं और राष्ट्रीय दल होने के बावजूद पंजाब में इन दोनों दलों के नेताओं की भाषा एकदम अलग होती है और हरियाणा में लोगों को बहकाने के लिए इन दलों के नेता दूसरी भाषा बोलने लगते हैं। उन्होंने कहा कि इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण बात और क्या हो सकती है कि हरियाणा की जनता अपने हिस्से के पानी के लिए तरस रही है और कांग्रेस व भाजपा जैसे राजनीतिक दल इस मुद्दे पर राजनीति करने और लोगों को बहकाने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय की संवैधानिक पीठ का फैसला हर किसी पर बाध्य होता है लेकिन इसके बावजूद इस फैसले को लागू करने में पंजाब व केंद्र की सरकारें न सिर्फ टालमटोल कर रही हैं बल्कि टरकाऊ रवैया अपनाए हुए हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल का पानी आने से न सिर्फ हरियाणा की बंजर भूमि खुशहाल होगी बल्कि प्रदेश में लोगों को पीने के पानी की पेश आ रही समस्या भी दूर हो जाएगी। उन्होंने भाजपा सरकार से इस नहर के अधूरे निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करवाए जाने की मांग करते हुए भीषण गर्मी व कडक़ती धूप में जमकर नारेबाजी की।
इनेलो नेताओं ने सांसद व अभिनेता विनोद खन्ना के निधन पर दुख जताया

इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने फिल्म अभिनेता व गुरदासपुर से लोकसभा सांसद विनोद खन्ना के निधन पर गहरा दुख जताते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। इनेलो नेताओं ने विनोद खन्ना को एक लोकप्रिय अभिनेता और बेहद सामाजिक व्यक्ति व बेहद मिलनसार और हर वक्त खुश रहने वाले जमीन से जुड़े हुए राजनेता बताते हुए कहा कि उनके निधन से देश ने एक बेहद प्रतिभाशाली अभिनेता व योग्य राजनेता खो दिया है। इनेलो नेताओं ने 70 वर्षीय विनोद खन्ना के साथ बेहद करीबी व निजी रिश्ते बताते हुए कहा कि दिवंगत सांसद समाज सेवा व जनभलाई के कामों में हमेशा अग्रणी रहे हैं। इनेलो नेताओं ने भगवान से दिवंगत आत्मा को अपनी चरणों में स्थान देने और परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की। विनोद खन्ना पिछले कुछ दिनों से कैंसर से पीडि़त थे और मुम्बई के एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था जहां उन्होंने आज अंतिम सांस ली।

Wednesday, April 26, 2017

इनेलो महिला प्रकोष्ठ दिल्ली की अध्यक्ष ने जीता दिल्ली निगम चुनाव


इनेलो दिल्ली महिला प्रकोष्ठ इकाई की अध्यक्ष श्रीमती नीलम दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के दिचाऊ कला वार्ड से निगम पार्षद चुनी गई है। नीलम ने भाजपा प्रत्याशी संदीप शौकीन को 4932 वोटों के अंतर से हराकर दूसरी बार इनेलो प्रत्याशी के तौर पर यह जीत हासिल की। नीलम के मुकाबले कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के प्रत्याशियों की जमानतें जब्त हो गई। इतना ही नहीं इस निगम वार्ड से कुल पड़े 26 हजार से ज्यादा वोटों में से श्रीमती नीलम को 13439 वोट मिले जबकि उनके मुकाबले में चुनाव लड़ रहे बाकी सभी प्रत्याशी मिलकर भी नीलम जितने वोट नहीं हासिल कर पाए। भाजपा प्रत्याशी को 8507, आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार को 2618 व कांग्रेस उम्मीदवार को मात्र 826 वोट मिले।


श्रीमती नीलम पिछली बार भी इसी वार्ड से निगम पार्षद चुनी गई थी और वे निगम के नजफगढ जोन की निर्माण समिति की चेयरपर्सन भी रही। निगम के नजफगढ जोन में कुल 21 वार्ड आते हैं। इनेलो के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष व विधायक रहे स्व. भरत सिंह की भाभी श्रीमती नीलम को चुनाव जीतने पर इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, दिल्ली इनेलो के प्रभारी सांसद दुष्यंत चौटाला, दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष हरि सिंह राणा, इनेलो नेता कृष्ण कुमार, दिनेश डागर, ओमप्रकाश सहरावत व जयवीर गांधी सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेनाओं ने बधाई दी है।


इनेलो नेताओं ने कहा कि दिल्ली के दिचाऊ कला वार्ड से इनेलो प्रत्याशी की जीत ने यह साबित कर दिया है कि इनेलो पार्षद द्वारा पिछले चार सालों में किए गए विकास कार्यों और इनेलो की नीतियों पर लोगों ने मोहर लगाई है। उल्लेखनीय है कि पिछली बार भी श्रीमती नीलम ने इनेलो के चुनाव चिह्न चश्मे के निशान पर चुनाव लड़ा था और इस बार भी वे इनेलो के चुनाव चिह्न पर ही चुनाव मैदान में उतरी थी। श्रीमती नीलम ने अपनी जीत का श्रेय वार्डवासियों व पार्टी नेतृत्व को देते हुए कहा कि वे लोगों द्वारा दिए गए सहयोग और समर्थन के लिए बेहद आभारी हैं और नजफगढ व दिचाऊ कला क्षेत्र के विकास कार्यों के लिए आने वाले समय में और ज्यादा मेहनत व जी-जान से प्रयास करेंगी। चुनाव नतीजा घोषित होने के बाद लोग श्रीमती नीलम को एक जुलूस के रूप में उनके आवास तक लेकर आए और इनेलो व उनके समर्थन में गगनभेदी नारे लगाए।
धूप व भीषण गरमी के बावजूद इनेलो कार्यकर्ताओं ने एसवाईएल को लेकर जंतर-मंतर पर दिया धरना


एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की मांग को लेकर इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर शुरू किए गए बेमियादी धरने में बुधवार को फरीदाबाद जिले के बडख़ल विस क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। भाजपा सरकार व प्रशासन द्वारा पुलिस की मदद से इनेलो के जंतर-मंतर पर टेंट को उखाड़ दिए जाने के बावजूद कडक़ती धूप व गरमी में इनेलो कार्यकर्ताओं ने अपना आंदोलन जारी रखते हुए धरना दिया और सरकार की जमकर आलोचना की। धरने का नेतृत्व इनेलो के जिलाध्यक्ष देवेंद्र सिंह चौहान, हलकाध्यक्ष अरविंद सरडाना, जोल सिंह वालिया, पे्रम सिंह धनखड़, अजय भड़ाना व नछत्तर सिंह मल्हान के नेतृत्व दिए गए धरने में भारी संख्या में इनेलो नेताओं व कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया और सरकार से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करवाए जाने की मांग की।
धरने में इनेलो नेता धर्मपाल सिंह दलाल, मेजर मेहर सिंह, रियासुदीन, सुभाष पुंडीर, हनुमान सिंह खींची, जितेंद्र सिंह, अब्दुल सत्तार, मजान खान, राजीव मिश्रा, किशन लाल बजाज, बांके लाल बिहारी, जयप्रकाश ढुल, रणधीर सिंह, रामपाल, प्यारे लाल, संजीव चौधरी, अरुण खान, गौरव बजाज, मनोहर बांगा, निक्की, विक्की, संजय रावत, मनोज खत्री, सतेंद्र भड़ाना, रवि, राजेश सिंह, सुधीर पांडर, राकेश कुमार, दीपक राय, सुलोचना देवी, विजय लक्ष्मी, सुलोचना देवी, प्रेमलता, स्नेहलता, सुमनलता, मधु, राजकुमारी, कमलेश, राजवती, हवा सिंह सिधु, दलीप परिहार, सरदार भूपेंद्र सिंह, मनोहर भाटिया व कुणाल गहलावत सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेताओं व कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लेते हुए कहा कि सरकार चाहे जितना मर्जी जुल्म और ज्यादतियां करे लेकिन इनेलो कार्यकर्ता किसी भी दबाव में झुकने वाले नहीं हैं और जब तक एसवाईएल का अधूरा निर्माण फिर से शुरू नहीं हो जाता तब तक अपना आंदोलन जारी रखेंगे।
इनेलो नेताओं ने धरने को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार के दबाव में पुलिस व प्रशासन इनेलो कार्यकर्ताओं के साथ निरंतर ज्यादती कर रहा है और इनेलो द्वारा पिछले महीने जंतर-मंतर पर किए गए प्रदर्शन और संसद के घेराव कार्यक्रम दौरान पुलिस ने बेवजह इनेलो कार्यकर्ताओं पर बेरहमी से लाठीचार्ज किया और अनेक कार्यकर्ताओं को चोटें पहुंचाई। उन्होंने कहा कि अब फिर सरकार के दबाव में पुलिस और प्रशासन के अधिकारी इनेलो कार्यकर्ताओं द्वारा दिए जा रहे शांतिपूर्वक धरने के टेंट व तम्बू तो सिर्फ उखाड़ दिया बल्कि सारा सामान भी उठाकर साथ ले गए। इनेलो नेताओं ने कहा कि इस वक्त कडक़ती धूप व भारी गरमी के दौरान इनेलो कार्यकर्ताओं को खुले में धरना देना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसका पानी प्रदेश में लाने के लिए इनेलो कार्यकर्ता न सिर्फ बडी से बड़ी कुृर्बानी देने को तैयार हैं बल्कि पुलिस, प्रशासन व सरकार की हर जुल्म और ज्यादती को भी सहन करेंगे।
इनेलो नेताओं ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल के नाम पर राजनीति करने और प्रदेश के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि दोनों दलों की दिलचस्पी एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की नहीं है। इसीलिए सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बावजूद इस मामले को बेवजह लटकाया जा रहा है और इस पर टालमटोल की नीति अपनाई जा रही है। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर दोहरी भाषा बोल रहे हैं और राष्ट्रीय दल होने के बावजूद इन दलों के नेताओं की पंजाब में अलग भाषा होती है और लोगों को गुमराह करने के लिए हरियाणा में अलग भाषा बोली जाती है। उन्होंने कहा कि हरियाणा का निर्माण स्व. जननायक चौधरी देवीलाल के संघर्ष से हुआ था और चौधरी देवीलाल की नीतियों पर चलते हुए इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में एसवाईएल के मामले की बेहद मजबूती से पैरवी की और इसी के चलते एसवाईएल पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर किसी भी अदालत का कोई स्थगन आदेश नहीं ंहै और इस फैसले के अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। आज हरियाणा व केंद्र में दोनों जगह भाजपा की सरकार है इसलिए प्रदेश सरकार को चाहिए कि वे इस नहर के अधूरे निर्माण को सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार जल्द से जल्द पूरा करवाए।
जनता बिजली पानी से त्रस्त, सरकार उत्सव मनाने में मस्त - अशोक अरोड़ा

कुरुक्षेत्र : इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि प्रदेश में ग भीर बिजली-पानी संकट है, विकास कार्य ठप्प पड़े हैं और प्रदेश की कानूनी व्यवस्था दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। प्रदेश की जनता जहां बिजली और पानी के संकट से त्रस्त है, वहीं हरियाणा सरकार उत्सव मनाने में मस्त है। 
अपने निवास स्थान पर पत्रकारों से वार्तालाप करते हुए अरोड़ा ने कहा कि आज पूरे प्रदेश में बिजली के कट लगाए जा रहे हैं। जनता बिजली पानी को लेकर त्राहि त्राहि कर रही है। प्रदेश में प्रात: साढ़े चार बजे से लेकर शाम के साढ़े छह बजे तक 14 घंटे का निरंतर कट लगाया जा रहा है। गर्मी के मौसम में जनता को पीने के पानी के भी लाले पड़े हुए हैं।  एक तरफ सरकार सरप्लस बिजली होने का दावा करती है दूसरी तरफ लोगों को पीने के पानी के लिए भी बिजली नहीं मिलती और जिन फीडरों पर बिजली बिलों की शत प्रतिशत वसूली हो रही है वहां भी बिजली के कट लगाए जा रहे हैं। अरोड़ा ने कहा कि कोयले की दरों में कमी होने के बावजूद बिजली की दरें कम नहीं की जा रही। उन्होंने मांग की कि कोयले के रेट कम हो गए हैं, इसलिए बिजली की दरें भी कम की जानी चाहिए। इनेलो प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि सरकार प्रतिदिन अलग-अलग उत्सव मनाकर सरकारी खजाने को दोनों हाथों से लुटाने में लगी हुई है। अरोड़ा ने कहा कि इनेलो इन मुद्दों को आगामी विस सत्र में भी प्रमुखता से उठाएगी।  अरोड़ा ने सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों को सभी सुविधाएं दिए जाने और विभिन्न स्कूलों व कॉलेजों में फीस के नाम पर मचाई जा रही लूट बंद करवाए जाने की भी सरकार से मांग की। उन्होंने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप भी लगाया। 

Tuesday, April 25, 2017

प्रदेश की जनता को गुमराह कर रहे हैं मुख्यमंत्री, हरियाणा हितों की उन्हें कोई चिंता नहीं - अभय चौटाला



चंडीगढ़, 25 अप्रैल: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पीएम से एसवाईएल व किसानों के कर्जे के मुद्दे पर नहीं बल्कि भाजपा के विधायकों द्वारा उनके खिलाफ शुरू किए गए अभियान को लेकर मिलने गए थे और  भाजपा की अंदरूनी कलह पर अपनी सफाई देकर आए हैं। यह बात इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मंगलवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बाद मुख्यमंत्री 19 नवम्बर को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी और उस बैठक में एक प्रस्ताव पारित करके यह निर्णय लिया गया था कि सीएम की अगुआई में सभी दलों के लोग पीएम व राष्ट्रपति से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखेंगे ताकि प्रदेश में जल्द से जल्द एसवाईएल के जरिए अपने हिस्से का पानी लाया जा सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री पांच महीनों तक तो पीएम से एसवाईएल पर मिलने का समय नहीं ले पाए और अब अकेले मिलने की बात कहकर वे न सिर्फ अपनी विफलताएं छुपा रहे हैं बल्कि प्रदेश के लोगों के साथ भारी धोखा करने का प्रयास कर रहे हैं। इनेलो नेताओं ने प्रदेश में गम्भीर बिजली-पानी संकट, ठप पड़े विकास कार्यों और बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर भी प्रदेश सरकार की तीखी आलोचना की। उन्होंने एसवाईएल का निर्माण पूरा करने की मांग को लेकर जंतर मंतर पर चले रहे इनेलो के धरने के तम्बू उखाडऩे की भी कड़े शब्दों में आलोचना करते हुए कहा कि 29 अप्रैल को दिल्ली में होने वाली इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में व्यापक विचारविमर्श के बाद इनेलो की ओर से अगली रणनीति तैयार की जाएगी।
इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वदलीय बैठक के बाद प्रदेश के सभी दल सीएम की अगुआई में राष्ट्रपति से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखकर आए थे लेकिन मुख्यमंत्री पीएम से समय नहीं ले पाए। केंद्रीय गृह मंत्री से इस मुद्दे पर इनेलो ने न सिर्फ अलग से ज्ञापन देकर उन्हें एसवाईएल पर अब तक आए सभी फैसलों और कानूनी वस्तुस्थिति से अवगत करवाया बल्कि इनेलो नेता राजनाथ सिंह से मिलने के लिए सीधे अलग से गए थे। उन्होंने कहा कि अब अगर मुख्यमंत्री एसवाईएल पर पीएम से मिलने जा रहे थे तो सर्वदलीय बैठक के अनुसार उन्होंने अन्य दलों को भरोसे में क्यूं नहीं लिया और पीएमओ से भी एसवाईएल व किसानों के कर्ज माफी पर कोई विज्ञप्ति जारी क्यों नहीं हुई? इनेलो नेताओं ने कहा कि भाजपा के करीब डेढ दर्जन विधायक मुख्यमंत्री के खिलाफ पिछले काफी समय से मुखर हो गए हैं और उस मामले में सीएम प्रधानमंत्री को अपनी सफाई देने गए थे। इनेलो नेताओं ने कहा कि दस साल प्रदेश को कांग्रेस ने दोनों हाथों से लूटा और अब पिछले अढाई सालों से भाजपा सरकार प्रदेश को बर्बाद करने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा के बागी विधायक ठप पड़े विकास कार्यों का मुद्दा उठा रहे हैं क्योंकि आज प्रदेश का हर वर्ग सरकार से नाराज है और सत्तापक्ष के विधायकों को लोगों के बीच जाने में भी मुश्किल आ रही है। 


इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो हरियाणा को अपने हिस्से का पानी एसवाईएल के माध्यम से दिलाने के लिए संघर्षरत है और इसी के अंतर्गत हमने न सिर्फ एसवाईएल खुदाई के लिए पंजाब की ओर कूच किया बल्कि संसद का घेराव भी किया और पंजाब में गिरफ्तारियां देने के अलावा दिल्ली में पुलिस की लाठियां भी सहन की। उन्होंने कहा कि अब इनेलो कार्यकर्ता जंतर-मंतर पर शांतिपूर्वक धरना दे रहे थे लेकिन भाजपा सरकार ने केंद्र से कहकर इनेलो कार्यकर्ताओं के धरनास्थल के तम्बू उखाडऩे का काम किया। उन्होंने इसकी कड़े शब्दों में आलोचना करते हुए कहा कि 29 को राज्य कार्यकारिणी की बैठक में इन सभी मुद्दों पर व्यापक विचारविमर्श कर आगामी रणनीति तय की जाएगी। उन्होंने सरकार की नीति और नीयत पर भी सवाल उठाया। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज प्रदेश की जनता बिजली-पानी को लेकर त्राहि-त्राहि कर रही है और प्रदेशभर में सुबह साढे चार से लेकर शाम साढे छह बजे तक 14 घंटे का निरंतर कट लगाया जा रहा है। एक तरफ सरकार सरप्लस बिजली होने का दावा करती है दूसरी तरफ लोगों को पीने के पानी के लिए भी बिजली नहीं मिलती और जिन फीडरों पर बिजली बिलों की सौ फीसदी वसूली हो रही है वहां भी बिजली के कट लगाए जा रहे हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि कोयले की दरों में कटौती के बावजूद बिजली की दरें कम नहीं की जा रही और सरकार आए दिन अलग-अलग उत्सव मनाकर सरकारी खजाने को दोनों हाथों से लुटाने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि इनेलो इन मुद्दों को आगामी विस सत्र में भी प्रमुखता से उठाएगी। इनेलो प्रदेशअध्यक्ष ने सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों को सभी सुविधाएं दिए जाने और विभिन्न स्कूलों व कॉलेजों में फीस के नाम पर मचाई जा रही लूट बंद करवाए जाने की भी सरकार से मांग की। उन्होंने सरकार पर वादों के विपरीत काम करने का आरोप लगाया। पत्रकारों द्वारा सरकार द्वारा सूचना आयुक्त व मुख्य सूचना आयुक्त के पद पर की जा रही विवादित नियुक्तियों संबंधी सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि वे बुधवार को इस संबंध में होने वाली बैठक में अपनी बात रखेंगे और बैठक के बाद ही इस बारे में अपना पक्ष मीडिया के समक्ष रख पाएंगे। उन्होंने पिछले चुनाव के समय कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए नेताओं पर टिप्पणी करते हुए कहा कि इनमें से ज्यादातर लोग कांग्रेस संस्कृति के हैं और आज भाजपा की हालत कांग्रेस से भी ज्यादा बुरी है। पत्रकार सम्मेलन में नेता प्रतिपक्ष व इनेलो प्रदेशाध्यक्ष के अलावा विधायक परमेंद्र सिंह ढुल, आरएस चौधरी, महेंद्र सिंह मलिक, डॉ. केसी बांगड़, बीडी ढालिया, राम सिंह बराड़, अशोक शेरवाल व प्रवीन आत्रे समेत अनेक प्रमुख इनेलो नेता मौजूद थे।

एस वाई एल को लेकर नूँह विधानसभा के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली 25 अप्रैल: इनेलो ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल को लेकर राजनीति करने और दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद सरकार इस मुद्दे पर गम्भीरता दिखाने की बजाय टाल मटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत मंगलवार को नूँह जिले के नूँह विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का नेतृत्व नूँह से इनेलो विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन, जिलाध्यक्ष मास्टर बदरुद्दीन व इनेलो के कार्यालय सचिव नछत्तर सिंह मल्हान ने किया। धरने में विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट,हाजी इसराईल, मौ0 तलहा एडवोकेट, अल्ली प्रधान, हाजी फते मौ0, शोकत सरपंच, राजीव यादव एडवोकेट, हाजी अब्दुल्ला सरपंच, मनोज यादव, जगन पार्षद, अमर सिंह, जाकिर भड़ंगाका, जेकम चंदेनी, शहनाज घासेड़ा, हाजी आसम, रमजान सरपँच रोजकामेव, हाजी अलीन,  इमरान खतोली, जाकिर सलंबा, इसराईल रेहना, कासम किरंज, तय्यब सरपंच मेवली, युनुस इन्ना सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
  विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोई दिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एस वाई एल के पानी से अहीरवाल और मेवात क्षेत्र को भी भरपूर सिँचाई का पानी मिलेगा।
   इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने न सिर्फ  गम्भीर प्रयास किए बल्कि पंजाब में एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करवाकर उसके निर्माण के लिए भी चौधरी देवीलाल के नेतृत्व वाली सरकार ने सरकारी खजाने से पंजाब को धनराशि भी जारी की। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य हुआ और यह बात पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बंसीलाल  ने खुद हरियाणा विधानसभा में स्वीकार की जो कि रिकार्ड में दर्ज है। उन्होंने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एसवाईएल के मामले में सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि 2004 में इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई और सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से नहर के अधूरे निर्माण को किसी केंद्रीय एजेंसी से पूरा करवाए जाने के आदेश दिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नदी जल समझौते रद्द करने का एक असंवैधानिक बिल पारित कर दिया ताकि नहर के निर्माण कार्य को लटकाया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और दो साल तक पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस नहर को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर एक शब्द तक नहीं बोला और मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी इस दौरान भाजपा की गठबंधन सरकार रही लेकिन नहर निर्माण के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर पंजाब में अलग व हरियाणा में दूसरी भाषा बोलते हैं जिससे साफ है कि उनकी भाषा न सिर्फ दोहरी है बल्कि उन्हें हरियाणा के हितों से भी कोई लेना-देना नहीं। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी और बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।


आज नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट का जन्मदिन था। चौ0 ताहिर हुसैन ने अपना जन्मदिन अपने पिता चौ0 ज़ाकिर हुसैन व नूँह विधानसभा के इनेलो कार्यकर्ताओं के साथ जलयुद्ध में भाग लेकर जंतर-मंतर पर मनाया। इस अवसर पर सभी इनेलो कार्यकर्ताओं ने युवा इनेलो नेता चौ0 ताहिर हुसैन को जन्मदिन की मुबारक़बाद भी दी। ताहिर हुसैन आज  इनेलो द्वारा एस वाई एल के निर्माण के लिए दिए जा रहे जंतर-मंतर पर धरने में शामिल हुए थे। उन्होंने हरियाणा व मेवात के हितों के लिए तथा एस वाई एल के पानी के लिए अपने जन्मदिन की भी परवाह ना करते हुए अपना पूरा दिन धरने पर गुजारा।
चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट ने मरहूम चौधरी मौ0 यासीन खाँ व मरहूम चौ0 तय्यब हुसैन के पद्चिन्हों पर चलते हुए अपना जन्मदिन संघर्ष में मनाकर मिसाल कायम की है।
इस अवसर पर ताहिर हुसैन एडवोकेट ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोई दिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एस वाई एल के पानी से अहीरवाल और मेवात क्षेत्र को भी भरपूर सिँचाई का पानी मिलेगा।

