Thursday, July 20, 2017

कृषि नीति निर्माण के समय किसानों की भागीदारी हो सुनिश्चित - दुष्यंत चौटाला


हिसार: किसानों की आर्थिक हालत सुधारने, फसलों का न्यूनतम लाभाकारी मूल्य देने और उन्हें समृद्ध बनाने के लिए जीएसटी कांऊसिल की तर्ज पर एक कृषि कांउसिल बननी चाहिए। इस कांऊसिल में न केवल किसानों का प्रतिनिधित्व हो बल्कि उनकी अपील-दलील सुनने के बाद ही फसलों का न्यूतम समर्थन मूल्य तय होना चाहिए। यह मांग इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में रखी। उन्होंने नीति आयोग में भी किसान पृष्ठभूमि के सदस्यों की नियुक्ति भी मांग की। इनेलो सांसद ने कहा कि देश भर के किसानों का कर्ज माफ हो। 

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्रीय कृषि मंत्री के बयान का हवाला देते हुए कहा कि सरकार स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें को लागू नहीं कर सकती। उन्होंने सरकार को सुझाव दिया कि किसानों की फसलों का न्यूतनतम मूल्य तय करने के लिए जीएसटी कांउसिल की तर्ज पर पूरे देश के राज्य के कृषि मंत्रियों को एक मंच पर आना चाहिए और एक आयोग का गठन करना चाहिए। आयोग द्वारा फसलों का न्यूनतम मूल्य तय करने से पहले आयोग में किसानों को अपनी बात रखने का अधिकार होना चाहिए। इसके बाद आयोग फसलों न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करे। 


किसानों की दर्शा पर आयोजित चर्चा में भाग लेते हुए युवा सांसद ने कहा कि पिछले 60 वर्षों से हम सदन किसानों की समृद्धि की बात कर रहे हैं परन्तु किसानोंं की दशा में सुधार नहीं हुआ। युवा सांसद ने कहा कि जब तक नीति निर्मण में किसानों की भागीदारी नहीं होगी तब तक किसान समृद्ध नहीं हो सकता। उन्होंने सरकार से पूछा कि किसान की सोच के कितने व्यक्ति नीति आयोग में काम कर रहे। उन्होंने केंद्र सरकार से नीति आयोग में किसानों की नियुक्ति बतौर सदस्य करने की मांग की। दुष्यंत चौटाला ने किसान क्रेडिट कार्ड की सीमा छह माह से बढ़ा कर एक वर्ष करने की मांग की। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि गन्ने की फसल पक कर मार्केट में बेचने के बाद किसान की जेब में पैसे आने में एक वर्ष का समय लग जाता है तो वह ऐसे में क्रेडिट कार्ड के पैसे का भुगतान छह माह में कैसे करेगा। यदि किसान क्रेडिट कार्ड का पैसा जमा नहीं करवाया जाता तो उसकी जमीन कुर्क कर दी जाती है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कर्ज माफी की मांग करते हुए कहा कि पूरे देश में हर किसान का सरकार किसान कर्ज माफ करे, इसके बाद वह डिफाल्टर होता है तो इसपर आगे की कार्रवाई हो। 
मुनाफा

--देश के सबसे युवा सांसद ने कहा कि-आईसीसीआई बैंक ने फसल बीमा योजना से किसानों सेप्रीमियम के रूप में 57 करोड़ रूपये एकत्रित किए और किसनों की फसलों के नुकसान के लिए केवल 38 लाख रूपये क्लेम दिया। और बजाज कंपनी ने 51 करोड़ रूपये प्रीमियम के किसानों से लिए और करीब डेढ़ करोड़ रूपये किसानों को नुकसान की भरपाई के लिए दिया गया। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि फसल बीमा योजना का मुनाफा निजी कंपनियां कमा रही हैं और सर्वे के लिए सरकारी मनशीनरी का प्रयोग हो रहा है। 

...आलू का भाव 20 पैसे और खुदाई डेढ़ रूपये, कैसे होगा किसान समृद्ध
सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभ में सुरजमुखी से खरीद से लेकर आलू के नामात्र भाव मिलने का मुद्दा बखूबी उठाया। उन्होंने कहा कि किसानों को सुरजमुखी बेचने के लिए पांच दिन जेल में रहना पड़ा। उन्होंने हरियाणा में सुरजमखी मंडियों में दुगर्ति होने का जिक्र करते हुए कहा कि हरियाणा के सीएम आए तो कुछ दिन मंडी में सुरजमुखी की खरीद हुई और सीएम के जाते ही सुरजमुखी की खरीद बंद कर दी ओर आज भी मंडिया में बारिश में किसानों की फसल भीग रही है। उन्होंने सदन में कहा कि किसान की आलू की फसल इस बार 20 पैसे प्रति किलोग्राम बिकी और किसान ने आलू की आलू की खुदाई पर खर्च किया एक रूपया 50 पैसे। उन्होंने सवाल उठाया कि ऐसे में कैसे किसान समृद््ध होगा। 




Wednesday, July 19, 2017

प्राइवेट कंपनी के हिस्से से बने IIIT में गरीबों के बच्चों को न हो परेशानी - दुष्यंत चौटाला


हिसार: सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज लोकसभा में प्रदेश में लाला लाजपतराय पशु एवं विज्ञान विश्वविद्यालय और हॉर्टिक्लचर विश्वविद्यालय का आधारभूत ढांचा न बनने का मुद्दा लोकसभा में उठाया। सांसद ने कहा कि विश्वविद्यालयों की स्थापना की घोषणा हुए तो कई बरस बीत चुके हैं परन्तु प्रदेश सरकार द्वारा विश्वविद्यालय की स्थापना को सिरे न चढ़ाने को लेकर गंभीरता न दिखाने के कारण दोनों विश्वविद्यालय के परिसर बनाने के नाम पर अभी एक ईंट भी नहीं लगी। उन्होंने लोकसभा में यह मुद्दा इंडियन इंस्टीच्यूट आफ इन्फॉर्मिेशन टेक्नोलॉजी अंडर पीपीपी मॉडल 2017 की चर्चा में भाग लेते हुए उठाया। 




युवा सांसद ने इस बिल का समर्थन किया परन्तु इसके क्रियान्वन के समय आने वाली दिक्कतों को देखते हुए भविष्य में इस संशोधन का सुझाव भी दिया। लोकसभा में पेश बिल के अनुसार पीपीपी माडल के तहत शिक्षण संस्थान स्थापना के लिए 50 प्रतिशत खर्च केंद्र सरकार, 35 प्रतिशत राज्य सरकार और 15 प्रतिशत खर्च इसमें भागीदार इंडस्ट्री द्वारा वहन किया जाएगा। इस योजना के तहत विभिन्न स्थानों पर 20 संस्थान बनाए जाएंगे। 
इनेलो सांसद ने कहा कि इस बिल के प्रावधान के अनुसार शिक्षण संस्थानों की स्थापना के लिए सडक़, बिजली व जमीन आदि उपलब्ध करवाने की जिम्मेवारी प्रदेश सरकार की होगी। सांसद ने इस प्रावधान पर सवाल खड़ा करते हुए उदाहरण दिया कि हरियाणा के करनाल में प्रस्तावित हॉर्टिकल्चर यूनिवर्सिटी और हिसार लाला लाजपतराय विश्वविद्यालय की बिल्डिंग भी कई वर्ष बीत जाने के बाद भी नहीं बनी। हॉर्टिकल्चर विश्वविद्यालय की घोषणा केंद्र सरकार द्वारा की गई थी जबकि हिसार में पशु विज्ञान विश्वविद्यालय की स्थापना पिछली राज्य सरकार द्वारा की गई थी।  
युवा सांसद ने सरकार से पूछा कि जब देश में 20 ऐसे संस्थान बनेंगे तो उनके लिए प्रदेश सरकारों के पास धन की व्यवस्था कहां से होगी? युवा सांसद ने कहा कि इस माडल पर पहले भी संस्थान हैं परन्तु उन शिक्षण संस्थानों में अभी तक पूरी फैकल्टी भी नहीं है। उन्होंने कहा कि ये संस्थानों की फीस लाखों रूपये होती और गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले विद्यार्थी मोटी फीस अदा करने में सक्षम नहीं होते। उन्होंने सदन में सरकार से पूछा कि उद्योग के सहयोग से स्थापित होने वाले इन शिक्षा संस्थानों में क्या सरकार ऐसा प्रावधान करने जा रही है जिससे कि वहां गरीब का बच्चा भी पढ़ सके।

बिजली के दाम उद्योगों के साथ अन्याय - अशोक अरोड़ा

कुरुक्षेत्र: इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बिजली के रेट बढ़ाने की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विधानसभा मेें आश्वासन दिया था कि भविष्य में बिजली के रेट नहीं बढ़ाए जाएंगे, लेकिन सरकार ने बिजली के रेट बढ़ाकर सदन तथा जनता से वायदाखिलाफी की है। उन्होंने बिजली के बढ़े हुए रेट तुरंत वापिस लेने की मांग की। 
इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि जीएसटी तथा नोटबंदी के कारण बाजार में आर्थिक मंदी छाई हुई है। व्यापारियों का कामधंधा ठप पड़ा है। किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य न मिलने से वे हताश और निराश हैं और किसान वर्ग आर्थिक मंदी का शिकार है। ऐसे हालात में बिजली के रेट बढ़ाना सरासर अन्याय है। अरोड़ा ने कहा कि बिजली का रेट बढ़ाने की बजाये बिजली की सप्लाई दुरुस्त की जानी चाहिए। भीषण गर्मी के मौसम में प्रदेश की जनता बिजली के अघोषित कटों से परेशान है। दिन में दर्जनों बार बिजली के कट लगते हैं। जनता सडक़ों पर आकर धरने और प्रदर्शन कर रही है, लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही। बिजली की कटौती के कारण लोगों को पीने का पानी तक उपलब्ध नहीं हो रहा।  24 घंटे बिजली देने का सरकार का दावा खोखला साबित हुआ है। उन्होंने मांग की कि बिजली के बढ़े हुए रेट तुरंत वापिस लेकर जनता को राहत दी जाए और बिजली की सप्लाई सुचारू की जाए। 

मुख्यमंत्री ने जनता से विश्वासघात किया: अभय सिंह चौटाला

चंडीगढ़, 19 जुलाई: नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि बिजली की दरों में वृद्धि करके मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपना वह वादा तोड़ दिया जिसमें उन्होंने स्वयं हरियाणा विधानसभा में किया था कि उनके कार्यकाल में बिजली की कोई दरें नहीं बढ़ेंगी तथा वे बिजली सस्ती करेंगे। लेकिन 1 जुलाई से प्रदेश में बढ़ी हुई बिजली दरें लागू होंगी इसलिए सीएम ने प्रदेश की जनता से विश्वासघात किया है। पहले से महंगाई की मार झेल रही जनता पर बढ़ी हुई बिजली की दरें लागू करके उनकी जेबों पर डाका डालने का काम किया है।
इनेलो नेता ने कहा कि उनको आशंका है कि हरियाणा बिजली विनियामक आयोग (एचईआरसी) के अधिकारियों पर कहीं न कहीं दबाव डालकर सरकार ने यह अनुचित काम करवाया है, नहीं तो हर कोई यह जानता है कि आज कोयले और डीजल के दाम घटे हैं तथा केंद्र सरकार खुद यह दावा करती है कि कोयले की गुणवत्ता में भी भारी सुधार हुआ है। इनेलो नेता ने बताया कि केंद्रीय बिजली मंत्री पीयूष गोयल स्वयं यह बात कहते हैं कि इससे अब बिजली का उत्पादन बहुत सस्ता हुआ है। जब सारे देश में बिजली सस्ती है तो फिर हरियाणा में बिजली महंगी क्यों की गई ? प्रदेश में बिजली की दरें बढऩे से यहां नए उद्योग लगना तो बहुत दूर की बात है जो यहां पहले से लगे हुए हैं वे भी यहां से पलायन कर सकते हैं।
नेता विपक्ष ने कहा कि उनको पहले से अंदेशा था कि सरकार फ्यूल सरचार्ज एडजेस्टमेंट (एफएसए) के खेल में बिजली की दरें बढ़ा सकती है और सरकार ने वही जनविरोधी फैसला किया है। सरकार कहती है कि उन्होंने एक जुलाई से 28 पैसे प्रति यूनिट सरचार्ज घटा दिया और अब 37 पैसे ही एफएसए रह गया है। उन्होंने कहा कि एफएसए किस बात का जब बिजली ही ज्यादातर बाहर से प्राइवेट बिजली कंपनियों से ली जा रही है और अपने प्लांट तो अधिकतर समय बंद ही रहते हैं। ऐसे में एफएसए लेने का तो प्रश्र ही पैदा नहीं होता?
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि यह सरकार प्राइवेट बिजली कंपनियों से और कई महंगे पावर प्रचेज एग्रीमेंट (पीपीए) करके बिजली उपभोक्ताओं की कमर तोडऩा चाहती है, जबकि खुद सरकार यह दावा करती है कि बिजली सरप्लस है, लेकिन ग्रामीण उपभोक्ताओं को मुश्किल से दो घंटे ही बिजली मिलती है। उन्होंने कहा कि बिजली की दरों में भारी वृद्धि करके सीएम जनता के बीच में झूठे साबित हो गए हैं। उन्होंने कहा कि 25 से 50 पैसे प्रति यूनिट बिजली महंगी होने से महंगाई और अधिक बढ़ेगी तथा इससे व्यापारियों, उद्यमियों और घरेलू उपभोक्ताओं पर इसका भारी असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इनेलो बिजली दरों में की गई भारी वृद्धि के खिलाफ सडक़ों पर उतरेगी। इनेलो नेता ने कहा कि बिजली कंपनियों के कुप्रबंधन की मार उपभोक्ता क्यों वहन करे? बिजली की दरों में की गई वृद्धि से आज प्रदेश के 58 लाख से अधिक बिजली उपभोक्ता सरकार के खिलाफ खड़े हो गए हैं लेकिन सरकार को जनता के हितों से कोई सरोकार नहीं है।

