Tuesday, November 29, 2016

दुष्यंत ने कहा बिना चर्चा पारित किया गया संशोधन कानून सांसदों के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन


हिसार, 29 नवंबर : इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने संसद में जिस तरह से सभी नियम कायदों को ताक पर रखकर केंद्र सरकार द्वारा कराधान कानून में संशोधन बिल बिना चर्चा के पारित करवाया उसे न सिर्फ लोकतांत्रिक मर्यादाओं के खिलाफ बल्कि प्रजातंत्र के लिए भी एक काला दिन बताया है। इनेलो सांसद ने कहा कि इस बिल पर अनेक सांसदों ने अपने सुझाव व संशोधन दिए थे और उन सुझावों व संशोधनों को राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद संसद में उन पर चर्चा होनी थी लेकिन ये सुझाव व संशोधन राष्ट्रपति से मंजूर होकर संसद में चर्चा के लिए आते उससे पहले ही लोकसभा अध्यक्ष द्वारा इन संशोधनों को नजरअंदाज कर बिना किसी चर्चा के बिल पारित करवाना न सिर्फ लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर सवालिया निशान है बल्कि देश के निर्वाचित सांसदों के लोकतांत्रिक अधिकारों का भी हनन है। उन्होंने कहा कि विपक्षी सांसदों द्वारा दिए गए संशोधनों को भी इसमें शामिल किया जाना चाहिए था। मात्र दस मिनट में बिना चर्चा कराए इतना बड़ा बिल पास किए जाना संसदीय मर्यादाओं के विपरीत है।
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकार द्वारा जल्दबाजी में बिना व्यापक चर्चा के पारित करवाए गए कराधान संशोधन कानून में यह प्रावधान किया गया है कि कोई भी व्यक्ति अपने काले धन को 50-50 करके कालेधन से सफेद करवा सकता है। इनेलो सांसद ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में शायद यह पहली बार हुआ है कि अनेक सांसदों द्वारा दिए गए सुझावों एवं संशोधनों जिन पर राष्ट्रपति से मंजूरी मिलकर उन पर चर्चा होनी थी, उन्हें पूरी तरह से नजरअंदाज करके इस तरह से जल्दबाजी में इतने महत्वपूर्ण बिल को जल्दबाजी में पारित किया गया। इनेलो सांसद ने देश के बुद्धिजीवियों व कराधान मामलों के विशेषज्ञों से इस बारे में उनके सुझाव आमंत्रित किए हैं ताकि आने वाले दिनों में इस पर होने वाली किसी भी चर्चा के दौरान उन्हें सरकार के समक्ष रखा जा सके। उन्होंने सरकार के इस कदम को अध्यक्ष के माध्यम से सांसदों के अधिकारों को रोकने का भी प्रयास बताया। 
इनेलो सांसद ने कहा कि नोटबंदी के बाद ग्रामीण इलाकों व छोटे-छोटे शहरों में लोगों की हालत बेहद खराब है। बैंकों के पास लोगों की जरूरतें पूरी करने के लिए पर्याप्त मात्रा में करंसी नहीं है और सरकार लोगों को राहत देने में पूरी तरह से विफल रही है। इनेलो सांसद ने कहा कि सरकार अगर इस नोटबंदी के फैसले को मिड सीजन में लागू करने की बजाय वित्तीय वर्ष के शुरू में लागू करती तो निश्चित तौर पर इसके नतीजे और बेहतर आते और आज जो लोग पिछली तारीखों में बिल काटकर अपनी रकम एडजस्ट करने में लगे हुए हैं उन्हें ऐसा अवसर न मिलता क्योंकि वित्तीय वर्ष पूरा होने के बाद सभी व्यापारियों व औद्योगिक संस्थानों की लेखा पुस्तकें बंद होने के बाद उनकी वार्षिक रिटर्नें भी सरकार के पास जमा हो चुकी होती। इनेलो सांसद ने एसवाईएल के अधूरे निर्माण को केंद्र सरकार द्वारा पूरा करवाए जाने की मांग करते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। उन्होंने कहा कि अगर केंद्र सरकार ने इस नहर को पूरा करवाने के लिए 23 फरवरी तक जरूरी कदम न उठाए तो उनकी पार्टी जननायक चौधरी देवीलाल के नक्शेकदम पर चलते हुए प्रदेशवासियों को साथ लेकर हरियाणा के अधिकारों की रक्षा करने और नहर की खुदाई का काम लोगों को साथ लेकर खुद करने का काम करेगी।
 जींद  में 11 दिसंबर को होने वाले अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ समेलन का दिया न्योता 


कुरुक्षेत्र 29 नवंबर : इनलो अनुसूचित प्रकोष्ठ की बैठक पंजाबी धर्मशाला में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता अशोक शेरवाल व पूर्व विधायक ईश्वर सिंह पलाका ने की। बैठक में जींद में 11 दिस बर व 12 दिस बर होने वाले अनुसूचित प्रकोष्ठ के स मेलन की रूपरेखा तय की गई। बैठक का संचालन इनेलो के जिला प्रवक्ता चन्द्र भान वाल्मीकि ने किया। बैठक में रणबीर सिंह किरमिच, अमन कंबोज, रामकरण काला, रविंद्र, माया राम, फकीर चंद, सुरेंद्र, तून खान सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।
कार्यक्रम के मु य अतिथि अशोक शेरवाल ने कहा कि आजादी के समय से दलित को वोट का अधिकार केवल बाबा भीम राव अंबेडकर ने दिलवाया था। उन्होंने कहा कि अन्य पार्टियां दलित समाज की बात तो करते हैं परन्तु उन्हें देते कुछ नहीं। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने सभी दलितों को 15-15 लाख की भीख का लालच देकर सता में तो आ गए परन्तु उन्होंने ऐसा कुछ करने के बजाए आउटसोर्सिंग पालिसी के तहत नौकरी देनी शुरू कर दी जिसमें न तो किसी दलित को नौकरी दी। अशोक शेरवाल ने सभी दलितों से अपील करते हुए कहा कि हम सभी दलित लोग अगर एकजुट होकर जींद पहुंचेगे तो वर्तमान सरकार को हमारी ताकत का पता चलेगा।
बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी के जिला अध्यक्ष कुलदीप सिंह मुल्तानी ने कहा कि यह स मलेन किसी जाति विशेष का नहीं  है। इसलिए इस कार्यक्रम में हर वर्ग आमंत्रित है। उन्होंने बताया कि वे खुद अनुसूचित जाति से संबंध रखत हंै । उन्होंने कहा कि जननायक ताऊ देवीलाल ही थे जिन्होंने हर जाति के लिए एक विशेष पंचायत घर व धर्मशाला का निर्माण करवाया था। उन्होंने बताया कि ये केवल ताऊ देवीलाल की ही मेहरबानी है कि आज एक दलित खुल कर सांस ले पा रहा है।


रादौर के पूर्व विधायक ईश्वर सिंह फलाका ने कहा कि  आज की बैठक का उद्देश्य जींद में होने वाले स मलेन की रूप रेखा तैयार करना है। उन्होंने हरियाणा के पूर्व मु यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर चुटकी लेते हुए कहा कि सीएम को हर वर्ग के बारे में सोचना चाहिए था, न कि केवल रोहतक व झज्जर के विकास के बारे में। उन्होंने बताया कि इनेलो पार्टी के समय में हर गांव व शहर के प्रतिनिधि को बिना मांगे ग्रांट मिलती थी जोकि अभी तक कोई भी सरकार नहीं कर सकी। उन्होंने साथ में सरकारों को कोसते हुए कहा कि हर सरकार ने आने से पहले बहुत से वायदे किये थे जिनमें हर खाते में 15 15 लाख रुपये आने का वायदा भी एक था, परन्तु इस सरकार ने तो एक मजदूर जो रोज दिहाड़ी करके रोटी खाता था वह आज कल बैंकों की लाइन में खड़ा नजर आता है। एक ओर तो लोगों को उनके खाते से रुपये नहीं मिल रहे अगर वे इसका विरोध करते हैं तो पुलिस लाठीचार्ज करती है।


गुडगाँव में अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ की हुई बैठक


गुड़गांव 29 नवम्बर : इनेलो पार्टी में ही अनुसूचित जाति के हित सुरक्षित है और अतीत और वर्तमान में किए जा रहे प्रयास इस बात संकेत हैं कि चौ. देवीलाल की नीतियों की यह पार्टी अनुसूचित जाति के लोगों को बिना भेदभाव राजनीतिक दल व सत्तासीन होने पर सरकार में हिस्सा देने की पक्षधर रहेगी। जननायक चौ. देवीलाल गरीब, मजदूर और जरूरतमंद लोगों के मसीहा थे और उन्होंने अपने मुख्यमंत्री काल में इन तबकों के उत्थान के लिए अनेक कार्य किये। उनकी सरकार में अनुसूचित जाति के लोगों की भरपूर भागेदारी रही। उक्त शब्द इनेलो के वरिष्ठ नेता एंव पूर्व मंत्री जगदीश नायर ने गुड़गांव में आयोजित अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ की बैठक में पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि इनेलो भी जननायक के नक्शे कदम पर चल रही है और आज भी यह राजनीतिक दल अनुसूचित जाति के लोगों को उनके पूरे हक दिलाने की पक्षधर है और उनके लिए हर कदम पर लड़ाई लड़ते हुए उनके अधिकारों को दिलवाने और भविष्य सुरक्षित करने की ओर महत्वपूर्ण कदम बढ़ा रहा है। चौ. देवीलाल की नीतियों का अनुसरण करते हुए इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला भी अनुसूचित जाति के जीवनस्तर में सुधार की प्रक्रिया को निरंतर बनाए रखना चाहते थे और उन्हीं के मार्गदर्शन में आज इनेलो इन सभी जातियों को साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। इनेलो नेता ने कहा कि आज के संदर्भ में यदि दृष्टिपात करें तो इनेलो ने ही संविधान निर्माता डा0 बी0 आर0 अम्बेदकर को समर्पित प्रदेश स्तर पर सम्मेलन आयोजित किए। जिसके माध्यम से उनकी समाज को दी गई देन के बारे में जनमानस को जानकारी देने के साथ-साथ संविधान में हर वर्ग और समुदायों के लिए दिए गए बराबर प्रावधानों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की। इसका उदद्ेश्य यही रहा कि आम जनता और अनुसूचित जाति के सभी लोग संविधान निर्माता बाबा साहेब द्वारा राष्ट्र को दिए गए योगदान के बारे में जानकारी हासिल करें और उनके प्रति कृतज्ञ रहे। इस अवसर पर गुड़गांव जिलाध्यक्ष एंव पूर्व विधायक गंगाराम ने कहा कि इनेलो एकमात्र एक ऐसा राजनीतिक दल रहा है जिसने सदैव अनुसूचित जाति के लोगों को प्राथमिकता दी है और इसी आधार पर इस जातियों के विधायक व सांसद भी इनेलो के माध्यम से अस्तित्व में आए हैं। इनेलो का उद्देश्य यही है कि सभी वर्गों के साथ विभिन्न क्षेत्रों में अपने आप को पिछड़ा मानने वाला यह समुदाय सबके साथ कदम से कदम से मिलाकर चलते हुए समाज की मुख्यधारा से जुड़े और चौ. देवीलाल की समाजवाद की विचाराधारा को आत्मसात करते हुए सभी लोग अच्छे माहौल में जीवन बसर करें।
इस अवसर पर अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के जिला संयोजक देवा प्रधान बाल्मिकी ने कहा कि भाजपा व कांग्रेस एक ही थैली के चटटे- बटटे रहे हैं और उन्होंने कभी अपने चुनावी घोषणा पत्र को वास्तविकता के धरातल पर अमलीजामा नहीं पहनाया। चुनावी वायदों में सदैव अनुसूचित जाति के लोगों को सर्वोपरि मानने वाले ये दोनों दल जब सत्तासीन हुए इन्होंने इन जातियों से मुंह मोड़ लिया और इनकी कोई भी भागेदारी न तो सरकार में और न ही राजनीतिक दल में कहीं दिखाई दी। इनेलो के सत्ताकाल को भी हम स्मरण करें तो उस समय में भी अनुसूचित जाति के सर्वाधिक प्रतिनिधि विधायक व सांसद हुए और इनेलो राजनीतिक दल में भी विभिन्न पदों पर इन्हें आसीन करके भरपूर मान-सम्मान प्रदान करते हुए इनका आगे बढने का मार्ग प्रशस्त किया गया। इस अवसर पर प्रधान महासचिव रमेश दहिया, कांसीराम सरपंच, सन्तलाल जोतरीवाल, कीर्ति प्रसाद, रणधीर सिंह, गोवर्धन सिंह, प्रताप कदम, गौरव छौक्कर, विकास किराड़, अजय टांक, पवन धनकोट, विकास टांक सहित पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
इनेलो द्वारा कैथल में आयोजित किया जायेगा दलित चेतना महासम्मेलन