Monday, April 24, 2017

दुष्यंत चौटाला हिसार के 28 गांवों में भेजेंगे वाटर टैंकर

हिसार : पूरे हिसार लोकसभा क्षेत्र में बिजली पानी के लिए हा-हाकार मचा हुआ है लेकिन शासन एवं प्रशासन के कानों तक जूं नहीं रेंग रही है। एसी कमरों में रहने वाली प्रदेश की सरकार लोगों को मूलभूत सुविधाएं देने में पूरी तरह से विफल हुई है। यह आरोप इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने लगाते हुए कहा कि जिले में पानी की कमी को देखते हुए वह अपने सांसद निधि कोष से 28 गांवों में वाटर टैंकर भेजेंगे। इसके अतिरिक्त प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत कर हर गांव एवं शहर के वार्ड में पीने का शुद्ध पानी सुनिश्चित करने बारे निर्देश देंगे। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोग बिजली पानी के लिए सडक़ों पर उतर रहे हैं पर सरकार या प्रशासन ने उनकी समस्या का समाधान करना तो दूर उनसे बातचीत तक नहीं की। इससे जाहिर है कि सरकार जानबूझ कर लोगों को सडक़ों पर आने के लिए मजबूर कर रही है। सांसद ने कहा कि जो सरकार मूलभूत सुविधाएं अपने प्रदेश के लोगों को उपलब्ध नहीं करवा सकती, उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है।
सांसद दुष्यंत ने बताया कि पिछले वर्ष भी उन्होंने अपने सांसद निधि कोष से हिसार शहर सहित 8 गांवों में पीने के पानी की व्यवस्था के लिए टैंकर भिजवाए थे। इस बार भी मसूदपुर, सिंधड़, खानपुर, गोरछी, किन्नर, नाड़ा, रावलवास खुर्द, मैहजद, गढ़ी अजिमा,  हैबतपुर, भाडा खेड़ा, राखीशाहपुर, गामड़ा, कागसर, धर्मखेड़ी, खारिया, भकलाना, रोशनखेड़ा, सिंघवा, रावलवास कलां, फरीदपुर, बधावड़, सीसर, हिसार शहर का मेला गांउड सेक्टर एरिया, बडाला, लोहारी राघो, खेड़ी लालब, सिसाय कालीरावण, बालसंमद गांव में पानी के टैंकर भेजने के लिए अतिरिक्त उपायुक्त पत्र लिख दिया गया है। सांसद चौटाला ने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोगों को बिजली एवं पानी उपलब्ध करवाना उनकी प्राथमिकता है। इसके लिए वह पिछले तीन साल से प्रयासरत हैं और एक हजार से अधिक ढाणियों में बिजली कनेक्शन देकर उनको रोशन किया जा चुका है।
इनेलो ने प्रदर्शन कर क्षेत्रवासियों के लिए प्रशासन से मांगा बिजली-पानी 


चरखी दादरी : दादरी जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में व्याप्त बिजली व पेयजल संकट को लेकर सोमवार को इनेलो कार्यकर्ता विधायक राजदीप फौगाट के नेतृत्व में सड़कों पर उतरे। शहर की सोनी धर्मशाला में आम बैठक के बाद 
कार्यकर्ता उपायुक्त कार्यालय पहुंचे। यहां उनकी गैरमौजूदगी में तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर बिजली, पानी सहित सभी जन समस्याओं का जल्द समाधान करने की मांग की। विधायक राजदीप फौगाट व मौजूद सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी कि समय रहते समस्याएं दूर नहीं करने की सूरत में इनेलो संबंधित सरकारी कार्यालयों के सामने बेमियादी धरना शुरू करने को मजबूर होगी। सरकारी विभागों द्वारा आम जनता की समस्याओं की अनदेखी किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 
विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि भीषण गर्मी में लोग बिजली, पानी के संकट से जूझ रहे हैं। बार-बार लिखित, मौखिक शिकायतों पर भी अधिकारी कोई गौर नहीं कर रहे, आखिरकार लोगों को धरना, प्रदर्शन करना पड़ रहा है। लोगों की समस्याएं जानना और तत्परता से समाधान करना विभागीय अधिकारियों की डयूटी है, लेकिन देखने में आ रहा है कि अफसरशाही बेलगाम है और लोग परेशान, इनेलो इन हालातों को कतई सहन नहीं करेगी। फौगाट ने कहा कि वर्तमान में बिजली संकट के कारण किसान, व्यापारी सहित हर वर्ग का जीना मुहाल हो गया है, कामकाज ठप हो रहा है। बिजली के साथ ही पेयजल संकट भी परेशानी का कारण बनी है। अधिकतर गांव के तालाब, जलघर सूखे पड़े हैं ऐसे में आमजन व पशुओं को पानी नहीं मिल रहा। विधायक फौगाट ने कहा कि अधिकतर क्षेत्रों में वर्षों पुराने तार लगे हैं जो पूरी तरह जर्जर हो चुके हैं, ऐसे में लाइन लॉस के नाम पर लंबे-लंबे कट घोषित करना भीषण गर्मी में आम उपभोक्ता से नाइंसाफी है।


रोष प्रदर्शन करते हुए उपायुक्त कार्यालय पहुंचे इनेलो कार्यकर्ताओं ने तहसीलदार राजकुमार को ज्ञापन सौंपकर बिजली, पानी व्यवस्था सुचारु करने, पुरानी जर्जर हाल तारों को बदलने, लाइन लॉस दूर करने, जलापूर्ति की लाइनों को डबल करने के अलावा जिले के विभिन्न हिस्सों में जनसंख्या के हिसाब से और नए जलघर बनाने की मांग रखी ताकि आम जन को बिजली, पानी संबंधी कोई परेशानी न हो। सैकड़ों ने किया रोष प्रदर्शन इस मौके पर विधायक राजदीप फौगाट, हलकाध्यक्ष रामनिवास मिर्च, पं. मनफूल शर्मा रावलधिया, महेंद्र जाखड़, अजीत जांघु, शकुंतला श्योराण, विनोद कुमारी, राकेश कलकल, मेहरचंद एडवोकेट, राजेश सोनी, अवतार सांगवान, रमेश वर्मा, सतपाल वर्मा, विनोद मौड़ी, अशोक सिहाग, पार्षद मनोज वर्मा, आनंद महराणा, नप वाइस चेयरमैन बबलू श्योराण, राजेंद्र सैनी, आशीष निमड़ी, रणसिंह लांबा, जयसिंह लांबा, सुशील शर्मा सरपंच, राजेश सरपंच, रणबीर, हरिसिंह, प्यारेलाल लांबा, रवींद्र तक्षक, वेदपाल कादियान, बाबूलाल यादव, मा. वीरेंद्र, दलजीत फौगाट, सुरेंद्र पैंतावास, बलजीत रासीवास, प्रदीप गुप्ता, सत्यपाल अटेला, शमशेर डोहका, बलवंत सिंह, लीलाराम डोहकी, नीटू बिरही, राजकुमार, सुखबीर, धर्मबीर, जगदीश यादव, सूरज बेनीवाल, बबलू चौधरी, ललित फौगाट व संजीत धवन सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। 
एसवाईएल को लेकर कोसली हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली : इनेलो ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल को लेकर राजनीति करने और दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद सरकार इस मुद्दे पर गम्भीरता दिखाने की बजाय टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत सोमवार को रेवाड़ी जिले के कोसली विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का नेतृत्व इनेलो के जिलाध्यक्ष डॉ. राजपाल यादव, कोसली के हलका प्रधान जगफूल यादव, इनेलो व्यापार प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष सुभाष गर्ग व इनेलो के कार्यालय सचिव नछत्तर सिंह मल्हान ने किया। धरने में रामफल कोसलिया, जस्सु लाल, संदीप टुना, महावीर, मंगल, आजाद, राजू, सज्जन सिंह व कुणाल गहलावत सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोईदिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने न सिर्फ  गम्भीर प्रयास किए बल्कि पंजाब में एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करवाकर उसके निर्माण के लिए भी चौधरी देवीलाल के नेतृत्व वाली सरकार ने सरकारी खजाने से पंजाब को धनराशि भी जारी की। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य हुआ और यह बात पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बंसीलाल  ने खुद हरियाणा विधानसभा में स्वीकार की जो कि रिकार्ड में दर्ज है। उन्होंने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एसवाईएल के मामले में सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि 2004 में इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई और सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से नहर के अधूरे निर्माण को किसी केंद्रीय एजेंसी से पूरा करवाए जाने के आदेश दिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नदी जल समझौते रद्द करने का एक असंवैधानिक बिल पारित कर दिया ताकि नहर के निर्माण कार्य को लटकाया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और दो साल तक पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस नहर को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर एक शब्द तक नहीं बोला और मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी इस दौरान भाजपा की गठबंधन सरकार रही लेकिन नहर निर्माण के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर पंजाब में अलग व हरियाणा में दूसरी भाषा बोलते हैं जिससे साफ है कि उनकी भाषा न सिर्फ दोहरी है बल्कि उन्हें हरियाणा के हितों से भी कोई लेना-देना नहीं। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी और बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।