आगामी आंदोलन को लेकर दिशा निर्देश के लिए दिशा निर्देश के लिए होगी हिसार में मीटिंग


हिसार : इंडियन नेशनल लोकदल की एक महत्वपूर्ण बैठक बुधवार को सिरसा रोड स्थित चौधरी देवीलाल सदन में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता जिला प्रधान राजेंद्र लितानी ने की। बैठक में 23 जुलाई को किसान प्रकोष्ठ की प्रस्तावित बैठक को लेकर विस्तार से विचार विमर्श किया गया। 
जिला प्रधान राजेंद्र लितानी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि 23 जुलाई को सुबह दस बजे आयोजित होने वाली उक्त बैठक में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला, किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक सरदार निशान सिंह सहित अन्य इनेलो नेता विशेष तौर पर भाग लेंगे। बैठक में भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीतियों पर विस्तार से विचार विमर्श करते हुए कार्यकर्ताओं को आगामी आंदोलन को लेकर दिशा निर्देश दिए जाएंगे। इनेलो जिलाध्यक्ष लितानी ने कहा कि भाजपा सरकार किसान विरोधी साबित हुई है। भाजपा सरकार ने अपने वादे के अनुरूप न तो किसानों के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशो को लागू किया है और न ही एसवाईएल को लेकर गंभीर प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के चलते आज किसान वर्ग लगातार पिछड़ता जा रहा है। इनेलो किसानों के दर्द को समझती है। उन्होंने कहा कि 23 जुलाई की बैठक में किसानों की समस्याओं पर चर्चा करते हुए आगामी रणनीति तैयार की जाएगी। इसके साथ ही संगठन को लेकर भी विस्तार से चर्चा की जाएगी। इस मौके पर किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष रवि लांबा, प्रदेश सचिव बिजेंद्र लोहान, कलीराम खेदड़, बलवान कुलाना, ओमप्रकाश भेरियां, बहादुर सिंह, श्योरण सिंह, सत्यनारायण पूनिया, मांगेराम बुगाना, सत्यवान राजली, सत्यवान कोहाड़, जोगीराम पंघाल, सतबीर सिंह खरकड़ी, राजेश शास्त्री, राजबीर काजल, दशरथ पूनिया व विजय सिहाग सहित अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। 

Tuesday, July 18, 2017

पीड़ित दुकानदार से मिले विधायक राजदीप, मदद का दिया आश्वासन 


चरखी दादरी : दादरी हलके के विधायक राजदीप फौगाट ने झज्जर रोड पर आग की लपटों में राख हुई कन्फेक्शनरी की दुकान व क्षतिग्रस्त मकान का जायजा लिया। उन्होंने सरकार से पीड़ित दुकानदार, मकान मालिक को मुआवजा देने की मांग की। इस दौरान विधायक ने कन्फेक्शनरी व मकान में आग लगने से हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए तहसीलदार व अन्य अधिकारियों को भी मौके पर बुलाया। दादरी नगर परिषद के चेयरमैन संजय छपारिया भी मौजूद थे। गौरतलब है कि तीन दिन पूर्व शार्ट सर्किट के चलते झज्जर रोड पर टोनी कन्फेक्शनरी 
में आग लग गई थी। जिसमें लाखों का सामान जलकर राख हो गया था। साथ ही मकान भी काफी क्षतिग्रस्त हो गया। सोमवार को पीड़ित दुकानदार टोनी व मकान मालिक से मिलने विधायक राजदीप फौगाट पहुंचे। विधायक राजदीप ने कहा कि आग लगने से दुकानदार टोनी को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। मकान भी आग लगने से क्षतिग्रस्त हो गया है। दोनों को सरकार की ओर से पूरी आर्थिक मदद मिलनी चाहिए। उन्होंने पीड़ित दुकानदार टोनी व मकान मालिक को भरोसा दिलाया कि उन्हें ज्यादा से ज्यादा मुआवजा दिलाने का भरसक प्रयास किया जाएगा। दुकानदार टोनी ने कहा कि उनकी जीवन भर की पूंजी एक झटके में राख हो गई। वह दुकान के सहारे ही अपने परिवार की आजीविका चलाता था। अब गुजर-बसर का यह साधन भी नहीं रहा। करीब 10 लाख रुपये का सामान जलने के साथ ही दुकान की इमारत व साथ के मकान में भारी नुकसान हुआ है। पुराना झज्जर रोड निवासी शिवकुमार ने बताया कि कुछ समय पूर्व ही उसने नये भवन का निर्माण कराया था। इसमें नीचे दुकान व ऊपर मकान बनाया गया था।   जिसमें उनका परिवार रहता है। शार्ट-सर्किट के चलते लगी इस आग में दुकानदार को लाखों रुपये के नुकसान के अलावा भवन का भी काफी हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। इस दौरान नगर परिषद के वाइस चेयरमैन बबलू श्योराण, पार्षद मनोज वर्मा, पार्षद प्रतिनिधि जयसिंह लांबा, पार्षद आनंद महराणा भी विधायक के साथ थे। 
राजकुमार सैनी पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो - अभय सिंह चौटाला 

नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने भाजपा सांसद राजकुमार सैनी के उस बयान की कड़े शब्दों में निंदा की है जिसमें उसने किसानों के मसीहा दीनबंधु सर छोटू राम के प्रति अनैतिक शब्दावली का इस्तेमाल किया था। इनेलो नेता ने कहा कि सांसद सैनी को हरियाणा के इतिहास और महापुरुषों के संघर्ष का थोड़ा सा भी ज्ञान होता तो वो इस तरह की बात न करते।  किसानों को बंधुआ मजदूरी और कर्जे के बोझ से निजात दिलाने वाले महापुरुष को गलत बोलना उसे शोभा नहीं देता। सर छोटू राम गरीबों और किसानों के मसीहा थे। उन्होंने हमेशा समाज के हित में कार्य किए हैं और गरीब का शोषण करने वालू पूंजीपतियों के खिलाफ रहे हैं।
महापुरुषों का अपमान करने की परम्परा एक विचारधारा विशेष की पार्टी और उसके लोगों में शुरू से रही है। नेता विपक्ष ने बताया कि सांसद सैनी जातिगत राजनीति कर रहे हैं और जाति विशेष को निशाना बनाकर भाईचारे को तोडऩे का काम कर रहे हैं। हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन में हिंसाभडक़ाने का जो कार्य उसने किया था, प्रदेशवासी उसे अभी तक नहीं भूले हैं। सैनी को सांसद की गरिमा का ख्याल रखते हुए अपना बयान वापिस लेते हुए प्रदेशवासियों से माफी मांगनी चाहिए।
इनेलो नेता ने सरकार से मांग की कि उस पर तुरंत देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर सलाखों के पीछे डाल देना चाहिए। जिन रहबरे-आजम के बारे में आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया है, वह पूरे भारतीय महाद्वीप के किसान और कमेरे वर्ग के रहनुमा थे और उनकी यह पहचान देश के किसी भी अन्य नेता से कम नहीं है।

प्रदेश में भूपेंद्र हुड्डा के दस साल के कार्यकाल में सबसे अधिक दलितों पर अत्याचार हुए - अशोक शेरवाल 


इनेलो एससीएसटी सैल के संयोजक अशोक शेरवाल ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पार्टी में अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिए दलितों व किसान-मजदूरों के कंधों का इस्तेमाल कर रहे हैं जबकि प्रदेश की जनता भलीभांति जानती है कि हुड्डा का इन वर्गों से दूर-दूर तक का कोई वास्ता नहीं है।
इनेलो के दलित नेता अशोक शेरवाल ने हुड्डा पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी ही पार्टी के प्रदेश् अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर जो स्वयं दलित हैं और उनकी हुड्डा समर्थकों ने दिल्ली में लाठी-डंडों से पिटाई की थी। उन्होंने कहा जब उनकी पार्टी में वे एक दलित अध्यक्ष को ही नहीं बख्शते तो वे दलितों के समर्थक कैसे हो सकते हैं? शेरवाल ने कहा कि उनके दस साल के कार्यकाल में सबसे अधिक दलितों पर अत्याचार हुए हैं। प्रदेश की जनता गोहाना काण्ड और मिर्चपुर कांड को आज तक नहीं भूली है। मिर्चपुर में दलितों के साथ जो अत्याचार हुए थे तो खुद इन्हीं की पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी बिना हुड्डा को बताए मिर्चपुर में दलितों के प्रति हमदर्दी जताने आए थे।
अशोक शेरवाल ने कहा कि प्रदेश की जनता को भलीभांति पता है कि हुड्डा केवल और केवल प्रॉपर्टी डीलरों के लिए काम करते थे, उनका जनता के हितों से कोई सरोकार नहीं था। आज हुड्डा को किसान याद आ गए, यह बात वे भूल गए कि वे किसानों को डरा धमकाकर उनकी बेशकीमती जमीन को हड़पकर बिल्डरों को महंगे दामों पर बेच देते थे जिनके वे मुकदमे फेस कर रहे हैं। आज हुड्डा को किसान याद आ गए जबकि वे खुद उस कमेटी के चेयरमैन थे जिन्होंने किसानों के उत्थान के लिए निर्णय लेने थे तब उन्होंने कुछ नहीं किया। उन्होंने पुन: इस बात को दोहराया कि जिस पार्टी में हुड्डा समर्थक दलित अध्यक्ष की पिटाई करते हों वह व्यक्ति दलित हितैषी कैसे हो सकता है?
नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने गौशाला में गायों की मृत्यु पर चिंता जताते हुए सीएम को लिखा पत्र 

