Friday, February 26, 2016

सद्भावना बैठक में इनेलो कार्यकर्ताओं व लोगों से आपसी सद्भाव व भाईचारा बनाए रखने की अपील


गुड़गांव, 26 फरवरी।  इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने हरियाणा मेें घटी हिंसक घटनाओं पर प्रधानमंत्री की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री ने हरियाणा को अपना दूसरा घर बताते हुए लोगों से वोट मांगे थे और हरियाणा के साथ निरंतर अपने निजी रिश्तों को बताते हुए नहीं थकते थे। अब प्रदेश भाजपा नेताओं की गलत नीतियों व दोहरे आचरण के कारण पूरा प्रदेश दस दिन तक धू धूकर जलता रहा। लोगों की अरबों रुपए की सम्पत्ति राख हो गई, अनेक कीमती जानें गई और हजारों घर उजड़ गए लेकिन हरियाणा को अपना दूसरा घर बताने वाले प्रधानमंत्री ने हरियाणावासियों की हमदर्दी में एक शब्द तक नहीं कहा। ये सब भाजपा नेताओं की करनी और कथनी को उजागर करता है। नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय चौटाला शुक्रवार को गुड़गांव के बसई कम्युनिटी सेंटर में जिला इनेलो कार्यकर्ताओं की ओर से आयोजित सद्भावना बैठक को सम्बोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने प्रदेश के लोगों पर विशेषकर इनेलो कार्यकर्ताओं से लोगों में आपसी प्रेम-प्यार, भाईचारा और शांति व सद्भाव बनाए रखने के लिए हर सम्भव प्रयास करने का आग्रह किया।



इनेलो नेता ने कहा कि हरियाणा में हुए हिंसक आन्दोलन के लिए कांग्रेस के साथ-साथ प्रदेश की भाजपा सरकार जिम्मेदार है। कांग्रेस ने जब विधानसभा चुनाव के गिनती मात्र दिन बचे थे तो अपने राजनीतिक फायदे के लिए जाटों को एक ऐसा आधा अधूरा आरक्षण दे गये जो आगे जाकर माननीय कोर्ट में टिक नहीं पाया। अगर वे वास्तव में आरक्षण देने के हितैषी थे तो भूपेंद्र हुडडा की प्रदेश में 10 साल सरकार थी व केन्द्र में भी कांग्रेस की सरकार थी इसको पहले देना चाहिए था। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला सहित सभी ने जाटों की खाप पंचायतों को मजबूती से बड़े लम्बे चौड़े आश्वासन दिये और कहा कि भाजपा सरकार जाटों को आरक्षण देने के लिए वचनबद्ध है। दूसरी ओर भाजपा के ही कुछ नेता न केवल जाट आरक्षण का खुलमखुला विरोध करते हैं अपितु पूरी जाति के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करने से भी नहीं चूके जो कि आरक्षण के नाम पर जले पर नमक छिड़कने वाली बात साबित हुई। 



नेता प्रपितक्ष ने इनेलो के सभी कार्यकर्ताओं सहित सभी वर्गों से अपील की कि चौ0 देवीलाल जी के प्रयासों व संघर्षों से बना हरियाणा 36 बिरादरी का है तथा इसमें आपस में भाईचारे की अनूठी मिशाल देखने को मिलती है। अतरू हम सबका ये दायित्व बनता है कि आरक्षण आंदोलन के दौरान आपसी भाईचारे में आयी दरार को खत्म करने का काम करें व समाज में सदभावना तथा अमन चौन बनाये रखने में अपना पूर्ण सहयोग दे। पत्रकारों के सवालों के जवाब में श्री चौटाला ने कहा कि मुरथल में हुए कथित गैंग रेप की घटना की उच्वस्तरीय निष्पक्ष जांच करवा दोषियों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। इस अवसर पर पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत ने गुड़गांव के कार्यकर्ताओं का इस बात का आभार जताया कि इस क्षेत्र में अमन चैन को बरकरार रखने व आपसी भाईचारे को बनाये रखने के लिए आज सदभावना बैठक कर एक नई पहल की है। 

इस अवसर पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अन्तराम तंवर, जिलाध्यक्ष गंगाराम पूर्व विधायक, रमेश दहिया, प्रदेश प्रवक्ता दलबीर धनखड़, अटलबीर कटारिया, किशोर यादव, रीशिराज राणा, महेश चौहान, शमशेर कटारिया, राव मानसिंह चौयरमैन, बेगराज गुर्जर, शशी धारिवाल, सुदेश यादव, बिटटू चौहान, सतीश राघव, नरेश सहरावत, भूपेन्द्र सुखराली, कपिल त्यागी प्रवक्ता, अतर सिंह रूहिल, स्वर्ण धनखड़, नरेश घनघस, ईश्वर, सुखबीर तंवर, सुरेन्द्र तंवर, निहाल सिंह धारीवाल, कांसीराम सरपंच, नारायण सरपंच, रामे प्रधान, धर्मबीर बाघोरिया, धर्मपाल ठेकेदार, सतबीर तंवर एडवोकेट, रणधीर, रणबीर कटारिया पूर्व चौयरमैन, राजू बोहरा, राजेश यादव, सहित सैंकड़ों इनेलो कार्यकर्ता व पदाधिकारी उपस्थित थे।

Thursday, February 25, 2016

सांसद दुष्यंत चौटाला के प्रयासों से हिसार को मिले कई प्रोजेक्ट

नई दिल्ली/हिसार। 25 फरवरी। वीरवार को पेश हुए रेल बजट में केंद्रीय रेलमंत्री सुरेश प्रभु की हिसार पर विशेष कृपा रही और उन्होंने संसदीय क्षेत्र के लोगों की समस्याओं के निदान के लिए बजट में घोषणाएं की हैं। थैंक्स प्रभु जी, हिसार पर नजरें इनायत करने के लिए। यह बात इनेलो संसदीय दल के नेता एवं हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने रेल बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र की रेलवे से जुड़ी समस्याओं के निदान के लिए वे कई बार केंद्रीय रेलमंत्री सहित बीकानेर एवं अंबाला डिवीजन के अधिकारियों से मिल चुके हैं। हिसार के लोगों की समस्याओं को बार-बार उठाने का ही प्रतिफल है कि आज हिसार के लिए पांच आरओबी, दो आरयूबी व रेलवे स्टेशन पर एस्केलेटर (विद्युत चलित सीढिय़ां) को मंजूरी मिली है। इतना ही नहीं हिसार-अग्रोहा-फतेहाबाद-सिरसा के 93 किलोमीटर रेलवे लाइन बिछाने की 400 करोड़ की योजना के लिए बजट जारी किया गया है। 

सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि हिसार शहर में ट्रैफिक व्यवस्था काफी चरमराई हुई है और इस संबंध में उन्होंने केंद्रीय रेलमंत्री से मिलकर विस्तार से चर्चा की थी। इसी के परिणामस्वरूप वीरवार को पेश बजट में हिसार शहर की बहुप्रतिक्षित मांग सूर्य नगर फाटक व सेक्टर 1-4 फाटक पर ओवरब्रिज बनाने की मांग को बजट में मान लिया है। सेक्टर 16-17 साउथ बाइपास पर भी रेलवे ओवरब्रिज बनने की घोषणा इस बजट में की गई है। आदमपुर-भादरा मार्ग पर फाटक बंद होने के कारण वाहन चालकों और स्थानीय लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता था। केंद्रीय मंत्री से मिलकर आदमपुर-भादरा रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज बनाने की मांग की थी जिसे केंद्रीय रेलमंत्री ने मान लिया और इस बजट में घोषणा कर दी। इसके अतिरिक्त हांसी-तोशाम रोड पर बने फाटक पर भी ओवरब्रिज बनने का रास्ता साफ हो गया है। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि उन्होंने जब रेलवे लाइन कालोनी का दौरा किया था तो वहां के जर्जर क्वाटरों के बारे में कर्मचारियों ने अवगत करवाया था। इस मामले को दुष्यंत चौटाला ने दो बार लोकसभा में उठाया था। जिस कारण इस बजट में रेलवे कर्मचारियों के क्वाटर बनाने के लिए राशि मंजूर की गई है।

-सूर्य नगर फाटक पर ओवरब्रिज बनाने की घोषणा
-सेक्टर 1-4 रेलवे लाइन पर भी ओवरब्रिज बनेगा। इसके लिए बजट में मंजूरी दी गई है। 
-हिसार में कर्मचारियों के लिए क्वाटर बनाने के लिए करोड़ों रूपये की राशि का प्रावधान किया गया है। रेलबजट में स्टाफ क्वाटर के लिए 2 करोड़ 75 लाख, 88 हजार रूपये की राशि मंजूर की है। इसमें टाइप टू के 12 क्वाटर, टाईप थ्री के 8 तथा टाईप चार के चार क्वाटर बनाने का प्रस्ताव है। 
-हिसार के रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की सुविधा के लिए एस्केलेटर(विद्युतचालित सीढिय़ां) लगाई जाएंगी वहीं लिफ्ट लगाने का भी प्रस्ताव है। इसके लिए बजट में हिसार व भिवानी के लिए कुल पांच करोड़ रूपये की राशि का मंजूर की गई है। 
-बहुप्रीतिक्षित प्रोजेक्ट अग्रोहा को रेलवे लाइन से जोडऩे के लिए रेलमंत्री ने इस बार पहल की है। बजट में हिसार-अग्रोहा-फतेहाबाद-सिरसा रेलवे लाइन पर काम शुरू करने की घोषणा इस बजट में की गई है। 
-हांसी-महम-रोहतक रेलवे लाइन पर काम तेजी लाने के लिए इस बजट में जिक्र है और इसके लिए बजट जारी किया गया है। 
-हिसार में साऊथ बाइपास  सेक्टर 16-17 फाटक पर आरओबी व कैमरी रोड फाटक पर अंडरपास बनाने की घोषणा की है। 
- आदमपुर में भादरा रोड पर बने फाटक पर आरओबी बनाने का प्रस्ताव है और इसके लिए राशि मंजूर की गई है। 

रेल बजट ने सिरसा की जनता को निराश किया  

सिरसा 25 फरवरी: पिछले साल के बजट की तरह इस बार भी रेल बजट पेश करते हुऐ जहां रेल मंत्री ने पुरे हरियाणा को दर किनार किया है वही पर सिरसा को भी उपेक्षित रखा गया है। यह बात इनेलो के जिलाध्यक्ष ने एक ब्यान जारी करते हुए क हीं। जैन ने कहा कि के न्द्र की भाजपा व हरियाणा की सरकार ने जिला सिरसा से विकास के मामलों में भेद-भाव कर रही है। जिसका ताजा उदाहरण वर्तमान में प्रस्तुत किया गया रेल बजट है। जिसमें सिरसा को कोई नई गाड़ी नही दी और न ही यहा पर वासिंग स्टेशन बनाने की घोषणा की गई। उन्होनें कहा कि सिरसा में हरियाणा की सबसे बड़ी अनाज मंडी है जो नरमा, कनक व धान के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है। यहा पर कपास की फै क्ट्ररीयां व दुसरे उद्योगिक व अन्य शिक्षण संस्थान है इसलिए यहा पर लम्बी दुरी की गाडिय़ों की दरकार है तथा गोरखधाम रेल को सिरसा तक बढ़ायें जाने की लोगों को आशा थी। लेकिन रेल मंत्री ने सिरसा के लोगों को कुछ भी ना देकर निराश किया है। जिलाध्यक्ष ने कहा कि भाजपा के किसी भी राजनेता ने स्थानीय नेताओं ने कभी भी रेल मंत्री के समक्ष जनता की समस्याओं व मांगों को रखा ही नही उन्होनें कहा कि आबादी व क्षेत्रफल के लिहाज से भी सिरसा काफी फैल चुका है। लेकिन यहा रेलवे स्टेशन पर सुविधाए न के बराबर है जिससे यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। जैन ने कहा कि सिरसा की जनता की और से रेल मंत्री से मांग की है कि वह सिरसा के लिए विशेष रेल सुविधाऐ देने की घोषणा करे ताकि सिरसा की जनता अपने आपको उपेक्षित न समझें।   




हरियाणा के सांसद होते हुए भी प्रदेश की जनता पर कोई कृपा नहीं की प्रभु ने - अरोड़ा