Sunday, April 23, 2017

मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द भरवाया जाए - ज़ाकिर हुसैन

   


नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने मेवात क्षेत्र में पीने के पानी, सूखे पड़े जौहड़ों व बिजली की गंभीर समस्या के सिलसिले में उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा से मुलाकात की। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि मेवात क्षेत्र जलसंकट के दौर से गुजर रहा है।  पेयजल की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। पूरे मेवात क्षेत्र के जोहड़ सूखे पड़े हुए हैं। गाँवों में बिजली की सप्लाई सही तरीके से नहीं हो पा रही है। श्री हुसैन ने उपायुक्त से आग्रह किया कि जल्द से जल्द मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को भरवाया जाए। जिन गाँवों मे पेयजल की समस्या है उन गाँवों में टैंकरों द्वारा पीने के पानी की आपूर्ति की जाए।
उन्होंने उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा को अवगत कराते हुए कहा कि जोहड़ों के ना भरने में सबसे बड़ी कठिनाई है ड्रैनों से गाँवों के जोहड़ों तक नालियों का ना होना। उन्होंने कहा कि सरकार जल्द से जल्द ड्रैनों से नालियों की खुदाई का प्रावधान करे और मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द से जल्द भरवाया जाए।
श्री हुसैन ने कहा कि मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द नहीं भरवाया गया तो पशु प्यासे मर जाएँगे, जिसके गंभीर परिणाम होंगे। उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा ने विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन को आश्वासन दिया कि मेवात क्षेत्र के सभी जोहड़ों को एक हफ्ते के अंदर अंदर भरवा दिया जाएगा। उन्होंने विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन की उपस्थिति में ही डी डी पी ओ नूँह व अन्य अधिकारियों को मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को भरवाने के निर्देश जारी कर दिए।
इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने 25 अप्रैल मंगलवार को कार्यकर्ताओं से दिल्ली में जंतर-मंतर पर एस वाई एल के निर्माण के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुँचनें की अपील की। इनेलो विधायक ने कहा कि एस वाई एल के निर्माण में केंद्र व राज्य की भाजपा सरकार उदासीन है इसलिए इनेलो ने प्रत्येक विधानसभा द्वारा अलग-अलग दिन जंतर-मंतर पर एक दिन का धरना देने का क्रम चालू किया है, जिससे एस वाई एल का निर्माण शीघ्र हो और हरियाणा खासतौर पर अहीरवाल व मेवात क्षेत्र को एस वाई एल का पानी मिल सके तथा इस इलाके में भी सिँचाई हो सके। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि 25 अप्रैल को नूँह विधानसभा का दिन धरने के लिए निश्चित है तथा सभी कार्यकर्ता 25 अप्रैल को सुबह 7 बजे उनके नूँह निवास पर पहुँचे। उनके निवास स्थान से सुबह 7 बजे सभी कार्यकर्ता दिल्ली जंतर-मंतर के लिए प्रस्थान करेंगे।
इनेलो नेताओं ने किया अनाज मंडी में गेहूं खरीद का निरीक्षण


हिसार : इनेलो नेताओं ने इनेलो के किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष पूर्ण ङ्क्षसह डाबड़ा के साथ उकलाना की अनाज मंडी का दौरा किया और गेहूं खरीद के बारे में किसानों और व्यापारियों से बातचीत की। अनाज मंडी में किसानों और व्यापारियों द्वारा कच्चे स्थान पर मिट्टी में गेहूं डालने पर इनेलो नेताओं ने इसे सरकार की विफलता बताया और कहा कि भाजपा सरकार में किसान और व्यापारी दुखी हैं। 
डाबड़ा ने कहा कि अनाज मंडी गेहूं से अटी पड़ी हैं और किसानों को मजबुरन अपनी गेहूं कच्चे में डालनी पड़ रही है। गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है। अगर बरसात आ गई तो इससे किसानों और व्यापारियों को भारी नुकसान हो सकता है। सरकार से मांग करते हैं कि गेहूं उठान में तेजी लाई जाए। उन्होंने कहा कि बीमा पॉलिसी पूरी तरह से किसान विरोधी है और भाजपा सरकार ने तीन कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए इसे लागू किया गया है। आगजनी की घटनाओं का किसानों को बीमा देने से इंकार किया जा रहा है। सरकार किसानों से जबरन फसल बीमा की राशि वसूल रही है।
उन्होंने कहा कि सरकार सरसों खरीद में किसानों के साथ धोखाधड़ी कर रही है। हिसार जिले में सरसों की खरीद केवल हिसार शहर में की जा रही है। किसानों को सरसों की फसल बेचने के लिए 60 किलोमीटर दूर अपनी फसल लानी पड़ रही है। उसके बाद भी किसानों को फसल का पूरा भाव नहीं दिया जा रहा है।
इस मौके पर इनेलो जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी, विधायक अनूप धानक, शील्ला भ्याण, रवि लांबा, होशियार ङ्क्षसह बिठमड़ा, सुंदर बंसल, रणधीर पूनिया, सुभाष फरीदपुरिया, गुलशन आहुजा, ङ्क्षबद्र, कै. छज्जु राम, कली राम खेदड़, इकबाल, स. गुरबख्श सिंह, धूप सिंह थाकन आदि मौजूद रहे।