रोहतक : प्रदेश इनेलो के दलित प्रकोष्ठ द्वारा आगामी ग्यारह दिसम्बर को महर्षि वाल्मीकि जयंती के अवसर पर कैथल में बड़ी धूमधाम से दलित चेतना महासम्मेलन मनाया जायेगा। जिसमे इनेलो के वरिष्ठ नेता व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला व पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा मुख्य वक्ता होंगे। महर्षि वाल्मीकि जयंती पर प्रति वर्ष इनेलो द्वारा कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। इस कड़ी को आगे बढ़ाते हुए इस बार पार्टी ने कैथल जिले में इस महासम्मेलन को आयोजित करना सुनिश्चित किया है। यह जानकारी देते हुए दलित प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रभारी व नीलोखेड़ी से पूर्व विधायक मामू राम गोंदर ने बताया की इनेलो ने सदैव दलित वर्ग के हितों की लड़ाई लड़ी हैं। उन्होंने कहा की स्व. चौधरी देवीलाल ने ताउम्र गरीब, कमेरे और दलित वर्ग की आवाज को उठाने का काम किया। दलित समाज के लोगों के हितों के लिए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने राज के दौरान अनेक कल्याणकारी नीतियों को प्रदेश में लागु किया था। प्राथमिकता देते हुए दलित समाज के लोगों को रोजगार मुहैया करवाने का काम किया। उन्होंने कहा की महर्षि वाल्मीकि जयंती के अवसर पर प्रदेश के प्रत्येक जिले से, प्रत्येक गांव से दलित तबके के लोग 11 दिसम्बर को कैथल में होने वाले दलित चेतना महासम्मेलन में भारी संख्या में पहुंचेंगे। 
इस अवसर पर बरौदा हल्के से पूर्व विधायक व अल्पसंख्यक व पिछड़ा वर्ग के चेयरमैन रमेश खटक, कलानौर से पूर्व महिला विधायक सरिता नारायण और इसराना हल्के से पार्टी के प्रत्याशी रहे बलवान वाल्मीकि ने संयुक्त रूप से बताया की दलित चेतना महासम्मेलन को सफल बनाने के लिए पार्टी नेतृत्व जो भी जिम्मेवारी लगाएगा उसे पूरी ईमानदारी और पूरी निष्ठा के साथ निभाया जायेगा।
वहीं रोहतक के जिलाध्यक्ष व प्रदेश प्रवक्ता सतीश नांदल ने बताया की कैथल में होने वाले दलित चेतना महासम्मेलन को सफल बनाने के लिए दलित प्रकोष्ठ के सभी जिला कार्यकर्ताओं को गाड़ी मुहैया करवाई जायेगी। सतीश नांदल ने मौजूदा कार्यकर्ताओं से आह्वान करते हुए कहा की प्रत्येक हल्के के हर गांव में जाकर दलित प्रकोष्ठ के हल्का प्रधान यह सुनिश्चित करें की अधिक से अधिक संख्या में पहुँच कर महासम्मेलन को सफल बनाने का काम करें। वहीं दलित प्रकोष्ठ के जिला संयोजक सूरत सिंह खटक ने आये हुए नेताओं व मौजूदा कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाया की रोहतक जिले से भारी मात्रा में लोग कैथल में पहुंचकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे व दलित चेतना महासम्मेलन को सफल बनाएंगे। 
यह जानकारी पार्टी के प्रवक्ता हैप्पी जांगड़ा ने देते हुए बताया की इस अवसर पर राजेश सैनी, डॉ संदीप हुड्डा, डॉ नफे सिंह, हैप्पी जांगड़ा, काला काहनौर, दर्शन आसन, शिवा वैध, रघुबीर निंदाना, शामफूल मोखरा, नागराम वाल्मीकि, जगदीश किराड़, हवासिंह नम्बरदार, विष्णु बिड़लान, अमित इस्माईला, पप्पू मोखरा, जयभगवान मुंगान, अत्तर मुंगान व सुभाष भगवतीपुर इत्यादि मौजूद रहे।

Monday, November 28, 2016

दुष्यंत ने संसद में राखीगढ़ी में मिली पौराणिक सभ्यता स्थल के विकास का मुद्दा उठाया

इनेलो संसदीय दल के नेता व सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसार लोकसभा के गांव राखीगढ़ी की पौराणिक सभ्यता को विश्व पटल पहचान दिलवाने के लिए संसद में एक बार फिर आवाज बुलंद की। दुष्यंत चौटाला ने सदन में राखीगढ़ी में पुरातत्व विभाग द्वारा अभी तक किसी भी प्रकार का कार्य शुरू न करने का मुद्दा उठाया। सांसद ने पूछा कि केंद्र सरकार बताए कि हरियाणा सरकार की किसी योजना के अलावा केंद्र सरकार ने राखी गढ़ी गांव में मिली पौराणिक सभ्यता को विश्व पटल लाने के लिए क्या योजना बनाई गई है। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने केंद्र सरकार से देश में पुरातत्व महत्व की पौराणिक स्थानों और उनके विकास के बारे में विस्तार से जानकारी मांगी थी। सांसद दुष्यंत चौटाला के सवाल के जवाब में केंद्र सरकार ने जवाब दिया कि देश में कुल 3686 पुरातत्व महत्व के विभिन्न स्थान हैं जिनमें हिसार के ऐतिहसिक राखीगढ़ गांव में सबसे पुरानी करीब आठ हजार पुरानी सभ्यता के अवशेष मिले हैं। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि पिछले संसद सत्र में केंद्र सरकार ने बताया था कि राखीगढ़ गांव के प्राचीन स्थल के विकास के लिए एक कमेटी प्रस्तावित है जोकि इसका गहनता से अध्ययन कर इसके विकास की रूपरेखा तैयार करेगी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि परन्तु अभी तक गांव राखीगढ़ में कोई काम शुरू नहीं हुआ है।
इनेलो सांसद ने केंद्र सरकार से पूछा कि सरकार बताए कि प्रदेश सरकार के अलावा केंद्र सरकार से राखीगढ़ गांव के विकास के लिए क्या योजना तैयार की है जिससे हरियाणा के इस गांव को विश्व में एक नई पहचान मिले। इसके जवाब में केंद्रीय सांस्कृतिक मंत्री महेश शर्मा कोई ठोस योजना बारे विस्तार से जानकारी तो सदन में नहीं दे पाए परन्तु उन्होंने कहा कि पुरातत्व महत्व की दृष्टि से राखीगढ़ी अति महत्वपूर्ण स्थल है और मंत्रालय द्वारा एककमेटी द्वारा इस विषय पर जांच अभी जारी है। उन्होंने बताया कि राखीगढ़ी में  जिस स्थान पर यह सभ्यता मिली है वहां कुछ क्षेत्र में बस्ती बसने के कारण काम करने में दिक्कत आ रही है। उन्होंने सदन में भरोसा दिया कि राखीगढ़ी को लेकर पुरातत्व विभाग का काम कर रहा है और जल्द ही इसकी पूरी जानकारी दी जाएगी।
नई करंसी न मिलने से गरीब रेहड़ी वाले, छोटे दुकानदार व मध्यम वर्ग के लोग हो रहे अधिक परेशान - अशोक अरोड़ा


कुरुक्षेत्र 28 नवंबर : इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने लघु सचिवालय पर प्रदर्शन किया और महामहिम राज्यपाल के नाम एसडीएम नरेंद्र पाल मलिक के माध्यम से ज्ञापन देकर मांग की है कि 500 और 1000 रुपये की नोटबंदी के कारण जनता को जो कठिनाई हो रही है, उसका तुरंत प्रभाव से निदान किया जाए। पार्टी कार्यकर्ता जिला इनेलो कार्यालय पर इक_े हुए और वहां से लघु सचिवालय पर पहुंचे। ज्ञापन में कहा गया है कि कुल मुदा्र के नोटों के 86 प्रतिशत के चलन को अचानक बंद कर देने से किसानों से लेकर छोटे व्यापारियों तथा मध्यम परिवारों से लेकर दिहाड़ीदार मजदूरों तक का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिस कारण गरीब लोगों को रोटी के लाले पड़ गए हैं। इसी के साथ साथ किसानों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है क्योंकि सहकारी बैंकों पर 500 व 1000 के नोटों को लेने व बदलने पर सरकार द्वारा पाबंदी लगा दी गई थी, जिससे अधिकतर किसान बीज, खाद और कीटनाशक दवाइयां खरीदने में असमर्थ हो गए, जिसका प्रतिकूल प्रभाव पडऩे से खेतों पर काम करने वाले खेतीहर मजदूरों की रोजी रोटी भी प्रभावित हुई। 
इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने पत्रकारों से बातचीत करते कहा कि आज हालत यह है कि गरीब रेहड़ी वाले व छोटे दुकानदारों का कामकाज ठप्प हो गया है। लोगों के पास नई करंसी नहीं है। जिससे गरीब रेहड़ी वाले व दुकानदारों को रोटी के लाले पड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश से हजारों मजदूर पलायन कर गए हैं, क्योंकि उन्हें मजदूरी के पैसे नहीं मिलते। हरियाणा में पानीपत का हथकरघा उद्योग ठप्प होकर रह गया है। नोटों की कमी के कारण मजदूरों को दिहाड़ी न मिलने से उनका जीवन यापन अस्त व्यस्त हुआ है तथा उद्योग व व्यापार भी प्रभावित हुआ है। अरोड़ा ने कहा कि सरकार को नोटबंदी लागू करने से पहले नई करंसी की उचित व्यवस्था करनी चाहिए थी, ताकि लोगों को परेशानी न उठानी पड़े। आज जनता में नई करंसी को लेकर त्राहि त्राहि मची हुई है। बैंकों व एटीएम में पर्याप्त मात्रा में कैश उपलब्ध नहीं है। दिहाड़ीदार लोग अपनी रोजी रोटी कमाने की बजाय नई करंसी लेने के लिए बैंक व एटीएम के बाहर लंबी लाइनों में लगने को मजबूर हैं। 
उन्होंने महामहिम राज्यपाल से मांग की कि किसान, आढ़ती, छोटे उद्योगपतियों व व्यापारियों पर लगाई गई नकदी निकालने संबंधी सीमा को कम से कम बढ़ाकर दोगुना किया जाए और ग्रामीण क्षेत्रों में सहकारी बैंकों पर नकदी लेने व बदलने पर लगी पाबंदी को तुरंत प्रभाव से हटाया जाए। इस अवसर पर जिला इनेलो प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, हलका प्रधान रणबीर सिंह किरमिच, रामकरण काला, तरसेम हरियापुर, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के जिला संयोजक मा. हरी सिंह पांचाल, शहरी प्रधान रामस्वरूप चोपड़ा, सतबीर शर्मा, सुरेश सैनी, रणधीर मथाना, अमनदीप कंबोज, कर्ण सिंह, मोहित सैनी, सुरेंद्र सैनी, सुनील राणा, सुलतान ब्राह्मणमाजरा, सतबीर शर्मा, महेंद्र कैंथला सहित अनेक इनेलो कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

नोटबंदी से हुई अव्यवस्था के खिलाफ सौंपा ज्ञापन 


गुड़गांव, 28 नवम्बर : इंडियन नैशनल लोकदल जिला गुड़गांव ईकाई द्वारा देश में नोटबंदी के कारण उत्पन्न हुई समस्याओं के बारे में महामहिम राज्यपाल महोदय हरियाणा के नाम एस.डी.एम गुड़गांव को ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत, जिलाध्यक्ष गंगाराम पूर्व विधायक, जिला प्रधानमहासचिव रमेश दहिया, हल्काध्यक्ष शैलेश खटाणा चैयरमैन, अटलबीर कटारिया, राव मानसिंह चैयरमैन, जिला प्रवक्ता कपिल त्यागी, शशी धारीवाल, दलबीर धनखड़ प्रदेश प्रवक्ता, अतर सिंह रूहिल, देवा प्रधान, रामे प्रधान, भूपेन्द्र सुखराली, सतबीर तंवर एडवोकेट, सुरेन्द्र तंवर, नरेश सहरावत, दीपक गौड़, हरीश ठाकराण, नरेश त्यागी, कांसीराम सरपंच, अमरपाल राठी, मोहन लाल वर्मा, शकील अहमद, नवल राणा, राजेश यादव, शमशेर डागर, गौरव छौक्कर, राजेश डागर, निहाल सिंह धारीवाल, जितेन्द्र पुंवार, तेजू ढोरका, पवन धनकोट, भूदेव प्रसाद शर्मा, नरेन्द्र बेनीवाल सहित पार्टी के अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
इनेलो नेताओं ने कहा मोदी द्वारा किया गया फैसला देश हित में नहीं