चंडीगढ़, 18 जुलाई: नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने राज्य के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर  का ध्यान कुछ समय पूर्व कुरुक्षेत्र जिले की एक गौशाला में अनेक गायों के मरने के समाचार की ओर दिलाते हुए यह आरोप लगाया कि ऐसा कुप्रबंधन और सरकार की अनदेखी के कारण हो रहा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इस प्रकार मुख्यमंत्री भी परोक्ष रूप से इन गायों की मृत्यु के जिम्मेदार हैं। 
उन्होंने मुख्यमंत्री को याद दिलाया कि जब उनकी पार्टी सत्ता में आई थी तो उनके घोषित लक्ष्यों में पशुधन का कल्याण एवं संरक्षण भी था। इसी आशय का इस सरकार के कार्यकाल के प्रारम्भ में ही एक विधेयक भी पारित किया गया था। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि मुख्यमंत्री स्वयं, उनका राजनैतिक दल और उनका मूल संगठन सभी गायों के प्रति अपना पे्रम एवं श्रद्धा जतलाने में पीछे नहीं रहते। गायों के प्रति इस प्रकार की श्रद्धा समाज के अन्य समुदायों में भी है। इसी कारण जब भी गायों के कल्याण के लिए कोई भी कदम उठाया जाता है तो सभी पार्टियां दलगत राजनीति से ऊपर उठकर उसका समर्थन करते हैं। इंडियन नेशनल लोकदल ने भी सरकार के हर कदम का इस विश्वास के साथ समर्थन किया है कि गायों के प्रति दिखाया जा रहा उनका पे्रम और श्रद्धा वास्तविक है। परंतु न तो इनेलो और न ही प्रदेश की जनता ने यह सोचा था कि गायों के प्रति इस प्रकार की श्रद्धा एवं पे्रम केवलमात्र राजनैतिक फसल काटने के लिए है। इनेलो ने यह भी नहीं सोचा था कि कोई राजनैतिक दल लोगों की गायों के प्रति आस्था का लाभ उठाकर उन्हें अन्य लोगों के प्रति हिंसा करने पर उकसाएगा।
इसी संदर्भ में नेता विपक्ष ने कहा कि कुरुक्षेत्र में गायों की मृत्यु शर्म और चिंता का कारण है। साथ ही उन्होंने यह मांग भी की कि जो दोषी हैं उन्हें दण्ड भी दिया जाए और वे पश्चाताप भी करें। खबरों के अनुसार उस गौशाला में गायों की मृत्यु इस कारण हुई क्योंकि लगातार बारिश होने से वहां कीचड़ हो गया था। यह कीचड़ पशुओं द्वारा बेचैनी में इधर-उधर जाने के प्रयास में दलदल जैसा बन गया। भूख के कारण बहुत कमजोर हो चुकी यह गाय उसी कारण उस कीचड़ में धंस गई और वहां से निकलने के असफल प्रयास के कारण मृत्यु को प्राप्त हुई। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य, जिसे अपने पशुधन पर गर्व है उसके लिए यह घटना एक काला धब्बा है।
नेता विपक्ष ने इस संदर्भ में भगवान कृष्ण के जीवन के उस पक्ष की ओर ध्यान दिलाया जब उन्होंने मूसलाधार बारिश से अपने लोगों एवं गायों को बचाने का प्रयास किया था। नेता विपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री को गोवर्धन पर्वत की घटना तो अवश्य याद होगी। परंतु उस घटना के विपरीत, यहां कुरुक्षेत्र, जिस भूमि पर भगवान कृष्ण ने गीता का उपदेश दिया उसमें सरकार के कुप्रबंधन के कारण गायों की मृत्यु हुई।
नेता विपक्ष ने इस बात पर भी चिंता जताई कि इस दुर्घटना का दायित्व सरकार पर भी इस कारण बनता है क्योंकि उस द्वारा अपने कर्तव्य पालन में कोताही बरती गई थी। कुरुक्षेत्र की दुर्घटना पहली नहीं है और इस प्रकार की घटनाओं के समाचार ऐसे समय में भी आते रहते हैं जब गौरक्षा के नाम पर समय-समय पर सरकारी संरक्षण के कारण अराजकता घटती है। ऐसे वातावरण में सरकार को तुरंत प्रभाव से गौरक्षकों को दिया जाने वाला प्रोत्साहन बंद करना चाहिए ताकि गौरक्षा के नाम पर वह कानून अपने हाथ में न ले सके।
अंत में नेता विपक्ष ने यह कहा कि मुख्यमंत्री पूर्ण रूप से गायों को सुरक्षा प्रदान करने में असफल रहे हैं और इस कारण वह गौ-हत्या के भी दोषी हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को याद दिलाया कि एक हिन्दू श्रद्धालु होने के नाते उन्हें अवश्य पता होगा कि इस प्रकार के अपराध का क्या पश्चाताप है? परंतु वह पश्चाताप अनिवार्य है।
उपराष्ट्रपति पद के लिए वेंकैया नायडू का समर्थन करेगी इनेलो - अभय चौटाला 

चंडीगढ़,18 जुलाई : नेता विपक्ष एवं इनेलो के वरिष्ठ नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने पार्टी सुप्रीमो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला से विचारविमर्श करने के बाद उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार एम. वेंकैया नायडू के समर्थन की घोषणा की है। वैकेंया नायडू से इनेलो के बहुत पुराने पारिवारिक संबंध हैं। 
उन्होंने कहा कि वेंकैया नायडू स्वयं एक किसान परिवार से आते हैं, उन्होंने हमेशा गरीब, किसान, मजदूर की आवाज उठाई है। पार्टी सुप्रीमो एवं हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला से उनके मधुर संबंध हैं। सांसद दुष्यंत चौटाला स्वयं वेंकैया नायडू का नामांकन पत्र भरवाने के लिए साथ गए हैं। 
इनेलो नेता ने कहा उन्होंने स्वयं एम. वैंकया नायडू को उपराष्ट्रपति की विजय के लिए अग्रिम बधाई दी है, श्री नायडू देश की अखंडता और राज्यों की भलाई के लिए हमेशा अग्रणी रहकर सेवा करेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वेंकैया नायडू केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री होते थे, उस समय चण्डीगढ़ में हरियाणा पंचायत भवन का उद्घाटन भी श्री नायडू और चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने किया था। उस दौरान हरियाणा के ग्रामीण विकास के लिए श्री नायडू ने दिल खोलकर मदद की थी। उनके हरियाणा के प्रति प्रेम को देखते हुए इनेलो उनको समर्थन करती है। वेंकैया नायडू दलगत राजनीति से ऊपर उठकर काम करने वाले व्यक्ति हैं, साथ ही उनका जीवन किसानों के लिए समर्पित है। देश के पूर्व उपप्रधानमंत्री जननायक चौधरी देवीलाल की नीतियों में वेंकैया नायडू की हमेशा अटूट श्रद्धा रही है।

Monday, July 17, 2017

रेलवे की मांगों को लेकर विधायक नैना चौटाला व सांसद रोड़ी ने लिखा रेलवे मंत्री को पत्र

डबवाली, 16 जुलाई : डबवाली की विधायक नैना सिंह चौटाला ने डबवाली रेलवे की समस्याओं व मांगों को गंभीरता से लेते हुए केन्द्रीय रेलवे मंत्री को पत्र लिखा है। पत्र में विधायक नैना चौटाला ने रेलवे मंत्री से विशेष तौर पर डबवाली में रेलवे अंडरब्रिज के निर्माण कार्य को पूरा करवाए जाने की अपील की है। पत्र में डबवाली रेलवे से संबंधित करीब दर्जन भर मांगों व समस्याओं को भी उठाया गया है। विधायक के साथ साथ सिरसा से सांसद चरणजीत रोड़ी ने भी रेलवे मंत्री को इन्हीं मांगों के लिए पत्र लिखा है। पत्र की एक कापी डी.आर.एम. बीकानेर को भी भेजी गई है। दरअसल डबवाली में नवनिर्मित रेलवे अंडरब्रिज का निर्माण कार्य काफी समय से बीच में रूका हुआ है जिसकी वजह से शहर के लोग बहुत परेशान है। इसको लेकर विधायक नैना चौटाला ने रेलवे मंत्री सुरेश प्रभू को पत्र लिख कर अवगत करवाया है कि डबवाली शहर रेलवे लाइन के कारण 2 भागों में बंटा हुआ है। इसके लिए 2 अंडरब्रिज की अति आवश्यकता है। लेकिन अभी शहर में एक ही अंडरब्रिज बना है और उसका भी काम अधुरा पड़ा है। इसलिए इसका निर्माण कार्य जल्द से जल्द पूरा करवाए जाए। इसके अलावा शहर के लोगों की सुविधा के लिए एक ओर अंडरब्रिज की आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसको लेकर भी रेलवे को तुरंत प्रभाव से कदम उठाने चाहिए। पत्र में विधायक ने वरिष्ठ पुरूष नागरिकों को स्त्री वरिष्ठ नागरिकों के बराबर 50 प्रतिशत किराए में छूट देने की मांग की है, जबकि अभी पुरूषों को केवल 33 प्रतिशत की ही छूट मिल रही है। इसके अलावा मांग की गई है कि डबवाली का रेलवे स्टेशन शहर के बीचों बीच है इसलिए सारा दिन आम लोग व स्कूली बच्चें पैदल ही रेलवे टैक के उपर से गुजरते रहते है इसलिए रेलवे टैक के उपर से फुटब्रिज बनाया जाए। साथ ही डबवाली का रेलवे स्टेशन जोकि एक आदर्श रेलवे स्टेशन बन चुका है पर ए.टी.एम. लगाने, साफ  पेयजल के लिए आर.ओ. सिस्टम लगाने की भी मांग भी विधायक व सांसद ने की है।
डबवाली को मिले ओर गाडिय़ां
पत्र में विधायक नैना चौटाला ने रेलवे मंत्री सुरेश प्रभू से डबवाली को गाडिय़ों की सुविधा ओर बढाए जाने की मांग की है। जिसके लिए उन्होंने मांग की है कि भठिंडा से जम्मू जाने वाली गाड़ी न. 19225-19226 को गंगानगर तक वाया डबवाली, हनुमानगढ, सादुलशहर तक बढाया जाए। इसके अलावा बीकानेर से दिल्ली सराय रौहल्ला जाने वाली गाड़ी को मलोट, अबोहर की बजाय वाया सादुलशहर, हनुमानगढ, डबवाली, भठिंडा से होकर दिल्ली चलाई जाए। क्योंकि मलोट, अबोहर साइड में कई गाडिय़ां चलती है। एक अन्य मांग में उन्होंने गाड़ी न. 19107 व 19108 जन्मभूमि एक्सप्रेस उधमपुर से अहमदाबाद, अहमदाबाद से उधमपुर  गाड़ी का डबवाली रेलवे स्टेशन पर 2 मिनट का ठहराव करवाया जाने की मांग की है। इसके अलावा मांग की गई है कि पैसेंजर गाड़ी न. 5470.4 जोधपुर से हनुमानगढ होते हुए डबवाली स्टेशन पर 3:45 बजे आती है। यह गाड़ी यहां से रवाना होकर एक घंटे में भठिंडा चली जाती है लेकिन इस गाड़ी को भठिंडा के आउटर सिंगनल पर रोक दिया जाता है जिससे इंटर सिटी गाड़ी जोकि 5:05 बजे प्रात भठिंडा से अंबाला जाती है उस गाड़ी से मेल नहीं हो पाता। कृपया इस गाड़ी को भठिंडा 5:00 बजे प्रात से पहले पहुंचाया जाए ताकि वहां से 4 बजे प्रात जाने वाली गाडिय़ां मिल सके। विधायक नैना चौटाला ने कहा है कि रेलवे मामूली फेरबदल करके इन गाडिय़ों की सुविधा डबवाली के लोगों को दे सकता है, जिससे क्षेत्र के बहुत लोगों को लाभ होगा।
इसके अलावा विधायक नैना चौटाला ने नांदेड़ साहिब के लिए सीधी गाड़ी चलाने की मांग भी की है। चूंकि डबवाली व इसके आसपास का क्षेत्र पंजाबी बैल्ट का है, जहां से बड़ी संख्या में श्रद्धालु नांदेड़ साहिब को जाते रहते है लेकिन अभी उन्हें इसके लिए भठिंडा जाकर गाड़ी पकडऩी पड़ती है। जबकि गंगानगर से हजूर साहिब नांदेड़ साहिब के लिए 3 दिन गाड़ी चलती है। विधायक ने मांग कि है कि इस गाड़ी को 2 दिन के लिए गंगानगर से वाया हनुमानगढ, संगरिया, मंडी डबवाली, भठिंडा होते हुए नांदेड़ साहिब के लिए चलाया जाए ताकि इस क्षेत्र के लोगों को नांदेड़ साहिब जाने में कठिनाई न हो।
सांसद दुष्यंत ने भिवानी रोहिला गाँव में शुरू किया पौधा रोपण अभियान 


