Saturday, December 30, 2017

एसवाईएल का पानी यदि 23 फरवरी तक नहीं आया तो 7 मार्च को दिल्ली से छेड़ा जाएगा आंदोलन - अभय  सिंह चौटाला


कुरुक्षेत्र, 30 दिसम्बर  : प्रदेशभर के कार्यकर्ताओं में जोश भरने व भाजपा के झूठे वादों की पोल खोलने का काम कर रहे नेता प्रतिपक्ष चौ0 अभय सिंह चौटाला व  इनेलो प्रदेशाध्यक्ष श्री अशोक अरोड़ा आज कुरुक्षेत्र जिला के हल्का पिहोवा के गांव इस्माइलाबाद, बाखली, थाना, भौर सैदां व पिहोवा में जनजागरण अभियान के तहत पहुंचे। जहां सम्बोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष चौ0 अभय सिंह चौटाला ने प्रदेश के किसानों को एसवाईएल पानी के अधिकार दिलवाने के लिए शुरू की गई लड़ाई को निर्णायक मोड़ तक लेकर जाने का जनता से वायदा करते हुए कहा कि या तो सरकार 23 फरवरी तक नहर का निर्माण करवाये अन्यथा इनैलो भारी तादाद में 7 मार्च को दिल्ली पहुंचकर केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ देगी । उन्होंने कार्यकर्ताओं को 7 मार्च को दिल्ली पहुंचने का आह्वान किया । 
नेता प्रतिपक्ष ने भाजपा और कांग्रेस को जमकर आड़े हाथों लेते हुये कहा कि आज उनसे सवाल पूछ रहे भाजपा के मंत्री अपने मुख्यमंत्री से पूछे कि एसवाईएल पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद आज तक उन्होंने क्या किया है। भाजपा मंत्री नायब सैनी पर आरोप लगाते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि नायब सैनी दिन रात मिट्टी बेचकर अपनी जेबें भर रहा है और इन आरोपों पर उसकी कोई प्रतिक्रिया न आना इन आरोपों को पुख्ता करता है। वहीं नेता प्रतिपक्ष ने अलग अलग धड़ों में बंटती जा रही कांग्रेस को भी निशाने पर लिया। भूपेंद्र सिंह हुड्डा की रथ यात्रा और अशोक तंवर की साईकिल यात्रा पर सवाल खड़ा करते हुए चौ0 अभय सिंह चौटाला ने कहा कि हुड्डा सिर्फ और सिर्फ अपना वजूद बचाने की कवायद में जुटा है। हुड्डा को प्रदेश के हितों से कुछ भी लेना देना नहीं है। भूपेंद्र सिंह हुड्डा को नसीहत देते हुए कहा कि अगर हुड्डा को रथ यात्रा करनी ही है तो 
एसवाईएल के पानी के लिए करे ।


सभाओं को प्रदेश अध्यक्ष श्री अशोक अरोड़ा, इनैलो विधायक एवं पूर्व मंत्री जसविंद्र सिंह संधू, राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार हर प्रकार से असफल साबित हुई है, जिन मुद्दों के लेकर बीजेपी सरकार सत्ता में आई उन पर कोई ध्यान नहीं है, गऊ, गीता और सरस्वती के नाम पर राजनीति कर रही है। उन्होंने कहा इनैलो की सरकार आने पर गरीब की बेटी की शादी में 5 लाख रुपये शगुन के तौर पर, वृद्ध सम्मान पेंशन, विधवा पेंशन को 2500 रुपये,  किसान, मजदूर व गरीब के कर्जे माफ, ट्युवबैल व घरों के बिजली बिल आधे कर हर वर्ग को लाभ दिया जाएगा।
इस मौके पर जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुल्तानी, प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण आत्रेय, बलदेव सिंह वड़ैच, हल्का प्रधान कर्ण सिंह, प्रदेश कार्यकारणी सदश्य प्रल्हाद भगत शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण अत्रि, बलजीत सिंह गेटी, मास्टर बलदेव सिंह, अजमेर सिंह चंद्र भान वाल्मीकि, सुभाष भटेड़ी, सुरेश नैन, बलजिंदर सिंह बब्बू, गगन जोत संधू,  धर्मेंद्र नैन, अनवर खान, रामकरन काला, कुलदीप जख्वाला, सुरजीत राणा, प्रीतम सिंह, सुरेश टबरा, अमरजीत शेरगढ़, दिलबाग सिंह ठसका, सरवजीत सिंह, दिलबाग सिंह लोटनी, सूबा सिंह प्रधान मंडी एसोसिएशन, नसीब सिंह, मलकियत इस्माइलाबाद, दलबिंद्र सिंह, डॉ छबेग सिंह, जगपाल व् प्रैस प्रवक्ता महिंद्र कंथला आदि उपस्थित थे । 
एसवाईएल के साथ दादुपुर-नलवी व् अन्य नहरों के लिए करेंगे बड़ा आन्दोलन - अभय सिंह चौटाला 

 
पिहोवा, 30 दिसम्बर : नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने जनजागरण अभियान के दूसरे चरण में 60 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करते हुए आज पिहोवा पहुंचे । जहां उन्होंने कई गांवों में जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि एसवाईएल की लड़ाई अब निर्णायक होगी। क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी केंद्र और राज्य की भाजपा का रवैया किसान के हित में सकारात्मक नहीं है। जहां एक ओर प्रदेश का किसान फसलों की सिंचाई के लिए पानी की समस्या से दो-चार हो रहा है वहीं खट्टर सरकार कोर्ट के फैसले के तेरह महीने बाद भी एसवाईएल पर हरियाणा का पक्ष तक प्रधानमंत्री के सामने नहीं रख पाई। यह भाजपा की असंवेदनशील सरकार द्वारा किसान की जान-बूझकर अनदेखी करने का मामला है। जिसके लिए उन्होंने 7 मार्च को दिल्ली में होने वाली किसान रैली का न्यौता भी लोगों को दिया।
नेता विपक्ष ने यह भी कहा कि एसवाईएल को लेकर उन्होंने दो बार प्रधानमंत्री से समय मांगा जो उनको नहीं दिया गया। अब तीसरी बार पत्र लिखकर उससे वक्त लेने का पुन: प्रयास कर रहे हैं ताकि पानी के मुद्दे पर हरियाणा प्रदेश की जनता का पक्ष रख सकें और प्रधानमंत्री को किसान का दर्द से अवगत करवा सकें। इनेलो पार्टी प्रदेश की जनता के हितों की लड़ाई लडऩे के लिए वचनबद्ध है।


इनेलो नेता ने यह आरोप भी लगाया कि भाजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र का कोई भी वायदा पूरा नहीं किया। वहीं पत्रकारों से बातचीत करते हुए नेता विपक्ष ने कहा कि इनेलो न केवल एसवाईएल बल्कि दादूपुर-नलवी व अन्य नहरों के लिए बड़ा आंदोलन लड़ेगी। उन्होंने कांग्रेस पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि यह पार्टी आपसी कलह की वजह से प्रदेशवासियों में अपना विश्वास कब की खो चुकी है। अब इनकी साइकल और रथ यात्रा निजी तौर पर अपना राजनैतिक भविष्य तलाशने का हथकंडा है। 
 पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि आज उनसे सवाल पूछ रहे भाजपा के मंत्री को अपने मुख्यमंत्री से पूछना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद आज तक उन्होंने क्या किया है। भाजपा मंत्री नायब सैनी पर आरोप लगाते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि नायब सैनी दिन रात मिट्टी बेचकर अपनी जेबें भर रहा है और इन आरोपों पर उसकी कोई प्रतिक्रिया न आना इन आरोपों को पुख्ता करता है।

Friday, December 29, 2017

बीजेपी सरकार में जान से ज्यादा आधार कार्ड का महत्व - पदम् सिंह दहिया
सोनीपत 29 दिसम्बर: इण्डियन नैशनल लोकदल पार्टी के जिलाध्यक्ष पदम सिंह दहिया ने महलाना गांव निवासी लक्ष्मण दास की पत्नी शकुंतला देवी की मौत के लिए भाजपा सरकार को जिम्मेदार बताते हुए कहा इस घटना से सारे देश का सिर शर्म से झुक गया है। दहिया ने कहा बीजेपी सरकार के कार्यकाल में शहीद की पत्नी की जान से ज्यादा आधार कार्ड की फोटोकापी का महत्व है। दहिया ने सरकार को घेरते हुए कहा जिस प्रकार शहीद का बेटा अपनी मां के ईलाज के लिए गिड़गिड़ाता रहा और पुलिस व हस्पताल प्रशासन ने परिजनों को इलाज करने की बजाय धमकाया यह अमानविय कार्य है। भाजपा सरकार के मंत्री और विधायक केवल चिकनी चुपड़ी बाते करते हैं। 
दहिया ने कहा इनलो पार्टी शहीद की पत्नी की मौत के इस मामले को विधानसभा से लोकसभा तक उठाने का काम करेगी। दहिया ने कहा सरकार सो रही है। सता के नशे में चुर भाजपा सरकार की उल्टी गीणति शुरू हो गर्ई है। सरकार का असली चेहरा अब जनता के सामने पुरी तरह से आ चुका है। इनेलो की सरकार बनते ही पाई-पाई का हिसाब लिया जाएगा। दहिया ने कहा आज अधिकारी मौज लूट रहे हैं। आदमी की जान की कीमत भाजपा नहीं समझती। भाजपा के लिए सता ही सबकुछ है। 
नीट व जीट की तर्ज पर हो देश भर में अध्यापकों के लिए सीटेट की परीक्षा - दुष्यंत चौटाला 


हिसार, 29 दिसंबर : स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए केंद्रीय स्तर पर एक ही पात्रता परीक्षा आयोजित होने चाहिए, जिसे पास करने के बाद किसी भी प्रदेश का युवक देश में कहीं पर भी शिक्षक लगने की योग्यता हासिल कर सके। राष्ट्रीय स्तरीय पात्रता परीक्षा प्रणाली की वकालत इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने की है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने शुक्रवार को इस मांग को लेकर लोकसभा में आवाज उठाई। उन्होंने यह भी मांग की कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के प्रमाणपत्र की मान्यता कम से कम 10 वर्ष होनी चाहिए जिससे कि युवकों को बार-बार पात्रता परीक्षा पास न करनी पड़ी। 
लोकसभा में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि देश  भर में शिक्षक बनने के लिए अलग-अलग प्रदेशों में शिक्षकों की पात्रता परीक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है और केंद्रीय स्तर पर भी सीटेट के नाम से अध्यापक पात्रता परीक्षा का आयोजन किया जाता है पर अचरज की बात तो यह है कि यदि कोई युवक किसी एक प्रदेश में यह पात्रता परीक्षा पास कर लेता है तो वह किसी अन्य प्रदेश में शिक्षक बनने की पात्रता हासिल नहीं करता, उसके लिए उसे संबंधित प्रदेश की पात्रता परीक्षा पास करनी पड़ती है। इतना ही नहीं सीटेट पास करने वाला युवक यदि हरियाणा में शिक्षक बनना चाहता है तो इसके लिए उसे एचटेट पास करना पड़ता है। सीटेट पास केवल केंद्रीय सरकार द्वारा की जाने वाली शिक्षकों की भर्ती के लिए ही आवेदन कर सकता है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इतना ही नहीं अलग-अलग प्रदेशों में आयोजित की जाने वाली इन पात्रता परीक्षा की समय सीमा की मान्यता भी अलग-अलग अवधि के लिए होती है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में एचटेट की मान्यता पांच वर्ष है और केंद्रीय अध्यापक पात्रता परीक्षा की मान्यता 7 वर्ष के लिए है। उन्होंने कहा कि यदि इस अवधि में नौकरी नहीं मिलती है तो इच्छुक आवेदकों को दोबारा यह टेस्ट पास करना पड़ता है। 
इस प्रणाली का विरोध करते हुए दुष्यंत चौटाला ने केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री से मांग की कि केंद्र सरकार नीट व जीट की तर्ज पर शिक्षक पात्रता परीक्षा सीटेट को देश भर में समानता से लागू किया जाए और इस परीक्षा की मान्यता दस वर्ष तक होनी चाहिए जिससे कि युवकों को शिक्षक की नौकरी के लिए आवेदन करने के लिए अलग-अलग प्रदेशों और बार-बार परीक्षाएं न देनी पड़े। 
एसवाईएल के लिए दिल्ली में करेंगे प्रदर्शन - अभय सिंह चौटाला 