फतेहाबाद: प्रधानमंत्री द्वारा नोटबंदी करने के विरोध में इनेलो नेताओं ने शहर में प्रदर्शन कर उपायुक्त के माध्यम से राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। इस दौरान नेताओं ने कहा कि जो फैसला लिया गया है वो देश हित के लिए नहीं है। इससे पहले नेताओं ने संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने बिना कोई तैयारी किए है देश में 500 व 1000 रुपये के नोट बंद कर दिए है। ऐसे में बैंकों पर अधिक दबाव बढ़ गया है। आज हर कोई परेशान है। बैंकों के बाहर लंबी लाइनें लगी हुई। लोगों को अपने रुपये होने के बावजूद  रुपये नहंी मिल रही है। अगर किसी पर मुसीबत आ भी जाये तो वे कैसे पूरी करेंगे। वहीं किसानों का तो बुरा हाल है। गेहूं बिजाई का समय चल रहा है। लेकिन किसानों को गेहूं का बीज भी नहीं मिल रहा है। ऐसे में गेहूं की बिजाई कैसे होगी। इनेलो नेताओं ने कहा कि बीज, खाद और दवाईयां खरीदनेे में इस कारण असमर्थ हो गए क्योंकि जिला स्तरीय सहकारी बैंकों पर 500 एवं 1000 रूपये के नोटों को लेने व बदलने पर सरकार द्वारा पाबंदी लगा दी गई थी। परिणाम स्वरूप किसानों को भारी ब्याज दरों पर साहूकारी कर्जा लेना पड़ा। बिजाई पर प्रतिकूल प्रभाव पडऩे से खेतों में  काम करने वाले खेतीहर मजदूरों की रोजी-रोटी भी प्रभावित हुई। बिजाई के अतिरिक्त यह निर्णय ऐसे समय में लिया गया जब फल एवं सब्जी उत्पादक सर्दियों के मौसम के अपने उत्पाद को लेकर प्रतिदिन मंडियों में आते हैं। संतरा,किन्न ू आदि फलों को आज कोई खरीद नहीं रहा है। ऐसे में इस नोटबंदी में सबसे अधिक प्रभावित मध्यवर्गीय परिवार हुआ है। नोटबंदी के इस दौर में व्यापार पूरा ठप हो गया है। आज हर दुकान खाली पड़ी हुई है। कोई भी लोग सामान खरीदने के लिए नहीं आ रहा है। ग्राहक के पास रुपये नहीं है। अगर रुपये होंगे तभी तो वह खरीददारी करेगा। नेताओं ने कहा कि अगर यही हाल रहा तो आने वाले दिनों में स्थिति और भी भयंकर हो सकती है। इसलिए सरकार को चाहिए कि जो नोटबंदी का फैसला लिया है उस वापस ले। अगर ऐसा नहीं हो सकता तो ऐसे इंतजाम करें कि बैंकों में रुपये अधिक हो ताकि लोगों को परेशानी न हो। इस अवसर पर प्रदेश प्रवक्ता स. निशान सिंह, जिलाप्रधान बलविन्द्र कैरों, विधायक बलवान सिंह, रविन्द्र बलियाला, युद्ववीर सिंह आर्य, कुलजीत कुलड़ीया, मोलूराम रूल्हानिया, सुरेन्द्र लेगा, सरोज सांगा, विधारति, सुमनलता सिवाच, भरत सिंह परिहार, हरि सिंह डांगरा, होशियार सिंह नहला, मा. चमन लाल, पवन चुघ, धर्मपाल कंबोज, गुरविन्द्र संधू, डा.रणजीत ओड, जसपाल संधू, युवा जिला प्रधान राकेश सिहाग सहित अनेक नेतागण व कार्यकर्ता भी उपस्थित थे। 

नोटबंदी के विरोध में इनेलो ने सौंपा उपायुक्त को ज्ञापन


जींद : इनेलो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा रिर्जव बैंक ऑफ इंडिया द्वारा 500 तथा एक हजार रुपए के नोटों के चलन को बंद करने पर विरोध जताते हुए महामहिम राज्यपाल के नाम उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा। इनेलो ने कहा कि कुल मुद्रा के नोटों के 86 प्रतिशत के चलन को अचानक बंद कर देने से किसान से लेकर छोटे व्यापारियों एवं मध्यमवर्गीय परिवारों से लेकर दिहाड़ीदार मजदूरों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। इनेलो ने ज्ञापन के माध्यम से कॉ-आपरेटिव बैंकों में लेनेदेन की प्रक्रिया पर लगाई गई पाबंदी हटाने, छोटे व्यापारियों, किसानों तथा मजदूरों की निकासी की सीमा दोगुनी करने की मांग की।
इनेलो के जिला प्रधान कलीराम पटवारी ने कहा कि नोटबंदी का असर किसानों की अर्थव्यवस्था पर पड़ा है। इन कथित नोटों के चलन का निर्णय ऐसे समय लागू किया गया, जब रबी की फसल की बिजाई आरंभ हो चुकी थी, इस निर्णय के परिणाम स्वरुप किसान बीज, खाद और दवाइयां खरीदने में इस कारण असमर्थ हो गए क्योंकि जिला स्तरीय सैंट्रल सहकारी बैकों पर 500 एवं एक हजार रुपए के नोटों को लेने व बदलने पर सरकार द्वारा पाबंदी लगा दी गई थी। परिणाम स्वरुप किसानों को भारी ब्याज दरों पर साहूकारी कर्जा लेना पड़ा। बिजाई पर प्रतिकूल प्रभाव पडऩे से खेतों में काम करने वाले खेतीहर मजदूरां की रोजी-रोटी भी प्रभावित हुई। बिजाई के अतिरिक्त यह निर्णय ऐसे समय में लिया गया, जब फल एवं सब्जी उत्पादक सर्दियों के मौसम के अपने उतद को लेकर प्रतिदिन मंडियों में आते हैं। संतरा, किन्नू, माल्टा एवं मौसमी सब्जियों के सभी किसान इससे प्रभावित हुए हैं। उन्हें अपनी फसल या तो औने-पौने दामों पर बेचनी पड़ी है और या फिर उनको भुगतान पुराने नोटों में लेने पर मजबूर किया गया, जिससे बदलने के साधन सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिबंधित कर दिए गए थे। इनेलो विधायक परमेंद्र सिंह ढुल ने कहा कि हरियाणा में पानीपत का हथकरघा उद्योग देश का सबसे बड़ा केंद्र है, जहां लाखों लोग उस उद्योग पर अपने जीवन यापन के लिए निर्भर करते हैं। नोटों की कमी के कारण उन्हें प्रतिदिन की दिहाड़ी न मिल पाने के कारण उनका जीवन तो अस्त-व्यस्त हुआ ही है, उद्योग एवं व्यापार भी प्रभावित हुआ है। कपास मिलें, चावल मिलें तथा अन्य छोटे-छोटे उद्योग सभी नकदी के न उपलब्ध होने के कारण बंद पड़े हैं। हजारों मजदूर पैसे न मिल पाने के कारण या तो बेरोजगार बैठे हैं। इसके अतिरिक्त शादियों संबंधी कार्यक्रम भी नकदी के अभाव में अस्त-व्यस्त हुए हैं, जिससे प्रभावित परिवार एवं इन कार्यक्रमों से जुड़े हुए लोग भी पीडि़त हुए हैं। इन परिस्थितियों को देखते हुए इनेलो की मांग है कि किसान, आढ़ती, छोटे उद्योग एवं व्यापारियों पर लगी नकदी निकालने संबंधी सीमा को कम से कम बढ़ाकर दौगुणा किया जाए। इसी के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में सैंट्रल कॉपरेटिव बैंकों पर नकदी लेने व बदलने पर लगी पाबंदी को तुरंत प्रभाव से हटाया जाए और नकदी की उपब्लिध भी सुलभ की जाए। इस मौके पर बलदेव वाल्मीकि, भगवान दास, भूपेंद्र जुलानी, हरीश अरोड़ा, सुदेश चौपड़ा, सुभाष देशवाल, प्रताप लाठर, सत्यनारायण हाट, डॉ. कृष्ण मिड्ढा, संदीप परमार, मौजी खान, दरबारा देशवाल, बिजेंद्र रेढू, कृष्णा बधाना, डॉ. रणबीर राठी, भगवती दहिया, कैप्टन रणधीर सिंह चहल, धर्मवीर मलिक, ईश्वर कंडेला, राजेंद्र शास्त्री, रणबीर पूनिया, कुलदीप सिहाग, जसबीर ढुल, सोनू गुलिया, विक्की मोरखी, जयनारायण जिलेदार, राममेहर दनौदा, बिट्टू नैन, नसीब घसो, विकास सिहाग, नरेश भनवाला, हर्ष मित्तल, अजायब सिंह चहल, राजू सैन, अमन पिलानिया, नफे सिंह मलिक, जागेराम मलिक, बलवान डीपी, संतराम रायचंदवाला, पालाराम वाल्मीकि, राजेश वाल्मीकि, जिला कार्यालय सचिव गुरदीप सांगवान भी मौजूद थे। 
किसान, आढती, छोटे उद्योग एवं व्यापारियों पर लगी नकदी निकालने संबंधी सीमा की जाए दो गुणा - इनेलो


हिसार, 28 नवंबर : इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी की ओर से केन्द्र सरकार एवं रिजर्व बैंक ऑफ  इंडिया द्वारा 500 एवं 1000 रूपये के नोटों का चलन बंद करने के बाद किसानों, आढ़तियों व व्यापारियों के समक्ष आ रही परेशानियों पर अपना गहरा रोष प्रकट किया है। इसके साथ ही इनेलो ने मांग की है कि उक्त परिस्थितियों में किसान, आढती, छोटे उद्योग एवं व्यापारियों पर लगी नकदी निकालने संबंधी सीमा को कम से कम दो गुणा की जाए। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में सेंट्रल कॉपरेटिव बैंकों पर नगदी लेने व बदलने पर लगी पाबंदी को भी तुरंत प्रभाव से हटाया जाए। इस मांग को लेकर इनेलो के एक प्रतिनिधिमंडल ने जिला प्रधान राजेंद्र लितानी के नेतृत्व में सोमवार को एसडीएम को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।
अपने ज्ञापन में इनेलो नेताओं ने कहा कि नोट बंदी के चलते कुल मुद्रा के नोटों के 86 प्रतिशत के चलन को अचानक बंद कर देने से किसानों से लेकर छोटे व्यापारियों एवं मध्यवर्गीय परिवारों से लेकर दिहाडीदार मजदूरों का जीवन अस्त-व्यस्त हुआ है। राज्य में इसका दूरगामी प्रभाव किसानों की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा। इन कथित नोटों के चलन का निर्णय ऐसे समय में लागू किया गया जब रबी फसल की बिजाई प्रारम्भ हो चुकी थी। इस निर्णय के परिणाम स्वरूप अधिकांश किसान बीज, खाद और दवाईयां खरीदने में इस कारण असमर्थ हो गए क्योंकि जिला स्तरीय सेंट्रल सहकारी बैंकों पर 500 एवं 1000 रूपये के नोटों को लेने व बदलने पर सरकार द्वारा पाबंदी लगा दी गई थी। परिणाम स्वरूप किसानों को भारी ब्याज दरों पर साहूकारी कर्जा लेना पड़ा। बिजाई पर प्रतिकूल प्रभाव पडऩे से खेतों में काम करने वाले खेतीहर मजदूरों की रोजी-रोटी भी प्रभावित हुई है।
बिजाई के अतिरिक्त यह निर्णय ऐसे समय में लिया गया जब फल एवं सब्जी उत्पादक सर्दियों के मौसम के अपने उत्पाद को लेकर प्रतिदिन मंडियों में आते हैं। संतरा, किन्नू, माल्टा एवं मौसमी सब्जियों के सभी किसान इससे प्रभावित हुए हैं। उन्हें अपनी फसल या तो औने-पौने दामों पर बेचनी पड़ी है और या फिर उनको भुगतान पुराने नोटों में लेने पर मजबूर किया गया जिसे बदलने के साधन सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिबंधित कर दिए गए थे।
हरियाणा में पानीपत का हथकरघा उद्योग देश का सबसे बड़ा केन्द्र है जहां लाखों लोग उस उद्योग पर अपने जीवन यापन के लिए निर्भर करतें है। नोटों की कमी के कारण उन्हें प्रतिदिन की दिहाडी न मिल पाने के कारण उनका अपना जीवन तो अस्त-व्यस्त हुआ ही है उद्योग एवं व्यापार भी प्रभावित हुआ है। कपास मिलें, चावल मिलें तथा अन्य छोटे-छोटे उद्योग सभी नकदी के न उपलब्ध होने कारण बंद पड़े हैं। हजारों मजदूर पैसे न मिल पाने के कारण या तो बेरोजगार बैठे हैं। इसके अतिरक्ति शादियों संबंधी कार्यक्रम भी नकदी के अभाव में अस्त-व्यस्त हुए हैं जिससे प्रभावित परिवार एवं इन कार्यक्रमों से जुड़े हुए लोग भी पीडि़त हुए हैं। इन परिस्थितियों को देखते हुए इनेलो की मांग है कि किसान, आढती, छोटे उद्योग एवं व्यापारियों पर लगी नकदी निकालने संबंधी सीमा को कम से कम बढ़ाकर दो गुणा किया जाए। इसी के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में सेंट्रल कॉपरेटिव बैंकों पर नकदी लेने व बदलने पर लगी पाबंदी को तुरंत प्रभाव से हटाया जाए और नकदी की उपलब्धि भी सुलभ की जाए। इस मौके पर इनेलो राष्ट्रीय सचिव चतर सिंह, इनेलो महिला प्रकोष्ठ की प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण, राजेश गोदारा, वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष सतबीर वर्मा, हरफूल खान भट्टी, सतबीर सिसाय, राव इंद्र फौजी, एडवोकेट मनदीप बिश्रोई, रमेश गोदारा, बाली भाटोल, राजेंद्र चुटानी, अमित बूरा, डॉ. राजकुमार दिनोदिया, रवि आहूजा, मनोज नेहरा, डॉ. अनंत राम बरवाला, डॉ. सत्यनारायण मंगाली, सतबीर कस्वां, सतपाल सरपंच, सत्यवान बिछपड़ी, अनूप धनखड़, अमरदीप संभ्रवाल, सुनील बूरा, गुलाब सिंह, राजू भगत, धोलू गोदारा, परवीन ढांडा, गौरव सैनी, सुनील रावत, मूति देवी, कृष्णा खरब, सत्यवान नैन, जिला पार्षद रामप्रसाद गढ़वाल, डॉ. सत्यनारायण मंगाली, सतबीर कस्वां, सतपाल सरपंच, सत्यवान बिछपड़ी, अनूप धनखड़, अमरदीप संभ्रवाल, सुनील बूरा सहित भारी संख्या में इनेलो पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। 