सांसद दुष्यंत चौटाला ने आदर्श ग्राम योजना के तहत हिसार के गोद लिए गांव भिवानी रोहिला में पौधा रोपण अभियान की शुरूआत की। इस अभियान के प्रथम चरण में 300 पौधे लगाए गए। पौधा रोपण के बाद सांसद दुष्यंत चौटाला अचानक सरकारी स्कूल में पहुंचे और विद्यार्थियों से बतियाने लगे। सांसद ने वहीं पर बच्चों को एक-एक पौधा लगाकर उसकी देखभाल करने का संकल्प दिलाया। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने विद्यार्थियों से रूबरू होते हुए कहा कि पेड़-पौधे हमारे जीवन का अभिन्न अंग हैं। वर्तमान समय में ग्लोबल वार्मिंग के लिए लगातार पेड़ों का कम होना और उनके स्थान पर नए पौधे न लगाना भी एक प्रमुख कारण है। पेड़-पौधे न होने के कारण ही असामान्य बारिश होती है जिसका खमियाजा हमारे किसानों को भुगतना पड़ता है। पौधा रोपण का यह सर्वोत्तम समय है और आने वाले कुछ महीनों तक लगातार पौधा रोपण किया जा सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों से आह्वान किया कि वे अपने जन्मदिवस पर घर, खेत और आसपास के खाली पड़े स्थानों पर एक-एक पौधा अवश्य लगाए। इस अवसर पर विधायक रणबीर गंगवा, शहरी हलका प्रधान राजेंद्र चुटानी, होशियार सिंह सिंघरान, हरफूलखान भट्टी, पूर्व सरपंच जिले सिंह, कर्ण सिंह, राजा श्योराण, महेश सेठ सहित अन्य कार्यकत उपस्थित थे। 
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने रोजगार मेले के सफल आयोजन के लिए जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और पार्टी कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने इस मेले में पूरा सहयोग किया बल्कि पुलिस विभाग ने मेले की व्यवस्था बनाए रखने में पूरा सहयोग किया। युवा इनेलो और इनसो कार्यकर्ताओं ने सुबह से देर सायं तक कठिन मेहनत की और रोजगार मेले में आने वाले हजारों युवक-युवतियों को साक्षात्कार स्थल तक समय से पहुंचाने में मदद की।
देश की सुरक्षा एजेंसियों पर नहीं है सरकार का नियंत्रण - दुष्यंत चौटाला


कुरुक्षेत्र 15 जुलाई : केंद्रीय सरकार देश की आंतरिक व बाहरी सुरक्षा के मोर्चे पर पूर्णतया विफल रही है और उत्तर प्रदेश की विधानसभा में विस्फोटक मिलना सुरक्षा एजेंसियों की बहुत बड़ी चूक नाकामी है। इससे स्पष्ट है कि सुरक्षा व्यवस्था कमजोर है और सरकार का सुरक्षा एजेंसियों पर नियंत्रण नहीं है। यह आरोप इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने कुरुक्षेत्र के सैक्टर-8 में राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप के निवास स्थान पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए लगाया। यहां पहुंचने पर राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप तथा पार्टी के पदाधिकारियों ने पुष्प गुच्छ भेंट करके दुष्यंत चौटाला का स्वागत किया और सांसद कश्यप ने दुष्यंत चौटाला को स मान स्वरूप शॉल भेंट की। इस अवसर पर पार्टी प्रदेशाध्यक्ष के सुपुत्र हिमांशु अरोड़ा, जिला इनेलो प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, उप प्रधान सतबीर शर्मा, युवा इनेलो के जिला प्रधान सुनील राणा, इनसो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जसविंद्र खैरा, जगबीर मोहड़ी, राजू त्यौड़ा, युवा इनेलो के प्रदेश सचिव सुलतान ब्राह््मण माजरा, कुलदीप जखवाला, धर्म सिंह ढांडा एडवोकेट, इनेलो लीगल सैल के जिला प्रधान राहुल पूनिया एडवोकेट, डा जीत सिंह शेर, ओमप्रकाश कश्यप एडवोकेट तथा सतबीर ढांडा सहित अनेक पार्टी पदाधिकारी उपस्थित थे।
एक प्रश्न के उत्तर में सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उनकी पार्टी के सांसद एसवाईएल के मामले को लेकर नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से भेंट करेंगे और संसद के मानसून सत्र में इनेलो एसवाईएल का मुद्दा प्रभावी ढंग से उठाएगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा के सभी लिकेंज मेें पानी आना चाहिए। एसवाईएल की पंजाब में खोदाई करवाना सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार केंद्रीय सरकार की जि मेवारी है। एसवाईएल हरियाणा के लोगों की जीवनरेखा है और इनेलो एसवाईएल में पानी लाने के लिए कोई भी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगी। 


युवा चौपाल के बारे में जानकारी देते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि युवा वर्ग के लिए रोजगार सबसे बड़ी समस्या है। वे युवा चौपाल आयोजित करके युवा वर्ग को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने में लगे हुए हैं। एक प्रश्र के उत्तर में दुष्यंत चौटाला ने बताया कि अभी तक 100 से अधिक युवा चौपाल कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं। प्रदेश के प्रत्येक जिले में 6 युवा चौपाल कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। युवा शक्ति को संगठित करना इस कार्यक्रम का उद्देश्य है।
भाजपा सांसद राजकुमार सैनी द्वारा राज्यसभा समाप्त करने की मांग के संबध में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि लोकतंत्र में लोकसभा में निर्वाचित सदस्य जाते हैं, जबकि राज्यसभा में देश के बुद्धिजीवी व अपने अपने क्षेत्र की प्रतिभावान हस्तियां मिल बैठकर देश की समस्याओं पर चिंतन करती हैं। इसलिए जो लोग राज्यसभा को समाप्त करने की मांग कर रहे हैं वे लोकतंत्र के विरोधी हैं। यदि ऐसे लोगों का वश चले तो वे लोकतंत्र को ही समाप्त कर दें।
इस अवसर पर राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप ने कहा कि वे पार्टी के निर्देशानुसार एसवाईएल के मुद्दे को राज्यसभा में उठाएंगे। उन्होंने कहा कि वे पहली बार राष्ट्रपति तथा उप राष्ट्रपति के चुनाव में अपने वोट का प्रयोग करेंगे और पार्टी द्वारा लिए गए निर्णयानुसार राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी रामनाथ कोविंद के पक्ष में मतदान करेंगे।

रोगजार मेले में पहुंचे सैंकड़ों युवाओं ने सांसद दुष्यंत  का जताया आभार 


हिसार, 14 जुलाई : निजी क्षेत्र में नौकरी पाने के लिए हजारों बेरोजगार युवक-युवतियों की भारी भीड़ रोजगार मेले में उमड़ी। सांसद दुष्यंत चौटाला द्वारा लगाए गए रोजगार मेले के लिए 12 हजार से अधिक लोगों ने अपना पंजीकरण करवाया था परन्तु मेले में पंजीकृत के अलावा भी सैकड़ों युवक इस मेले में पहुंचे। इन युवाओं को रोजगार देने के लिए देश भर की नामी-गिरामी 16 कंपनियोंं ने मेले में पहुंच कर हजारों युवक-युवतियों का साक्षात्कार लिया। पंचायत भवन में सांसद दुष्यंत चौटाला ने रोजगार मेले का उदघाटन किया। इस अवसर पर रोजगार सेवा प्रदान करने वाली कंपनी सेंटम की उत्तर क्षेत्र की बिजनेस हेड अनुपमा लूथरा भी उपस्थित थी। 
इनेलो सांसद ने कहा कि युवा चौपाल के दौरान हजारों युवक रोजगार की मांग को लेकर उनसे मिलते थे। तब से उनके मन में युवाओं को रेाजगार दिलवाने की तीव्र इच्छा थी। उन्होंने बेबाक कहा कि यह उनका पहला प्रयास है और भविष्य में वे इस प्रकार के और आयोजन भी करेंगे। सांसद ने कहा कि इस मेले की शुरूआत में विभिन्न कंपनियों से 4 हजार नौकरियां उपलब्ध थी लेकिन साक्षात्कार के लिए पंजीकरण की संख्या में भारी इजाफा होने के बाद उन्होंने विभिन्न कंपनियों के मुखियाओं से बात की और कंपनियों ने हजारों खाली पदों के लिए अपनी सहमति जताई है। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्रों में नौकरियों की न केवल अपार संभावनाएं हैं बल्कि मेहनत करने वालों के लिए उन्नति के अनंत अवसर भी हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को जीवन में आगे बढऩे के लिए एक बार घर और जिले से दूर रहने की आदत डालनी चाहिए। 


इनेलो सांसद ने कहा कि नौकरी कोई छोटी-बड़ी नहीं होती। निजी क्षेत्र में हर बड़े उद्यमी या कारोबारी ने अपने जीवन की शुरूआत एक छोटी नौकरी अथवा उद्यमी से की होती है। उन्होंने कहा कि इस तरह के रोजगार मेलों से युवाओं को अपनी काबिलियत दिखाने का मौका मिलता है। रोजगार मेले में जिला प्रधान राजेंद्र लितानी, पूर्व मंत्री सुभाष गोयल, विधायक रणबीर गंगवा, अनूप धानक व वेद नारंग, शीला भ्याण, पूर्ण सिंह डाबड़ा,  एसडीएम अशोक बंसल व राजसिंह मोर सहित अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
युवा न केवल सरकारी नौकररियों के लिए क्रेज नहीं बल्कि निजी क्षेत्र की नौकरियों की ओर भी हरियाणा के युवा आकर्षित हो रहे हैं। आज मेले में उमड़ी भारी भीड़ से यह साबित हो गया। इस रोजगार मेले में न केवल शहरी क्षेत्रों से युवा साक्षात्कार पहुंचे बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों से युवाओं के साथ साथ युवतियां भी बड़ी संख्या में निजी कंपनियों में रोजगार पाने के लिए पंचायत भवन पहुंची। निजी क्षेत्र में अपनी सेवाओं देने प्रति बेरोजगार युवकों का क्रेज इस कदर था कि भारी उमस व गर्मी के बावजूद युवा लंबी-लंबी कतारों में खड़े रहे। निजी कंपनियों ने साक्षात्कार लेने की प्रक्रिया आज सुबह आठ बजे ही शुरू कर दी थी और देर सायं तक साक्षात्कार की प्रक्रिया जारी थी। नौकरी के लिए पंजीकरण करवाने वाले हर आवेदक का साक्षात्कार लिया गया। 
रोजगार मेले में पहुंची सेंटम की क्षेत्रीय बिजनेस अधिकारी अनुपमा लूथरा ने रोजगार मेला लगाने के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला की सराहना की। उन्होंने कहा कि देश भर में उन्होंने किसी भी सांसद या विधायक को विपक्ष में रहते हुए इस प्रकार का आयोजन करते हुए पहली बार देखा है। उन्होंने कहा कि इस मेले में आकर उन्हें न केवल सांसद दुष्यंत चौटाला की बेरोजगार युवकों को रोजगार दिलवाने के उत्साह को नजदीक से देखने को मिला है बल्कि यहां साक्षात्कार के लिए युवाओं के क्रेज को देखकर दंग रह गई। उन्होंने विश्वास दिलवाया कि युवा सांसद द्वारा भविष्य में भी इस प्रकार के आयोजन करवाते हैं तो वह उसमें सहयोग के लिए तत्पर रहेंगी। 
नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने पीएम को लिखा पत्र, कहा पंजाब के कुछ राजनैतिक दल एसवाईएल के मुद्दे को उठाकर राजनैतिक वातावरण बिगाड़ने का प्रयास कर रहे है   


चंडीगढ़, 14 जुलाई: विपक्ष के नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखकर उनका ध्यान पंजाब में कुछ राजनैतिक दलों द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की उल्लंघना करते हुए वहां के राजनैतिक वातावरण को बिगाडऩे का प्रयास किया जा रहा है।
उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के तीन न्यायधीशों की बेंच द्वारा सुनी जा रही हरियाणा की उस याचिका की ओर ध्यान दिलाया जिसमें सतलुज-यमुना लिंक नहर को बनवाने बारे सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदेश दिए गए थे। अपने आदेश में विद्वान न्यायधीशों ने कहा कि जब वह न्यायालय किसी डिक्री के आदेश देता है तो उसका सम्मान और पालन भी होना चाहिए। किन्तु यह देखते हुए कि दोनों राज्यों के बीच किसी समझौते पर पहुंचने के लिए आपसी बातचीत चल रही है तो न्यायालय ने उन्हें किसी समझौते पर पहुंचने के लिए कुछ समय दिया है। न्यायालय ने यह भी कहा कि यह देखते हुए हुए कि नदी जल विवाद और एसवाईएल का निर्माण न्यायालय के विचाराधीन है, इसलिए ऐसे समय में पंजाब और हरियाणा दोनों को यह निर्देश दिया जाता है कि उनके राज्यों में इस विषय को लेकर कोई आंदोलन न हो। इसके अतिरिक्त न्यायालय ने देश के नागरिकों को उनके उस कर्तव्य का भी ध्यान दिलाया जिसका पालन उन्हें उस स्थिति में करना चाहिए जब कोई विवाद का विषय न्यायालय के विचाराधीन होता है। नेता विपक्ष ने प्रधानमंत्री को यह जानकारी भी दी कि दोनों राज्यों के एडवोकेट जनरलों ने यह विश्वास दिलाया है कि सर्वोच्च न्यायालय के इन निर्देेशों बारे पूरी जानकारी अपनी-अपनी राज्य सरकारों को दे दी जाएगी। 
नेता विपक्ष ने इस संदर्भ में कहा कि उन्हें खेद है कि जैसे ही सर्वोच्च न्यायालय ने इस प्रकार के निर्देश दिए, वैसे ही पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री स. प्रकाश सिंह बादल ने एक सार्वजनिक बयान देकर कह डाला कि पंजाब हरियाणा को एक भी बंूद पानी नहीं देगा। पंजाब के एक अन्य विपक्षी दल, लोक इंसाफ पार्टी ने भी यह घोषणा कर दी है कि एसवाईएल नहर बनाने की स्थिति में वह जेल भरो आंदोलन प्रारम्भ करेगी।
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने यह भी कहा कि इन बातों को देखते हुए यह स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि पंजाब में सर्वोच्च न्यायालय मान-सम्मान और अधिकारों को चुनौती देने के लिए कमर कसे हुए हैं। इसके विपरीत हरियाणा में सभी राजनैतिक दल इस बात पर सहमत हैं कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दी गई डिक्री का तुरंत पालन होना चाहिए। नेता विपक्ष ने यह चिंता भी प्रधानमंत्री को जताई कि पंजाब में कुछ राजनैतिक दलोंं द्वारा इस क्षेत्र के वातावरण को बिगाडऩे का प्रयास किया जा रहा है। परंतु सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार पंजाब में शांति बनाए रखने का दायित्व पंजाब के मुख्यमंत्री का है। इस निर्देश को ध्यान में रखते हुए चौधरी अभय सिंह चौटाला ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि वह पंजाब के मुख्यमंत्री पर दबाव बनाएं ताकि कोई ऐसा कदम पंजाब में न उठाया जाए जिसकी विपरीत प्रतिक्रिया हरियाणा में हो।