चंडीगढ़, 29 दिसम्बर: जाने वाले वर्ष का लेखाजोखा करते हुए, विपक्ष के नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने सरकार की लगभग सभी क्षेत्रों की असफलताओं का ब्यौरा देते हुए  इनेलो पार्टी द्वारा हरियाणा के हितों को सुरक्षित रखने के लिए किए गए प्रयासों पर रौशनी डाली।
वर्ष 2017 में दो ऐसे गम्भीर मुद्दे थे जिनमें सफलता प्राप्त करने के लिए इनेलो लगातार संघर्षरत रही है। एसवाईएल का मुद्दा सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद भी अभी अधर में ही इस कारण लटका हुआ है क्योंकि उसके समाधान की इच्छाशक्ति न तो राज्य सरकार में है और न ही केंद्र सरकार में।  लगभग 13 महीने बीत जाने के बाद भी न तो प्रधानमंत्री ने इनेलो को मुलाकात का समय दिया और न राज्य सरकार हरियाणा का पक्ष प्रधानमंत्री के सामने रख पाई है। इसे देखते हुए इनेलो ने निर्णय लिया है कि अपने एसवाईएल संघर्ष के अगले दौर में वह 7 मार्च को रामलीला मैदान दिल्ली में एक विशाल प्रदर्शन का आयोजन करेगी। 
अभय सिंह चौटाला ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कुछ समय पहले ट्रैक्टर को ही नॉन-ट्रांसपोर्ट वाहन घोषित करने का निर्णय लगभग कर लिया था। परंतु जब इनेलो ने  इस मुद्दे को केंद्रीय सडक़ एवं परिवहन मंत्री के समक्ष दिसम्बर महीने में ही दो बार रखा, और इनेलो के सांसदों ने देश की संसद में भी इस मुद्दे को उठाया तो सडक़ एवं परिवहन मंत्री उस निर्णय पर रोक लगाने के लिए तब तैयार हुए जब उन्हें यह भी बताया गया कि यदि ट्रैक्टर ट्रांसपोर्ट वाहन घोषित कर दिया जाता है तो ट्रैक्टर धारक किसानों को प्रति ट्रैक्टर एकमुश्त 15 लाख या प्रति वर्ष डेढ लाख रुपए का टैक्स भरना पड़ेगा। इस आशय का कानून हरियाणा 2016 में बना चुका था। इस होने वाले अन्याय से अब इनेलो के प्रयासों से किसानों को मुक्ति मिल गई है।
अभय सिंह चौटाला ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने बार-बार यह सिद्ध किया है कि उसकी नीतियां किसान विरोधी हैं। दादूपुर-नलवी नहर परियोजना को डी-नोटिफाई कर उसे रद्द करने का मामला हो या मेवात कैनाल फीडर से समय पर जल प्राप्त करना क्यों न हो। दादूपुर-नलवी नहर परियोजना को रद्द करने से जहां हरियाणा भू-जल स्तर के मामले में डार्कजोन में जाने की ओर एक बड़ा कदम उठा रहा है वहीं मेवात कैनाल फीडर में पानी उपलब्ध न करवाने से मेवात क्षेत्र के किसानों को तबाह करने का प्रयास किया गया है। 
विपक्ष के नेता ने यह भी चेतावनी दी कि जिस प्रकार धान की खरीद में नमी के नाम पर किसानों को प्रति क्विंटल कीमत कम दी गई उसके लिए जिम्मेवार लोगों के विरुद्ध इनेलो की सत्ता आने पर कार्रवाई की जाएगी। 
विपक्ष के नेता ने मुख्यमंत्री के उस बयान का भी खंडन किया है कि राज्य में भ्रष्टाचार का एक सीमा तक उन्मूलन हो चुका है। उन्होंने बताया कि भिवानी जिले के दादम खनन घोटाले में जो टिप्पणी सर्वोच्च न्यायालय ने की है उससे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर स्वयं संदेह के दायरे में आ जाते हैं क्योंकि खनन का अधिकार एक ऐसी कंपनी को उनके हस्तक्षेप के कारण मिला जो उसकी नीलामी की योग्यता भी नहीं रखती थी।  इसके अतिरिक्त यमुनानगर और पलवल में भी सरकार की मिलीभगत से गैर-कानूनी खनन हो रहा है।
बैंचों और इंटरलॉकिंग टाइलों की खरीद का मुद्दा इनेलो पहले ही मीडिया के समक्ष रख चुकी है और सभी जानते हैं कि किस प्रकार इनकी खरीद में भारी घोटाला हुआ है। अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती के अवसर पर नृत्य पंडाल लगाने की कीमत सात से आठ करोड़ रुपए दी गई है। हरियाणा के इतिहास में जितना बड़ा बजट अकेले इस वर्ष इस उत्सव के लिए रखा गया था वह अभी तक के सभी उत्सवों पर किए गए खर्च से भी अधिक है परंतु कुरुक्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास अभी भी होता दिखाई नहीं देता।
हिमाचल प्रदेश के एक निजी पर्यटक स्थल पर भाजपा के मंत्रियों एवं अधिकारियों के लिए एक चिंतन शिविर का आयोजन किया गया। इसका एकमात्र उद्देश्य इस रिजार्ट को लाभ पहुंचाना था क्योंकि इसका आयोजन हरियाणा के अनेक सरकारी पर्यटक स्थानों पर किया जा सकता था।
भाजपा सरकार ने प्रशासन पर एक ही विचारधारा की पकड़ के लिए हरियाणा सरकार ने सभी विभागों एवं कार्पोरेशनों में निजी क्षेत्र से बिना किसी संवैधानिक प्रक्रिया को अपनाए सुशासन सहयोगी नियुक्त किए गए हैं। नौकरियों का ढिंडोरा पीटने के बावजूद, नियमित भर्ती नहीं की गई और अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग  के आरक्षण को तांक पर रख आउटसोर्सिंग की आड़ में संघ विचारधारा वाले लोगों को ही रोजगार उपलब्ध करवाया गया है। 
अभय सिंह चौटाला ने सरकार की निंदा करते हुए यह कहा कि ताजा मिले आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष नवम्बर महीने तक बलात्कार के मामलों में चिंताजनक वृद्धि हुई है। गत वर्ष दिन में तीन बलात्कार की घटनाएं घटती थी वह आंकड़ा अब चार को पार कर गया है। इसी प्रकार महिलाओं के विरुद्ध बलात्कार के प्रयास, उनकी तस्करी और उनके साथ यौन-उत्पीडऩ के मामलों में भी भारी वृद्धि हुई है। इनेलो नेता ने अंत में सभी को नववर्ष की मंगल कामनाएं देते हुए आशा व्यक्त की कि आने वाला वर्ष इस बीते वर्ष जैसा दु:स्वप्न नहीं होगा।

Thursday, December 28, 2017

सरकार गहन चिंतन कर तीन तलाक के कानून पर आगे बढ़े - दुष्यंत चौटाला


हिसार-28 दिसंबर : इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने तीन तलाक बिल का स्वागत किया है। उन्होंने केंद्र सरकार को इस बिल में तलाक का सहारा लेने वाले परिवारों के बच्चों की शिक्षा के व्यवस्था और उनके बीच सेटलमेंट के प्रावधान भी जोडऩे का सुझाव दिया ताकि इस बिल में बार-बार संशोधन न करना पड़े। उन्होंने कहा कि सरकार को इस पर गहन चिंतन कर आगे बढऩा चाहिए। 
युवा सांसद दुष्यंत ने कहा कि पुरूष प्रधान देश में केंद्र सरकार महिलाओं के हितों की रक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पहल कर रही है, जोकि स्वागतयोग्य है। उन्होंने कहा कि चार प्रमुख बिंदुओं पर सरकार यह बिल लाने जा रहे जिसमें सरकार समाज के अधिकारों की बात की गई है। उन्होंने कहा कि जल्दबाजी में सरकार ऐसा कदम न उठाए जिससे कि इस बिल में बार-बार संशोधन करना पड़े, सरकार को इस पर गहन चिंतन करके आगे बढऩा चाहिए। 
उन्होंने कहा कि इस बिल में सीधा मजिस्ट्रेट के समक्ष ले जाने का तो जिक्र किया गया है परन्तु इसमें दोनों परिवारों के बीच कहीं सेटलमेंट का और उनके अधिकारों का जिक्र नहीं है। उन्होंने बिल में तीन वर्ष की सजा के प्रावधानों पर भी सवाल उठाए।

भाजपा सरकार ने चुनावी घोषणा पत्र का कोई भी वादा पूरा नहीं किया - अभय सिंह चौटाला 


जगाधरी, 28 दिसम्बर : एसवाईएल के पानी का अधिकार प्रदेश के किसान को दिलवाने की लड़ाई लड़ रहे नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने एसवाईएल के अधिकार की लड़ाई को निर्णायक बनाने के लिए फिर कमर कस ली है। इसके चलते नेता विपक्ष ने अब दिल्ली से इस लड़ाई का नया आगाज करने का निर्णय लिया है। नेता विपक्ष ने एक बार फिर प्रदेश भर के इनेलो कार्यकर्ताओं और प्रदेश की जनता में जोश भरने का जिम्मा उठा लिया है। 
नेता विपक्ष ने आज जगाधरी पहुंचकर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि एसवाईएल की लड़ाई अब निर्णायक होगी। भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा सिर्फ और सिर्फ जुमलों और इवेंट मैनेजमेंट करने वाली सरकार है। भाजपा का किसान, मजदूर और कमेरे वर्ग से कोई वास्ता नहीं है। यह सिर्फ जयंतियों और समारोहों को समर्पित पार्टी है जिसकी विचारधारा में प्रदेशवासियों के हित नहीं आते।


इनेलो नेता ने यह आरोप भी लगाया कि भाजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र का कोई भी वायदा पूरा नहीं किया। वहीं पत्रकारों से बातचीत करते हुए नेता विपक्ष ने कहा कि इनेलो न केवल एसवाईएल बल्कि दादूपुर-नलवी व अन्य नहरों के लिए बड़ा आंदोलन लड़ेगी। उन्होंने कांग्रेस पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि यह पार्टी आपसी कलह की वजह से प्रदेशवासियों में अपना विश्वास कब की खो चुकी है। अब इनकी साइकल और रथ यात्रा निजी तौर पर अपना राजनैतिक भविष्य तलाशने का हथकंडा है। उन्होंने चिंतन शिविर पर पूछे गए सवाल पर कहा कि मुख्यमंत्री देखने गये थे कि प्रदेश का कौन-सा कोना शांत है। 
संविधान को भाजपा से खतरा - दिग्विजय सिंह चौटाला

भिवानी, 28 दिसंबर : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने भाजपा के राज्य मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के विवादित ब्यान पर यहां जारी ब्यान में कहा कि जब से देश-प्रदेश के अंदर भाजपा की सरकार बनी है जात-पात, धर्म मजहब के नाम पर आए दिन आंदोलन हो रहे हैं। संविधान निर्माता डा. भीमराव अंबेडकर ने दिन-रात एक करके देश का संविधान लिखा था और उस संविधान के दम पर पिछले 70 वर्षों से देश की जनता अपने धर्म और मजहब के साथ जीवन व्यापन कर रही है लेकिन मोदी सरकार के राज्य मंत्री अनंत कुमार हिगड़े के द्वारा भरी जनसभा में संविधान को बदलने की बात से ये साफ जाहीर हो जाता है कि भाजपा सरकार संविधान निर्माता डा. भीमराव अंबेडकर का अपमान करने पर तुली है। दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि आज सभी जातियों में गरीब तबके के लोग हैं और उन्हें आर्थिक रूप से आरक्षण की जरूरत भी है लेकिन संविधान को बदलने की सोच गंदी मानसिकता को दर्शाती है जो भाजपा के सकील डैवलपमेंट मंत्री अनंत कुमार ने संविधान को बदलने की बात कर दर्शा भी दी। दिग्विजय ने कहा कि पिछले दिनों भी भाजपा के एक प्रदेश प्रवक्ता आलोक अवस्थी के द्वारा एक जाति विशेष को चोर तक कहना भाजपा के गलत मानसिकता को दर्शाता है। भाजपा डा. भीमराव अंबेडकर के सहारे सत्ता में आई लेकिन आज वही भाजपा उन्हें मिटाने पर तुली हुई है। बाबा साहब ने दुनिया का सबसे बेहतरीन संविधान लिखकर के हर वर्ग को अपने मन-माफिक खुशहाल जीवन की नींव रखी थी और इसी संविधान के द्वारा हम लोग अपने-अपने धर्म के साथ जी भी रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज सभी वर्गों में गरीब तबके के लोग हैं और उन्हें आर्थिक तौर पर आरक्षण की जरूरत भी है। डा. भीमराव अंबेडकर ने भी एक अच्छी सोच के तहत आरक्षण को लागू किया था जो देश के अंदर एक ऐतिहासिक कदम भी था लेकिन भाजपा के द्वारा आए दिन आरक्षण संबंधित और संविधान को बादलने को लेकर के गलत ब्यान बाजीयां होती हैं। भाजपाई देश के अंदर अराजकता को बढ़ावा देना चाहते हैं।  