500 व 1000 के नोट बन्द होने से देश व प्रदेश में फैली बदहाली-पद्म सिंह दहिया


सोनीपत 28 नवम्बर: इनेलो पार्टी सोनीपत जिले के सभी कार्यकर्ता सुबह: 11 बजे गाहाना रोड हनूमान मन्दिर के सामने इक्टठा होकर बीजेपी सरकार दरा 500 व 1000 के नोट बन्द किए जाने के विरोध में नारे लगाते हुए मिनी सचिवालय में पुहचें और बीजेपी सरकार के खिलाफ नारे लगाए और सी टी एम सोनीपत को ज्ञापन सौंपा।
जिलाध्यक्ष पद्म ङ्क्षसह दहिया ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि नोट बन्द होने से किसान से लेकर छोटे व्यापारियों एंव मध्य वर्गीय परिवारों से लेकर दिहाडीधार मजदूरों का जीवन अस्त-व्यस्त हुआ है। इस निर्णय के परिणाम स्वरूप अधिकाशं किसान बीज खाद व दवाइयाँ खरीदने में असमर्थ हो गए है। क्योकि 500 व 1000 रू0 के नोट कोई नही ले रहा है। किसानों को भारी ब्याज दरों पर साहुकारी कर्ज लेना पड रहा है। बिजाई पर इसके प्रभाव से खेतों में काम कारने वाले खेतीहर मजदूरों की रोजी-रोटी भी प्रभावित हुई है। हजारों मजदूर पैसे न मिलने के कारण बेरोजगार बैठे है। नोटबन्दी का असर शादी-विवाह पर भी पडा है। इनेलो ने माँग करता है कि किसान आढती छोटे उद्योग व व्यापारियों पर लगी नकदी निकालने सम्बन्धी सीमा को कम से कम बढा कर दुगना किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में कॉपरेटिव बैंकों पर नकदी लेने व बदलने पर लगी पाबन्दी को तुरन्त हटाया जाए। आजकल बैकों के सामने लगे लाइनों में लगे लोग अपने ही रूपया बैंकों में जमा कराने और निकालने में काफी मुश्किलों का सामना कर रहे है। 
इस मौके पर पिछडा वर्ग के प्रदेशाध्यक्ष तेलुराम जोगी, राजकुमार रिढाउ, रणबीर दहिया, कुलदीप मलिक, जिला प्रवक्ता फूलकंवार चौहान, महिलाध्यक्ष प्रोमिला मलिक, युवाध्यक्ष कुणाल गहलावत, सुमित राणा, अशोक राणा, बलजीत नैन, अजमेर मलिक, सुरेश त्यागी, अनिता खाण्डा, इन्द्रजीत दहिया, संजय मलिक, भयराज दहिया साबर अली, डा0 भगत, जेपी रेवली, अजीत आङ्क्षतल, रमेंश बडौली, अरूण बडौक, भानेराम, बंसीलाल रामहेर राठी, दीपक लाठ, सुरजीत मलिक, विकास नरवाल, अमित मौर, शियानन्द त्यागी, राकेश चहल, संजय गामडी, रमेश चहल, कुलबीर सांगवान आदि मौजूद थे

नोटबंदी के कारण आमजन को हो रही परेशानी को लेकर सौंपा ज्ञापन 


सिरसा 28 नवंबर : विपक्षी पार्टीयों द्वारा नोटबंदी के खिलाफ  बुलाए गए बंद के तहत इनेलो ने आज लघुसचिवालय के समक्ष जोरदार नारेबाजी की और सी.टी.एम को ज्ञापन सौंपा। इनेलो कार्यकर्ता व पदाधिकारी आज डबवाली रोड़ स्थित इनेलो कार्यालय में एकत्रित हुए और इसके पश्चात लघुसचिवालय पहुँचकर नगराधीश वेद बैनीवाल को ज्ञापन सोंपा। ज्ञापन सोंपने से पूर्व इनेलो कार्यकर्ताओं ने नोटबंदी क ा फैसला वापिस लो जैसे जोरदार नारे लगाए। ज्ञापन में महामहिम राज्यपाल को संबोधित करते हुए कहा गया है कि केन्द्र द्वारा नोटबंदी के फैसले के कारण आमजन परेशान हो गया है कि और अर्थव्यवस्था लगभग ठप्प सी होकर रह गई है। मध्यम व गरीब वर्ग व मजदुरों का जीवन अस्तव्यस्त हो गया है। 500 व 1000 के नोट बंद होने किसानों की खेती में बिजाई पर बुरा असर पड़ा है। खेतीहर मजदुर के सामने रोजी रोटी का सवाल खड़ा हो गया है। ज्ञापन में कहा गया है सब्जीमंडी में फल व सब्जियां लाने वाले किसानों पर नोट बंदी का प्रतिकू ल असर पड़ा है और उनकी फल सब्जियां औने पौने दामों पर खरीदी जा रही है जिससे उनको आर्थिक  चपत लग रही है। वही पानीपत जैसे शहर के हथकरंघा उद्योग बुरी तरह प्रभावित होने के कारण मजदुर पलायन करने लग गए है। जिससे भुखमरी जैसी स्थिति पैदा होने का खतरा बन गया है। ज्ञापन देने से पूर्व वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष जसबीर जस्सा ने केन्द्र सरकार को जनविरोधी बताते हुए कहा कि सरकार के इस तुगलकी फरमान से देश का विक ास रूक गया है। पूर्व मंत्री भागीराम ने केन्द्र की मोदी सरकार को तानाशाही व लोकतंत्र विरोधी बताते हुए कहा कि इस नोटबंदी के फैसले से देशभर में हाहाकार मचा हुआ है तथा जनता में भय व आक्रोश व्याप्त है। इस अवसर पर पूर्व मंत्री भागी राम, क श्मीर सिंह करीवाला, हरि सिंह भारी, युवा जिलाध्यक्ष धर्मवीर नैन, अशोक वर्मा, जिला सह पै्रस प्रवक्ता महावीर शर्मा,महेन्द्र बाना, प्रदीप मैहता, मनोहर मैहता, बंसी सचदेवा,विकास खिचड़, हरपाल कासनियां, जरनेल चंदी, रामकुमार नैंन, प्रदीप बैनीवाल,अजब औला, वेद प्रकाश वधवा, लक्की चौधरी, विकल पचार, गुरजंट सिंह, रामसरूप जोरसियां, मोहित शर्मा, सोनू सिंगीकाट, रिंकू इन्दौरा आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।


Sunday, November 27, 2016

नोटबंदी को लेकर इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा की अध्यक्षता में पार्टी कार्यकर्ता उपायुक्त को सौंपेंगे ज्ञापन


कुरुक्षेत्र, 27 नवंबर : इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा की अध्यक्षता में पार्टी कार्यकर्ता आज 28 नवंबर को जन आक्रोश दिवस के अवसर पर उपायुक्त के माध्यम से केंद्रीय सरकार के नाम ज्ञापन सौंपेंगे। यह जानकारी देते हुए इनेलो जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी ने बताया कि पार्टी ने सभी जिलों में उपायुक्त के माध्यम से केंद्रीय सरकार के नाम ज्ञापन सौंपने का फैसला लिया है। 
पार्टी कार्यकर्ता प्रात: नौ बजे जिला इनेलो कार्यालय में इकठ्ठा होंगे और वहां से लघु सचिवालय पहुंचकर उपायुक्त को ज्ञापन सौंपेंगे। ज्ञापन में मांग की जाएगी कि नोटबंदी के कारण जनता को जो परेशानी हो रही है, उसका तुरंत समाधान किया जाए। इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि पार्टी की बाजार बंद का कोई आह्वान नहीं है और ना ही किसी राजनैतिक दल ने हड़ताल का आह्वान किया है। केवलमात्र जनआक्रोश दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने नई करंसी का प्रबंध किए बिना ही नोटबंदी का फैसला ले लिया। नोटबंदी करने से पहले नई करंसी का कोई प्रबंध नहीं किया गया, जिस कारण लोगों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि इनेलो काले धन पर अंकुश लगाने का समर्थन करती है, लेकिन जिस प्रकार से नोटबंदी की गई , उसे आम जनता को परेशानी हो रही है। बैंकों में नई करंसी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं है, एटीएम बंद पड़े हैं, छोटे व गरीब आदमी पर इस नोटबंदी की मार पड़ी है। सरकार को चाहिए था कि करंसी का प्रबंध करने के बाद नोटबंदी लागू करती। सरकार द्वारा बिना तैयारी के लिए गए इस फैसले से बाजार में मंदी की लहर है। आम आदमी के पास सामान खरीदने के लिए नई करंसी उपलब्ध नहीं है। गरीब मजदूरों को रोटी के लाले पड़ गए हैं। मजदूरी का पैसा न मिलने से मजदूरों के परिवार भूखे मरने की कगार पर हैं। आम आदमी को शादी के समय ढाई लाख रुपये की करंसी देने पर भी रिजर्व बैंक ने अनेक प्रकार की शर्ते लगा दी हैं, जिससे जरूरतमंद को शादी के समय अपना ही पैसा बैंक से नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में ज्ञापन के माध्यम से केंद्रीय सरकार से बैंकों में करंसी का तुरंत इंतजाम करने की मांग की जाएगी।
   


पंजाब में राष्ट्रपति शासन लागू कर सेना की मौजूदगी में खुदवाई जाए नहर - अशोक अरोड़ा


भिवानी,  26 नवम्बर : इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा पंजाब में पीएम मोदी द्वारा एसवाईएल का पानी हरियाणा को दिलाने की बजाय पाक का पानी पंजाब को दिलाने की बात कह कर जनता को गुमराह किया है। उन्होंने कहा कि पीएम, केजरीवाल, कांग्रेस व भाजपा एसवाईएल पर नोटंकी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इनेलो ने एसवाईएल को लेकर अकाली दल से राजनीतिक रिश्ते खत्म कर दिए हैं और 23 फरवरी को पंजाब जाकर इनेलो खुद नहर खुदाई का काम करेगी। अशोक अरोड़ा ने नहर खुदाई के दौरान टकराव होने की संभावना पर कहा कि सर्वोच्च न्यायलय के फैसले अनुसार ये केंद्र सरकार की जिम्मेवारी है और केंद्र को चाहिए कि वो टकराव से पहले पंजाब में राष्ट्रपति शासन लागू कर सेना के माध्यम से नहर खोदने का काम करे। साथ ही हरियाणा के भाजपा व कांग्रेस नेताओं को अपने पार्र्टी प्रमुखों से मिलकर पंजाब में एसवाईएल नहर का विरोध करने वाले और इस्तीफे देने वाले अपनी पार्टी के नेताओं को पार्टी से निकलवाने की मांग करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब में नहर खुदाई के लिए जनता के सहयोग के लिए इनेलो जनसभाएं करेगी, जिसकी शुरुआत एक दिसंबर से तोशाम से अभय चौटाला करेंगे। 


