Wednesday, December 30, 2015

इनेलो के धरने के जरिए संघर्ष के बाद सरकार ने अगले 4 साल तक बिजली के रेट नही बढ़ाने का फैसला लिया - अशोक अरोड़ा 


पंचकूला, 30 दिसंबर : इंडियन नैशनल लोकदल के अनिश्चितकालीन धरने का ही नतीजा है कि मुख्यमंत्री कहते है चार साल तक बिजली का रेट नही बढ़ाउंगा। लेकिन हम कहते है रेट तो नही बढ़ाओगें बल्कि जो रेट बढ़ाएगें, वो भी हर हालत में आप ही वापिस करोगें। यह बात इनैलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने जारी अनिश्चितकालीन धरने में बोलते हुए कहीं। इस मौके पर विधायक केहर सिंह, पूर्व विधायक मामू राम गोंदर, पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, कार्यालय सचिव नछत्तर मल्हान, कुलभुषण गोयल इत्यादि मौजूद थे। 
अशोक अरोड़ा ने अपने संबोधन में कहा कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग भाजपा करती है लेकिन माननीय न्यायलय ने कहा था कि गायों के चारे के लिए प्रतिदिन 15 देने की बात कहीं थी, जो सरकार नही दे पा रही है। आज गायें पोलीथीन खाने के कारण अपनी जान गंवा रही है। गाय को बचाने के लिए सरकार को काम करना चाहिए, वो काम तो करते नही। जनता को जख्म देने का काम करते है। अरोड़ा ने कहा कि अब सरकार का तर्क है कि उनके पास सरपल्स बिजली है। गांवों में दिन-रात की बिजली मुश्किल से 8 घंटे भी नही मिल रही है। 
अशोक अरोड़ा ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि जब से भाजपा की सरकार बनी है, प्रदेश का किसान पर घाटे की आपदाएं पड़ रही है। पहले तो सरकार बनते ही ओलावृष्टि से किसान की फसल बर्बाद हो गई, फिर सफेद मक्खी के कारण किसान की फसल बर्बाद हो गई और अब किसान भाजपा के धान घोटाले के कारण आर्थिक मार झेल रहा है। इस मौके पर मोरनी प्रभारी बलवंत भींवर, जिला उप्रधान रमेश मांधना, उप्रधान रामकरण गिदड़ावाली, सुरेन्द्र कूंडू, नीरज भल्ला, पूर्व सरपंच सुच्चा सियूड़ी, समाजसेवी सुच्चा रायपुर इत्यादि मौजूद थे।

जनता को गुमराह कर रही भाजपा सरकार : कलीराम पटवारी

जींद :  इनेलो के जिला प्रधान एवं पूर्व विधायक कलीराम पटवारी ने कहा कि भाजपा सरकार प्रदेश की जनता को गुमराह करने का काम कर रही है। जींद शहर में एक-दो सड़क को ठीक करवा दिया है जबकि गांवों में सड़कों की हालत बहुत खराब है। भाजपा के शासनकाल में किसानों की हालत खराब होती जा रही है।
कलीराम पटवारी यहां इनेलो कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शहर में एक-दो सड़क को छोड़कर बाकी की हालत दयनीय है। जबकि सरकार यह ढींढोरा पीट रही है कि उसने सभी सड़कों का पुनर्निमाण करवा दिया है। सफीदों क्षेत्र के गांवों में सड़कों की हालत बहुत ही खराब है। सड़कों में जगह-जगह गहरे गढ्डे हो रहे हैं। इसके साथ-साथ पटवारी ने कहा कि किसानों को आज तक उनकी खराब हुई फसलों का मुआवजा नहीं मिला है। भाजपा सरकार किसान विरोधी साबित हुई है। अंदरखाने बिजली के रेटों में बढ़ोतरी करके सरकार ने किसानों पर दोहरी मार मारने का काम किया है जबकि सरकार ने बिजली के दो बार रेट बढ़ा दिए हैं। पटवारी ने कहा कि पंचायत तथा निकाय चुनावों में सरकार ने शैक्षणिक योग्यता लागू करके अपनी छोटी मानसिकता को दिखाया है। पहले जो लोग चुनावों में चुने जाते थे क्या उन्होंने कभी विकास नहीं करवाया। पटवारी ने कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने से पहले वादा किया था कि कांग्रेस शासनकाल में हुए सभी कार्यों की जांच करवाई जाएगी जबकि भाजपा ने केवल प्लाट आवंटन मामले की ही जांच शुरु करवाई है जबकि अनेक ऐसे मामले में जिसमें भ्रष्टाचार की बू आ रही है। पटवारी ने कहा कि इनेलो ने कांग्रेस शासनकाल में हुए घोटालों की सूची महामहिम राज्यपाल को सौंपकर इनकी जांच करवाने की मांग की थी लेकिन भाजपा ने इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया है। उन्होंने कहा कि भाजपा पहली ऐसी सरकार है, जिससे लोगों का बहुत कम समय में ही मोहभंग हो गया है। उन्होंने सरकार से मांग की कि कांग्रेस शासनकाल में हुए सभी कार्यों की जांच करवाई जाए तथा प्रदेश में टूटी सड़कों की सुध ली जाए। 

जमीन हड़पने के लिए सरकार ने HMT को बंद करने का निर्णय लिया - प्रदीप चौधरी 

पिंजौर, 30 दिसंबर :  इंडियन नैशनल लोकदल के पूर्व विधायक व जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने प्रैसवार्ता में आरोप लगाते हुए भाजपा सरकार एच.एम.टी फैक्टरी को बंद करके उसकी करीब साढ़े 8 सौ एकड़ जमीन हड़पना चाहती है। इससे पहले भी ए.सी.सी कंपनी को बंद करके यहां के लोगों को बेरोजगार किया गया और अब एच.एम.टी बंद होने के बाद फैक्टरी में काम करने वाले हजारों लोग नौकरी से हाथ धो बैठेगें और इसके चलके उनके परिवार भी प्रभावित होगें। 