कुरुक्षेत्र, 25 फरवरी : इनेलो प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री अशोक अरोड़ा ने रेल बजट को निराशापूर्ण बताते हुए कहा कि भाजपा सरकार द्वारा लगातार दूसरे वर्ष पेश किए गए रेल बजट से प्रदेश की जनता को निराशा हाथ लगी है। बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु जिस हरियाणा से राज्यसभा पहुंचे, उसी प्रदेश को उन्होंने रेल बजट में पूरी तरह से उपेक्षित कर दिया। प्रभु हरियाणा के होकर भी हरियाणा के नहीं हुए। 
उन्होंने कहा कि आज प्रदेश की जनता को पूरी उ मीद थी कि रेल मंत्री हरियाणा प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं, इसलिए हरियाणा को कुछ नया अवश्य मिलेगा और प्रदेश की जनता पर  प्रभु  की कृपा होगी, लेकिन हरियाणा की जनता पर प्रभु ने कोई कृपा नहीं की। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा पेश किए गए रेल बजट में इस बार भी प्रदेश की जनता को निराशा ही हाथ लगी है क्योंकि इससे पहली सरकार द्वारा सोनीपत में प्रस्तावित रेल कोच फैक्टरी के लिए इस रेल बजट में कोई प्रावधान नहीं किए जाने से प्रदेश की जनता को गहरा झटका लगा है। रेल मंत्री द्वारा संसद में प्रस्तुत किए गए रेल बजट में इस कोच फैक्टरी का कोई जिक्र तक नहीं आया। इस बजट में इस इलाके की जनता की पुरानी मांग कुरुक्षेत्र को हरिद्वार तक रेल मार्ग से जोडऩे के बारे में भी कोई घोषणा नहीं की गई। जिससे इस इलाके की जनता को गहरा धक्का लगा है।
इनेलो  प्रदेश ने कहा कि रेल मंत्री प्रभु ने पी पी  मॉडल लगाने की बात कही है, जो प्रदेश के जनता के साथ धोखा है।  प्रदेश के युवाओं को रोजगार चाहिए न कि पी पी मॉडल। प्रदेश की जनता को रेल बजट से काफी उ मीदें थीं। लोगों को रेल बजट का बेसब्री से इंतजार था लेकिन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने जब बजट पढ़ा तो लोगों को काफी निराशा हुई।

Wednesday, February 24, 2016

सांसद दुष्यंत चौटाला ने एमडीयू रोहतक में छात्रों पर लाठीचार्ज के मामले में न्यायिक जांच की मांग की


चंडीगढ़, 24 फरवरी: इनेलो के हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने बुधवार को लोकसभा में जेएनयू में छात्रों द्वारा की गई नारेबाजी के मुद्दे पर चर्चा में भाग लेते हुए एमडीयू रोहतक के होस्टल में छात्रों के साथ घटी घटनाओं और पुलिस द्वारा की गई ज्यादतियों के पूरे मामले की न्यायिक जांच करवाए जाने की मांग की। जेएनयू व हैदराबाद विवि के छात्र द्वारा की गई आत्महत्या पर संसद में चल रही चर्चा में भाग लेते हुए सांसद दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा के रोहतक स्थित महर्षि दयानंद विवि के छात्रों से संबंधित घटित 18 फरवरी की घटना का उल्लेख किया।
उन्होंने कहा कि एमडीयू के नेकीराम जाट कॉलेज में 18 फरवरी की रात को हरियाणा पुलिस के एक डीएसपी ने करीब 150 पुलिस कर्मचारियों को साथ लेकर होस्टल में सो रहे निहत्थे छात्रों पर धावा बोला और बिना किसी उत्तेजना वाली घटना के उनकी बेरहमी से पिटाई की गई। उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं सुबह इस घटना के विरोध में जब छात्र धरने पर बैठे तो वही डीएसपी पुलिस के साथ-साथ अद्र्धसैनिक बल सीआरपीएफ के जवानों को लेकर धरना स्थल पर आया और लाठियां बरसाते हुए छात्रों को खदेडऩे का काम किया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने विवि व कॉलेज के होस्टल में प्रवेश करने से पहले विवि व कॉलेज के प्रशासन से भी कोई अनुमति नहीं ली।
इनेलो सांसद ने कहा कि 19 फरवरी को डीसी रोहतक ने एक आदेश जारी करते हुए छात्रों से पांच घंटों के भीतर होस्टल खाली करने अन्यथा उन्हें बलपूर्वक बाहर निकालने का आदेश दिया। उन्होंने सवाल उठाया कि क्या विद्यार्थियों को खिलौना समझ रखा है। उन्होंने कहा कि जब पूरा प्रदेश बंद था कोई बस अथवा रेलगाड़ी नहीं चल रही थी, सारे साधन ठप्प होने के चलते पांच घंटों में छात्र होस्टल खाली करके कहां जा सकते थे। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो दिल्ली की जेएनयू में पुलिस दाखिल नहीं होती और हरियाणा में पुलिस ने बिना किसी अनुमति के सो रहे छात्रों पर धावा करके उन्हें बुरी तरह से घायल कर दिया और अनेक छात्रों के गहरी चोटें भी आई। उन्होंने कहा कि घायलों को कहीं अस्पताल भी ले जाने का प्रबंध नहीं किया गया और वे चाहते हैं कि इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच करवाई जाए।
प्रो. विरेंद्र के साथ-साथ भूपेंद्र हुड्डा के खिलाफ भी कार्रवाई करे सरकार: अभय चौटाला



दिल्ली, 24 फरवरी: इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने पिछले कुछ दिनों के दौरान प्रदेश में घटी घटनाओं पर गहरा दुख व वेदना जताते हुए प्रदेशवासियों से समाज के विभिन्न वर्गों में परम्परागत शांति व भाईचारा बनाए रखने के लिए निरंतर अथक प्रयास करने की मार्मिक अपील की ताकि सदियों पुराने भाईचारे व सामाजिक तानेबाने और आपसी प्रेम-प्यार को कायम रखा जा सके। नेता प्रतिपक्ष ने जिन लोगों की सम्पत्ति को नुकसान पहुंचा है उन्हें नुकसान की भरपाई के लिए सरकार की ओर से तुरंत आधा मुआवजा जारी किए जाने और जल्द से जल्द पूरे नुकसान का आकलन कर भरपाई किए जाने, हिंसक घटनाओं में मारे गए अथवा घायल हुए निर्दोष लोगों को भी उचित मुआवजा दिए जाने, मुरथल के पास महिलाओं के साथ घटी कथित शर्मनाक घटनाओं की निंदा करते हुए विशेष जांच टीम से जांच करवाकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने और कांग्रेस नेता प्रो. विरेंद्र सिंह की वायरल हुई ऑडियो के आधार पर प्रो. विरेंद्र के साथ-साथ भूपेंद्र सिंह हुड्डा व अन्य जो भी लोगों को उकसाने, भडक़ाने और प्रदेश में बड़े स्तर पर हिंसा करवाने के लिए जिनकी भूमिका रही है उनके खिलाफ कार्रवाई किए जाने के साथ-साथ इस पूरे घटनाक्रम की निष्पक्ष जांच सर्वोच्च न्यायालय अथवा हाईकोर्ट के किसी मौजूदा अथवा रिटायर्ड न्यायाधीश से करवाए जाने की मांग की।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पिछले एक हफ्ते के दौरान घटी घटनाओं जिसमें असामाजिक तत्वों द्वारा लोगों की सम्पत्ति, घरों, दुकानों व व्यापारिक संस्थानों को जो नुकसान पहुंचाया गया है उससे वे बेहद दुखी हैं और ये घटनाएं बेहद व्यथित करने वाली हैं। इनेलो नेता ने कहा कि एक हफ्ते तक प्रदेश में इस तरह की घटनाएं बिना किसी रोकटोक के चलती रही। उन्होंने समाज के सभी बुद्धिजीवियों, प्रबुद्ध नागरिकों व 36 बिरादरी के सभी नेताओं से आग्रह किया कि वे स्थिति को सामान्य बनाने और जिन भाई-बहनों को इन दर्दनाक घटनाओं ने प्रभावित किया है उन्हें इस त्रास्दी से उभारने के लिए हमें सबको मिलकर निरंतर प्रयास करने चाहिए और सामाजिक तानेबाने को जो ठेस लगी है, उसे ठीक करने के लिए जी-जान से काम करना चाहिए।
इनेलो नेता ने कहा कि जिन लोगों की सम्पत्ति का भारी नुकसान हुआ है उनके सही नुकसान का जब तक जायजा लिया जाए तब तक सरकार फौरी तौर पर उन्हें नुकसान की भरपाई के लिए आधा मुआवजा तो फौरी तौर पर जारी करे और सही आकलन आते ही नुकसान की पूरी भरपाई सरकार की ओर से की जाए। उन्होंने कहा कि इन हिंसक घटनाओं में जो बेकसूर लोग मारे गए हैं अथवा घायल हुए हैं उन्हें भी तुरंत राहत राशि प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि इन घटनाओं ने हरियाणा के माथे पर एक गहरा कलंक लगा दिया है जहां समाज के विभिन्न धर्मों, जातियों व वर्गों के लोग अलग-अलग मत मानने वाले व विचारधारा रखने वाले सदियों से आपसी पे्रम-प्यार व भाईचारा के साथ रहते आए हैं। उन्होंने कहा कि अब समाज के सभी वर्गों ने शांति, सदभाव और भाईचारा बनाए रखने का माहौल बनाने की जिम्मेदारी हम सबके कंधों पर है।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार वायरल हुई ऑडियो टेप के संबंध में प्रो. विरेंद्र सिंह व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा के खिलाफ कार्रवाई करे क्योंकि यह बात पूरी तरह सामने आ गई है कि लोगों को भडक़ाने, उन्हें उत्तेजित करने और उकसाने के पीछे कौन मास्टर माइंड था जिसके चलते इतने बड़े स्तर पर हिंसक घटनाएं हुई और लोगों की जानमाल को क्षति पहुंची। उन्होंने कहा कि इस पूरे षड्यंत्र की पहचान करने जिसने प्रदेश के भाईचारे और जानमाल व सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाया, के लिए सुप्रीम कोर्ट अथवा हाईकोर्ट के किसी सेवारत अथवा सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में न्यायिक आयोग का गठन कर प्रभावित लोगों को न्याय दिलाया जाए। उन्होंने कहा कि हाईवे पर कुछ महिलाओं के साथ घटी कथित शर्मनाक घटनाओं के मामले की जांच भी इस आयोग द्वारा की जाए और जरूरत पडऩे पर विशेष जांच टीम गठित कर दोषियों की पहचान कर उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। उन्होंने फिर से लोगों से मार्मिक अपील करते हुए आपसी पे्रम प्यार, भाईचारा और सामाजिक सदभाव बनाए रखने का आग्रह किया।
इनेलो ने की जिले में शांति व भाईचारा बनाए रखने की अपील


जींद :  प्रदेश विधानसभा के मुख्य विपक्षी दल इंडियन नेशनल लोकदल की जिला इकाई ने गत सप्ताह प्रदेश में हुए घटनाक्रमों के मध्यनजऱ समाज के सभी वर्गों से एकता, अखण्डता, सदभावना और भाईचारा बनाये रखने की अपील की। जिला प्रधान कलीराम पटवारी की अध्यक्षता में प्रैस वार्ता के दौरान पार्टी इकाई के समाज के विभिन्न अंगों के सभी प्रबुद्ध वक्ताओं ने सभी वर्गों को अफवाहों से बचने और शांति व भाईचारा कायम रखने की अपील की। सफीदों से पूर्व विधायक कलीराम पटवारी ने कहा की वह व इनेलो पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता प्रदेश में हुए किसी के नुकसान का पक्षधर नहीं है और समाज में शांति व सद्भावना बनाए रखी जाए इसी की अपील करती है। हक मांगना प्रत्येक का संवैधानिक अधिकार है लेकिन इसमें हिंसा का कोई स्थान नहीं है। पटवारी ने कहा कि सरकार एक कमेटी बनाकर जिन लोगों को आर्थिक नुकसान हुआ है, उनकी भरपाई करे। इस आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों को 25 लाख रुपए मुआवजा दिया जाए। पटवारी ने कहा कि सांसद राजकुमार सैनी अब भी लोगों को भड़का रहे हैं। वे कहते हैं कि 35 जातियां एक है। भाजपा को ऐसे नेताओं पर नकेल कसनी चाहिए ताकि हरियाणा में आपसी भाईचारा बना रहे। 
वार्ता के दौरान जुलाना से विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल ने कहा कि यह सब भाजपा की ही देन है। यदि भाजपा अपने नेताओं पर पहले से ही कंट्रोल करती तो आज यह नौबत नहीं आती। इस विषय पर उनके नेता गवर्नर महोदय से मिलकर पार्टी की तरफ से अपना पक्ष व मांग रख चुके हैं। समय आने पर उनकी पार्टी आगामी विधानसभा सत्र में सदन में सबके समक्ष अपनी बात को रखेगी। उन्होंने कहा की प्रदेश में भाईचारा व सौहार्द की भावना खराब करने वालों के पीछे सरकार समेत जिस भी किसी असामाजिक तत्वों का हाथ है उन्हें न्यायिक जांच के जरिये बेनकाब किया जाना चाहिए व कठोर से कठोर सजा भी दी जानी चाहिए। परमेंद्र सिंह ढुल ने कहा कि जिले में सीमित साधनों के होते हुए भी जिला प्रशासन ने इस आंदोलन को उग्र होने से रोका, इसलिए लिए प्रशासन बधाई का पात्र है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन की इस भूमिका के चलते ही जींद जिला जलने से बच गया। सरकार स्वयं सांसद राजकुमार सरीखे आत्म घोषित नेता व असामाजिक तत्वों को सरंक्षण देती आई है जो की सामाजिक सोहार्द खराब करने के पीछे सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं। ऐसे तमाम तत्वों का न सिर्फ राजनीतिक बल्कि सामाजिक बहिष्कार किया जाना चाहिए।  जीन्द से विधायक डा हरिचन्द मिड्ढा ने कहा की वह व उनकी पार्टी राजनीति नहीं अपितु समाजनीति की पक्षधर है। 36 बिरादरी की एकता इनैलो की शान व जान दोनों हैं। उन्होंने इनैलो से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति से आग्रह किया की वह समाज में भाईचारे को बनाये रखने को सर्वोपरि मानते हुए कार्य करें व समाज को बाँटने के नाम पर की जा रही राजनीति का पर्दाफाश करें। समाज की एकता से बढ़कर इस जीवन में पाने को और कुछ नहीं है। वहीं नरवाना से विधायक पिरथी नंबरदार ने कहा की आगामी सत्र में उनकी पार्टी सदन में आंदोलन से हुए नुकसान की शीघ्रतम भरपाई के लिए पुरज़ोर रूप से प्रदेश सरकार पर दबाव बनाएगी। इस मौके पर पूर्व विधायक सूरजभान काजल, रामफल कुंडू, बलदेव वाल्मीकि, युवा इनेलो प्रभारी प्रदीप गिल, देशराज माटा,सुभाष देशवाल, सूबे सिंह लौहान,भुपेंद्र जुलानी, अशोक गोयल लीलू, सतीश जैन, राजेश जैन, कर्मबीर सैनी, राकेश रोहिल्ला,डा. रामचंद्र जांगड़ा, जयनारायण भारद्वाज एडवोकेट, बिजेंद्र रेढू, सुदेश चौपड़ा, किताब सिंह भनवाला, सुमित्रा देवी, कृष्णा बधाना, किताब सिंह ढांडा, जसबीर ढुल, प्रताप लाठर, विश्वनाथ शर्मा, नफे सिंह मलिक, सूरजभान सिहाग, दरबारा देशवाल, भूपेंद्र देशवाल, बलजीत सांगवान, मौजी खान, हरीश अरोड़ा, कुलदीप गिल, संदीप प्रजापत, धर्मबीर मलिक, रणबीर पूनिया, कैप्टन रणधीर चहल, बलवंत जोगी, संजय चाबरी, होशियार सिंह गिल, संदीप मोर, अनुराग खटकड़, सोनू गुलिया तथा जिला इनेलो कार्यालय सचिव गुरदीप सांगवान भी मौजूद थे। 

Monday, February 22, 2016

इनेलो ने राज्यपाल को ज्ञापन देकर प्रदेश सरकार बर्खास्त करने की मांग की


चंडीगढ़, 22 फरवरी: इनेलो ने हरियाणा के राज्यपाल को एक ज्ञापन देकर प्रदेश की भाजपा सरकार को बर्खास्त किए जाने, प्रदेश में घटी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं की न्यायिक जांच करवाए जाने, हिंसा के दौरान मारे गए लोगों के परिवारों को 25-25 लाख रुपए मुआवजा व नौकरी दिए जाने और जिन लोगों की निजी सम्पति को नुकसान पहुंचा है उन्हें समुचित मुआवजा दिए जाने की मांग की। इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में इनेलो के एक प्रतिनिधिमण्डल ने राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी को प्रदेश की मौजूदा स्थिति से अवगत करवाते हुए कहा कि प्रदेश सरकार अपने संवैधानिक कर्तव्य का पालन करने में विफल रही है और अनेक लोगों की न सिर्फ बहुमूल्य जानें चली गई बल्कि हजारों करोड़ रुपए के निजी व सार्वजनिक सम्पत्ति को भी नुकसान पहुंचा है। इनेलो प्रतिनिधिमण्डल में अभय चौटाला के अलावा पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, विधायक दल के उपनेता जसविंद्र सिंह संधू, विधायक प्रो. रविंद्र सिंह बलियाला, आरएस चौधरी, बीडी ढालिया, एमएस मलिक, पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, मीडिया प्रभारी राम सिंह बराड़, कार्यालय सचिव एनएस मल्हान, अशोक शेरवाल, प्रवीन अत्रे व हरबंस सिंह भी शामिल थे।  नेता प्रतिपक्ष ने तुरंत विधानसभा का सत्र बुला दो लाइन का प्रस्ताव पारित कर सरकार से अपना वादा निभाने को कहा।
नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश की मौजूदा स्थिति पिछले काफी समय से निरंतर बिगड़ रही थी और भाजपा के एक सांसद द्वारा आए दिन एक जाति विशेष के खिलाफ अनर्गल भाषा व उत्तेजनात्मक बयानों से राज्य के सौहार्दपूर्ण वातावरण को बिगाड़ा जा रहा था। इनेलो सहित राज्य के अनेक वर्गों ने सरकार से आग्रह किया था कि ऐसे नेता पर अंकुश लगाने के साथ उस पर समाज को बांटने के आरोप में भी कार्रवाई की जाए लेकिन इनेलो की इस चेतावनी को निरंतर अनदेखा किया गया। उन्होंने कहा कि इसी का नतीजा है कि आज प्रदेश हिंसा की आग में जल रहा है और अनेक जानें चली गई हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की मौजूदा स्थिति के लिए राज्य सरकार पूरी तरह से जिम्मेदार है क्योंकि प्रदेश का राजनीतिक नेतृत्व प्रशासन को अपेक्षित दिशा देने में पूरी तरह से विफल रहा और सरकार ने न तो जनभावनाओं का गम्भीरता से सही आकलन किया और न ही जब हिंसा भडक़ी तो उसको काबू करने की सरकार द्वारा इच्छाशक्ति दिखाई दी। उन्होंने कहा कि आरक्षण को लेकर जाटों के आंदोलन के प्रारम्भिक दिनों में सरकार द्वारा किसी भरोसेमंद मध्यस्थ द्वारा बातचीत करना तो दूर उसने उन नेताओं पर भी लगाम लगाना जरूरी नहीं समझा जो न केवल एक जाति विशेष के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करते रहे बल्कि राज्य में गृह युद्ध जैसी स्थिति बनाने के लिए भी प्रयत्नशील दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि संवैधानिक दायित्व का पालन करने में पूरी तरह से विफल रही प्रदेश सरकार को एक दिन भी सत्ता में बने रहने का अधिकार नहीं है इसलिए इनेलो महामहिम से राज्य सरकार को तुरंत बर्खास्त किए जाने की मांग करती है।


इससे पहले पत्रकारों से बातचीत करते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा  बुलाई गई बैठक के बाद भी भाजपा नेतृत्व द्वारा पूरी तरह भ्रम की स्थिति पैदा की गई। उन्होंने कहा कि भाजपा पिछले एक साल से जाटों को आरक्षण देने का जब वादा कर रही है तो उन्हें तुरंत विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर इस बारे विधेयक लाना चाहिए और आज राज्य मंत्रिमण्डल की हो रही बैठक में तुरंत सत्र बुलाने की घोषणा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि एक साल पहले जब सर्वोच्च न्यायालय से जाट आरक्षण के खिलाफ फैसला आया था तो मुख्यमंत्री से लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व प्रधानमंत्री तक ने जाटों को आरक्षण देने का वादा किया था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री हरियाणा को अपना दूसरा घर बताते रहे हैं और अब उनका दूसरा घर जल रहा है, पूरी दुनियां चिंतित है ऐसे में प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी बनती है कि वे लोगों की भावनाओं को समझते हुए वादा पूरा करने का भरोसा देकर प्रदेश में शांति बनाए रखने की पहल करें।
इनेलो नेता ने प्रदेश में लोगों को भडक़ाकर जातीय झगड़े करवाने और राज्य को आग में झोंकने वाले कुरुक्षेत्र के भाजपा सांसद राजकुमार सैनी के खिलाफ सरकार तुरंत मामला दर्ज कर कार्रवाई करे। उन्होंने आंदोलन में मारे गए लोगों के परिवारों को 25-25 लाख रुपए मुआवजा और नौकरी के साथ-साथ जिन दुकानदारों की दुकानें व मकान जलाए गए हैं उन्हें सरकार की ओर से मुआवजा दिए जाने की मांग की ताकि उनके नुकसान की भरपाई हो सके। उन्होंने प्रदेश की 36 बिरादरी से अपील की कि वे सदियों से अपने भाईचारे को बनाए रखते हुए शांति कायम करें और किसी के भी बहकावे में न आएं। उन्होंने कहा कि सरकार में बैठे मंत्री, विधायकों व सांसदों का पिछले कई दिनों से इस पूरे घटनाक्रम पर कोई बयान नहीं आ रहा और वे लोग न जाने कहां छिपकर बैठ गए हैं? उन्होंने कहा कि आज सरकार में मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री तक सब पीछे हट गए हैं और गृह सचिव व डीजीपी को आगे कर दिया है जबकि प्रदेश के लोग अपने निर्वाचित प्रतिनिधियों से जवाब मांग रहे हैं।
नेता प्रतिपक्ष ने सवालों के जवाब में कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के राजनीतिक सलाहकार की ऑडियो क्लीप जारी होने से साफ हो गया है कि शांतिपूर्वक धरना देने वालों को कैसे उकसाने की कोशिश की गई और अब भूपेंद्र हुड्डा  खुद दिल्ली जाकर बैठ गया है और आरक्षण की मांग पर कुछ भी नहीं बोल रहा। उन्होंने इस ऑडियो क्लीप की सरकार से जांच करवाए जाने और दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग करते हुए कहा कि इससे यह भी साफ हो गया है कि सरकार सबके फोन असंवैधानिक तरीके से टेप कर रही है। उन्होंने भिवानी व रोहतक के भाजपा नेताओं द्वारा झगड़ों की शुरुआत करने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण रहा। उन्होंने कहा कि हम प्रदेश की 36 बिरादरी के लोगों से अपील करते हैं कि हम आज भी उन सबके साथ हैं। हमारे प्रदेश का भाईचारा एक मिसाल रहा है और दुख सुख में हम सब साथी रहे हैं और गांव में किसी की भी परेशानी हो तो उसे सबकी परेशानी मानते रहे हैं। हरियाणा में आज भी गांव की बेटी गांव में इसलिए नहीं ब्याही जाती क्योंकि गांव में आपसी भाईचारे के चलते पूरे गांव को एक परिवार माना जाता है और गांव में सर्वजाति सद्भाव व बढिय़ा रिश्ते रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश का मौजूदा घटनाक्रम सीएम की अनुभवहीनता और मौजूदा विवाद के लिए स्वयं भाजपा सरकार जिम्मेदार है हालांकि इसकी शुरुआत कांग्रेस ने आधे अधूरे आरक्षण देकर की।
हरियाणा में शांति व भाईचारा बनाए रखने के लिए जाट सभा की ओर से सर्वजातीय सम्मेलन आयोजित

चंडीगढ़, 22 फरवरी: जाट सभा चंडीगढ़/पंचकूला द्वारा दीनबंधु सर छोटू राम भवन सेक्टर-6 पंचकूला में सर्वधर्म व सर्वजातीय सम्मेलन आयोजित किया गया ताकि समाज में एकता, अखण्डता, सदभावना और भाईचारा बना रहे। इस अवसर पर सभी प्रबुद्ध वक्ताओं ने समाज के सभी वर्गों से अफवाहों से बचने और शांति व भाईचारा बनाए रखने की अपील की। सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल  एसके कौशल ने कहा कि फौज सदा राष्ट्र की एकता, अखण्डता बनाए रखने हेतु तत्पर रहती है, ऐसे में आज वक्त है कि समाज अपने आपसी मतभेद भुला और सभी वर्गों में भाईचारा व शांति बनाए रखे।
जाट सभा के प्रधान डॉ. एमएस मलिक ने कहा कि जाट सभा ने करीब दो महीने पहले सरकार को आगाह किया था कि फरवरी में आंदोलन होगा लेकिन सरकार के सिर पर जूं तक नहीं रेंगी। सरकार अनदेखी करने की बजाय सद्भावना बैठी बुलाई जाती और सभी मुद्दों का कोई शांतिपूर्वक हल निकल आता। उन्होंने कहा कि आज इनेलो का एक प्रतिनिधिमण्डल नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय चौटाला के नेतृत्व में राज्यपाल से मिला था और जिन लोगों को नुकसान हुआ है उनकी भरपाई के साथ-साथ हताहत लोगों को 25 लाख रुपए का मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को नौकरी के साथ-साथ उच्च न्यायालय के किसी न्यायाधीश से आंदोलन के कारणों की जांच करवाए जाने की मांग के साथ-साथ विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर आरक्षण पर प्रस्ताव पारित कर केंद्र सरकार को कार्रवाई हेतु भेजे जाने की मांग की गई।
उन्होंने कहा कि इनेलो किसी के नुकसान की पक्षधर नहीं है और समाज में शांति व सद्भावना बनाए रखी जाए इसी की अपील करती है। हक मांगना प्रत्येक का संवैधानिक अधिकार है लेकिन इसमें हिंसा का कोई स्थान नहीं है। डॉ. मलिक ने कहा कि रोहतक और सोनीपत के जनप्रतिनिधियों से पूछा जाए कि उन्होंने समाज में आपसी सद्भावना बनाए रखने हेतु कोई पहल क्यों नहीं की? इस अवसर पर यमुनानगर से जाहिद खान, रतिया से विधायक प्रा्र. रविंद्र सिंह बलियाला और रोड़ बिरादरी के प्रधान चौधरी जोगीराम ने भी समाज को शांति व भाईचारा बनाए रखने की अपील की। डॉ. मलिक ने कहा कि इनेलो ही एकमात्र ऐसा राजनीतिक दल है जिसने न सिर्फ प्रदेश में शांति बहाली के लिए गम्भीर प्रयास किए बल्कि राज्यपाल को ज्ञापन देकर शांति बहाल करने के लिए तुरंत उचित कदम उठाए जाने और विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर मसला शीघ्र अति शीघ्र सुलझाए जाने की मांग की।
बैठक में सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर एसएस काहलों, पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू, रिटायर्ड आईएएस अधिकारी आरएस चौधरी व बीडी ढालिया, पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, सीमा चौधरी, इंद्रजीत वड़ैच, एसपी अरोड़ा सहित करीब दो सौ लोग मौजूद थे और सेवानिवृत्त लेटि. जनरल डीपी वत्स ने भी जाट सभा की ओर से शांति बहाली व लोगों में आपसी पे्रम प्यार और भाईचारा बनाए रखने के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए लोगों से आपसी सद्भाव बनाए रखने का आग्रह किया।

इनेलो का बिजली बिलों को लेकर चल रहा बेमियादी धरना फिलहाल स्थगित

चंडीगढ़, 20 फरवरी: इनेलो ने बिजली दरों में बढ़ौतरी के खिलाफ पंचकूला में चल रहा अनिश्चितकालीन धरना प्रदेश में चल रहे आंदोलन व तनावपूर्ण स्थिति के दृष्टिगत फिलहाल स्थगित कर दिया है। यह घोषणा  इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने शनिवार को यहां की। पिछले करीब तीन महीनों से बिजली बोर्ड मुख्यालय शक्ति भवन के समक्ष इनेलो की ओर से धरना दिया जा रहा था और इनेलो की मांग थी कि प्रदेश सरकार द्वारा बिजली की दरों में की गई बेतहाशा वृद्धि को वापिस लिया जाए।

चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश के हालात सामान्य होने के बाद धरना फिर से जारी रखा जाएगा और जब तक बिजली दरों में की गई बढ़ौतरी वापिस नहीं ली जाती तब तक इनेलो का बेमियादी धरना पहले की तरह जारी रहेगा। नेता प्रतिपक्ष ने प्रदेश में घटी हिंसक घटनाओं और मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति पर चिंता जताते हुए सरकार से मौजूदा मसले को सूझबूझ से हल करने और लोगों से शांति व सद्भाव बनाए रखने का आग्रह किया। नेता प्रतिपक्ष ने प्रदेश के बिगड़े हुए हालात और तनावपूर्ण स्थिति के लिए पूरी तरह से भाजपा नेताओं और सरकार में बैठे लोगों की गैर जिम्मेदाराना बयानबाजी को जिम्मेदार ठहराया।

प्रदेश की भाजपा सरकार बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाए: इनेलो 


चंडीगढ़, 20 फरवरी: इनेलो ने प्रदेश के बिगड़े हुए हालात के लिए भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए राष्ट्रपति से भाजपा सरकार बर्खास्त कर प्रदेश में राष्ट्रप्रति शासन लगाए जाने की मांग की है।  इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि रोहतक, भिवानी व कलायत में भाजपा नेताओं ने आग लगाने व अशांति फैलाने का काम किया और आज हालात इस कद्र बिगड़ चुके हैं कि सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है और पूरी तरह से बेकाबू हो गए हैं। उन्होंने प्रदेश की जनता व जाट आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन करने वाले आंदोलनकारियों से आपसी भाईचारा और शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि वे प्रदेश का भाईचारा खराब न होने दें।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से जाट आरक्षण की मांग को लेकर प्रदेश के जाट धरना दे रहे थे और कहीं भी कोई छोटी मोटी घटना भी नहीं हुई और वे शांतिपूर्वक आंदोलन चला रहे थे। इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा के लोगों ने आंदोलन को उग्र करने के लिए रोहतक व भिवानी में चिंगारी लगाने का काम किया और 35 जातियों के नाम पर पहले अदालत में बैठे वकीलों पर हमला बोला और फिर भिवानी में भाजपा के पदाधिकारी जिला प्रधान के नेतृत्व में लाठियां गंडासे लेकर आग लगाने निकले और सबसे पहले जाट धर्मशाला व उनकी पार्टी के कार्यालय को निशाना बनाने के साथ पेट्रोल पम्प को भी आग के हवाले किया और दीवारों पर चढक़र पत्थर मारने का काम किया।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पहले कांग्रेस ने पिछले चुनाव में जाटों के वोट हासिल करने के लिए आधे अधूरे तरीके से आरक्षण लागू किया और फिर भाजपा ने ठीक से पैरवी न की और अदालत में आरक्षण टिक नहीं पाया। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता बिरेंद्र सिंह, ओमप्रकाश धनखड़, कैप्टन अभिमन्यु व सुभाष बराला ने पहले जाटों को आरक्षण दिलाने के नाम पर सीएम से मुलाकात करवाई और फिर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व नरेंद्र मोदी से भेंट करवाई और हर जगह से उन्हें यही भरोसा दिया गया कि भाजपा आरक्षण देने की पक्षधर है। उन्होंने कहा कि जाटों को आरक्षण देने की बजाय कुरुक्षेत्र से भाजपा सांसद राजकुमार सैनी सहित भाजपा के कई नेताओं ने न सिर्फ अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए बार-बार एक जाति विशेष को निशाना बनाया बल्कि प्रदेश के शांतिपूर्वक माहौल को भी आग में झोंकने का काम किया।
चौधरी अभय चौटाला ने कहा कि हरियाणा में हमेशा से ऐसा भाईचारा रहा है कि गांव में किसी भी जाति के अगर एक व्यक्ति के दांत में दर्द भी होता था तो पूरा गांव उनके दुख दर्द में शामिल होता था। भाजपा ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोगों के आपसी भाईचारे को तोडऩे का काम किया है जिसका सबक आने वाले समय में लोग इन्हें सिखाएंगे। उन्होंने कहा कि पिछले विस सत्र में इनेलो जाट आरक्षण के मुद्दे पर काम रोका प्रस्ताव लेकर आई थी और उस पर सदन में चर्चा करवाए जाने की मांग की थी। भाजपा सरकार ने पहले तो उस काम रोका प्रस्ताव को ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के रूप में स्वीकार कर लिया और बाद में प्रदेश के महाधिवक्ता से विस में यह कहकर मामले पर चर्चा करवाने से इनकार कर दिया कि मामला अदालत में है। असल में भाजपा न तो आरक्षण देना चाहती थी और न ही इस पर चर्चा चाहती थी और सिर्फ लोगों में भ्रम पैदा करने का ही काम किया। उन्होंने कहा कि हम पिछले कई महीनों से भाजपा सांसद राजकुमार सैनी द्वारा एक जाति विशेष के खिलाफ दी जा रही गालियों का मुद्दा उठाकर उस पर लगाम लगाए जाने की मांग करते रहे और यह भी कहते रहे कि अगर लगाम न लगाई गई तो इसका खमियाजा सबको भुगतना पड़ सकता है।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मौजूदा हालात के लिए कांग्रेस व भाजपा दोनों दल जिम्मेदार हैं और एक तरफ जहां कन्हैया द्वारा जेएनयू में दिए गए भाषण जिसकी फुटेज भी उपलब्ध नहीं है, को लेकर देशद्रोह का मुकद्दमा चलाया जा रहा है तो वहीं देश की रक्षा करने वाले और देश के लिए सबसे ज्यादा शहादत देने वालों को कुरुक्षेत्र के सांसद के संगठन से जुड़ी हुई एक महिला नेत्री निरंतर आतंकवादी बताकर जो आग लगाने का काम करती रही है, उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि सरकार के पास एक साल का समय था और यह समय थोड़ा नहीं होता और अगर सरकार की नीयत ठीक होती तो इस मसले को समय रहते सुलझाया जा सकता था। उन्होंने सरकार व भाजपा नेताओं को पूरे घटनाक्रम व तनावपूर्ण माहौल के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि आंदोलनकारियों से फिर अपील की कि वे पूरी तरह से शंाति बनाए रखें और किसी भी कीमत पर आपसी भाईचारा खराब न होने दें। उन्होंने कहा कि अगर मुख्यमंत्री अपने आपको अनुभवहीन मानते हैं और स्थिति से निपटने में सक्षम नहीं मानते हैं तो उन्हें एक पल भी सीएम पद पर बने रहने का कोई नैतिक व लोकतांत्रिक अधिकार नहीं है। उन्होंने प्रदेश सरकार को बिगड़े हुए हालात को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि आज प्रदेश की स्थिति सरकार के नियंत्रण से बाहर है इसलिए तुरंत प्रदेश की भाजपा सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार व भाजपा की नालायकी से रोहतक में कल तीन बेकसूर लोगों की जान चली गई और आज भी झज्जर में दो लोगों के मरने की खबरें आ रही हैं जिनकी अभी तक पुष्टि नहीं हो पाई। इनेलो नेता ने गुडग़ांव में पूर्व डिप्टी स्पीकर के संस्थान पर पत्रकारों से बातचीत की और लोगों को अफवाहों से सावधान रहने व संयम बरतने की भी अपील भी। इस अवसर पर पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत, इनेलो नेता अनंत राम तंवर, राजेश सूटा व दलबीर सिंह धनखड़ भी मौजूद थे।

Friday, February 19, 2016

सर्वदलीय बैठक में इनेलो का स्टेंड, जाटों सहित पांचों जातियों को आरक्षण दिया जाए: अरोड़ा

प्रदेश के तनावपूर्ण माहौल के लिए सीधे तौर पर भाजपा नेताओं की बयानबाजी जिम्मेदार: इनेलो

माहौल शांत करने के लिए भाजपा सांसद कहे शब्द वापिस ले और सार्वजनिक माफी मांगे

लोगों से आपसी प्रेम प्यार और सामाजिक भाईचारा बनाए रखने व अफ़वाहों से सावधान रहने का आग्रह

चंडीगढ़, 19 फरवरी: इनेलो ने आज मुख्यमंत्री द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में स्पष्ट कहा कि इनेलो जाटों सहित पांचों जातियों को आरक्षण दिए जाने की पक्षधर है और सरकार जल्द हरियाणा विधानसभा का सत्र बुलाकर तामिलनाडु की तर्ज पर जाटों सहित जट सिख रोड़, बिश्नोई व त्यागी जातियों को आरक्षण का लाभ दे। सर्वदलीय बैठक में आज इनेलो की ओर से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा व पूर्व कृषि मंत्री व विधानसभा में इनेलो विधायक दल के उपनेता जसविंदर सिंह संधू ने हिस्सा लिया। इनेलो नेताओं ने प्रदेश की जनता से भी आग्रह किया कि वे आपसी पे्रम-प्यार, भाईचारा व सामाजिक सद्भाव बनाए रखें और किसी प्रकार की उत्तेजना व भ्रामक प्रचार का शिकार न हों। 
श्री अरोड़ा ने प्रदेश के मौजूदा हालात के लिए भाजपा नेताओं की गैर जिम्मेदाराना बयानबाजी को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि भाजपा के कुरुक्षेत्र से सांसद द्वारा बार-बार सामाजिक सद्भाव को तोडऩे वाले और प्रदेश के आपसी भाईचारे में कटुता पैदा करने वाली बयानबाजी का ही यह नतीजा है। इनेलो नेता ने कहा कि प्रदेश के मौजूदा टकरावपूर्ण माहौल को शांत करने के लिए भाजपा सांसद को अपने कहे गए शब्द तुरंत वापिस लेकर प्रदेश की जनता से तुरंत सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए ताकि लोगों में आपसी पे्रम-प्यार और सामाजिक सद्भाव बना रहे। 
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने बैठक में भाजपा नेताओं व सरकार के प्रतिनिधियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आज सरकार प्रदेश के मौजूदा हालातों के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार है क्योंकि सरकार सिर्फ यही भाषा समझती है और लोगों द्वारा शांतिपूर्वक दिए जाने वाले धरने/प्रदर्शन को तो गम्भीरता से ही नहीं लेती। उन्होंने कहा कि पिछले तीन महीनों से बिजली बिलों में की गई बेतहाशा वृद्धि के खिलाफ इनेलो कार्यकर्ता बोर्ड मुख्यालय शक्ति भवन के समक्ष धरने पर बैठे हैं और प्रदेश के अधिकांश मंत्री विधायक व अधिकारी रोजाना वहां सामने से गुजरते हैं और आज तक किसी ने शांतिपूर्वक धरना देने वालों को पूछा तक नहीं और मामले को सुलझाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया क्योंकि सरकार प्यार की भाषा ही नहीं समझती। उसी का नतीजा है जो आज पूरे प्रदेश में जगह-जगह रास्ते बंद हैं।
श्री अरोड़ा ने बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी किसी भी अन्य जाति को मिल रहे आरक्षण को काटने की पक्षधर नहीं है बल्कि जाटों सहित पांचों जातियों को आरक्षण देने की मांग करती है। उन्होंने कहा कि 1990 में मंडल आयोग के समय खेती पर निर्भर यादव, गुज्जर, सैनी, मेव व लोढा जैसी जातियों को जो खेती पर निर्भर थी और खेत निरंतर घट रहे थे उस आधार पर उन्हें बीसी(बी) के तहत आरक्षण दिया गया था अब खेती से जुड़ी जाट, जट सिख, बिश्रोई, रोड़ व त्यागी जाति के लोगों को भी नौवें शैड्यूल में डालकर आरक्षण का लाभ दिया जा सकता है। प्रदेश सरकार विधानसभा का तुरंत सत्र बुलाकर इस बारे में विधेयक लाने का काम करे। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि आगामी विस सत्र में अगर सरकार इन पांचों जातियों को आरक्षण का लाभ देकर बिल लेकर नहीं आएगी तो इनेलो प्राइवेट बिल लाएगी ताकि इन जातियों को आरक्षण का लाभ दिया जा सके। उन्होंने कहा कि तामिलनाडु में 69 प्रतिशत आरक्षण मिला हुआ है और हरियाणा में भी उसी तर्ज पर आरक्षण का लाभ इन पांचों जातियों को दिया जा सकता है। उन्होंने सरकार व भाजपा नेताओं से टकराव व टालमटोल का रवैया छोड़ जाटों सहित पांचों जातियों को तुरंत आरक्षण का लाभ दिए जाने की मांग की।

भाजपा को नही जनता के हितों से कोई सरोकार:- अशोक अरोड़ा


पंचकूला, 19 फरवरी : बिजली की तीन गुणा वृद्धि के आरोपों को लेकर 23 नवंबर से जारी अनिश्चिकालीन धरने में शुक्रवार को ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और मौजूदा सरकार की तीखे शब्दों में आलोचना करते हुए तानाशाही सरकार करार दिया। धरने का नेतृत्व पूर्व विधायक भाघाी राम ने किया। इस मौके पर पूर्व विधायक व जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी, कुलभुषण गोयल इत्यादि मौजूद थे।
इनैलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज भाजपा सरकार की गलत नीतियां प्रदेश के विकास में रोड़ा बनती जा रही है। सरकार ने एक भी ऐसा फैसला आज तक लेने का काम नही किया। जिसके चलते जनता में भारी रोष है। उन्होंने कहा कि बिजली की तीन गुणा वृद्धि को लेकर भाजपा का तानाशाही रवैया इस बात के सकेंत दे रहा है कि भाजपा सरकार को जनता के हितों से कोई सरोकार नही है। आज बिजली उपभोक्ताओं की पीड़ा को लेकर इनैलो लगातार अढ़ाई महीने  से ज्यादा वक्त हो गया, शक्ति भवन के सामने धरना देकर सरकार को जगाने का काम कर रही है। ताकि बिजली उपभोक्ताओं पर पड़े करीब साड़े 24 सौ करोड़ के बोझ से सरकार राहत देने का काम करें। उन्होंने कहा कि किसान के साथ भाजपा ने डबल ठगी करने का काम किया। पहले उसकी बासमती धान की कीमत को सामान्य श्रेणी की धान के बराबर कर दिया और फिर जब किसान धान बेचने मंडी में गया तो वहां किसान से जे-फार्म के नाम पर लूट की गई। 
पूर्व विधायक भाघी राम ने कहा कि कांग्रेस के 10 सालों से जनता इस कदर दुखी और परेशान हो चुकी थी कि भाजपा के झुठे वायदों के जाल में फंस गई और केन्द्र और राज्य की सत्ता भाजपा का थमा बैठी, आज भाजपा अपनी मनमर्जी के फैसले लेकर जनता को लगातार प्रताडि़त करने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का हर वर्ग आज समस्याओं से जुझ रहा है और सरकार के सवा एक वर्ष के कार्यकाल में सरकार जनता की समस्याओं को लेकर थोड़ा भी गंभीर नजर नही आ रही है। सरकार को गहरी नींद से जागना होगा और जनता के हितों के लिए काम करना होगा, ताकि प्रदेश तरक्की की ओर बढ़ सके, आज प्रदेश देश के अन्य राज्यों के मुकाबले हर क्षेत्र में लगातार पिछड़ता जा रहा है।

Thursday, February 18, 2016

इनेलो ने जाट आरक्षण मुद्दे पर तुरंत विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए: अभय चौटाला


चंडीगढ़, 18 फरवरी: इनेलो ने जाट आरक्षण की मांग का समर्थन करते हुए विधानसभा का तुरंत विशेष सत्र बुलाए जाने और आरक्षण दिए जाने संबंधी विधानसभा में दो लाइन का प्रस्ताव पारित कर इसे केंद्र को भेजे जाने व लोकसभा से पास करवाकर तुरंत जाटों सहित पांचों जातियों को आरक्षण का लाभ दिए जाने की मांग की है। नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि देश में जिन अन्य जातियों को आरक्षण का लाभ दिया गया है वह लाभ उन्हें पूरे देश में दिया गया है जबकि जाटों को चार राज्यों में जो आरक्षण का लाभ मिल रहा है उसे पूरे देश में लागू किया जाना चाहिए। नेता प्रतिपक्ष ने प्रदेशवासियों से आपसी पे्रम-प्यार, भाईचारा और शांति बनाए रखने व अफवाहें फैलाने वालों से सावधान रहने का आग्रह किया।
इनेलो नेता ने कहा कि उनकी पार्टी का इस बारे में स्टेंड पूरी तरह से स्पष्ट है और इनेलो आरक्षण के पक्ष में है और पार्टी इस बारे 15 फरवरी को राज्य कार्यकारिणी की बैठक में एक प्रस्ताव भी पारित कर चुकी है। इनेलो नेता ने भाजपा नेताओं पर आरक्षण के नाम पर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि एक तरफ तो भाजपा नेता कहते हंै कि वे आरक्षण के पक्षधर हैं लेकिन दूसरी तरफ अपने एक सांसद से आए दिन एक जाति विशेष व आरक्षण के खिलाफ ऐसे बयान दिलवाए जा रहे हैं जो प्रदेश के सामाजिक भाईचारे को तोडऩे का प्रयास है। उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश में जाटों सहित पांचों जातियों को आरक्षण का लाभ दे दिया गया था लेकिन सर्वोच्च न्यायालय द्वारा इस बारे में दिए गए फैसले के बाद प्रदेश विधानसभा व लोकसभा में विधेयक जाकर जाटों को आरक्षण दिए जाने का निर्णय लिया जाना चाहिए ताकि आगे कोई कानूनी अड़चन न रहे। उन्होंने कहा कि सरकार जानबूझकर मामले को लटकाने के लिए कभी मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी गठित करने की बात कहती है तो कभी अपनी पार्टी के सांसद से आरक्षण के खिलाफ न सिर्फ बयानबाजी दिलवाती है बल्कि जहरीली भाषा का इस्तेमाल कर प्रदेश के माहौल को भी बिगाडऩे में लगी हुई है जिससे साफ है कि भाजपा की नीयत इस मामले में ठीक नहीं है।


इससे पहले आज नई अनाज मंडी नूँह में इनेलो के जिला मेवात के कार्यकर्ताओं की जिलास्तरीय बैठक का आयोजन हुआ जिसमें मुख्य अतिथि विधानसभा प्रतिपक्ष नेता चौधरी अभय सिहं चौटाला ने मेवात के कार्यकर्ताओं की जिला स्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए भाजपा सरकार पर जनविरोधी नीतियां अपनाने और लोगों से किए गए वायदों के खिलाफ काम करने का आरोप लगाया। इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा ने किसानों को कृषि उपजों के लाभप्रद मूल्य देने के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू किए जाने, बेरोजगारों को छह हजार व नौ हजार रुपए बेरोजगारी भत्ता देने, कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान व भत्ते देने, बुढ़ापा पेंशन दो हजार रुपए महीना देने और गेस्ट टीचरों सहित सभी अस्थायी कर्मचारियों को पक्के किए जाने का वायदा किया था लेकिन भाजपा सरकार ने अपना वादा पूरा करने की बजाय वायदों के ठीक विपरीत काम किया।
इनेलो नेता ने कहा कि एक तरफ सरकार अपने आप बिजली घर बंद करके अडाणी जैसी कम्पनियों से सवा तीन रुपए प्रति यूनिट बिजली खरीद रही है और वहीं दूसरी तरफ आम उपभोक्ताओं को करीब दस रुपए प्रति यूनिट बिजली की आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने कहा कि जब सरकार ने अपने ताप बिजली घरों में उत्पादन बंद कर दिया और बिजली कर्मचारी खाली बैठे वेतन पा रहे हैं तो इससे होने वाले नुकसान का खामियाजा आम बिजली उपभोक्ताओं को उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश का हर वर्ग भाजपा सरकार से बेहद निराश और परेशान है और जल्द से जल्द  इस सरकार से छुटकारा पाना चाहती है। उन्होंने कहा कि जब तक बिजली बिलों में की गई बढ़ौतरी वापिस नहीं ली जाएगी तब तक इनेलो का बेमियादी धरना जारी रहेगा और सरकार को बिजली के बढ़े हुए दाम वापिस लेने के लिए बाध्य किया जाएगा। नेता प्रतिपक्ष ने नूंह के अलावा फरीदाबाद व पलवल जिलों में भी पार्टी कार्यकर्ताओं की जिलास्तरीय बैठकों को सम्बोधित किया।
नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव का समय था और भाजपा ने ऐसे वक्त में जनता के समक्ष वोट के लालच में झूठ और फरेब का ऐसा जाल बिछाया जिसके दम पर उसने सत्ता तो हासिल कर ली लेकिन जनता से किए एक भी वायदें को पूरा करने का जहन नही उठाया। भाजपा के काम नहीं करने की आदत आज प्रदेश की जनता में उसके प्रति सबसे बड़ा रोष का कारण बन चुकी है। कार्यकर्ता सम्मेलन को पूर्व डिप्टी स्पीकर श्री गोपीचंद गहलोत, विधायक नसीम अहमद, पूर्व मंत्री चौ0 मौ0 ईलियास, जिलाध्यक्ष चौ0 बदरुद्दीन, हाजी सुबराती खान, चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट, चौ0 मौ0 तलहा एडवोकेट आदि ने भी कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए लोगों से अपील की कि 6 मार्च को करनाल रैली में जिला मेवात से  ज्यादा से जयादा सँख्या में लोग भाग लें। इस अवसर पर गणेशदास अरोड़ा, हरीश मलिक, मिठ्ठन भारद्वाज, महिला जिलाध्यक्ष सरोज बाला, प्रकाश सरपंच किरा, एलियाकत सूडाका, निसार पहलवान आदि हजारों इनेलो कार्यकर्ता मौजूद थे।
इनेलो जाट आरक्षण की पक्षधर: अशोक अरोड़ा 


चंडीगढ़, 18 फरवरी: हरियाणा विधानसभा के पूर्व स्पीकर एवं इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि इनेलो जाटों के आरक्षण की पक्षधर है। इसके साथ रोड़, त्यागी, बिश्रोई व जटसिख समुदाय को आरक्षण मिलें। श्री अरोड़ा आज कैथल में पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा के निवास पर पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर भी जाटों को आरक्षण देने के पक्ष में है। अब कायदा यह है कि विधिवत विधानसभा व संसद में विधेयक लाकर इसे कानून की शक्ल दें ताकि जाटों को कानूनन आरक्षण मिले। उन्होंने कहा कि सरकार सुप्रीम कोर्ट का हवाला देकर जाट आरक्षण में बाधा डाल रही है यदि विधेयक लाकर इसे कानून का दर्जा दिया तो आरक्षण में कोई रुकावट नहीं रहेगी।
इनेलो नेता ने कहा कि सरकार अगर भडक़ाऊ बयानबाजी व उत्तेजना पैदा करने वाले लोगों के खिलाफ समय रहते कार्रवाई करती तो आज प्रदेश में ऐसे हालात पैदा न होते। उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने, अफवाहों से सावधान रहने, किसी के उकसावे में आकर आपस में झगड़े न करने का आह्वान करते हुए आपस में पूरी तरह से पे्रम-प्यार, भाईचारा और संयम बनाए रखने की अपील की। श्री अरोड़ा ने कहा कि इससे पूर्व अहीर, सैनी व अन्य जातियों को जो आरक्षण का लाभ मिला था उन्हें खेती से किसान के रूप में जुड़े होने के कारण यह आरक्षण मिला। जाट समुदाय भी मूलत: खेतीबाड़ी से जुड़ा है और वर्तमान परिवेश में घटती जोत के कारण ख्ेाती घाटे का सौदा हो गई है अत: जाट समुदाय को राहत प्रदान करते हुए इन्हें आरक्षण का लाभ दिया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि हरियाणा में भाजपा सरकार में बैठे मंत्री भी जाटों के आरक्षण के पक्षधर नहीं है और वहीं इस काम को अंजाम पहुंचाने में बाधाएं उत्पन्न कर रहे हैं। भारतीय जनता पाटी के लोग यदि चाहते तो अब तक आरक्षण का लाभ मिल गया होता। आरक्षण के हो रहे विलम्ब और धरने प्रदर्शनों के लिए भाजपा स्वयं जिम्मेदार है। 
उन्होंने यह भी कहा कि इनेलो सदैव लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास रखकर जनहित में जरूरी कदम उठाती आई है लेकिन भारतीय जनता पार्टी की यह सरकार केवल धरने और प्रदर्शनों की भाषा ही समझती है इसलिए जाट बिरादरी मजबूर होकर अपने कामकाज छोडक़र सडक़ों पर बैठी है। शांतिपूर्वक अपनी बात को रखने से भाजपा सरकार के कान पर कभी भी जूं तक नहीं रेंगी है इसका एक मात्र उदाहरण इनेलो द्वारा पंचकूला शक्ति भवन में क्रमबद्ध बिजली बिलों की बढ़ौतरी को लेकर चलाए जा रहे अनशन है जिसका अब तक सरकार पर रतीभर भी असर नहीं पड़ा है। अत: सरकार को समझाने का तरीका भी अब यही रह गया है कि जाम, धरने, प्रदर्शन किए जाए ताकि प्रदेश सरकार जनता की तकलीफों और मुसीबतों को समझकर उनका समाधान करें।
पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने कहा कि हरियाणा सरकार ने आर्थिक आधार पर 20 प्रतिशत आरक्षण देने की जो पेशकश की है वह कतई मंजूर नहीं है, जाटों सहित पांचों जातियों को जाति के आधार पर आरक्षण मिलना चाहिए जिसके वे हकदार है। उन्होंने कहा कि जाट समुदाय आरक्षण के मुद्दे को लेकर इनैलो से किसी प्रकार का भी समर्थन चाहेगा तो यह पार्टी इसके लिए पूरी तरह तैयार है। जाट आरक्षण का विधेयक विधानसभा में लाकर कानून रूप दिया जाए और तमिलनाडू की तर्ज पर हरियाणा में भी जाटों को आरक्षण मिले। इस मौके पर इनेलो जिलाध्यक्ष पंडित कंवरपाल करोड़ा, युवा नेता जसमेर तितरम, अजमेर गोलन, पार्षद इंद्र ढुल पाई, सुरेश माजरा, संदीप जुलानीखेड़ा, राममेहर खुराना सहित इनेलो पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।
 बिजली दरों के विरोध में बरवाला हल्के के कार्यकर्ताओं ने शक्ति भवन के सामने धरना दिया 



पंचकूला, 18 फरवरी : बिजली बिलों की बढ़ौत्तरी को लेकर अनिश्चितकालीन धरने पर वीरवर को हिसार जिला के बरवाला हलका के कार्यकर्ताओं  ने धरना दिया और अपना विरोध जताया। धरने में विधायक अनूप धानक, विधायक वेद नारंग, पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, कुलभुषण गोयल, जिला प्रवक्ता एस.पी. अरोड़ा, जिला महासचिव व सरपंच कामी विजेन्द्र शर्मा, बरवाला हलका प्रधान सत्यावाद, सुरेन्द्र कूंडू, जसबीर सिंह भी मौजूद थे।
इनैलो विधायक अनूप धानक व वेद नारंग ने धरने के दौरान भाजपा सरकार की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि पब्लिक के हितों की लड़ाई लडऩा हमारा कर्म है और बिजली बिलों की भारी बढ़ोत्तरी के विरोध में शक्ति भवन के सामने धरना जारी रहेगा। फिर भी सरकार नही जागी तो इसके लिए चाहे हमें आमरण अनशन पर क्यों नही बैठना पड़े, चाहे बाजार बंद करके इसका विरोध करना पड़े, लेकिन लोगों के हितों से खिलवाड़ भाजपा को किसी भी सूरत में करने नही दिया जाएगा। विधायकों ने कहा कि इनैलो पार्टी के कार्यकत्र्ता, नेता, पदाधिकारी व पार्टी से सहानुभूति रखने वाले हर घर, हर मोहल्ले में भाजपा सरकार की कुतियों का खुलकर प्रचार करें और लोगों को बताए कि ये वो भाजपा है, जो मात्र वोट के लालच में इतने झुठे वायदें तक कर जाती है और फिर सत्ता हासिल कर लोगों के जख्मों पर मरहम तो क्या लगाना, उल्टा जख्मों पर नमक छिडक़ने का काम करती है। 
इनैलो पूर्व विधायक व जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कर्मचारियों का सबसे ज्यादा शोषण भाजपा कर रही है। एक तो पंजाब के समान वेतन भत्ता देने की बात की गई, जिसे सवा साल से ज्यादा हो गया, लेकिन उस पर विचार तक नही किया। दुसरा आज कर्मचारियों पर कई प्रकार के दबाव डालकर उन्हें प्रताडि़त किया जा रहा है। युवा नौकरी की तलाश में भटक रहा है और उसे नौकरी तो दूर, बेरोजगारी भत्ता भी कहें वायदे अनुसार देने से पीछे हटे हुए है। 

Wednesday, February 17, 2016

समाज का हर वर्ग भाजपा सरकार से बेहद निराश व परेशान


चंडीगढ़, 17 फरवरी: इनेलो उचाना हलका के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को पंचकूूला स्थित शक्ति भवन के समक्ष धरना दिया और बिजली दरों में की गई बेतहाशा वृद्धि को तुरंत वापिस लिए जाने और सरकार से अपनी जनविरोधी नीतियों को बदले जाने की मांग की गई। धरने का नेतृत्व पूर्व विधायक व जींद जिला इनेलो अध्यक्ष कलीराम पटवारी ने किया। धरने में सूबे सिंह लोहान, रामचंद्र जांगड़ा, पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, कुलभूषण गोयल, एनएस मल्हान व धर्मवीर सिहाग सहित पार्टी के अनेक प्रमुख कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। उल्लेखनीय है कि इनेलो कार्यकर्ता पिछले 87 दिनों से बिजली बोर्ड मुख्यालय के समक्ष बिजली की दरों में की गई बढ़ौतरी को वापिस लिए जाने की मांग को लेकर धरना दे रहे हैं।
धरने को सम्बोधित करते हुए इनेलो नेताओं ने भाजपा सरकार पर जनविरोधी नीतियां अपनाने और लोगों से किए गए वायदों के खिलाफ काम करने का आरोप लगाया। इनेलो नेताओं ने कहा कि भाजपा ने किसानों को कृषि उपजों के लाभप्रद मूल्य देने के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू किए जाने, बेरोजगारों को छह हजार व नौ हजार रुपए बेरोजगारी भत्ता देने, कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान व भत्ते देने, बुढ़ापा पेंशन दो हजार रुपए महीना देने और गेस्ट टीचरों सहित सभी अस्थायी कर्मचारियों को पक्के किए जाने का वायदा किया था लेकिन भाजपा सरकार ने अपना वादा पूरा करने की बजाय वायदों के ठीक विपरीत काम किया।
इनेलो नेताओं ने कहा कि एक तरफ सरकार अपने ताप बिजली घर बंद करके अडाणी जैसी कम्पनियों से सवा तीन रुपए प्रति यूनिट बिजली खरीद रही है और वहीं दूसरी तरफ आम उपभोक्ताओं को करीब दस रुपए प्रति यूनिट बिजली की आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने कहा कि जब सरकार ने अपने ताप बिजली घरों में उत्पादन बंद कर दिया और बिजली कर्मचारी खाली बैठे वेतन पा रहे हैं तो इससे होने वाले नुकसान का खमियाजा आम बिजली उपभोक्ताओं को उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि कच्चे मकानों में रहने वाले और कॉलोनी की झुग्गी-झोंपड़ी वालों को लाखों रुपए के बिल भेजकर सरकार जानबूझकर उन्हें परेशान कर रही है और लोगों का जीना मुहाल कर रखा है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश का हर वर्ग भाजपा सरकार से बेहद निराश और परेशान है और जल्द से जल्द  इस सरकार से छुटकारा पाना चाहता है। उन्होंने कहा कि जब तक बिजली बिलों में की गई बढ़ौतरी वापिस नहीं ली जाएगी तब तक इनेलो का बेमियादी धरना जारी रहेगा और सरकार को बिजली के बढ़े हुए दाम वापिस लेने के लिए बाध्य किया जाएगा।

Tuesday, February 16, 2016

25 फऱवरी को हांसी में इनेलो जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन 

हिसार, 17 फऱवरी : स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के बारे में विस्तार से चर्चा करने व किसानों की सफेद मक्खी से बर्बाद हुई कपास की फसलों के मुआवजे के लिए इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी की मीटिंग में पूरे प्रदेश में जिला स्तर पर कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित करने का निर्णय लिया गया था। इसी संदर्भ में 25 फरवरी गुरुवार को शाम 3 बजे जाट धर्मशाला हांसी में जिला स्तरीय सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। इसके लिए जिला हिसार के पदाधिकारियों की एक बैठक अर्बन एस्टेट हिसार में इनेलो जिला अध्यक्ष राजेन्द्र लितानी की अध्यक्षता में बुलाई गयी। बैठक में इस सम्मेलन को सफल बनाने के साथ साथ किसानों की समस्याओ के बारे में चर्चा की गयी। इनेलो जिला अध्यक्ष राजेन्द्र लितानी ने बताया कि वीरवार को होने वाले सम्मेलन को नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला, प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा के साथ साथ युवा सांसद दुष्यंत चौटाला भी सम्बोधित करेंगे। इसके अलावा बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार के छह मार्च को करनाल में होने वाले  अभिनन्दन समारोह  के लिए भी पदाधिकारियों की ड्यूटी लगाई। इनेलो जिला अध्यक्ष ने बताया कि बिजली की बढ़ी हुई दर वापस लेने के लिए पंचकुला में चलाये जा रहे धरने पर 18 फऱवरी को बरवाला हलके व 23 फऱवरी को आदमपुर हलके के कार्यकर्ता बैठेंगे। सभी पदाधिकारियों से ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुंचने की अपील की गई। लितानी ने बताया कि मौजूदा बीजेपी सरकार से हर वर्ग परेशान है। किसान युवा बेरोजगार व छोटे दुकानदार की हालत तो और भी बुरी है। सरकार में किसी की कोई सुनवाई नही हो रही, अधिकारी बेलगाम है व अपनी मनमानी कर रहे है। बैठक में विधायक रणवीर गंगवा, वेद नारंग, अनूप धानक, किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व विधायक पूर्ण सिंह डाबड़ा, शीला भ्यान, इनेलो के राष्ट्रीय सचिव चतर सिंह, राजेश गोदारा, रमेश गोदारा, सतबीर सिसाय, सत्यवान  , सतपाल टोकस, जिला पार्षद राम प्रशाद गढ़वाल, सरोज बामल, पूर्व हल्का अध्यक्ष मास्टर तारा चन्द, डॉ सत्य नारायण मंगाली सहित अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे।
बिश्नोईयों के लिए आरक्षण का समर्थन करने के लिए इनेलो का जताया आभार

हिसार, 17 फऱवरी : इनेलो की सिरसा में गत दिवस हुई प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में जाट, बिश्नोई, रोड, जट्ट सिख व त्यागी को आरक्षण दिए जाने का प्रस्ताव पास किए जाने के लिए बिश्नोई समाज के प्रबुद्ध जनों ने खुशी जाहिर करते हुए इसके लिए इनेलो के शीर्ष नेतृत्व का आभार जताया है। आदमपुर ब्लॉक समिति के पूर्व सदस्य औम प्रकाश भादू, अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा की विशेष समिति के सदस्य एडवोकेट मनदीप बिश्नोई, विक्रम देव पंवार, बार एसोसिएशन हिसार के सदस्य एडवोकेट जगदीश राय टाडा, एडवोकेट दलबीर बिश्नोई, एडवोकेट कुलबीर जांगू, सुरजीत ज्याणी व संदीप बिश्नोई ने प्रेस को जारी एक संयुक्त बयान मे कहा कि बिश्नोई जाति पूर्णत: खेती पर आधारित है व लगातार घट रही जोत व पैदावार से ये लगातार पिछड़ते जा रहे है। आरक्षण के लिए किसी भी जाति का शिक्षा, सामाजिक व आर्थिक रूप से पिछड़ा होना आधार माना गया है। जिसे केसी गुप्ता आयोग ने सही मानकर इन पांचो जातियों को आरक्षण देने की सिफारिश की थी। जिस पर विशेष पिछड़ा वर्ग के अंतर्गत इन्हें आरक्षण दिया गया था। अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा के विशेष समिति के सदस्य एडवोकेट मनदीप बिश्नोई, विक्रम देव पंवार व  आदमपुर के पूर्व ब्लॉक समिति सदस्य ओम प्रकाश भादू ने बताया कि किसी भी न्यायालय ने अब तक इस आयोग की रिपोर्ट पर कोई प्रश्नचिन्ह नहीं लगाया है। लेकिन बीजेपी सरकार ने एक साजिश के तहत इस आरक्षण के नोटिफिकेशन को वापस ले लिया। इन्होंने सरकार से मांग की है अब जब विधानसभा में प्रमुख विपक्षी दल इनेलो ने इसका समर्थन कर दिया तो मौजूदा सरकार को भी इसे विधानसभा में पास करके लागू करवाना चाहिए। इसके साथ साथ केंद्र में भी बिश्नोई सहित इन पांचो जातियों को एसबीसी के तहत आरक्षण दिलवाने की व्यवस्था की जानी चाहिए।
धरती पुत्रों को खून के आंसू रुला रही है भाजपा सरकार- डाबड़ा

हिसार, 17 फरवरी : इनेलो किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष व पूर्व विधायक पूर्ण सिंह डाबड़ा ने कहा है कि सत्ता में आने से पहले किसानों से बड़े बड़े वायदे करने वाली भाजपा ने सत्ता में आने के बाद इन धरती पुत्रों को खून के आंसू रुला रही है। उन्होंने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार केवल किसान हितैषी होने का दिखावा करती आ रही है, जिसकी पोल अब खुल कर सामने आने लगी है। सरकार के मंत्री किसानों को सुविधाएं देने की बड़ी बड़ी बातें तो करते है, परन्तु वास्तविकता से उनका कोई संबंध नहीं है। पिछले दिनों किसानों की कपास की फसल सफेद मक्खी की चपेट में आ गयी तो इनेलो की तरफ से इसकी स्पेशल गिरदावरी व सर्वे करवाकर मुआवजा देने की आवाज़ उठाई । तब सरकार ने सर्वे व गिरदावरी करवाने का आश्वासन तो दिया गया परन्तु धरातल पर कोई काम नहीं किया। यहां तक कि पंचायत चुनाव में भी बीजेपी के प्रतिनिधियों ने लोगो को कपास की फसल के मुआवजे को लेकर बरगलाने की कोशिश की तथा लोगों को कहा गया कि अगर सरकार के समर्थित उम्मीदवार को वोट नहीं दिया तो मुआवजा नहीं मिलेगा। इनेलो पूर्व विधायक डाबड़ा ने आगे कहा कि अब केंद्रीय मंत्री की चिठ्ठी ने प्रदेश सरकार के दावे की पोल पूरी तरह से खोलकर रख दी है जिसमे यह कहा गया है कि प्रदेश सरकार की तरफ से केंद्र को सफेद मक्खी से कपास की फसल खराब होने की कोई रिपोर्ट नही भेजी गयी तथा न ही किसी प्रकार के मुआवजे की मांग की गई है। डाबड़ा ने कहा कि भाजपा सरकार को  प्रदेश के इतिहास की पहली ऐसी सरकार बताया जिसके बनने के पहले महीने से ही समाज के प्रत्येक वर्ग को अपने हकों के लिए आंदोलन करते हुए धरना देना पड़ रहा है। परन्तु सरकार के कानो पर जूं तक नही रेंग रही। किसानों की फसलें लगातार खराब होती जा रही है, कपास की फसल तो सफेद मक्खी की चपेट में आ गई थी, वंही अब गेंहू की फसल पर  भी मौसम की मार पडऩे लगी है। हालात इस कदर हो गए कि किसानों के भूखे मरने की नोबत आ गयी है।  उन्होंने सरकार को चेताते हुए कहा कि अगर समय रहते सरकार ने किसानों की मांगो की तरफ ध्यान नहीं दिया तो इनेलो विधानसभा व लोकसभा में आवाज उठाने  के साथ साथ सड़कों पर भी किसानों के समर्थन में आंदोलन करने से भी पीछे नही हटेगी।


जनकल्याण की बजाय भाजपा जनता पर तानाशाही फैसले थोप रही:- विधायक बलवान


पंचकूला, 16 फरवरी : बिजली बिलों की बढ़ौत्तरी को लेकर 85 दिन से जारी इनैलो के अनिश्चिकालीन धरने में मंगलवार को फतियाबाद हलका के कार्यकत्र्र्ताओं ने मौजूदा विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया के नेतृत्व में धरना देते हुए भाजपा  सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए बिलों की बढ़ौत्तरी को वापिस लेने की मांग की। इस मौके पर इनैलो के पंचकूला जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, प्रदेश प्रवक्ता अशोक शेरवाल, कुलभुषण गोयल, जिला प्रवक्ता एवं शहरी प्रधान एस.पी अरोड़ा, हलका प्रधान रविन्द्रपाल मैहता, किसान प्रकोष्ठ जिला प्रधान मान सिंह, रूलदू कोना, देशराज खोखरा, देवराज नवानगर इत्यादि मौजूद थे।
इनैलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने भाजपा सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जिस प्रकार से बीजेपी ने तीन गुणा बिजली बिलों में बढ़ौत्तरी करके अपना तानाशाही रवैया दिखाया है, उसे ऐसी सोच नही रखनी चाहिए, बल्कि जनता के हितों के लिए जनकल्याणकारी योजनाओं पर जोर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश बिगड़ी कानून-व्यवस्था एक बेहद गंभीर मामला है, जिसके कारण आज प्रदेश की जनता अपने घर से बाहर निकलने पर कतराने लगे है, क्योंकि अपराधियों के हौंसले इतने बढ़ गए है, उन्हें किसी का डर नही है। बलवान ने कहा कि 85 दिनों से इनैलो इसलिए लगातार अनिश्चिकालीन धरने पर बैठी है, क्योंकि सरकार ने बिजली उपभोक्ताओं को बहुत बड़ी आर्थिक चोट दी है और इनैलो पार्टी की एक उपलब्धि है कि वो चाहे सत्ता में रही हो या फिर विपक्ष में उसने हमेशा जनता की आवाज उठाने के लिए संघर्ष किया है और यह संघर्ष भी तब तक जारी रहेगा, जब तक प्रदेश सरकार बिजली की बढ़ौत्तरी को वापिस नही लेती।
इनैलो प्रदेश प्रवक्ता अशोक शेरवाल ने सरकार पर आंकड़ो के माध्यम से आरोप लगाया कि लगातार सरकार की गलत नीतियों से प्रदेश की जनता कर्जदार होती जा रही है। सरकार की एक भी योजना जनहित के लिए काम नही कर रही है। जो भी सरकार ने योजनाएं चलाई है, वो एक तरह से फेल हो चुकी है। 

Monday, February 15, 2016


दस साल कांग्रेस ने जमकर लूटा अब भाजपा लूटने में जुटी - डा. पदम दहिया


पंचकूला, 15 फरवरी : चुनाव का समय था और भाजपा ने ऐसे वक्त में जनता के समक्ष वोट के लालच में झुठ और फरेब का ऐसा जाल बिछाया, जिसके दम पर उसने सत्ता तो हासिल कर ली, लेकिन जनता से किए एक भी वायदें को पूरा करने का जहन नही उठाया और भाजपा के काम नही करने की आदत आज प्रदेश की जनता में उसके प्रति सबसे बड़ा रोष का कारण बन चुकी है। यह राजनीतिक हमला सोमवार को सोनीपत जिला के खारखौदा हलके का नेतृत्व करते हुए जिला प्रधान व पूर्व विधायक डा. पदम दहिया ने कहें। इस मौके पर पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, कुलभुषण गोयल, जिला प्रवक्ता व शहरी प्रधान एस.पी अरोड़ा भी मौजूद थें।
डा. पदम दहिया ने कहा कि भाजपा सरकार पूरी तरह से हर क्षेत्र में फेल हो चुकी है और जिस भाजपा सरकार से लोगों को भ्रष्टाचार मुक्ति की उम्मीद थी, उसे भी इन्होंने 1 साल के कार्यकाल में ही तोड़ डाला और भ्रष्टाचार के उजागर हुए कई मामलों को दबाने का काम किया। दहिया ने कहा कि ऐसा इसलिए किया, क्योंकि भ्रष्टाचार करके 10 साल कांग्रेस ने प्रदेश की जनता को लूटकर अपनी जेबें भरने का काम किया और ऐसा ही लालच पाल कर भाजपा भी भ्रष्टाचार के रास्ते पर चल रही है। उन्होंने कहा कि बिजली उपभोक्तओं की जेब पर बी.जे.पी ने तीन गुणा बिजली की कीमतें बड़ाकर सबसे बड़ा डाका डालने का काम किया है और जिसके चलते साड़े 24 करोड़ का बिजली उपभोक्तओं पर बोझ डाला गया। जिसके विरोध में इनैलो लगातार अढ़ाई महीने से शक्ति भवन के सामने धरना देकर जनता के हितों की लड़ाई लड़ रही है और यह संघर्ष तब तक जारी रहेगा, जब तक भाजपा बढ़ाई गई बिजली की कीमतें वापिस नही लेगी।
धरने के दौरान इनैलो जिला प्रधान व पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी ने भी संबोधित करते हुए कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला जब प्रदेश के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने एक सम्मानता के साथ हर गांव की पंचायत के विकास के लिए खुलकर पैसा दिया। आज अपना राजनीतिक कद बढ़ाने के लिए भाजपा विकास करवाने के लिए सत्ता का दबाव बना रही है। चौधरी ने कहा कि इनैलो सुप्रीमों चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की नेक सोच के चलते आज पार्टी का प्रत्येक सिपाही चट्टान की तरह पार्टी के साथ खड़ा है और भाजपा की जनविरोधी नीतियों का डटकर विरोध कर रहा है।

इनेलो राज्यकार्यकारिणी की बैठक में जाट आरक्षण की मांग का प्रस्ताव पारित

सिरसा 15 फरवरी: इनेलो ने जाटो को आरक्षण दिये जाने की मांग का समर्थन करते हुए जाटो को साथ-साथ जट सिखं, त्यागी, रोड़ व बिश्रोई जाति को भी आरक्षण दिये जाने की मांग की है। पार्टी राज्यकार्यकारिणी सोमवार को सिरसा में हुई बैठक में इस संबंध में एक प्रस्ताव भी पारित किया गया। बैठक की अध्यक्षता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा व नेता प्रतिपक्ष चौ०अभय सिंह चौटाला ने की। बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नितेश कुमार का 6 मार्च को करनाल में एक राज्य स्तरीय समारोह आयोजित कर नागरिक अभिनंदन करने का निर्णय लिया गया। बैठक का संचालन पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने किया। बैठक में पूर्व कृ षि मंत्री जसबिन्द्र सिंह संधू, सांसद चरणजीत रोड़ी, राज्यसभा सदस्य रामकुमार कश्यप, डा. के सी बांगड, रणवीर गंगवा, डा. एमएस मलिक,र्दििग्वजय सिंह चौटाला, मक्खन लाल सिंगला, श्रीमति शीला भ्यान सहित पार्टी के सभी विधायकों,पूर्व विधायकों, प्रदेश पदाधिकारियों, जिला, हलका व शहरी अध्यक्ष और विभिन्न प्रकोष्टों के  प्रदेश व जिला संयोजकों ने भी हिस्सा लिया। 
राज्य कार्यकारिणी में लिये गये निर्णय के अनुसार पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा व नेता प्रतिपक्ष चौ०अभय सिंह चौटाला 17 फरवरी से 25 फरवरी तक प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर पार्टी कार्यकर्ताओं की जिला स्तरीय बैठकों को सम्बोधित करेंगे। इसके तहत 17 फरवरी को झज्जर व रोहतक, 18 फरवरी को मेवात, पलवल व फरीदाबाद, 19 फरवरी को रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़ व भिवानी, 20 फरवरी को सिरसा, फतेहाबाद व कैथल, 23 फरवरी को गुडग़ांव, सोनीपत व पानीपत, 24 फरवरी को कुरूक्षेत्र, यमुनानगर, अम्बाला व पंचकूला और 25 फरवरी को करनाल, जींद व हिसार में जिला स्तरीय बैठकों को सम्बोधित करेंगे। बैठक में प्रदेश में बिगडती कानून व्यवस्था को ठीक किये जाने,बिजली दरों में बढ़ौेतरी वापस लेेने, धान घोटाले की जांच करवाने, नरमे-कपास, गवार, बाजरा की फसलों के हुए नुक्सान का मुआवजा देने और फसल बिमा योजना को दोषपूर्ण बताते हुए इसे स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट के अनुसार किसानों पर कोई बोझ डाले बिना लागू किये जाने की मांग की गई।
राज्य कार्यकारिणी में लिये गये निर्णय के अनुसार पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा व नेता प्रतिपक्ष चौ०अभय सिंह चौटाला 17 फरवरी से 25 फरवरी तक प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर पार्टी कार्यकर्ताओं की जिला स्तरीय बैठकों को सम्बोधित करेंगे। इसके तहत 17 फरवरी को झज्जर व रोहतक, 18 फरवरी को मेवात, पलवल व फरीदाबाद, 19 फरवरी को रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़ व भिवानी, 20 फरवरी को सिरसा, फतेहाबाद व कैथल, 23 फरवरी को गुडग़ांव, सोनीपत व पानीपत, 24 फरवरी को कुरूक्षेत्र, यमुनानगर, अम्बाला व पंचकूला और 25 फरवरी को करनाल, जींद व हिसार में जिला स्तरीय बैठकों को सम्बोधित करेंगे। बैठक में प्रदेश में बिगडती कानून व्यवस्था को ठीक किये जाने,बिजली दरों में बढ़ौेतरी वापस लेेने, धान घोटाले की जांच करवाने, नरमे-कपास, गवार, बाजरा की फसलों के हुए नुक्सान का मुबावजा देने और फसल बीमा योजना को दोषपूर्ण बताते हुए इसे स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट के अनुसार किसानों पर कोई बोझ डाले बिना लागू किये जाने की मांग की गई।


बैठक को सम्बोधित करते हुए चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि नीतिश कुमार को  राजनीति में लाने का श्रेय जननायक चौधरी देवी लाल को जाता है। आज वे बिहार के ही नही बल्कि क ांग्रेस व भाजपा के विकल्प के रूप में देश को नई दिशा देने वाले नेता के रूप में अपनी पहचान बना चुके हैं। उन्होंने इनेलो के पक्ष में लोकसभा व हरियाणा विधानसभा चुनाव में खुलकर प्रचार भी किया था। इनेलो 6 मार्च को करनाल में एक विशाल जनसभा कर प्रदेश की जनता क ी और से उनका नागरिक अभिनंदन करेंगी। उन्होंने बिजली बिलों के खिलाफ दिये जा रहे धरने को बेहद सफल बताते हुए कहा कि अगामी बजट सत्र के मोके पर इनेलो विधानसभा पर विशाल प्रदर्शन करते हुऐ लोगों से जुडे हुए मुद्दों पर विधानसभा का घेराव करने का भी निर्णय लेगी। नेता प्रतिपक्ष ने पार्टी नेताओं की और से रखे गये विभिन्न प्रस्तावों को बैठक में पारित करवाया। इससे पहले विधायक रणवीर गंगवा ने बिजली दर बढ़ौेतरी वापस लेेने,पूर्व कृषि मंत्री जसबिन्द्र सिंह संधू ने धान घोटाले की जांच करवाने, डा. एमएस मलिक ने प्रदेश में बिगडती कानून व्यवस्था को ठीक किये जाने, पूर्व विधायक निशान सिंह ने नरमे-कपास, गवार, बाजरा की फसलों के हुए नुक्सान का मुआवजा देने और  डा. के सी बांगड ने एक प्रस्ताव रखते हुए फसल बीमा योजना को दोषपूर्ण बताते हुए इसे स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट के अनुसार किसानों पर कोई बोझ डाले बिना लागू किये जाने की मांग की गई।
पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि पंचायत चुनाव में या तो इनेलो के प्रत्याशी विजयी हुए है या फिर निर्दलीय चुनाव जीते हैं। जब भाजपा ने कोई उम्मीदवार मैदान में ही नही उतारा था तो फिर किस मुंह से जीत का दावा कर रहे हैे। इनेलो नेता ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने कांग्रेस व भाजपा को अपने सिम्बल पर चुनाव लडऩे की चुनौती दी थी लेकिन दोनों ही दल इस चुनौती से भाग गए। श्री अरोड़ा ने कहा कि स्थानीय निकाय चुनाव कांग्रेस व भाजपा अगर अपने सिम्बल पर लड़ेगी तो इनेलो भी सिम्बल पर प्रत्याशी मैदान में उतारेगी। इनेलो नेता ने भाजपा पर जाट आरक्षण के मामले में दोहरे मापदंड अपनाने और भाजपा के सांसद द्वारा एक जाति विशेष के खिलाफ  जहर उगलने और जाटों को गालियां देने की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए प्रदेश के वर्षों पुराने भाईचारे को तोडऩे का आरोप लगाया। उन्होंने जाटों के साथ-साथ जट सिख, त्यागी, रोड़ व बिश्रोई जाति को भी आरक्षण दिये जाने की मांग करते हुए कहा कि देश के नवीनतम आर्थिक सर्वेक्षण अनुसार खेती व खेत से जुडे हुए 64 प्रतिशत लोगों की आमदन 5000 से भी कम है। ये पांचों जातियां खेती से जुडी हुई है और सर्वेक्षण में साफ हो गया है कि इन की आमदन मनरेगा के अन्र्तगत काम करने वाले दिहाड़ीदार मजदूरों से भी कम है।


Saturday, February 13, 2016

सफेद मक्खी के मामले को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने खट्टर सरकार की खोली पोल

हिसार,13फरवरी : किसानों के लिए प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा बहाए जाने वाले आंसू घडिय़ाली साबित हो रहे है। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर व उनके मंत्रीमंडल के सदस्य मीडिया व सार्वजनिक मंचों पर सफेद मक्खी से हुए नुकसान के लिए मुआवजे की शेखी बघारते नहीं थक रहे हैं जबकि हकीकत है कि हरियाणा सरकार ने सफेद मक्खी से हुए नुकसान को लेकर आज तक न तो किसी नुकसान की रिपोर्ट नहीं भेजी और न ही केंद्र सरकार से मुआवजे के लिए किसी प्रकार की मांग की। यह केवल कोई राजनीति बयानबाजी नहीं बल्कि केंद्र सरकार की चि_ी में यह खुलासा हुआ है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने इसका खुलासा करते हुए कहा कि भाजपा का किसान विरोधी चेहरा बेनकाब हो गया है और प्रदेश के मंत्रियों द्वारा बोले गए बड़े बोल की पोल खोल दी है। 
हरियाणा में बीते खरीफ के सीजन में सफेद मक्खी से बर्बाद हुई कपास की फसल के मुआवजे को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने 8 दिसंबर को लोकसभा में नियम 377 के तहत आवाज उठाई थी। 
इस मुद्दे के जवाब में केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने एक पत्र दुष्यंत चौटाला को भेजा है। इस पत्र में ं केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा है कि मामला चूंकि लोकसभा में उठा है इसलिए मैने इस मामले का गंभीरता से अध्ययन किया है। मामले का अध्ययन करने के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री ने अपने पत्र में स्पष्ट किया है कि हरियाणा में कपास की फसल में सफेद मक्खी से हुए नुकसान के लिए मुआवजा देने का कदम उठाने का काम प्रदेश सरकार है। परन्तु केंद्र सरकार को अभी तक हरियाणा सरकार की ओर से इस नुकसान को लेकर न तो किसी प्रकार की रिपोर्ट भेजी गई है और न ही मुआवजे की मांग की है। 
केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि मुआवजे के लिए प्राथमिक स्तर पर कदम उठाने का काम हरियाणा सरकार का है और इसके बाद प्रदेश सरकार केंद्र सरकार से मदद मांगती है परन्तु हरियाणा सरकार की ओर से इसंबंध में कोई प्रस्ताव या रिपोर्ट नहीं आई है। 
इस पत्र के बाद सांसद दुष्यंत चौटाला ने मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिखा है। इस पत्र में सांसद दुष्यंत चौटाला ने न केवल केंद्र सरकार की उस चिट्ठी का जिक्र किया है बल्कि उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि सफेद मक्खी प्रभावित कपास उत्पादक किसानों को राहत देने के लिए नुकसान की रिपोर्ट गंभीरता से तैयार करे। यह रिपोर्ट केंद्र सरकार को आर्थिक पैकेज लेने के लिए तुरंत भेजे ताकि आर्थिक तंगी की मार झेल रहे प्रदेश के किसानों को राहत मिल सके। 
भाखड़ा नंगल डैम सर छोटू राम की देन: दुष्यंत चौटाला


चंडीगढ़, 12 फरवरी: हिसार से इनेलो के सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि दीनबंधु सर छोटूराम के प्रयासों से भाखड़ा नग्गल डैम हमें मिल पाया। सर छोटू राम ने जो आखिरी फाइल साइन की थी, वह भाखड़ा नग्गल डैम की थी, लेकिन यदि हमें उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि देनी है, तो हमें भाखड़ा डैम पर उनको एक स्टैचू लगाना होगा। वहां पर आज तक सर छोटूराम की कोई निशानी नहीं है, इसलिए हमें मिलकर संकल्प लेना होगा कि सर छोटूराम का स्टैचू तीन साल के अंदर वहां पर लगवाना है। दुष्यंत चौटाला शुक्रवार को सेक्टर 6 पंचकूला स्थित जाट भवन में जाट सभा की ओर से बसंत पंचमी एवं दीनबंधू सर छोटू राम जी की जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर विशेष अतिथि बोल रहे थे।


दुष्यंत चौटाला ने कई मेधावी छात्रों एवं जाट समाज के उल्लेखनीय कार्य करने वालों को पुरस्कृत भी किया है। समारोह में दुष्यंत चौटाला ने युवाओं को सर छोटूराम के दिखाये मार्ग पर चलने को कहा। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में सर छोटूराम ने अपना योगदान देने का काम किया था, इसलिए हमें उनके स्टैचू लगाने के हवन में जरूरी आहूति देनी चाहिए। जाट सभा के प्रधान एमएस मलिक ने दुष्यंत चौटाला को स्मृति चिन्ह देकर स मानित किया।
बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश की मौजूदा सरकार सिर्फ घोषणाओं की सरकार है। आज प्रदेश में न तो किसी प्रशासन का पता है और न ही सरकार की कोई नीति नजर आती है। उन्होंने कहा कि सरकार चुनाव के वक्त लोगों से किए अपने सभी वादों से पीछे हट रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कहीं कोई नया निवेश नहीं आया बल्कि प्रदेश को बर्बादी की तरफ ले जा रहें है। उन्होंने बीफ मामले पर भी भाजपा नेताओं द्वारा लोगों का ध्यान बांटने के लिए राणनीति करने का आरोप लगाया। सर छोटू राम जयंती पर आयोजित इस समारोह में दुष्यंत चौटाला व डॉ. एमएस मलिक के अलावा कई अन्य नेता व समाज के प्रमुख लोग भी मौजूद थे।

Thursday, February 11, 2016

 रानियां हल्के के  कार्यकर्ताओं ने बिजली कीमतों को लेकर धरना दिया 




पंचकूला, 11 फरवरी : इनैलो के विधायक रामचन्द्र कम्बोज ने बिजली के बढ़े हुए दाम तुरंत वापिस लिए जाने की मांग करते हुए कहा कि सरकार पूरी तरह से हठधर्मी अपनाए हुए है और प्रदेश के लोगों की जायज मांगें स्वीकार करने व उन्हें राहत देने की बजाय अपने असंवैधानिक व अलोकतांत्रिक फैसलों को लागू करने पर तुली हुई है। यह बात बीरवार को बिजली बोर्ड मुख्यालय शक्ति भवन के समक्ष रानियां हलके के कार्यकर्ताओं के धरने में कहीं। इस मौके पर कुलभुषण गोयल ने भी संबोधित किया। 
विधायक रामचन्द्र कम्बोज ने सम्बोधित करते हुए ने कहा कि आज पूरे देश में हरियाणा के बिजली दाम शायद सबसे ज्यादा हैं और उसके बावजूद सरकार लोगों को गुमराह करने के लिए सिर्फ बिजली के बेसिक रेट बताकर भ्रमित करने का प्रयास कर रही है और बिजली की दर पर लगाए जाने वाले एफएसए और अन्य दरों का लोगों के सामने उल्लेख तक भी नहीं कर रही जबकि लोगों को भारी भरकम बिलों ने परेशान कर रखा है। पूर्व विधायक व जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने संबोधित करते हुए कहा कि जब तक सरकार बिजली की कीमतें वापिस नही लेगी क्योंकि आज भाजपा सरकार ने किसानों को बिलों में भारी वृद्धि करके आर्थिक नुकसान दिया है। उन्होंने कहा कि आज भाजपा सरकार के गलत फैसलों की जनता शिकार हो रही है, जिन वायदों के दम पर भाजपा सत्ता में आई थी, उन वायदों से दूरी बनाए हुए है। आज महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ के रख दी, लेकिन केन्द्र और राज्य सरकार का महंगाई पर कोई नियंत्रण नही है। उन्होंने कहा कि जब किसान की धान मंडी में पहुंची थी तब तो 1500 के करीब खरीद की और जब वो ही बासमती धान पूंजीपतियों के पास पहुंची तो उसकी कीमत 3000 रूपये कर दी। जो सीधे तौर पर किसान से लूट है, सरकार की ऐसी नीतियों से लगता है कि सरकार प्रदेश की जनता के हित के लिए काम न करके पूंजीपतियों को भारी फायदा पहुंचाने की नीयत से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में भारी अंतर है और सरकार लोगों से जो वायदे करके सत्ता में आई थी आज उन वायदों के विपरीत काम कर रही है।