Thursday, July 13, 2017


सांसद दुष्यंत चौटाला ने गाँव धनकोट व् घामड़ौज में लगाई युवा चौपाल 



गुड़गांव 13 जुलाई : इंडियन नैशनल लोकदल के युवा चौपाल कार्यक्रम के तहत आज गड़गांव के गांव धनकोट व घामड़ौज में पंहुचे देश के सबसे युवा सांसद दुष्यन्त चौटाला। वहीं इनेलो के युवा प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेन्द्र तंवर की ताई के आकस्मिक निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए उनके निवास स्थान गांव रामगढ पंहुचकर शोक संवेदना प्रकट की। उक्त जानकारी पार्टी जिला प्रवक्ता कपिल त्यागी ने प्रैस के नाम जारी विज्ञप्ति में दी। इस अवसर पर गांव में पंहुचने पर श्री चौटाला का फूल मालाओं व ग्रामवासियों द्वारा सम्मान की प्रतीक पगड़ी बांधकर जोरदार स्वागत किया। युवा कार्यकर्ताओं ने ढोल नगाड़े बजाकर श्री चौटाला के साथ रोड़ शो कर युवा चौपाल कार्यक्रम में पंहुचे। 


कार्यक्रम से पहले गांव के मन्दिर में इनेलो नेताओं व कार्यकर्ताओं द्वारा पौधारोपण किया गया। श्री चौटाला ने गांव घामड़ौज में शहीदों की प्रतिमा पर माला पहनाकर शहीदों को नमन किया। उक्त कार्यक्रम में श्री चौटाला ने बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश व प्रदेश में सत्ता में आने से पहले भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में साफ लिखा था कि यदि देश व प्रदेश में भाजपा की सरकार आती है तो प्रतिवर्ष लगभग 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का काम करेंगे परन्तु लगभग 3 साल बीत जाने के उपरान्त युवा आज रोजगार को लेकर दर दर की ठोकर खाने पर मजबूर हो रहे है। भाजपा के सभी चुनावी वायदे चुनावी जुमले साबित हो रहे है।


श्री चौटाला ने कहा कि आज हरियाणा प्रदेश में बिजली, पानी, सड़क, सीवर, शिक्षा, चिकित्सा, कानून व्यवस्था का दिवाला पिट चुका है और प्रत्येक वर्ग चाहे किसान, मजदूर, व्यापारी व कर्मचारी भाजपा की गलत नीतियों के कारण आये दिन धरना प्रदर्शन कर सरकार को कोसने का काम कर रहे हैं परन्तु भाजपा सरकार के कानों तले जूं तक नहीं रेंगी। इससे साफ जाहिर होता है कि ये सरकार जनविरोधी सरकार है व हरियाणा की जनता के हितों से इन्हें कोई लेना देना नहीं है। युवा सांसद ने कहा कि हरियाणा में स्थित कंपनियों में हरियाणा के युवाओं को 50 प्रतिशत रोजगार सुनिश्चित करने के लिए आगामी 14 जुलाई को हिसार में रोजगार मेला का आयोजन किया जा रहा है जिसमें 4000 युवाओं को नौकरी देने का काम करेंगे। इस मेले में लगभग 12 कंपनियां हिस्सा ले रही है। उन्होंने बताया कि रोजगार मेले के लिए न तो कोई रजिस्ट्रेशन फीस है और ना ही कोई फाईल चार्ज लिया जायेगा। 


श्री चौटाला ने कहा कि हिसार में आयोजित रोजगार मेले के सफल आयोजन के उपरान्त प्रदेश के प्रत्येक जिले में इसी प्रकार के मेलों का आयोजन कर प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने का काम करेंगे। इस अवसर पर इनेलो के वरिष्ठ नेता एंव पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनन्तराम तंवर, युवा प्रदेश प्रभारी प्रदीप गिल, जिलाध्यक्ष किशोर यादव, प्रधानमहासचिव रमेश दहिया, हल्काध्यक्ष रिषीराज राणा, शैलेश खटाणा चैयरमैन, महेश चौहान, अटलबीर कटारिया, बेगराज गुर्जर, दलबीर धनखड़, कपिल त्यागी, सतीश राघव, पवन धनकोट, रविन्द्र काले प्रधान, दीपक राघव,दिनेश सहरावत सरपंच, कृष्ण प्रधान गाड़ौली, योगेश शर्मा, अमरपाल राठी, नरेश सहरावत, गौरव छौक्कर, ओमबीर नाहरवाल, पवन मैम्बर, जबरसिंह कटारिया, उपेन्द्र राघव, विजय डागर, प्रवीन राघव, रामफल कटारिया, दीपक राघव, अशोक यादव सरपंच, ज्ञान सरपंच, रमेश पूर्व सरपंच, शाहिल शर्मा, बन्टी, नगेन्द्र डागर, विनोद चौहान, राजेश डागर, योगेन्द्र घंघोला, दीपक डागर, सुभाष तंवर, राजबीर बालियावास, हरनेक सिंह, सहित सैंकड़ों युवा कार्यकर्ता एंव पदाधिकारी मौजूद थे।
एफएसए के खेल में बिजली की दरें बढ़ाने की फिराक में सरकार - अभय सिंह चौटाला
चंडीगढ़, 13 जुलाई: नेता विपक्ष एवं इनेलो के वरिष्ठ नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर सरकार एफएसए (फ्यूल सरचार्ज एडजेेस्टमेंट) के खेल में बिजली की दरें बढ़ाना चाहती है, यदि सरकार ने बिजली की दरें बढ़ाकर प्रदेश की जनता की जेबों पर डाका डालने का काम किया तो इनेलो इस फैसले को बर्दाश्त नहीं करेगी।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि सरकार यह कह रही है कि उन्होंने एफएसए घटा दिया है और पहली जुलाई से 37 पैसे प्रति यूनिट ही एफएसए लिया जाएगा। हैरानी होती है जब अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में डीजल, कोयले के दाम घटे हैं और केंद्र सरकार भी दावा करती है कि अब कोयले की क्वालिटी में भारी सुधार हुआ है और बिजली उत्पादन सस्ता हुआ है। खुद केंद्रीय बिजली मंत्री पीयूष गोयल यह कहते हैं कि पहले से बिजली बहुत सस्ती हो गई है। अब जब बिजली सस्ती हुई है तो एफएसए किस बात का? यह तो वैसे ही खत्म हो जाना चाहिए।
नेता विपक्ष ने कहा कि हरियाणा तो वैसे भी ज्यादातर बिजली बाहर से प्राइवेट बिजली कंपनियों से खरीदती है तो एफएसए लेने का सवाल ही पैदा नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अब सरकार बिजली की दरों में वृद्धि कर व एफएसए कम बताकर लोगों की आंखों में धूल झोंकना चाहती है, जिसे इनेलो सहन नहीं करेगी।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में बिजली वैसे ही नहीं मिलती, मुश्किल से दो घंटे बिजली रहती है, ऊपर से सरकार कहती है कि बिजली उनके पास सरप्लस है तो फिर यह सरप्लस बिजली गांवों में क्यों नहीं दी जाती? सरकारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश के पास 10963 मेगावाट बिजली का प्रबंध है और सरकार दावा करती है कि उनको 8000 से 8500 मेगावाट बिजली की जरूरत है तो ऐसे में 2500 से 3000 मेगावाट बिजली सरप्लस है। यह सरप्लस बिजली तुरंत ग्रामीण क्षेत्र में दी जाए।
नेता विपक्ष ने कहा कि सरकार बगैर बिजली लिए इन कई प्राइवेट बिजली कम्पनियों को कई हजार करोड़ रुपए फिक्स चार्ज के नाम का दे रही है तो इस बिजली का इस्तेमाल क्यों नहीं किया जा रहा। उन्होंने कहा कि आज 37286 किसान ट्यूबवैल के लिए बिजली का कनेक्शन मांग रहे हैं, उनको डार्क जोन का बहाना बनाकर बिजली कनेक्शन देने के लिए मना कर दिया जाता है और उनकी लाखों रुपए सिक्योरिटी सरकार सालों से लिए हुए है। सरकार बिजली उपभोक्ताओं को महंगी बिजली देकर, बिजली कम्पनियों को फायदा पहुंचाना चाहती है।
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि सरकार को प्राइवेट बिजली कंपनियों की तो फिक्र है लेकिन ग्रामीणों और किसानों की कोई चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने बिजली की दरें बढ़ाई तो इनेलो इसके खिलाफ सडक़ों पर उतरने से भी गुरेज नहीं करेगी।

Wednesday, July 12, 2017


आज से इनेलो का सदस्यता अभियान शुरू 


सिरसा 12 जुलाई: इनेलो कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को पार्टी का सदस्य बनायें, तथा पार्टी का  संदेश आमजन तक पहॅुचाऐ। यह बात इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन ने इनेलो कार्यालय में पार्टी सदस्यता अभियान आरम्भ करते हुए कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कही। जैन ने कहा कि आज से इनेलो का सदस्यता अभियान आरम्भ हो गया है, तथा पार्टी कार्यकर्ता आम आदमी से मिलकर पार्टी की जनहितेषी नितियों को बताते हुए उन्हें पार्टी का प्राथमिक सदस्य बनायें। जिलाध्यक्ष ने कहा कि संगठन को मजबूत बनाने में कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका होती है और कार्यकर्ताओं कि मेहनत के  बदौलत ही पार्टी सत्ता में आती। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि जिस प्रकार एस.वाई.एल के मुद्दे पर नेता प्रतिपक्ष चौ० अभय सिंह चौटाला की एक आवाज पर रास्ता रोको आन्दोलन की कामजाबी कार्यकर्ताओं के कारण हुई। जिलाध्यक्ष ने कहा कि कार्यकर्ता जी-जान से जुट जाऐ ताकि आने वाला समय इनेलो का है और जनता इनेलो को सत्ता में देखना चाहती है। इस मौके पर हल्का सिरसा विधायक मक्खन लाल सिंगला, शहरी उपाध्यक्ष कृष्ण गर्ग, प्रदीप मैहता, डा. हरी सिंह भारी, महावीर शर्मा, सुशील कम्बोज, धर्मपाल फ ौजी, वेद प्रकाश वधवा, श्याम लाल इन्दौरा, मुक्तयार सिंह कम्बोज, हेमकांत शर्मा, धर्मपाल कायत, रामस्वरूप जोरसिया, ेेेेेेेेेेसुरेश दड़वा, जग्गा सिंह, विजय वर्मा, प्रहलाद सोनी, शाम बामनिया आदि इनेलो कार्यकर्ता मौजूद थे।   