प्रदीप चौधरी ने कहा कि वैसे तो हरियाणा सरकार के मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री तक विदेशों में जाकर निवेश और यहां कंपनियों को आकर काम करने का न्यौता देते है, वहीं उनकी सरकार लोकल फैक्टरी को बंद करके अपनी मनमानी का काम कर रही है। चौधरी ने कहा कि 1963 से फैक्टरी चल रही है और इससे पहले कांग्रेस पार्टी ने एच.एम.टी को कमजोर किया और केन्द्र में सरकार होते हुए कोई बड़ा पैकेज नही दिलवाया और अब भाजपा की हरियाणा और केन्द्र में सरकारें है, लेकिन भाजपा ने भी एच.एम.टी फैक्टरी को बंद करने और जमीन हड़पने की लालसा के चलते फैक्टरी के उत्थान के लिए कोई काम नही किया और यहां तक फैक्टरी में काम करने वाले कर्मचारियों की डेड़ साल की सैलरी तक नही दी गई। कमी कर्मचारियों को लाने-ले-जाने वाली एम.एम.टी बस सेवा  से वांचित रखा और अब कर्मचारियों को वी.आर.एस देकर फैक्टरी को बंद किए जाने का केन्द्र ने लैटर हरियाणा के मुख्यमंत्री को भेजा है। चौधरी ने कहा कि एच.एम.टी इस क्षेत्र की शान है और इस फैक्टरी के सहारे हजारों परिवार पल रहे है। सरकार को चाहिए कि वो लोगों को रोजगार दे, उल्टा फैक्टरी बंद करके नौकरी से निकालने का काम न करें। 

भाजपा सरकार में नही कोई जनता की सुनने वाला- बिश्नोई

हिसार, 30 दिसंबर : भाजपा सरकार में जनता की सुनने वाला कोई  नहीं है, क्योंकि पूरी भाजपा तो अपनी अंदरुनी लड़ाई में ही उलझी है। स्वयं मुख्यमंत्री व उनके मंत्री सरकार के जनहितैषी होने का दिखावा मात्र कर रहे है। हर जिले में भाजपा कार्यकर्ता आपस में भीड़ रहे है, क्योंकि पिछले 15 महीनों के शासन काल से उन्हें कुछ भी हासिल नहीं हुआ। यह बात इनेलो जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्नोई ने कही। उन्होंने कहा कि जो पार्टी अपने कार्यकर्ता को ही सन्तुष्ट नहीं कर सकती, उससे प्रदेश की आम जनता क्या अपेक्षा कर सकती है। प्रदेश में बिजली की वर्तमान स्थिति पर टिप्पणी करते हुए एडवोकेट बिश्नोई ने कहा कि एक तरफ तो किसानों के द्वारा ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए दिए गए आवेदन लंबे समय से लम्बित पड़े है, वहीं सरकार बिजली सरप्लस होने का दावा करके उन किसानों के जख्मो पर नमक छिड़क रही  है जो बिजली कनेक्शन न मिलने से पहले से ही व्यथित है। मुख्यमंत्री के अगले चार साल तक बिजली के रेट न बढ़ाये जाने के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए इनेलो प्रवक्ता ने बताया कि जब से प्रदेश में बीजेपी सरकार बनी है तब से हर दो तीन महीनों बाद बिजली के रेट बिना किसी पूर्व सूचना के बढ़ाये जाते रहे है। जब प्रमुख विपक्षी पार्टी इनेलो ने बढे हुए बिजली रेट को कम करने की मांग की तो सरकार ने इसका ठीकरा बिजली विनियामक आयोग पर फोड़ दिया। अब मुख्यमंत्री के बयान से साबित हो गया कि अब तक जो बिजली के रेट बढे है, वे सरकार ने ही बढ़ाये थे। इनेलो इन्हें कम करवाने को लेकर सरकार के विरुद्ध पंचकुला में शक्ति भवन पर लगातार धरने पर बैठी है। मुख्यमंत्री के द्वारा की गई घोषणा भी कहीं न कहीं इसी दबाव में की गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री आगे के लिए झूठी घोषणा करने की बजाये पहले के बढ़े हुए बिजली के रेटों को कम करे ताकि प्रदेश की आम जनता को राहत मिल सके।

Tuesday, December 29, 2015

बिजली की बढ़ी दरों के विरोध में इनेलो का 37वें दिन भी धरना रहा जारी 


पंचकूला, 29 दिसंबर : बिजली के बढ़ी कीमतों के विरोध में इंडियन नैशनल लोकदल पार्टी के करनाल जिला के इन्द्री हल्के के कार्यकर्ताओं ने शक्ति भवन के सामने धरना दिया और बिजली बिलों की बढ़ी कीमतें वापिस लेने की मांग उठाई। धरने का नेतृत्व पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने किया और इस मौके पर पूर्व सी.पी.एस रामपाल माजरा, विधायक एवं पूर्व राज्यसभा सांसद रणबीर गंगवा, विधायक वेद नारंग, पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, पूर्व विधायक डा. अशोक कश्यप, पूर्व विधायक नरेन्द्र सांगवान, जिलाध्यक्ष करनाल यसबीर राणा, कुलभुषण गोयल इत्यादि ने भी राज्य सरकार की बिजली दरें बढ़ाने को लेकर कड़ी शब्दों में निंदा की।
इनैलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने राज्य सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि 23 नवंबर से इंडियन नैशनल लोकदल पंचकूला में धरना दे रही है और सरकार गहरी नींद में सोई पड़ी है, जिसे बिजली उपभोक्ताओं का दुखदर्द समझ नही आ रहा है। अरोड़ा ने यह भी कहा कि आज भाजपा सरकार अपनी पार्टी की अंदरूनी लड़ाई में ही उलझ कर रह गई है, जो पार्टी अपनी ही समस्याओं में उलझी पड़ी है, उसे भला लोगों की समस्याएं कहां से नजर आएगी। चुनावों के वक्त भाजपा ने जनता से ऐसे झुठे वायदे किए, जो वाकई में चुनावों के बाद जनता के सामने झूठ बनकर रह गए है। सत्ता की लालची भाजपा सरकार प्रदेश के विकास के लिए काम नही कर रही है और भ्रष्टाचार मुक्त हरियाणा के वायदें से भी भागती नजर आ रही है। अरोड़ा ने कहा कि आज प्रदेश की कानून-व्यवस्था बिगड़ी पड़ी है। युवा वर्ग नौकरी की उम्मीदें लगाए बैठा है, बजूर्गो को बुढ़ापा पैंशन के लिए सही ठिकाना नही मिल रहा है, जहां से उन्हें समय रहते पैंशन मिल जाए। इसलिए इनैलो पार्टी का प्रत्येक सिपाही भाजपा सरकार के खिलाफ उसकी हर जनविरोधी नीतियों के खिलाफ डटकर अपना विरोध जताएगा और भाजपा हमारी नरमी का गलत फायदा उठाने कोशिश न करें, क्योंकि बिजली दरों के विरोध में हमारी पार्टी बड़ा आंदोलन भी कर सकती है और आमरण अनशन से लेकर बाजार बंद तक करवाने को मजबूर हो सकती है। 