Friday, April 21, 2017

युवा सांसद दुष्यंत चौटाला को आशीर्वाद देने पहुंची देश की प्रमुख हस्तियां


देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला की मैरेज रिसेप्शन पर देश की प्रमुख हस्तियों ने पहुंचकर नवदम्पत्ति को अपना आशीर्वाद देते हुए जीवन के नए अध्याय की शुरुआत पर अपनी ओर से शुभकामनाएं दी। दुष्यंत चौटाला की शादी वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी परमजीत सिंह अहलावत की बेटी मेघना के साथ दो दिन पहले सम्पन्न हुई थी और गुरुवार रात दिल्ली के अशोक होटल में उनकी रिसेप्शन का आयोजन हुआ। चौटाला परिवार की ओर से इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला, नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला व चौधरी रणजीत सिंह सहित परिवार के सभी प्रमुख लोगों ने आयोजन में शामिल हुए अतिथियों का स्वागत किया और आभार जताया। दुष्यंत को आशीर्वाद देने वालों में कांग्रेस, भाजपा, इनेलो, लोक जन शक्ति, नेकां, जदयू सहित अनेक दलों के प्रमुख नेता शामिल थे। 
इस आयोजन में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल, केंद्रीय मंत्री रामबिलास पासवान, डॉ. हर्षवर्धन, हरसिमरत कौर बादल, जेडीयू नेता शरद यादव, सुखबीर बादल, परिवहन मंत्री कृष्ण पंवार, रामबिलास शर्मा, विपुल गोयल, ज्ञानचंद गुप्ता, किरण चौधरी,  पूर्व सांसद नवीन जिंदल, डॉ. केवी सिंह, सुभाष बराला, भाजपा प्रभारी अनिल जैन, कांग्रेस विधायक जगबीर मलिक व श्रीकृष्ण हुड्डा, कुलदीप शर्मा, रेणुका, हिमाचल के राज्यपाल आचार्य देवव्रत, अकाली दल सांसद पे्रम सिंह चंदूमाजरा, सुखदेव सिंह ढींढसा, बलविंदर सिंह भंूदर, विक्रमजीत सिंह मजीठिया, पंजाब के बिजली मंत्री गुरजीत राणा, सांसद रवनीत बिट्टू, पूर्व विधायक अजीत इंद्र सिंह मोफर, मुख्यमंत्री पंजाब के सलाहकार भरतेंद्र सिंह चहल, सीपीएस बख्शीश् सिंह विर्क, सीमा त्रिखा, अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी विजेंद्र व सुशील कुमार के अलावा अनेक वरिष्ठ आईएएस व आईपीएस अधिकारी, वरिष्ठ पत्रकार एवं राजनेताओं के अलावा सामाजिक लोगों ने हिस्सा लिया।
इससे पहले गुडग़ांव में आयोजित दुष्यंत की शादी समारोह में हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु, केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह, केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री व पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह, योग गुरु बाबा रामदेव, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेडकर, केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौर, केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारुख अब्दुल्ला, कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह, चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के छोटे भाई व पूर्व सांसद रणजीत सिंह, दिग्विजय सिंह चौटाला, कर्ण चौटाला, अर्जुन चौटाला, पूर्व स्पीकर सतबीर सिंह कादियान सहित अनेक प्रमुख राजनेता, वरिष्ठ पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी, अनेक राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी और  परिवार के करीबी लोग शामिल थे। 
जंतर-मंतर पर सोहना हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने दिया धरना, सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी


इनेलो की ओर से एसवाईएल को लेकर जंतर-मंतर नई दिल्ली पर दिए जा रहे धरने में गुडग़ांव जिले के सोहना विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने शामिल होकर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द पूरा करवाए जाने की मांग की। इनेलो कार्यकर्ताओं का नेतृत्व इनेलो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंत राम तंवर ने किया और भाजपा सरकार पर हरियाणा विरोधी नीतियां अपनाने का आरोप लगाया। धरने में इनेलो के जिला उपाध्यक्ष किशोर यादव, सतीश राघव, राजबीर बालियबस, नछत्तर सिंह मल्हान, कुणाल गहलावत, नगेंद्र डागर, दीपक डागर, सुरेंद्र, विरेंद्र जाखड़, सतीश घाटीवाल, राजू सरपंच, जयपाल नम्बरदार, मनीष सचदेवा, पप्पू पठान, अजमत सरपंच, अश्पाक खतखडी भी शामिल थे। इनेलो नेताओं ने कहा कि अलग राज्य बनने के बावजूद हरियाणा के साथ पिछले पचास सालों से एसवाईएल के पानी को लेकर भारी अन्याय हो रहा है और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बावजूद प्रदेश को उसके हिस्से का पानी नहीं मिल पा रहा। 


इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के पानी को लेकर पहले कांग्रेस हरियाणा के साथ निरंतर अन्याय करती रही है और अब भाजपा सरकार भी उसी रास्ते पर चलते हुए इस मामले को जानबूझकर लटका रही है ताकि प्रदेश को उसके हक से वंचित किया जा सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि उनकी पार्टी इस अन्याय को किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेगी और एसवाईएल के मुद्दे पर निरंतर न सिर्फ संघर्ष जारी रखेगी बल्कि बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसके मुकम्मल होने से न सिर्फ प्रदेश को अपने हिस्से का पानी मिल पाएगा बल्कि राज्य की प्यासी भूमि खुशहाल होने के साथ-साथ लोगों की पेयजल समस्या भी हल हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल के मुद्दे पर पिछले पांच महीनों से मुख्यमंत्री प्रदेश का पक्ष रखने के लिए पीएम से अभी तक मिलने का समय नहीं ले पाए और इसी से जाहिर होता है कि उनकी प्रदेश के हितों में कोई दिलचस्पी नहीं है। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक एसवाईएल का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता तब तक इनेलो का बेमियादी धरना निरंतर जारी रहेगा।
बत्ती छोडऩे से नहीं, अनाप-शनाप सुविधाएं छोडऩे से खत्म होगा वीआईपी कल्चर - बलवान दौलतपुरिया


फतेहाबाद : इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने अपने अनाज मंडी स्थित प्रतिष्ठान पर पहुंचते ही शुक्रवार सुबह निजी वाहन पर लगी बत्ती हटा दी। इसके बाद कार्यालय में पहुंचे समर्थकों से बातचीत करते हुए उन्होंने भाजपा सरकार के मंंत्रियों के साथ-साथ मुख्यमंत्री पर कटाक्ष किया कि इस तरह लाल बत्ती हटा कर वीआईपी कल्चर खत्म करने का स्वांग रचने की बजाय वे अगर सही मायनों में एक स्वच्छ व आमजन की राजनीति करना चाहते हैं तो सबसे पहले सुरक्षा कर्मियों, एस्कोर्ट, सरकारी बंगलों जैसी उन तमाम सुख-सुविधाओं को छोडऩे का साहस भी दिखाएं, जो करोड़ों रुपये के सरकारी खजाने को बर्बाद करने का काम कर रहे हैं। 
इनेलो विधायक ने कहा कि जिस तरीके की होड़ भाजपा मुख्यमंत्री, प्रदेशाध्यक्ष व मंत्रियों ने लाल बत्ती हटाने में दिखाई, यदि वह ऐसी ही उत्सुकता मंडियों में किसानों की समस्याओं का निदान करने, बुजूर्गों की पेंशन बढ़ाने, बेरोजगारों को रोजगार देने जैसे जनहितैषी कार्यों में दिखाएं तो सही मायनों में उसे ही वीआईपी कल्चर खत्म होने की शुरूआत माना जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार नियमों को ताक पर रखकर केवल मात्र अपने चहेते विधायकों पर सीपीएस पद के रूप में सरकारी खजाना लुटाने का काम कर रही है। वीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए मुख्यमंत्री को अपनी सरकार में नियुक्त किए गए सभी सीपीएस को प्रदान की गई मंत्रियों के स्तर की सुविधाएं वापस लेनी चाहिए। दौलतपुरिया ने कहा कि भाजपा सरकार जनता को रिझाने के लिए केवल मात्र दिखावों की सरकार बनकर रह गई है। उन्होंने स्पष्ट किया कि विधायक चाहे किसी भी पार्टी का हो उसे बत्ती का प्रयोग करने देना चाहिए, क्योंकि उसके पास बत्ती के अलावा अन्य किसी तरह के गार्ड या सरकारी तंत्र का दुरुपयोग करने वाले संसाधन नहीं होते। उन्होंने कहा कि इनेलो जनता के बीच रहकर उनके अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाली पार्टी है। इनेलो सत्ताकाल में स्वयं मुख्यमंत्री औमप्रकाश चौटाला जनता के बीच उनका नुमाईंदा बनकर उनकी समस्याएं खुला दरबार लगाकर सुनते थे। आज भी जनता इनेलो के उस कार्यकाल की मिसाल देती है। इसके विपरित भाजपा ने अपने अब तक के कार्यकाल में सिवाय वीआईपी कल्चर खत्म करने या अन्य लोक लुभावने अभियान चलाने के कोई ठोस कदम जनहित में नहीं उठाया। इस अवसर पर पार्टी के कई प्रमुख पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।

दादरी-दिल्ली मुख्य मार्ग से हटा डिवाइडर, ग्रामीणों, चालकों ने जताया विधायक राजदीप का आभार 