Tuesday, July 11, 2017

पंजाब न माने तो प्रधानमंत्री करवाएं एसवाइएल नहर का निर्माण - दुष्यंत

हिसार, 11 जुलाई : इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि पंजाब सरकार को सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों को मानते हुए अपने हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण कार्य तुरंत शुरू करना चाहिए। यदि पंजाब सरकार सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों पर अमल नहीं करती है तो माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आगे आकर इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए हरियाणा के हकों की रक्षा के लिए आगे आना चाहिए। सांसद ने यह मांग आज सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद की। उन्होंने कहा कि यदि अब पंजाब स्वयं एसवाईएल नहर का निर्माण नहीं करवाती है तो केंद्र सरकार को पेरा मिल्ट्री फोर्स लगाकर अथवा अन्य किसी एजेंसी से एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाए। 
इनेलो सांसद ने कहा कि हरियाणा के किसान पिछले चार दशकों से अपने हक के पानी के लिए तरस रहे हैं। अब माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले पर फैसला देते हुए पंजाब सरकार को उसके हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा अपने हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण पहले ही कर चुका है और अब पंजाब के हिस्से की एसवाईएल नहर का निर्माण चार दशकों से अधूरा पड़ा है। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनेलो एसवाईएल नहर का पानी लाने के लिए लगातार आंदोलनरत है और कल भी हरियाणा पंजाब सीमा पर पांच स्थानों पर इनेलो कार्यकर्ताओं ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर अपनी मांग रखी, इसके लिए इनेलो कार्यकर्ता बधाई के पात्र हैं। उन्होंने इस मुद्दे पर माननीय सर्वोच्च अदालत द्वारा अगली सुनवाई दो माह बाद करने बारे अपनी टिप्पणी करते हुए कहा कि वह हरियाणा सरकार से मांग करते हैं कि अपने अधिवक्ता के माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय से जल्द तारीख रखने की अपील करे जिससे कि एसवाईएल नहर के जल बंटवारे की पर सुनवाई शुरू हो सके। 
सांसद दुष्यंत चौटाला हरियाणा के पांचों सांसदों को एक मंच पर लाकर पीएम से करेंगे मुलाकात: सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एसवाईएल नहर का पानी हरियाणा में लाने के लिए प्रदेश के राजनीतिज्ञ राजनीति से ऊपर उठकर काम करें ताकि प्रदेश के किसानों का भला हो सके। उन्होंने कहा कि 17 जुलाई से शुरू हो रहे मानसून सत्र में वह दलगत राजनीति से उपर उठ कर एसवाईएल के मुद्दे पर हरियाणा के सभी दलों के राज्यसभा और लोकसभा सांसदों से स्वयं मुलाकात करेंगे और एसवाईएल के मुद्दे पर एकजुट होने का आह्वान करेंगे। उन्होंने कहा कि वह सभी सांसदों को एकजुट होकर माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर हरियाणा को उसके हक का एसवाईएल नहर का पानी दिलवाने के लिए हस्तक्षेप की मांग करनी चाहिए। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार के अनुसार भी हरियाणा का भू-जल स्तर लगातार नीचे चला गया और इसके 80 प्रतिशत हिस्से को डार्क-जोन घोषित कर दिया गया है। इसलिए हरियाणा के लिए एसवाईएल नहर का पानी अति आवश्यक है।
इनेलो चलाएगी जनजागरण अभियान - अभय सिंह चौटाला 


चंडीगढ़, 11 जुलाई: आज यहां प्रेस को सम्बोधित करते हुए नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने इंडियन नेशनल लोकदल  (इनेलो) की किसानों के प्रति प्रतिबद्धता को एक बार फिर दोहराया। उन्होंने कहा कि यह प्रतिबद्धता इनेलो को चौधरी देवीलाल जी से विरासत के रूप में मिली है और इसी कारण वह तुरंत एक जनजागरण अभियान प्रारम्भ करने जा रहे हैं ताकि कृषि क्षेत्र से जुड़ी समस्याओं का समाधान ढूंढने के लिए सरकार पर दबाव बनाया जा सके। 
इस अभियान के दौरान इनेलो इस बात पर बल देगा कि जब तक स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित कर उसे किसानों को नहीं दिया जाता तब तक किसानों के सारे कर्जे माफ किए जाएं। इनेलो के अभियान में किसानों का शोषण करने वाली फसल बीमा योजना को रद्द करवाना भी होगा। नेता विपक्ष ने बताया कि फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों से लगभग 17 हजार करोड़  रुपए सरकार ने ऐंठकर बीमा कम्पनियों को दिए हैं। बदले में इन कम्पनियों ने मात्र छह हजार करोड़ रुपए का मुआवजा ही किसानों को दिया है। इनेलो की मांग होगी कि किसानों का शोषण करने वाली इस योजना को समाप्त किया जाए और इसके स्थान पर एक किसान राहत कोष स्थापित किया जाए जो किसानों को उनकी फसल की भरपाई कर सके एवं प्राकृतिक आपात की स्थिति में मुआवजा दे सके। ट्रैक्टरों, कृषि उपकरणों सहित खादों पर लगाए गए जीएसटी को समाप्त करवाना भी इनेलो के जनजागरण अभियान की प्राथमिकता होगी। 
यह जनजागरण अभियान आगामी 25 सितम्बर तक रहेगा और उसी दिन चौधरी देवीलाल जी के जन्मोत्सव के दौरान भविष्य के अभियान एवं योजना को स्वरूप दिया जाएगा। उन्होंने यह कहा कि यह सत्य है कि कर्जा माफी किसानों के दुखों का स्थायी अंत नहीं कर सकती। परंतु जब तक उनको उनके लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत का मुनाफा नहीं दिया जाता तब तक कर्जा माफी के द्वारा ही उसके दुख और दर्द को कम किया जा सकता है। 
श्री अभय सिंह चौटाला ने कहा कि एसवाईएल नहर का मुद्दा किसानों के कल्याण के साथ बहुत गहरा जुड़ा हुआ है। इसी कारण इनेलो का यह संकल्प है कि जब तक इस नहर के माध्यम से उसके अधिकार का नदी जल हरियाणा के खेतों में नहीं पहुंचता तब तक उसका संघर्ष जारी रहेगा। भारत के सर्वोच्च न्यायालय में अपनी आस्था जताते हुए उन्होंने इस बात का आभार व्यक्त किया कि सर्वोच्च न्यायालय ने पहले ही हरियाणा के पक्ष में इस मुद्दे पर अपना निर्णय दे दिया है और अभी भी वह प्रयासरत है कि पंजाब और भारत सरकार उसके निर्णय का अक्षरश: पालन करें।
नेता विपक्ष ने पूर्व मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर के बीच बताई गई मुलाकात की चर्चा करते हुए उन पर आपसी मिलीभगत का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि एक तरफ पूर्व मुख्यमंत्री यह दावा कर रहे हैं कि मुख्यमंत्री खट्टर ने उन्हें एसवाईएल के मुद्दे को लेकर विचारविमर्श के लिए आमंत्रित किया था, परंतु न तो मुख्यमंत्री और न ही उनके कार्यालय ने इस विषय बारे कोई टिप्पणी की है। किन्तु यदि यह सत्य है तो उन्होंने इस बात पर आपत्ति जताई कि इस मुद्दे पर यदि कोई बातचीत मुख्यमंत्री द्वारा किसी से की जा रही थी तो उसमें नेता विपक्ष, कांग्रेस संसदीय दल के नेता या कांग्रेस पार्टी के राज्याध्यक्ष को आमंत्रित किया जाना चाहिए था। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि इस विषय पर वह स्पष्टीकरण दें ताकि एसवाईएल जैसा मुद्दा अटकलों का शिकार न हो। 
उन्होंने हरियाणा के लोगों का धन्यवाद देते हुए आभार व्यक्त किया कि अभी हाल में एसवाईएल को लेकर चलाए गए इनेलो के अभियान में उनका भरपूर समर्थन और साथ रहा है। इस अवसर पर श्री अभय सिंह चौटाला ने कल अमरनाथ यात्रा के पश्चात घर लौट रहे तीर्थ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले में सात लोगों की मौत की भी कड़ी निंदा करते हुए पीडित परिवारों से संवेदना प्रकट की। उन्होंने जम्मू कश्मीर राज्य मानवाधिकार आयोग की भी इस बात को लेकर निंदा की कि उसने उस व्यक्ति को दस लाख रुपए मुआवजा देने की सिफारिश की है जिसे सेना के एक अधिकारी ने इसलिए ढाल बनाया था ताकि अनेक लोगों की जानों को बचाया जा सके। इस प्रकार के मुआवजे का सुरक्षाकर्मियों सहित सेना के मनोबल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

Monday, July 10, 2017

पंजाब का एक भी वाहन नहीं घुसने दिया हरियाणा सीमा में



चंडीगढ़। नेता प्रतिपक्ष एवं इनेलो के वरिष्ठ नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने सबसे पहले पार्टी के निष्ठावान और समर्पित कार्यकर्ताओं का धन्यवाद किया जिनको नहीं तो लाठियों की परवाह थी और नहीं गोलियों की चिंता थी, अपनी जान हथेली पर रखकर भारी संख्या में आए कार्यकर्ताओं ने हरियाणा सीमा में पंजाब का एक भी वाहन नहीं घुसने दिया। पार्टी के हजारों कार्यकर्ताओं ने यह जता दिया कि अब केंद्र सरकार को एसवाईएल के मामले में मध्यस्थता कर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लागू करवाकर हरियाणा के हिस्से का पानी दिलवाना होगा। प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने अफसरों के जरिए इनेलो कार्यकर्ताओं को कानून व्यवस्था के नाम पर डराने का काम किया, लेकिन 8 जुलाई को घोषणा कर दी थी कि हम गोलियों से डरने वाले लोग नहीं हैं हर हाल में हरियाणा सीमा में पंजाब के वाहनों को नहीं आने दिया जाएगा। आज हरियाणा पंजाब से कोई भीख नहीं मांग रहा है, बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है। एसवाईएल किसी एक पार्टी का मुद्दा नहीं है, यह पूरे प्रदेश के लोगों का सांझा मामला है, लेकिन कांग्रेस और बीजेपी के लोग बंद कमरों में बैठकर झूठी प्रेस रिलीज करके प्रदेश के लोगों का इस मामले में मनोबल गिराने का काम करते हैं। ये दोनों पार्टियां बोर्डर क्रास करते ही दूसरी भाषा  बोलते हैं, इनेलो पार्टी ने 10 जुलाई का बंद सफलतापूर्वक करके हरियाणा की खट्टर सरकार को भी हिलाकर रख दिया। जो प्रदेश का मुख्यमंत्री एसवाईएल के मामले में आज तक प्रधानमंत्री से मिलने का समय नहीं ले सका हो उसके हाथों में हरियाणा के हित सुरक्षित नहीं है।  


अभय  सिंह चौटाला ने पुन: पार्टी कार्यकर्ताओं का आभार  प्रकट करते हुए सभी पदाधिकारियों का धन्यवाद किया जिन्होंने अपनी डयूटी को पूरी गम्भीरता और निष्ठा से निभाया। उन्होंने कहा कि इनेलो ऐसी पार्टी है जिसके पास हजारों की संख्या में ऐसे-ऐसे कार्यकर्ता हैं जो सरकार की लाठियों और गोलियों से भी  नहीं डरते। सरकार ने तो पैरामिल्ट्री फोर्स बुलाकर पार्टी के कार्यकर्ताओं को भयभीत करने का काम किया, लेकिन पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इस बंद को सफल करके हरियाणा सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार तक को यह बता दिया कि इनेलो दूसरी पार्टियों की तरह अपने प्रदेश के हित गिरवी नहीं रखती। आज हरियाणा का किसान बेहाल है उसके टयूबवेलों का जलस्तर निरंतर नीचे जा रहा है और सरकार 37 हजार से अधिक किसानों का टयूबवेल के लिए बिजला का कनेक्शन नहीं दे रही है और प्रदेश का 60 प्रतिशत से अधिक हिस्सा डार्क जोन में चला गया है। ऐसे में एसवाईएल ही हरियाणा को एक आशा की किरण दिखती है, लेकिन दुख की बात है कि इस सांझे मुद्दे पर कांग्रेस और बीजेपी के नेता कटाक्ष तो करते हैं लेकिन जहां साथ खड़ा होना चाहिए वहां पर साथ नहीं खड़े होते, और  राजनीतिक रोटियां सेकते हैं। अभय सिंह चौटाला ने पार्टी अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला, सांसद चरण जीत सिंह, सरदार जसविंदर सिंह संधु, पूर्व सीपीएस रामपाल माजरा सहित तमाम पार्टी नेताओं को इस बंद को सफल बनाने के लिए शुभकामनाएं दी।
दुष्यंत ने लिखा कॉलेजों का पत्र, जॉब फेयर का उठाएं लाभ