Monday, December 28, 2015


 बिजली की बढ़ी दरों के विरोध में शक्ति भवन के सामने इनेलो नेताओं व पदाधिकारियों ने धरना दिया 


पंचकूला, 28 दिसम्बर : कैथल विधानसभा क्षेत्र से इंडियन नैशनल लोकदल के कार्यकर्ताओं ने बिजली की बढ़ी हुई दरें वापिस लिए जाने की मांग करते हुए शक्ति भवन के सामने सोमवार को पूरा दिन धरना दिया। धरने का नेतृत्व पूर्व सी.पी.एस रामपाल माजरा ने किया और धरने में पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी, कुलभुषण गोयल, प्रदेश कार्यालय सचिव नछत्तर मल्हान भी मौजूद थे।
रामपाल माजरा ने बिजली की बढ़ी हुई दरें वापिस लेने को लेकर भाजपा पर सवाल उठाते हुए कहा कि जितना भी जल्दी हो सके राज्य सरकार बिजली की बढ़ी हुई कीमतें वापिस लेने का काम करें और उसका यह फैसला जनहित का फैसला होगा ताकि बिजली उपभोक्ताओं को राहत मिल सकें। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार आने से प्रदेश में विकास को लेकर कोई परिवर्तन नही आया और जिन अच्छे दिनों की सरकार बात करती थी, वो अच्छे दिन भी कहीं दूर तक आते नजर नही आ रहे है। रामपाल माजरा ने कहा कि चौधरी जननायाक देवीलाल के सिपाही भाजपा सरकार की गलत नीतियों का डटकर विरोध करेगें और बिजली बिलों की बढ़ोत्तरी भी सरकार की ऐसी एक गलत नीति है, जिससे करीब साड़े 56 लाख बिजली उपभोक्ता प्रभावित हुए है और तीन गुणा ज्यादा बिल आने के कारण इस बार बिजली उपभोक्ताओं को भारी बिजली बिल चुकाने पड़े और यहां तक गलत बिल आने का भी सिलसिला आम हो गया है, क्योंकि झुगी झोंपड़ी वाले गरीब तबके के लोगों के पास लाखों के बिल आना सरकार की एक बड़ी चुक है। रामपाल माजरा ने सरकार को चेताते हुए कहा कि बिजली की कीमतों के विरोध में जारी यह धरना अनिश्ििचत काल तक चलता रहेगा और हमारी पार्टी ने कई महीने के कार्यक्रम पहले से बनाए हुए है। 
इनैलो नेता ने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस के राज में सी.एल.यू के नाम पर बड़े घोटाले किए गए, परंतु वो घोटालेबाज आज भाजपा सरकार की नरमी के चलते खुद को बचाए हुए है। हालांकि भाजपा का वो वायदा आज भी याद है जब कहते थे कि यदि भाजपा की सरकार बनी तो भ्रष्टाचार करने वाले इन कांग्रेसी नेताओं को जेल भेजेगें और भाजपा की सरकार बने 14 महीने से ज्यादा वक्त हो गया, लेकिन आज तक किसी भी भ्रष्टाचारी को भाजपा सरकार अपने कहे वायदें के मुताबिक जेल नही भेज पाई, उल्टा खुद ही भ्रष्टाचार के मकडज़ाल में उलझती जा रही है और अब तो भाजपा भ्रष्टाचार में शामिल होकर भ्रष्टाचार के मामलों को कांग्रेस की तरह से दबाना भी जान गई है। इस बात का ताजा प्रमाण धान खरीद घोटाला है, जिसमें किसानों को करोड़ों रूपये की चपत लगाई गई और मौका मिलने पर मामला दबाने का काम किया है। 