चरखी दादरी : कई सालों से दादरी-दिल्ली मुख्य मार्ग पर गांव मोरवाला से आगे बीच रास्ते बना डिवाइडर आखिरकार हटा दिया गया है। इस समस्या से परेशान आसपास के दर्जनों गांवों के लोगों ने हलके के विधायक राजदीप फौगाट से समाधान की मांग रखी थी। फरवरी माह की तीन तारीख को विधायक राजदीप ने मौका मुआयना किया और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को टूटे हुए सड़क मार्ग के निर्माण व डिवाईडर को रास्ते से हटाने के लिए कहा था। उस दौरान अधिकारियों ने एक माह के अंदर इस कार्य को पूरा करने का भरोसा दिया था। आखिरकार विधायक के प्रयासों से सड़क मार्ग निर्माण शुरू किया गया और अब डिवाइडर को भी हटा दिया गया है। अब इस मार्ग पर आवागमन सरल होगा। विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि यह डिवाडर पिछले कई साल से सड़क हादसों का कारण बन रहा था। रात के समय दिखाई न देने व सड़क के बीचों-बीच होने से चालक संतुलन खो बैठता था। राजदीप ने कहा कि दस साल के हुड्डा शासन में गांव इमलोटा से दादरी तक सड़क मार्ग की अनदेखी की गई। जिस कारण यह मार्ग पूरी तरह खस्ताहाल था। इसी मार्ग पर मोरवाला से आगे बीच रास्ते डिवाईडर आवागमन में बाधा व हादसों का पर्याय बना था। इस समस्या को लेकर गांव बिगोवा, मोरवाला,  इमलोटा, सरूपगढ़, सांतौर के सैकड़ों ग्रामीण उनसे मिले थे। दादरी से इमलोटा सड़क मार्ग का लगभग निर्माण पूरा होने व डिवाईडर हटाए जाने पर विधायक राजदीप फौगाट के प्रयासों की सराहना की है। ग्रामीणों का कहना है कि अब रास्ता भी सीधा हो गया है। पुलिस पर बने इस डिवाईडर के कारण कई हादसे हो चुके हैं। विधायक ने बताया कि करीब 20 करोड़ की लागत से 21.51 किलोमीटर का पूर्व साइज में ही सड़क मार्ग का निर्माण जोरों पर है। विधायक ने कहा कि यहां फोरलेन निर्माण की मांग को लेकर जल्द ही वे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात करेंगे। सरपंच ओमप्रकाश, मोरवाला से सरपंच जयकिशन, सुरेश इमलोटा, नरेश बिगोवा, देशराज, अनूप डूडी, जितेंद्र, अशोक, राजेश, देवेंद्र, रामनिवास  मिर्च, रामकिशन इमलोटा, सन्नी इत्यादि ने कहा कि अब सड़क मार्ग पर आवागमन सरल हो पाएगा।

Thursday, April 20, 2017

एसवाईएल निर्माण को लेकर हथीन के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


इनेलो की ओर से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करने की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत गुरूवार को पलवल जिले के हथीन विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया। धरने का नेतृत्व पलवल जिलाध्यक्ष अजित बाबी व हथीन से इनेलो विधायक केहर सिंह रावत ने किया। इस अवसर पर प्रवीण डागर हलका प्रधान, नछत्तर सिंह मल्हान, कुणाल गहलावत, महेंद्र सहरावत, जीतू दीघोट, सुखराम डागर, उदयवीर सहरावत, दलीप बृजेश, सुंदर रावत, चंद्रपाल, चरण सिंह डागर, मोहन रावत च राजबीर चेयरमैन सहित अनेक प्रमुख इनेलो नेता व पार्टी कार्यकत्र्ता भी मौजूद थे।
इनेलो नेताओं ने धरना स्थल पर इनेलो कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस व भाजपा एसवाईएल पर राजनीति कर रहे हैं और दोनों दलों को हरियाणा के हितों से कोई लेना-देना नहीं है। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के बारे सर्वोच्च न्यायालय हरियाणा के पक्ष में फैसला दे चुका है और अदालत के फैसले अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर है। केंद्र सरकार इस मामले में ढुलमुल रवैया अपनाए हुए है और प्रदेश की भाजपा सरकार भी हरियाणा के हितों की लड़ाई लडऩे में बेहद कमजोरी दिखा रही है। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि  सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार जब तक एसवाईएल के अधूरे निर्माण का काम शुरू नहीं हो जाता तब तक इनेलो कार्यकर्ता इस मुद्दे को लेकर जंतर-मंतर पर अपना धरना जारी रखेंगे। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसके पूरा होने से न सिर्फ हरियाणा को अपने हिस्से का पानी मिल पाएगा बल्कि प्रदेश की बंजर भूमि खुशहाल होने के साथ-साथ लोगों को पीने के पानी के लिए आ रही समस्या भी दूर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल का निर्माण कार्य सबसे पहले चौधरी देवीलाल ने हरियाणा का मुख्यमंत्री रहते हुए पंजाब सरकार से जमीन अधिग्रहण की अधिसूचना जारी करवाकर और इसके लिए पैसों की अदायगी करके शुरू करवाई थी और सबसे ज्यादा निर्माण कार्य भी चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में ही हुआ था। ये बात पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल ने हरियाणा विधानसभा में खूद स्वीकार की थी। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने प्रदेश का मुख्यमंत्री रहते हुए एसवाईएल को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके परिणामस्वरूप अदालत का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इस मामले में हमेशा अड़चनें खड़ा करने का काम किया है और अब भी कांग्रेस किसी न किसी बहाने इस मामले में अड़ंगे लगाने में लगी हुई है। इनेलो नेताओं ने कहा कि पंजाब में कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल को लेकर अलग भाषा बोलते हैं और हरियाणा में आकर उनकी भाषा एकदम अलग हो जाती है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्तर के दोनों दलों के राष्ट्रीय नेतृत्व को एसवाईएल पर पार्टी का राष्ट्रीय स्तर पर लिए जाने वाला स्टेंड स्पष्ट करना चाहिए ताकि दोहरी भाषा बोलने वाले इन राजनेताओं की वास्तविकता का प्रदेशवासियों को पता चल सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के मुख्यमंत्री पिछले करीब पांच महीनों से प्रधानमंत्री से मिलने का समय नहीं ले पाए हैं जिससे साफ है कि भाजपा के लिए एसवाईएल जैसे अहम मुद्दे की भी कोई गम्भीरता नहीं है। धरने पर बैठे इनेलो कार्यकर्ताओं ने केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार तुरंत पूरा करवाए जाने की मांग की।

Wednesday, April 19, 2017

पिरथला हलके के कार्यकर्ताओं ने जंतर मंतर पर दिया धरना, सरकार के खिलाफ की नारेबाजी