इनेलो प्रदेशाध्यक्ष शनिवार को भिवानी में इनेलो के हल्का प्रभारियों, विधायकों, पूर्व विधायकों, जिला अध्यक्ष एवं हलका अध्यक्षों के साथ-साथ पार्टी के कार्यकत्र्ताओं को एसवाईएल के मुद्दे पर एक दिसम्बर से शुरू होने वाले जनजागरण अभियान की रूपरेखा तैयार करवाने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा के किसानों के साथ-साथ जनता की संजीवनी है। किरण चौधरी द्वारा दिए गए बयान पर चुटकी लेते हुए अशोक अरोड़ा ने कहा कि यदि कांग्रेस के लोगों की मंशा साफ होती तो पूर्व में केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी, उस दौरान ये लोग कहां थे? कांग्रेसी लोग  केवल जनता को बहका सकते हैं, करना इनके बस की बात नहीं। डा.केसी बांगड़ ने कहा कि इनेलो 28 नवंबर को कांग्रेस के समर्थन में नहीं, बल्कि नोटबंदी से होने वाली परेशानी को लेकर जनाआक्रोश दिवस मनाएगी। बैठक में सभी हलकों के प्रभारी भी नियुक्त किए गए, जिसमें भिवानी कैप्टन इंद्रसिंह पूर्व सांसद, बवानीखेड़ा विधायक बलवान दौलतपुरिया, लोहारू  डा.केसी बांगड़, बाढड़ा रामफल कुण्डू, दादरी सुरेंद्र दहिया व तोशाम में पूर्णसिंह डाबड़ा शामिल हैं। जोकि एक दिसम्बर से नेता प्रतिपक्ष की ओर से शुरू किए जाने वाले जनजागरण अभियान की तैयारियों के संबंध में लोगों से जनसंपर्क करेंगे। अशोक अरोड़ा ने भिवानी नगर परिषद के पूर्व चेयरमैन विजय पंचगांव को जान से  मारने की धमकी भरे पत्र पर अपराधियों को गिरफ्तार करने की मांग की। इस अवसर पर जिला प्रधान सुनील लांबा, विधायक राजदीप फौगाट, औमप्रकाश गोरा, कर्नल रघुबीर सिंह छिल्लर, रणबीर मंदौला, कमला रानी, निर्मला सर्राफ, कुलवंत कोंटिया,जितेंद्र शर्मा, विजय पंचगांव, उमेद गौरीपुर, जगदीश धनाना, महेंद्र शास्त्री व राजू मेहरा भी मौजूद थे। 
भाजपा सरकार की शह पर हिसार हवाई अड्डे से की जा रही काले धन की तस्करी - दुष्यंत चौटाला

हिसार, 26 नवंबर : नोट बंदी के बाद हिसार हवाई अड्डे से जाने वाली करोड़ों रूपये की राशि प्रदेश सरकार की शह पर  भेजी जा रही थी। यह आरोप इनेलो संसदीय दल के नेता दुष्यंत चौटाला ने लगाया। उन्होंने आशंका जताई है कि करोड़ों रूपये के इस बेहिसाबी धन से कहीं न कहीं भाजपा नेता या उनक चहेते जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा नहीं है तो खट्टर सरकार को टाल-मटोल करने की बजाय तुंरत आगे आकर इस मामले की अतिशीघ्र और निष्पक्ष जांच करवानी चाहिए जिससे कि सच्चाई सामने आ सके। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि बड़े ही अफसोस की बात है कि केंद्र सरकार द्वारा नोट बंदी की घोषणा किए गए दो सप्ताह बीत गए और काले धन को ठिकाने लगाने के लिए हो रहे अवैध धन प्रवाह को रोकने के लिए भाजपा सरकार नेगंभीर कदम नहीं उठाए। उन्होंने कहा कि हिसार एयरपोर्ट से करोड़ों रूपये इधर-उधर किए गए और सरकार की इसकी भनक तक नहीं लगी। उन्होंने कहा कि हिसार में हवाई अड्डे का सपना दिखाने वाली भाजपा सरकार ने यहां सुरक्षा कर्मियों की तैनाती तक नहीं की और कुछ बड़े लोग बेखौफ होकर यहां से कालेधन को जहाजों में भर कर ले जाने लगे। सरकार के रवैये से प्रतीत होता है कि इसमें कहीं न कहीं सरकार के शह पर ये सब किया जा रहा था वे करोड़ों रूपये यहां से भर कर ले जा रहे थे। दुष्यंत चौटाला आज हिसार में अनेक लोगों के सुख-दुख में शरीक हुए। इस अवसर पर जिला प्रधान राजेंद्र लितानी, विधायक वेद नारंग, सजन लावट, अमित बूरा, एडवोकेट मनदीप बिश्नोई, ओमप्रकाश कुंडू, अमित ग्रोवर, मधुर गुप्ता आदि उपस्थित थे। 
हिसार के सनातम धर्म मंदिर में मूर्ति स्थापना के मौके पर बोलते हुए सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि  हमें सभी धर्मों का आदर करते हुए संगठित होकर समाज के नवनिर्माण के लिए काम करना चाहिए। दुष्यंत चौटाला ने शनि धाम सिंगनापुर से लाई गई शनि शिला व संतोषी माता मूर्ति स्थापना समारोह व मंदिर के संकीर्तन में भाग लिया। दुष्यंत चौटाला ने ट्रस्ट द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि कमेटी समाज की एकता, सदभावना की दिशा में बेहतर काम करते हुए लोगों को जागृत कर रही है। उन्होंने इस अवसर पर आयोजित भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया और मंदिर में लिफ्ट लगाने के लिए आर्थिक मदद देने की घोषणा की।

Saturday, November 26, 2016


11 दिसम्बर को कैथल में प्रदेश स्तरीय दलित सम्मलेन का आयोजन किया जाएगा - बलदेव  



सिरसा 26 नवबंर: इनेलो जिला कार्यालय में अनूसुचित जाति प्रकोष्ठ की बैठक 
आयोजित की गई। बैठक में अनूसूचित जाति प्रक ोष्ठ के प्रदेश संयोजक बलेदव बाल्मीकि मुख्य वक्ता थे, जबकि बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष पदम जैन ने की।  बैठक को संबोधित करते हुए प्रकोष्ठ के संयोजक ने कहा कि आगामी 11 दिसम्बर को प्रात: 11 बजे कैथल के जाट कालेज में प्रदेश स्तरीय दलित सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। महार्षि बाल्मीकि जयंति के अवसर पर इस सम्मेलन को नेता प्रतिपक्ष चौ०अभय सिंह चौटाला व प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा संबोधित करेंगे। बलेदव बाल्मीकि ने दलितों को आहवान करते हुए कहा कि वे अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होंं और अपने अधिकार सघर्ष करके सरकार से मांगें। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार दलितों पर अत्याचार कर रही है और उन्हे उनके अधिकारों से वंचित रखा जा रहा है। सांसद चरणजीत रोड़ी ने क हा कि इनेलो ने हमेशा ही दलितों के उत्थान हेतु कल्याणकारी योजनाएं बनाई और उन्हें लागू किया। उन्होंने दलित समाज क ो संगठित होने का आहवान किया।


पूर्वमंत्री भागीराम ने कहा कि चौ० देवीलाल ने दलितों के लिए 
जच्चा-बच्चा,घुमन्त जाति के बच्चों क ो स्कूल जाने पर प्रतिदिन एक रूपया की योजना लागू की। पदम जैन ने आए हुए सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि दलित सम्मेलन की सफलता हेतु कोई कसर नही छोड़ी जायेगी। उन्होंने कहा कि सरकार दलितों को बरगला रही है। इस सम्मेलन में सिरसा से हजारों लोग जाकर महार्षि बाल्मीकि  व डा०भीमराव अम्बेडकर जैसे महापुरूषों क ो अपने श्रद्धासुमन अर्पित करेगें। इस अवसर पर विधायक बलकोर सिंह, अनूप धानक, रविन्द्र बलियाला, पृथ्वी सिंह नम्बदार, कश्मीर सिंह करीवाला, जिला सह प्रैस प्रवक्ता महावीर शर्मा,एस.सी सैल के संयोजक धर्मपाल बालासर, बुध सिंह,शाम लाल इन्दौरा, रिंकू इन्दौरा, धर्मपाल फोजी, धर्मपाल कायत, लक्की चौधरी, जिला पार्षद चानन, प्रदीप कुमार, मिलखीराम, बनवारी भाट, सोनू सिंगीकाट, मुख्तयार सिंह, एडवोकेट पुखराज सिंह चौहान, सुभाष जडेजा सहित काफी संख्या में पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

Friday, November 25, 2016

कांग्रेस की भांति भाजपा भी सुखोमाजरी बायपास को लटकाने में जुटी - प्रदीप चौधरी
पिंजौर, 25 नवम्बर। सुखोमाजरी बायपास केवल झुठे वायदे और आश्वसनों तक ही सिमट कर रह गया है। पांच वर्ष कांग्रेस ने सुखोमाजरी बायपास का काम लटकाये रखा, उसी के कदमों पर चलते हुए भाजपा ने भी करीब 2 साल से सुखोमाजरी बायपास के निर्माण के लिए कोई कदम नही उठाया। उक्त आरोप पिंजौर के गांव कोना मेें पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी ने लगाएं। उन्होंने कहा कि सुखोमाजरी बायपास नही बनने की सुरत में आज पिंजौर में लोग जाम से परेशान है। घंटों वाहन जाम में फंसे रहते है। सरकार को चाहिए कि वो झुठे वायदों से किनारा कर प्राथमिकता के आधार पर बायपास का शीर्घ निर्माण करवाएं। 
पूर्व विधायक ने कहा कि भाजपा केवल ऑनलाइन मामलों में ही लटकर कर रह गई। जबकि उसकी कोई भी ऑनलाइन योजना सिरे नही चढ़ पा रही है। चौधरी ने कहा कि जिले में 145 राशन बांटने के डिवाइस बंद पड़े है, जिसके चलते लोगों को राशन नही मिल पा रहा है। सरकार की यदि भ्रष्टाचार रोकने की योजना है, वो तो सही है, लेकिन सरकार लोगों की परेशानियों का भी विशेष ध्यान रखें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आज अस्तपालों में डॉक्टरों की कमी है और जो डॉक्टर है, उन पर ज्यादा लोड होनेे के चलते लोगों को सरकारी अस्पतालों में ईलाज नही मिल पा रहा है और यहां तक फ्री में मिलने वाली दवाईयां भी नही मिल रही है। सरकार ने जिन मुद्दों को लेकर चुनाव लड़ा था, सरकार उन मुद्दों पर ध्यान दें, क्योंकि सरकार अपने वायदों और चुनावी घोषणापत्र को भूल चुकी है और इसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। 
 प्रदीप चौधरी ने कहा कि सरकारी स्कूलों की हालत बदतर बनी हुई है। सरकार ने वादा किया था कि 1 नवंबर से स्वर्ण जयंती पर सरकारी स्कूलों में बच्चों को 200 मिलीलिटर दूध मिलेगा ना तो दूध मिला और ना ही मिड-डे-मील के नये व्यजंन मिले है और सरकार केवल तबादला नीति में ही उलझ कर रह गई है, क्योंकि आज तक सरकारी स्कूलों में अध्यापक नही पहुंच पाए है और ज्यादात्तर स्कूलों में अध्यापकों की कमी के चलते बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इस मौके पर उनके साथ रविन्द्रपाल मैहता, मान सिंह चरनियां, राजकुमार खोखरा, पूर्व सरपंच बंता सिंह कर्णपुर सहित अन्य मौजूद थे। 
इनेलो ने 28 नवम्बर के भारत बंद का किया समर्थन

चंडीगढ़, 25 नवम्बर : इनेलो के वरिष्ठ नेता व नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने नोटबंदी को लेकर लोगों को पेश आ रही दिक़्क़तों और परेशानियों के दृष्टिगत विपक्षी दलों की ओर से दी गई 28 नवम्बर को भारत बंद की काल को समर्थन देने की घोषणा की है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इनेलो पूरी तरह 28 नवम्बर के भारत बंद के साथ है और बंद का खुला समर्थन करती है।