Saturday, December 26, 2015

गलत आंकड़े पेश कर जनता को भर्मित कर रहे है वित्त मंत्री - लितानी

हिसार, 26 दिसंबर : जब से प्रदेश में भाजपा सरकार बनी है, लगातार बिजली के रेट बढ़ाये जा रहे है। लेकिन भाजपा सरकार के मंत्री इनको कम करवाने के बजाए इस पर सफाई देकर जनता को भ्रमित कर रहे है। यह बात इनेलो के जिला अध्यक्ष राजेन्द्र लितानी ने कही। वे वित्त मंत्री कैप्टेन अभिमन्यु के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे, जिसमें उन्होंने बढ़े हुए सरचार्ज का प्रदेश के घरेलू उपभोक्ताओं पर नहीं पडऩे की बात कही थी। इनेलो नेता लितानी ने प्रदेश वित्त मंत्री को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आज बिजली के रेट इतने हो चुके है कि एक आम आदमी की महीने की कमाई का अधिकतर हिस्सा बिजली का बिल भरने में लग जाता है। प्रदेश सरकार फ्यूल सरचार्ज के नाम पर बढ़ोतरी करती जा रही है, जबकि प्रदेश सरकार बिजली तो प्राइवेट कंपनियो से 3.26 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से खरीद करके प्रदेश की जनता को लगभग 7 से 8 रुपए प्रति यूनिट दे रही है। तो इसमें फ्यूल सरचार्ज का तो सवाल ही नही उठ रहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को पहले इस बात का श्वेत पत्र जारी करना चाहिए कि प्रदेश में कितनी बिजली का उत्पादन हुआ तथा उस पर कितना फ्यूल प्रयोग में लिया गया। ताकि प्रदेश की जनता को उत्पादित बिजली में होने वाले खर्च का पता चल सके। उन्होनें कहा कि इनेलो ने प्रदेश की जनता के हित में मुख्यमंत्री से बिजली के बढे हुए रेट को कम करने की गुजारिश की गई थी, जब मुख्यमंत्री ने जनता के हित को तवज्जो नहीं दी तो इनेलो ने शक्ति भवन पंचकुला में धरना दे दिया। जो कि लगातार जारी है। उन्होंने कहा कि अगर वित्त मंत्री वास्तव में प्रदेश की जनता के हितेषी है तो बढ़े हुए बिजली बिलों को तुरंत घटाए अन्यथा प्रदेश की जनता को बरगलाना छोड़ दे। प्रदेश में चल रही बिजली यूनिटो को कभी बिजली सरप्लस के नाम पर बन्द करने व झाड़ली बिजली प्लांट में सरकार द्वारा अपना हिस्सा सरेंडर किये जाने की बात पर टिप्पणी करते हुए इनेलो नेता लितानी ने बताया कि प्रदेश के किसानों को तो बिजली के लिए त्राहि त्राहि करना पड़ रहा है तथा सरकार बिजली सरप्लस के नाम पर झूठी वाह वाही लेने की कोशिश कर रही है।
भाजपा सरकार में कांग्रेस से भी बदत्तर हालात , शिक्षा का स्तर भी गिरा : प्रदीप चौधरी
पिंजौर, 25 दिसंबर : शुक्रवार को इनेलो पूर्व विधायक एंव जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने पिंजौर में पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा सरकार की नीतियों की कड़े शब्दों में निंदा की। प्रदीप चौधरी पिंजौर में एक निजि कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आए हुए थे। पूर्व विधायक ने कहा भाजपा सरकार की गलत एंव जनविरोधी नीतियों का नतीजा है कि आज प्रदेश में गत कांग्रेस सरकार के समय से भी बदत्तर हालात बने हुए हैं। लोगों को महसूस हो रहा है कि भाजपा को सत्ता देकर उनसे बहुत बड़ी भूल हो गई है। भाजपा को सरकार चलाना ही नहीं आता शिक्षा का स्तर इतना गिर चुका है कि अधिकत्तर सरकारी स्कूलों के परीक्षा परिणाम शून्य या 2 से 10 प्रतिशत तक बच्चे ही पास हुए हैं जबकि प्रदेश में केवल एक तिहाई बच्चे ही उतीर्ण हो पाए हैं ये सब सरकार की गलत शिक्षा नीतियों का नतीजा है, प्रदेश में बेरोजगारी, अपराध, महंगाई बढ़ी है, बिजली-खाने पीने की वस्तुओं के मूल्य बढऩे से आम जनता त्राही-त्राही कर रही है, किसानों को बीज, खाद और फसलों के उचित मूल्य नहीं मिल पा रहे, प्रदेश में विकास कार्य पूरी तरह से ठप पड़े हैं। सरकार धान घोटाले के अलावा कई घोटाले कर रही है आम लोगों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इनेलो बढ़े हुए बिजली रेटों के विरूद्ध गत माह से शक्ति भवन के समक्ष अनिश्चितकालीन धरना जारी रखा हुआ है। उन्होने कहा लोगों को थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा आगामी आम चुनावों में इनेलो सरकार पुन: सत्ता में आएगी तब जाकर जन-मानस की समस्याओं का निदान हो पाएगा।

Thursday, December 24, 2015

नौकरी से हटाए गए आउटसोर्सिंग कर्मियों के साथ धरने पर बैठे इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा


पिछले एक वर्ष से आंदोलनरत हटाए गए आउटसोर्सिग कर्मचारियों द्वारा कुलसचिव कार्यालय के सामने दिए जा रहे धरने पर भी अशोक अरोड़ा उनके साथ बैठे और कहा कि इनेलो इन हटाए गए कर्मचारियों के साथ है और इनके संघर्ष में हर प्रकार का सहयोग देगी। 
आंदोलनरत कर्मचारी नेता शिव कुमार ने बताया कि हटाए गए कर्मचारियों में से कई कर्मचारी मानसिक रूप से बीमार हो गए हैं। उनकी रोजी रोटी जाने से परिवार भूखे मर रहे हैं। फीस न होने के कारण बच्चों की पढ़ाई चली गई है। ये कर्मचारी पिछले 8-10 वर्ष से विश्वविद्यालय में नौकरी कर रहे थे। इस दौरान कई युवकों व युवतियों की शादियां हो गई। अब इनके परिवार संकट में हैं। उन्होंने धरने में शामिल होने पर अशोक अरोड़ा का आभार व्यक्त किया। शिव कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा आउटसोर्सिंग में लगाए जा रहे कर्मचारियों में नए लोग भर्ती किए जा रहे हैं। केवल चंद लोग ही पुराने भर्ती किए गए हैं। उन्होंने कहा कि जब तक हटाए गए कर्मचारियों को दोबारा से नौकरी पर नहीं रखा जाता, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। धरने में भारी संख्या में महिलाएं भी बैठी हुई हैं। 


इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कुवि के कुलसचिव से भेंट करके हटाए गए कर्मचारियों को दोबारा नौकरी देने की मांग की