हिसार : हिसार के पंचायत भवन में लगने वाले जॉब फेयर के लिए सांसद चौटाला ने हिसार जिले के सभी कॉलेज प्रिंसिपल को पत्र लिखा है। पत्र में सांसद चौटाला ने कहा है कि 14 जुलाई को प्रस्तावित जॉब फेयर की सूचना ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थियों को दें ताकि वह इस मेले का फायदा उठा सकें। सांसद ने हिसार जिले स्थित सभी सरकारी आईटीआई एवं पॉलिटेक्निक कॉलेज को भी पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि उनके संस्थान में पढऩे वाले छात्र छात्राओं को जॉब फेयर के बारे में ज्यादा जानकारी दें ताकि वे फार्म भरकर नौकरी पा सकें। सांसद चौटाला ने जींद तथा भिवानी के अतिरिक्त उपायुक्त को भी इस संबंध में पत्र लिखा है तथा दोनों अतिरिक्त उपायुक्तों से आग्रह किया है कि वह बवानीखेड़ा तथा उचाना विधानसभा में रोजगार मेले का ज्यादा से ज्यादा प्रचार करवाएं ताकि इस मेले का फायदा गांव में रहने वाले आम विद्यार्थी तक पहुंच सके। विदित रहेगी हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला पंचायत भवन में 14 जुलाई को एक जॉब फेयर का आयोजन कर रहे हैं ।इस जॉब फेयर में चार हजार युवाओं को नौकरी दी जाएगी ।सांसद चौटाला ने अपने प्रयास से देश की नामी गिरामी कंपनियों से संपर्क साधा था और उन कंपनियों ने सांसद को आश्वासन दिया था कि हिसार लोकसभा के युवाओं को नौकरी लगाएंगे।

Saturday, July 8, 2017

श्रम प्रकोष्ठ के संगठन को किया जाएगा मजबूत - विद्यानंद लाम्बा


इनैलो पार्टी के श्रम प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष विद्यानंद लाम्बा ने श्रम प्रकोष्ठ जिला सोनीपत की बैठक सैक्टर 12 में करते हुए कहा कि एसवाईएल पर हरियाणा का हक़ है और इनेलो पार्टी इसका पानी हरियाणा को दिलाकर रहेगी। लाम्बा ने कहा कि भाजपा सरकार किसान विरोधी सरकार है। आज पूरे देश का किसान परेशान है और आत्महत्या करने पर मजबूर है। सरकार को किसानों व आम जन की कोई चिंता नहीं है। भाजपा सरकार ने चुनावों से पहले जनता से लम्बे-लम्बे वायदे किए लेकिन सरकार बनने के बाद सभी वायदे खोखले साबित हुए। उन्होंने जीएसटी लागू करने पर भी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जीएसटी लागू होना भी किसान विरोधी एक और फरमान है। किसानों के प्रयोग होने वाली पैट्रोल व डीजल को छोड़कर सभी चीजों पर टैक्स बढ़ा दिया गया है तथा पैट्रोल व डीजल को जीएसटी से बाहर रखा गया है क्योंकि अगर पैट्रोल व डीजल भी जीएसटी में आते तो उनकी कीमत 40-41 रुपये प्रति लीटर होती। इस मौके पर श्रम प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष राजेन्द्र मलिक, सुरेश त्यागी, कुणाल गहलावत, सरदार मनजीत सिंह, सतीश दहिया, जसमेर मोहाना आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे। 
एसवाईएल निर्माण के लिए कुर्बानी देने से भी पिछे नहीं हटेगें युवा कार्यकर्ता - कुणाल गहलावत


सोनीपत, 8 जुलाई: इनेलो पार्टी ने 10 जुलाई के आंदोलन के लिए तैयारी पुरी कर ली हैं। युवा इनेलो का एक-एक कार्यकत्र्ता एसवाईएल को लेकर हर कुर्बानी देने को तैयार है। आंदोलन का नेतृत्व विपक्ष के नेता दुष्यंत चौटाला और युवा सांसद दुष्यंत चौटाला करेगें। यह बात इनेलो पार्टी के सोनीपत जिला प्रधान कुणाल गहलावत ने युवाओं के साथ बैठक करते हुए कही। । गहलावत ने कहा बीजेपी सरकार आंदोलन को स्थगित होने की अफवाह फैला रही है सरकार एसवाईएल के मुद्दे पर इनेलो के 10 जुलाई को होने वाले धरने को विफल बनाने के लिए झूठे षड्यंत्र रच रही हैं तथा इनेलो सरकार के इस मकसद को पूरा नहीं होने देगी।
गहलावत ने कहा भाजपा आज जहां बड़ी-बड़ी बातें कर रही है, बड़ी-बड़ी योजनाओं का ढिंढोरा पीट रही है वहां ये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एसवाईएल का पानी लाने की बात क्यूं नहीं कर रही? आज सात महीने बीत गए हैं सुप्रीम कोर्ट का फैसला आए लेकिन आज तक इन पार्टियों ने एसवाईएल के पानी के लिए न तो कोई दबाव बनाया, न धरना दिया और न ही पानी की बात की। गहलावत ने कहा सोनीपत जिले से हजारों युवा कार्यकर्ता अम्बाला-चण्ढ़ीगड हाईवे पर पंजाब से आने वाले एक एक वाहन को रोकने का काम करेगें। गहलावत ने कहा प्रदेश सरकार गुगीं बहरी हो गई है। सरकार को हठधर्मीता छोड़कर नहर के निमार्ण का कार्य शुरु करवाना चाहिए। इस मौके पर राई युवा हल्काध्यक्ष रविन्द्र सफियाबाद, मोंटि मण्डल, प्रदीप सैनी, विशाल सरोहा, मोहित मोर, नितिन, अनिल महलाना, मनमोहन आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


 हरियाणा में पैरामिल्ट्री फोर्स लगाने की बजाय पंजाब में लगाकर एसवाईएल नहर का निर्माण कराये भाजपा सरकार- गोपीचन्द गहलोत


गुड़गांव, 8 जुलाई : माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन कर केन्द्र व प्रदेश की सरकार को एसवाईएल नहर का निर्माण जल्द से जल्द कराना चाहिए परन्तु इस मुददे पर इनका मौन रहना इनकी कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा करता है। एसवाईएल को लेकर इनेलो पार्टी हमेशा से ही संघर्षरत रही है। उक्त शब्द इंडियन नैशनल लोकदल के वरिष्ठ नेता एंव पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत ने पार्टी के आगामी कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए गुड़गांव के सैक्टर 12 स्थित पार्टी कार्यालय पर आयोजित बैठक में विचार विमर्श करने के उपरान्त प्रैस के नाम जारी अपने बयान में कहे। उन्होंने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट के 10 नवम्बर 2016 के आदेश के उपरान्त पार्टी द्वारा गांव गांव व ढाणियों में कार्यक्रम आयोजित कर लोगों को एसवाईएल नहर के बारे में जागरूक करने का काम किया है। इनेलो कार्यकर्ता नहर को लेकर सड़क से लेकर सदन तक संघर्षरत है। इसी कड़ी में आगामी 10 जुलाई को पार्टी के कार्यक्रमानुसार अलग अलग जगहों पर पंजाब से आने वाले वाहनों को रोका जायेगा। श्री गहलोत ने बताया कि इस कार्यक्रम हेतु जिले के सभी विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं में जोश व उत्साह देखने को मिल रहा है तथा बड़ी संख्यां में कार्यकर्ता अंबाला पंहुचकर कार्यक्रम को सफल बनाने का काम करेंगे। इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चौ0 अनन्तराम तंवर, रमेश दहिया, जिलाध्यक्ष किशोर यादव, हल्काध्यक्ष शैलेश खटाणा, रिषीराज राणा, महेश चौहान, राव मानिसिंह, दलबीर धनखड़, कपिल त्यागी, गौरव छौक्कर, राजेन्द्र धनखड़, अतर सिंह रूहिल, योगेश शर्मा, सुखबीर तंवर, जितेन्द्र पंवार, पवन धनकोट सहित मुख्य पदाधिकारी उपस्थित थे। 

Friday, July 7, 2017

एसवाईएल निर्माण को लेकर इनेलो आखिरी दम तक लड़ेगी लड़ाई - अशोक अरोड़ा


कैथल, 7 जुलाई: इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि एसवाईएल नहर के निर्माण को लेकर इनेलो हर हाल में आखिरी दम तक लड़ाई लड़ेगी। एक-एक कार्यकत्र्ता एसवाईएल को लेकर हर कुर्बानी देने को तैयार है। श्री अरोड़ा आज पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा के निवास पर पत्रकारों से मुखातिब हो रहे थे। शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा के उस बयान की प्रदेशाध्यक्ष अरोड़ा ने कड़े शब्दों में निंदा की जिसमें आंदोलन स्थगित करने की बात कही, जबकि नेता विपक्ष चौधरी अभय चौटाला ने कहा कि उनकी इस विषय पर कोई बात नहीं हुई जिससे साफ है कि प्रो. शर्मा झूठ बोल रहे हैं और एसवाईएल के मुद्दे पर इनेलो के 10 जुलाई को होने वाले धरने को विफल बनाने के लिए झूठे षड्यंत्र रच रहे हैं तथा इनेलो प्रो. शर्मा के मकसद को पूरा नहीं होने देगी।
श्री अरोड़ा ने भाजपा की दोहरी नीतियों का भी जनता के सामने पर्दाफाश किया और बताया कि किस तरह गरीब, किसान व मजदूर का वोट लेने वाली सरकार ने आज सभी वर्गों के साथ विश्वासघात किया। उन्होंने कहा कि भाजपा आज जहां बड़ी-बड़ी बातें कर रही है, बड़ी-बड़ी योजनाओं का ढिंढोरा पीट रही है वहां ये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एसवाईएल का पानी लाने की बात क्यूं नहीं कर रही? आज सात महीने बीत गए हैं सुप्रीम कोर्ट का फैसला आए लेकिन आज तक इन पार्टियों ने एसवाईएल के पानी के लिए न तो कोई दबाव बनाया, न धरना दिया और न ही पानी की बात की।
इनेलो नेता ने कहा कि 10 जुलाई के आंदोलन के लिए इनेलो की सभी तैयारियां पूर्ण है तथा हरियाणा में पंजाब की 5 जगहों पर लगती सीमा पर इनेलो नेताओं की ड्यूटी तय कर दी गई है तथा एसवाईएल निर्माण को लेकर पंजाब, हरियाणा व केंद्र सरकार को चेताने के लिए वह पंजाब से हरियाणा सीमा में प्रवेश करने वाले वाहनों को रोकेंगे। अरोड़ा ने इनेलो कार्यकत्र्ताओं व हरियाणा के लोगों का आह्वान भी किया कि वे बड़ी संख्या में अम्बाला पहुंचे और पंजाब के रास्तों को पूरी तरह बंद करने का काम करें। इनेलो नेता ने पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा पर निशाना साधा और कहा कि प्रदेश में अंदर खाते भाजपा व हुड्डा के बीच समझौता चल रहा है और राज्यसभा चुनाव इसका जीता जागता उदाहरण है। जीएसटी को लेकर भी अरोड़ा ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि खेती के प्रयोग में आने वाले सभी उपकरणों पर जी.एस.टी. लागू की है जोकि गलत है। इससे किसान पर और अधिक बोझ पड़ेगा। सरकार को खेती के सभी उपकरणों से जीएसटी हटा देनी चाहिए और पैट्रोल डीजल जीएसटी के दायरे में आने चाहिए। राष्ट्रपति चुनाव में श्री रामनाथ कोविंद के समर्थन को लेकर इनेलो नेता ने कहा कि रामनाथ गैर-राजनीतिक उम्मीदवार है इसलिए इनेलो ने उनका समर्थन किया है। अरोड़ा ने कहा कि पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय द्वारा हरियाणा के 4 सीपीएस हटाए जाने के फैसले का इनेलो स्वागत करती है तथा हटाए गए सीपीएस से निवेदन करती है कि वे सुप्रीम कोर्ट में जाने की बजाय अपने पद से इस्तीफा दें।
पूर्व मुख्य संसदीय सचिव एवं इनेलो नेता रामपाल माजरा ने कहा कि एस.वाई.एल. हरियाणा की जीवन रेखा है और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार तुरंत नहर बनाई जाए और हरियाणा की प्यासी जमीन को पानी दिया जाए। इनेलो नेता ने कहा कि देश का अन्न पैदा करने वाले किसानों की भाजपा सरकार द्वारा की जा रही अनदेखी केंद्र व हरियाणा को सरकार को महंगी पड़ेगी क्योंकि जब भी राजनीतिक पार्टियों ने किसानों के साथ धोखा किया है उसे सत्ता से बाहर का रास्ता देखना पड़ा है। माजरा ने मांग की है कि किसानों के हक में स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को तुरंत लागू करवाया जाए, फसलों का समर्थन मूल्य बढ़वाया जाए, किसानों के हित में बनाई गई योजनाओं को वास्तविकता के धरातल पर लाकर किसानों को लाभ पहुंचाया जाए तथा यूपी, महाराष्ट्र व मध्यप्रदेश की तर्ज पर हरियाणा के किसानों के कर्जे भी माफ किए जाए। इस मौके पर नई अनाज मंडी के पूर्व प्रधान लाला टेकचंद सजूमा व संजय कौशल सहित इनेलो पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।
जब तक हरियाणा प्रदेश को एसवाईएल नहर का पानी नहीं मिलता, इनेलो का संघर्ष जारी रहेगा - अभय सिंह चौटाला