Wednesday, December 27, 2017

इनेलो के प्रयासों से हुआ ट्रैक्टर व्यवसायिक श्रेणी से बाहर - दिग्विजय चौटाला



डबवाली, 27 दिसंबर : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने कहा है कि टैक्टर को व्यवसायिक श्रेणी से बाहर करवाने के लिए इनैलो के संसदीय दल के नेता युवा सांसद दुष्यंत चौटाला द्वारा चलाया गया अभियान रंग लाया है। जब सांसद दुष्यंत चौटाला संसद में प्रधानमंत्री व मत्रिंयो की बड़ी बड़ी गाडिय़ों के बीच किसान का गाडा टैक्टर लेकर पहुंचे तो केन्द्र की भाजपा सरकार को शर्मशार होकर अपना फैसला वापस लेना पड़ा। प्रदेश में जब जब इनैलो की सरकार बनी है तब ही किसान हितैषी फैसले लिए गए है जिससे सामाजिक उन्नति के द्वार खुले है। चौ. देवीलाल ने डिप्टी पी.एम. बनकर आमजन को 23 प्रकार के कर मुक्त करके सही मायने में आम आदमी का भला किया। जबकि मौजूदा केन्द्र की भाजपा सरकार हर रोज नए टैक्स लगा रही है। जिससे लोगों का जीना दुर्भर हो गया है। यह बात दिग्विजय चौटाला ने 7 जनवरी को अनाज मंडी डबवाली में होने वाली नौजवान-किसान जनसभा को लेकर हलका डबवाली के गांव रामगढ, बिज्जूवाली, अहमदपूर दारेवाला, गोदिकां, कालूआना गांवों का दौरा करते हुए नुक्कड़ सभाएं संबोधित करते हुए कही। इसके बाद उन्होंने शहर के वार्ड न. 13 में वार्डवासियों को संबोधित किया। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि इनैलो विपक्ष में होते हुए भी नौजवानों में रोजगार के अवसर पैदा कर रही है जिसका उदाहरण हिसार में सांसद दुष्यंत चौटाला द्वारा लगाया गया रोजगार मेला है, जिसमें प्रदेश के हजारों नौजवानों को रोजगार मिला। पिछले 13 सालों से नौजवानों में बेरोजगारी बढ रही है और नौजवान वर्ग में कांग्रेस व भाजपा के प्रति रोष पाया जा रहा है। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि देश लाग कांग्रेस व भाजपा की सरकारों की नीतियों से तंग आ चुके है व देश भर में आने वाला समय क्षेत्रीय दलों का है। 


उन्होंने कहा कि केन्द्र व प्रदेश की भाजपा के नेताओं ने स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने के वायदे को एक जुमला बना कर रख दिया है। जब केन्द्र में इनैलो की भागीदार सरकार बनेगी तो स्वामीनाथंन रिपोर्ट को प्राथमिकता के आधार पर लागू करवाया जाएगा जिससे कि किसानों की सभी समस्याओं का निधान हो सके। दिग्विजय ने कहा कि इनैलो के प्रति युवाओं का जोश बता रहा है कि युवा शक्ति तख्ता पलट करके मुख्य सेवादार के रूप में इनैलो को मजबूत करेगी।
गांवों के दौरे के दौरान दिग्विजय चौटाला को गांव अहमदपूर दारेवाला व बिज्जूवाली में लोगों ने बिजली पानी संबंधी समस्याओं बारे अवगत करवाया व कहा कि इस भाजपा सरकार में उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही। जिस पर दिग्विजय चौटाला ने तुरंत प्रभाव से विभागीय अध्किारियों से बात की। गांव बिज्जूवाली में बसों संबंधी दिक्कतों बारे दिग्विजय चौटाला ने रोडवेज अधिकारी से बात करके समस्या हल करने को कहा। 
इस मौके पर पूर्व विधायक डा. सीता राम ने भी लोगों को संबोधित किया। इस मौके पर हलका प्रधान सर्वजीत मसीतां, धर्मवीर नैन, पूर्व सरपंच गिरधारी बिस्सू, मोहन सहू रिसाालिया खेड़ा, ब्लाक समिति मैम्बर रणदीप मटदादू, राजबीर डबवाली, दलीप भाटी, संजय सोनी, रामकिशन मुंदलिया, महेन्द्र बिज्जूवाली, अजैब दारेवाला, मंदर सिंह सरां, जोगिन्द्र सरपंच, राकेश रामगढ, सतपाल पूर्व सरपंच, गुरप्रीत चलह, बिटू मौजगढ आदि मौजूद रहे।


सरकारी रेस्ट हाउस बनाकर सरकार अपनी पीठ थपथपाने का काम कर रही - गोपीचंद गहलोत 

गुड़गांव 27 दिसम्बर :  इंडियन नेशनल लोकदल के वरिष्ठ नेता व हरियाणा विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर चौधरी गोपीचंद गहलोत ने सरकार पर आरोप लगाया की जिस जमीन पर सरकार रेस्ट हाउस बना कर खुश हो रही है यहाँ पहले टेक्निकल स्कूल होता था सरकार को इस जगह पर कुछ बनानां चाहिए था तो युवाओ के लिए टेक्निकल कॉलेज जिसकी आज गुडगाँव में सबसे ज्यादा आवश्यकता है। सरकार स्पष्ट करे की सरकारी रेस्ट हाउस में माननीय राज्यपाल, मुख्यमत्री,मंत्री व अधिकारियों के अलावा अन्य जनप्रतिनिधियो को उपरोक्त रेस्ट हाउस इस्तमाल करने की अनुमति होगी या नहीं? क्योकि गुडगाँव के लोगो का इस बारे में किसान भवन को लेकर अनुभव बहुत अच्छा नहीं है पिछले 13 सालो में किसान भवन में एक भी किसान को रुकने की अनुमति नहीं मिली है। उन्होंने कहा की गाँव व शहर के विभिन वार्डो में जनता को सुविधाए देने के लिए आधुनिक सामुदायिक भवनों का निर्माण करवाया जाता व अन्य जनसुविधाएँ मुहैया कराई जाती।श्री गहलोत ने बताया की इस आयोजन में मुख्यमंत्री के स्वागत के लिए जिले भर के पंच व सरपंचो की भीड़ जुटाने की जिमेदारी लगाईं गई। जबकि उनको पिछले एक साल से सरकार द्वारा निर्धारित मानदेह तक नहीं दिया जा रहा है।उन्होंने कहा की गुडगाँव नगर निगम जो जनता से हजारो करोड़ जो टैक्स के रूप में इकठा कर रहा है वही मेयर टीम के पास उचित कार्यालय भी नहीं यही हालत जिला परिषद् व ब्लॉक समितियों का भी है।गुडगाँव जैसी नगर परिषद् के पास अपना कार्यालय व पार्किंग तक की सुविधा नहीं है।गुडगाँव शहर में जनसुविधाओं का घोर टोटा है।उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा की पिछले 13 वर्षो में गुडगाँव के विकास की तरफ कोई तवज्जो नहीं दी है जबकि हरियाणा में सबसे ज्यादा राजस्व गुडगाँव से इकठा किया जाता है।उन्होंने सरकार से पूछा की सरकार बताए की अपने शाशन काल में कितने हॉस्पिटल,कॉलेज,यूनिवर्सिटी,स्कूल,पार्क व स्टेडियम का निर्माण करवाया।दूसरी तरफ पी डब्लू डी विभाग की सड़को की हालत दहनीय हो चुकी है जिसके कारण गुडगाँव में जाम की समस्या बनी रहती है।केवल ब्यान बाजी से हठ कर गुडगाँव के विकास पर ध्यान दे सरकार।

Tuesday, December 26, 2017

मेवात फीडर कैनाल की लड़ाई हर स्तर पर लडेंगे - प्रतिपक्ष अभय चौटाला



प्रतिपक्ष नेता खेलरत्न चौ. अभय सिंह चौटाला  ने नूँह विधानसभा के गाँव फिरोजपुर नमक, ईंडरी, आलदूका व नूँह कस्बे में जनजागरण अभियान के तहत जनसभाओं को संबोधित किया। सभी गाँवों में पंहुचनें पर इनेलो नेता का डीजे, ढोल नगाड़ों, फूलमालाओं के साथ शानदार स्वागत किया। इनेलो के युवा कार्यकर्ताओं ने मोटर साईकिल द्वारा रैली निकालकर अपने प्रिय नेता की आगवानी की। 
खेलरत्न चौ. अभय सिंह चौटाला ने जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार झूठे वायदों व जुमलों की सरकार है। भाजपा ने चुनावों के समय हरियाणा प्रदेश की जनता से झूठे वायदे कर वोट हासिल करने का काम किया। जनता से किए गए वायदों को अमलीजामा ना पहनाने पर इस निकम्मी व जन विरोधी सरकार का असली चेहरा प्रदेश की जनता के सामने आ चुका है। उन्होंने मेवात फीडर कैनाल का मुद्दा भी जोर शोर से रखा। चौ0 अभय चौटाला ने कहा कि मेवात फीडर कैनाल मेवात की जीवनरेखा है,जिसके निर्माण से मेवात क्षेत्र के साथ गुड़गाँव जिले के सोहना विधानसभा, पलवल जिले की तहसील हथीन के गाँवों में नहरी पानी व पीने के पानी की कोई कमी नहीं रहेगी। मेवात फीडर कैनाल का मुद्दा पिछले तीन वर्षों से विधानसभा में विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन व नसीम अहमद द्वारा उनके नेतृत्व में सरकार के सामने जोर शोर से उठाया है, लेकिन हरियाणा व केंद्र सरकार मेवात फीडर कैनाल बनाने में टाल मटोल कर रही है। उन्होंने कहा कि इनेलो मेवात फीडर कैनाल का निर्माण कराकर रहेगी, इसके लिए चाहे इनेलो पार्टी को कोई भी कुर्बानी देनी पड़े। 
उन्होंने मेवात फीडर कैनाल के अलावा दक्षिण हरियाणा को एस वाई एल नहर का पानी दिलाने के लिए आगामी सात मार्च को रामलीला मैदान, दिल्ली में फिर से एक बड़ा आंदोलन कर केंद्र की सरकार को हरियाणा प्रदेश के हितों के प्रति जागरूक करने का काम करेंगे। 
चौटाला ने भाजपा व कांग्रेस को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ये दोनों पार्टियाँ एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। प्रदेश की जनता की आँखों में धूल झोंकनें का काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश को पहले 10 वर्ष तो कांग्रेस ने खूब लूटा और अब भाजपा की सरकार प्रदेश को बर्बाद करने पर तुली है। मँहगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ रखी है। किसान आत्महत्या करने पर मजबूर है। चारों तरफ त्राहि-त्राहि मची हुई है। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार किसान विरोधी सरकार है। सरकार को किसानों व आम जन की कोई चिंता नहीं है। भाजपा सरकार ने चुनावों से पहले जनता से लम्बे-लम्बे वायदे किए लेकिन सरकार बनने के बाद सभी वायदे खोखले साबित हुए।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में पिछले तीन वर्षों में कानून व्यवस्था की पोल खुल चुकी है। सरकार हर क्षेत्र में फैल हो चुकी है। प्रदेश में आए दिन गैंग रेप, बलात्कार, चौरी, डकैती, हत्या एंव फिरौती आम बात हो चुकी है। रोजगार के नाम पर युवाओं का मजाक उड़ाया जा रहा है। 
खेलरत्न चौ. अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इनेलो कि सरकार बनने पर स्व: चौधरी देवीलाल जी की तरह पहली कलम से किसान, मजदूर व कमेरे वर्ग का कर्ज माफ करेंगे, किसानों के ट्यूबवेल का बिजली बिल पूरा माफ तथा घर की बिजली का आधा बिल माफ करेंगे, गरीब कन्या की शादी में 5 लाख रुपये कन्यादान देने का काम करेंगे, बुढापा, विधवा व विकलांग पेंशन 2500 रुपये प्रति माह करेंगे तथा हर घर में नौकरी व रोजगार देने का काम करेंगे। चौटाला ने कहा कि पिछले तीन वर्षों में इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी ने विपक्ष की भूमिका पूरी तरह निभाई है। हर समस्या को विभिन्न स्तरों पर पार्टी ने जोरदार तरीके से उठाया है। उन्होंने अध्यापकों के भर्ती पर चौ0 औमप्रकाश चौटाला व डाॅ0 अजय सिंह चौटाला के जेल जाने पर कहा कि अगर 3200 घरों को रोजगार देना गुनाह है तो चौटाला परिवार ऐसा गुनाह बार-बार करेगा। उन्होंने कहा कि अब तो 3200 अध्यापकों को रोजगार दिया आगे हम बत्तीस लाख रोजगार देने से भी पीछे नहीं हटेंगे।
जनसभाओं को पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत, नूँह से इनेलो विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन, पूर्व मंत्री चौ0 मो0 इलयास, विधायक नसीम अहमद, जिलाध्यक्ष मास्टर बदरुद्दीन आदि इनेलो के वरिष्ठ नेताओं ने भी संबोधित किया। नूँह से इनेलो विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि इनेलो ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो चौ0 ओमप्रकाश चौटाला के आशीर्वाद व मार्गदर्शन में खेलरत्न चौ0 अभय सिंह चौटाला के नेतृत्व में प्रदेश के हितों व अन्याय के खिलाफ हर तरह की लड़ाई लड़ रही है। उन्होंने कहा कि आज चौ0 अभय सिंह चौटाला जी के नेतृत्व का ही परिणाम है जो मेवात क्षेत्र को नहरी पानी मिल रहा है। वो मेवात क्षेत्र की हर छोटी-बड़ी लड़ाई लड़ने के लिए दिन-रात प्रयासरत हैं। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि पिछली कांग्रेस की तरह अब भाजपा की सरकार में आम-जन परेशान हो चुका है। अब वो दिन दूर नहीं जब प्रदेश में इनेलो की सरकार होगी और इनेलो सुप्रीमो चौ0 ओमप्रकाश चौटाला हरियाणा प्रदेश के मुख्यमंत्री होंगे।
इस अवसर पर रणजीत नंबरदार ईंडरी, देवी सिँह प्रधान, हरीश शर्मा उर्फ बॉबी, जगन पार्षद, अमरसिँह सरपंच, राकेश देशवाल, गणेश दास अरोड़ा, हाजी सुबराती खान, चौ0 मौ0 तलहा एडवोकेट, हरीश मलिक, जान मौ0 हल्का अध्यक्ष,  महिला अध्यक्ष सरोज, जगन पार्षद,  आस मौ0 सालाहेड़ी, हितेश देशवाल, श्री चंद सरपंच,  हाजी ईलयास, इमरान, हाफिज शाद, पहलू कंवरसीका, अल्ली प्रधान, सिराज, हाजी फते मो0, याकूब सरपंच, वहीद सरपंच,  हाजी अब्दुल्ला सरपंच, रमजान सरपँच रोजकामेव, मौ0 खाँ सरपंच, जाकिर भड़ंगाका, हाजी सोहराब सरपंच, खुर्शीद सरपंच निजामपुर, प्रकाश सरपंच किरा, लाला वैद, जाहुल ठेकेदार, एजाज, इब्राहीम पहलवान, जावेद, असगर अली, आसू पहलवान, इस्लाम सरपंच, दीन मौ0, तय्यब, हाजी आसम, मामचंद,सुंदर नंबरदार आदि हजारों इनेलो कार्यकर्ता मौजूद थे।

Sunday, December 24, 2017


 हरी चुनरी चौपाल में महिलाओं से रु-ब-रु हुई विधायक नैना चौटाला 


हिसार : डबवाली की विधायक नैना सिंह चौटाला की पहल पर हरी चुनरी की चौपाल कार्यक्रम का आगाज गांव जुगलान से हुआ। हलका बरवाला के गांव जुगलान से शुरू हुए इस कार्यक्रम में महिलाओं ने हजारों महिलाओं ने भाग लिया। गांव के बीचों-बीच आयोजित इस कार्यक्रम ने नैना चौटाला के समक्ष खुले मंच के साथ साथ माइक पर आकर अपने मन की बात रखी। महिलाओं ने केवल राजनीति में अपनी भागीदारी बढ़ाने खुल कर बात की बल्कि इनेलो पार्टी को मजबूत करने में महिलाओं की भूमिका पर भी अपने सुझाव दिए। गांव की सरपंच ज्योति सामोता, सहित गांव की अन्य महिलाओं ने विधायक नैना सिंह चौटाला, महिला विंग की प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण, जिला प्रधान छन्नो देवी व कृष्णा फोगाट सहित अन्य अतिथियों का स्वागत किया। जिला हिसार की ओर से जिला प्रधान राजेंद्र लितानी, विधायक वेद नारंग, विधायक अनूप धानक, वरिष्ठ नेता पूर्ण सिंह डाबड़ा्र, हलका प्रधान सत्यवान बिचपड़ी ने नैना सिंह चौटाला के चुनरी के चौपाल कार्यक्रम की पहल का स्वागत किया। दोपहर करीब एक बजे गांव में पहुुंची डबवाली की विधायक नैना चौटाला का गांव की महिलाओं ने हरियाणवीं गीत गाकर स्वागत किया। कार्यक्रम को लेकर महिलाओं का जोश देखने लायक था और चौका-चुल्हा, खेती-बाड़ी का काम छोड़ कर भारी संख्या में यहां महिलाओं ने भाग लिया। गांव की महिलाओं ने कहा कि यह पहला मौका है जब इस प्रकार के कार्यक्रम के माध्यम से सरकार तक उनकी समस्याएं पहुंचाने का मौका मिला है। कई महिलाएं अपना घुंघट खोल पहली बार अपनी बात कार्यक्रम में  बोलती देखी।

विधायक नैना चौटाला ने कहा कि महिलाओं की समस्याओं को सरकार तक विधानसभा के माध्यम से पहुंचाऊंगी और भविष्य में हिसार लोकसभा क्षेत्र से हरी चुनरी की चौपाल कार्यक्रम का आयोजन हर माह करेंगी। इस अवसर पर राजकली, भूरो, जीवनी, दर्शना, कृष्णा खर्ब, निर्मला रेढू, दर्शना लाठर, उमरावती, फुल्ली, सेवा, भंती, बिमला सुलखणी, कपूरी, कपूरी, राजकली, सिलोचना, भूरो, सेवा देवी, कलावती, मुकेश रानी, कृष्णा, गीता, गुड्डी, सुखमा, रेशमा, सुदेश, मुथरी देवी, सुमित्रा देवी, गीता सोनी, सिलोचना देवी सहित भारी संख्या में महिलाएं उपस्थित थी। 

Saturday, December 23, 2017

ट्रेक्टर मामले में सीएम द्वारा श्रेय लेना निंदनीय - अभय सिंह चौटाला  

चंडीगढ़, 23 दिसम्बर : कृषि ट्रैक्टरों को ट्रोसपोर्ट सेक्टर में रखने बारे केंद्र सरकार के प्रस्ताव को रोकने बारे जो निर्णय सडक़ एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इनेलो के आग्रह पर लिया है, उसका श्रेय मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा लेने के प्रयास की नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने निंदा की है। उन्होंने कहा कि वास्तविकता यह है कि राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा केंद्र सरकार के अपने पहले के निर्णय पर रोक लगाने के बारे में भूमिका निभाना तो दूर उनके द्वारा वर्ष 2016 में लीए गए फैसले से तो राज्य के किसान तबाही के कगार पर खड़े हो गए थे।
अभय सिंह चौटाला ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार द्वारा तो ट्रैक्टर को ट्रांसपोर्ट सेक्टर में रखने का प्रस्ताव इस वर्ष सितम्बर माह में लिया गया परंतु उसकी तैयारियां और किसानों को तबाही की ओर ले जाने की साजिश हरियाणा सरकार द्वारा वर्ष 2016 में ही प्रारम्भ की जा चुकी थी। उन्होंने कहा कि सितम्बर 19, 2016 की हरियाणा सरकार की गजट नोटिफिकेशन के अनुसार गैर कृषि उपयोग वाले ट्रैक्टरों पर टैक्स निर्धारित किया गया था। एक ही बार टैक्स देने वालों को 15 लाख रुपए जमा करवाने थे और जो ऐसा नहीं करना चाहते उन द्वारा एक लाख 50 हजार रुपया प्रति वर्ष जमा कराना था। इस प्रावधान की पृष्ठभूमि में जब इस वर्ष ट्रैक्टरों को ट्रांसपोर्ट वाहन घोषित करने का प्रस्ताव रखा गया तो उससे स्पष्ट था कि ऐसा नियम बन जाने के बाद कोई भी किसान ट्रैक्टर नहीं ले पाता जिससे उसकी खेती और आर्थिक हालत पर प्रतिकूल असर पडऩा था।
इनेलो नेता ने याद दिलाया कि उनके नेतृत्व में 6 दिसम्बर को इनेलो का एक प्रतिनिधिमण्डल सडक़ एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से इस सिलसिले में मिलने दिल्ली गया था। इनेलो की बात धैर्य से सुनने पर केंद्रीय मंत्री समझ गए थे कि उनके मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित परिवहन नियम में बदलाव का प्रभाव भारतीय किसानों पर पड़ेगा। परंतु उस दिन समय के अभाव के कारण और समस्या की गम्भीरता को समझते हुए और उस पर विस्तार से चर्चा करने के लिए उन्होंने नेता विपक्ष से कहा कि वह एक बार फिर 12 दिसम्बर को उनके और उनके अधिकारियों के साथ मुलाकात करें ताकि समस्या को समझा जा सके और किसान हित में उसका हल ढूंढा जा सके। इस अगली मुलाकात के बाद ही केंद्र द्वारा टै्रक्टरों को ट्रांसपोर्ट सेक्टर में लाने के अपने प्रस्ताव पर रोक लगाई थी।
नेता विपक्ष ने कहा कि दोनों ही मुलाकातों में उन्हें ऐसा कोई संकेत नहीं मिला और न ही राज्य सरकार ने इस बारे किसानों को कोई आश्वासन दिया जिससे यह लगे कि हरियाणा सरकार भी किसानों पर आने वाले इस संकट को समझी है और उसका हल तलाश करना चाहती है। इस कारण अब जब इनेलो के प्रयासों और केंद्रीय मंत्री  नितिन गडकरी की सूझबूझ के कारण किसानों पर आने वाला यह संकट टल गया है तो मुख्यमंत्री खट्टर द्वारा उसका श्रेय लेने का प्रयास निंदनीय है।
इनसो के साथ किसानों ने बांटी मिठाई, दुष्यंत चौटाला का आभार जताया



चरखी दादरी, 23 दिसंबर : ट्रेक्टर को कमर्शियल वाहनों की श्रेणी से बाहर करवाने के लिए इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला का संघर्ष रंग लाया और भाजपा को अपना गजट नोटिफिकेशन वापिस लेना पड़ा। इस पर इनसो दादरी इकाई के साथ किसानों ने शुक्रवार को स्थानीय पुरानी अनाज मंडी में मिठाइयां बांटी और सांसद दुष्यंत चौटाला का आभार जताया। इस मौके पर इनसो के राष्ट्रीय महासचिव सूरज बेनीवाल ने कहा कि इनेलो ने देश, प्रदेश के किसान सहित हर वर्ग की आवाज को सड़क से संसद तक बुलंद किया है। यही कारण है कि वर्तमान में भाजपा सरकार ने अपने कई जनविरोधी फैसले वापिस लेने पड़े। किसानों के मसीहा जननायक चौ. देवीलाल के पदचिह्नों पर चलते हुए इनेलो सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने भाजपा सरकार द्वारा किसानों के खेती संसाधन ट्रेक्टर को कमर्शियल वाहनों की श्रेणी में डालने का पुरजोर विरोध किया। प्रदेश में ब्लाक स्तर पर इनेलो ने इस फैसले के विरोध में संघर्ष किया। इनेलो का शिष्टमंडल इसे लेकर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से भी मिला। लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। सरकार के फैसले के विरोध स्वरूप लोकसभा सत्र में सांसद दुष्यंत चौटाला पहली बार ट्रैक्टर पर सवार होकर पहुंचे और उन्होंने इस निर्णय के वापिस नहीं होने तक इसी प्रकार ट्रैक्टर से सत्र में पहुंचने का ऐलान किया। आखिरकार युवा सांसद के किसान हित कदमों के सामने सरकार को झुकना पड़ा। इनेलो हलकाध्यक्ष व अखिल भारतीय किसान महासभा के पदाधिकारी रामनिवास मिर्च, किसान जनहित समिति के प्रदेशाध्यक्ष सुनील पहलवान, वरिष्ठ किसान नेता शमशेर खातीवास, रामोतार मिर्च, सुंदर रासीवास, अनूप चेयरमैन, रणबीर रावलधी ने कहा कि चौ. देवीलाल ने 1989 में ट्रैक्टर को किसानों का गाडा 
मानते हुए इसे कमर्शियल वाहनों की श्रेणी से बाहर करवा कर सभी प्रकार के टैक्सों से मुक्त कराया था। यह किसान हित में उनका बड़ा कदम था। लेकिन भाजपा ने ट्रैक्टर को फिर से कमर्शियल वाहनों की श्रेणी में डालकर देश भर के किसानों के हितों से खिलवाड़ किया। इस फैसले से किसान वर्ग पर भारी आर्थिक बोझ पड़ने के साथ ही 
परेशानियां बढ़ गई थी। जिसे लेकर इनेलो ने किसानों के साथ मिलकर इस फैसले का पुरजोर विरोध किया। सड़क से लेकर संसद तक इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने इस फैसले पर कड़ा विरोध जताया, आखिरकार सरकार को इस फैसले का गजट नोटिफिकेशन वापिस लेना पड़ा। जिससे देश भर के किसानों को काफी राहत मिली है। दादरी क्षेत्र के किसानों ने सांसद का आभार जताते हुए उनके संघर्ष की सराहना की है। इस मौके पर इनसो जिला चेयरमैन संजीत धवन, अरविंद सांगवान, प्रवेश रावलधी, मोनु डुडी, सुमित झींझर, कालिया रावलधी, रोहित झोझू, अंकित, अनूप माई, गौतम, रमन, हितेश, सैम राजपूत, भूमित कादयान, सन्नी प्रजापत, दीपक सिंगल, संदीप इमलोटा, अमित तिवाला, कश्यप डूडी, अंकित, रमन, दीप रावलधी, केशव रावलधी, मोहित चरखी, विनोद, गौरव सिंह, राहुल, शम्मी सिंह, प्रवीन चरखी, मोहित सांगवान, मनोज मलिक, सचिन शर्मा, लोकेश, रविदास, आशुतोष ढाणी, विकास धवन, प्रदीप सेहलंगा, प्रीतम, राजू फौगाट, अमित, अभिषेक कंवर, अंकित, गौरव, अमन जांगड़ा,  मोहित योगी, सौंटी शर्मा इत्यादि भी मौजूद थे।

ट्रैक्टर को व्यवसायिक श्रेणी से बाहर करवाकर दुष्यंत ने किया किसानों का भला


भिवानी, 23 दिसंबर : इनेलो संसदीय दल के नेता दुष्यंत चौटाला के द्वारा किसानों के वाहन ट्रैक्टर को व्यवसायिक श्रेणी में डालने पर भाजपा सरकार के खिलाफ बजाए गए बिगुल बजाया गया। पिछले दिनों भाजपा ने ट्रैक्टर को नियमों को ताक पर रखकर व्यवसायिक श्रेणी में डाला था। जिसके विरोध में इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला पिछले काफी समय से संघर्ष कर रहे थे। शुक्रवार को इस संघर्ष को कामयाबी मिली और ट्रैक्टर को कॉर्मसियल व्हिकल वाहन एक्ट से बाहर किया गया। दुष्यंत चौटाला के संघर्ष की इस कामयाबी पर
स्थानीय देवीलाल सदन में इनेलो कार्यकत्र्ताओं से खुशी व्यक्त की। इस अवसर पर जिला प्रधान सुनील लांबा व हल्का अध्यक्ष कुलवंत कोटिया ने कहा कि किसानों के मसीहा चौ. देवीलाल ने 1977 में ट्रैक्टर को गाडा घोषित करके इसे व्यवसायिक श्रेणी से बाहर करवाया था लेकिन भाजपा सरकार ने ट्रैक्टर को दौबारा से इस श्रेणी में डालकर कर किसान पर अतिरिक्त बोझ डाल दिया था। इनेलो नेताओं ने कहा कि दुष्यंत चौटाला पिछले काफी समय से किसानों के सर्मथन में संघर्ष कर रहे थे।
दुष्यंत ने टोलों के खिलाफ आंदोलन भी छेड़ रखा है। इनेलो प्रदेश सचिव बलदेव घणघस, युवा जिला अध्यक्ष जितेंद्र शर्मा, पार्षद मनोज यादव ने कहा कि ट्रैक्टर पर टोल लगाकर भाजपा सरकार ने किसानो विरोधी सोच को दर्शाया था सितंबर माह के अंदर जब सरकार के द्वारा एक गैजेट नोटिफिकेशन निकाला गया तो ट्रैक्टर को व्यवसायिक वाहन श्रेणी में डाल दिया गया था। यदि दुष्यंत चौटाला संघर्ष नहीं करते तो किसान का प्रमुख वाहन ट्रैक्टर पर टोल टैक्स, लगजरी गाडिय़ों के समान रजिस्ट्रेशन, पुलिस द्वारा अवैध चालान काटे जाते। दुष्यंत चौटाला ने किसानों के समर्थन में ट्रैक्टर को संसद के प्रांगण में लेजाकर यह जता दिया की किसानों के साथ ज्यादती बर्दास्त नहीं होगी। जिस तरह से दुष्यंत ने किसानों के लिए संघर्ष किया उससे साफ पता चलता है कि चौ. देवीलाल के नकसे कदम पर चलते हुए दुष्यंत चौटाला किसानों की लड़ाई लडऩे में सक्षम हैं। खुशी व्यक्त करने वालों में जिला प्रधान सुनील लांबा, हल्का अध्यक्ष कुलवंत कोटिया, प्रदेश सचिव बलदेव घणघस, जितेंद्र शर्मा, पार्षद मनोज यादव, होशियार सिंह थानेदार, जिला प्रवक्ता राजू मेहरा, पार्षद संजय तिगड़ाना, प्रदीप खरकिया, मनदीप सुई, सचिन जताई, इकबाल सहरावत, पार्षद मदन यादव, रामनिवास शर्मा, कृष्ण पंडित, प्रदीप मित्ताथल, अशोक सिहाग, कमलजीत यादव, राकेश मोटू, सूरज मलिक, ओमबीर बामला, मोहन चाहर, ऋषि उमरवास, भोमसिंह, सेंडी चौधरी, मेनपाल नंबरदार, मोनू इनसो, साहिल इनसो, नवीन धनाना, अजय इनसो, कर्ण इनसो सहित अनेक कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।

ट्रेक्टर को कमर्शियल वाहन की श्रेणी से बाहर करवाने पर इनेलो प्रतिनिधिमंडल को बधाई - दिग्विजय चौटाला 



सिरसा : छात्र संगठन इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि हिसार के सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला, नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला, इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा व रामपाल माजरा के संयुक्त प्रयासों से ही यह संभव हो सका है कि किसानों की रीढ़ कहे जाने वाले ट्रेक्टर को गैर व्यवसायिक वाहन की श्रेणी में लेना पड़ा। यह सीधे तौर पर पूर्व उपप्रधानमंत्री देवीलाल की नीतियों की जीत है जिन्होंने सबसे पहले टे्रक्टर, साइकिल और रेडियो पर किसी भी प्रकार का टेक्स न लगाने का निर्णय लिया था।

वे शनिवार को चौटाला हाउस में पत्रकारों से रूबरू हो रहे थे। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार हिसार के सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने भाजपा सरकार के इस किसान विरोधी निर्णय का डटकर विरोध करते हुए स्वयं टे्रक्टर लेकर संसद पहुंचे, उससे सरकार को यह सोचने पर विवश होना पड़ा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने शायद ही कभी टे्रक्टर की सवारी की हो और जब सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला के प्रयासों से टे्रक्टर गैर व्यवसायिक वाहनों की श्रेणी में शामिल किया गया तो सरकार के मुखिया उसका श्रेय स्वयं लेना चाहते हैं जबकि पूरा देश जानता है कि किसानों की लड़ाई लडऩे का काम सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने किया। उन्होंने कहा कि इनेलो ही एकमात्र ऐसा राजनीतिक दल है जो किसानों, कमेरे, दलित, मजदूरों, युवाओं के हितों की लड़ाई लड़ते आया है और इसके लिए चाहे उसे सब कुछ न्यौछावर करना पड़ा, इनेलो करेगी। चौटाला ने कहा कि आगामी 7 जनवरी को इनेलो डबवाली हलका में एक रैली आयोजित करेगी जिसमें जनतादल परिवार के सदस्यों को पुन: एक मंच पर संगठित किया जाएगा। इसमें तेजस्वी यादव, तेलगूदेशम पार्टी के सांसद राममोहन यादव, समाजवादी पार्टी व बीजू जनतादल के सांसद भी डबवाली रैली में शिरकत करेंगे। उन्होंने बताया कि इनेलो किसानों के हित में सदैव संघर्षरत रही है और एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के हक का पानी लाने के लिए पहले भी संघर्ष कर चुकी है। इसी संघर्ष की कड़ी में आगामी 7 मार्च को नई दिल्ली में रामलीला मैदान में विशाल रैली आयोजित करेगी ताकि केंद्र पर दबाव बनाकर हरियाणा के हक का पानी हरियाणा के किसानों के खेतों में अंतिम टेल तक पानी दिया जा सके। डबवाली अग्रिकांड पर दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि ऐसी त्रासदी देश में कहीं भी नहीं हुई और वे अपनी पूरी पार्टी की ओर से इस अग्रिकांड का शिकार हुए लोगों को नमन करते हैं। चौटाला ने कहा कि बहुत पहले से अग्रिकांड पीडि़तों की ओर से इलाके में एम्स अस्पताल के निर्माण की मांग उठती रही है मगर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने महज दिल्ली से 35 किलोमीटर दूर ही झज्जर और गुडग़ांव के बॉर्डर पर एम्स का निर्माण करवाकर पीडि़तों के जख्मों को कुरेदा है। दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश में इनेलो की सरकार बनने पर कमीशन बनाया जाएगा जो अग्रिकांड पीडि़तों से सलाह मश्विरा करके उन्हें उचित सुविधाएं दी जाएंगी। छात्र संघों के चुनावों बारे उन्होंने कहा कि शिक्षामंत्री रामबिलास शर्मा ने उन्हें जनवरी के मध्य तक छात्र संघ के चुनाव कराने का आश्वासन दिया है और वे उन्हीं आश्वासनों के आधार पर जनवरी के मध्य तक वे सरकार को समय देंगे। इस अवसर पर उनके साथ सिरसा के विधायक मक्खनलाल सिंगला, इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन, इनेलो के प्रेस प्रवक्ता तरसेम मिढा व सहप्रवक्ता महावीर शर्मा भी मौजूद थे। 

Friday, December 22, 2017

राहुल गांधी को जनता ने नकारा,  इनेलो ही प्रदेश में विकल्प - दिग्विजय चौटाला



डबवाली, 21 दिसंबर : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने कहा है कि गुजरात व हिमाचल प्रदेश के चुनाव के परिणाम बतातते है कि जनता ने राहुल गांधी व कांग्रेस को नकार दिया है। प्रदेश में केवल इनैलो ही भाजपा का विकल्प बनते हुए भाजपा की जनविरोधी सरकार से लोगों को राहत दे सकती है। पहले 9 साल तक कांग्रेस शासन व अब साढे 3 साल के भाजपा शासन में हलका डबवाली को प्रदेश का सबसे पिछड़ा क्षेत्र बनाने का काम किया है। हलका व जिला बिजली व पानी की समस्या से जुझ रहा है। जबकि चौटाला साहब प्रदेश के मुख्य सेवक थे तो हलका व जिला में बिजली व समस्या नहीं थी। चौटाला साहब ने हलका में रोजगार के नए अवसर पैदा किए थे, गांवों व शहरों में मुलभूत सूविधाएं उपलब्ध करवाई। उन्होंने कहा कि आज डबवाली में आपराधिक मामलों में कोई अंकुश नहीं लग रहा है। कानून व्यवस्था चौपट हो गई है, व्यापारियों व आम नागरिकों में भय का माहौल है। जिसके लिए सीधे तौर भाजपा की सरकार जिम्मेवार है। उन्होंने कहा कि जब प्रदेश में इनैलो की सरकार बनेगी तो डबवाली शहर व हलका में आम नागरिक और बहन बेटी की सुरक्षा महफुज की जाएगी। कानून व्यवस्था को नियंत्रित किया जाएगा। महिलाओं के लिए विशेष नीतियां बनाई जाएगी। यह बात इनैलो की ओर से इनसो नेता दिग्विजय चौटाला ने गांव झुटटीखेड़ा, गोरीवाला, मुन्नावाली, चक्कजालू आदि गांवों का दौरा करते हुए 7 जनवरी रैली के लिए लोगों को आमंत्रित करते हुए कही। उन्होंने लोगों को भारी संख्या में 7 जनवरी को अनाज मंडी डबवाली में पहुचंने की अपील की ताकि प्रदेश में परिवर्तन की लहर डबवाली हलका से चल सके। इसके बाद दिग्विजय चौटाला ने डबवाली शहर वार्ड न. 10 व 21 में नुक्कड़ सभा को संबोधित किया। इस मौके पर शहरी महिला प्रधान ममता मिढा के नेतृत्व में भारी संख्या में महिलाएं शामिल हुई व दिग्विजय चौटाला का जोरदार स्वागत किया। इस मौके पर दिग्विजय चौटाला ने कहा कि इनैलो की सरकार बनने पर महिलाओं के लिए विशेष नीतियां बनाते हुए उनका मान सम्मान बहाल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी महिलाएं अपने वार्ड में व पूरे शहर में अभियान चलाते हुए भाजपा व कांग्रेस की जनविरोधी नीतियों से सभी को अवगत करवाएं। इस मौके पर दिग्विजय चौटाला ने गांवों में लोगों की बिजली पानी की समस्या सुनते हुए अधिकारियों से बात की। इस मौके पर दिग्विजय चौटाला ने गांव गोरीवाला में गौशाला में भ्रमण किया। इसके बाद दिग्विजय चौटाला ने गांव गोरीवाला बस स्टैंड पर एन.जी.ओ. सुखसागर में जाकर जानकारी ली व अपनी ओर से हरसंभव सहायता देने का भरोसा दिया। उन्होंने एन.जी.ओ. के सदस्यों के साथ सामाजिक कार्यो पर चर्चा करते हुए उनके प्रयास की सराहना की।
इस मौके पर पूर्व विधायक डा. सीता राम ने भी लोगों को संबोधित किया। इस मौके पर हलका प्रधान सर्वजीत मसीतां, ब्लाक समिति मैम्बर रणदीप मटदादू, राजबीर डबवाली, गुरप्रीत चहल, जगतार चोरमार, बिटू मौजगढ, पूर्व सरपंच धेला राम सुथार, मोहन लाल भादू, जगतपाल, गुरदयाल, सोहन तरड़, राजेन्द्र, साहब राम मास्टर, राय सिंंह, बलवंत पूर्व सरपंच, रमेश गुप्ता, चानन राम, परमिन्द्र सिद्धू, जैला सिंह, बिष्णू नेहरा, कुलदीप डबवास, रणजीत डबास, अमर कुुमार, राजेन्द्र पूर्व सरपंच, सुनील सुथार, पृथ्थी चक्कजालू, डा. सुरजपाल, देवी लाल,, जंगीर मोडी, अमर सिंह आदि मौजूद रहे। 


रामलीला मैदान में किसान रैली के लिए प्रभारी नियुक्त 


चंडीगढ़, 22 दिसम्बर: हरियाणा के उसके हिस्से का न्यायसंगत पानी दिलवाने के लिए जो किसान रैली दिल्ली में करने का फैसला लिया गया था उसके मद्देनजर नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने आज रैली के कुशल प्रबंधन के लिए रैली प्रभारी नियुक्त किए हैं। इन प्रभारियों का दायित्व रैली में आने के लिए लोगों को जिला स्तर पर न्यौता देना है। अगले साल 7 मार्च की दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली इस रैली में एसवाईएल और किसानों की समस्याओं को लेकर भाजपा सरकार के खिलाफ प्रदेशभर में विरोध प्रदर्शनों की घोषणा की जाएगी।
किसान रैली के लिए इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा को भिवानी, सिरसा, फतेहाबाद, कैथल, अम्बाला और पंचकुला जिलों का प्रभार सौंपा गया है। वहीं सांसद दुष्यत को हिसार और जींद, पूर्व विधायक रामपाल माजरा रोहतक, पूर्व स्पीकर गोपीचंद गहलोत पलवल और गुरुग्राम, विधायक रणबीर गंगवा झज्जर, पूर्व विधायक निशान सिंह मेवात, पूर्व विधायक रामफल कुंडू  सोनीपत, पूर्व विधायक राम कुमार सैनी फरीदाबाद, विधायक बलवान सिंह दादरी, पूर्व विधायक कलीराम पटवारी पानीपत, पूर्व विधायक रणबीर मंदोला रेवाड़ी और पूर्व विधायक पूर्ण सिंह डाबडा को महेन्द्रगढ़ का प्रभारी बनाया गया है।
उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार किसान, गरीब और मजदूर की एसवाईएल के पानी निर्भरता को नहीं समझती अगर  हरियाणा के हिस्से का पानी अगर नहीं दिया गया तो इनेलो प्रदेशहित में हर संघर्ष के लिए वचनबद्ध है और जनता से किए वादों को पूरा करने के लिए वो हर बलिदान के लिए तैयार है 
नेता विपक्ष ने कहा कि सभी प्रभारी प्रदेशवासियों को रैली का निमंत्रण देने के साथ-साथ जनता के बीच पार्टी के काम लेकर जाएंगे और साथ में लोगों को उन मुद्दों से भी अवगत करवाएंगे जो विपक्ष में रहकर उन्होंने सरकार के सामने उठाए हैं। उन्होंने कहा कि किसान रैली के माध्यम से इनेलो पार्टी सरकार की किसान व गरीब विरोधी मानसिकता को भी जनता के सामने लाने का काम करेगी।

Thursday, December 21, 2017

प्रदेश में यूरिया की किल्लत से किसान परेशान - अभय सिंह चौटाला 

चंडीगढ़, 21 दिसंबर: इन दिनों जब किसानों को यूरिया खाद की सबसे अधिक आवश्यकता है, उसे उपलब्ध न करवाने में सरकार की असमर्थता की निंदा करते हुए नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने मांग की है कि इस समस्या का तुरंत समाधान किया जाए।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इस समय अधिकांश किसान गेहूं को बीजने के बाद अब  यूरिया डालने की तैयारी में हैं। परंतु प्रदेशभर की मंडियों से यह समाचार मिल रहे हैं कि या तो यह उपलब्ध नहीं है और यदि उपलब्ध है तो कुछ लोगों को सारा दिन लाइन में खड़े होने पर ब्लैक मार्केट में मिल रही है। सामान्य तौर पर इस खाद को उपलब्ध करवाने का दायित्व गांवों के को-आप्रेटिव सोसायटियों का होता है। परंतु इस बार एक साजिश के तहत खाद प्राप्त करने के लिए आधार कार्ड को एक अनिवार्यता बनाया गया है। इसकी आड़ में सोसायटियों के कर्मचारी यह बहाना बनाकर खाद देने से मना कर देते हैं कि जो व्यक्ति लाइन में खड़ा है, उसके अंगूठे के निशान आधार कार्ड से नहीं मिलते।
नेता विपक्ष ने कहा कि इस प्रकार सोसायटियों की खाद ही फिर खुले बाजार में पहुंचकर अधिक दामों पर किसानों को बेची जा रही है। अनेक स्थानों से तो यह भी समाचार मिला है कि महिलाएं भी घर के सारे कामकाज छोड़कर सुबह से लेकर शाम तक खाद लेने के लिए कतार में लगी रहती हैं। लेकिन यह देखते हुए कि एक सीमित समय में ही खाद को खेतों में डालना अनिवार्य होता है इसलिए किसान मजबूरी में ब्लैक मार्केट से खाद खरीद रहा है। सरकार का अपना दावा कि एक-दो दिनों में सभी जगह खाद उपयुक्त मात्रा में पहुंच जाएगी, इस बात का प्रमाण है कि भले ही खाद को बेचने की तारीख पहली दिसम्बर तय की गई थी फिर भी अभी तक उपयुक्त मात्रा में खाद का प्रबंध सरकार नहीं कर पाई है।
इनेलो नेता ने यह भी कहा कि यदि तीन वर्ष के शासनकाल के बाद भी भाजपा सरकार यह नहीं समझ पाई कि रबी की बिजाई में यूरिया का किसानों के लिए क्या महत्व है तो वह उनकी अनुभवहीनता दर्शाने के साथ-साथ यह भी बताता है कि मूल रूप से उनकी सोच किसान विरोधी है जिसे वह बदलना भी नहीं चाहते। अन्यथा तीन वर्ष के शासनकाल के पश्चात उन्हें यह समझ आ जाना चाहिए था कि कब और किस प्रकार उपयुक्त मात्रा में खाद का प्रबंध किया जाना है और उसका सुचारू आबंटन किस प्रकार किया जाना चाहिए।
स्कूलों में दिन में लाईट नहीं, कैसे बनेगा इंडिया डिजिटल - दुष्यंत चौटाला 


प्रदेश के सरकारी स्कूलों में बिजली न रहने की आवाज देश की सबसे बड़ी पंचायत लोकसभा मनेें भी सुनाई दी। इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने वीरवार को यह मुद्दा उठाया। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार डिजिटल इंडिया का सपना देख रही है और सरकारी स्कूलों में कम्प्यूटर चलाने के लिए लाइट की व्यवस्था भी नहीं है। उन्होंने सरकार से स्कूल टाइमिंग में पर्याप्त समय में बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने की मांग की। 
युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने वीरवार को लोकसभा में कहा कि प्रदे के सरकारी स्कूलों में दिन के समय बिजली सप्लाई ठप्प रहने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि सुबह 9 से 3 बजे तक गांव-देहात में बिजली नहीं होती जिससे सरकारी स्कूल के बच्चों को नुकसान होता है। दुष्यंत ने सवाल किया कि बिना बिजली के कंप्यूटर कैसे चलेंगे? कैसे डिजिटल इंडिया होगा? कैसे बच्चे तकनीकी रूप से शिक्षित होंगे?
उन्होंने सरकार से अपील की कि चाहे सोलर पैनल लगा कर या बड़े स्कूलों के लिए बिजली आपूर्ति की कोई अन्य सुविधा देने किया जाए ताकि देश के बच्चों को लाभ मिले। उन्होंने कहा कि 
देश के 37 प्रतिशत स्कूलों तक तो अभी बिजली भी नहीं पहुंची है। ऐसे में शिक्षा का अधिकार का कोई महत्व नहीं रह जाता। 
यहां बता दें कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों और शिक्षकों की हाजिरी सहित अन्य कार्य ऑनलाइन करने पर पूरा बल दे रही है। इसके अलावा कंप्यूटर विषय भी विद्यार्थियों को पढ़ाया जा रहा है एजुसेट भी लगाए गए थे परन्तु इन कंप्यूटर सिस्टम को चलाने के लिए बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने की कोई व्यवस्था नहीं है। हालांकि प्रदेश के कुछ स्कूलों में जनरेटर सिस्टम दिए गए थे परन्तु सरकार ने इन जनरेटर के लिए इंधन की आपूर्ति कोई व्यवस्था नहीं की जिसके कारण ये जनरेटर भी कबाड़ बनते जा रहे हैं। 


चौथे स्तम्भ पर बार-बार हमला निंदनीय - दुष्यंत चौटाला

इनेलो संसदीय दल के नेता सांसद दुष्यंत चौटाला ने दादरी के वरिष्ठ पत्रकार राजेश श्योराण की निर्मम हत्या पर गहरा शोकव्यक्त करते हुए कहा कि यह लोकतंत्र का हन्न है। यहां जारी ब्यान मेंदुष्यंत चौटाला ने कहा कि पिछले दिनों से बार-बार पत्रकारों पर जानलेवाहमला होता है लेकिन कार्यवाई के नाम पर प्रशासन मुकदर्शक बनकर देखता रहता है। राजनैतिक षडय़ंत्रों के तहत पत्रकारों पर मामले दर्ज किए जाते हैं।आज हालात इस कदर खराब हो चुके हैं कि गुंडापरवर्ती की ताकतें देश के चौथे स्तम्भ पत्रकार को स्वच्छ पत्रकारिता करने के लिए आए दिन डरा रही है।दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनेलो इस हत्याकांड की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए सरकार और प्रशासन से जल्द से जल्द हत्यारों को गिरफ्तार करने कीमांग करती है। दुष्यंत ने कहा कि 19 दिसंबर को भी बवानीखेड़ा के वरिष्ठ पत्रकार संजय कोकचा पर जानलेवा हमला हुआ था लेकिन अभी तक उक्त हमलावरों का गिरफ्तार न होना प्रशासन की नाकामी को दर्शाता है। पत्रकार देश की मजबूत कड़ी का हिस्सा है लेकिन पिछले कुछ दिनों से पत्रकारों को किसी न किसी तरीके से निशाना बनाया जा रहा है। यदि देश के चौथे स्तम्भ पर इस तरह हमले हुए तो देश के अंदर अराजकता का माहौल हो जाएगा और पत्रकार सच्चाई की पत्रकारिता करने में हिच-हिचाहट महसुस करेगा। चौटाला ने कहा कि एक होनहार पत्रकार दिन-रात एक करके भुखा प्यासा रहकर अपनी जान पर खेलते हुए समाज के उत्थान में अहम रोल अदा करता है। राजेश श्योराण कि हत्या पत्रकारिता जगत के साथ-साथ समाज के लिए भारी क्षति है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से बार-बार होनहार पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है यह सोचने का विषय है। पत्रकारों के साथ इस तरह की अवमानना घटनाओं को इनेलो कतई बर्दास्त नहीं करेगी।

पत्रकार की हत्या, सच्चाई को दबाने का प्रयास - दिग्विजय चौटाला

भिवानी, 21 दिसंबर : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने वरिष्ठ पत्रकार राजेश श्योराण की निर्मम हत्या पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि यह लोकतंत्र का हन्न है। हम सबको निजि स्वार्थों को छोड़कर पत्रकार साथियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर उनकी आवाज को उठाना होगा। ज्ञात है कि दादरी जिले के वरिष्ठ पत्रकार राजेश श्योराण की अज्ञात हमलावरों ने निर्मम हत्या कर दी। इनसो अध्यक्ष ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ पर बार-बार हमला होने पर गहरी चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि पत्रकार अपनी जान पर खेलकर आम जनता की आवाज को बूलंद करता है। राजेश श्योराण जैसे होनहार पत्रकार की हत्या समाज और पत्रकारिता जगत के लिए गहरी चोट है। दिग्विजय ने भिवानी जिले का उदाहरण देते हुए कहा कि यहां बार-बार पत्रकारों पर हमले होते है लेकिन प्रशासन मुक दर्शक बनकर देखता रहता है। आलम यह होता है कि पत्रकार साथी अपनी आवाज को प्रशासन के कानों तक पहुंचाने के लिए ज्ञापन तक देते हैं लेकिन यह ज्ञापन एक कागज का टुकड़ा बनकर रह जाते हैं। पिछले दिनों भिवानी जिले में कई पत्रकारों पर जान लेवा हमले हुए राजनैतिक षडय़ंत्र के तहत पत्रकारों पर मामले दर्ज होते हैं। 19 दिसंबर को भी बवानीखेड़ा के वरिष्ठ पत्रकार संजय कोकचा पर जानलेवा हमला हुआ लेकिन प्रशासन ने पत्रकार पर हुए हमले पर कोई ठोस कार्यवाई अभी तक नहीं की वहीं 20 दिसंबर को देश के चौथे स्तम्भ के होनहार पत्रकार राजेश श्योराण की हत्या कर दी गई। चौटाला ने कहा कि इस तरह की घटनाओं पर अंकुश नहीं लगाया गया तो यह सच्चाई को दबाने का प्रयास होगा ताकतवर गुंडा परवर्ती के लोगों का होसला बढ़ेगा जो समाज के लिए घातक है। यदि प्रशासन से समय रहते ठोस कार्यवाई नहीं की तो पत्रकारिता जगत के अंदर दबंग पत्रकार निष्पक्ष खबर छापने की हिम्मत नहीं जुटा पाऐंगे। दिग्विजय चौटाला ने सभी पत्रकारों से इस घटना से सबक लेते हुए एकजुट होने की अपील करते हुए कहा कि राजेश श्योराण को न्याय दिलाना हम सबका कर्तव्य बनता है। प्रशासन को शख्त अलटीमेटम देते हुए कहा कि यदि जल्द से जल्द हत्यारों को गिरफ्तार नहीं किया तो इनसो पत्रकारों के सर्मथन में बड़ा आंदोलन करने पर मजबूर होगी।

Wednesday, December 20, 2017

दिग्विजय चौटाला की मौजूदगी में अनेकों परिवार इनेलो में हुए शामिल
 

डबवाली, 20 दिसंबर : इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने कहा है कि गुजरात व हिमाचल के चुनाव परिणामों ने यह साबित कर दिया कि नरेंद्र मोदी व भाजपा की सरकार का कांग्रेस व राहुल गांधी मुकाबला नहीं कर सकते। हालांकि केन्द्र की भाजपा सरकार के खिलाफ लोगों में भारी रोष है लेकिन लोग कांग्रेस को भी वोट नहीं डालना चाहते। इसलिए आज देश के हालात में लोग तीसरे मोर्चे की ओर उम्मीद से देख रहे है । जिस प्रकार से चौधरी देवीलाल ने सभी पार्टियों को इकट्ठा करके तीसरा मोर्चा खड़ा किया था वर्तमान हालात में ऐसे ही प्रयासों की जरूरत महसूस की जा रही है। 
 दिग्विजय चौटाला ने कहा कि पहले तो कांग्रेस ने 10 साल तक हमारे साथ भेदभाव करते हुए बिजली-पानी कम कर दी और युवाओं को रोजगार नहीं दिया। यही हालात अब भाजपा की सरकार की है। इसलिए अब लोग इनेलो की सरकार को याद करने लगे। कार्यकर्ताओं को चाहिए कि वे घर घर जाकर पार्टी का प्रचार करते हुए नए लोगों को पार्टी से जोड़े। उन्होंने लोगों को भारी संख्या में 7 जनवरी को अनाज मंडी डबवाली में पहुचंने की अपील की ताकि प्रदेश में परिवर्तन की लहर डबवाली हलका से चल सके।
इनसो नेता ने यह भी कहा कि इनेलो की जनसभाओं के दौरान उमड़ रही भीड़ यह दर्शाती है कि शहर का व्यापारी वर्ग व शहरी क्षेत्र के लोग इस मनोहर लाल खट्टर की भाजपा सरकार से बुरी तरह से तंग आ चुके हंै और खुलकर इनेलो के पक्ष में आ रहे हंै। उन्होंने कहा कि इनेलो  विपक्षी दल की भूमिका में जनता के दुख तकलीफ का हर मुद्दा बड़े अच्छे से उठाती है। 
दिग्विजय चौटाला की मौजूदगी में गांव पाना में अनेक परिवार इनेलो में शामिल हुए। जिसमें सरपंच गुरप्रीत पाना, भोला सिंह, सुरजीत सिंह के प्रयासों से सुखचैन सिंह पुत्र सुरजीत सिंह, काला सिंह, हरचरण सिंह, कत सिंह, बिन्द्र सिंह, रूप सिंह, सुखजिन्द्र सिंह, गुरदीप सिंह आदि परिवारों को इनेलो में शामिल करवाया। उन्होंने इनेलो के हरा झंडा पहनाकर सभी लोगों का पार्टी में स्वागत किया व उचित मान सम्मान देने की बात कही।

Tuesday, December 19, 2017

 दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में ट्रैक्टर को कामर्शियल बनाने का जताया विरोध



इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में केंद्र सरकार द्वारा ट्रैक्टर को कामर्शियल वाहन का दर्जा देने का मामला उठाया। उन्होंने सदन में किसानों की आधुनिक मशीन ट्रैक्टर को कॉमर्शियल, ट्रांसपोर्ट वाहन की श्रेणी और टोल टेक्स के दायरे में लाने के केंद्र सरकार के फैसले का विरोध करते हुए इस फैसले को वापस लेने की मांग की। 
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने सदन में कहा कि सितंबर माह में केंद्र सरकार की ओर से एक गजट नोटिफि केशन निकाला गया जिसमें मोटर एक्ट अधिनियम में एक संशोधन किया गया है। एक्ट 1989 मोटर वाहन एक्ट के तहत ट्रैक्टर को कृषि क्षेत्र में नॉन ट्रांसपोर्र्टेशन व्हीकल का दर्जा दिया गया है। केंद्र सरकार ने अब संशोधित नोटिफिकेशन के तहत ट्रैक्टर को ट्रांसपोर्टेशन व्हीकल का दर्जा दिया जा रहा है। युवा सांसद ने कहा कि वर्तमान मोटर एक्ट प्रावधानों के तहत ट्रैक्टर पर किसी किसी प्रकार का टैक्स नहीं लगता और न ही टोल ट्रैक्स का प्रावधान है। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उत्तर भारत में एनसीआर रीजन के तहत हरियाणा का 57 प्रतिशत क्षेत्र, यूपी के 11 जिले और राजस्थान का एक जिला एनसीआर रीजन की परिभाषा में आता है। उन्हेांने कहा कि यदि केंद्र सरकार का प्रस्तावित नोटिफि केशन लागू हो गया तो किसान उपरोक्त क्षेत्रों मे किसान दस वर्ष से अधिक समय तक एक ट्रैक्टर नहीं चला पाएगा। उन्होंने केंद्र सरकार के इस नोटिफि केशन को पूरी तरह से किसान विरोधी करार दिया और इस नोटिफि केशन को तुरंत प्रभाव से वापस लेने की मांग की।
 यहां बता दें कि इनेलो द्वारा लगातार ट्रैक्टर को कामर्शियल और ट्रांसपोर्टेशन वाहन की श्रेणी में डालने का विरोध करती आ रही है और दो बार केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिल चुकी और इनेलो संसदीय दल के नेता शीतकालीन सत्र के पहले दिन विरोध स्वरूप संसद भवन में ट्रैक्टर पर जा रहे हैं। 
दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में केंद्रीय मंत्री को बताया कि नए नोटिफिकेशन से किसान पर क्या क्या प्रभाव पड़ेंगे- ट्रैक्टर का दर्जा लग्जरी कार के बराबर हो जाएगा और उस पर सभी प्रकार के टैक्स व नियम लागू होंगे जो कि एक कार पर होते हैं। 
-कार के समान किसान को ट्रैक्टर का पंजीकरण शुल्क देना होगा
-एनसीआर रिजन में किसान को ट्रैक्टर 10 वर्ष के बाद चलाने की अनुमति नहीं होगी जबकि अब किसान सामान्य 25 से 30 वर्ष तक प्रयोग करता है। 
-कार के समान ही ट्रैक्टर पर किसान को टोल टैक्स अदा करना होगा
-अपनी फसल ले जाते समय लोडिंग के नियम भी लागू होंगे।
-किसान मंडी से एक टन से ज्यादा अनाज भी ट्रैक्टर पर नहीं ले जा पाएगा। ऐसा करना पर ट्रैक्टर का चालान होगा।
-चप्पल पहन कर किसान ट्रैक्टर चलाता मिला तो पुलिस ट्रैक्टर को चालान कर ट्रैक्टर को जब्त कर सकती है। 
-पोल्यूशन सर्टिफिकेट पूरा न होने पर चालान हो जाएगा। 



Monday, December 18, 2017

देश में 2019 में भाजपा का विकल्प कांग्रेस नहीं जनता परिवार होगा - दिग्विजय चौटाला 


इनसो के राष्ट्रिय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने यहां जारी बयान में गुजरात चुनावों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि गुजरात के लोगों में नोटबंदी, जीएसटी को लेकर ना केवल व्यापारी बल्कि किसानों व मजदूरों में भाजपा सरकार के प्रति जबरदस्त गुस्सा था। भाजपा के जनविरोधी फैसलों से गुजरात में लाखों लोग बेरोजगार हो गए, हजारों उद्योग धंधों पर ताला लग गया, लेकिन कांग्रेस में राहुल का कमजोर नेतृत्व गुजरात के लोगों के लिए विकल्प नहीं बन पाई। जिसके चलते गुजरात की जनता ने मजबूरन भाजपा को जिताना पङा। दिग्विजय ने कहा कि कांग्रेस ना केवल गुजरात बल्कि राहुल के कमजोर नेतृत्व के कारण एक-एक कर पूरे देश में हार रही है। कांग्रेस व उसकी नीतियां जनता के लिए कहीं भी विकल्प नहीं बन पा रही और उसका फायदा उठा कर बिना काम किए भाजपा जीत रही है। दिग्विजय ने दावा किया कि गुजरात में कांग्रेस की बजाय किसानों के हित की कोई क्षेत्रिय पार्टी विपक्ष की भूमिका में होती तो भाजपा की हार निश्चित थी। उन्होने कहा कि आगामी 2019 के चुनावों में भी कांग्रेस भाजपा का विकल्प नही बन पाएगी। इसलिए जनता दल के पूराने नेताओं व देश की सभी क्षेत्रिय पार्टियों को एक मंच पर आना होगा। दिग्विजय ने कांग्रेस के आपातलाक का उदाहरण देते हुए कहा कि जब इंदिरा गांधी ने 1975 में तानाशाही की थी तो देवीलाल ने सभी दलों को एक किया जिसके परिणाम ये रहे कि कांग्रेस का सूपङासाफ हुआ। उन्होने कहा कि आज भाजपा भी उसी तर्ज पर तानाशाही कर रही है। इसलिए 2019 के चुनावों में देश में जनतादल का मंच ही भाजपा व उसकी तानाशाही को उखाङ फेंकेगा। उन्होने कहा कि गुजरात की तरह हरियाणा में भी कांग्रेस अपना जनाधार खो चुकी है। ऐसे में यहां इनेलो भाजपा का विकल्प बनकर सत्ता में वापसी करेगी और चौधरी ओमप्रकाश चौटाला प्रदेश की बागडोग संभाल कर हरियाणा को फिर से विकास के पथ पर लेजाकर खुशहाल करेंगें। उन्होने कहा कि हरियाणा में भाजपा की तानाशाही व संप्रदायिकता का जनता मुहतोङ जबाव देने और इनेलो को सत्ता में लाने के लिए चुनावों के इंतजार में बैठी है। दिग्विजय ने कहा कि अब समय आ चुका है कि प्रदेश के हित की सोच रखने वाले कांग्रेस के लोग खुले मन से इनेलो में शामिल होकर भाजपा के खिलाफ लङाई में साथ दें। चौटाला ने कहा कि भाजपा की वादाखिलाफी से तीन सालों में हरियाणा में बेरोजगारी, महंगाई बढी है। किसान, गरीब व मजदूर आदमी आर्थिक रुप से निरंतर पिछङ रहा है। भाजपा सरकार की नाकामी व अनुभवहीनता के कारण अपराध के मामले में हरियाणा बिहार व यूपी से भी आगे निकल चुका है। आज हरियाणा के लोग व व्यापारी हरियाणा से पलायन करने को मजबूर हैं। 
प्रदेश के युवा कर सकते हैं हरियाणा में सत्ता परिवर्तन - दुष्यंत चौटाला 


कैथल : सांसद दुष्यंत चौटाला ने युवा शक्ति का आह्वान किया कि देश और प्रदेश में सत्ता परिवर्तन की बागडोर अब उनके हाथों में है और वे सामाजिक व राजनीतिक तौर पर अब इतने मजबूत हो चुके हैं कि प्रदेश की जनता को भाजपा के कुशासन से मुक्ति दिला सकते हैं। गांव पाई में युवा इनैलो नेता राजू ढुल पाई द्वारा आयोजित विशाल युवा सम्मेलन को संबोधित करते हुए सांसद ने भाजपा सरकार पर कड़े वार किए और कहा कि सत्ता में आने से पहले हरियाणा में 1.50 लाख व देश में 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वायदा किया था। यह वादा पूरा होना तो दूर 3 साल में केवल 10 हजार को नौकरी मिल पाई जबकि 1600 को जबरन नौकरी रिटायर कर दिया गया। दुष्यंत चौटाला ने मनोहर सरकार को घेरते हुए आरोप लगाया कि विभिन्न विभागों के कर्मचारी अध्यापक, डाक्टर यानी हर वर्ग के लोग आज अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर हैं। एन.आर.एच.एम. कर्मियों के आंदोलन ने तो सरकार की नीतियों को उधेड़ दिया है। चौटाला ने सरकार की डी.सी. रेट पर कर्मी लगाने की नीति को बड़ा घोटाला करार दिया और याद दिलाया कि चौ. ओमप्रकाश चौटाला के शासनकाल में युवाओं को पक्की नौकरियों पर लगाया गया। आज तो हालत इतने खराब हैं कि बिजली विभाग में खंभा लगाने वाला कर्मी और पब्लिक हैल्थ में जे.ई. भी डी.सी. रेट पर लग रहे हैं। यही हाल पुलिस विभाग में सिपाही भर्ती करने का रहा। उन्होंने सरकार की नीतियों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि लोकतंत्र की हत्या करके भाजपा सरकार आने वाले समय में एम.पी. व विधायक भी डी.सी. रेट पर रखकर आपके बीच भेज सकती है।


 देश के युवा सबसे युवा सांसद ने मनोहर सरकार को हिमाचल के ङ्क्षचतन शिविर लगाने पर कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि अच्छा होता कि निचले स्तर पर आम आदमी से जुड़कर उनकी दिक्कतों को सुना जाता। कितना अटपटा लगता है कि प्रदेश में आपराधिक गतिविधियां बढ़ रही हैं और शीर्ष आई.ए.एस. अधिकारी व मंत्री गाने गाकर अपना मनोरंजन कर रहे हैं। उन्होंने याद दिलाया कि भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण ही प्रदेश बीते 3 साल के दौरान 3 बार जलते प्रदेश के हालात काबू करने के लिए सुरक्षाबल बुलाने पड़े। इससे पूर्व युवा प्रदेशाध्यक्ष प्रदीप गिल, युवा इनैलो नेता एवं हाईकोर्ट में अधिवक्ता संजीव माजरा, युवा जिलाध्यक्ष बलराज नौच, रैली के आयोजक राजू ढुल पाई, रणदीप कौल, लीलू पाई, जिला पार्षद इंद्र पाई, राजू जुलानीखेड़ा सहित इनैलो पदाधिकारियों व कार्यकत्र्ताओं ने भी अपने विचार रखे। मंच का संचालन कंवरजीत वालिया फतेहपुर ने किया। इस मौके पर गांव खुराना के सरपंच रामफल मलिक खुराना, वरिष्ठ इनैलो नेता कैलाश भगत, इनसो प्रभारी प्रो. रणधीर चीका, युवा नेता जसमेर तितरम, जाट शिक्षा समिति के प्रधान रणबीर ढुल फौजी, जिला मीडिया संयोजक हरदीप पाडला, पूर्व सरपंच संजीव छौत, बलराज नरड़, अधिवक्ता वेदप्रकाश ढुल, मोनी बालू, संपूर्ण कोयल, चंद्रभान दयौरा, मियां ङ्क्षसह जाजनपुर, संजय जागलान, रोबिन ढांडा, राजेश बड़सीकरी, सुनील नरड़, भरत हरिगढ़, अनिल फिरोजपुर, मनोज आंधली, दीपा सांघन, कश्मीरा नैन, प्रवीण रमाणा, पूर्व सरपंच पतासो देवी, काला प्यौदा, सोनू प्यौदा, बंटी कूंडू, अशोक हजवाना, नरेंद्र बल्ली पाई, लाल ङ्क्षसह, रामकुमार बाता, शमशेर कुराड़, मा. बलबीर मटौर, जयपाल हजवाना, अधिवक्ता जयप्रकाश बलबेड़ा, कृष्ण शेरगढ़ सहित भारी संख्या में इनैलो पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित थे। 
सांसद ने पाई गांव की बदहाली पर ङ्क्षचता जताते हुए कहा कि विधायक दिनेश कौशिक के गोद लिए इस गांव की ओर प्रशासन ने अभी तक रुख नहीं किया। अच्छा होता कि विधायक गांव की गली-गली का दौरा करते और विकास की नींव रखते। उन्होंने स्व. देवीलाल और चौ. ओमप्रकाश चौटाला की ग्रामीण विकास की नीतियों की चर्चा की तो उपस्थित जनसमूह ने जोरदार तालियां बजाकर उनके कथन पर समर्थन जताया। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने उमड़ी भीड़ को संबोधित करते हुए मौके का फायदा उठाया और पार्टी कार्यकत्र्ताओं को यह सीख दी कि सूखे पूंडरी विस क्षेत्र को हराभरा करने के लिए वे आने वाले विस चुनावों में पार्टी के उम्मीदवार को जिताएं क्योंकि बीते 2 दशक से अधिक समय से किसी भी पार्टी का उम्मीदवार यहां चुनाव नहीं जीता है। इनैलो 36 बिरादरी की पार्टी है और इसका जनाधार हर गांव, शहर के हर वर्ग में निहित है इसलिए इस नकारात्मक प्रवृत्ति को इनैलो कार्यकत्र्ता पार लगा सकते हैं। 

किरण गोदारा बिश्नोई ने झटका गोल्ड, सांसद दुष्यंत चौटाला ने दी बधाई


हिसार की कुश्ती खिलाड़ी किरण गोदारा बिश्नोई ने साउथ अफ्रीका में आयोजित कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक झटक कर देश का नाम रोशन किया है। किरण ने 72 किग्रा भारवर्ग में देश का प्रतिनिधित्व करते हुए यह उपलब्धि प्राप्त की। इसके साथ ही हिसार की ही पहलवान पूजा ढांडा ने भी स्वर्ण पदक प्राप्त कर देश व हिसार शहर का गौरव बढ़ाया है। महिला पहलवानों के इस उम्दा प्रदर्शन पर हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने बधाई दी है। 
एडवोकेट मनदीप बिश्नोई ने बताया कि किरण ने अपने फाइनल मुकाबले में नाइजीरिया की पहलवान विनी गोफित को शिकस्त देते हुए यह उपलब्धि प्राप्त की। इसके साथ ही किरण ने 72 किग्रा भारवर्ग में स्वर्ण पदक हासिल कर पहली भारतीय बिश्नोई महिला पहलवान होने का खिताब हासिल किया है। यह पूरे बिश्नोई समाज के लिए गौरव की बात है। विदित हो कि किरण गोदारा इससे पहले भी कई राष्ट्रीय और अंतर राष्ट्रीय पदक प्राप्त कर देश का नाम रोशन कर चुकी है। 

...अब हर दिन ट्रैक्टर से ही संसद भवन जाएंगे सांसद दुष्यंत


देशभर के किसानों का हमसफर ट्रैक्टर अब लोकसभा के शीतकालीन सत्र में हर रोज दिखाई देगा। हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला हर रोज ट्रैक्टर पर लोकसभा में जाएंगे। ट्रैक्टर पर संसद भवन जाने का सिलसिला दुष्यंत का तब तक चलेता रहेगा जब तक केंद्र सरकार ट्रैक्टर को कामर्शियल ओर ट्रांसपोर्ट श्रेणी से बाहर नहीं निकालती। औपचारिकतावश सांसद दुष्यंत चौटाला ने 
लोकसभा सचिवालय को सूचित कर इसकी अनुमति भी ले ली है। ध्यान रहे कि लोकसभा सांसद दुष्यंत चौटाला शीतकालीन सत्र के प्रथम दिन शुक्रवार को ट्रैक्टर लेकर संसद भवन पहुंच गए थे। उस समय वहां काफी बवाल मचा था । वहां पर लोकसभा की सुरक्षा में तैनात कर्मियों ने ट्रैक्टर को अंदर ले जाने से रोका था, परंतु सांसद दुष्यंत ने जब नियमों का हवाला दिया तो अधिकारी बगलें झांकने लगे थे और सांसद का ट्रैक्टर संसद में पहुंच गया था। देश के इतिहास में पहली बार कोई सांसद ट्रैक्टर को लेकर संसद भवन में पहुंचा था । इसके बाद जहां पूरे देश के किसान खुशी से झूम उठे थे वहीं कुछ लोगों ने ट्रैक्टर की परमिशन का मामला भी उठाया था। सांसद दुष्यंत चौटाला का कहना है कि हंगामा करना उनका मकसद न होकर सरकार के फैसले का विरोध जताया और किसानों की मांग मनवाना उनका मकसद है। 
बकौल सांसद दुष्यंत ट्रैक्टर को गेट पर रोकने के मामले में वे लोकसभा अध्यक्ष से मिले थे। दुष्यंत ने बताया कि उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष को बताया कि वर्तमान में 56 प्रतिशत सांसद ऐसे हैं जो कृषि से सीधे रूप से जुड़े हुए हैं। जब किसान का बेटा संसद में बैठ सकता है तो वह अपना साधन ट्रैक्टर क्यों नहीं लेकर आ सकता है? सांसद ने बताया कि लोक सभा अध्यक्ष ने उनकी बात को गौर से सुना और अब उन्हें ट्रैक्टर पर जाने की अनुमति मिल गई है। सांसद ने बताया कि उन्हें पूरे सत्र में ट्रैक्टर से जाने की अनुमति मिली है और अब वह पूरे सेशन ट्रैक्टर से ही लोकसभा में हर रोज जाया करेंगे।
सांसद ने बताया कि केंद्र सरकार ट्रैक्टर को कमर्शियल वाहन की श्रेणी में ला रही है। कमर्शियल श्रेणी में आने से किसान पूरी तरह से बर्बादी की ओर चला जाएगा क्योंकि एनसीआर में कमर्शियल डीजल वाहन 10 साल पुराना नहीं चल सकता, जबकि ट्रैक्टर को तो किसान 25 से 30 साल तक चलाता है और हरियाणा का तो 57 प्रतिशत हिस्सा एनसीआर में आता है। इसके अलावा टोल टैक्स के साथ-साथ एक टन से ज्यादा अनाज भी किसान ट्रैक्टर पर नहीं ले जा पाएगा। सांसद दुष्यंत चौटाला ने आह्वान किया कि पार्टी बाजी से ऊपर उठकर सभी किसान एवं कमेरा वर्ग एकजुट हो और ट्रैक्टर को बचाने के लिए उनके साथ संघर्ष करें

विधायक नैना चौटाला बनी अग्निकांड पीडि़तों की आवाज, पत्र के माध्यम से सी.एम. के सामने उठाई मांगे

डबवाली, 17 दिसंबर : डबवाली की विधायक नैना चौटाला ने एकबार फिर से डबवाली अग्निकांड पीडि़तों की आवाज बनकर उनकी समस्याओं व मांगों को गंभीरता से प्रदेश सरकार के सामने उठाया है। विधायक ने डबवाली अग्निकांड से पीडि़त परिवारों की ओर से प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उनकी मांगों को जोरदार ढंग से उठाया है। विधायक नैना चौटाला ने कहा है कि डबवाली में हुए अग्निकांड में अनेक लोग घायल हुए थे, जिनका आज तक सही से इलाज नहीं हो पाया है। प्रदेश सरकार को चाहिए कि सभी घायल हुए पीडि़तों का दोबारा से अच्छे व विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम से मैडिकल करवाया जाए। इसके बाद रिपोर्ट व जरूरत के आधार पर पीडि़तों का जहां से वे चाहे उनका इलाज व सर्जरी प्रदेश सरकार अपने खर्च पर करवाए। इनमें से कई पीडि़त ऐसे है जिनका इलाज अगर अपने देश में संभव न हो तो इनका विदेशों से सरकारी खर्च पर इलाज व सर्जरी करवाई जाए। इसके अलावा अग्निकांड पीडि़तों के रोजगार का प्रबंध करने को भी कहा गया है ताकि वे अपना जीवन यापन आसानी से कर सकें। साथ ही पीडि़तों व उनके परिजनों के लिए सभी प्रकार की सरकारी सुविधाएं जैसे स्वास्थ्य, शिक्षा, आवास आदि निशुल्क मुहैया करवाने की मांग भी प्रदेश के मुख्यमंत्री से की गई है। 
प्रदेश के सी.एम. मनोहर लाल खटटर को पत्र लिखकर विधायक नैना चौटाला ने कहा है कि प्रदेश के सी.एम. को संवेदनशीलता दिखाते हुए अग्निकांड पीडि़तों की मांगों को तुरंत प्रभाव से कदम उठाते हुए पूरा करे। पत्र में विधायक ने लिखा है कि 23 दिसंबर, 1995 को डबवाली में भीषण अग्निकांड हुआ था जिसमें सैकड़ों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। इस हादसे में अनेक लोग बुरी तरह से झुलस गए थे। डबवाली अग्निकांड एक बहुत बड़ी त्रासदी थी। इससे सैकड़ों लोग मौत के मुंह में समा गए थे। जिसमें बच्चें व महिलाएं भी शामिल थी। लेकिन अग्निकांड पीडि़तों व उनके परिजनों से पूरी तरह न्याय नहीं हो पाया है। विधायक ने उनकी अनेक समस्याएं, आवश्यकताएं व मांगे पत्र के माध्यम से रखी है, जिनकी ओर सरकार को कदम उठाने चाहिए। डबवाली अग्निकांड पीडि़तों से संबंधी मांगों बारे विधायक नैना चौटाला ने लिखा है कि प्रदेश सरकार को चाहिए कि डबवाली अग्निकांड समारक को राजकीय समारक घोषित करे। अग्निकांड स्थल पर अग्निकांड से बचाव का प्रशिक्षण केन्द्र बनाया जाए। इसके अलावा अग्निकांड की हर साल बरसी पर अग्निकांड स्थल पर होने वाला सालाना श्रद्धांजलि कार्यक्रम सरकारी खर्च पर सरकारी कार्यक्रम होना चाहिए। अग्निकांड की बरसी 23 दिसंबर को अग्निशमक सुरक्षा दिवस के रूप में मनाया जाए। इसका विस्तार करते हुए साथ ही इस दिन अग्नि जागरूकता शिविर प्रदेश भर में लगाए जाने चाहिए जिसका मुख्य कार्यक्रम डबवाली में हो ताकि लोग ऐसी दुर्घटनाओं के प्रति सचेत व जागरूक हो व भविष्य में ऐसा हादसा न हो सके। इसके अलावा डबवाली के अस्पताल में बर्न यूनिट की स्थापना करने, अग्निकांड पीडि़तों व विधायक नैना चौटाला ने कहा है कि प्रदेश के सी.एम. मनोहर लाल खटटर से अपील की है कि इस संवेदनशील मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए अग्निकांड पीडि़तों संबंधी सभी मांगों को तुरंत प्रभाव से पूरा करवाएं।