कुरुक्षेत्र 24 दिसंबर : इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में शिष्टमंडल ने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलसचिव डा. प्रवीण सैनी से भेंट करके मांग की है कि हटाए गए आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर दोबारा से नौकरी पर रखा जाए। शिष्टमंडल में  विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त परीक्षा नियंत्रक डा. बाबू राम गुप्ता, सर्व कर्मचारी संघ के जिला प्रधान डा. संत कुमार, इनेलो नेता हरीश अरोड़ा तथा दीपक बाल्मीकि शामिल थे।
अरोड़ा ने कुलसचिव को बताया कि ये कर्मचारी पिछले लगभग आठ-दस वर्ष से विश्वविद्यालय में दैनिक वेतन व आउटसोर्सिंग पर सेवारत थे। एक वर्ष पूर्व इन्हें हटा दिया गया था और तब इन कर्मचारियों को आश्वासन दिया गया था कि दोबारा से स्वीकृति मिलने पर इन्हें प्राथमिकता के आधार पर आउटसोर्सिंग में नौकरी पर रखा जाएगा, लेकिन अब स्वीकृति मिलने के पश्चात नए लोगों को आउटसोर्सिंग पर रखा जा रहा है। हटाए गए कर्मचारी पिछले एक वर्ष से आंदोलन कर रहे हैं और इनके परिवारों के सामने भूखे मरने की नौबत आई हुई है। फीस न भरने के कारण इनके बच्चों की पढ़ाई भी अधर में छूट गई है। अरोड़ा ने कहा कि हरियाणा सरकार पारदर्शिता और मैरिट के आधार पर नौकरी देने का दावा करती है। हटाए गए कर्मचारियों के पास नौकरी का लंबा अनुभव है। अनुभव से अधिक कोई मैरिट नहीं होती। इसलिए हटाए गए कर्मचारियों को ही दोबारा से आउटसोर्सिंग में नियुक्त किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इनके अनुभव से जहां विश्वविद्यालय को लाभ मिलेगा, वही इन परिवारों को भी रोजी रोटी मिलेगी। अरोड़ा ने कहा कि वे मानवता के आधार पर हटाए गए कर्मचारियों को दोबारा से नौकरी में रखने के लिए कुलसचिव के पास गए थे।  उन्होंने बताया कि कुलसचिव ने उन्हें सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया। जब इस बारे में कुलसचिव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अशोक अरोड़ा इस मामले में उन्हें मिले थे। अशोक अरोड़ा ने जो मांग रखी है उस पर वे कुलपति से बातचीत करेंगे। 


बिजली बिलों की वृद्धि को लेकर इनेलो का अनिश्चिकालीन धरना 30वें दिन भी जारी 

पंचकूला, 24 दिसम्बर : जोर जुल्म की टक्कर में संघर्ष हमारी जारी रहेगा, आज भाजपा सरकार लोगों की समस्याओं से भागने का काम कर रही है तो फिर इनैलो लोगों के हितों की रक्षा के लिए संघर्ष के रास्ते पर चलकर बिजली के बढ़े हुए बिल सरकार जब तक वापिस नही करेगी। तब तक इनैलो का अनिश्चिकालीन  धरना जारी रहेगा। यह बात बीरवार को शक्ति भवन के सामने जारी 30 दिनों से अनिश्चिकालीन धरने में गुहला-चीका के कार्यकर्ताओं  को पूर्व संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने कहें। आयोजित बेमियादी धरने में
इनैलो के पूर्व विधायक जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी, पूर्व विधायक बूटा सिंह, कैथल जिला प्रधान कंवरपाल, पूर्व डी.जी.पी एम.एस मलिक, बीढी ढाहलिया, कुलभुषण गोयल सहित अनेको इनैलो वरिष्ठ नेताओं ने संबोधित किया।
रामपाल माजरा ने भाजपा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अनुभवहीन भाजपा सरकार सही दिशा में काम नही कर रही है और इसका बड़ा कारण यह है कि प्रदेश की सत्ता की बागडोर ऐसे अनुभवहीन लोगों के हाथ में आ गई, जिन्हें प्रदेश की तरक्की और विकास के रास्ते पर लाने की न तो कोई रूचि है और न ही जनता के हितों के लिए सरकार जनता की बेहतरी के लिए काम कर रही है। माजरा ने कहा कि सी.एल.यू के नाम पर हुड्डा सरकार ने नियमों को ताक पर रखकर प्रदेश में करोड़ों रूपये के घोटाले किए, जब भाजपा सत्ता में नही थी तो बोलते थे कि सत्ता में आने पर हुड्डा सरकार के राज में जितने भी घोटाले हुए, उनकी जांच की जाएगी और दोषी लोग सलाखों के पीछे होगी, लेकिन भाजपा खुद ही घोटाले और भ्रष्टाचार के मकडज़ाल में ऐसी उलझी कि उसे कांग्रेस के घोटाले भी दबाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसान के साथ हुआ सबसे बड़ा धान घोटाला आज प्रदेश के किसान के साथ सबसे बड़ी लूट है और भाजपा सरकार धान खरीद घोटाले की जांच से भाग रही है, बल्कि घोटाले को दबा कर किसान के हकों को दबाने का काम किया है। 
इनैलो पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी ने भी अपने विचार रखे और कहा कि भाजपा सरकार के चलते ताऊ देवीलाल द्धारा दी गई सम्मान पैंशन के लिए बुजुर्ग भटक रहे है और आज गांवों में सडक़, बिजली और पानी जैसी मुलभूत सुविधाओं को लेकर हाहाकार मचा हुआ है।

Wednesday, December 23, 2015

गैंडावास गुरूकुल की छात्राओं ने देखी देश की सबसे बड़ी पंचायत


उचाना/जींद 23 दिसंबर : गंरूकुल कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गैंडाखेड़ा की छात्राएं देश की सबसे बड़ी पंचायत की कार्यवाही देखने संसद भवन पहुंची। सांसद दुष्यंत चौटाला के निमंत्रण पर कन्या गुरूकुल की 117 छात्राओं व शिक्षिकाओं ने लोकसभा की कार्यवाही देखी। छात्राओं ने दिल्ली भ्रमण के दौरान लालकिला व इंडिया गेट भी देखा। यह पहला मौका था जब जीद जिले की छात्राओं ने संसद भवन जाकर लोकसभा की सीधी कार्यवाही देखी हो। 
कन्या गुरूकुल की प्राचार्या बंतो देवी बैनिवाल के नेतृत्व में प्रात: चार बजे दिल्ली के लिए रवाना हुआ। छात्राओं के दल ने दोपहर पूर्व लोकसभा की कार्यवाही देखी और संसद परिसर में बने संग्रहालय का भ्रमण किया। छत्राओं का संसद भ्रमण का अनुभव अद्भुत रहा। गुरूकुल की छात्रा पूजा, अंजू, मोनिका, मंजू, मंजीत, सुनीता, रितु व सोनिया का कहना है कि लोकसभा के बारे में उन्होंने केवल किताबों में पढ़ा और मीडिया में सुना था। अब प्रत्यक्ष रूप से संसद भवन व लोकसभा की कार्यवाही देखना न केवल उनके लिए ज्ञानवर्धक रहा बल्कि उत्साहवर्धक भी था। इससे उनके व्यवहारिक ज्ञान में बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने जाना कि जनता से चुन गए सांसद किस प्रकार लोकसभा में काम करते हैं और किस प्रकार वे जनता की आवाज उठाते हैं। छात्राओं ने लोकसभा के बाद ऐतिहासिक लालकिले का भ्रमण किया। इस दल में अधिकांश छात्राएं ऐसी भी थी जो पहली बार दिल्ली गई थी। स्कूल की प्रिंसीपल बंतो देवी व स्टाफ ने संसद दिखने के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला का आभार व्यक्त किया है। 


बिजली बिलों की बढ़ोत्तरी के विरोध में कलायत हलका के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया 



पंचकूला, 23 दिसम्बर : इंडियन नैशनल लोकदल के कलायत हलका कार्यकर्ताओं ने पूर्व संसदीय सचिव रामपाल माजरा के नेतृत्व में बिजली के बिलों की वृद्धि को लेकर शक्ति भवन के सामने पूरा दिन धरना दिया और सत्ताधारी सरकार के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया। इस मौके पर पूर्व डी.जी.पी एम.एस मलिक, बी.ढी ढाहलिया, पूर्व विधायक जिलाध्यक्ष पंचकूला प्रदीप चौधरी, कुलभुषण गोयल, बलदेव बाल्मीकि ने भाजपा सरकार की कमियों को गिनवाया, वहीं इनैलो के शासनकाल के योजनाओं की जमकर सराहना की। इनैलो नेता रामपाल माजरा ने संबोधित करते हुए कहा कि अगस्त 2015 में भाजपा सरकार ने टयूब्वैल कनेक्शन  के लिए नई तत्काल पोलिसी घोषित की, जिसके अनुसार जो भी किसान वेटिंग लिस्ट को नजरअंदाज करते हुए तत्काल कनैक्शन लेना चाहता है तो उसको अपनी तत्काल पोलिसी के साथ 1 लाख रूपया जमा करवाना पड़ेगा। परंतु एक लाख रूपये के अलावा उसको सरकार के सर्कूलर नंबर डी-12/2012 एवं सेलज सर्कूलर नंबर डी-16/2015 के अनुसार अन्य खर्चे भी जमा करवाने होगें, जिसका विवरण इसमें दर्ज नही किया गया है।
माजरा ने धान खरीद के घोटाले बारे बोलते हुए कहा कि धान घोटाला 24 हजार करोड़ रूपये से ज्यादा का है और किसानों को इस वर्ष धान के लिए सरकार द्धारा न्यनत्तम समर्थन मुल्य 1450 रूपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया था, परंतु नमी के नाम का बहाना बनाकर 100-200 रूपये प्रति क्विंटल कम राशी का भुगतान किया गया, जो सरासर किसानों के साथ धोखा है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त खरीददारों द्धारा धान के सरकारी खरीद एजेंसियों के नाम बनामी फर्मो से लाखों क्विंटल के बोगस बिल फर्म का स्टॉक पूरा करने के लिए प्राप्त किए है, जबकि हीककत में उनके व्यवसायिक स्थानों पर धान का स्टॉक उपलब्ध नही है। इस प्रक्रिया द्धारा एजेंसियों से राईस मिलर ने धान की खरीद की राशाी प्राप्त कर ली, जबकि घटिया किस्म का चावल किसी अन्य राज्य से प्राप्त करके सरकार को कुछ समय के बाद दिया जाएगा। रामपाल माजरा ने इसके साथ ही कहा कि 25 सितम्बर 2015 को बासमती धान की 1509 किस्म की खरी के समय खाद्य एवं पूर्ति निदेशालय द्धारा अपने सभी जिला अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि धान खरीद का रिकार्ड अलग रखा जाए परंतु 4 दिन बाद ही यादि कि 29 सितम्बर 2015 को पुन: यह निर्देश जारी कर किए कि इस धान की
खरीद का रिकार्ड अलग रखने की आवश्यकता नही है। ये दोनों पत्र सरकार द्धारा राईस मिलर के बीच मिलीभगत को दर्शाते है। इस अवसर पर पंचकूला जिला उपप्रधान रमेश मांधना, जिला महासचिव जरनैल मानकपुर, पूर्व सरपंच सुच्चा सियूड़ी, सुरेन्द्र कुंडू, नीरज भल्ला, आजाद मलिक, समाजसेवी सुच्चा रायपुर, जसबीर सिंह, यगपाल मलिक सहित काफी संख्या में पंचकूला के कार्यकत्र्ता व पदाधिकारी भी मौजूद थे।

प्रदूषण प्रमाण पत्र के संबंध में छूट देने पर प्रशासन का जताया आभार

हिसार, 23 दिसम्बर : इनेलो हलका अध्यक्ष सजन लावट ने प्रशासन के द्वारा जिले के लोगो को वाहनों के प्रदूषण प्रमाण पत्रो के लिए वैकल्पिक व्यवस्था होने तक इस मामले में छूट देने का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि प्रशासन के इस फैसले से इससे प्रभावित होने वाले वाहन मालिकों को बड़ी राहत मिली है। गौरतलब है कि पिछले दिनों जिले में सभी प्रदूषण जांच केंद्रों में अनियमितता पाए जाने पर  प्रशासन द्वारा इनको बंद करवा दिया गया था, जिस कारण हिसार के लोगों के सामने अपने वाहनों की प्रदूषण जांच करवाने के लिए जींद, फतेहाबाद व भिवानी जाने के अलावा कोई अन्य चारा नहीं बचा था। इसके लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए इनेलो ने प्रशासन से अपील की थी। जनता के हित को देखते हुए प्रशासन के इस कदम की तारीफ़ करते हुए इनेलो नेता सजन लावट ने कहा कि जिस तरह से प्रशासन ने जनता की तकलीफ को देखते हुए यह सराहनीय कदम उठाया है, इसी प्रकार शहर में  बेसहारा पशुओ से दिनों दिन बढ़ रही समस्या से जनता को छुटकारा दिलाया जाए। क्योंकि इनके कारण आए दिन सड़क दुर्घटनाएं हो रही है। कई बार इनमे लोगों की जान भी चली जाती है।
इनेलो ने पंचायत चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं से मांगे आवेदन, साफ छवि के प्रत्याशी को मिलेगेा इनेलो का सर्मथन


सोनीपत 23 दिसम्बर: इनेलो पंचायती चुनाव जोरदार तरीके से लड़ेगी और बिजली बिलों की वृद्धि को लेकर बेमियादी धरना भी जारी रखेगी, कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की भांति एक दिन धरना देकर केवल राजनीति करने में विश्वास नहीं करती और तब तक सरकार से संघर्ष करती रहेगी जब तक प्रदेश के करीब 56 लाख बिजली उपभोक्ताओं को बढ़े हुई बिजली की दरों में राहत नहीं देगी। यह बात बुधवार को इनेलो पार्टी कार्यालय में जिला प्रभारी रामफल कुण्डू ने कही। उन्होने कहा एक वार्ड से इनेलो का एक ही कार्यकर्ता चुनाव लडेगा। पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रत्याशी की योग्यता, शिक्षा, सामाजिक कार्य आदि के पैमाने के बाद पार्टी प्रत्याशी का चयन करेगी। बैठक की अध्यक्षता जिला प्रधान पदम सिंह दहिया ने की। 
इस मौके पर जिला प्रधान पदम ङ्क्षसंह दहिया ने धान खरीद घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि पिछली बार धान की रोपाई कम हुई है जबकि इस बार 16 लाख मैट्रिक  टन धान फालतू आया है। इस फालतू धान की आमद बारे सरकार बताने में नाकाम रही है। हरियाणा में सरकार की नाक तले जे-फार्म 1450 रुपए प्रति क्विंटल के भरे गए और अढ़ाई सौ रूपये नमी के नाम पर काटकर धान घोटाले को जन्म देने वाली भाजपा अब इसकी जांच से भागने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि बिजली बिलों की वृद्धि वापिस लेने को लेकर चाहे हमें जेल भरो आंदोलन क्यूं न चलाना पड़े, वो भी चलाएंगे, बाजार बंद करने पड़े तो वो भी करेंगे और यहां तक कि आमरण अनशन पर भी बैठेंगे लेकिन हर हालत में 3 गुणा वृद्धि के साथ बिजली उपभोक्ताओं के बिलों को वापिस करवाएंगे। उन्होंने कहा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला मंडियों का दौरा किया करते थे, किसानों की समस्याओं को जानकर मौके पर ही निपटाते थे, आज की सरकार किसानों का शोषण करने पर तुली है और किसान के उत्थान के लिए काम न करके भ्रष्टाचार की आड़ में खुद की जेबें भरने का काम कर रही है। दहिया ने बताया 31 दिसम्बर को राई हल्के एवं 1 जनवरी को गन्नौर हल्के के कार्यकर्ता शक्ति भवर पंचकूला पंहूच कर बिजली की दर कम करने के लिए धरना देगें।
इस मौके पर ब्रिगेडियर ओ. पी. चौधरी, तेलूराम जोगी, पूर्व विधायक रामकुमार सैनी, प्रोमिला मलिक, कुणाल गहलावत, ईन्द्रजीत दहिया, कपूर नरवाल, सुरेश त्यागी, रामकिशन तुषीर, अशोक राणा, अनिता खाण्डा, बलजीत नैन, अजमेर मलिक, हरिप्रकाश मण्डल, पूर्व एसडीएम ईश्वर दहिया, अजीत आंतिल, भैयराज दहिया, राजेन्द्र मलिक, जिले सिंह दहिया, डा. भगत, शाबर अली, पुर्णमल राठी, सुमित राणा, बंसीलाल, संजय मलिक, परमवीर सैनी, भानेराम, अरूण बडौक, जयपाल कादियान, बलजीत मलिक, सुरेश रोहट, रमेश बडौली, जे. पी. रेवली, अशोक कौशिक, रेखा बाल्याण, राकेश चहल, सुधीर धनखड, जयबीर आंतिल, मोनू शर्मा, आशीष सुहाग आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे। 
लोगों के लिए खूनी फाटक साबित हो रहा है लक्कडपुर रेलवे फाटक : अजय भड़ाना


फरीदाबाद। लक्कडपुर रेलवे फाटक पर फुटओवर ब्रिज बनाने को लेकर युवा इनेलो के प्रदेश महासचिव अजय भड़ाना के नेतृत्व में हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। इस हस्ताक्षर अभियान की शुरूआत लक्कडपुर रेलवे फाटक पर एक सभा आयोजित करके की गई। सभा में लक्कडपुर के आसपास क्षेत्र में रहने वाले लोगों से इस रेलवे फाटक पर फुटओवर ब्रिज बनाने के लिए हस्ताक्षर करवाए गए। अभियान के पहले दिन करीब 1500 से 2000 लोगों के हस्ताक्षर करवाए गए। अजय भड़ाना ने बताया कि लक्कडपुर रेलवे फाटक और उसके आसपास से रेलवे लाईन पार करते समय अनेक लोग रेल की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके है। करीब एक से डेढ़ वर्ष के दौरान करीब 20 लोग हादसे का शिकर होकर अपनी जान गंवा चुके है। रेलवे सूत्रों के अनुसार ही वर्ष 2011-12 में भी करीब 20 से अधिक फाटक पार करते समय हादसे की चपेट में आकर काल का ग्रास बन चुके है, जिस पर इस रेलवे फाटक पर ओवर ब्रिज व अंडर ब्रिज बनाने की मांग रखी गई थी, जिसको निरस्त कर दिया गया है। अजय भड़ाना ने बताया कि अब स्थानीय लोगों की भारी समस्या को देखते हुए उन्होंने हस्ताक्षर अभियान चलाकर इस रेलवे फाटक पर फुट ओवर ब्रिज बनाने के लिए संघर्ष का बिगूल फूंका है और उनका यह संघर्ष को प्रयास लगातार आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इस रेलवे फाटक पर हो रहे हादसों से बचाव के लिए यहां फुटओवर ब्रिज अत्यंत आवश्यक है और इसको लेकर ही उन्होंने हस्ताक्षर अभियान चलाया है और आने वाले समय में भी इस अभियान के तहत करीब 10 हजार लोगों के हस्ताक्षर करवाने के उपरांत फरीदाबाद के जिला उपायुक्त को एक मांगपत्र सौंपा जाएगा और यहां फुटओवर ब्रिज बनाने की मांग रखी जाएगी। अजय भड़ाना ने बताया कि इस रेलवे फाटक को खूनी रेलवे फाटक कहा जाता है, क्योंकि अक्सर फाटक पार करते समय मोटरसाइकिल सवार व पैदल लोग फाटक पार करते समय टे्रन की चपेट में आकर हादसे का शिकार हो जाते है। इस मौके पर सतेंद्र भडाना, सतपाल शर्मा, आलम सिंह चौहान, साधना, गीता, रामसुमेर तिवारी, माता प्रसाद पाठक, एलडी सिंगला, महीपाल बैंसला, प्रेम सिंह राणा, विनोद भडाना, महेश भडाना, आशु, तारीक अंसारी, जय चौधरी, वाल्मीकि पौद्धार, प्रकाश पौद्धार, ए.सी. पाण्डेय, पटनायक जी, सुरेंद्र कुमार, बाबूलाल, चंद्रमोहन सिंह, सुधीर, महेश मिश्रा, अविनाश, वीएस पाण्डेय, रिंकू पाठक, सुबोध, सचिन शर्मा, सुनील भडाना, अजीत, राजा, विक्की, सतीश मिश्रा, विपिन त्यागी, मनोहर लाल सहित सैकड़ों अन्य गणमान्य लोग मौजूद थे। 

 इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा की अगुवाई में पूंडरी हल्के के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया 


पंचकूला,22 दिसम्बर : इंडियन नैशनल लोकदल पार्टी पंचायती चुनाव भी लड़ेगी और बिजली बिलों की वृद्धि को लेकर बेमियादी धरना भी देगी,कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की भांति एक दिन धरना देकर केवल राजनीति में बने रहने का बहाना नही बनाएगी और तब तक सरकार सेसंघर्ष करती रहेगीजब तक प्रदेश के करीब 56 लाख बिजली उपभोक्ताओं को बढ़े हुए बिल वापिस लेकर भाजपा राहत नही देगी। यह बात मंगलवार कोपंचकूला में इनैलो के अनिश्चितकालीन धरने का नेतृत्व करते हुए इनैलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहें। बिजली बिलों बढ़ कर आने को लेकरकैथल जिले के पूण्डरी हलके के इनैलो कार्यकत्र्ताओं ने धरना दिया। इस दौरान इनैलो के रहे प्रत्याशी तेजवीर सिंहजिला प्रधान कवरपाल  सैंकड़ो लोगमौजूद थे। वहीं धरने में विधायक बलवान दौलतपुरियापूर्व विधायक प्रदीप चौधरीप्रदेश कार्यालय सचिव नछत्तर मल्हान सहित काफी संख्या मेंपंचकूला जिला के कार्यकत्र्ता  पदाधिकारी भी उपस्थित थे।
अशोक अरोड़ा ने धरने पर संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस शासन के वक्त जब बोर्ड की परीक्षा के रिजल्ट आए थे तो छात्रअभिभावकों के हाथ बड़ीनिराशा हाथ लगी थी। अब भाजपा सरकार के राज में सरकारी स्कूलों में दसवीं की परीक्षा का मात्र 35 प्रतिशत् रिजल्ट इस बात का प्रमाण है कि भाजपाभी सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर को सुधारने में नाकामयाब रही है। इसका बड़ा कारण यह है कि सरकार के जो काम होते हैवो काम सरकार कोकरना चाहिएताकि प्रदेश को तरक्की और विकास के रास्ते पर लाया जा सके परंतु भाजपा सरकार एन.जी. के काम कर रही हैजिसके चलते सरकारहर मोर्चे पर फेल होती जा रही है।
अरोड़ा ने धान खरीद घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि पिछली बार धान की 52 प्रतिशत् रोपाई की गई और अबकी बार 65 प्रतिशत् , जबकि हालातऐसे है कि 16 लाख मैट्रिक टन धान फालतू आया है। लेकिन सरकार की यह बात समझ में नही  रही है। यह फालतू धान इसलिए आयाक्योंकि हरियाणा में सरकार की नाक तले जे फार्म 1450रूप्रति क्विंटल के भरे जा रहे और अढ़ाई सौ रूपये नमी के नाम पर काटकर धान घोटाले को जन्म देनेवाली भाजपा अब इसकी जांच से भागने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि बिजली बिलों की वृद्धि वापिस लेने को लेकर चाहे हमें जेल भरो आंदोलनक्यूं  चलाना पड़ेवो भी चलाएगेंबाजार बंद करने पड़े तो वो भी करेगें और यहां तक आमरण अनशन पर भी बैठेगेंलेकिन हर हालत में 3 गुणा वृद्धिके साथ बिजली उपभोक्ताओं के बिलों को वापिस करवाएगें।
अंत में उन्होंने कहा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री चौधरी ओमप्रकाश चौटाला मंडियों का दौरा किया करते थेकिसानों की समस्याओं को जानकर मौके पर हीनिपटाते थेआज की सरकार किसानों का शोषण करने पर तुली है और किसान के उत्थान के लिए काम  करके भ्रष्टाचार की आड़ में खुद की जेबें भरनेका काम कर रही है।