गुड़गांव 7 जुलाई : जलयुद्ध के नेता एवं हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौ० अभय चौटाला एसवाईएल नहर के आंदोलन को मजबूती देने और कार्यकर्ताओं से अधिक से अधिक संख्या में पहुँचने का आव्हान करने देर शाम गुड़गांव के गांव बसई स्थित सामुदायिक केंद्र पहुँचे। जहाँ मुसलाधार बारीश के बावजूद सैंकड़ों की संख्या में एकत्रित हुए कार्यकर्ताओं ने विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत की अगुवाई में चौ० अभय चौटाला का गांव बसई व इलाके की तरफ से सम्मान की सूचक पगड़ी बांधकर व फूलमालाओं से जोरदार स्वागत किया। कार्यक्रम में बतौर मुख्यतिथि पहुँचे नेता प्रतिपक्ष चौ० अभय सिंह चौटाला ने मंच से अपने संबोधन में कहा कि जहाँ 10 साल के राज में कांग्रेस ने किसान की जमीनों को कोडि़यों के भाव बेच कर किसानों की कमर तोड़ने का काम किया था वहीं आज भाजपा ने किसान की अनदेखी करते हुए किसान के साथ धोखा किया है। 


श्री चौटाला ने कहा कि किसानों को अच्छे दिन के सपने दिखाकर व स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करवाने जैसे लोभ लुभावने वायदे कर किसानों का वोट हासिल करके भाजपा सत्ता में आई थी, लेकिन सत्ता में आने के बाद भाजपा ने किसान के हक के लिए एक भी फैसला नहीं लिया उलटा बीमा के नाम पर और अब जीएसटी के नाम पर किसान पर दोहरी मार मारने का काम किया। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि एसवाईएल नहर हरियाणा की जनता की जीवन रेखा है जो माननीय सर्वोच्च न्यायालय की संवैधानिक पीठ ने हरियाणा के हिस्से का पानी अविलम्ब देने के फैसले के उपरान्त भी भाजपा की केन्द्र व प्रदेश की सरकार की उदासीनता इस सरकार के किसान विरोधी रवैये को उजागर करता है। इंडियन नैशनल लोकदल एसवाईएल की लड़ाई को सड़क से लेकर सदन तक मजबूती से लड़ रही है और जब तक हमें अपने हिस्से का पानी नहीं मिल जाता तब तक हमारा संघर्ष बदस्तूर जारी रहेगा। इसी कड़ी में उन्होंने कार्यकर्ताओं को आव्हान किया कि वे आगामी 10 जुलाई को भारी संख्यां में अम्बाला पंहुचकर कार्यक्रम को सफल बनाकर सरकार को चेताने का काम करें। मंच से कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए श्री गोपीचंद गहलोत ने सरकार की झूठी घोषणाओं और वादा खिलाफी को उजागर करते हुए बताया कि इस फीता काटू सरकार में गुड़गांव में जो भी शिलान्यास किए या आधारशिलाएँ रखी वहाँ काम सिरे चढ़ना तो बहुत दूर की बात हकीकत में वहाँ काम शुरू तक नहीं हुए। 


श्री गहलोत ने मंच से जलयुद्ध के नायक चौ० अभय चौटाला को आश्वासन दिया कि चौ० अभय चौटाला जिस भी मोर्चे पर गुड़गांव के कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाएँगे कार्यकर्ता वहाँ जान तक की बाजी लगा देंगे। इस कार्यक्रम में पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंतराम तंवर, गंगाराम पूर्व विधायक, किशोर यादव, रमेश दहिया, शमशेर कटारिया, ऋषिराज राणा, महेश चौहान, शैलेश खटाना, राजेश सुटा, अटलवीर कटारिया, राव मानसिंह, शशि धारीवाल, रविंदर काले प्रधान, कृष्ण प्रधान, रामे प्रधान, बेगराज गुर्जर, अत्तरसिंह रुहील, योगेश शर्मा, संतलाल जोतरीवाल, कपिल त्यागी, बिट्टू चौहान, अनूप कटारिया, काशीराम सरपंच, ऋषिपाल धनखड़, धर्मवीर बाघोरिया, बल्ले चैयरमैन, नरेश सहरावत, सुरेन्द्र तंवर, अमरपाल राठी, मोहन सैनी, सुखबीर तंवर, मेहरचंद दायमा, राजकुमार सहरावत, राकेश गर्ग, माँगेराम चौहान, शकील अहमद, राजबीर ठाकराण सरपंच, बाबू कृपाल सिंह, हरिकिशन सरपंच, सतीश राघव, राजपाल फौजी, सुरेन्द्र ठाकरान, अजित सिंह कटारिया, गौरव छौक्कर, कोकी ठाकराण, असलम खान, अशोक जाँगडा, विजय डागर, रणवीर चेयरमैन, रणधीर सिंह, रामपत सैनी, अतर सिंह सरपंच, गुरुदत्त शर्मा, नगेन्द्र डागर, दीपक डागर, नवल राणा, श्याम यादव, धर्मेंद्र प्रधान, राजेश त्यागी, ,पवन धनकोट, ईश्वर चेयरमैन, दलीप सरपंच, संजय यादव, अमरजीत कौर, सविता देवी, गीता रानी, राजरानी, नीतिन सैनी, तेजू राव, विक्की कटारिया कार्यकर्ता मौजूद रहे। 
दुष्यंत लगाएंगे जॉब फेयर 4000 बेरोजगारों को मिलेगी नौकरी

हिसार,6 जुलाई : नौकरी देने का वादा करके देश एवं प्रदेश में सत्ता में आई भाजपा भले ही अपना वादा पूरा न कर पाई हो मगर हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने बेरोजगारों के लिए एक बड़ा कदम उठाया है । दुष्यंत चौटाला ने अपने प्रयासों से देश की नामी कंपनियों से संपर्क साध कर उन्हें हिसार में आमंत्रित किया है। ये कंपनियां 14 जुलाई को रोजगार मेले में हिसार के पंचायत भवन में आएंगी और हिसार लोकसभा के चार हजार बेरोजगार युवकों को नौकरी देंगी। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि उन्होंने हिसार लोकसभा क्षेत्र के युवाओं से वायदा किया था कि बेरोजगारी से मुक्ति दिलाने के लिए वह हर सम्भव प्रयास करेंगे। सांसद ने बताया कि हिसार के युवाओं के लिए उन्होंने देश की कई नामी गिरामी कंपनियों से संपर्क साधा।  उन कंपनियों ने हिसार के युवाओं को नौकरी देने का वादा किया है । सांसद चौटाला ने बताया कि 14 जुलाई को हिसार के पंचायत घर में एक रोजगार मेले का आयोजन किया जा रहा है । इस मेले में देश की प्रतिष्ठित कंपनियां जिनमें प्रमुख रुप से वर्धमान टेक्सटाइल लिमिटेड, टेक महिंद्रा लिमिटेड, एयरटेल 4जी, रिलायंस ट्रेंड्स, सेल इंडिया लिमिटेड, जुबिलेंट फ़ूड व बर्गर किंग शामिल हैं । इन कंपनियों के प्रतिनिधि 14 जुलाई को सुबह 9: 00 बजे से ही साक्षात्कार की प्रक्रिया शुरु कर देंगे ।
श्री चौटाला ने बताया कि रोजगार मेले में कुल 12 कंपनियां हिस्सा लेंगी और चार हजार रिक्तियां भरी जाएंगी ।उन्होंने बताया कि रोजगार मेले के लिए न तो कोई रजिस्ट्रेशन फीस है और ना ही कोई फ़ाइल चार्ज लिया जाएगा। हिसार लोकसभा के बेरोजगार युवा सिर्फ उनकी वेबसाइट में जाकर अपना फार्म भरें और फार्म भरने के बाद उनकी ईमेल आईडी पर एक स्लिप आएगी। इस स्लिप का प्रिंट लेकर14 जुलाई को रोजगार मेले में आएं। सिर्फ उन बेरोजगार युवाओं का चयन किया जाएगा जो यह स्लिप साथ लेकर आएंगे क्योंकि इस स्लिप के बिना रोजगार मेले में किसी की एंट्री नहीं है।
सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में जब वे युवाओं से जाकर मिलते हैं तो अधिकतर युवाओं का सिर्फ यही कहना होता है कि ...भाई म्हारे खातिर भी कुछ कर दे बेरोजगारी न जमा हालत बिगाड़ राक्खी सै। सांसद चौटाला ने बताया कि यह बात उनके दिल में घर कर गई थी और उन्होंने मन ही मन में यह फैसला भी कर लिया था कि हिसार लोकसभा के युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए वह निजी कंपनियों से संपर्क साधेंगे ।सांसद दुष्यंत ने बताया कि हालांकि विपक्ष का सांसद होने के कारण मुझे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा परंतु युवाओं की वह बात जब भी मुझे याद आती है तो मन एक बार तो विचलित हुआ  लेकिन दूसरे ही पल दोगुने जोश के साथ बेरोजग़ारी की समस्या के समाधान का प्रयास कर देता था। । सांसद ने हिसार लोकसभा के युवाओं से आह्वान किया है कि वे वैबसाईट पर निशुल्क अपना पंजीकरण करवा कर इस रोजगार मेले का फायदा उठाएं।


कंपनी का नाम---        रिक्तियां
वर्धमान टेक्सटाइल --- 600
टेक महिंद्रा ---500
एस ई एल इंडिया --- 600
पोर्ट टी हेल्थ केअर ---300
कम्पीटेंट सिनेर्गिज़ लिमिटेड --- 500
एयरटेल 4 जी -- 100
डॉ आईटीएम -- 400
आईएसओएन बीपीओ --- 300
कैफ़े कॉफ़ी डे ---250
जुबिलेंट फ़ूड --- 250
बर्गर किंग --100
रिलायंस ट्रेंडज़--- 100


मजदूरों के शोषण में नम्बर वन भाजपा - विद्याधर लांबा


भिवानी, 6 जुलाई : सत्ता में आने से पहले भाजपा सरकार ने मजदूरों के लिए मजदूरी न्यूनतम रेट निर्धारित करने का वादा किया था लेकिन आज सबसे ज्यादा शोषण मजदूर, किसान व गरीब का हो रहा है। पहले नोटबंदी के नाम पर और अब जीएसटी के नाम पर आम जनता का ध्यान मुदों से भटकाया जा रहा है। यह आरोप इनेलो श्रमिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विद्याधर लांबा ने देवीलाल सदन में बैठक केदौरान कही। बैठक कि अध्यक्षता जिला प्रधान रामफल फौजी ने की। बैठक के अंदर इनेलो सदस्यता अभियान के उपर भी गहनता से विचार विमर्श किया गया। इस अवसर पर रामफल फौजी ने कहा कि आए दिन कोर्ट के बाहर मजदूरों के द्वारा धरने प्रदर्शन होते हैं। वहीं मुख्यमंत्री खट्टर आए दिन विदेशों का दौरा कर नई कम्पनीयों के आने का झुठा दिलासा देते रहते हैं लेकिन अस्लियत में प्रदेश सरकार पर लाखों करोड़ों रूपये का कर्जा है जिससे की साफ है कि भाजपा सरकार प्रदेश के कर्मचारियों, मजदूरों का भला करने में असमर्थ है। बैठक में मुख्यरूप से सुरेंद्र रोहिल्ला, मोहनलाल अरोड़ा, जिला प्रवक्ता राजू मेहरा, महाबीर शर्मा, बनवारी लाल, रिछपाल भाटी, मनोज कुमार, बिच्छू सिंह, विनोद भाटी, सुरेश गुजरानी, हजारा सिंह, नरेंद्र शर्मा, वीरासिंह, महाबीर शेखावत सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे।