Monday, August 31, 2015

पुरानी अनाज मंडी का दौरा किया विधायक राजदीप ने, बंद लाइटें चालू करने के निर्देश दिए


शहर की पुरानी अनाज मंडी में पिछले एक माह से हाई मास्क लाइटें बंद पड़ी हैं। जिस कारण रात के समय पूरे मंडी परिसर में अंधेरा छाया रहता है। यहां बंद पड़ी लाइटों से क्षुब्ध व्यापारियों ने इसकी शिकायत विधायक राजदीप फौगाट से की। जिस पर विधायक सोमवार को मंडी परिसर का दौरा किया और मौके पर नगर परिषद अधिकारियों को बुलाकर उन्हें लाइटें दुरुस्त करने के निर्देश दिए। विधायक ने कहा कि मंडी में लाखों की लागत से हाई मास्क एवं अन्य लाइटें लगाई गई थी। लेकिन जब से मार्केट कमेटी का कार्यालय यहां से नई मंडी में स्थानांतरित हुआ है यहां लाइटें लावारिस हो गई। खराब लाइटों को दुरुस्त करने का जिम्मा न तो कमेटी और न ही नगर परिषद ने लिया। इस कारण करीब एक माह से तो रात के समय अनाज मंडी परिसर में पूरी तरह अंधेरा छाया रहता है। जिससे व्यापारियों को मंडी में चोरी इत्यादि अप्रिय घटनाओं का अंदेशा रहता था। विधायक ने कहा कि अनाज मंडी में लगी लाइटों को जल्द ही दुरुस्त करवा दिया जाएगा। इसके लिए अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए गए हैं। मंडी के व्यापारी पिंटू सांवडिय़ा, सुशील मकड़ानिया, रामकिशन गोयल, मुरलीधर, मंडी प्रधान रामकुमार रिटोलिया, प्रकाश समसपुरिया, सुरेंद्र काहनौरिया, प्रवीन बिरोहडिय़ा, सोनू कुमार सहित अन्य ने कहा कि इससे पहले वे कई बार संबंधित विभाग को समस्या से अवगत करा चुके हैं लेकिन कोई सुध नहीं ली गई। आखिरकार विधायक के दौरे से उन्हें मंडी परिसर जगमग होने की उम्मीदें जगी हैं। व्यापारियों ने बताया कि जब विभाग को समस्या से अवगत कराया जाता था तो नगर परिषद मार्केट कमेटी का नाम लेती है और कमेटी नप पर जिम्मेदारी डालने का कार्य करती है लेकिन दोनों की ओर से लाइटों को दुरुस्त करने का काम नहीं किया जा रहा था। इस बारे में व्यापारी दोनों विभागों के चक्कर लगाने को मजबूर रहे हैं। मंडी के रहने वाले लोगों का कहना है कि यहां हजारों रुपये खर्च कर मंडी को रोशन करने के लिए हाई मास्क व अन्य छोटी लाइटें लगाई गई थी। कुछ रोज तक तो ये लाइटें पूरी तरह जगमग रही। लेकिन बाद में ये बंद हो गई। जब लाइटें बंद हुई तो विभाग को इस बारे में सूचित किया गया। लेकिन उनकी समस्या की ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। 

पहली सितम्बर शाम को चंडीगढ़ में होगी इनेलो विधायक दल की बैठक

इनेलो विधायक दल की बैठक मंगलवार पहली सितम्बर शाम को चंडीगढ़ स्थित पार्टी कार्यालय में बुलाई गई है। इस बैठक मेें पार्टी की ओर से आने वाले विधानसभा सत्र में पार्टी की ओर से उठाए जाने वाले प्रमुख मुद्दों व प्रदेश के लोगों से जुड़ी दिक्कतों, परेशानियों व समस्याओं पर व्यापक विचारविमर्श कर पार्टी की ओर से विधानसभा सत्र के लिए रणनीति तैयार की जाएगी। बैठक की अध्यक्षता इनेलो विधायक दल के नेता व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला करेंगे और बैठक में पार्टी के सभी विधायक शामिल होंगे।
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इनेलो विधायकों ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों व प्रदेश से जुड़े हुए प्रमुख मुद्दों  पर विधानसभा सचिवालय को कई दिन पहले ही प्रश्न भेज दिए थे ताकि आगामी सत्र में उन मुद्दों पर सरकार से जवाब मांगा जा सके और प्रश्नकाल के दौरान उन पर चर्चा की जा सके। श्री अरोड़ा ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार बने हुए दस महीने पूरे होने के बाद 11वां महीना चल रहा है और भाजपा ने चुनाव के समय लोगों से किए गए वायदे पूरे करने की बजाय एकदम वायदों के विपरीत काम किया है।
इनेलो नेता ने कहा कि इस सत्र में सरकार द्वारा चुनावी वायदे पूरे न किए जाने, कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान व भत्ते देने और गेस्ट टीचरों को रेगूलर करने का वादा करने वाली भाजपा द्वारा उन्हें नौकरी से निकाले जाने, किसानों को लाभकारी मूल्य देने और उन्हें लागत के साथ 50 प्रतिशत मुनाफा देने और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की बजाय भाजपा अपने इस वायदे से भी पीछे हट गई है। उन्होंने कहा कि पिछले बजट सत्र के बाद भाजपा सरकार न सिर्फ पेट्रोल व डीजल पर वैट बढ़ा चुकी है बल्कि बिजली के दामों में भी कई बार बढ़ौतरी की जा चुकी है। सरकार ने अपने वायदे अनुसार बुजुर्गों को दो हजार रुपए महीना पेंशन देने की बजाय बैंकों के माध्यम से पेंशन देने के नाम पर करीब दस लाख बुजुर्गों को न सिर्फ पेंशन से वंचित कर दिया है बल्कि उन्हें कई-कई महिनों तक पेंशन नहीं मिलती और चौधरी देवीलाल द्वारा बुजुर्गों के लिए शुरू की गई बुढ़ापा सम्मान पेंशन को सम्मानजनक तरीके से देने की बजाय भाजपा सरकार द्वारा बुजुर्गों को बेवजह परेशान किया जा रहा है।
इनेलो नेता ने कहा कि आज प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति भी बेहद खराब है और आए दिन समाज के विभिन्न वर्गों द्वारा सरकार के खिलाफ धरने/प्रदर्शन आयोजित कर नाराजगी जताई जा रही है और कर्मचारी वर्ग भी निरंतर आंदोलनरत है। श्री अरोड़ा ने कहा कि बेरोजगार युवकों को छह हजार और नौ हजार रुपए महीना बेरोजगारी भत्ता देने जैसे अनेक लुभावने वायदे करके सत्ता में आई भाजपा सरकार अब अपने वायदों का उल्लेख भी नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि पार्टी विधायक दल की बैठक में प्रदेश से जुड़े सभी महत्वपूर्ण विषयों पर व्यापक चर्चा की जाएगी ताकि उन मुद्दों को आगामी विधानसभा सत्र में पार्टी विधायक मजबूती से उठा सकें और लोगों की दिक्कतों व परेशानियों को सरकार के समक्ष उजागर करने के साथ ही इन्हें सुलझाया जा सके।
कपास की खराब फसल का मुआवजा दे सरकार : दुष्यंत चौटाला



इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सफेद मक्खी के कारण खराब हुई कपास की फसल की एवज में राज्य सरकार किसानों को मुआवजा दे। उन्होंने कहा कि सफेद मक्खी के कारण केवल कपास की फसल ही नहीं बल्कि दूसरी अन्य फसलें भी खराब हुई हैं। खासकर बागवानी करने वाले लोगों को भी नुकसान हुआ है। 

दुष्यंत चौटाला यहां इनेलो कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज पूरे प्रदेश में सफेद मक्खी के कारण खासकर कपास की फसल चौपट हो चुकी है। किसानों को इस कारण भारी नुकसान हुआ है। सरकार को स्पेशल गिरदावरी करवाकर किसानों को मुआवजा देना चाहिए। 
चौटाला ने पंचायत चुनावों में शैक्षणिक योग्यता लागू करने के सवाल के जवाब में कहा कि पहले सरकार को सांसदों व विधायकों पर यह पॉलिसी लागू करनी चाहिए। सरपंच, पार्षद तो केवल सरकार द्वारा लागू की गई योजनाओं को अमलीजमा पहनाते हैं जबकि सांसद तथा विधायक तो नीतियां बनाते हैं इसलिए सबसे पहले यह नीति नीतियां बनाने वाले लोगों पर लागू होनी चाहिए। स्मार्ट सिटी के सवाल के जवाब में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि पहले दस साल प्रदेश में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की सरकार थी तो उन्होंने केवल और केवल रोहतक का ही विकास किया। अब मनोहरलाल खट्टर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने हैं तो वे केवल और केवल करनाल को ही देखते हैं। इसलिए आने वाले पांच सालों में करनाल ही विकास का मुख्य केंद्र रहेगा। मुख्यमंत्री मनोहरलाल के विदेश दौरों के बारे में दुष्यंत चौटाला ने कहा कि मुख्यमंत्री ने विदेश दौरों के बाद कहा कि वे दस हजार करोड़ रुपए के निवेश की बात करते हैं। आने वाले दिनों में विधानसभा सत्र शुरु हो रहा है। मुख्यमंत्री विधानसभा सत्र में दस हजार करोड़ रुपए के निवेश का श्वेत पत्र जारी करके बताएं कि कौन-कौन सी कंपनियां हरियाणा में निवेश करेंगी जबकि हालत यह है कि प्रदेश सरकार की गलत नीतियों के कारण यहां पर 50 से अधिक कंपनियां हरियाणा छोड़कर जा चुकी हैं। इस मौके पर उनके साथ जिला इनेलो अध्यक्ष कलीराम पटवारी,विधायक डॉ. हरिचंद मिढ़ा, परमेंद्र सिंह ढुल,पिरथी नंबरदार, पूर्व विधायक रामफल कुंडू, सुरजभान काजल, दयानंद कूण्डू, सुबे सिंह लोहान, सुभाष देशवाल, देशराज माटा, प्रताप लाठर, रणबीर पुनिया, भूपेंद्र जुलानी,जसमेर रजाना, अनुराग खटकड़, सोनू गुलिया, जयपाल मलिक, कैप्टन रणधीर चहल, हरीष अरोड़ा, दयानंद पहल, सुमित्रा देवी, कृष्णा बधाना, कुलदीप गिल, अशोक गोयल, दरबारा देशवाल, ईश्वर कंडेला, पालाराम वाल्मीकि, दलबीर खटकड़, सतीश पिण्डारा, किताब सिंह भनवाला, किताब सिंह ढाण्डा, जिला कार्यालय सचिव गुरदीप सांगवान आदि सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। 


सरकार अपनी जिम्मेवारीयों से मुँह मोड़ रही है , ड्रामेबाजी बन्द कर जनसेवा में लग जाए सरकार- ढुल


जुलाना से इनैलो विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल ने आज प्रदेश सरकार को हल्के तथा जिले में विकास की अनदेखी के लिए घेरते हुए कहा की सरकार के पिछले दस महीनों की कार्यवाही पर विधानसभा सत्र में पाई-पाई का हिसाब मांगेंगे। सत्ता प्राप्ति के बाद से बीजेपी सरकार जीन्द जिले से किए अपने तमाम चुनावी वायदे भूल गई है। विधायक ढुल आज यहां अपने निवास स्थान पर आगामी विधानसभा सत्र की तैयारियों तथा पार्टी की रणनीति के बारे में पत्रकार वार्ता को सम्बोधित कर रहे थे।
 विधायक ढुल ने कहा की जब से बीजेपी प्रदेश में सत्ता पर काबिल हुई है, तब से सबसे ज्यादा नुक्सान जिले में किसान तथा कमेरे वर्ग का हुआ है। बीजेपी को प्रदेश के आमजन की कोई चिंता तथा फिक्र नहीं है। हल्के तथा जिले में विकास के लिए कोई नयी रूपरेखा तैयार करना तो दूर, यह सरकार एक सोची समझी नीति के तहत किसान, कमेरे तथा आमजन को प्रताडि़त करने में लगी है। उन्होंने कहा की इस सत्र के माध्यम से उनका उद्देश्य सरकार को हल्के तथा जिले से संबंधित परेशानियों तथा आमजन की जरूरतों पर सरकार को चेताना रहेगा।  इसके लिए उन्होंने पार्टी के अन्य विधायकों तथा कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर विशेष तैयारी भी की है। इस संबंध में उन्होंने माननीय स्पीकर महोदय 12 मुद्दे तारांकित करके भेजे हैं। लगभग 40 के करीब अतारांकित प्रश्न भी उन्होंने हल्के की तरफ से भेजे हैं।  इसके अलावा उन्होंने मुख्यमन्त्री सहित अन्य मंत्रियों को हल्के की जरूरतों संबंधित पुन: मांगपत्र भेजे हैं। 
इस सन्दर्भ में उनका प्रयास रहेगा की वर्षों से सिर्फ सरकारी कागजों में सिमटी हुई बिरौली माइनर, करेला माइनर, रजबाहा नंबर सात पर गाँव बहबलपुर, बीबीपुर, घिमाणा इत्यादि के लिए लिंक माइनर को यथाशीघ्र बनाया जाए, हल्के में खेतीबाड़ी के पानी की व्यवस्था सुचारू हो इसके लिए अलग से डिवीजन का गठन, जुलाना तहसील को सब-डिवीजन बनाया जाये, जुलाना में म्युनिसिपल कॉउंसिल पार्क, हल्के के तमाम हेल्थ सेंटरों का सुधारीकरण तथा दो नए बनाये जाने की मांग,गर्लस कॉलेज की मांग, गाँव ललितखेड़ा, झमोला, पड़ाना, राजगढ, ईगराह, निडानी, ढिगाना, बुडाखेड़ा लाठर, किलाजफरगढ, करेला, मालवी, लाइनपार कॉलोनी, इत्यादि में पीने के पानी की उचित व्यवस्था, गाँव निडाना, जुलाना, हथवाला, रामराय इत्यादि में खेल स्टेडियम की मांग, गाँव गतौली, ढिगाना, मालवी, किलाजफरगढ,घिमाणा, इत्यादि में मल्टी-पर्पस हाल, हल्के के तमाम मार्गों की मरम्मत के साथ-साथ नए मार्गों की मांग जैसे भैरोंखेड़ा से ढिगाना, निडाना से बिरौली, अशरफगढ से बिरौली, खेड़ाबख्ता से राजगढ, राजगढ से जुलाना मण्डी, गतौली से करसोला, रामराय से बीबीपुर, घिमाणा से बिशनपुरा रेलवे स्टेशन, गढवाली से जैजैवन्ती स्टेशन, खेड़ाबख्ता से जैजैवन्ती स्टेशन, इत्यादि शामिल हैं।       विधायक ढुल ने कहा की यह जगजाहिर तथा स्पष्ट है की जुलाना हल्के के साथ समूचे जीन्द जिले को विकास के लिए सरकार द्वारा विशेष ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है। इसी सन्दर्भ में मेरा यह प्रयास रहेगा की जीन्द जिले पर सरकार द्वारा लादा गया पिछड़ापन दूर करने के लिए प्रदेश सरकार से विशेष विकास के लिए अलग से 5000 करोड़ रुपये के पैकेज की मांग को पुख्ता किया जाये। यह पैकेज सरकार द्वारा लागू की जाने वाली योजनाओं से अलग होना चाहिए।  इसके अतरिक्त उन्होंने कहा की वह जुलाना हल्के में नहरी पानी, पिने के पानी, ड्रेनों की सफाई, शिक्षा, हैल्थ, खेलकूद, बिजली की अपयुक्त व्यवस्था इत्यादि तमाम समस्याओं को बारीकी से सदन में सरकार के समक्ष प्रमुखता से रखेंगे। हल्के में नयी सड़कों के साथ-साथ माइनरों और रजबाहों के नवनिर्माण तथा सुधारीकरण की तुरन्त आवश्यकता है। जिले के किसानो का गन्ने के बकाया का ब्याज सहित भुगतान करवाने के साथ-साथ नरमे-कपास की फसलों का मुआवजा भी दिया जाना चाहिए।

विशेष गिरदावरी व मुआवजे की मांगे को लेकर जींद उपायुक्त से मिले विधायक डा. हरिचंद मिढा


 सोमवार को जींद के स्थानीय विधायक डा. हरिचंद मिढा के नेतृत्व में इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी हल्का जींद का एक विशिष्ट मंडल नरमा की फसल में सफेद मक्खी के प्रकोप से प्रभावित नरमा की फसल की विशेष गिरदावरी की मांग को लेकर जींद उपायुक्त अजीत बालाजी जोशी से मिला और जींद विधानसभा क्षेत्र के गांव जुलानी, दरियावाला, ढाण्डा खेड़ी, जाजवान, ईंटल खुर्द, ईंटल कलां, संगतपुरा, जलालपुर कलां, रूपगढ, जीतगढ, कैरखेड़ी, अहिरका, झांझ कलां, झांझ खुर्द, बड़ोदी, बरसोला आदि गांवों में नष्ट फसल की विशेष गिरदावरी की मांग की। विधायक ने कहा कि ये गांव ऐसे गांव हैं जहां सफे द मक्खी के प्रकोप से किसान आज पुर्ण रूप से बर्बादी की कगार पर हैं। इसलिए जिला प्रशासन और प्रदेश सरकार की जिम्मेवारी बनती है कि जल्द से जल्द विशेष गिरदावरी करवाकर किसानों को उचित मुआवजा प्रदान किया जाए। जिसमें उपायुक्त महोदय ने तुरंत प्रभावित क्षेत्र की विशेष रिर्पोट तैयार आदेश संबधित कर्मचारियों और अधिकारियों को दे दिए हैं। इसके अलावा पिछली बार की मुआवजा वितरण प्रणाली पर प्रशनचिंह लगाते हुए विधायक ने चेतायाकि इस बार किसी भी किसान  के साथ धांधली बर्दाशत नहीं की जाएगी। जिसमेंं उपायुक्त ने साफ शब्दों में निष्पक्ष जांच करवाने की बात कही। इस दौरान विधायक और उपायुक्त के बीच जींद विधानसभा क्षेत्र की निर्माणाधीन अनेक परियोजनाओं के बारे में भी चर्चा की जिसमें उपायुक्त द्वारा जींद जिले के समान विकास और सकारात्मक सोच की बात रखी गई। जिला उपायुक्त से मिलने के बाद पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया कि इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी किसान हितैषी पार्टी है और किसानों की अनदेखी कतई बर्दाशत नहीं की जाएगी। 2 सितंबर से शुरू होने जा रहेे हरियाणा विधानसभा के मानसून सत्र में क्षेत्र के ज्वलंतशील मुद्दों को सदन में उठाने की बात कही। उन्होंने कहा कि शहर की निर्माणाधीन बाई-पास की परियोजना तथा बदहाल सीवरेज व्यवस्था को वो जहां प्रमुखता से सदन में उठाएंगें वहीं क्षेत्र के सड़क तंत्र व शिक्षा और चिकित्सा व्यवस्था पर भी सरकार से जवाब मांगेंगे। डा. मिढा ने अपने व्यक्तव में कहा कि क्षेत्र की अनदेखी कतई बर्दाशत नहीं की जाएगी चाहे उसके लिए उन्हें सदन से सड़क  तक लड़ाई लडऩी पड़े। इस दौरान उनके साथ हल्का अध्यक्ष चौ. भूपेंद्र जुलानी,शहरी अध्यक्ष हरीश अरोड़ा, इनेलो वरिष्ठ नेता डा. कृष्ण मिढा, धर्मबीर जाजवान, संजय गोयत, ठण्डी खोखरी, राजेदं्र फौजी दरियावाला, मोहित शर्मा आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।
प्रेस रिपोर्टर पर हमला करने वाले दोषी हमलावरों पर उचित कानूनी कार्यवाही होनी चाहिए : नांदल

रोहतक दैनिक भास्कर समूह के रिपोर्टर रतन पंवार पर देर रात हुए जानलेवा हमले को निंदनीय घटना बताते हुए रोहतक इनेलो के जिलाध्यक्ष सतीश नांदल ने कड़ी आपत्ति जताई है उन्होंने सरकार से व पुलिस प्रशासन से मांग करते हुए कहा की प्रेस रिपोर्टर पर हुए हमले के लिए दोषी लोगों को जल्द से जल्द गिर तार किया जाना चाहिए। यह चोट किसी एक पत्रकार को नही अपितु समस्त पत्रकारिता जगत पर मारी गयी ऐसी चोट है जो यह दर्शाने का कार्य करती है की समाज के अभिन्न अंग माने जाने वाले मिडिया जगत पर आज अपराधी किस हद तक हावी हो चुके हैं। पत्रकारिता जगत पर हुआ यह हमला बेहद चिंता का विषय है।
उन्होंने कहा की पत्रकारों की सुरक्षा हेतु सरकार को कड़े कानून बनाने चाहिए। यह चोट किसी व्यक्ति विशेष पर नही अपितु प्रजातंत्र के उन अधिकारों पर चोट है जिन अधिकारों के तहत भारत वर्ष का नागरिक अपने विचार स्वतंत्र रूप से व्यक्त कर सकता है। पत्रकारिता हमारे समाज का आईना है और इसके बिना जीवन की कल्पना अधूरी है। अत: प्रदेश सरकार को इस विषय पर ध्यान देने की जरूरत है। इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा करती है।


उपभोक्ताओं को मिले बेहतर मोबाइल व इन्टरनेट सेवाएं - सांसद दुष्यंत चौटाला 

 इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसार जिले में बेहतर मोबाईल व इंटरनेट सेवा देने की मांग की।  सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज भारत संचार निगम सलाहकार समिति की बैठक में भाग लेते हुए एक ओर जहां हिसार जिले में टू जी व थ्री जी के टावर की संख्या बढ़ाने के साथ साथ उन्हें नई तकनीक के हिसाब से अपग्रेड करने की मांग की वहीं उन्होंनो न्यू जनरेशन टेलीफोन एक्सचेंज (एनजीएन)स्थापित करने की प्रक्रिया में गति लाने को भी कहा। उन्होंने हिसार एसएसए में स्टाफ की कमी को पूरा करने पर बल दिया। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि वह हिसार लोकसभा में बेहतर मोबाईल व इंटरनेट सेवाएं दिलवाने के लिए प्रतिबद्ध हैं इसके लिए वह हर स्तर पर प्रयास करते रहेंगे। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने बैठक में कहा कि हिसार व सिरसा में एनजीएन टेलीफोन एक्सचेंज बनना प्रस्तावित है। इस बारे एसएसए द्वारा प्रस्ताव बना कर भेजा जा चुका है। अंबाला में एनजीएन एक्सचेंज में काम भी शुरू हो गया है। इसलिए हिसार में भी इस दिशा में जल्द काम शुरू किया जाए। बैठक में सिरसा के सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, सलाहकार समिति के सदस्यों व बीएसएनएल के अधिकारियों ने भाग लिया। सदस्यों ने मोबाईल की वैलिडिटी, रिचार्ज के समयावधि कम, ब्राडबैड की सेवाओं में सुधार करने संबंधी सुझाव भी दिए। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसार जिले के हर गांव में वाईफाई सुविधा देने की वकालत की और कहा कि हिसार सर्कल में 762 गांव हैं और इनमें 363 गांवो में आप्टिक फाइबर बिछ चुकी है लेकिन इन्हें अब तक वाईफाई से नहीं जोड़ा गया। सांसद चौटाला ने कहा कि इन गांवों को जल्द से वाई फाई सुविधा से जोड़ा जाए। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसार में थ्री जी की स्पीड बढ़ाने को लेकर भी गंभीरता दिखाई और इसके लिए उन्होंने थ्री जी टावरों की संख्या 95 से बढ़ा कर 250 करने की मांग की। इसके लिए सांसद ने टू जी इंटरनेट स्पीट बढ़ाने  टावरों की संख्या 417 से बढ़ा कर 550 करने की मांग की और इन्हें अपग्रेड कर नई तकनीक से सुसज्जित करने का कहा। उन्होंने काल ड्राप को लेकर कहा कि पुरानी तकनीक व अनट्रेंड स्टाफ की वजह से यह समस्या बनी हुई है इसे समस्या से उपभोक्ताओं को यथाशीघ्र निजात दिलवाई जाए। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसर में 15 स्थानों पर वाईफाई तथा मॉडल वाईफाई विजेल  के लिए जल्द से जल्द वेंडर फाइनल करने की प्रक्रिया में तेजी लाने, एनएन 10 पर थ्री जी की सुविधा देने की मांग भी रखी। 
इनेलो सांसद ने बैठक में कहा कि हिसार एसएसए में स्टाफ की भारी कमी है और जेटीओ टें्रड टेक्रीशियन , एसडीई, डिवीजनल इंजीनियर व डीजीएम के खाली पदों को जल्द भरने की मांग रखी। बैठक में हिसार बीएसएनएल के महाप्रबंधक , उपमहाप्रबंधक राकेश कुमार वर्मा, सलालकार समिति के सदस्य, राजेंद्र चुटानी, मैडम राज हसीना, पंकज मेहता, बिटू नैन, धर्मवीर नैन सहित अन्य सदस्य भी उपस्थित थे। 

Thursday, August 27, 2015

इनेलो की नलवा हलका कार्यकारिणी घोषित


इंडियन नेशनल लोकदल की ओर से गुरुवार को नलवा हलके की कार्यकारिणी की घोषणा की गई है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए इनेलो के जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंह लितानी, नलवा के विधायक रणबीर सिंह गंगवा, नवनियुक्त हलका प्रधान सतपाल सरपंच व शहरी हलकाध्यक्ष राजेंद्र चुटानी ने सेक्टर 15 स्थित करणदीप होटल में नलवा शहरी व ग्रामीण हलका कार्यकारिणी की विधिवत घोषणा की। 
जिलाध्यक्ष लितानी ने कहा कि नई हलका कार्यकारिणी में हर गांव व क्षेत्र के वार्डों को शािमल किया गया है। उन्होंने नवनियुक्त पदाधिकारियों से आह्वान करते हुए कहा कि वे अपनी जिम्मेदारियों को तत्परता से निर्वहन करते हुए लोगों के सुख दुख में भागीदार बनें और उनकी समस्याओं का समाधान कराएं। उन्होनें कहा कि प्रदेश भाजपा सरकार जनता के हितों पर लगातार कुठाराघात कर रही है। वन रैंक वन पैंशन का मामला हो या डॉ. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने का वादा, भाजपा की केंद्र व प्रदेश सरकार ने जनता के साथ वादाखिलाफी की है। नलवा के विधाय रणबीर सिंह गंगवा ने कहा कि भाजपा सरकार अपनी संभावित हार को देखते हुए प्रदेश में पंचायती चुनावों को लटकाना चाहती है। इसलिए गैर जरूरी शैक्षिक योग्यता जैसी शर्त को लागू किया गया। अब यह मामला कोर्ट में लटक कर रह जाएगा।  इस अवसर पर चतर सिंह स्याहड़वा, सतबीर वर्मा, हरफूलखान भट्टी, मास्टर ताराचंद, डॉ. सत्यनारायण मंगाली, शमशेर सरपंच, सुभाष नलवा, राजकुमार सलेमगढ़, सोमवीर श्योराण, विनोद ढांडा, सहदेव सिहाग, प्रवीन ढांडा, नितिन पपनेजा, निहाल सिंह, रमेश सोनी, भान सिंह कुल्हडिय़ा, कृष्ण गोदारा सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे। 
यह रही नई नलवा हलका कार्यकारिणी
नलवा हलके की नई कार्यकारिणी में सतपाल सरपंच को अध्यक्ष, सुरेश नंबरदार को वरिष्ठ उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके अलावा रिसाल सिंह, साहेब सिंह, रामप्रकाश गोगिया, सरजीत सिंह, संजय, रामेश्वर भांभू, सुधन सिंह, रोशन भाट्टी, रामपाल, महेंद्र सिंह, भूप फौगाट व राजकुमार को उपाध्यक्ष, कुलबीर को प्रधान महासचिव, जातिराम, दरिया सिंह, उमेद ढाका, शेर सिंह, राजकुमार बलोदा, सुगनाराम सिहाग, राजेश, सुरेंद्र सिंह, कमल सिंह, विजय, बलवंत को महासचिव, खजान सिंह, रामकुमार जाखड़, पूर्ण सिंह, सुल्तान सिंह, कुलदीप, तेलूराम, मंगतराम, राधेश्याम, वजीर सिंह, कृष्ण कुमार, दलीप फौजी, विजेंद्र, जयवीर सार्इं, राजबीर, धर्मपाल चाहर व दयानंद को सचिव, हवासिंह को संगठन सचिव, भीम सिंह को प्रचार सचिव तथा राजेश ढाका को कोषाध्यक्ष मनोनीत किया गया है। इसके अलावा शहरी कार्यकारिणी में राजेंद्र चुटानी को अध्यक्ष, सोमबीर श्योराण को वरिष्ठ उपाध्यक्ष, निहाल सिंह, सत्यवान पानु, रामलाल कुडावाला, प्रीतम ओड, नत्थूप्रधान, विरेंद्र सिहाग व कपिश गोयत को उपाध्यक्ष, ओमप्रकाश को प्रधान महासचिव, रामचंद्र बिट्टू, राहुल कटारिया, मनोज शर्मा, राजेंद्र सिंह, राजेश बैनीवाल, भूपेंद्र पानू व रोहताश सैनी को महासचिव, नितिन पपनेजा, अशोक वर्मा, रोशनी देवी, लीला चौटाला, मोहिंद्र झांब, रामसिंह कुम्हार, सन्नी, दीपक गोगिया, जयसिंह डूडी, संजय तुर को सचिव, सुभाष ढिल्लो को संगठन सचिव, राजेश ढिल्लो को प्रचार सचिव, रमेश सोनी को कोषाध्यक्ष और अमरदीप संभ्रवाल को प्रेस प्रवक्ता मनोनीत किया गया। 
-अनूप धनखड़ को युवा हलकाध्यक्ष की जिम्मेदारी
इसी तरह अनूप धनखड़ को युवा हलकाध्यक्ष, कृष्ण कुमार को बैकवर्ड सैल अध्यक्ष, विजय सिंह को अनुसूचित जाति सैल अध्यक्ष, किताब सिंह को कर्मचारी सैल अध्यक्ष, हरिसिंह को बुद्धिजीवी सैल अध्यक्ष, ओमप्रकाश को किसान सैल अध्यक्ष, रामकुमार फौजी को सैनिक सैल अध्यक्ष, सुभाष चंद्र को श्रमिक सैल अध्यक्ष, कुलदीप को अल्पसंख्यक सैल अध्यक्ष और प्रवीन ढांडा को युवा हलका अध्यक्ष शहरी की जिम्मेदारी सौंपी गई। जबकि जगमाल, सुखवीर, राजकुमार, जिले सिंह, भूरूराम, धर्मसिंह, पुष्कर, दलबीर, नरेश, रोहताश, चट्टान सिंह, रामकुमार, शेरसिंह, भूप सिंह, रामचंद्र, राजबीर बैनीवाल, नत्थूराम, प्रकाश, जगदीश सरपंच, गोलुराम, धर्मपाल, हरिप्रकाश, चंद्र बैनीवाल, पृथ्वी सिंह, मनोज कुमार, रामकिशन, शंकरलाल, कर्ण सिंह, सुभाष, बंसीलाल, बलवंत, नसीब, उमेद सिंह, पप्पू, अनूप सिंह, डॉ. सुरेश चंद्र, संदीप माजोका, राजकुमार, अमरदीप सिंह, राजेंद्र डांगी व जगबीर लोहान को विशेष कार्यकारिणी सदस्य मनोनीत किया गया है। 
पानी के पुराने बिल मांफ हो , नई रीडिंग के हिसाब से आए बिल - पदम् जैन   

सिरसा का जन स्वास्थय विभाग पिछले पानी के बिल भरने व कन्केशन काटने के नाम पर जनता मे भय पैदा  कर रहा है जो कि सरासर गलत है तथा सिरसा के लोगोंं के साथ सीधा-सीधा भेदभाव है क्यो कि ऐसा तुगलकी फरमान हरियाणा मे कही नही है। यह बात इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन ने बयान जारी करते हुये कही। श्री पदम जैन ने मांग कि की प्रशासन जनता के पिछले पानी के बिलों को माफ करे तथा नये सिरे से मीटर रिडिंग के हिसाब से पानी के बिल जनता से वसूल करे ताकि आम व मध्यम वर्गीय लोगों को राहत मिल सके। उन्होने कहा की लोकतंत्र मे सरकार जनता के हितों के लिये काम करती है। लेकिन भाजपा सरकार ने पानी व सीवर के भारी भरकम बिल भेजकर जनता के जेबों पर डाका डालने का काम किया। जैन ने कहा कि सिरसा के लोग बिजली व पानी का बिल सबसे पहले खजाने मे जमा करवाते है। तब भी बिजली विभाग छापे भी सिरसा मे मारते है। जोकि सिरसा की जनता के साथ सरासर अन्याय व भेदभाव है। इनेलो नेता ने कहा की सरकार सिरसा की शांति प्रिय जनता को धेंर्य की परिक्षा न ले तथा बिजली व पानी के छापे मारना बंद करे नही तो इनेलो जनता के साथ मिलकर प्रशासन व सरकार के विरोध मे सड़को पर आंदोलन करेगी।















सगंठन की मजबुती हेतु इनैलो ने जारी की अपनी रानियां की शहरी कार्यकारणी

ऐलनाबाद के विधायक चौधरी अभय सिंह चौटाला, इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन व रानियां के विधायक रामचंद्र कम्बोज की सहमति से रानियां के शहरी अध्यक्ष विश्म्बर छाबडा ने आज रानियां शहरी कार्यकारणी घोषित की। आज इनैलो जिला कार्यालय की और से जारी प्रैस नोट के माध्यम से रानियां के शहरी अध्यक्ष विश्म्बर छाबडा ने बताया कि मक्खन सिंह को वरिष्ठ उपप्रधान पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उनके अलावा अवतार सिंह,चन्द्र जैन,बचन सिंह,शोभा सिंह,रवि मोंगा,मा.इन्द्रजीत,केवल कृष्ण सिंह,सतनाम सिंह पार्षद,सुरेन्द्र शर्मा,गणेश नाथ,गुरजन्ट सिंह को उपप्रधान नियुक्त किया गया है। मनोज सिंह को प्रधान महासचिव व किरपाल सिंह,सुरजीत सिंह बरनाला,हंस राज,जगीर चंद,मुख्यतार सिंह,सोहन लाल,जगीर सिंह,टहल सिंह,अमरीक सिंह को महासचिव व तरसेम फुटेला,बलवीर सिंह,सुरेन्द्र सिंह,मलकीत सिंह,शीरा राम,जगराज ङ्क्षसह,डा.भजन सिंह,राजेश सेतिया,गुरनाम सिंह,महेन्द्र पाल,कुलवन्त नाथ को सचिव बनाया गया है। इसके अलावा प्रेम जिन्दलसंगठन सचिव,व जरनेल सिंह को प्रचार सचिव व अमित पोपली को कोषाध्यक्ष बनया गया। शहरी अध्यक्ष विश्म्बर छाबडा ने बताया कि कार्यकारिणीे सदस्यों में हरजिन्द्र सिंह चेयरमेन,बलवीर सिंह,बृज लाल,दर्शन,कश्मीर सिंह,भादर जैन,मा.निशान सिंह,पवन वर्मा,श्याम लाल,रमेश चंद्र,सुभाष चंद्र,राजेश डाबर,दर्शन गुम्बर,देशराज सामा,केवल लाल,कृष्ण लाल,सतीराम,मंगुराम,सोहना राम,हरदेव सिंह,मक्खन सिंह,लीलाधर,गुरमीत सिंह,चेता राम,दारा मोमी,मुख्तयार रंधावा को शामिल किया गया है।
       रानियां के शहरी अध्यक्ष विश्म्बर छाबडा ने बताया कि इस कार्यकारणी मे पार्टी संगठन की मजबूती हेतु रानियां शहर के सभी छतीस बिरादीयों के कर्मठ व निष्ठावान कार्यक्रताओं को स्थान दिया गया है। कार्यकारिणी घोषित किए जानेेे के बाद इनेलो शहरी अध्यक्ष विश्म्बर छाबडा ने नवीन कार्यकारिणी को बधाई देते हुए कहा कि सभी पदाधिकारी पार्टी संगठन को पहले से भी अधिक मजबूत बनाने के लिए कार्य करेेगेंंं।      

Wednesday, August 26, 2015

सगंठन की मजबूती हेतु इनेलो ने जारी की अपनी कालांवाली की शहरी कार्यकारिणी

ऐलनाबाद के विधायक चौधरी अभय सिंह चौटाला, इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन व कालांवाली के विधायक बलकौर सिंह की सहमति से कालांवाली के शहरी अध्यक्ष प्रवीन रोड़ी ने आज कालांवाली शहरी कार्यकारिणी घोषित की। आज इनैलो जिला कार्यालय की और से जारी प्रैस नोट के माध्यम से कालांवाली के शहरी अध्यक्ष प्रवीन रोड़ी ने बताया कि बन्टी वधवा को वरिष्ठ उपप्रधान पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उनके अलावा मक्खन अरोड़ा,जगसीर चन्द,सुरेन्द्र नेहरू,रणजीत सिंह फोजी,हरीश सिंगला,हरजीत सिंह,अवतार सिंह,चरणजीत सिंह,सोनु बांसल,बलजीत सिंह,शगनजीत सिंह को उपप्रधान नियुक्त किया गया है। सुनील अहलावत को प्रधान महासचिव व मधु मिल्ला,लाला लुहानी,जीत सिंह,हरप्रीत सिंह संरा,नवीन वधवा,जगतार सोनी,डा.गौतम,गुरमीत सिंह,बलकौर सिंह,मुकेश बांगडी,दिनेश बांसल को महासचिव व राम गोपाल वश्ष्ठि,गुरपाल सिंह,अजय कुमार,रमेश प्रजापति,गोवर्धन दास,राजीव बिट्टा,गुरप्रीत सिंह,बन्टी सिंह,रोशन लाल डाबला,महेन्द्र सिंह,जोगिन्द्र सिंह को सचिव बनाया गया है। इसके अलावा लवली जैन को संगठन सचिव,व संजीव महेश्वरी को प्रचार सचिव व हर्ष जैन को कोषाध्यक्ष बनया गया। शहरी अध्यक्ष प्रवीन रोड़ी ने बताया कि कार्यकारिणीे सदस्यों में भैरो सिंह,पप्पी प्रजापति,बलकौर सिंह,कृष्ण पार्षद,मोती सब्जी वाला,प्रकाश रामगढिया,साहिल गर्ग,जगमीत सिंह,गुरतेज सिंह,केवल सिंह मोगा हरपाल सिंह,लाल चन्द,हेम राज,बिन्द्र सिंह,जसवीर सिंह,प्रीत सिंह,मनी सिंह को शामिल किया गया है।
       कालांवाली के शहरी अध्यक्ष प्रवीन रोड़ी ने बताया कि इस कार्यकारणी मे पार्टी संगठन की मजबूती हेतु कालांवाली शहर के सभी छतीस बिरादीयों के कर्मठ व निष्ठावान कार्यक्रताओं को स्थान दिया गया है। कार्यकारिणी घोषित किए जानेेे के बाद इनेलो शहरी अध्यक्ष प्रवीन रोड़ी ने नवीन कार्यकारिणी को बधाई देते हुए कहा कि सभी पदाधिकारी पार्टी संगठन को पहले से भी अधिक मजबूत बनाने के लिए कार्य करेेगेंं।      

Tuesday, August 25, 2015

इनेलो ने संसदीय कमेटी से कहा कि व्यावहारिक नहीं है लोकसभा व विस चुनाव एकसाथ करवाना 


इनेलो के एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमण्डल ने मंगलवार को संसद की स्टेंडिंग कमेटी से भेंट कर लोकसभा व विभिन्न विधानसभाओं के चुनाव एकसाथ करवाए जाने की संभावनाओं पर पार्टी का दृष्टिकोण रखा और कहा कि लोकसभा व विधानसभा के चुनाव एकसाथ करवाने के मुद्दे पर इनेलो सैद्धांतिक तौर पर तो सहमत है लेकिन ये व्यावहारिक नहीं है। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा विधायक दल के उपनेता व पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू के अलावा इस प्रतिनिधिमण्डल में राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आरएस चौधरी, पार्टी राजनीतिक मामलों की कमेटी (पीएसी) के सदस्य डॉ. एमएस मलिक व बीडी ढालिया भी शामिल थे।
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने बताया कि उन्होंने संसदीय कमेटी को कुछ सुझाव दिए हैं जिनमें चुनाव आचारसंहिता लागू किए जाने की न्यूनतम अवधि तो लागू है लेकिन अधिकतम अवधि का प्रावधान नहीं है। कई बार चुनाव आयोग कई-कई महीने पहले ही आचारसंहिता लागू कर देता है और कई मामलों में ऐन चुनाव के वक्त पर ही इसे लागू किया जाता है। ऐसे में एक निश्चित तय अवधि होनी चाहिए कि आचार संहिता कितने दिन पहले लागू होगी? इनेलो ने संसदीय कमेटी को यह भी सुझाव दिया कि मौजूदा प्रावधानों के अनुसार चुनाव आयोग चाहे तो छह महीने पहले किसी भी समय चुनाव करवा सकता है।
इनेलो प्रतिनिधिमण्डल ने संसदीय कमेटी से कहा कि ऐसा प्रावधान होना चाहिए कि जिन विधानसभाओं के चुनाव संसदीय चुनाव के बाद छह महीने की अवधि के भीतर होने वाले हों तो उनके साथ ही करवाए दिए जाने चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि देश में गठबंधन सरकारों का दौर है और प्रदेशों में भी समय-समय पर गठबंधन सरकारें गठित हो रही हैं। ऐसे में अगर कोई विधानसभा अपनी तय अवधि से पहले भंग हो जाती है तो वहां के लोगों को लोकसभा चुनाव तक इंतजार नहीं करवाया जा सकता कि विधानसभा के चुनाव लोकसभा के साथ ही होंगे और लोगों को अपनी निर्वाचित सरकार चुनने से वंचित नहीं किया जा सकता। इनेलो नेताओं ने कहा कि लोकसभा व विधानसभा चुनाव एकसाथ हों, यह सैद्धांतिक तौर पर तो ठीक है लेकिन व्यावहारिक दृष्टिकोण से यह उचित नहीं है। उल्लेखनीय है कि संसद की जन शिकायत, न्याय व विधि संबंधी संसदीय स्टेंडिंग कमेटी मंगलवार को चंडीगढ़ में आई थी और कमेटी की इनेलो प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में इनेलो ने लोकसभा व विभिन्न विधानसभाओं के चुनाव एकसाथ करवाए जाने की सम्भावनाओं संबंधी विचारविमर्श के दौरान अपनी पार्टी के विचार व दृष्टिकोण को कमेटी के समक्ष रखा।
विधानसभा में इनेलो उठाएगी प्रमुख मुद्दे: बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए अशोक अरोड़ा, जसविंदर सिंह संधू व रामपाल माजरा ने कहा कि पार्टी विधायक आने वाले विधानसभा सत्र में प्रदेश से जुड़े हुए सभी प्रमुख मुद्दों को प्रमुखता से उठाएंगे। उन्होंने कहा कि बुढ़ापा पेंशन के लिए बुजुर्ग आज जगह-जगह धक्के खा रहे हैं और चौधरी देवीलाल ने बुजुर्गोंे के लिए जो बुढ़ापा सम्मान पेंशन शुरू की थी उसे मौजूदा सरकार ने बुजुर्गों को अपमानित करने का काम किया है। इनेलो नेताओं ने कहा कि सरकार बुजुर्गों को वायदे अनुसार दो हजार रुपए महीना पेंशन उनके घर पहुंचाने का काम करे। इनेलो नेताओं ने कहा कि विधानसभा सत्र में सरकार के दस महीने के कामकाज का कच्चा चि_ा भी सदन में रखा जाएगा और प्रदेश से जुड़े हुए सभी प्रमुख मुद्दों पर सरकार से जवाब मांगा जाएगा। इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो के सभी विधायक पूरी तैयारी के साथ विधानसभा में जाएंगे और प्रदेश से जुड़े हुए हर मुद्दे व लोगों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाएंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने अपना कोई भी चुनावी वायदा पूरा नहीं किया और दस महीनों में सरकार से हर वर्ग का पूरी तरह मोहभंग हो गया है।
दसवीं की शर्त लगाना पूरी तरह अनुचित: इनेलो नेताओं ने कहा कि एक तरफ सरकार ने पंचायती राज संस्थाओं में चुनाव लडऩे के इच्छुक लोगों के लिए 10वीं पास होने की शर्त को पूरी तरह अनुचित बताते हुए कहा कि सरकार ने एक तरफ ऐसा अध्यादेश जारी कर दिया और वहीं दूसरी तरफ प्रदेश विधानसभा का सत्र भी बुला लिया गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे जल्दबाजी में फैसले लेकर सरकार बेवजह लोगों को परेशान कर रही है। अगर सरकार ऐसी कोई शर्त लाना चाहती थी तो उसे विधानसभा में लाकर सभी की सहमति से विभिन्न चरणों में लागू किया जाना चाहिए था ताकि प्रदेश के ज्यादातर मतदाताओं को चुनाव लडऩे से वंचित होने से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि आज से 30-40 साल पहले प्रदेश में न तो ऐसी शिक्षा की सुविधाएं थी और न ही ज्यादातर गांवों में दसवीं के स्कूल थे। ऐसे में यह फैसला उन लोगों पर नहीं थोंपा जाना चाहिए था जिन्हें गरीबी के हालातों और शिक्षण संस्थानों के अभाव के चलते यह सुविधा मिल ही नहीं पाई थी। उन्होंने कहा कि जब तक कोर्ट से कोई दोषी करार न दे दिया जाए तब तक महज चार्जशीट के आधार पर उन्हें चुनाव से वंचित नहीं किया जाना चाहिए। इनेलो नेता ने कहा कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस व भाजपा दोनों को चुनौती दी थी कि वे अपने सिम्बल पर चुनाव लड़ें तो इनेलो भी अपने चुनाव चिह्न पर पार्टी प्रत्याशी उतारेगी लेकिन दोनों पार्टियों के सिम्बल पर चुनाव लडऩे से इनकार करने के बाद अब इनेलो अपने चुनाव चिह्न पर चुनाव नहीं लड़ेगी लेकिन जिला परिषद चुनाव में पार्टी की ओर से पार्टी समर्थित अधिकृत प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे जाएंगे।
गन्ने के बकाया का ब्याज सहित भुगतान करवाए सरकार, नरमे-कपास की फसलों का मुआवजा दे सरकार: इनेलो


इनेलो ने प्रदेश सरकार से चीनी मिलों की तरफ किसानों के बकाया का ब्याज सहित तुरंत भुगतान करवाए जाने और सफेद मक्खी के प्रकोप से तबाह हुई नरमे, कपास की फसलों का किसानों को तुरंत मुआवजा दिए जाने की मांग की है। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मंगलवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा इनेलो व भाजपा सरकारों में जारी सीएलयू की जांच करवाए जाने की मांग पर कहा कि कांग्रेस सरकार के भूमि घोटालों की धींगड़ा आयोग द्वारा शुरू की गई जांच के चलते भूपेंद्र सिंह हुड्डा बौखला गए हैं और ऐसी बातें कर रहे हैं। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि दस साल तक केंद्र व प्रदेश में कांग्रेस की सरकारें थी और खुद भूपेंद्र सिंह हुड्डा प्रदेश के मुख्यमंत्री थे तो उन्हें उस समय जांच करवाने से किसने रोका था।
इनेलो नेता ने भाजपा सरकार में बैठे लोगों पर प्रदेश का भाईचारा बिगाडऩे और प्रदेश में गृहयुद्ध जैसी स्थिति पैदा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जो भी प्रदेश का भाईचारा बिगाडऩे का प्रयास करे सरकार को उसके खिलाफ तुरंत सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने भाजपा सरकार को हर मोर्चे पर विफल बताते हुए कहा कि आज चीनी, लोहा व चावल उद्योग सहित परम्परागत उद्योग धंधे निरंतर घाटे में चल रहे हैं तो सरकार को प्रदेश में पहले से चल रहे उद्योगों को बंद होने से बचाने के लिए तुरंत जरूरी कदम उठाने चाहिए। पत्रकार सम्मेलन में पार्टी विधायक दल के उपनेता व पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा, राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप, विधायक परमिंद्र सिंह ढुल, डॉ. केसी बांगड़, आरएस चौधरी, डॉ. एमएस मलिक, बीडी ढालिया, रणबीर सिंह गंगवा, डॉ. हरिचंद मिड्ढा, पिरथी सिंह नम्बरदार, राजदीप फोगाट, राम ङ्क्षसह बराड़, एनएस मल्हान व प्रवीन आत्रेय सहित अनेक प्रमुख नेता मौजूद थे। 
अशोक अरोड़ा ने कहा कि आज प्रदेश में पूरी तरह से जंगलराज है और आए दिन हत्या, बलात्कार, अपहरण, फिरौती, लूटपाट व डकैती की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। इनेलो नेता ने कहा कि सरकार में बैठे लोग एक तरफ जहां केंद्रीय मंत्री बिरेंद्र सिंह, हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला जैसे लोग जाटों को आरक्षण दिए जाने की बात करते हैं तो दूसरी तरफ भाजपा सांसद राजकुमार सैनी जैसे लोग ओबीसी ब्रिगेड बनाने जैसे बयान दे रहे हैं। अब आए दिन प्रदेश में नई-नई ब्रिगेड बनाने की खबरें छपने लगी हैं और इनके पीछे ज्यादातर भाजपा में बैठे लोग ही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का आपसी भाईचारा किसी भी कीमत पर बिगडऩा नहीं चाहिए और जो भी कोई भाईचारे को तोडऩे और कानून अपने हाथ में लेने का प्रयास करे उसके खिलाफ कानून के अनुसार सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। इनेलो नेता ने कहा कि उनकी पार्टी जाटों सहित उन सभी वर्गों को आरक्षण दिए जाने की पक्षधर है जिन्हें आरक्षण दे दिया गया था और अब आरक्षण वापिस नहीं लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि एससी/बीसी सहित जिन अन्य वर्गों को भी आरक्षण का लाभ मिल रहा है उन्हें भी मिलता रहना चाहिए। इनेलो नेता ने कहा कि नए आए आर्थिक सर्वे में यह बात सामने आई है कि प्रदेश में 44 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जिनके पास कोई भूमि नहीं और 74 प्रतिशत लोग ग्रामीण क्षेत्र में रहने वालों की मासिक आमदनी पांच हजार रुपए महीना से भी कम है। जिससे साफ है कि यह आमदनी मनरेगा में मिलने वाली मजदूरी से भी कम है। इसके चलते सभी को आरक्षण मांगने का अधिकार है लेकिन किसी का भी हक नहीं मारा जाना चाहिए। 
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश के किसानों के करोड़ों-अरबों रुपए चीनी मिलों की तरफ बकाया हैं और किसानों को एक तरफ जहां अपने कर्जे का ब्याज चुकाना पड़ता है वहीं भुगतान न मिलने से उनकी आर्थिक हालत बेहद खराब हो गई है। उन्होंने कहा कि सरकार यह सुनिश्चित करे कि किसानों को उनके बकाया का भुगतान ब्याज सहित तुरंत किया जाए चाहे सरकार चीनी मिलों को खुद कर्जे की सुविधा दे अन्यथा कहीं से उनके लिए ऋण उपलब्ध करवाए। इनेलो नेता ने कहा कि कैथल में भूमि अधिग्रहण का पूरा मुआवजा दिए जाने की मांग को लेकर किसान पिछले एक महीने से ज्यादा समय से धरने पर बैठे हैं और दो किसान पिछले 23 दिनों से आमरण अनशन पर हैं। इसके बावजूद अभी तक सरकार ने उनकी कोई सुध नहीं ली, हालांकि उनकी इतनी ही मांग है कि साथ लगते गांव में जो मुआवजा दिया गया है उसी के बराबर उन्हें भी मुआवजा दिया जाए। 

Friday, August 21, 2015

कन्या स्कूल में जलभराव का विधायक ने लिया जायजा 


दादरी के इनेलो विधायक राजदीप फौगाट ने शुक्रवार को गांव सांजरवास के राजकीय कन्या उच्च विद्यालय में बरसाती जलभराव का जायजा लिया। विधायक ने कहा कि स्कूल स्टाफ की तरफ से शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों के अलावा एसडीएम व जिला उपायुक्त को भी समस्या से अवगत कराया है। इसके बावजूद भी स्कूल परिसर से पानी निकासी की व्यवस्था नहीं करना विभागीय एवं प्रशासनिक लापरवाही को दर्शाता है। इनेलो विधायक ने कहा कि इस प्रकार का रवैया बेहद चिंताजनक है। एक तरफ तो सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देकर बेटियों को सम्मान, शिक्षा दिलाने का आह्वान कर रही है जबकि धरातल पर बेटियां शिक्षा सुविधाओं के लिए तरस रही हैं। यह सरकार की नाकामी को भी दर्शाता है। इनेलो विधायक ने कहा कि कन्या स्कूल में पिछले तीन दिन से बरसाती पानी जमा है। जिस कारण स्कूल ग्राउंड में तालाब जैसे हालात बने हैं। तीन दिन से पानी निकासी के लिए कोई प्रबंध नहीं होने से लड़कियां शिक्षा से वंचित हैं। करीब 95 प्रतिशत विद्यार्थी स्कूल नहीं पहुंच रहे। हालांकि स्कूल स्टाफ की ओर से अन्य विद्यालयों में लड़कियों को शिक्षा देने का कार्य किया जा रहा है। लेकिन विभाग द्वारा बरसाती जलभराव के कारण तीन दिन से पूरी तरह बंद स्कूल में शिक्षण कार्य शुरू करवाने के लिए कोई कार्य नहीं किया जा रहा। 
अधिकारियों को अवगत कराया: विधायक राजदीप फौगाट ने एसडीएम दादरी, सिंचाई विभाग के उच्चाधिकारियों को स्कूल में जलभराव की स्थिति से अवगत कराया और जल्द से जल्द पानी निकासी की व्यवस्था करने बारे दिशा-निर्देश दिए। 
इनेलो विधायक के साथ-साथ वहां गांव में मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने अपने स्तर पर राशि एकत्रित कर पानी निकासी करवाने का निर्णय लिया गया। ग्रामीणों ने जल्द ही ट्रैक्टर-ट्राली की मदद से मिट्टी भरत का कार्य शुरू कराने की बात कही। इस अवसर पर शमशेर नंबरदार, बलजीत फौगाट, श्रीपाल, बिजेंद्र परमार, संजय ठेकेदार, जयप्रकाश नंबरदार, विनोद बीडीसी, रणबीर परमार, सुनील ठेकेदार, राकेश स्वामी, सुनील सैन इत्यादि भी मौजूद थे।
सफेद मक्खी प्रकोप से बर्बाद फसलों का मुआवजा दे सरकार: दौलतपुरिया

फतेहाबाद से इनेलो विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने फतेहाबाद सहित प्रदेश के कई जिलों में खेतों में सफेद मक्खी के प्रकोप से बर्बाद फसलों पर गहरी चिंता व्यक्त की है। इस मामले को विधायक ने किसान वर्ग के लिए बेहद गंभीर मुद्दा करार देते हुए सरकार से इस दिशा में ठोस कदम उठाए जाने की जोरदार पैरवी की है। फतेहाबाद अनाज मंडी में किसानों से इस मुद्दे पर चर्चा करते हुए दौलतपुरिया ने कहा कि इनेलो ने हमेशा किसानों के हक की बात की है। उनकी हर प्रकार की समस्याओं का समाधान करवाने के लिए इनेलो का हर वर्कर हर समय संघर्ष के लिए तैयार रहा है। उन्होंने किसानों को आश्वस्त किया कि वे इस बबात मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र भी लिखेंगे ताकि किसानों को उनकी बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा जल्द से जल्द मिल सके।
विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने कहा कि प्रदेश में किसानों की हालत बद से बद्तर होने लगी है। पूर्व में बेमौसमी बरसात के बाद सफेद मक्खी प्रकोप जैसी गंभीर समस्याओं ने किसानों का जीना मुहाल किया हुआ है। उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि प्रदेश सरकार ने सफेद मक्खी प्रकोप से बर्बाद हुई फसलों के लिए स्पेशल गिरदावरी करवाकर प्रभावित किसानों को जल्द मुआवजा नहीं दिया तो इस मुद्दे पर इनेलो सरकार को विधानसभा में घेरने का काम करेगी। किसानों की आवाज किसी भी स्तर पर दबने नहीं दी जाएगी, चाहे इसके लिए इनेलो को किसी भी प्रकार का आंदोलन ही क्यों न करना पडे। उन्होंने कहा कि किसी समय में सर्वश्रेष्ठ खेती कृषि और खुशहाल किसानों वाले प्रदेश के रूप में पहचाने जाने वाले हरियाणा के किसान और खेती ही आज सबसे खराब दौर में पहुंच चुकी है। उन्होंने इसके लिए वर्तमान में भाजपा सरकार और पूर्व की कांग्रेस सरकार की किसान विरोधी नीतियों को ही मुख्य रूप से जिम्मेवार ठहराया। उन्होंने कहा कि बात चाहे पिछली हुड्डा सरकार की करें या फिर वर्तमान में अच्छे दिनों के सब्जबाग दिखाकर सत्ता हथियाने वाली भाजपा सरकार की, दोनों ही राजनीतिक दलों ने हर वर्ग की भांति किसानों के साथ भी राहत देने के नाम पर केवल मात्र स्वार्थपूर्ति की राजनीति का खेल ही खेला है। 
इनेलो विधायक ने कांग्रेस पर कटाक्ष किया कि पूर्व की हुड्डा सरकार में भाजपा के जो बड़े नेता किसानों के आंदोलनों में उनके साथ धरने देते थे, अर्धनग्न प्रदर्शन करने तक के स्वांग रचने से पीछे नहीं हटे, आज सरकार में वही नेता बडे ओहदे मिलने के बावजूद किसानों की समस्याओं का हल करवाने से लेकर उनकी आवाज बुलंद करने तक के मामले में मौन धारण किए हुए है। भाजपा नेताओं का यह दोगला चेहरा इस बात को प्रमाणित करता है कि किसान और कृषि से भाजपा नेताओं का न कभी कोई लगाव था, न आज है। उन्होंने कहा कि सही मायनों में यदि प्रदेश के किसानों के लिए आखरी सांस तक किसी राजनेता ने संघर्ष किया, आंदोलन किए, जेल तक गए, तो वे केवल मात्र जननायक स्व देवीलाल व उनकी नीतियों पर चलने वाले इनेलो नेता ही थे। आज इनेलो का एक-एक कार्यकत्र्ता भी उन्ही के आदर्शों पर चलते हुए किसान, मजदूर, गरीब, कर्मचारी, महिला-युवा वर्ग इत्यादि के अधिकारों की लडाई लड रहा है। उन्होंने किसानों के साथ-साथ हर वर्ग से आह्वान किया कि वे अच्छे दिनों के नाम पर अपने साथ हुए विश्वासघात का हिसाब पंचायती राज चुनाव और नगर निकाय चुनावों में इनेलो के पक्ष में रिकार्ड मतदान करते हुए भाजपा सरकार से जरूर चुकता करें। उन्होंने दावा किया कि जो हालात भाजपा की गलत नीतियों से देश-प्रदेश में बने हैं, उनके आधार पर यदि आज विधानसभा चुनाव करवा लिए जाएं तो प्रदेश में भाजपा को अपना खाता खोलने तक के लिए एडी-चोटी तक का जोर लगाना पडेगा। साथ ही दावा किया कि प्रदेश की जनता अपने उज्जवल भविष्य के लिए अब इनेलो को भविष्य में सत्तासीन करने का मन बना चुकी है।

Tuesday, August 18, 2015

INLD MLAs met governor Haryana, seeks 

intervention in discrimination with farmers



An INLD delegation led by leader of opposition and senior INLD leader Chaudhary Abhay Singh Chautala and party’s state president Shri Ashok Arora has met Haryana governor Shri Kaptan Singh Solanki, seeking his intervention in the discrimination being done by the BJP led Haryana government in compensation for the farmers, whose land has been acquired for the Kaithal bypass.
The leaders who met the governor including former Haryana agriculture minister Jasvinder Singh Sandhu, former CPS Rampal Majra, INLD MLAs Ranbir Gangwa, Naseem Ahmad, Pirthi Singh Nambardar , Prof Ravinder Baliyala, Makhan Lal Singla, Ram Chandra Kamboj, Ved Narang, Anoop Dhanak, Rajdeep Phogat, Nagender Bhadana, Kehar Singh Rawat, Om Prakash Gora, Balkaur Singh and former MLAs BL Saini, Rajbir Barara, Pradeep Chaudhary, INLD leaders RS Chaudhary, BD Dhalia, MS Malik, NS Malhan, Ram Singh Brar, Ashok Sherwal, Praveen Attray, Randhir Singh, Harphool Khan Bhatti.
 In the memorandum submitted to the governor the INLD leaders said that the agriculture land being acquired from Pyoda, Kyodak, Harsola, Sega, Narad, Gyong and Ujhana villages. The state government was paying only Rs 27 lakh per acre to the affected farmers, whereas the market rates are around Rs 50 lakh to one crore per acre. However, the government was paying Rs 46 lakh  per acre in Kalayat, Pehowa and Ismailabad to the farmers’ whose  land had been acquired for the same purpose. They said that against this discrimination by the government affected farmers are sitting on the protest for the past 29 days and two farmers Chanda Singh and Dariya Singh are on hunger strike ( fast till death ) for the past 15 days but nobody from the government has reached them yet.  in the memorandum the INLD leaders have demanded immediate intervention of the Haryana governor against the discrimination and raising the amount of compensation to Rs 70 lakh per acre to all farmers.  They said that the condition of the  farmers, who are on hunger strike, was worsening but the government not worried about them.  Extending their support to the protesting farmers the INLD leaders said that they will not allow the government to continue the discrimination with the farmers.
 Later talking to media in front of Haryana Rajbhawan Shri Abhay Chautala said that the BJP government has failed to fulfill its promises but now it is working against the promises and people of all sections are suffering. They promised to implement reccommendions of swaminathan commission but now they refused to implement it.  Similarly, they did not take any step for regular jobs to the guest teachers and even started removing them. Now all section of society including farmers and teachers of the state are on the roads against the wrong policies of the Khattar government in Haryana. He also said that government’s recent decision of making education qualification compulsory in the panchayat elections has deprived 87 per cent people of the state from participating in the elections.  He said that there is no educational condition on the election of MPs and MLAs, they have taken the decision just to delay the panchayat elections. He reiterated that the INLD is ready to contest on the party symbol if BJP and Congress will field their candidates on their symbol in the panchayat elections. He also said that the INLD will raise the each and every issues related to the people of Haryana in the coming assembly session.

इनेलो ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जी की पत्नी के निधन पर शोक व्यक्त किया 

इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की पत्नी सुव्रा मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख जताते हुए शोकग्रस्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। इनेलो नेताओं ने दिवंगत आत्मा की शांति और सद्गति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हुए कहा कि  ईश्वर शोकग्रस्त परिवार को इस कष्ट को सहन करने की शक्ति प्रदान करे। 
चौधरी अभय सिंह चौटाला और अशोक अरोड़ा ने मंगलवार को हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण में घटी दुखदायी घटना पर भी गहरा दुख जताते हुए दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की और इस घटना ने घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने सरकार से घायलों को तुरंत सभी चिकित्सा सुविधाएं व अच्छे से अच्छा इलाज उपलब्ध करवाए जाने की मांग की ताकि इस घटना में घायल हुए लोग जल्द से जल्द स्वस्थ हो सकें।
अभय चौटाला के नेतृत्व में राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, कैथल बाइपास भूमि अधिग्रहण मुआवजा बढ़ाने की मांग


इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में पार्टी विधायकों व वरिष्ठ नेताओं के एक प्रतिनिधिमण्डल ने मंगलवार को   हरियाणा के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी को एक ज्ञापन सौंप कैथल बाइपास के लिए अधिग्रहण की जा रही भूमि के मुआवजे में किसानों के साथ हो रहे भेदभाव को दूर किए जाने की मांग की। प्रतिनिधिमण्डल में हरियाणा के पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा, इनेलो विधायक रणबीर सिंह गंगवा, नसीम अहमद, पिरथी सिंह नम्बरदार, प्रो. रविंद्र बलियाला, मक्खन लाल सिंगला, रामचंद कम्बोज, वेद नारंग, अनूप धानक, राजदीप फोगाट, नगेंद्र भड़ाना, केहर सिंह रावत, ओमप्रकाश गोरा व बलकौर सिंह के अलावा पूर्व विधायक बीएल सैनी, राजबीर बराड़ा, प्रदीप चौधरी, इनेलो नेता आरएस चौधरी, बीडी ढालिया, एमएस मलिक, एनएस मल्हान, राम सिंह बराड़, अशोक शेरवाल, प्रवीन अत्रे, रणधीर सिंह, हरफूल खान भट्टी सहित अनेक प्रमुख नेता शामिल थे।
इनेलो नेताओं ने राज्यपाल को सौंपे ज्ञापन में बताया कि कैथल बाइपास के लिए तितरम मोड़ से क्योड़क तक अधिग्रहण की जा रही जमीन से गांव प्योदा, क्योड़क, हरसोला, सेगा, नरड़, ग्योंग व उझाणा के किसान प्रभावित हो रहे हैं। इन गांवों के जमीन का मुआवजा 12 लाख रुपए प्रति एकड़ कलेक्टर रेट पर तय करके सोलेशियम और ब्याज राशि मिलाकर मात्र 27 लाख रुपए प्रति एकड़ आंका गया है। उन्होंने बताया कि इन गांवों की जमीनों का बाजार भाव 50 लाख रुपए से लेकर एक करोड़ रुपए प्रति एकड़ है और वैसे भी कलायत, पेहवा और इस्माइलाबाद से होकर गुजरने वाले बाइपास के लिए जो भूमि अधिग्रहित की गई है उसका मुआवजा 30 लाख रुपए प्रति एकड़ तय करके ब्याज व सोलेशियम सहित 46 लाख रुपए दिया जा रहा है। इनेलो नेताओं ने कहा कि सरकार द्वारा किसानों के साथ किए जा रहे भेदभाव के विरोध में इन गांवों के हजारों किसान पिछले 29 दिनों से धरने पर बैठे हैं और दो किसान चंदा सिंह व दरिया सिंह पिछले 15 दिनों से आमरण अनशन पर हैं। इनेलो नेताओं ने राज्यपाल को बताया कि किसानों के शांतिपूर्वक धरने के बावजूद पिछले एक महीने के दौरान सरकार की ओर से मुख्यमंत्री या कोई वरिष्ठ मंत्री किसानों के साथ न तो बातचीत करने पहुंचा और न ही उनकी किसी ने कोई सुध ली है। उन्होंने राज्यपाल से इस मामले में तुरंत दखल दिए जाने और अपने पद के प्रभाव का इस्तेमाल कर किसानों को उनकी जमीन का मुआवजा बाजार भाव व सोलेशियम और ब्याज को ध्यान में रखते हुए 70 लाख रुपए प्रति एकड़ दिलवाए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि आमरण अनशन पर बैठे किसान चंदा सिंह की हालत बिगड़ चुकी है जो कि सभी के लिए बेहद गम्भीर चिंता का विषय है। इनेलो नेता ने कहा कि उनकी पार्टी पूरी तरह से मुआवजा बढ़ाए जाने को लेकर आंदोलनरत किसानों के साथ है और किसानों के हितों पर सरकार को कुठाराघात नहीं करने दिया जाएगा।
नेता प्रतिपक्ष ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने के बाद राजभवन के बाहर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि भाजपा सरकार लगातार अपने वायदों के विपरीत काम कर रही है और आज समाज का हर वर्ग सरकार की इस दोहरी नीति के विरोध में आंदोलनरत है। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी फसलों की लागत के साथ 50 प्रतिशत मुनाफा देने का वादा करने और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की घोषणा के बाद सत्ता में आई भाजपा अपने वायदों से पीछे हट गई है। गेस्ट टीचरों सहित अन्य वर्गों को पक्का करने और पंजाब के समान वेतनमान देने के वायदे से भी सरकार पीछे हट गई और गेस्ट टीचरों सहित अन्य वर्गों को नौकरी से निकालने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आज किसानों व टीचरों सहित हर वर्ग धरने-प्रदर्शन व आंदोलन कर रहा है और सरकार ने पंचायत चुनाव टालने के लिए चुनाव लडऩे के इच्छुक प्रत्याशियों के लिए 10वीं पास की शर्त लगाकर प्रदेश के 87 प्रतिशत मतदाताओं को चुनाव लडऩे के उनके संवैधानिक अधिकार से वंचित करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि जब विधायक, सांसद का चुनाव लडऩे के लिए कोई शैक्षणिक योग्यता की शर्त नहीं है तो पंचायत चुनावों में यह शर्त इसलिए लगाई गई है ताकि लोग कोर्ट में चले जाएं और चुनावों का मामला लटक जाए। इनेलो नेता ने दोहराया कि कांग्रेस व भाजपा अन्य राज्यों में पंचायत व स्थानीय निकाय चुनाव पार्टी सिम्बल पर लड़ते हैं तो उन्हें हरियाणा में भी अपने चुनाव चिह्न पर ये चुनाव लडऩे चाहिए ताकि इन राष्ट्रीय दलों को अपनी लोकप्रियता का सही में अहसास हो सके। नेता प्रतिपक्ष ने दोहराया कि अगर भाजपा व कांग्रेस जिला परिषद चुनाव अपने सिम्बल पर लड़ेंगे तो इनेलो इसके लिए पूरी तरह से तैयार है। इनेलो नेता ने कहा कि आने वाले विधानसभा सत्र में प्रदेश से जुड़े सभी मुद्दों को इनेलो प्रमुखता से उठाएगी और सरकार से पिछले दस महीनों के दौरान किए गए कामकाज पर जवाब मांगेगी। उन्होंने कहा कि आगामी सत्र में लोगों की दिक्कतों और परेशानियों को भी प्रमुखता से उठाया जाएगा और सरकार की कमियों को भी उजागर किया जाएगा। 

पंचायती राज व्यवस्था को खत्म करना चाहती है भाजपा सरकार- बिश्नोई

इनेलो के जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्नोई ने कहा कि भाजपा सरकार पिछले 10 महीने में अपनी लोकप्रियता खो चुकी है। इसीलिए पंचायत चुनाव से घबरा कर उस पर अचानक शर्तें थोपते हुए इन चुनावों को विवादों में डालना चाहती है। उन्होंंने कहा कि सविंधान के तहत हर नागरिक को चुनाव लडऩे का अधिकार है। लेकिन बीजेपी सरकार लोगो के सवैंधानिक अधिकारों का हनन करने पर तुली हुई है। एडवोकेट बिश्नोई ने कहा कि 73 वें संविधान संशोधन अधिनियम में यह स्पष्ट है कि पंचायत का कार्यकाल पूरा होने से पहले नए चुनाव करवाने होंगे। गत 25 जुलाई को पंचायतों का कार्यकाल पूरा हो चुका है और 25 जुलाई के बाद सभी पंचायतो का कार्यभार संबंधित बीडीपीओ के पास है। इस तरह से भाजपा ने गांव की सरकार को खत्म करके एक प्रकार से पंचायती राज व्यवस्था को तहस नहस करके रख दिया है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार की नियत ठीक होती तो इस प्रकार की शर्ते पंचायत का कार्यकाल पूरा होने से पहले लगाती। गौरतलब है कि सरकार ने ये शर्ते पंचायत का कार्यकाल समाप्त होने  के बाद 14 अगस्त को इस संबंध में नोटिफिकेशन जारी किया है जो कि सरासर गलत है। इससे साफ जाहिर है कि सरकार पंचायत चुनाव से बचना चाहती है।

Monday, August 17, 2015

भूमि अधिग्रहण मुआवजे के मुद्दे पर इनेलो विधायक राज्यपाल को सौंपेंगे ज्ञापन

इनेलो का एक प्रतिनिधिमण्डल पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में मंगलवार सुबह हरियाणा के राज्यपाल महामहिम कप्तान सिंह सोलंकी को मिलकर एक ज्ञापन सौंपेगा और कैथल बाईपास के लिए तितरम मोड़ से लेकर क्योडक़ तक अधिग्रहण की जा रही जमीन का उन्हें उचित मुआवजा दिए जाने की मांग करेगा। इनेलो प्रतिनिधिमण्डल में पार्टी के सभी विधायक व अन्य प्रमुख नेता भी शामिल होंगे और राज्यपाल को प्रदेश सरकार द्वारा प्रभावित किसानों की अधिग्रहित की जाने वाली भूमि के मुआवजे की राशि के संबंध में अपनाए जा रहे दोहरे मापदण्ड से अवगत करवाएंगे। कैथल बाईपास के लिए तितरम मोड़ से लेकर गांव क्योडक़ तक प्योदा, हरसोला, सेगा, नरड़, ग्योंग और उजयाना सहित कई गांव आते हैं और उनकी जमीन के लिए सरकार की ओर से घोषित की गई मुआवजे की मौजूदा राशि बाजार भाव से भी काफी कम है। 

Thursday, August 13, 2015

प्रतिदिन जनता की समस्याओं को सुनेंगे इनेलो पदाधिकारी  


इनेलो जिला कार्यकारिणी की बैठक डबवाली रोड़ स्थित इनेलो कार्यालय मे सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष पदम जैन ने की। पदम जैन ने कहा कि इनेलो जिला अध्यक्ष,विधायक,व शहरी प्रधान सहित सभी मुख्य पदाधिकारी इनेलो जिला मुख्यालय मे प्रतिदिन सुबह 10 बजे से दोपहर 02 बजे तक उपस्थित रहकर आने वाले सभी कार्याकाताओं व आम जनता की सम्सयाओं को सुनकर प्रशानिक अधिकारी से मिलक र उनकी समस्याओं का हल करने का प्रयास करेगें। जैन ने कहा की जिला कार्यकारिणी की इनेलो मुख्यालय पर मासिक बैठक आयोजित की जाएगी।  बैठक मे भविष्य मे होने वाले जिला परिषदों,पंचायत व नगर परिषदों के चुनावों बारे विचार-विर्मश किया गया। बैठक को सम्बोधित करते हुऐ जैन ने कहा की सभी पदाधिकारी कार्यकर्ताओं को साथ लेकर अभी से चुनावों की तैयारीयों मे जुट जाए,ताकि जिला परिषद ,पंचायत व नगर परिषदों के चैयरमैन इनेलो के चुने जाए। जैन ने भाजपा सरकार को के उस फैसले की कड़ी निंदा की जिसमे पंचायत चुनावों मे उम्मीदवार हेतु दसवीं पास की शर्त लगाई गई है। उन्होने कहा की ग्रामीण आंचल मे आज भी 60 से 70 प्रतिशत अनपढ़ लोग है। जैन ने कहा की यदि अनपढ़ को वोट देने का अधिकार है तो फिर चुनावों मे भाग लेने का अधिकार क्यो नही? पुर्व मंत्री भागीराम ने सभी कार्यकर्ताओं से एकजुट होकर चुनाव लडऩे का आहवान किया ताकि इनेलो निकाय स्तर पर अधिक मजबुत होकर उभरे। वश्ष्ठि उपप्रधान जसवीर जस्सा ने भीतर घात करने वालो से सावधान रहने को कहा उन्होने कहा कि भाजपा सरकार द्धारा चुनावों के लिए शते लगाने से किसानों से चुनाव लडऩे का मौलिक अधिकार छिन रही है जोकि सविधान के विरूध है। उन्होने कहा कि क्योकि इनेलो पार्टी से किसान जायदा जुड़े हुऐ है इसलिए सरकार ने जान बुझकर यह फैसला लिया है। जिला महासचिव कश्मीर करीवाला ने कहा की इनेलो संगठन एक मजबुत संगठन है और कार्यकर्ता निकाय चुनावों मे भी दोगुनी ताकत से उत्साह के साथ भाग लेगे। महिला विंग की जिलाध्यक्षा कृष्णा फौगाट ने अपने सम्बोधन मे कहा की इनेलो का प्रत्येक कार्यकर्ता जनता की हितो की आवाज उठाये और जहा पर भी प्रशासन कोई गलत काम करता है तो उसका विरोध करेगें। सुभाष नैन ने कहा कि अच्छे दिन की बजाये सभी लोगों के  बुरे दिन आ गऐ है और जनता मे असंतोष होने के कारण धरने व प्रदर्शन किये जा रहे है।  बैठक मे हलका अध्यक्ष सुभाष नैन,सर्वजीत मसीता,विनोद दड़वी,शहरी अध्यक्ष कृष्ण गुम्बर,जिला संयोजक कृ ष्णा फौगाट,के .एल लूथरा,साहब राम चकजालु,नत्थुराम पटवारी,धर्मवीर नैन,सतपाल अरोड़ा,मीनुदीन पहलवान, पुर्व शहरी जिलाध्यक्ष प्रदीप मैहता,मनोहर मैहता,गुरदयाल मैहता,श्रवन डुुडी,रोहित गनेरीवाला,बन्सी सचदेवा, सुशील कम्बोज, सीताराम बटनवाला,रामनिवास बोमरा,सोम प्रकाश चावला,रमेश मेहता आढती,जगदीश शर्मा,नरेन्द्र मेहता,विकल पचार,मोहन लाल साहु,रामसिंह सैनी,डा. वी.के नाहर,महावीर सिहाग,सह प्रवक्ता महावीर शर्मा व अन्य पदाधिकारी मौजुद थे।

















सांसद दुष्यंत चौटाला के बुलावे पर वकीलों ने किया संसद भ्रमण


 हिसार लोकसभा क्षेत्र से युवा सांसद दुष्यंत चौटाला के निमंत्रण पर जींद बार एसोसिएशन के 35 वकीलों ने बुधवारा को संसद का दौरा किया। यहां सांसद दुष्यंत चौटाला ने वकीलों को संसद का भ्रमण करवाया एवं संसद के बारे में काफी विस्तृत रूप से जानकारी दी। सांसद महोदयों ने सभी वकीलों को दोपहर का भोज भी कराया। बार एसोसिएशन के पुर्व प्रधान एडवोकेट  जसबीर ढूल ने बताया कि सभी वकीलों ने लोकसभा एवं राज्यसभा की कार्रवाई का प्रत्यक्ष रूप से देखकर आंनद लिया। उन्होंने बताया कि सभी वकीलों ने लोकसभा भवन का अवलोकन किया एवं पुर्व उपप्रधानमंत्री स्व.चौधरी देवीलाल की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये। इस अवसर पर जयनारायण भारद्वाज,कुलदीप पिंडारा, रामपाल राणा, सतीश यादव, किताब सिंह ढाण्डा, कृ ष्ण भनवाला, महेंद्र रिढाल, जितेंद्र पहल, बलजीत सिंगरोहा, जिले सिंह दलाल, राजकुमार रेढू, अभिषेक सिंगला, दिलबाग राणा आदि वकील मौजूद थे
सेंट मैरी स्कूल हिसार की छात्र-छात्राओं ने देखी संसद की कार्यवाही


हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला के निमंत्रण पर मंगलवार को सेंट मैरी स्कूल की छात्र-छात्राओं और उनके साथ आए शिक्षकों के एक 59 सदस्यीय दल ने संसद की कार्यवाही को देखा और संसदीय प्रणाली का अध्ययन किया। इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने अपनी प्राथमिक शिक्षा इसी स्कूल से शुरू की थी और स्कूली बच्चों के साथ बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि इसी स्कूल द्वारा दी गई शिक्षा-दीक्षा के चलते ही वे यहां तक पहुंच पाए हैं और स्कूल के साथियों व अपने शिक्षकों का वे पूरा जीवन कर्ज तो नहीं उतार पाएंगे लेकिन जीवन में जो भी बन पाएगा वे उच्च आदर्शो को स्थापित करने का हर सम्भव प्रयास करेंगे। स्कूली छात्र-छात्राओं ने संसद भवन में लगी चौधरी देवीलाल की प्रतिमा पर भी श्रद्धासुमन अर्पित किए और कई अन्य सांसदों से भी मुलाकात कर अपने अनुभव उनके साथ सांझे किए।
हुड्डा सरकार के भूमि घोटालों की गूंज आज लोकसभा में सुनाई दी

हुड्डा सरकार के भूमि घोटालों की गूंज आज लोकसभा में सुनाई दी। जब कांग्रेसी नेता खडग़े द्वारा रखे गए स्थगन प्रस्ताव पर बोलते हुए इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा के भूमि घोटालों को संसद में जोरशोर से उठाया। इनेलो सांसद ने कहा कि पिछले बारह दिनों से कांग्रेस व भाजपा के सांसदों ने हाउस को चलने नहीं दिया और कई सदस्यों ने तो अध्यक्ष के आसन तक पहुंचकर अपने आपको निलंबित होने का काम किया। इनेलो सांसद ने कहा कि आज लोकसभा में सबसे कम उम्र का सदस्य होने के नाते उन्हें यह सुनकर शर्म आती है जब कांग्रेस के साथी भ्रष्टाचार की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा में पिछली सरकार ने 73 हजार एकड़ भूमि की सीएलयू बेचने का काम किया। इस सदन में उस चर्चा क्यों नहीं की गई? आज एक व्यक्ति के ट्विटर पर की गई ट्वीट पर की गई पूरे मौनसून सत्र को खत्म करने का काम किया गया और कल को इस सदन में मैं एक स्थगन प्रस्ताव डालता हूं कि किस तरह से हरियाणा के अंदर हमारे किसानों से 73 हजार एकड़ जमीन लेकर सीएलयू बेची गई। उन्होंने कहा कि मैं एक यह भी स्थगन प्रस्ताव लाना चाहूंगा कि किस तरह सेज के नाम पर रिलायंस को कौडिय़ां के भाव जमीनें दी गई, उस पर भी चर्चा की जाए।
इनेलो सांसद ने कहा कि स्व. जननायक चौधरी देवीलाल कहा करते थे कि लोकराज लोकलाज से चलता है, लेकिन मुझे लगता है कि मौनसून सत्र में सदन के सदस्य लोकराज को भूल गए और केवल राज के प्रति अपना ध्यान रखने लग गए। हुड्डा सरकार के जमीन घोटाले उजागर करने पर जहां सत्तापक्ष के सदस्यों ने मेजें थपथपाई वहीं कांग्रेसी सदस्यों ने शोर भी किया। इनेलो सांसद ने कहा कि इस बार इस सदन में 317 नए सांसद चुनकर आए हैं और लोगों ने चाहे अच्छे दिनों के नाम पर उन्हें चुनकर भेजा या अपने भविष्य को देखते हुए उनके पक्ष में वोट डाले और उन्हें सदस्य बनाकर यहां भेजने का काम किया। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने अपने जवाब में कहा कि उनकी सरकार ने और अरुण जेतली के विभाग ने ललित मोदी के संदर्भ में रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है। इनेलो सांसद ने कहा कि जिस तरह रेड कार्नर नोटिस होने के बाद हम पुर्तगाल से अबू सलेम को देश में वापिस लाए उसी तरह मैं आग्रह करूंगा कि अब रेड कार्नर नोटिस जारी हो गया है तो ललित मोदी को भी देश में वापिस लाकर उन्हें सजा दिलानी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह सोशल मीडिया व ट्विटर की ताकत है कि इंगलैंड में बैठा व्यक्ति ट्विट करता है तो देश की संसद में बैठे पौने आठ सौ सांसद उस पर चर्चा के लिए संसद को रोककर बैठ जाते हैं। उन्होंने लोकसभा स्पीकर से आग्रह किया कि वे सभी पार्टियों को बुलाकर अथवा सदस्यों को बुलाकर उन्हें कोई गाइडलाइन देने का काम करें ताकि देश के लिए जो महत्वपूर्ण है और देश की समस्याओं पर चर्चा हो सके। उन्होंने कहा कि 123 करोड़ की आबादी वाला हमारा देश है और पिछले बारह-तेरह दिनों में जो बात सामने आई है कि आईपीएल घोटाला हुआ है और महताब जी जो अब सदन में नहीं हैं, ने वित्त कमेटी की रिपोर्ट भी सदन में रखी। इनेलो सांसद ने कहा कि आईपीएल घोटाला हुआ है और बहुत से लोग उसमें शामिल हैं, उस पर भी पूरे सदन की सहमति से जांच करवाई जाए और कमेटी बनाई जाए ताकि दूध का दूध और पानी का पानी सामने आ सके। 
शैक्षणिक योग्यता वाले नियम से सबसे ज्यादा दलित व पिछड़ा वर्ग होगा प्रभावित: इनेलो


इनेलो ने सरकार द्वारा पंचायती चुनावों में शैक्षणिक बाध्यता के नियम लगाए जाने के फैसले की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि इससे सबसे ज्यादा प्रभावित दलित व पिछड़ा वर्ग हुआ है।  इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मंगलवार को भिवानी व हिसार में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि अगर सरकार को पंचायती राज कानून में ऐसा कोई बदलाव लाना था तो उसे पंचायतों का पिछला कार्यकाल खत्म होने से काफी पहले ही ले आना चाहिए था ताकि चुनाव लडऩे के इच्छुक उम्मीदवार इसको ध्यान में रखकर ही अपनी तैयारी करते। इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा में पंचायतों का पिछला कार्यकाल पिछले महीने खत्म हो गया था और पिछले काफी समय से पंचायती संस्थाओं के लिए चुनाव लडऩे के इच्छुक व्यक्ति अपने-अपने क्षेत्रों में निरंतर चुनाव प्रचार में जुटे हुए थे। इनेलो नेताओं ने सरकार के इस आदेश को अलोकतांत्रिक, असंवैधानिक पूरी तरह से मनमानी वाला तुगलकी फरमान बताते हुए कहा कि इस फैसले से चुनाव लडऩे की इच्छा रखने वाले करीब 73 प्रतिशत उम्मीदवारों के मौलिक अधिकारों का हनन हुआ है। इनेलो नेताओं ने कहा कि सरकार के इस फरमान को लेकर लगता है कि भाजपा की मंशा चुनावों को विवादों में डालकर इसे लटकाने की है और भाजपा चुनाव करवाने से पूरी तरह से डर रही है। इनेलो नेताओं ने मंगलवार को हिसार, भिवानी के अलावा महेंद्रगढ़, रेवाड़ी व मेवात में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठकों को सम्बोधित किया और उनसे पंचायती चुनावों के बारे में विचारविमर्श करने के अलावा पार्टी कार्यकर्ताओं से फीडबैक भी हासिल किया।
इनेलो नेताओं ने कहा कि अब तक वे प्रदेश के करीब डेढ दर्जन जिलों में पार्टी के जिला पदाधिकारियों की बैठक ले चुके हैं और इनमें यह बात सामने आई है कि पार्टी को जिला परिषद व स्थानीय निकाय चुनाव अपने चुनाव चिह्न पर तभी लडऩे चाहिए जब कांग्रेस व भाजपा अपने-अपने सिम्बल पर जिला परिषद व स्थानीय निकाय चुनाव लडऩे की घोषणा करे। इनेलो नेताओं ने कहा कि वे पहले भी भाजपा और कांग्रेस को पंचायती व स्थानीय निकाय चुनाव अपने-अपने सिम्बल पर लडऩे की चुनौती दे चुके हैं लेकिन कांग्रेस व भाजपा ने अपने सिम्बल पर चुनाव लडऩे से इनकार कर दिया है। ऐसे में इनेलो ये चुनाव अपने चुनाव चिह्न पर न लडक़र हर वार्ड में जिला परिषद चुनाव के लिए अपने अधिकृत प्रत्याशी उतारेगी। उन्होंने पार्टी के सभी नेताओं व पदाधिकारियों के साथ-साथ कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे आपस में मिल बैठकर विचारविमर्श व सलाह-मश्विरा करके मजबूत व अच्छी छवि के साथियों को चुनाव लडऩे के लिए प्रेरित करें ताकि पंचायतों, ब्लॉक समिति, जिला परिषद व स्थानीय निकाय चुनावों में इनेलो के ज्यादा से ज्यादा उम्मीदवार जीतकर आ सकें। इनेलो नेताओं ने कहा कि हिसार व भिवानी जिलों के लिए इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला को प्रभारी बनाया गया है जो पार्टी के स्थानीय नेताओं, पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ इस संबंध में विचारविमर्श करेंगे ताकि इन दोनों जिलों में चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवारों के नामों को अंतिम रूप दिया जा सके। 
हिसार की बैठक में नलवा के विधायक रणबीर गंगवा, बरवाला के विधायक वेद नारंग, उकलाना के विधायक अनूप धानक के अलावा पूर्व मंत्री सुभाष गोयल, पूर्व मंत्री अतर सिंह सैनी, पूर्व विधायक पूर्ण डाबड़ा, शीला भ्याण, युद्धवीर आर्य, चतर सिंह , राजसिंह मोर, राजेश गोदारा, रमेश गोदारा, सजन लावट, सतबीर सिसाय, रणधीर पूनिया, सतपाल सरपंच, भागीरथ नंबरदार, सत्यवान बिछपड़ी, राव इंद्र फौजी, राजमल काजल, एडवोकेट मनदीप बिश्रोई, प्रहलाद सैनी, राजेंद्र चुटानी, बहादुर सिंह नायक, हरफूल खान भट्टी, सतबीर वर्मा, धर्मवीर सिहाग, अमित बूरा, सिल्क पूनिया, रमेश चुघ, भरत सिंह, राज हसीना, छन्नों देवी, अमित ग्रोवर, कृष्णा खरब, ईश्वर मोर, बलबीर सिहाग सहित सभी जिला एवं हलका पदाधिकारी मौजूद थे। भिवानी की बैठक में  जिला प्रधान सुनील लांबा, विधायक राजदीप फौगाट, ओमप्रकाश गोरा, धर्मपाल ओबरा, कर्नल रघबीर सिंह छिल्लर, रणवीर मंदोला, निर्मला सर्राफ, कमला रानी, इंदू परमार, राज सिंह गागड़वास, पंडि़त रवि महमिया, कुलवंत काटिया, जगदीश धनाना, रविंद्र पटौती, विक्की महता, जितेंद्र शर्मा, महेंद्र शास्त्री, विजय पचगांवा, पुनीत मस्ता, राजू मेहरा, शकुतला स्यानी, सिलोचना पोटलिया, राजकुमार ढुल, राजबीर तालू, देवेंद्र नकीपुर, राजेंद्र हुई, कुलदीप मनसरवास, होशियारा थानेदार, बृजलाल जोगी, अमन राघव, अनिल काटपालिया, मनोज यादव, सुरेंद्र किलका, मनमोहन बुरटाना, पप्पल ठाकुर, आशीष निमड़ी, प्रदीप गोयल, राहुल मिताथल, रमन नौरंगाबाद, सुरेश ओड, दयाकिशन बुरा, सरपंच रामफल फौजी, अनूप बागनवाला, अतर फौजी, विजय मंदौला, वजीर मान, मीर सिंह निमड़ी, रामश्वेर चांग, रोहित मोगली, राजेश फौगाट, पंकज महता, विरेंद्र बापोड़ा, सुभाष सेठ, राजेंद्र ढाणा, विनोद मंडी, सुशील बामल, रामकिशन काजल, वेदपाल ढिल्लो, डा. दिलबाग, हरिश तोशाम सहित अनेक इनेलो कार्यकर्ता मौजूद थे।

Wednesday, August 12, 2015

आवरा सांडों की समस्या पर आगे आई इनेलो, एडीसी को सौंपा ज्ञापन


आवारा सांडों की लगातार गंभीर होती समस्या पर प्रमुख विपक्षी दल इनेलो भी जनता के साथ आ खड़ा हुआ है। बुधवार को इनेलो जिला कमेटी ने आवारा सांडों की समस्या पर बैठक की और अतिरिक्त उपायुक्त राजेश जोगपाल को एक ज्ञापन भी सौंपा। इनेलो प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता निशान सिंह, पार्टी के जिलाध्यक्ष बलविंदर सिंह कैरों , फतेहाबाद के विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया और पूर्व विधायक रणसिंह बैनीवाल ने किया। एडीसी को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि शहर में आवारा सांडों की समस्या बहुत बढ़ गई है और आए दिन इनके कारण दुर्घटनाएं भी हो रही हैं। इनेलो प्रदेश प्रवक्ता निशान सिंह ने कहा कि प्रशासन सरकार से बात करे और इस समस्या के स्थाई समाधान के लिए जल्द से जल्द काम शुरु करें। फतेहाबाद के विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने कहा कि पिछले एक डेढ महीने में जिले भर में एक दर्जन से ज्यादा हादसे हो चुके हैं जिसमें कम से कम ६ से ७ लोगों की जानें गई हैं। ऐसे में प्रशासन इस पर गंभीरता से ध्यान दे। जिलाध्यक्ष बलविंदर सिंह कैरो ने कहा कि प्रशासन आवारा सांडों के कारण होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए तुरंत प्रभाव से कदम उठाए ताकि निर्दोषों की जानें बचाई जा सकें। इनेलो प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त करते हुए अतिरिक्त उपायुक्त राजेश जोगपाल ने कहा कि प्रशासन की ओर से इस संदर्भ में काम शुरु हो चुका है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि मताना गांव पंचायत की ओर से साढ़े ४ एकड़ जमीन नगर परिषद को दी जा चुकी है। जिला प्रशासन की ओर से भी यहां पर नंदीशाला बनाने के लिए ४२ लाख का प्रपोजल सरकार के पास भेजा गया है। जिसकी मंजूरी आते ही नंदीशाला बनाने का काम शुरु हो जाएगा। फौरी तौर पर आवारा सांडों को पकड़ कर लघु सचिवालय के सामने स्थित अस्थाई नंदीशाला और बीघड़ रोड पर नंदीशाला में रखा जा रहा है। एडीसी ने ये भी बताया कि इसके अलावा सड़कों पर घूमने वाले सांडों पर रेडियम बैल्ट बांधने की तैयारी भी की जा रही है ताकि रात के समय सड़क पर चलने वाले वाहन चालकों को इन्हें देखने में दिक्कत ना आए और हादसों में कमी लाई जा सके। इस मौके पर इनेलो प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश प्रवक्ता सरदार निशान सिंह, जिलाध्यक्ष बलविंदर सिंह कैरों, विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, पूर्व विधायक रण सिंह बैनीवाल, भरत सिंह परिहार, बीकर सिंह हडोली, बलदेव दरियापुर, पवन चुघ, राजेन्द्र चौधरी काका, सुरेन्द्र लेगा, हरबंस खन्ना, डाक्टर रणजीत ओड,  मनोहर नायक, विकास मेहता, जोगीराम, बसंत लाल, धीरज शर्मा सहित अनेक इनेलो नेता एवं पदाधिकारी भी शामिल रहे। 

पंचायती चुनावों में शैक्षणिक बाध्यता भाजपा सरकार का तुगलकी फरमान: अशोक अरोड़ा


इंडियन नेशनल लोकदल के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने गत दिवस कैबिनेट मीटिंग में प्रदेश भाजपा सरकार द्वारा पंचायती चुनावों में शैक्षणिक बाध्यता लगाने को तुगलकी फरमान करार दिया है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार को इस तरह का कोई फैसला लेना ही था तो पंचायत का पिछला कार्यकाल खत्म होने से काफी पहले ही ले लेना चाहिए था, ताकि चुनाव लडऩे के इच्छुक उम्मीदवार इसको ध्यान में रखकर अपनी तैयारी करते। वे बुधवार को जाट धर्मशाला में आयोजित जिला स्तरीय पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक की अध्यक्षता इनेलो जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी ने की। 


इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अरोड़ा ने कहा कि पंचायत का कार्यकाल 27 जुलाई को खत्म हो चुका है व पंचायत के चुनाव लडऩे के इच्छुक व्यक्ति अपने अपने क्षेत्रों में चुनाव प्रचार में जुटे हुए थे। सरकार के इस फैसले से चुनाव लडऩे की इच्छा रखने वाले लगभग 73 प्रतिशत उम्मीदवारों के मौलिक अधिकारों का हनन हुआ है। वहीं ऐसे तुगलकी फरमान देखकर लगता है कि सरकार की मंशा पंचायती चुनावों को विवादों में डालकर आगे बढ़ाने की है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस फैसले से सबसे ज्यादा प्रभावित दलित व पिछड़ा वर्ग हुआ है। इनेलो नेता अरोड़ा ने कहा कि पिछले तीन दिनों में पार्टी ने लगभग 15 जिलों में जिला पदाधिकारियों की बैठक ली है। इनमें यह बात सामने आई है कि पार्टी को जिला परिषद व स्थानीय निकाय के चुनाव अपने चुनाव चिह्न पर तभी चुनाव चिह्न लडऩे चाहिए, जब कांग्रेस व भाजपा अपने अपने चुनाव चिह्न पर जिला परिषद व स्थानीय निकाय के चुनाव लड़े। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी इनेलो ने भाजपा व कांग्रेस को पंचायती व निकाय चुनाव अपने अपने चुनाव चिह्न पर लडऩे की चुनौती दी थी। अब जब कांग्रेस व भाजपा ने अपने चुनाव चिह्न पर चुनाव लडऩे से इंकार कर दिया है तो इंडियन नेशनल लोकदल भी ये चुनाव अपने चुनाव चिह्न पर ना लड़कर हर वार्ड में अपने अधिकृत प्रत्याशी उतारेगी। 


उन्होंने सभी पदाधिकारियों से आह्वान किया कि वे आपस में बैठकर सलाह मशवरा करते हुए मजबूत व अच्छी छवि के साथियों को चुनाव लडऩे के लिए प्रेरित करें ताकि पंचायत, ब्लॉक समिति, जिला परिषद व स्थानीय निकाय के चुनावों में इनेलो के ज्यादा से ज्यादा उम्मीदवार जीतकर आएं। इसके लिए इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला को पंचायत व स्थानीय निकाय के चुनावों के लिए जिला हिसार का प्रभारी बनाया गया है, जिनकी देखरेख में चुनाव लड़े जाएंगे। इस मौके पर विधायक रणबीर गंगवा, वेद नारंग, अनूप धानक, पूर्व मंत्री सुभाष गोयल, पूर्व मंत्री अतर सिंह सैनी, पूर्व विधायक पूर्ण डाबड़ा, शीला भ्याण, युद्धवीर आर्य, चतर सिंह , राजसिंह मोर, राजेश गोदारा, रमेश गोदारा, सजन लावट, सतबीर सिसाय, रणधीर पूनिया, सतपाल सरपंच, भागीरथ नंबरदार, सत्यवान बिछपड़ी, राव इंद्र फौजी, राजमल काजल, एडवोकेट मनदीप बिश्रोई, प्रहलाद सैनी, राजेंद्र चुटानी, बहादुर सिंह नायक, हरफूल खान भट्टी, सतबीर वर्मा, धर्मवीर सिहाग, अमित बूरा, सिल्क पूनिया, रमेश चुघ, भरत सिंह, राज हसीना, छन्नों देवी, अमित ग्रोवर, कृष्णा खरब, ईश्वर मोर, बलबीर सिहाग सहित सभी जिला एवं हलका पदाधिकारी मौजूद थे। 

हिसार की मेयर व पार्षदों ने देखे दिल्ली में बैठी सरकार का कामकाज के तौर तरीके


हिसार शहर को साफ व स्वच्छ बनाने के लिए यूनिसेफ की टीम दौरा करेगी। यह टीम न केवल हिसार का दौरा करेगी बल्कि शहर को साफ सुथरा रखने के नुस्खे भी बताएगी। यह फैसला आज नई दिल्ली में हिसार की मेयर व पार्षदों के साथ यूनिसेफ के सदस्यों के साथ हुई बैठक में लिया गया। इस बैठक में हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला व सिरसा के साथ चरणजीत सिंह रोड़ी भी मौजूद थे। 
हिसार नगर निगम की मेयर शकुतंला राजलीवाला, सीनियर वाईस डीएन सैनी व डिप्टी चेयरमेन भीम महाजन व 14 पार्षद दुष्यंत चौटाला की पहल पर आज संसद का दौरा करने नई दिल्ली पहुंचे थे। हिसार निगम की सरकार ने पहले सांसद दुष्यंत चौटाला से मुलाकात की और इसके बाद यूनिसेफ की टीम के सुजाय मजूमदार, शानिली, विनोद भानू से हिसार को स्वच्छ बनाने के लिए विचार विमर्श किया। यूनिसेफ की टीम ने सफाई की दिशा में और कदम बढ़ाने के लिए हिसार आने के लिए अपनी सहमति जताई। इसके बाद मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर व डिप्टी मेयर सहित पार्षद सांसद दुष्यंत चौटाला व सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी के साथ संसद देखने गए। उन्होंने सायं तीन बजे से चार बजे तक लोकसभा की कार्यवाही देखी और सांसद मनोज तिवारी से मुलाकात की। इस दल में मास्टर प्रहलाद सिंह, चंद्रपति ढांडा, पूर्व पार्षद विनोद ढांडा, अजीत सिंह, कमला बंसल, शालू दीवान, नरेंद्र शर्मा, राजपाल मांडू, मानसिंह, सरोज खटाणा, रेखा सेनी, सुनीता, सहदेव सिहाग भी शामिल थे।

Tuesday, August 11, 2015

सरकार का तुगलकी फरमान है पंचायत चुनाव लड़ने वालो के लिए लगाई गई शर्तें - नेता प्रतिपक्ष

इनेलो ने खट्टर सरकार द्वारा पंचायत चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए शैक्षणिक योग्यता 10वीं पास सहित अन्य अनेक शर्तें लगाए जाने की कड़ी आलोचना करते हुए सरकार के इस फैसले को तुगलकी फरमान बताया है । 
इनेलो के वरिष्ठ नेता व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने सरकार के इस फैसले पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि लोकतंत्र में निर्वाचित लोकप्रिय सरकारों को लोगों पर ऐसे तुगलकी फैसले नही थोपने चाहिए । 
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि संविधान में सभी को वोट डालने और चुनाव लड़ने का अधिकार है । इनेलो नेता ने कहा की भाजपा चुनाव से भागने के बहाने तलाश रही है। इसीलिए ऐसी शर्तें लगाई जा रही हैं ताकि लोग इस फैसले के खिलाफ कोर्ट में चले जाएँ और सरकार को अदालत का बहाना लेकर चुनाव लम्बित करने का मौका मिल जाए । उन्होंने कहा कि उम्मीदवार के लिए डिफाल्टर न होने की शर्त तो समझ आती है लेकिन सरकार द्वारा पंचायत चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए शैक्षणिक योग्यता 10वीं पास सहित अन्य अनेक शर्तें लगाए जाना पूरी  तरह से गैरजरूरी व गैरवाजिब है । इनेलो इस मामले में लोगों के सहयोग से उनके हकों की लड़ाई लड़ेगी ।

Monday, August 10, 2015

दुष्यंत ने संसद में उठाई हिसार को स्मार्ट सिटी बनाने की मांग


इनेलो संसदीय दल के नेता दुष्यंत चौटाला ने सोमवार को लोकसभा में हिसार को स्मार्ट सिटी बनाने की मांग दोबारा उठाई। उन्होंने आज लोकसभा में हरियाणा में चुने गए स्मार्ट सिटी की प्रक्रिया पर प्रश् न चिन्ह लगाते हुए इस प्रक्रिया को नए सिरे से शुरू करने की मांग की। इनेलो सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश में 100 स्मार्ट शहर बनाने की घोषणा की थी जिनमें हरियाणा से दो शहरों को स्मार्ट सिटी का दर्जा दिया जाना था। हिसार को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वह स्वयं शहरी विकास मंत्री से मिले थे। उन्होंने कहा कि जब हरियाणा में अर्बन डेवलेपमेंट के नियमों के अनुसार स्मार्ट सिटी का चयन हुआ था तो करनाल व हिसार को बराबर 87-87 अंक मिले थे। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि  करनाल का चुनाव स्मार्ट सिटी के रूप केवल इसलिए किया गया क्योंकि करनाल सीएम का क्षेत्र था और हिसार को नकार दिया गया। उन्होंने कहा कि हिसार को पहले से काऊंटर मेगनेट सिटी का दर्जा प्राप्त है और हिसार में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा स्थापित करने की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि यदि हरियाणा में कोई शहर स्मार्ट सिटी बनने लायक है तो वह हिसार है।  सांसद  दुष्यंत चौटाला ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वैकया नाउडू से मांग की कि स्मार्ट सिटी को चुनने की प्रक्रिया दोबारा की जाए और हिसार को स्मार्ट सिटी की सूची में शामिल किया जाए।
दुष्यंत चौटाला के निमंत्रण पर हिसार संसदीय क्षेत्र की ग्रामीण महिलाओं का एक प्रतिनिधिमण्डल सोमवार को संसद की कार्यवाही देखने पहुंचा। ग्रामीण परिवेश में संसद की कार्यवाही देख महिलाएं काफी प्रभावित हुई और उन्होंने इनेलो सांसद का आभार भी जताया।
जिला परिषद चुनाव में इनेलो उतारेगा पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी- अभय चौटाला


हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता एवं इनैलो के वरिष्ठ नेता अभय चौटाला ने कहा कि इनेलो ने जिला परिषद चुनाव में पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी उतारने का निर्णय लिया है। अभय चौटाला इनैलो जिला पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित करने के बाद कुरुक्षेत्र में पत्रकारों से वार्तालाप कर रहे थे। उन्होंने भाजपा व कांग्रेस को जिला परिषद चुनाव पार्टी सिंबल पर लडऩे की चुनौती देते हुए कहा कि यदि ये दोनों पार्टियां पार्टी सिंबल पर चुनाव लड़ती हैं तो इनेलो भी इसके लिए तैयार है, लेकिन भाजपा और कांग्रेस अपनी खस्ता हालत को देखते हुए मैदान छोड़कर भाग गई हैं, इसलिए इनेलो ने पार्टी सिंबल पर चुनाव न लडऩे का निर्णय लेकर पार्टी द्वारा समर्थित प्रत्याशी उतारने का फैसला लिया है। पत्रकार वार्ता में इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, प्रदेश महासचिव बूटा सिंह लुक्खी, जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य माया राम, रामकरण काला, ओमप्रकाश हथीरा, रणबीर किरमिच, विक्रम चक्रपाणि, सतपाल खरींडवा, योगेंद्र बारना, धर्मपाल चौधरी,  डा. संतोष दहिया, कलावती, विक्रम तंवर लुखी, युवा इनैलो के प्रदेश सचिव नितिन भारद्वाज लाली, कुलदीप जखवाला सहित पार्टी के अनेक नेता उपस्थित थे। इनेलो नेताओं ने आज कुरुक्षेत्र के अलावा अम्बाला, कैथल व जींद में भी पार्टी पदाधिकारियों की बैठकों को सम्बोधित किया और पंचायती चुनावों को लेकर उनसे विचारविमर्श किया।


अभय चौटाला ने कहा कि उन्होंने भाजपा तथा कांग्रेस को जिप चुनाव पार्टी चिन्ह पर लडऩे की चुनौती दी थी, लेकिन दोनों पार्टियां मैदान छोड़कर भाग गई। यदि भाजपा तथा कांग्रेस चुनाव चिन्ह पर जिप चुनाव लड़ती है तो इनेलो भी पार्टी सिंबल पर चुनाव लडऩे को तैयार है। दोनों पार्टियों के रूख को देखते हुए इनेलो ये चुनाव पार्टी सिंबल पर तो नहीं लड़ेगी, लेकिन पार्टी द्वारा अधिकृत प्रत्याशी उतारे जाएंगे और कार्यकर्ताओं की सलाह से प्रत्याशियों का चयन किया जाएगा। जिप चुनाव में प्रत्याशियों के चयन के लिए कार्यकर्ताओं की राय जानने के लिए प्रत्येक जिले में प्रभारी नियुक्त किए गए हैं। अभय चौटाला ने जाट आरक्षण का समर्थन करते हुए कहा कि इस मामले पर भाजपा दोहरा खेल खेल रही है। एक ओर तो भाजपा के सांसद राजकुमार सैनी जाट आरक्षण का विरोध कर रहे हैं, दूसरी ओर जाट समुदाय से संबंधित भाजपा मंत्री कैप्टन अभिमन्यु तथा ओमप्रकाश धनखड़ जाट आरक्षण की मांग को लेकर मुख्यमंत्री तथा प्रधानमंत्री से मिलते हैं। इन दोनों मंत्रियों के सामने मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री घडिय़ाली आंसू बहाकर जाटों का हमदर्द होने की बात करते हैं। 
भाजपा सांसद राजकुमार सैनी द्वारा जाट आरक्षण का विरोध करने पर टिप्पणी करते हुए अभय चौटाला ने कहा कि सांसद सैनी यह सब बयानबाजी भाजपा नेतृत्व के इशारे पर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जाटों के साथ साथ त्यागी, बिश्रोई, रोड़  व जट सिखों को भी आरक्षण दिया गया था। राजकुमार सैनी व भाजपा स्पष्ट करे कि वह इन पांचों जातियों को आरक्षण देने का विरोध करती है या समर्थन। उन्होंने आरोप लगाया कि राजकुमार सैनी भाजपा की शह पर जात पात की राजनीति कर रहे हैं और लोगों का आपसी भाईचारा खराब करने पर तुले हुए हैं। जब जाटों व अन्य जातियों को आरक्षण दिया गया तो उस समय राजकुमार सैनी चुप्पी साधे हुए थे, क्योंकि भाजपा को वोट लेने थे, अब चुनाव होने के पश्चात इन्होंने जाट आरक्षण का विरोध शुरू कर दिया है।


पत्रकार वार्ता से पूर्व कुरुक्षेत्र में जिला पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए अभय चौटाला ने कहा कि पार्टी द्वारा नियुक्त किए गए जिला प्रभारी जल्दी ही कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित करेंगे और कार्यकर्ताओं को ही अधिकार होगा कि वह जिला परिषद चुनाव में प्रत्याशियों को अधिकृत करे। उन्होंने कहा कि पार्टी के निष्ठावान व जीतने वाले कार्यकर्ताओं को ही अधिकृत प्रत्याशी बनाया जाएगा। जो कार्यकर्ता पार्टी का आदेश न मानकर चुनाव लडऩे की घोषणा करेगा, उसे बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। कार्यकर्ता बैठक को संबोधित करते हुए अभय चौटाला व अशोक अरोड़ा ने भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इस सरकार से हर वर्ग दुखी है। यह पहली सरकार है जिसके पहले वर्ष में ही आंदोलन और धरने शुरू हो गए।


कैथल में आयोजित चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस यदि निकाय और पंचायतों के चुनाव अपने ङ्क्षसबल पर लड़े तो दोनों राजनीतिक पार्टियों की कलई खुल जाएगी। उन्होंने भाजपा पर गहरा प्रहार करते हुए कहा कि लोगों को गुमराह करने वाली भाषणबाजी की बदौलत सत्ता में आई यह पार्टी अपने दायित्वों को शायद भूल चुकी है इसलिए तो पूरे प्रदेश में त्राहि-त्राहि है। कहीं महंगाई की मार पड़ रही है तो कहीं किसान का शोषण हो रहा है। मेहनतकश किसान अपनी खेतीबाड़ी छोड़ अपने हकों की लड़ाई लड़ते हुए तपती धूप और बरसात में सड़कों पर बैठने के लिए मजबूर है। उन्होंने यह भी कहा कि पंचायती चुनावों की घोषणा में विलम्ब करना भाजपा की सोची समझी साजिश है इस सत्ताधारी दल को आईना हो चुका है कि इन चुनावों में उनकी असलीयत सामने आएगी और वे धराशाही होंगे। मंच संचालन राममेहर खुराना ने किया। इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, जिलाध्यक्ष कंवरपाल करोड़ा, पूर्व मंत्री सुरेंद्र मदान, इनेलो प्रदेश कोषाध्यक्ष पारस मित्तल, पूर्व विधायक बूटा ङ्क्षसह, मक्खन ङ्क्षसह, तेजवीर ङ्क्षसह, प्रो. रणधीर चीका, अशोक जैन, शशी वालिया, रामप्रकाश गोगी, जसमेर तितरम, मा. प्रेम ग्योंग, ओमप्रकाश कैरा, राजा राम माजरा, अधिवक्ता हरदीप पाडला, संजय जागलान, संदीप ढांडा, चंद्रभान दयौरा, शहरी प्रधान एवं पार्षद डा. प्रदीप शर्मा, अनिल तंवर सहित भारी संख्या में इनेलो पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित थे। 


अम्बाला की बैठक में पूर्व विधायक राजबीर बराड़ा, सुरजीत सिंह सोंडा, ओंकार सिंह, शीशपाल जंधेड़ी सहित पार्टी के सभी नेता उपस्थित थे। जींद में बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक कलीराम पटवारी ने की। इस बैठक में जिलाध्यक्ष कलीराम पटवारी, जुलाना विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल, नरवाना विधायक पिरथी सिंह नंबरदार, जींद विधायक डा. हरिचंद मिढा, पुर्व विधायक सुरजभान काजल, रामफल कुंडु, भगवानदास, बलदेव बाल्मिकी, डा रामचंद्र जांगड़ा, दयानंद कूंडू, प्रदीप गिल सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेताओं ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर भूपेंद्र जुलानी, सुबे सिंह लोहान, प्रताप लाठर, सुभाष देशवाल, सुदेश चोपडा, देशराज माटा, हरीश अरोड़ा, विश्वनाथ शर्मा, रामनिवास बुडायन, सुनील जैन, डा०कृष्ण मिढा,कष्ण राठी,बलराज नगूरां भी मौजूद थे।