Thursday, November 24, 2016

एसवाईएल को लेकर अभय चौटाला पहली दिसम्बर से प्रदेशभर में चलाएंगे जनजागरण अभियान
चंडीगढ़, 24 नवम्बर: इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला एसवाईएल के मुद्दे पर लोगों को जागृत करने के लिए पहली दिसम्बर से भिवानी, महेंद्र्र्रगढ़ व रेवाड़ी जिलों के विभिन्न हलकों का दौरा कर ग्रामीण सभाओं को सम्बोधित करेंगे। नेता प्रतिपक्ष के इस हलका स्तरीय बैठकों की तैयारियों के लिए पार्टी ने अलग-अलग हलकों के लिए इनेलो के वरिष्ठ नेताओं को प्रभारी नियुक्त किया है। इनेलो इन बैठकों में लोगों को एसवाईएल के मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बावजूद अभी तक इसका निर्माण न किए जाने और प्रदेश को हो रहे नुकसान के साथ-साथ 23 फरवरी से इनेलो द्वारा नहर की खुदाई अपने स्तर पर शुरू करने के कार्यक्रम में लोगों की ज्यादा से ज्यादा भागीदारी सुनिश्चित करने का आह्वान करेंगे। पार्टी ने नेता प्रतिपक्ष के जनजागरण अभियान के पहले चरण के कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया है और पहली दिसम्बर से 26 दिसम्बर तक यह कार्यक्रम निरंतर चलेगा। दूसरे चरण के कार्यक्रम को भी पार्टी जल्दी ही अंतिम रूप देने जा रही है। 
यह जानकारी देते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बताया कि इनेलो किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष पूर्ण सिंह डाबड़ा को तोशाम, फतेहाबाद के विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया को बवानीखेड़ा, पूर्व सांसद कैप्टन इंद्र सिंह को भिवानी व कोसली, पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. केसी बांगड़ को लोहारू, पूर्व विधायक रामफल कुण्डू को बाढड़ा, पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत को दादरी, नांगलचौधरी व बावल, पूर्व विधायक कर्नल रघुबीर सिंह छिल्लर को महेंद्रगढ़, इनेलो के प्रदेश महासचिव अशोक शेरवाल को अटेली, पूर्व विधायक डॉ. रामकुमार सैनी को नारनौल व पूर्व मंत्री सुभाष गोयल को रेवाड़ी हलके का प्रभारी नियुक्त किया गया है। 
पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा 26 नवम्बर दोपहर को भिवानी में इन सभी हलका प्रभारियों और संबंधित  जिलों के हलका अध्यक्षों के साथ-साथ जिलाध्यक्षों, पार्टी विधायकों, पूर्व विधायकों व वरिष्ठ नेताओं की बैठक लेकर पहली दिसंबर से शुरू होने वाले हलकास्तरीय बैठकों के कार्यक्रम का जायजा लेंगे और पार्टी नेताओं को इस संबंध में जरूरी दिशा-निर्देश देंगे। इनेलो नेता ने बताया कि चौधरी अभय सिंह चौटाला पहली दिसम्बर को भिवानी जिले के तोशाम, 3 दिसम्बर को बवानीखेड़ा, 5 दिसम्बर को भिवानी, 7 दिसम्बर को लोहारू, 9 दिसम्बर को बाढड़ा व 10 दिसम्बर को दादरी में बैठकें आयोजित कर एसवाईएल के मुद्दे पर कांग्रेस व भाजपा की प्रदेश विरोधी नीतियों और इन दलों के राष्ट्रीय नेतृत्व के दोगले स्टेंड के बारे में न सिर्फ जागृत करेंगे बल्कि लोगों से 23 फरवरी से इनेलो कार्यकर्ताओं द्वारा एसवाईएल नहर की खुदाई अपने स्तर पर शुरू करने के लिए चलाए जाने वाले आंदोलन व अभियान में शामिल होने का आह्वान करेंगे।
इनेलो नेता ने बताया कि नेता प्रतिपक्ष 15 दिसम्बर को महेंद्रगढ़, 16 दिसम्बर को नांगलचौधरी, 18 दिसम्बर को अटेली, 20 दिसम्बर को नारनौल, 23 दिसम्बर को रेवाड़ी जिले के बावल, 24 दिसम्बर को कोसली और 26 दिसम्बर को रेवाड़ी में जनसभाओं को संबोधित करेंगे और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार एसवाईएल नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर होने के बावजूद अभी तक इसका निर्माण पूरा न करवाए जाने और इन दलों के राष्ट्रीय नेताओं द्वारा इस मुद्दे पर दोगली भाषा बोलने सहित नहर से जुड़े सभी तथ्यों से लोगों को जागृत करेंगे। 
स्वयं सहायता समूह का दल ने किया संसद भवन का भ्रमण 


नई दिल्ली, 24 नवंबर : दिल्ली वासियों ने हिसार में बने बाजरे के लड्डूओं का स्वाद चखा। नारनौंद के गांव भैणी अमीरपुर की महिलाओं द्वारा तैयार शुद्ध देसी घी से बने इन लड्डूओं को खाकर दिल्लीवासी उंगली चाटते रहे गए और उन्होंने बाजरे के लड्डूओं को आर्डर देने की इच्छा जताई है। दरअसल हिसार जिले की स्वयं सहायता समूह की महिलाएं बुधवार को सांसद दुष्यंत चौटाला की पहल पर संसद भवण भ्रमण के लिए दिल्ली पहुंची थी। हिसार 1 व नारनौंद ब्लाक की 50 से अधिक महिलाएं शामिल थी। इन महिलाओं ने केवल संसद भवन देखा बल्कि इंडिया गेट ओर संसद भव लके म्यूजियम को देखा। ये महिलाएं बाजरे से बने लड्डूओं को भी अपने साथ ले गई थी। संसद भवन पहुंचने से पूर्व इंडिया गेट पर इन स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने बाजरे से बनने वाले लड्डओं के बारे में उपस्थित लोगों को विस्तार से बताया और लड्डूओं का स्वाद चखाया। लोगों को इन लड्डूओं का स्वाद खूब भाया और संपर्क साध कर उन्हें आर्डर देने को कहा। बाजरे से बन इन लड्डूओं को विशद््ध रूप से बाजरे, देखी खांड, देसी घी और घर में बने मावा से तैयार किया जाता है। 
सांसद दुष्यंत चौटाला व सिरसा से सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी ने दल का स्वागत किया और उन्होंने संसद भवन और लोकसभा और राज्यसभा के कार्यवाही के बारे में विस्तार से बताया। महिलाओं ने संसद भवन में परिसर में लगी पूर्व उपप्रधानमंत्री स्व. चौधरी देवीलाल की प्रतिमा पर जाकर उन्हें नमन किया। इस दल में अनु मलिक, सुनीता, अनिता मिर्चपुर, कविता पेटवाड़, कलावती माडा, अनिता रामायण, उर्मिला सहित अन्य महिलाएं शामिल थी। 

Wednesday, November 23, 2016

इनेलो के पार्टी प्रवक्ताओं का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित, अभय चौटाला व अशोक अरोड़ा ने किया संबोधित


पंचकूला, 23 नवम्बर: इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने ढींगरा आयोग की रिपोर्ट सार्वजनिक किए जाने की मांग की है। इनेलो नेता ने कहा कि आयोग की जांच के दौरान जो भी पैसा खर्च हुआ वह हरियाणा के लोगों की गाढ़े खून-पसीने की कमाई का पैसा था और सरकार द्वारा उसे रोककर रखने की बजाय सार्वजनिक किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आयोग की रिपोर्ट सरकार की प्रापर्टी नहीं बल्कि सरकारी कागजात हैं। इनेलो नेता ने कहा कि ढींगरा आयोग मामले में कांग्रेस और सरकार आपस में मिले हुए हैं और राबर्ट वाड्रा व हुड्डा को बचाने की कोशिश की जा रही है और वाड्रा के खिलाफ कार्रवाई न करने के लिए सरकार पर दबाव है। इनेलो नेता ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा आपस में मिले हुए हैं और सरकार को बने हुए दो साल से ज्यादा का समय हो चुका है लेकिन अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई। 
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि हमने हुड्डा सरकार के खिलाफ राज्यपाल को 400 पेज की चार्जशीट सौंपी थी और भूपेंद्र हुड्डा पर कार्रवाई किए जाने की मांग की थी लेकिन सरकार ने उस पर कोई संज्ञान नहीं लिया। नेता प्रतिपक्ष ने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा द्वारा ढींगरा आयोग की रिपोर्ट को लेकर कोर्ट में जाने संंबंधी बयान पर कहा कि हम तो पहले ही कह रहे थे कि कांग्रेस और भाजपा मिले हुए हैं। आयोग बनाने को लेकर न तो कैबिनेट से मंजूरी ली गई और न ही विधानसभा से पूछा गया। मुख्यमंत्री ने अपने आप एक सदस्यीय  आयोग का गठन कर दिया और इस जांच के दौरान किसी को भी कोई नोटिस नहीं दिया गया। इससे यह भी साबित हो गया कि भूपेंद्र हुड्डा और राबर्ट वाड्रा को बचाने के  लिए सरकार की ओर से ऐसा किया गया है। 
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार एसवाईएल के मुद्दे को कागजों में उलझाना चाहती है और एसवाईएल की जमीन डी-नोटिफाई करने पर हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कोई कदम क्यूं नहीं उठाया? उन्होंने कहा कि सर्वदलीय बैठक में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से सभी दलों की ओर से मुलाकात करने की बात कही गई थी लेकिन मुलाकात को लेकर उन्हें कोई पत्र नहीं मिला। इनेलो नेता ने कहा कि जिस दिन पंजाब विधानसभा ने नहर में मिट्टी डालने का निर्णय लिया था उसी दिन हरियाणा के मुख्यमंत्री को इस मुद्दे पर हरियाणा के हितों की रक्षा के लिए प्रधानमंत्री व केंद्र सरकार के पास जाकर पैरवी करनी चाहिए थी लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं किया। इनेलो नेता ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार आरएसएस के एजेंडे पर चलने वाली सरकार है और मुख्यमंत्री अपने स्तर पर कोई भी फैसला न लेकर सिर्फ ऊपरी आदेशों पर ही निर्णय लेते हैं। 
 नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इनेलो ने चौधरी देवीलाल के दिखाए रास्ते पर चलते हुए दूसरा न्याय युद्ध शुरू करने का फैसला लिया है और पहली दिसम्बर से प्रदेशभर के लोगों को जागृत करेंगे और तय सीमा में अगर नहर की खुदाई शुरू न हुई तो इनेलो कार्यकर्ता 23 फरवरी से अपने स्तर पर नहर की खुदाई शुरू करेंगे। इनेलो नेता ने कहा कि एसवाईएल नहर को लेकर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आ चुका है और प्रधानमंत्री को चाहिए कि वे तुरंत केंद्र सरकार से इस नहर की खुदाई शुरू करवाकर इसे जल्द से जल्द पूरा करवाने का काम करे ताकि हरियाणा के लोगों को अपने हिस्से का पानी मिल सके। नेता प्रतिपक्ष ने ये बात पंचकूला में पार्टी प्रवक्ताओं के दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के समापन अवसर पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब में कही। नेता प्रतिपक्ष ने शहीद राय सिंह के परिवार को दी जाने वाली सहायता राशि में सरकार द्वारा किए जा रहे भेदभाव पर पूछे गए सवाल पर कहा कि देश की रक्षा के लिए जान न्यौछावर करने वाले शहीदों के परिवारों को मान-सम्मान देेने में सरकार को भेदभाव नहीं करना चाहिए।
नेता प्रतिपक्ष ने पार्टी प्रवक्ताओं के प्रशिक्षण शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि आज मीडिया आम जनजीवन का एक महत्वपूर्ण अंग बन गया है और प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ सोशल मीडिया की भी बहुत बड़ी भूमिका है। उन्होंने पार्टी प्रवक्ताओं से लोगों के दुख सुख में भागीदार होने, उनकी दिक्कताओं और परेशानियों को मजबूती से उठाने और पार्टी की नीतियों को घर-घर तक पहुंचाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इनेलो देश की एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसके पास लाखों कार्यकर्ताओं की समर्पित फौज है  और पार्टी कार्यक्रमों की सूचनाएं लोगों तक पहुंचाने में हमें सोशल मीडिया का भी ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करना चाहिए। उन्होंने सम्मेलन में आए पार्टी के जिला, हलका व प्रदेश प्रवक्ताओं के साथ-साथ वरिष्ठ पत्रकारों का भी स्वागत करते हुए आभार जताया और पत्रकारिता का महत्व और प्रवक्ताओं की जिम्मेदारियों का उल्लेख किया।
प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मौजूदा दौर की राजनीति में मीडिया के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि मौजूदा समय में कहीं भी घटने वाली कोई घटना एक पल में फोन के माध्यम से लाखों लोगों तक पहुंच जाती है। उन्होंने कहा कि संसद व विधानसभा की तरह विभिन्न चैनलों पर होने वाली चर्चा का भी अपना एक महत्व है। उन चर्चाओं में जो प्रवक्ता ज्यादा तैयारी व सूचनाओं के लैस होकर जाता है वह न सिर्फ अपनी छवि बल्कि पार्टी की छवि को भी चमकाने का काम करता है। इसलिए प्रवक्ताओं को पूरी तैयारी के साथ विभिन्न चैनलों पर होने वाली परिचर्चा में भाग लेने जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि एसवाईएल पर इनेलो का स्टेंड पूरी तरह स्पष्ट है बल्कि कांग्रेस व भाजपा पंजाब व हरियाणा में अलग-अलग स्टेंड लेकर दोगली भाषा बोल रही है। प्रशिक्षण शिविर में पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. केसी बांगड़, आरएस चौधरी, बीडी ढालिया, एमएस मलिक, राम सिंह बराड़, प्रो. हरबंस सिंह व एनएस मल्हान के अलावा वरिष्ठ पत्रकार डॉ. चंद्र त्रिखा, गोविंद ठुकराल, मुकेश राजपूत, डॉ. गुरमीत सिंह, यशवीर कादियान, नरेश कौशल, अजय भारद्वाज, दीपकमल सहारण, प्रदीप मलिक, मनोज ठाकुर व माधव कौशिक के अलावा रविंद्र ढुल व अश्वनी वर्मा सहित अनेक प्रमुख पत्रकारों व प्रवक्ताओं ने अपने अनुभव सांझा किए और प्रवक्ताओं को तेजी से बदल रहे सूचना प्रौद्योगिकीय युग में अपने आपको समय के साथ अपडेट करते रहने का आह्वान किया और एक अच्छे प्रवक्ता में क्या गुण होने चाहिए इस संबंधी जरूरी टिप्स भी दिए।
विधायक नैना चौटाला ने स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर सरकार पर उठाए सवाल 

डबवाली : गांव चौटाला के सरकारी अस्पताल में डिलीवरी के बाद एक महिला की मौत हो जाने के मामले को डबवाली की विधायक नैना सिंह चौटाला ने बहुत ही गंभीरता से लिया है। उन्होंने दिवंगत महिला की मौत पर शोक जताते हुए मामले को बड़ी चूक बताया। उन्होंने पूरे मामले पर चिंता व्यक्त करते हुए सरकारी अस्पताल में जरूरी सुविधाएं तुरंत प्रभाव से मुहैया करवाए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि यह कोई पहली घटना नहीं है इससे पहले भी ऐसी घटना हो चुकी है। जिसके बाद भी स्वास्थ्य सेवाओं की व्यवस्था में कोई सुधार नहीं किया गया है। आज यहां से जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के लिए यह बहुत ही शर्म की बात है कि महिलाओं को जरूरी चिकित्सा सेवाएं तक नहीं मिल रही है जिसकी कीमत महिलाओं को जान देकर चुकानी पड़ रही है। हालात यह है कि आए दिन महिलाओं की मौत हो रही है। 
इनेलो नेत्री ने कहा कि एक तरफ तो सरकार बेटी बचाओं बेटी पढाओं जैसे अभियान चला रही है वहीं दूसरी ओर महिलाएं सरकारी अनदेखी के कारण मौत के ग्रास में जा रही है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाएं देना तो सरकार की पहली प्राथमिकता में होना चाहिए लेकिन गांव चौटाला में हुई यह घटना व पहले के कई मामले बताते है कि सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया है और भाजपा सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। जिसके चलते गांव चौटाला व आस पास गांवों के लोग स्वास्थ्य सुविधाओं को तरस कर रह गए है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में हालात यह है कि अस्पताल में न स्टाफ है और न ही दवाएं। जिस कारण आमजन को इलाज नहीं मिल रहा। डिलीवरी के मामलों में तो लोगों की परेशानी ओर बढ जाती है। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर वह स्वयं प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से बात करेंगी। अगर फिर भी डबवाली हलका में स्वास्थ्य सेवाएं संबंधी सुविधाएं नहीं दी गई तो मामले को विधानसभा के पटल पर उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि चौटाला परिवार ने सदा ही लोगों के हित के लिए लड़ाई लड़ी है और अब भी इसको जारी रखा जाएगा।
आर्थिक रूप से पिछड़े व जरूरतमंदों की मदद करके अच्छा लगता है - नैना चौटाला

 
डबवाली, 23 नवंबर: डबवाली की विधायक नैना सिंह चौटाला ने नई अनाज मंडी में स्थित इनेलो कार्यालय में गरीब व जरूरतमंदों परिवारों को आर्थिक सहायता के चैक वितरित किए है। इस मौके उन्होंने सतपाल पुत्र शिवलाल निवासी वार्ड न. 9 डबवाली शहर को घर की मरम्मत करवाने के लिए, राय सिंह पुत्र भीम राज निवासी गांव चौटाला को कमजोर आर्थिक हालात के चलते लडक़ी की शादी के लिए, मनजीत कौर पुत्री बलकौर सिंह निवासी सालमखेड़ा को लडक़ी की शादी के लिए, चरणप्रीत कौर पुत्री प्रकाश सिंह गांव पन्नीवाला रूलदू को पढने के लिए फीस भरने के लिए, आत्मा सिंह प्रजापत पुत्र हरीराम को घर की आर्थिक हालात खराब होने पर गुजारे के लिए, राजा सिंह पुत्र बलवीर सिंह निवासी गांव मांगेआना को लडक़ी की शादी के लिए, सुरजीत कौर पत्नी माहला राम निवासी निलियांवाली को कैंसर के इलाज के लिए आर्थिक सहायता के चैक दिए। 
इस मौके पर विधायक नैना सिंह चौटाला ने कहा कि उनका प्रयास है कि वह अधिक से अधिक लोगों को उनकी जरूरत के मुताबिक आर्थिक सहायता प्रदान करें। उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर व पिछड़े हुए परिवारों की मदद करके उन्हें अच्छा लगता है। विधायक नैना चौटाला ने इनेलो कार्यालय में लोगों की समस्याएं भी सुनी व उनका मौके पर ही निपटारा किया। उन्होंने कहा कि वह कई स्वयं सेवी संस्थाओं के सम्पर्क में भी है और उनके माध्यम से भी समाज सेवा के क्षेत्र में ओर ज्यादा काम किए जाएंगे। इस मौके पर विधायक नैना सिंह चौटाला ने भारत विकास परिषद डबवाली संस्था के सदस्यों को भी लड़कियों को शिक्षण सामग्री बांटने के लिए करवाए कार्यक्रम में घोषित की गई सहयोग राशि के रूप में 21 हजार रूपए देते हुए कहा कि अगर संस्था को भविष्य में भी कोई जरूरत होगी तो उनकी ओर से पूरा सहयोग किया जाएगा।
सफेद मक्खी व आवारा पशुओं से नष्ट होने वाली फसलों को भी मिले बीमा - दुष्यंत चौटाला 

हिसार, 22 नवम्बर: केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने सवाल खड़े किए हैं। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि अभी तक केंद्र सरकार ने घटिया बीज, सफेद मक्खी, आवारा पशुओं से कृषि में होने वाले नुकसान को इस योजना के तहत कवर नहीं किया है। पिछले वर्ष हरियाणा व पंजाब में सफेद मक्खी से हजारों लाखों एकड़ कपास की फसल बर्बाद हो गई थी और किसानों को बड़े पैमाने पर नुकसान उठाना पड़ा था। इस मुद्दे को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज लोकसभा में यह मामला रखा। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हमारी अर्थव्यस्था कृषि आधारित है। भारत की 50 प्रतिशत से अधिक आबादी आज भी पूरी तरह से खेती पर निर्भर है और किसानी उनकी आजीविका का प्रमुख स्त्रोत है। यदि एक फसल भी किन्हीं कारणों से बर्बाद हो जाती है अथवा उत्पादन कम होता है तो इसका सीधा असर देश की अर्थ व्यवस्था पर तो पड़ता ही है साथ ही किसानों की कमर टूट जाती है। इनेलो सांसद ने कहा कि देखने में आया है कि आवारा अथवा जंगली पशु किसान की फसल को नष्ट कर देते हैं। ऐसे ही घटिया किस्म के बीज होने के कारण फसलों में बीमारियां उत्पन्न हो जाती है अथवा घटिया बीज के कारण फसल नष्ट हो जाती है। पंजाब व हरियाणा में पिछले वर्ष कपास की फसल पर सफेद मक्खी का कहर सबने देखा है। युवा सांसद ने कहा कि बीते साल सफेद मक्खी लाखों एकड़ कपास की फसल को चट कर गई और किसानों को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा था। दुष्यंत चौटाला ने केंद्र सरकार से मांग की कि अतीत के अनुभवों को देखते हुए सरकार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत घटिया बीज, सफेद मक्खी और आवारा पशुओं से कृषि में होने वाली हानि के लिए भी मुआवजे का प्रावधान हो। 
डा. भीम राव अम्बेडकर को समर्पित है इनेलो की नीतियां - अभय चौटाला 


चंडीगढ़, 22 नवम्बर: हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं इनेलो नेता चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि जननायक चौ. देवीलाल गरीब, मजदूर और जरूरतमंद लोगों के मसीहा थे और उन्होंने अपने मुख्यमंत्री काल में इन तबकों के उत्थान के लिए युद्ध स्तर पर काम किया। नतीजन सरकार में अनुसूचित जाति के लोगों की भरपूर भागेदारी रही। उन्होंने कहा कि इनेलो भी जननायक के नक्शे कदम पर चल रही है और आज भी यह राजनीतिक दल अनुसूचित जाति के लोगों को उनके पूरे हक दिलाने की पक्षधर है और उनके लिए हर कदम पर लड़ाई लड़ते हुए उनके अधिकारों को दिलवाने और भविष्य सुरक्षित करने की ओर महत्वपूर्ण कदम बढ़ा रहा है। वे आज कैथल में एससी सैल की प्रदेश स्तरीय बैठक में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। अभय चौटाला ने कहा कि चौ. देवीलाल की नीतियों का अनुसरण करते हुए इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला भी अनुसूचित जाति के जीवनस्तर में सुधार की प्रक्रिया को निरंतर बनाए रखना चाहते थे और उन्हीं के मार्गदर्शन में आज इनेलो इन सभी जातियों को साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। 


इनेलो नेता ने कहा कि आज के संदर्भ में यदि दृष्टिपात करें तो इनेलो ने ही संविधान निर्माता डा. बीआर अम्बेदकर को समर्पित प्रदेश स्तर पर सम्मेलन आयोजित किए। जिसके माध्यम से उनकी समाज को दी गई देन के बारे में जनमानस को जानकारी देने के साथ-साथ संविधान में हर वर्ग और समुदायों के लिए दिए गए बराबर प्रावधानों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की। इसका उदद्ेश्य यही रहा कि आम जनता और अनुसूचित जाति के सभी लोग संविधान निर्माता बाबा साहेब द्वारा राष्ट्र को दिए गए योगदान के बारे में जानकारी हासिल करें और उनके प्रति कृतज्ञ रहे।
प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि इनेलो एकमात्र एक ऐसा राजनीतिक दल रहा है जिसने सदैव अनुसूचित जाति के लोगों को प्राथमिकता दी है और इसी आधार पर इस जातियों के विधायक व सांसद भी इनेलो के माध्यम से अस्तित्व में आए हैं। इनेलो का उद्देश्य यही है कि सभी वर्गों के साथ विभिन्न क्षेत्रों में अपने आप को पिछड़ा मानने वाला यह समुदाय सबके साथ कदम से कदम से मिलाकर चलते हुए समाज की मुख्यधारा से जुड़े और चौ. देवीलाल की समाजवाद की विचाराधारा को आत्मसात करते हुए सभी लोग अच्छे माहौल में जीवन बसर करें।


पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने कहा कि भाजपा व कांग्रेस एक ही थैली के च_े-ब_े रहे हैं और उन्होंने कभी अपने चुनावी मैनिफैस्टो को वास्तविकता के धरातल पर अमलीजामा नहीं पहनाया। चुनावी वायदों में सदैव अनुसूचित जाति के लोगों को सर्वोपरि मानने वाले ये दोनों दल जब सत्तासीन हुए इन्होंने इन जातियों से मुंह मोड़ लिया और इनकी कोई भी भागेदारी न तो सरकार में और न ही राजनीतिक दल में कहीं दिखाई दी। इनेलो के सत्ताकाल को भी हम स्मरण करें तो उस समय में भी अनुसूचित जाति के सर्वाधिक प्रतिनिधि विधायक व सांसद हुए और इनेलो राजनीतिक दल में भी विभिन्न पदों पर इन्हें आसीन करके भरपूर मान-सम्मान प्रदान करते हुए इनका आगे बढऩे का मार्ग प्रशस्त किया गया।
एससी सैल के प्रदेशाध्यक्ष बलदेव वाल्मीकि ने कहा कि इनेलो पार्टी में ही अनुसूचित जाति के हित सुरक्षित है और अतीत और वर्तमान में किए जा रहे प्रयास इस बात संकेत हैं कि चौ. देवीलाल की नीतियों की यह पार्टी अनुसूचित जाति के लोगों को बिना भेदभाव राजनीतिक दल व सत्तासीन होने पर सरकार में हिस्सा देने की पक्षधर रहेगी। इनेलो जिलाध्यक्ष पंडित कंवरपाल करोड़ा ने कहा कि इनेलो एक बहुत ही मजबूत राजनीतिक संगठन है और इसकी मजबूती में अनुसूचित जाति के लोगों का भी महत्वपूर्ण योगदान है और रहेगा। सम्मेलन में पूर्व विधायक मामूराम गोंदर, राजबीर बराड़ा, बूटा सिंह, ईश्वर पलाका, तेजबीर पुडऱी, रमेश खटक, अनूप धानक, अशोक शेरवाल व रामदिया चावरिया सहित पार्टी के अनेक नेता व कार्यकर्ता भी मौजूद थे।
शहीद राय सिंह ने अपनी जिम्मेदारी बाखूबी निभाई, अब सरकार अपना फर्ज निभाए - अभय चौटाला


रोहतक, 22 नवम्बर: इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता अभय सिंह चौटाला ने गढ़ी सांपला किलोई मेें शहीद राय सिंह को श्रद्धासुमन अर्पित किए और शोकसंतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। इनेलो नेता ने कहा कि राय सिंह ने जो उसकी जिम्मेदारी थी, उसे उसने बहुत अच्छे ढ़ंग से निभाया और अब सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि सरकार राय सिंह के परिवार व बच्चों के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाऐ। इनेलो नेता ने कहा कि राय सिंह एक गरीब दलित परिवार से संबंधित था और उसके तीन छोटे-छोटे बच्चे हैं। इन बच्चों की अच्छी परवरिश हो सके, इसके लिए सरकार को अपना फर्ज निभाना चाहिए। इनेलो नेता ने कहा कि देश की सेना में हर दसवां जवान हरियाणा से है और अगर सरकार अपनी जिम्मेदारी अच्छे से निभाएगी तो देश की रक्षा कर रहे अन्य सैनिकों के परिवारों के मन में आज जो चिंताए हैं, निश्चित तौर पर वह भी खत्म हो जाऐंगी। इस अवसर पर इनेलो नेता सतीष नांदल सहित अनेक पार्टी नेता भी उनके साथ थे।

Tuesday, November 22, 2016

मोदी ने छुड़वाए लोगों के काम-धंधे - अभय सिंह चौटाला


जींद। इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा की नाकामियों को छुपाने के लिए लोगों के काम-धंधे छुड़वाकर उनको लाइन में लगाने का काम किया है। भाजपा अपना एक भी वायदा पूरा नहीं कर पाई, इसलिए जनता का ध्यान भटकाने के लिए नोटबंदी का खेल खेला। चौटाला यहां इनेलो कार्यालय में इनेलो एससी सैल की प्रदेश स्तरीय बैठक को संबोधित कर रहे थे। 
उन्होंने कहा कि भाजपा तथा कांग्रेस ने मिलकर प्रदेश का भाईचारा बिगाडऩे का काम किया। मुख्यमंत्री मनोहरलाल के एक तरफ तो जाटों को आरक्षण देने की बात कहना, वहीं दूसरी तरफ अपने नेताओं के सामने मना करना ही इसका मुख्य कारण रहा। भाजपा ने बेरोजगार युवाओं के रोजगार देने का वायदा किया था लेकिन प्रधानमंत्री ने बेरोजगार युवाओं के काम-धंधे बंद कराकर उन्हें बैकों के सामने लाइनों में लगने पर मजबूर कर दिया। बहुत से बुजुर्ग लोग अपने मान-सम्मान के लिए एक-एक पैसा जोड़-जोड़कर रखे हुए थे लेकिन मोदी को यह सहन नहीं हुआ और उन्होंने बुजुर्गों के सम्मान को ठेस पहुंचाई। अब बुजुर्ग लोग लाइनों में लगकर पैसे बदलवाने को मजबूर हैं। इस कारण बहुत से बुजुर्गों के पैसे उनसे छिन गए। 


चौटाला ने कहा कि भाजपा सांसद राजकुमार सैनी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह तथा मनोहरलाल की शह पर प्रदेश में एक जाति विशेष के खिलाफ जहर घोलने का काम किया। बैठक को संबोधित करते हुए इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि इनेलो ने सबसे अधिक पिछड़ा वर्ग के लोगों को विधानसभा और लोकसभा में भेजा। पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने अपने पिता स्व. चौ. देवीलाल के नक्शे कदम पर चलते हुए पिछड़ा वर्ग के लोगों को टिकटों में 27 प्रतिशत से अधिक आरक्षण दिया और उनको लोकसभा, राज्यसभा तथा विधानसभा में भेजने का काम किया। एसवाईएल मुद्दे पर अरोड़ा ने कहा कि उन्होंने प्रदेश सरकार को 3 महीने का समय दिया है, यदि इस दौरान नहर का निर्माण हो गया तो ठीक नहीं तो इनेलो अपने कार्यकर्ताओं को लेकर 23 फरवरी को नहर खोदने का काम करेगी। अरोड़ा ने कहा कि इनेलो ने हमेशा आपसी भाईचारे को जोडऩे का काम किया है। जाट आरक्षण के बाद प्रदेशभर में इनेलो ने सद्भावना सम्मेलन करके लोगों को एक सूत्र में पिरोने का काम किया है। एससी सैल के प्रदेशाध्यक्ष तेलुराम जोगी ने कार्यकर्ताओं के इनेलो पिछड़ा वर्ग को मजबूत करने के दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग का यदि कोई भला कर सकता है तो केवल इनेलो ही कर सकती है। इस मौके पर इनेलो के जिला प्रधान कलीराम पटवारी, विधायक डॉ. हरिचंद मिढ़ा, रामचंद्र कम्बोज, रणबीर गंगवा, पृथी नंबरदार, डॉ. रामचंद्र जांगड़ा, रामफल कुंडू, भगवान दास, ईश्वर उझानिया, बलवंत जोगी, संदीप अमरहेड़ी, डीपी जांगड़ा, खजन सिंह सैन, किशनचंद्र सैन, हरिकिशन सैनी, डॉ. राजकुमार दिनोदिया, महेंद्र सिंह ढाकल, हरीश अरोड, जयकुमार पंवार, जगबीर जांगड़ा, राजू सैन, बिजेंद्र रेढू, कर्मबीर सैनी, राकेश रोहिल्ला, सितेंद्र ढुल, कृष्ण जांगड़ा, सोनू गुलिया, भुवन गिरी तथा इनेलो कार्यालय सचिव गुरदीप सांगवान भी मौजूद थे। 

Monday, November 21, 2016

बेटी बचाने के लिए मिलकर करना होगा काम, पुरूषवादी मानसिकता पड़ेगी छोडऩी - नैना चौटाला


डबवाली, 20 नवंबर- डबवाली विधायक नैना सिंह चौटाला ने कहा है कि बेटी बचाने के लिए सबको मिलकर काम करना होगा। केवल मात्र नारे लगाने से कुछ नहीं होगा, जमीनी स्तर पर काम करना होगा। पुरूषवादी मानसिकता छोडऩी होगी व महिलाओं को बराबर के अधिकार सही मायने में देने होंगे। उन्होंने कहा कि बेटी बचाओं बेटी पढाओं अभियान को सही मायने में सफल करना है तो सबसे जरूरी है शिक्षा का प्रचार प्रसार करना होगा। खासकर लड़कियों को शिक्षित करना होगा, उनको उच्च शिक्षा के अवसर प्रदान करने होंगे। उन्होंने कहा कि शिक्षा से ही जागरूकता का प्रचार प्रसार होता है और शिक्षित महिला ज्यादा मजबूती से सामाजिक बुराईयों का मुकाबला कर सकती है। उन्होंने कहा कि आज बेटियां हर क्षेत्र में आगे है, अगर बेटियों को अवसर मिलेंगे तो वे ऊंचे मुकाम पर पहुंच पाएंगी व अपने माता पिता व देश का नाम रोशन करेंगी। विधायक नैना सिंह चौटाला आज डबवाली शहर के महाराणा प्रताप कालेज में बेटी बचाओं बेटी पढाओं अभियान के तहत लड़कियों के इंटर कालेज प्रतियोगिता में मुख्यातिथि के रूप में बोल रही थी।
 विधायक नैना चौटाला ने महाराणा प्रताप कालेज प्रबंधन की महिला शिक्षा के क्षेत्र में काम की प्रशंसा की व अपनी ओर से संस्था को हरसंभव सहयोग देने की बात कही। कालेज की ओर से संस्था के डा. गिरधारी लाल, संदीप कुमार गर्ग व कालेज प्राचार्या ने विधायक नैना सिंह चौटाला व उनके साथ सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी का जोरदार स्वागत किया। इस मौके पर लोकसभा सासंद चरणजीत रोड़ी ने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या समाज पर कलंक के समान है और इसको जल्द से जल्द पूरी तरह से बंद करना होगा ताकि बेटियां भी जन्म ले सके। उन्होंने कहा कि इस सामाजिक बुराई के मूल में दहेज प्रथा है। अगर हम दहेज लेने व देने को रोक लगाने का संकल्प लें तो काफी हद तक बेटियों को बचाया जा सकता है। इस मौके पर छात्राओं ने बेटी बचाओं व बेटी पढाओं विषय पर बहुत ही शानदार भाषण, कविताएं व लघु नाटक प्रस्तुत की। जिसमें विजेता रही प्रतिभागियों को विधायक नैना सिंह चौटाला व सांसद चरणजीत रोड़ी ने सम्मानित किया। इस मौके पर हलका प्रधान सर्वजीत मसीतां, एस.जी.पी.सी. मैम्बर जगसीर मांगेआना, गिरधारी बिस्सू, ब्लाक समिति मैम्बर रणदीप मटदादू, शहरी प्रधान हरबंश भिटीवाला, शमीम शर्मा, बिटू मौजगढ, अशोक कुमार आदि मौजूद रहे।
नोटबंदी का फैसला योजनानुसार न होने से बुर्जुगों व महिलाओं को हो रही है परेशानी - नेता प्रतिपक्ष


चंडीगढ़, 20 नवंबर: हरियाणा के मंत्री काला धन वाले लोगों का बचाव करते हुए कहते है कि केन्द्र में प्रधानमंत्री व राज्य में मुख्यमंत्री आपके पक्ष में है। यह बात नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने आज सिरसा स्थित अपने आवास पर पत्रकारों को मंत्री की विडिय़ों कलिप दिखाते हुए कही। अभय चौटाला ने कहा कि प्रधानमंत्री का नोटबंदी का फैसला योजनानुसार न होने के कारण बुर्जुगों, महिलाओं व विशेष रूप से उन लोगों को परेशानी उठानी पड़ी जिनके घरों मेें शादियां थी। 


इनेलो के  प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने पत्रकारों को बताया कि इनेलो प्रदेश भर में सभी प्रकोष्ठों को मजबूत करने हेतू पदाधिकारियों से विचार विमर्श कर रहे है। पत्रकारों से बातचीत से पहले अभय चौटाला व अशोक अरोडा ने व्यापार सैल की बैठक में व्यापार प्रकोष्ठ को मजबूत बनाने का आहवान किया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण व्यापारियों का लेन-देन प्रभावित हुआ है तथा कोआप्रेटिव बैंक से पुराने नोटों से खाद बीज देने से मना करने पर किसान परेशान हो रहे है तथा उनकी बिजाई प्रभावित हो रही है। नेता प्रतिपक्ष ने एसवाईएल के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि इनेलो चुप नही बैठेगी,क्योंकि हरियाणा निर्माता चौधरी देवीलाल का सपना था कि एसवाईएल नहर का पानी किसानों के खेतों तक पहुँचे और हम इस सपने को साकार करेगें। इनेलो नेता ने कहा कि इनेलो 1 दिसम्बर से प्रदेश में जन जागरण अभियान आरम्भ करेगी जो 18 फरवरी तक चलेगा तथा 23 फरवरी को लाखों लोग पंजाब क्षेत्र में नहर खुदाई का काम शरू करेगें। उन्होंने कहा कि सरकार को 18 फरवरी तक एसवाईएल की खुदाई करने का अल्टीमेटम दिया है। 


अभय चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार चुनावों के दौरान किए गए वायदे से जनता को गुमराह करने हेतु कभी बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं, तो कभी नोटबंदी जैसे फैसले लेकर जनता को मुर्ख बनाने में लगी है। इनेलो हरियाणा के हकों पर किसी को ड़ाक ा नहीं डालने देगी। पंजाब सरकार द्वारा नहर पर एक पक्षीय फैसले ने संघीय ठांचे पर सवाल खड़े कर दिए है। इस दौरान इस बैठक में व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक सुभाष गोयल, सांसद चरणजीत रोड़ी, विधायक मक्खन लाल सिंगला, बलकौर सिंह, रामचंद्र कम्बोज, बलवान सिंह दोलतपुरिया, जिलाध्यक्ष पदम जैन, व्यापार प्रकोष्ठ के जिला संयोजक सतपाल अरोड़ा, चंद्रयश जैन, सीताराम बटनवाला, नरेन्द्र मैहता, प्रदीप मैहता, गुरदयाल मैहता, केएल लुथरा,  मीनूदीन पहलवान, आरके भारद्वाज, गंगाराम बजाज, आत्मप्रकाश रोहिल्ला, धर्मपाल फौजी आदि उपस्थित थे।
इनेलो के वरिष्ठ नेता का निधन

जींद : इनेलो के वरिष्ठ नेता रामपाल अलेवा (80) का निधन हो गया। वे काफी समय से बीमार चल रहे थे। उनके पैतृक गांव में उनका अंतिम संस्कार किया गया। इनेलो के जिला प्रधान कलीराम पटवारी ने बताया कि रामपाल अलेवा ने इनेलो को मजबूत करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने इनेलो पार्टी में कई पदों पर कार्य किया। इनेलो विधायक परमेंद्र सिंह ढुल, डॉ. हरिचंद मिढ़ा, पृथी नंबरदार, पूर्व विधायक सूरजभान काजल, रामफल कुंडू, भूपेंद्र जुलानी, प्रदीप गिल, दयानंद कुंडू, सुदेश चौपड़ा, सुभाष देशवाल समेत अनेक इनेलो नेताओं ने अलेवा के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए भगवान से उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना की है।