इनेलो एसवाईएल के मुद्दे पर आरपार की लड़ाई लड़ेगी और जब तक नहर का निर्माण शुरू नहीं किया जाता तब तक इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी। यह बात इनेलो नेताओं ने बुधवार को जंतर-मंतर पर इनेलो की ओर से दिए जा रहे अनिश्चितकालीन धरने को सम्बोधित करते हुए कही। इनेलो नेताओं ने केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और भाजपा सरकार पर हरियाणा के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। आज इनेलो नेता देवेंद्र सिंह चौहान व पूर्व विधायक राजेंद्र बिसला के नेतृत्व में फरीदाबाद जिले के पिरथला हलके के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करवाए जाने की मांग की।
धरने में रामजीत भाटी हलका अध्यक्ष, रूपचन्द लांबा, शशिबाला तेवतिया, देवेन्द्र तेवतिया, पवन रावत, अरविन्द भारद्वाज, नछत्तर सिंह मल्हान, कुणाल गहलावत, ठाकुर राजाराम, जगजीत जौर, प्रेम सिंह धनखड़, सन्तोष शर्मा, घासीराम भड़ाना, दुर्गपाल रावत, रविंदर पाराशर, अमर सिंह दलाल, सचिन कौशिक, बोधराज रावत, धर्मबीर कालीरामण, बच्चू सिंह तेवतिया, महाशय इन्दर देव, सावित्री तंवर, अनिल खुटेला, नाहर सिंह धारीवाल, देवी सिंह लांबा, मास्टर अमीचंद, प्रसादी लाल, सोहन लाल तंवर, श्रीपाल, सतप्रकाश, जगमोहन तेवतिया, राजबीर सिंह, मनमोहन अलावलपुर, प्रेम देवी, माया, रेखा, बबिता, ठाकुर प्रताप सिंह, मोनू डागर, सोनू, सुमन मलिक, रचना, शिव देवी, हीरावती, रामदेवी, कांता, ब्रजवती, होरी लाल, महताब सिंह जवान, रत्न सिंह, शिव चरण, कर्मचारी नेता शीलकराम भी मौजूद थे और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नारायण पीडी अग्रवाल ने भी धरनास्थल पर आकर प्रदर्शनकारियों का हौसला बढ़ाया और इनेलो की मांगों का समर्थन किया।
इनेलो नेताओं ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सरकार इस मामले में गम्भीरता दिखाने की बजाय मामले को लटकाने के लिए मात्र टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नही मांग रहा बल्कि अलग राज्य के रूप में अस्तित्व में आने के बाद उसको मिले अपने हिस्से का पानी मांग रहा है। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज हरियाणा के पक्ष में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बावजूद इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा न करना न सिर्फ हरियाणा के साथ घोर अन्याय है बल्कि संवैधानिक मर्यादाओं का हनन और सर्वोच्च न्यायालय की भी अवमानना है। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल का निर्माण पूरा होने से जहां हरियाणा को अपने हिस्से का पूरा पानी मिल पाएगा वहीं प्रदेश की प्यासी धरती खुशहाल होगी और लोगों को पीने के पानी के लिए आ रही दिक्कतें भी दूर हो जाएंगी। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज अलग राज्य बनने के 50 साल बाद भी हरियाणा को अपने जायज हिस्से का पानी पाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि स्व. जननायक चौधरी देवीलाल के संघर्ष के बलबूते पर ही हरियाणा अलग राज्य के तौर पर अस्तित्व में आया था और उन्होंने ही एसवाईएल का निर्माण कार्य करवाने में अहम भूमिका निभाई। इनेलो नेताओं ने कहा कि चौधरी देवीलाल की नीतियों पर चलते हुए इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने हरियाणा के हिस्से का पानी प्रदेश में लाने और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की और उसी का नतीजा था कि एसवाईएल पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाण के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि पिछले दस सालों तक केंद्र व प्रदेश में कांग्रेस की सरकारें थी और उन सरकारों ने एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर इस पर एक शब्द तक नहीं बोला। इनेलो नेताओं ने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से प्रदेश व केंद्र में भाजपा की सरकार है और नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी भी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसलिए इस नहर को केंद्र जल्द पूरा करवाए अन्यथा इनेलो प्रदेश का हक पाने के लिए हर बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने को तैयार है और संघर्ष निरंतर जारी रखेगी।

Tuesday, April 18, 2017

एसवाईएल पर सोनीपत हलके के कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


एसवाईएल को लेकर इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर शुरू किया गया बेमियादी धरना मंगलवार को भी जारी रहा। सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने आज पूर्व विधायक व पार्टी के जिलाध्यक्ष पदम सिंह दहिया, हलका प्रधान सुरेंद्र छिकारा व सुरेंद्र पंवार के नेतृत्व में जंतर-मंतर पर धरना दिया गया और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को जल्द पूरा करवाए जाने की मांग करते हुए सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद अभी तक नहर का निर्माण न होना यह दर्शाता है कि कांग्रेस व भाजपा की इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने में कोई रूचि नहंीं है। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसके अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए इनेलो कोई भी बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगी और जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता तब तक इनेलो का आंदोलन जारी रहेगा। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण में स्व. जननायक चौधरी देवीलाल की अहम भूमिका रही और उनके मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए एसवाईएल के लिए पंजाब क्षेत्र में भूमि अधिग्रहण की अधिसूचना जारी हुई और इस नहर के लिए सबसे पहले चौधरी देवीलाल ने ही बतौर मुख्यमंत्री पंजाब को धनराशि दी थी। सबसे ज्यादा निर्माण कार्य भी चौधरी देवीलाल के मुख्यमंत्री रहे हुए हुआ और यह बात खुद पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी बंसीलाल ने हरियाणा विधानसभा में खुले मन से स्वीकार करते हुए कहा था कि सबसे ज्यादा काम चौधरी देवीलाल के समय में हुआ है और वे चौधरी देवीलाल के चाहे राजनीतिक विरोधी हैं इसके बावजूद सच्चाई को झुठलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने एसवाईएल के मामले को ठण्डे बस्ते में डालने का काम किया और चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने मुख्यमंत्री बनते ही इस नहर को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते सर्वोच्च न्यायालय का फैसला 2002 में हरियाणा के पक्ष में आया।


इनेलो नेताओं ने कहा कि इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार ने पुनर्विचार याचिका दायर की और पंजाब की याचिका 2004 में न सिर्फ खारिज हो गई बल्कि सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से अपनी किसी एजेंसी के माध्यम से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के आदेश दिए। इस फैसले में अड़ंगा लगाने के लिए उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने पंजाब विस में नदी जल समझौते रद्द करने वाला बिल पारित कर दिया जो कि पूरी तरह से असंवैधानिक था। 2005 से 2007 तक पंजाब, हरियाणा व केंद्र में कांग्रेस की सरकारें थी लेकिन कांग्रेस ने नहर पूरी करवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। इतना ही नहीं दस साल तक हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार रही और इस दौरान केंद्र में भी कांग्रेस की सरकार थी और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर किसी भी अदालत का कोई स्थगन आदेश नहीं था इसके बावजूद भूपेंद्र हुड्डा के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नहर को पूरा करवाना तो दूर मामले पर पूरी तरह से चुप्पी साधे रखी।
इनेलो नेताओं ने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और इस दौरान पंजाब में भी भाजपा गठबंधन की सरकार रही लेकिन भाजपा नेताओं ने नहर को पूरा करवाने में कोई रूचि नहीं दिखाई। इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री पिछले करीब पांच महीनों से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के मामले में प्रधानमंत्री से मिलने का समय नहीं ले पाए हालांकि उन्होंने कहा था कि वे विपक्षी दलों को साथ लेकर प्रधानमंत्री के समक्ष हरियाणा का पक्ष रखने के लिए समय लेंगे और सर्वदलीय प्रतिनिधिमण्डल लेकर जाएंगे। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा के नेता आज भी एसवाईएल पर दोहरी भाषा बोल रहे हैं। एक तरफ जहां वे पंजाब में हरियाणा को एक बूंद भी पानी न देने की बात करते हैं वहीं हरियाणा में उनकी भाषा अलग होती है और दोनों दलों का आलाकमान आज तक इस मुद्दे पर अपना स्टेंड स्पष्ट नहीं कर पाया है। इनेलो नेताओं ने कहा कि अलग राज्य बनने के बावजूद हरियाणा को उसके हिस्से का पानी न मिलना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है और हरियाणा के साथ घोर अन्याय व सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना भी है। उन्होंने कहा कि इनेलो प्रदेशवासियों को साथ लेकर अपना संघर्ष जारी रखेगी। इस अवसर पर राजकुमार रिढाउ, नछत्तर सिंह मल्हान, युवा जिला प्रधान कुणाल गहलावत, हरिप्रकाश मंडल, प्रोमिला मलिक, जिले सिंह दहिया, जितेंद्र वर्मा, फूल कुमार चोहान, बैयराज दहिया, अंजू अंतिल, मुकेश बागड़ी, डॉ भगत, मास्टर अजमेर, राजेंद्र मलिक व विकास मलिक सहित भारी संख्या में इनेलो नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।