Sunday, May 31, 2015

फतेहाबाद को अब तक क्या दिया इस सरकार ने, सीएम खुलासा करे: दौलतपुरिया



फतेहाबाद से इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने प्रदेश के सीएम मनोहर लाल खट्टर के टोहाना आगमन पर उनसे फतेहाबाद जिला में अब तक उनके सात महीनों के कार्यकाल में हुए विकास कार्यों का खुलासा करने की मांग उठाई। इनेलो विधायक ने प्रदेश की भाजपा सरकार को भी पूर्व की कांग्रेस सरकार की तरह जनता को बरगलाने वाली कोरी घोषणाओं वाली सरकार बताया।
बलवान दौलतपुरिया ने कहा कि जिस तरीके से एक वर्ष से केंद्र में और सात महीनों में प्रदेश की भाजपा सरकार ने जनता का विश्वास खोया है, उसने स्पष्ट कर दिया है कि भाजपा सरकार का कार्यकाल देश-प्रदेश के लिए सबसे बुरे दिनों के रूप में गुजरने वाला है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के मंत्री अभी तक भी जनसमस्याओं के निदान पर केवल मात्र जल्द समाधान के कोरे आश्वासनों की झड़ी लगाकर ही अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने में लगे हुए हैं। सीएम मनोहर लाल खट्टर से इनेलो विधायक दौलतपुरिया ने मांग की कि यदि वे क्षेत्रवाद द्वेष भावना की राजनीति को त्याग सही मायनों में हर क्षेत्र का विकास करना चाहते हैं तो उन्हें जिला फतेहाबाद के गंभीर मुद्दों का प्राथमिकताओं के आधार पर समाधान करना चाहिए। इन मुद्दों में फतेहाबाद के अनेक गांवों में सेम समस्या को दूर किया जाना, ढाणियों में बिजली-पानी उपलब्ध करवाने, फतेहाबाद मुख्यालय पर सरकारी कॉलेज को प्राथमिकता देना, जिला मुख्यालय पर सभी सुविधाओं से लैस नया सरकारी अस्पताल, चिल्ली झील विकास पर जल्द कार्य शुरू करवाना, भट्टू को तहसील का दर्जा प्रदान करने, रतिया क्षेत्र में हेपेटाइटिस-सी का समुचित समाधान रतिया के सरकारी अस्प्ताल में किए जानेे, फतेहाबाद पुलिस लाइन पर वाटर सप्लाई सेंटर का पानी पहुुंचाने व किसानों को निशुल्क टयूबवेल कनेक्शन दिया जाने जैसी मांगे प्रमुख रूप से शामिल हैं। यदि सीएम खट्टर भी पूर्व सरकार की तरह केवल घोषणाओं से जनता में वाह-वाही लूटने में विश्वास रखते हैं तो इसका जवाब भविष्य में जनता उन्हें जरूर देगी।
ग्रामीण आंचल में मजबूत पकड़ को सक्रिय हुई इनेलो, जिलाध्यक्ष ने शुरू किया बैठकों का दौर: इसी बीच ग्रामीण क्षेत्रों में इनेलो को एक बार फिर मजबूत संगठन साबित करने के उद्देश्य से जिलाध्यक्ष बलविन्द्र कैरों ने अपने जनसंपर्क अभियान की शुरूआत गांव अहरवां से की। अहरवां में पार्टी पदाधिकारियों, कार्यकत्र्ताओं से बातचीत के साथ-साथ उन्होंने ग्रामीणों से भी उनकी समस्याओं एवं इनेलो के प्रति उनकी सोच बारे गंभीरता से चर्चा की। इस दौरान उनके साथ रतिया हलकाध्यक्ष बिकर सिंह हड़ोली, युवा नेता विकास मेहता भी मुख्य रूप से उपस्थित रहे।
जिलाध्यक्ष बलविन्द्र कैरों ने ग्रामीणों से बातचीत के दौरान कहा कि अच्छे दिनों के सब्जबाग दिखाने वालों से जनता का विश्वास पूरी तरह से उठ चुका है। जनता समझ चुकी है कि भाजपा के वायदों के जाल में फंसकर उन्होंने अपने बूरे दिनों की नींव रखने की जो गलती की, उसका खामियाजा उन्हें लंबे समय तक भुगतना पड़ेगा। लेकिन जनता का इनेलो के प्रति आज भी वही विश्वास और समर्थन कायम रखना इस बात को प्रमाणित करता है कि इनेलो ही सही मायनों में हरियाणा के हर तबके के अधिकारों की बुलंद आवाज है। उन्होंने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि भले ही इनेलो सत्ता में न हो, लेकिन बात जहां जनता के हक की आती है, किसी क्षेत्र के विकास और उसकी समस्याओं के समाधान की आती है, वहां इनेलो बड़े से बड़ा संघर्ष करने से कभी पीछे नहीं हटती। उन्होंने कहा कि जनता अपने-अपने क्षेत्र की समस्याओं के बारे में इनेलो पदाधिकारियों को सूचित करें,,ताकि उनकी समस्याओं के निदान का सही स्वरूप में हल करवाने की ठोस नीतियां पार्टी द्वारा बनाई जा सके। उन्होंने पदाधिकारियों को भी समय-समय पर हर तबके के बीच पहुंच उनकी समस्याओं को समझने पर जोर दिया। इस अवसर पर गुरप्रीत सिंह भोला, रजवंत सोहल, सुखदेव सिंह, भगवानपाल सिंह, भजन सिंह, जस्सी मैंबर, गुरजिन्द्र सिंह, कुलदीप सिंह, कश्मीर सिंह, जसवंत सिंह आदि उपस्थित रहे।

Friday, May 29, 2015

इनेलो प्रतिनिधिमंडल मिला रेलवे एडीआरएम से, सौंपा ज्ञापन - एडीआरएम ने दिया अधिकतर मांगों को पूरा करने का आश्वासन


हिसार लोकसभा क्षेत्र से युवा सांसद दुष्यंत चौटाला की ओर इनेलो के एक प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार को रेलवे अतिरिक्त मंडल रेल प्रबंधक जीएस बावरिया से मुलाकात की। इनेलो जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंह लितानी के नेतृत्व में मिले इस प्रतिनिधिमंडल में विधायक रणबीर गंगवा, विधायक वेद नारंग, हलकाध्यक्ष सजन लावट, डिप्टी मेयर भीम महाजन, एडवोकेट मनदीप बिश्रोई, हलकाध्यक्ष सत्यवान बिछपड़ी, सतपाल सरपंच और विपिन गोयल शामिल थे।
एडीआरएम को सौंपे ज्ञापन में इनेलो प्रतिनिधिमंडल ने हिसार जिले से संबंधित रेलवे की विभिन्न मांगों को प्रमुखता के साथ उठाया। ज्ञापन में उन्होंने मांग की कि सूर्य नगर फाटक पर बनने वाले आरयूबी को जल्द बनवाया जाए, जिसकी घोषणा पिछले दिनों केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु द्वारा लोकसभा में की गई थी। इसके अतिरिक्त कैमरी रोड, आदमपुर, महाबीर कॉलोनी हिसार, बरवाला रोड पर थर्मल के पास, सेक्टर 16-17 स्थित फाटक पर ओवरब्रिज बनवाएं जाएं। इसके अलावा एकता एक्सप्रेस जो भिवानी से चंडीगढ़ चलती है, इसे भिवानी की बजाए हिसार से शुरू किया जाए ताकि हिसार, आदमपुर, बरवाला, फतेहाबाद, सिरसा, डिंग, बवानीखेड़ा, हांसी व नारनौंद आदि क्षेत्र के लोगों को प्रदेश की राजधानी चंडीगढ़ जाने में आसानी हो। इसी तरह ज्ञापन में हिसार रेलवे स्टेशन की सुंदरता के लिए विशेष आर्थिक पैकज देने, हिसार से हरिद्वार सीधी रेलगाड़ी चलाने, हिसार से अमृतसर सीधी रेलगाडी चलाने, कालिंदी एक्सप्रेस जो भिवानी से कानपुर चलती है, उसे भिवानी की बजाए हिसार तक बढ़ाने, मंजूर हो चुके वाशिंग यार्ड का निर्माण कार्य शीघ्र शुरू करने, भिवानी मथुरा पैसेंजर रेल को हिसार तक बढ़ाने, रेलवे स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे लगवाने, रेलवे स्टेशन परिसर को फ्री वाईफाई से जोडऩे, रेलवे कॉलोनी में पीने के पानी की व्यवस्था करने, रेलवे कॉलोनी में जर्जर हो चुके स्टाफ क्वार्टरों को नया बनाने आदि मांगों को प्रमुखता के साथ उठाया गया। इन स्टाफ क्वार्टरों की जर्जर हालत के बारे में सांसद दुष्यंत चौटाला ने रेल मंत्री के समक्ष लोकसभा में भी आवाज उठाई थी। एडीआरएम ने इनेलो प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि उनकी सभी मांगों पर प्रमुखता के साथ विचार करते हुए उन्हें पूरा किया जाएगा। जो रेलवे कॉलोनी के पुराने क्वार्टर हैं, उनमें से 107 क्वार्टर कंडम घोषित किए जा चुके हैं, जिनमें से 12 क्वार्टर नए बनाने की मंजूर मिल चुकी है। इसी तरह रेलवे स्टेशन के दो नंबर गेट पर महिला शौचालय बनवाने का भी आश्वासन दिया। वहीं हिसार से अमृतसर पैसेंजर ट्रेन के डिब्बों की संख्या बढ़ाने का भी आश्वासन दिया। एडीआरएम ने सूर्य नगर आरयूबी के बारे में बताते हुए कहा कि रेलवे मंत्रालय से उनके पास इस संबंध में पत्र मिल चुका है और इसकी फिजिब्लिटी व पॉसिब्लिटी जाकर चैक की जाएगी, वहीं वाशिंग यार्ड भी अगले वर्ष तक शुरू हो जाएगा। उन्होंने रेलवे स्टेशन पर वाटर कुलर लगाए जाने के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला का आभार जताया व इस वाटर कुलर का निरीक्षण करते हुए संतुष्टि जताई। इस मौके पर मास्टर ताराचंद, अमित बूरा, विक्रांत बागड़ी, उदयवीर दहिया, दर्शना लाठर, आशीष कुंडू, रामचंद्र बैनीवाल, प्रवीन ढांडा, रवि आहूजा व शमशेर सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे। 

दुष्यंत चौटाला ने जापान में किया भारत का प्रतिनिधित्व
ग्लोबल कांफ्रेस आफ यंग एमपी में कहा- भारत के युवा विश्व के विकास का केंद्र बिंदू होंगे


देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने जापान में आयोजित ग्लोबल कांफ्रेंस आफ यंग एमपी में भारत का प्रतिनिधित्व किया। जापान की राजधानी टोक्यों में इंटर पार्लियामेंट यूनियन (आईपीएल)द्वारा आयोजित इस काफ्रेंस में विश्व भर के 166 देशों के 200 से अधिक सांसद भाग लिया। इस प्रतिनिधि मंडल में पश्चिम बंगाल से सीपीआईएम की सांसद रिताब्रता बेनर्जी भी भाग लिया। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने आईपीएल की बहस में युवाओं के समक्ष आर्थिक व सामाजिक चुनौतियों विषय पर बोलते हुए कहा कि 2020 तक भारत के पास 59.2 करोड़ स्किलड् और शिक्षित युवा होंगे और वे विश्व के विकास का केंद्र बिंदू बनेंगें। उन्होंने कहा कि विश्व के हर कोने में भारत के युवा इंजीनियर, डाक्टर, बिजनेसमैन के रूप में दिखाई देंगे। उन्होंने कहा कि भारत में 35 साल से कम उम्र के की 65 प्रतिशत आबादी पूरी दूनिया में अपने कार्यबल का लोहा मनवाएगी। सांसद दुष्यंत ने कहा कि युवाओं के विकास के लिए जरूरी है है कि युवाओं को हर जगह बिना लिंग भेद के समान अवसर प्रदान किए जाएं। उन्होंने कहा कि युवाओं को संसद में लाने के लिए सोशल मीडिया की भागीदारी को नकारा नहीं जा सकता और सोशल मीडिया की अहम भूमिका होगी। 


उन्होंने कहा कि भारत ने सदा विश्व के सभी धर्मों को एक समान मानते हुए सर्वधर्म संभाव का संदेश दिया है। 
दुष्यंत चौटाला ने सुझाव दिया कि शिक्षा व रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध करवा कर युवाओं को राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल होने से रोक सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम हर किसी के पास नहीं पहुंच सकते परन्तु हम सब सांसदों की डयूटी है कि हम नीतियां बना कर हर सभी को बुनियादी शिक्षा और समर्थन उपलब्ध करवा कर हिंसा व टकराव से युवाओं को दूर रख सकते हैं। 

Monday, May 25, 2015

सर्वदलीय बैठक और विशेष विस सत्र बुलाए सरकार: माजरा 
अतिथि अध्यापकों के समर्थन में उतरी इनैलो 
भाजपा सरकार पर वायदा खिलाफी का लगाया आरोप 
कहा: शिक्षामंत्री कर रहे प्रदेश की जनता को गुमराह 


अतिथि अध्यापकों के मामले को गंभीरता से लेते हुए इनेलो ने तुरंत सर्वदलीय बैठक और विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की है। पार्टी के प्रदेश संगठन सचिव तथा पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने आज कैथल स्थित अपने निवास पर आयोजित पत्रकार सम्मेलन में यह मांग की। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने से पहले भाजपा नेताओं ने जंतर-मंतर पर इस वर्ग के कर्मचारियों को पहली कलम से पक्का करने का वायदा किया था जिससे अब सरकार मुकर रही है। माजरा ने आरोप लगाया कि जायज मांगों को नजरअंदाज करते हुए सरकार ने पूर्व सरकार द्वारा पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में दायर शपथ-पत्र को ही पेश कर दिया जिसमें 4073 अतिथि अध्यापकों को सरप्लस करार दिया गया है। 
श्री माजरा ने कहा कि बीते तीन सालों में यानी 2012 से 2015 से बहुत से स्कूलों का दर्जा बढ़ा है और नए बच्चों ने भी दाखिला लिया है। सरकार यह भी दावा कर रही है कि 38 हजार अध्यापकों के पद खाली है ऐसी स्थिति में अतिथि अध्यापकों के सरप्लस होने की जो बात कही गई है वह तथ्यों से परे है। उन्होंने शिक्षामंत्री के विरोधाभासी बयानों पर भी हैरानी जताई और कहा कि स्वयं पद खाली होने का दावा करने वाले रामबिलास शर्मा शिक्षक विरोधी है। माजरा ने शिक्षा के गिरते स्तर के लिए मौजूदा सरकार को आड़े हाथों लिया और कहा कि इस सरकार की गलत नीति के कारण आज प्रदेश भर में स्कूल बंद पड़े हैं। सरकार अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है। किसानों के मसले पर भाजपा सरकार को घेरते हुए माजरा ने आरोप लगाया कि मनोहर सरकार ने मुआवजे के रूप में किसानों को 1092 करोड़ रुपए का मुआवजा देने का जो दावा किया है वह असल में राजस्व कर्मियों की भेंट चढ़ गया है। व्यापक स्तर पर गड़बड़ घोटाला हुआ है। जहां बरसीम व सफेदा खड़ा था मिलीभगत कर मुआवजे की राशि का भुगतान करवा दिया गया है और फसल उगाने वाले असली किसान वंचित रह गए। 
कानून व्यवस्था पर पूछे गए सवाल के बारे में माजरा ने कहा कि प्रशासनिक अनुभव की कमी के चलते कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ी है और अपराधी लोग फिर सिर उठाने लगे हैं। उन्होंने कैथल में मुनीष मित्तल की हत्या को सरकारी संरक्षण में पल रहे अपराध को जिम्मेदार ठहराया। केंद्र व हरियाणा सरकार पर बरसते हुए पूर्व मुख्य संसदीय सचिव ने कहा कि अच्छे दिन लाने का वायदा करने वाली मोदी सरकार ने पैट्रोल व डीजल पर 7.5 व 6.5 उत्पाद कर तथा हरियाणा सरकार ने 5 प्रतिशत वैट बढ़ाकर देश और प्रदेश के लोगों की कमर तोड़ दी है। बिजली नीति पर मनोहर सरकार की कड़ी आलोचना करते हुए माजरा ने कहा कि बिजली पहले 14 पैसे, 37 पैसे तथा 8.5 प्रतिशत की बढ़ौतरी कर आम उपभोक्ता वित्तीय बोझ डाल दिया है। टयूबवैल देने की नीति में 20 हजार रुपए की बजाय एक लाख रुपए की वसूली को माजरा ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। इस मौके पर युवा नेता जसमेर तितरम, संदीप ढांडा, राममेहर खुराना भी उपस्थित थे।
किसानो के घावों पर नमक छिडक़ रही है भाजपा सरकार ,कर्ज माफ़, उचित दाम देना तो दूर, नये टयूबवेल कनेक्शन की फीस को अब लाखों में पहुंचा दिया : इनेलो विधायक ढुल


भाजपा सरकार द्वारा खाद वितरण में बरती गयी लापरवाही और गिरदावरी में धांधली के रूप में किसानों की मेहनत के प्रति बेरूखी जैसे नाकाफी थी की प्रदेश सरकार ने चोरी छिपे नए टयूबवेल कनेक्शन की फ़ीस को सीधे लाखों में कर दिया है। इस विषय पर खुलासा करते हुए जुलाना हल्के से इनैलो विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल ने आज जींद में पत्रकार वार्ता में करते हुए कहा कि सरकार ने हाल ही में अधिकारीयों को चोरी छिपे परिपत्र जारी कर नए टयूबवेल कनेक्शन की फीस के लिए किसानों से सीधे एक लाख रूपये फीस वसूलने के आदेश दिए हैं। परिपत्र में इस भारी-भरकम फीस के बोझ के अलावा नए कनेक्शन में आने वाला खर्चा भी किसान से ही अलग से वसूलने के निर्देश दिए गए हैं।
विधायक ढुल ने कहा की इस किसान विरोधी सरकारी फरमान के बाद अब नया कनेक्शन लेने में औसतन खर्च 1.70 लाख रूपये आएगा जो की सरासर नाइंसाफी है तथा पहले से ही सरकारी उपेक्षा का शिकार किसान और कमेरा वर्ग के साथ भद्धा मज़ाक है। एक लाख की फीस के अलावाकनेक्शन में आने वाला खर्च लगभग 70,000 रूपये आका गया है। यदि कोई किसान आउट ऑफ़ टर्न कनेक्शन लेना चाहेगा तो उसे एक लाख रूपये इन सबके अतिरिक्त देने होंगे।  इस विषय पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विधायक ढुल ने कहा की इनेलो पार्टी इसका पुरजोर रूप से विरोध करेगी तथा सरकार से इस निर्णय को वापस लेने के लिए प्रजातांत्रिक रूप से हर सम्भव प्रयास भी करेगी। बड़ी ही हैरानी की बात है कि सरकार ने सदन में बजट पेश करते समय इस विषय पर खुद की मंशा का कोई जिक्र तक नहीं किया था। निश्चित तौर पर यह सरकार योजनाबद्ध तरीके से किसानों के खिलाफ काम कर रही है जिसे इनेलो कतई सहन नहीं करेगी।
विधायक ढुल ने बताया की इनेलो सरकार के वक्त कनेक्शन पाने की कुल कीमत मात्र 7,000 रूपये थी जिसे कांग्रेस ने बढ़ाकर 42,000 रूपये कर दिया था। कांग्रेस के समय में टयूबवेल कनेक्शन पाने की इच्छा रखने वाले किसानों को अक्सर भ्रष्टाचार का शिकार बनाया जाता था। उन्होंने कहा की चुनाव से पहले बीजेपी ने किसानों से अनेकों वायदे किये थे जिनमे स्वामीनाथन रिपोर्ट,कजऱ्ा मुक्ति, बिजली-पानी की पर्याप्त व्यवस्था, मुफ्त खाद आदि प्रमुखता से शामिल हैं। अब सत्ता हथियाने के पश्चात बीजेपी ठीक इसके विपरीत किसानों को जमीन से जुदा और ऋ णी बनाने का काम कर रही है। सरकार की मंशा है की किसान और कमेरा दोनों हाशिये पर आ जाएं।  
 विधायक ढुल ने बीजेपी को पूंजीपतियों की पार्टी बताते हुए कहा की प्रदेश सरकार को किसान का गुजर बसर बर्दाश्त नही हो रहा है और जबसे यह सरकार बनी है, एक के बाद एक, किसानों से जुड़े हर मामले पर पूरी तरह से विफल रही है। चाहे वह धान की फसल के गिरे हुए भाव थे, अभूतपूर्व खाद संकट था, नहरी पानी के वितरण में व्यापक असमानता, बिजली शेड्यूल में कटौती, गिरदावरी में बंदरबांट और धांधली के बाद मंडियों में अव्यवस्था, नाकाफी मुआवजा राशी, भूमि अधिग्रहण के नाम पर काला कानून, फसलों की कम दामों में खरीद और अब बिजली  तथा तेल की कीमत बढ़ाने के बाद अब चोर दरवाज़े से लादी गयी नये टयूबवेल कनेक्शन की भारीभरकम फीस। मात्र छ: ही महीनों के कार्यकाल में ये सब तमाम ऐसे फैसले हैं जो दर्शाते हैं की यह सरकार सूचीबद्ध तरीका अपनाकर किसानो को उसकी पूँजी से अलग कर देना चाहती है। उन्होंने कहा की किसान और कमेरे का टूटता हौंसला देश तथा प्रदेश की अर्थव्यवस्था के लिए घातक साबित होगा। इस अवसर पर कै. रणधीर चहल, मनिन्दर भनवाला, नरेश आसन, पण्डित धर्मराज कौशल, जगबीर मलिक, धर्मेन्द्र सिंहमार, सत्येन्द्र सिंह ढुल व गुरदीप सांगवान आदि भी उनके साथ थे।
बौंधकलां वासियों ने इनेलो विधायक के प्रयासों की सराहना की


भिवानी जिले के कस्बा बौंदकलां स्थित राजकीय महाविद्यालय में विज्ञान की कक्षाएं शुरू होने पर बौंद व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों ने खुशी जताई है। ग्रामीणों ने रविवार देर सायं बौंदकलां के वार्ड 16 में पहुंचे दादरी के विधायक राजदीप फौगाट का क्षेत्र की शिक्षा संबंधी मांग विधानसभा सत्र में उठाने पर आभार जताया तथा विधायक का स्वागत किया। ग्रामीणों ने बताया कि कालेज में एमए, बीएससी की कक्षाएं शुरू करवाने की मांग काफी पुरानी थी। जिसे विधायक ने गंभीरता से लिया और इसी सत्र से ये कक्षाएं शुरू हो गई हैं। 
ग्रामीणों की समस्याएं सुनते हुए विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, खेल सहित हर क्षेत्र मे आम जन को सुविधाएं मुहैया करवाने को लेकर वे तत्पर हैं। उन्होंने कहा कि बौंद कालेज में विज्ञान संकाय की कक्षाएं शुरू होने से शिक्षा स्तर ऊंचा होगा और इन विषयों में रुचि रखने वाले विद्यार्थियों को समीप ही यह शिक्षा मिल पाएगी। इस मौके पर युवाओं ने भी विधायक के प्रयासों की सराहना की। युवाओं ने छह माह पूर्व ही विधायक राजदीप के समक्ष यह मांग रखी थी। जिसे विधायक ने विस सत्र में प्रमुखता से उठाते हुए पूरा करवाया। गांव के लोगों ने विधायक के समक्ष बदहाल फिरनी एवं पेयजल संबंधी समस्याएं रखी जिन्हें जल्द ही दूर करवाने का आश्वासन विधायक ने दिया। इस अवसर पर  हलका अध्यक्ष रामनिवास मिर्च, रमेश वर्मा, शशी शर्मा चरखी, आशीष निमड़ी, विनोद मोड़ी, रामअवतार, कृष्ण रेडियो, राकेश, ओमपाल चौहान, सुरेश, विजेन्द्र दहिया, अनिल ग्रोवर, करतार रंगा, नरेश प्रजापत, राजेंद्र दहिया, गोविन्द, अभिलाष आर्य इत्यादि भी मौजूद थे।

Sunday, May 24, 2015

सरकार कम्प्यूटर व गेस्ट टीचरों से किया वायदा निभाए, इनेलो आंदोलनरत कर्मचारियों के पूरी तरह साथ है: अभय चौटाला
शिक्षकों को नियमित करने की नीति बनाए सरकार, जरूरत पड़े तो विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए: नेता प्रतिपक्ष

इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार गेस्ट टीचरों, कम्प्यूटर टीचरों व लैब सहायकों सहित विभिन्न कर्मचारी वर्गों को नौकरी से निकालने की बजाय उन्हें तुरंत एक नीति बनाकर अपने वायदे अनुसार नियमित करे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि दस साल तक सत्ता में रहने के बावजूद कांग्रेस ने गेस्ट टीचरों को नियमित न करके उनके साथ छल करने का काम कियाथा और अब भाजपा सरकार अतिथि अध्यापकों व अन्य वर्गों को नियमित करने की बजाय उन्हें नौकरी से निकालने पर तुली हुई है। चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इनेलो पूरी तरह से आंदोलनकारी कर्मचारियों के साथ है और सरकार मंत्रिमण्डल की बैठक अथवा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर एक ऐसी नीति लाए जिससे सभी गेस्ट अध्यापकों, कम्प्यूटर शिक्षकों व लैब सहायकों सहित ठेके पर काम कर रहे कर्मचारियों को नियमित किया जा सके। इनेलो नेता ने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली इनेलो सरकार ने एक नीति बनाकर तदर्थ, वर्कचार्ज, दिहाड़ीदार व पार्ट टाइम कर्मचारियों को न सिर्फ नियमित करने का काम किया था बल्कि 1993, 1995, 1996 व 1998 में कर्मचारी हड़ताल के दौरान जिन कर्मचारी नेताओं के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे अथवा उन्हें नौकरी से बर्खास्त किया गया था, उन्हें भी पिछले सभी वेतन भत्तों व सेवा लाभ देते हुए वापिस नौकरी पर लेने का भी काम किया था। इनेलो नेता ने कुरुक्षेत्र के 1423 आउटसोर्स कर्मचारियों के मामले में भी सरकार से तुरंत हस्तक्षेप करने और उनकी नौकरी बहाल किए जाने की मांग की।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पिछले बजट सत्र में इनेलो ने शिक्षकों व ठेके पर काम कर रहे अन्य कर्मचारियों को नियमित करने का मुद्दा राज्यपाल के अभिभाषण व बजट पर चर्चा के दौरान भी उठाते हुए सरकार से ऐसे सभी कर्मचारियों को नियमित करने की मांग की थी और इस संबंध में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव भी दिए थे। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले भाजपा ने गेस्ट टीचरों को नियमित करने का वादा अपने चुनाव घोषणा पत्र में भी किया था और कम्प्यूटर शिक्षकों के धरनास्थल पर भी जाकर वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने, जो मौजूदा सरकार में अहम् पदों पर हैं, इस बारे में वायदा भी किया था। अब सरकार वायदे के विपरीत पहले तो कम्प्यूटर शिक्षकों व लैब सहायकों को नौकरी से निकाल दिया और अब गेस्ट टीचरों को नौकरी से बर्खास्त करने के लिए मात्र 24 घण्टे के नोटिस दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश के स्कूलों में शिक्षकों के हजारों पद खाली पड़े हैं और सरकार की गलत नीतियों के चलते शिक्षा का स्तर निरंतर गिरता जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार अगर चाहे तो तुरंत एक व्यापक नीति बनाकर इन सभी शिक्षकों व ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों को नियमित कर सकती है और प्रदेश मंत्रिमण्डल ऐसी नीति बनाने में पूरी तरह सक्षम है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार जरूरत समझे तो तुरंत विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर भी विधानसभा से ऐसी नीति को मंजूरी दिलाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि इनेलो कर्मचारी हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह आंदोलनकारी कर्मचारियों के साथ है और सरकार को टकरावपूर्ण नीति त्याग कर प्रदेश के कर्मचारियों व उनके भविष्य को ध्यान में रखते हुए तुरंत जरूरी कदम उठाने चाहिए।
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि 1993, 1995, 1996 व 1998 में प्रदेश में चार बड़े कर्मचारी आंदोलन हुए थे और कर्मचारी हड़ताल के दौरान भजनलाल व बंसी लाल की सरकारों में न सिर्फ हजारों कर्मचारियों को जेलों में डालने का काम किया बल्कि हजारों कर्मचारी बर्खास्त व निलम्बित भी किए गए थे। इनेलो नेता ने कहा कि 1999 में चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व में इनेलो की सरकार बनने के बाद एक नीति बनाकर दो साल के सेवा वाले तदर्थ कर्मचारियों, तीन साल के सेवा वाले वर्कचार्ज कर्मचारियों, पांच साल के दिहाड़ीदार कर्मचारियों और दस साल के सेवाकाल वाले डीसी रेट पर काम करने वाले पार्ट टाइम कर्मचारियों को न सिर्फ नियमित किया गया बल्कि जिस किसी विभाग में कर्मचारी को नियमित करने के लिए पोस्ट उपलब्ध नहीं थी, वहां पर्सनल पोस्ट देकर भी उन्हें नियमित किया गया। इतना ही नहीं कर्मचारी हड़ताल के दौरान जिन कर्मचारियों के खिलाफ तोड़ फोड़ व एस्मा सहित अन्य आपराधिक मामले थे, एक ही कलम से वे सारे मामले भी वापिस लिए गए और हड़ताल प्रभावित सभी कर्मचारियों को पुराने सभी सेवा लाभ व सेवाकाल को वेतन सहित बहाल करते हुए उन्हें सभी सुविधाएं भी प्रदान की गई। उन्होंने कहा कि बंसीलाल सरकार के दौरान आंदोलनरत नर्सों को सरकार ने नौकरी से बर्खास्त कर दिया था और उन्हें अपनी बर्खास्तगी के खिलाफ अदालत से भी कोई राहत नहीं मिली थी, उन्हें भी इनेलो सरकार ने पुरानी सभी सुविधाएं देते हुए वापिस नौकरी पर बहाल करने का काम किया था और कर्मचारियों की बर्खास्तगी अवधि, निलम्बन अवधि व जेल अवधि को भी ड्यूटी पीरियड मानकर उन्हें सभी सुविधाएं प्रदान की गई थी। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार कभी मंत्रियों की कमेटी बनाकर तो कभी कोई अन्य बहानेबाजी बनाकर कर्मचारियों के मामले को लटकाने की बजाय इन्हें तुरंत नियमित करने का काम करे और कर्मचारियों के साथ किए गए वायदे को निभाए।
इनेलो नेताओं ने मक्कड़ के निधन पर शोक जताया

इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला एवं पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने हांसी के पूर्व विधायक अमीर चंद मक्कड़ के निधन पर दुख जताते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। इनेलो नेताओं ने श्री मक्कड़ को एक बेहद मिलनसार व मृदुभाषी राजनेता बताते हुए कहा कि वे हमेशा लोगों के दुख सुख में काम आने वाले और बेहद विनम्र राजनेता थे। उनके निधन से प्रदेश ने एक योग्य एवं मिलनसार राजनेता खो दिया है। उन्होंने कहा कि श्री मक्कड़ के निधन पर पूरी इनेलो पार्टी व संगठन पूरी तरह से शोक संतप्त परिवार के साथ दुख में शामिल है। हांसी से 1982, 1991 व 2005 में तीन बार विधायक चुने गए अमीर चंद मक्कड़ का आज शनिवार प्रात: हृदय गति रुक जाने से निधन हो गया था।

Monday, May 18, 2015

गेस्ट टीचरों व कम्प्यूटर टीचरों पर लाठीचार्ज की बजाय मांगें स्वीकार करे सरकार: अशोक अरोड़ा

इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने करनाल में गेस्ट टीचरों पर लाठीचार्ज किए जाने और पंचकूला में कम्प्यूटर टीचरों पर पुलिस बल का प्रयोग किए जाने की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए सरकार से अपने चुनावी घोषणा पत्र के अनुसार गेस्ट टीचरों व कम्प्यूटर टीचरों को नियमित किए जाने व कुरुक्षेत्र विवि में आमरण अनशन पर बैठे कर्मचारियों की मांगें स्वीकार किए जाने की मांग की है। श्री अरोड़ा ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव के समय भाजपा ने गेस्ट टीचरों व कम्प्यूटर शिक्षकों की सेवाओं को नियमित किए जाने का न सिर्फ अपने चुनाव घोषणा पत्र में वायदा किया था बल्कि कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान दिए जाने और वेतनमान विसंगतियां दूर किए जाने का भी भरोसा दिलाया था। उन्होंने सरकार से टकराव की नीति छोडऩे और कर्मचारियों को नियमित करने सहित उनकी सभी जायज मांगें तुरंत स्वीकार किए जाने की मांग की। श्री अरोड़ा ने कहा कि लोकतंत्र में सभी को अपनी बात कहने और धरना प्रदर्शन करने का प्रजातांत्रिक अधिकार है और प्रदर्शनकारियों विशेषकर महिलाओं पर लाठियां बरसाना पूरी तरह अन्यायपूर्ण कार्रवाई है।
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार में अहम् पदों पर बैठे जो नेता गेस्ट टीचरों व कम्प्यूटर टीचरों को नियमित किए जाने का आए दिन न सिर्फ भरोसा दिलाया करते थे बल्कि लम्बी-चौड़ी बयानबाजी भी किया करते थे। इनेलो नेता ने कहा कि अब गेस्ट टीचर जब अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री के करनाल स्थित आवास पर उन्हें अपनी मांगों के प्रति अवगत करवाने जा रहे थे तो शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे टीचरों पर पुलिस द्वारा बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज किए जाना और महिला टीचरों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटना यह दर्शाता है कि पुलिस, प्रशासन व सरकार संवेदनाहीन हो गई है। उन्होंने कहा कि करीब चार दर्जन टीचरों को गिरफ्तार करके जेल भेजे जाने को किसी भी तरह से स्वस्थ लोकतंत्र के लिए शुभ नहीं माना जा सकता।
श्री अरोड़ा ने कहा कि भाजपा सरकार एक-एक करके न सिर्फ अपने सभी चुनावी वायदों से पीछे हट गई है बल्कि वायदों के विपरीत काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा वायदा करने के बावजूद स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू न किए जाना, बुढ़ापा पेंशन दो हजार रुपए महीना का वायदा करके उससे पीछे हटना, बेरोजगारों को छह हजार व नौ हजार रुपए बेरोजगारी भत्ता न देना, कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान व भत्ते देने के चुनावी वायदे को पूरा न करना और गेस्ट टीचर व कम्प्यूटर टीचरों की सेवाएं नियमित करने की बजाय इस वायदे से पीछे हटना यह दर्शाता है कि भाजपा सरकार अपने चुनावी वायदों पर खरी नहीं उतरी और चुनावी वायदों को पूरा नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि इनेलो ने पिछले विस सत्र में कर्मचारियों की इन मांगों को प्रमुखता से उठाते हुए सरकार से गेस्ट टीचर व कम्प्यूटर टीचरों को नियमित करने और कुरुक्षेत्र विवि के 1423 आउटसोर्स कर्मचारियों के मामले को भी ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के माध्यम से उठाया था लेकिन सरकार ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। श्री अरोड़ा ने कहा कि कुरुक्षेत्र विवि के कर्मचारी पिछले कई दिनों से आमरण अनशन पर बैठे हैं और सरकार की तरफ से अभी तक इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया है। उन्होंने सरकार से टकराव की नीति छोडऩे और कर्मचारियों को नियमित करने सहित उनकी सभी जायज मांगें तुरंत स्वीकार किए जाने की मांग की। 
दिग्विजय चौटाला ने गरीबों को चैक वितरित किए,
सरकार विधायकों के माध्यम से दी जाने वाली राशि में बढ़ौतरी कर इसे 10 लाख करे: दिग्विजय 


विधायक नैना सिंह चौटाला के विधायक कोटे से गरीबों को मिलने वाली राशि के चैक आज इनसो के राष्ट़ीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने आज डबवाली में वितरित किए। ये चैक डबवाली स्थित पार्टी कार्यालय में दिए गए। दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि सरकार को गरीबों के इलाज के लिए विधायक के माध्यम से दी जाने वाली राशि कम हैऔर इसे तीन लाख ये बढ़ा कर दस लाख करना चाहिए। यहां बता दें कि विधायक कोटे से गरीबों के गंभीर बीमारी के इलाज के लिए यह राशि दी जाती है। बाद में दिग्विजय सिंह चौटाला ने डबवाली में लोगों की समस्याएं भी सुनीं। 


आज डबवाली में जिन गरीबों को चैक दिए गए उनमें गांव हस्सु से रानी कौर, गांव गंगा से महेंद्र सिंह, गांव असीर से गुरजट सिंह, रसालिया खेड़ा से सुभाष चंद्र, मोरीवाला से बिरपाल सिंह, बिस्सुवाली से राजरानी, मौजगढ़ से हरबंस सिंह, तेजाखेड़ा से मुन्नालाल, डबवाली से अशोक कुमार, मांगेआना से गुरलाल, गोदिंका से कौशल्या देवी, डबवाली से लक्ष्मी देवी, अबूबशहर से विनोद कुमार, मसीतां से गुरदयाल सिंह हैं। इस अवसर पर जिला परिषद के चेयरमैन व पूर्व विधायक डा. सीताराम, गिरधारी लाल बिस्सु, रणबीर राणा, महेंद्र डूडी, लवली मेहता, सर्वजीत मसीतां, हरबंस भीरटवाला, अजनीश कनेडी, जगरूप सिंह, ममता मिढा, जेके , परविंद्र अरोड़ा, दर्शन मोंगा, कुलदीप जम्मू, केके सेठी, सतपाल, नरेंद्र बराड़, राकेश शर्मा, जगसीर मांगेआना, धेलाराम, महोनशाह, गुरलाल सिंह आदि उपस्थित थे। 

Sunday, May 17, 2015

भाजपा अपने एक भी वायदे को अमल में नहीं ला पाई : दुष्यंत चौटाला 


सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार का कार्यकाल एक वर्ष पूरा हो चुका है परन्तु भाजपा अपने एक भी वायदे को अमल में नहीं ला पाई है। सरकार ने दीनदयाल उपाध्याय नामक योजना शुरू की परन्तु अभी तक एक भी बिजली का कनेक्शन इस योजना के तहत नहीं मिला। इतना ही नहीं हिसार से 100 ढाणियों के 15 कलस्टर बना कर भेजे गए थे वे ज्यों के त्यों पड़े हैं। इतना ही नहीं जनधन योजना के तहत लोगों के खाते खोले गए परन्तु आज भी साढ़े सात करोड़ ऐसे खाते हैं जो खाली पड़े हैं। दुष्यंत चौटाला बतौर सांसद एक वर्ष पूरा होने पर आज हिसार में पत्रकारों से रूबरू हो रहे थे। 
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकार ने अच्छे दिनों के सपने दिखाए थे, अच्छे दिन तो नहीं आए परन्तु मंहगाई के दिन जरूर आ गए हैं। बातें बहुत बड़ी-बड़ी की गई थी परन्तु आज चाहे किसान हो, कमेरा हो या व्यापारी, वे हर  उस सुविधा से वंचित हैं जिनके वे हकदार थे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार केवल पंूजीपतियों के लिए काम कर रही है। किसानों को 200-200 रूपये के चैक दिए गए हैं और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू नहीं कर रही है। उन्हेांने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने अब तक 54 से अधिक देशों की यात्रा की है परन्तु युवाओं के रोजगार के लिए नए अवसर पैदा करने और ऐसे अवसरों के लिए निवेश करने में वे नाकाम रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी तो केवल अदानी और भारती के लिए काम कर रहे हैं। युवा सांसद ने कहा कि लोकसभा में ऐसा बिल पास कर दिया था कि यदि दिल्ली का व्यापारी कोई चैक दे और उसके खिलाफ अदालती कार्रवाई करने की बात आएगी तो किसान को दिल्ली में जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पूजीपतियों के हिसाब से उन्हें सहूलियत देने के नियम बनाए जा रहे हैं। 
दुष्यंत चौटाला ने प्रदेश सरकार को पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को छह माह हो चुके हैं परन्तु प्रदेश की भाजपा गेस्ट टीचर्स को नौकरी से न निकालने के अपने वायदे को पूरा नहीं कर रही है बल्कि माननीय उच्च न्यायालय में हल्फनामा दायर किया है कि सरकार आगामी 27 मई तक चार हजार से अधिक टीचर हटा दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा ने जनता से झूठ बोलकर उनके वोट ठग लिए। सांसद ने कहा कम्प्यूटर टीचर्स से भी शिक्षा मंत्री ामबिलास शर्मा ने उन्हें नौकरी से न निकालने का वायदा किया था परन्तु गेस्ट टीचर्स व कम्प्यूटर शिक्षक पिछले दो माह से आंदोलन कर रहे हैं। सांसद ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार के आने बाद भी अपराध कम नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासन में क्राइम चरम पर था और उम्मीद थी कि भाजपा के सत्ता में आने के बाद अपराध कम होंंगे। पर ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि खट्टर सरकार एक ओर तो कर्जा वूसली पर रोक लगाने व ब्याज माफ करने की बात कर रही है वहीं दूसरी ओ र सरकार कर्ज वसूली के लिए बैंक किसानों को कर्ज अदा करने के लिए नोटिस भेज रही है। 
 दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उन्होंने एक वर्ष के दौरान हिसार लोकसभा से जुड़े हर मुद्दे व समस्या को लोकसभा में न केवल उठाया बल्कि उसे हल करवाने के लिए केंद्र सरकार के मंत्रियों से मिलकर हर संभव प्रयास किया। उन्होंने कहा कि वह हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोगों की समस्या हल करने व कर्तसंकल्प हैं और जिन समस्याओं को वह बीते वर्ष जो समस्याएं रह गई, उन्हें आगामी वर्ष में हल करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।  सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हिसार की जनता ने मुझे सांसद के रूप में जो जिम्मेवारियां सौंपी थी, उस जिम्मेवारियों को मैंने बीते एक वर्ष पूरी इमानदारी व निष्ठा के साथ निभाया और वायदा करता हूं कि भविष्य में भी इन जिम्मेवारियों को और ज्यादा मेहनत व लग्र से निभाऊंगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए मुझे हिसार लोकसभा क्षेत्र की जनता के मार्गदर्शन व सहयोग की जरूरत है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हिसार में जाम की गंभीर समस्या है और इस समस्या के निवारण के लिए मैं हिसार में मुख्यमंत्री से मिला और इसके लिए ग्रांट मंजूर हुई। उन्होंने कहा कि सूर्य नगर रेलवे फाटक पर अंडरपास एक अहम मांग रही है, इसके लिए भी मैंने लगातार प्रयास किया और इस मांग को मैने लोकसभा में रेल मंत्री के मंजूर करवाया। पत्रकार वार्ता में राजेंद्र लितानी, पूर्ण सिंह डाबड़ा, सुभाष गोयल, विधायक वेद नांरग, रणबीर सिंह प्रजापति, अनूप धानक सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे। 

Saturday, May 16, 2015

सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में पूछे सबसे ज्यादा सवाल



-उन्होंने लोकसभा में कुल 229 सवाल पूछे जिनमें 73 हरियाणा से संबंधित, 69 राष्ट्र से संबंधित व शेष हिसार लोकसभा क्षेत्र से संबंधित थे। 
-दुष्यंत चौटाला ने वर्ष भर में लोकसभा में हुई बहस में कुल 58 बार हिस्सा लिया और अपना पक्ष रखा 
-बतौर सांसद दुष्यंत चौटाला ने इस सत्र में गुडग़ांव में उच्च न्यायालय की अलग बैंच स्थापित करने के लिए प्राईवेट बिल द हाईकोर्ट आफ पंजाब-हरियाणा (इस्टेबलिशमेंट आफ ए सैपरेट बैंच एट गुडग़ांव) बिल, 2015 रखा। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने सिरसा, पलवल, फरीदाबाद में रसायुक्त पानी, कुरूक्षेत्र को धार्मिक पर्यटन नगरी के रूप विकसित करने, बहादुरगढ़ में 15 करोड़ की लागत से आयूष अस्पताल सहित सभी प्रदेश के हर क्षेत्र से संबंधित मुद्दा उठाया। 
सांसद दुष्यंत चौटाला का वर्ष भर का लेखा-जोखा
लोकसभा में सवाल पूछने बहस में हिस्सा लेने में अव्वल रहे दुष्यंत चौटाला


हिसार, ठीक एक साल पहले 16 मई के दिन दुष्यंत चौटाला को देश के सबसे युवा सांसद चुनने का गौरव हिसार लोकसभा क्षेत्र की जनता को हासिल हुआ था। हिसार लोकसभा क्षेत्र की जनता का प्रतिनिधित्व करते हुए दुष्यंत चौटाला को एक वर्ष पूरा हो चुका है। इस एक वर्ष की अवधि के दौरान सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करवाई। उन्होंने सदन के पटल पर न केवल हिसार लोकसभा क्षेत्र की समस्याओं और मुद्दों को रखा बल्कि प्रदेश की समस्याओं के साथ राष्ट्रहित के मुद्दों को भी बखूबी रखा। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसार लोकसभा की जनता द्वारा दिए गए सहयोग के लिए आभार जताया है। उन्होंने कहा कि मैंने लोकसभा की दहलीज पर कदम हिसार लोकसभा की जनता के सहयोग एवं प्यार की बदौलत ही रखा। उन्होंने कहा कि मैं आगामी वर्ष में लोकसभा में हिसार के विकास व लोगों की समस्याओं को हल करवाने के लिए और अधिक ताकत से काम कंरू, इसके लिए लोकसभा की जनता के सुझावों का मैं स्वागत करूंगा। युवा सांसद ने आशा व्यक्त की है कि जनता समय-समय पर मार्गदर्शन करती रहेगी। 
सांसद दुष्यंत के शब्दों में -हिसार की जनता ने मुझे सांसद के रूप में जो पगड़ी सौंपी थी, उसे मैंने संसद में सबसे उंचा रखने की कोशिश की। एक वर्ष का रिपोर्ट कार्ड मैं आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूं। वैसे तो मैंने आपकी हर छोटी-बड़ी समस्या को संसद में उठाया है लेकिन अगर आपको फिर भी कोई कमी या कमजोरी लग रही है तो आप मुझे निसंकोच होकर बताएं ताकि हम अपने हिसार लोकसभा को और उंचाईयों पर ले जा सकें। 
प्रमुख उपलब्धियां
1. सांसद दुष्यंत चौटाला ने सूर्य नगर फाटक के मुद्दे को लोकसभा में कई बार उठाया और इस मामले को लेकर वह केंद्रीय रेलमंत्री से भी मिले और उन्होंने रेल मंत्री से सूर्य नगर फाटक पर अंडरपास की मंजूरी दिलवाई। 
2 बुड़ाक-बालसंमद क्षेत्र के लोग पीने के पानी के लिए दो माह से संघर्ष कर रहे थे, सांसद दुष्यंत चौटाला ने इस मामले को लेकर लोकसभा में आवाज उठाई  और हरियाणा सरकार पर दबाव बनाया और प्रदेश के कृषि मंत्री ने इस पर 12 दन नहर में पानी छोडऩे की मंजूरी दी। जबकि पहले यह 8 दिन था।
3 सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में ड्राई पोर्ट को लेकर केंद्रीय मंत्री से मिले और ड्राई पोर्ट बनाने पर सहमति दिलवाई। 
4  सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में मांग उठाई तथा केंद्रीय रेलमंत्री से मिलकर हांसी-जींद रेलवे लाइन तथा उकलाना-नरवाना की मंजूरी दिलवाई। 
5 अपने सांसद निधि कोष से लोकसभा की 119 से अधिक ढाणियों को एमपी कोटे से अनुदान देकर बिजली लगवाई।
6 रेलवे स्टेशन पर पेयजल संकट को हल करने व यात्रियों के लिए दो वाटर कूलर लगवाए।
7 शहर में सिटी बस सेवा शुरू करने को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने प्रदेश सरकार के सामने मांग रखी और शहर में बस सिटी बस सेवा शुरू करवाई
8 हिसार से मखंड तक स्पेशल बस सेवा शुरू करवाई।
9 बीएसएनएल के अधिकारियों से मिलकर शहर के एक के एक कोने में वाई फाई शुरू सेवा मंजूर करवाई। 
10 प्रदेश में पहली बार सांसद दुष्यंत चौटाला ने वन एमपी वन आइडिया स्कीम को धरातल पर उतारा और विजेताओं को पांच लाख रूपये का नकद पुरस्कार दिया। 
11 चुल्हा-चौका करने वाली ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को पहली बार मेट्रो की सैर करवाई और संसद दिखाई।
12 हिसार का साई सेंटर बंद करने के मुद्दे को लोकसभा में उठा कर सरकार पर इसे बंद न करने के लिए दबाव बनाया। 
13 रेलवे यात्रिायों की सुविधा के लिए यात्रियों के बीमा का मुद्दा उठाया और सरकार इस पर गंभीरता से विचार कर रही है। 

मुद्दा
1 जिले के चार गांव बीड़-बबरान,झिड़ी, पीरांवाली  में जिला प्रशासन द्वारा जमीन खाली करने के नोटिस दिए गए जिसे सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में उठाया और इसके बाद प्रशासन बैकफुट पर आया।
2 सांसद दुष्यंत चौटाला के प्रसायों से यूनिसेफ की टीम रेलवे स्टेशन पर आई और हैंडवास व सफाई अभियान चलाया।
3 एसवाईएल नहर के निर्माण को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला ने राष्ट्रपति से मुलाकात की और संसद में कई बार इसे उठाया।
4 काउंटर मेग्रेट सिटी का मुद्दा बार-बार उठाया ताकि वर्षों पुराना प्रोजेक्ट के शुरू होने से हिसार को विकास के पंख लग सकें।
5 तोशाम पहाड़, हरियाणा में खनन तथा यमुना नदी में रेत का खनन का मुद्दा दो बार उठाया
6 छात्र संघ चुनाव को लेकर लोकसभा में आवाज उठाई।
7 बढ़ती जनसंख्या को लेकर दो बार लोकसभा में सरकार का ध्यान खींचा।
8 भिवानी तक आने वाली तीन रेलगाडिय़ों को हिसार-सिरसा तक शुरू करने व किसान एक्सप्रेस में बोगियां जोडऩे व हिसार रेलवे स्टेशन पर पेजयल, साफ सफाई व कर्मचारियों के लिए आवास की मांग उठाई।
9 टाउन पार्क में शतरंज कार्ट का निर्माण करने की पहल की है।
10 अग्रोहा मेडिकल कालेज में कैंसर इंस्टीच्यूट स्थापित करने की बात सदन में रखी।
11 शहीदे आजम भगत सिंह को भारत सरकार से शहीद का दर्जा दिलवाने का मुद्दा सदन में रखा।
12 सर छोटूराम की प्रतिमा को भाखड़ा बांध पर स्थापित करने की मांग रखी।
13 पीजीआई चंडीगढ़, पीजीआई रोहतक द्वारा दान दी हुई आंखों को फैंकने का मामला लोकसभा में जोरदार तरीके से उठाया और प्रदेश सरकार ने इस पर जांच शुरू की।
14-साउथ बाईपास को जल्द पूरा कर हिसार को जाम से मुक्ति दिलवाने के लिए मुख्यमंत्री से मिले।
शहर में आवारा पशुओं की समस्या हल करवाने के लिए सांसद दुष्यंत चौटाला ने निगम के अधिकारियों के साथ बैठक कर और अपने सांसद निधि कोष से 21 लाख रूपये देने की घोषणा की।
$15 हरियाणा में खाद की कमी व बारिश से बर्बाद हुई फसलों के चलते किसानों का कर्ज माफ करने, व संतरा के भंडारण, वहीं, हिसार में सीमेंट फैक्टरी, हार्टिकल्चर यूनिर्सिटी, किसान दूरदर्शन केंद्र
बजट एमपी लेड्स के तहत मिलने वाली पहली किश्त में अढ़ाई लाख रूपये खर्च किए जा चुके हैं। दूसरी अढ़ाई लाख की किश्त जारी होने का इंतजार।
रेलवे स्टेशन व बस अड्डे पर अपने निजी कोष से तीन वाटर कूलर दिए।
--एक करोड़ दो लाख 59 हजार सात सौ रूपये खर्च कर 119 ढाणियों में बिजली कनेक्शन देकर उनके घरों को रोशन किया।
--40 लाख दो हजार 600 रूपये  गउशालाओं को दिए
--सामाजिक कार्यों जैसे चौपाल का निर्माण, शमशान घाट में शेड, धर्मशाला में कमरे के निर्माण व अन्यों पर 86 लाख 57 हजार रूपये खर्च किए।
--गली निर्माण पर 17 लाख 61 हजार रूपये खर्च किए।
--सिंचाई एवं पेयजल पर 6 लाख 32 हजर 747 रूपये खर्च किए।
--खेल के सामान पर व अन्य खर्च 4 लाख रूपये खर्च किए
कुल दो करोड़ 57 लाख 13 हजार 47 रूपये आवंटित किए।







नसीब वालों के राज में पैट्रोल-डीजल की कीमतें बढऩा भाजपा को बदनसीबी की ओर घसीट रही:- प्रदीप चौधरी

इंडियन नैशनल लोकदल के पूर्व में रहे कालका से विधायक एवं जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी पैट्रोल-डीजल की बढ़ाई कीमतों की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि एक महीने के भीतर तीसरी बार पैट्रोल-डीजल की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी आम आदमी को महंगाई के बोझ तले इतना दबा लिया कि उसके लिए अब अपने घर की आजीविका चलाना ही एक बड़ी चुनौती बन चुका है। चौधरी ने कहा कि चुनावों के वक्त बड़े सपने दिखाने वाली मोदी सरकार पहले तो झुठे वायदे करती रही और जब उन्हें निभाने का वक्त आया तो फिर उनके नेता कहने लगे कि ये तो चुनावी जुमले थे। चौधरी ने कहा कि जब कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट आई और कुछ कीमतें कम हुई तो मोदी कहते थे कि जब नसीब वाले के आने से कीमतें कम हो रही है तो फिर बदनसीब को क्यों लाए, अब जिस प्रकार से नसीब वाले के राज में महीने में तीन-तीन बार भारी पैट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ रही है तो इससे लगता है कि अब भाजपा का नसीब भी बदनसीब होता जा रहा है, जो इसकी मार में जनता पर महंगाई की मार डाल रही है। 

क्या बीजेपी को इन्हीं अच्छे दिनों के लिए चुना था जनता ने: एडवोकेट बिश्रोई


इंडियन नेशनल लोकदल ने एक पखवाड़े में लगातार दूसरी बार पैट्रोल व डीजल के कीमतों में हुई भारी बढ़ोतरी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। इनेलो के जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्रोई ने कहा कि देश प्रदेश की जनता ने क्या इन्हीं अच्छे दिनों के लिए भाजपा को चुना था। आज यहां जारी एक बयान में बिश्रोई ने कहा कि अंतर राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार कमी होती जा रही है, लेकिन इसके विपरीत भाजपा सरकार ने पिछले 15 दिनों में ही पैट्रोल की कीमतों में सात रुपए और डीजल की कीमतों में पांच रुपए से ज्यादा की बढ़ोतरी कर आम, गरीब व मेहनतकश लोगों की कमर तोडऩे का काम किया है। उन्होंने कहा कि पैट्रो पदार्थों की यह मूल्यवृद्धि पहले से ही महंगाई की मार झेल रहे आम लोगों पर भारी साबित होगी। एडवोकेट बिश्रोई ने कहा कि फसल कटाई के बाद अब बिजाई का समय है। ऐसे में ट्यूबवैल से सिंचाई करने वाले किसानों पर डीजल की कीमतों में की गई बढ़ोतरी काफी महंगी साबित होगी। वहीं लोडिंग व यातायात के साधनों के किराये में भी इजाफा होगा, जिसका सीधा प्रभाव रोजमर्रा की वस्तुओं की कीमतों पर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पैट्रोल की बढ़ी कीमतें दुपहिया वाहन चालकों व आम लोगों की हालत बिगाड़ देगी। उन्होंने मांग की कि पैट्रोल व डीजल की बढ़ाई गई कीमतों को तुरंत प्रभाव से वापस लिया जाए। इसके साथ ही प्रदेश सरकार द्वारा डीजल पर लगाए गए वैट को भी हटाया जाए। 
पेट्रोल डीजल की कीमतों में बढ़ौतरी की निंदा करते हुए इनेलो ने इस वापिस लेने की मांग की

इनेलो ने भाजपा सरकार द्वारा पेट्रोल व डीजल की कीमतों में एक बार फिर से बढ़ौतरी किए जाने की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए सरकार से सवाल किया कि क्या यही अच्छे दिन हैं जिसका भाजपा ने चुनाव से पहले लोगों से वायदा किया था। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने शुक्रवार रात से पेट्रोल की कीमत में 3.13 रुपए प्रति लीटर व डीजल 2.71 रुपए प्रति लीटर बढ़ाए जाने की कड़ी भत्र्सना करते हुए कहा कि दो हफ्तों में सरकार ने पेट्रोल की कीमतें सवा छह रुपए लीटर और डीजल की कीमत करीब साढे पांच रुपए प्रति लीटर बढ़ा दी है। इनेलो नेता ने कहा कि इससे न सिर्फ महंगाई और बढ़ेगी बल्कि इसका सीधा असर गरीब व मध्यम वर्ग पर पड़ेगा और सरकार का यह फैसला पूरी तरह से गरीब मध्यम वर्ग की कमर तोडऩे वाला है।
श्री अरोड़ा ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें आज भी करीब आधे दामों पर है और इसके बावजूद भाजपा सरकार पेट्रोल व डीजल की कीमतों को बार-बार बढ़ाकर उसी स्तर पर ले गई है जहां पर ये दरें यूपीए सरकार के दौरान थी। इनेलो नेता ने कहा कि जब अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें घट रही थी तो उसका फायदा आम लोगों को देने की बजाय भाजपा सरकार ने आबकारी ड्यूटी व अन्य करों में बढ़ौतरी करके इसका पूरा फायदा सरकारी खजाने में रख लिया था। अब सरकार एक्साइज ड्यूटी घटाने की बजाय अपनी गलत नीतियों का बोझ बेवजह गरीब लोगों पर डाल रही है। उन्होंने इस बढ़ौतरी को तुरंत वापिस लेने और एक्साइज ड्यूटी में कटौती के साथ-साथ पेट्रोल व डीजल की कीमतों में की गई तमाम वृद्धि को अविलम्ब वापिस ले अन्यथा महंगाई की मार से त्रस्त जनता सरकार के ऐसे जनविरोधी फैसलों को स्वीकार नहीं करेगी और सरकार को इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा।
इनेलो ने नियुक्त किए पार्टी शहरी इकाइयों के 82 नए शहरी प्रधान 

इनेलो ने पार्टी संगठन को और ज्यादा मजबूत बनाने के लिए प्रदेशभर में पार्टी की शहरी इकाइयों के लिए 82 नए शहरी प्रधानों की भी नियुक्ति कर दी है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा व नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने पार्टी के सभी विधायकों, सांसदों व वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ व्यापक विचारविमर्श के बाद नए शहरी प्रधानों की नियुक्ति की है। सूरज जिंदल को अम्बाला छावनी, मनोज शर्मा (अम्बाला शहर), मदन चानना (नारायणगढ़), रामस्वरूप चोपड़ा (थानेसर), सुशील गर्ग (लाडवा), सुनील बत्रा (शाहबाद), अशोक गुप्ता (पेहवा), नरेंद्र भल्ला (पंचकूला), सुनील गर्ग (कालका), शिव गुप्ता (जगाधरी), पूर्व पार्षद ओमप्रकाश तनुजा (यमुनानगर), शशि दुआ (गुडग़ांव), पप्पू पठान (सोहना), अजय मंगला (हेलीमंडी), गोपाल दास वधवा (पटौदी), फूलचंद जैन (फारुखनगर) व मेहंदीरत्ता रीटू को तावड़ू इनेलो शहरी इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।
अशोक अरोड़ा ने बताया कि राजेश नागल होडल, पूर्व पार्षद अशोक शर्मा (पलवल), मुकेश गुप्ता (हसनपुर), मिठन भारद्वाज (नूंह), धर्मवीर जैन (फिरोजपुर झिरका), दिनेश शर्मा (पिनगवा एवं पुन्हाना), उर्मीत सिंह ठक्कर (बावल), राजेश सैनी (रोहतक), दिनेश गुप्ता (महम), राजीव पाहवा (कलानौर), राजेश बंसल (सांपला), सतनारायण गुप्ता (नारनौल), रामनिवास महाजन (महेंद्रगढ़), राजपत सेठ (कनीना), अंशुल गोयल (अटेली), रामअवतार मिस्त्री (नांगलचौधरी), अशोक मोंगा (बहादुरगढ़), पार्षद मनीष बंसल (झज्जर), उमेद सिंह जांगड़ा (बेरी), पवन चुघ (फतेहाबाद), हरबंस लाल खन्ना (रतिया), रमेश गोयल (टोहाना), पवन बंसल (भट्टू), मा. चमनलाल (भुन्ना)  व सुरेश गर्ग को इनेलो शहरी इकाई जाखल का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।
श्री अरोड़ा ने बताया कि डॉ. प्रदीप शर्मा (कैथल), संजीव कत्याल (पुण्डरी), राजेश पुत्र महा सिंह (चीका), सुनील पुत्र ज्योणा राम (कलायत), हरीश अरोड़ा (जींद), देशराज माटा (नरवाना), विश्वनाथ शर्मा (जुलाना), सुनील जैन (सफीदों), रामनिवास बुड़ायन (उचाना), ओमप्रकाश सलूजा (करनाल), संदीप गुप्ता टोनी (घरोंडा), सम्मी सचदेवा (तरावड़ी), डॉ. ज्ञान आहुजा (नीलोखेड़ी), इंद्रजीत गोल्डी (इंद्री), दीपक छाबड़ा (असंध), रोशन लाल (निसिंग), सुरेंद्र छिकारा (सोनीपत), राजिंद्र गोस्वामी (गन्नौर), महेंद्र मेहता (गोहाना) व धर्मपाल गर्ग को इनेलो शहरी इकाई खरखौदा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। 
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि सज्जन लावट सोनी को हिसार, राजीव शर्मा (हांसी), रोशन जैन (बरवाला), श्रीमती कांता देवी (नारनौंद), शेर सिंह बत्रा (उकलाना), राजिंद्र चुटानी (नलवा शहरी), राजकुमार जांगड़ा (आदमपुर), विरेंद्र मेहता (भिवानी), राजेश कुमार सोनी (दादरी), विनोद गर्ग जाड़ीवाल  (सिवानी), सुभाष मेहता (लोहारू), नानकचंद (तोशाम), पंकज मेहता (बवानीखेड़ा), कृष्ण गुम्बर (सिरसा), प्रवीन कुमार (कालांवाली), हरबंस लाल भीटीवाला (डबवाली), पवन जी (ऐलनाबाद), बिसम्बर छाबड़ा (रानिया), नरेश जैन सीए (पानीपत शहरी) व लेखराज खट्टर को इनेलो शहरी इकाई समालखा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। 
इनेलो नवनियुक्त हलकाध्यक्ष ने संगठन को मजबूत करने का संकल्प


इंडियन नेशनल लोकदल के जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी के साथ शुक्रवार को इनेलो के सभी सातों हलकों के नवनियुक्त हलकाध्यक्षों ने ताऊ देवीलाल टाउन पार्क में जननायक चौधरी देवीलाल की प्रतिमा पर पुष्प चढाकर उनके दिखाए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। 
इस मौके पर जिलाध्यक्ष लितानी ने सभी हलकाध्यक्षों से आह्वान किया कि वे अपने अपने हलकों में बूथ स्तर पर जाकर पार्टी संगठन को मजबूत करें। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार जननायक चौधरी देवीलाल ने अपना सारा जीवन किसान, मजदूर व कमेरे वर्ग के लिए संघर्ष कर न्यौछावर कर दिया, उसी प्रकार हमारा भी कर्तव्य है कि उनकी नीतियों पर चलते हुए चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के मार्गदर्शन में समाज के हर वर्ग के सुख दुख में भागीदार बनें। उन्होंने कहा कि वे अपने अपने हलके में आम आदमी की समस्या को समझे और उनको सुलझाने के लिए तब तक लगे रहें, जबतक की उसका पूर्णत्य समाधान न हो। इस मौके पर हिसार हलकाध्यक्ष सजन लावट, नारनौंद हलकाध्यक्ष सतबीर सिसाय, बरवाला हलकाध्यक्ष सत्यवान बिछपड़ी, हांसी हलकाध्यक्ष राव इंद्र फौजी, आदमपुर हलकाध्यक्ष भागीरथ नंबरदार व नलवा हलकाध्यक्ष सतपाल सरपंच ने अपनी अपनी नियुक्ति के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश चौटाला, प्रधान महासचिव डॉ. अजय सिंह चौटाला, नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला, प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा व युवा सांसद दुष्यंत चौटाला का आभार व्यक्त किया। इसके साथ ही उन्होंने पार्टी नेतृत्व को विश्वास दिलाया कि जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गई है, वे उसे पूर्णत्या समर्पित होकर निभाएंगे व पार्टी संगठन को मजबूत करेंगे। इस मौके पर जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्रोई, मास्टर ताराचंद, सत्यनारायण मंगाली सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

भूमि अधिग्रहण मामले में खुद को फसता देखए हुड्डा अपने बचाव में कर रहे बयानबाजी  रू नांदल 

पूर्व मुख्यमंत्री  भूपेंद्र सिंह हुड्डा का दामन पाकसाफ नही है गुडगाँव में जमीन अधिग्रहण मामले में हुए सभी घोटालों के तार हुड्डा और वाड्रा से पूरी तरह जुड़े हैं जिनमे कहीं भी कोई गुंजाईश नही रह जाती की कांग्रेस सरकार के समय में हुड्डा ने मुख्यमंत्री पद का दुरूपयोग करते हुए सोनिया गांधी के दामाद रोबर्ट वाड्रा को गलत तरीके से गुडगाँव में जमीन दिलवाने का कार्य किया है उक्त आरोप इनेलो के रोहतक जिलाध्यक्ष सतीश नांदल ने आज जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर लगाये इनेलो जिलाध्यक्ष सतीश नांदल ने प्रदेश की बीजेपी सरकार को भी घेरते हुए कहा की चुनाव से पहले इनेलो पार्टी ने महामहिम राजयपाल को ज्ञापन सौंप हुड्डा और वाड्रा के खिलाफ गुडगाँव में डीएलएफ जमीन घोटाले सहित प्रदेश के अन्य सभी घौटालो की न्यायिक जांच करवाने की मांग की थी लेकिन प्रदेश की बीजेपी सरकार द्वारा भूमि घोटाले की जांच को लेकर जारी कि गयी अधिसूचना में कहीं भी वाड्रा का नाम नही लिया गया है जिससे यह साबित हो गया है की बीजेपी भी वाड्रा को बचाने के मूड में है और राजनैतिक चाल चलते हुए बीजेपी नरम रुख अपना रही है।  
        नांदल ने कहा भूमि घोटालों में यदि न्यायिक पूर्ण तरीके से जांच की जाये तो हुड्डा का फसना तय है इसलिए हुड्डा अपने आप को बचाने के लिए जनता के बीच खुद को किसान हितेषी बताने और खुद पर लगे आरोपों से बचने का प्रयास कर रहे हैं जबकि सच्चाई इसके विपरीत है पिछले दस वर्षों में मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए उन्होंने प्रदेश को जमकर लूटने और किसानो को बर्बाद करने का काम किया है कांग्रेस सरकार में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर था। नांदल ने मांग करते हुए कहा की जमीन घोटाले के मामले में निष्पक्ष रूप  की जानी चाहिए जिससे जनता के सामने भूपेंद्र सिंह हुड्डा का असली चेहरा सामने आ सके। 


कानून व्यवस्था का निकला दिवाला, पुलिस प्रशासन लाचार, अपराधियों के हौंसले बुलंद - एडवोकेट बिश्रोई

इंडियन नेशनल लोकदल ने जिले की दिनों दिन बिगड़ती कानून व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़े किए हैं। जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्रोई ने कहा कि जिले में पहले ही चोरी, छीना झपटी व लूटपाट की घटनाएं लोगों में दहशत फैलाए हुए थीं, वहीं अब पिछले तीन दिनों में पहले घिराय, फिर बरवाला और गुरुवार को हिसार में हुई सरेआम हत्याकांड की घटनाओं ने प्रशासन की सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है। यहां जारी एक बयान में एडवोकेट बिश्रोई ने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार के समय से ही हिसार जिला अपराधियों के निशाने पर था, लेकिन जब से भाजपा सरकार बनी है, अपराधों में बेहताशा वृद्धि हुई है। ऐसा कोई भी दिन व्यतीत नहीं होता, जब जिले में चोरी, डकैती, लूटपाट व हत्या जैसी वारदात नहीं होती। अब पिछले तीन दिनों में हुए जघन्य हत्याकांडो से तो जिले का हर आम आदमी अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि जब कोर्ट परिसर जैसे अत्यंत सुरक्षित स्थानों पर भी सरेआम किसी को गोली मारी जा सकती है तो जिले भर के लोगों को कैसे सुरक्षा मुहैया कराई जा सकती है। उन्होंने इसके लिए स्थानीय पुलिस व जिला प्रशासन को जिम्मेदार ठहराते हुए सरकार से मांग की कि जिले में जल्द से जल्द कानून व्यवस्था को पटरी पर लाया जाए और निष्क्रिय अधिकारियों का तबादला करते हुए उनकी जगह पर अच्छे अधिकारियों को लाया जाए।

Thursday, May 14, 2015

इनेलो ने की सभी विधानसभा क्षेत्रों में नए अध्यक्षों व विभिन्न प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजकों की नियुक्ति

इनेलो ने पार्टी के किसान व श्रमिक प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजक और पार्टी नीति एवं कार्यक्रम कमेटी के चेयरमैन की नियुक्ति के अलावा प्रदेश के सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों के लिए पार्टी के नए हलका प्रधानों के नामों की घोषणा कर दी है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा एवं नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने पार्टी के सभी विधायकों, सांसदों व वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ व्यापक विचारविमर्श के बाद नए पदाधिकारियों की नियुक्ति की घोषणा की है। पूर्व विधायक पूर्ण सिंह डाबड़ा को किसान प्रकोष्ठ और विद्यानंद लाम्बा को श्रमिक प्रकोष्ठ का प्रदेश संयोजक नियुक्त किया गया है। इसके अलावा सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर ओपी चौधरी पार्टी की नीति एवं कार्यक्रम कमेटी के अध्यक्ष होंगे और पार्टी राजनीतिक मामलों की कमेटी में उन्हें विशेष आमंत्रित सदस्य भी नियुक्त किया गया है। श्री अरोड़ा ने बताया कि पार्टी संगठन को और ज्यादा मजबूत व सक्रिय बनाने के लिए शहरी अध्यक्षों सहित अन्य नए पदाधिकारियों की नियुक्तियां भी जल्द ही कर दी जाएंगी।
श्री अरोड़ा ने बताया कि हरि सिंह मेहरिया को टोहाना, बिक्कर सिंह हडोली (रतिया), वकील भरत सिंह परिहार (रतिया), रणधीर सिंह जोधका (सिरसा), अभय सिंह खोड़ (ऐलनाबाद), सुभाष नैन खारियां (रानियां), सर्वजीत सिंह मसीतां (डबवाली), विनोद कुमार दड़बी (कालांवाली), सुबे सिंह लोहान (उचाना कलां), भूपेंद्र जुलानी (जींद), प्रताप सिंह लाठर (जुलाना), सुदेश चोपड़ा (नरवाना), सुभाष देसवाल (सफीदों), पे्रम कुमार गुज्जर (कैथल), भूपेंद्र सिंह भागल (गुहला), बलबीर सिंह मटोर (कलायत), पूर्व सरपंच ओमप्रकाश कैरा (पुण्डरी), रघबीर सिंह (घरौंडा), गुरदेव ङ्क्षसह रम्बा (इंद्री), ओमप्रकाश सलूजा (करनाल), धर्मवीर पाड़ा (असंध), इंद्रजीत सिंह गुराया (नीलोखेड़ी) के नए हलकाध्यक्ष नियुक्त किए गए हैं। 
श्री अरोड़ा ने बताया कि रणबीर बूरा को थानेसर, सुरेश सैनी (लाडवा),  कर्ण सिंह (पेहवा), अमरदीप सिंह कम्बोज (शाहबाद), जसविंदर सिंह (अम्बाला शहर), श्रवण सिंह (अम्बाला छावनी), अवतार सिंह शेरगिल (मुलाना), राजेश सैनी (नारायणगढ़), हरदीप मेहता (कालका), जितेंद्र सैनी (पंचकूला), राजकुमार कम्बोज (रादौर), दलमीरा राम सैनी (यमुनानगर), रामपाल जगाधरी, चेयरमैन चरण सिंह जट्टपुरा, महेश चौहान (पटौदी), ऋषिराज बादशाहपुर, शमशेर कटारिया गुडग़ांव ग्रामीण, शैलेस खटाणा को सोहना विस का हलकाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। इसके अलावा दीपक ठाकुर एडवोकेट को फरीदाबाद ओल्ड का, अरविंद सरदाना (बडख़ल), ललित बंसल (बल्लबगढ़), अख्तर हुसैन (एनआईटी फरीदाबाद ग्रामीण), सतीश शर्मा (एनआईटी फरीदाबाद शहरी), अमर नरवत (तिगांव ग्रामीण), एडवोकेट रविंद्र पराशर (तिगांव शहरी), रामजीत भाटी (पिरथला), सुरेंद्र सिंह (होडल), भूपेंद्र सिंह (पलवल) व प्रवीन डागर को हथीन विस का हलकाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि योगेश शर्मा को नूंह, उसमान खान (फिरोजपुर झिरका), जान मोहम्मद (पुन्हाना), सरपंच रामकिशन छिल्लर (बावल), राजपाल (रेवाड़ी) सुरेश त्यागी (गन्नौर), अशोक राणा (खरखौदा), सरपंच रामकिशन (राई), अजमेर मलिक (बरोदा), सुरेंद्र छिकारा (सोनीपत), बलजीत नैन (गोहाना), वेद प्रकाश भराण (महम), डॉ. संदीप हुड्डा (गढ़ी सांपला किलोई), राजेश सैनी (रोहतक), डॉ. नफे सिंह (कलानौर), नरेश शेखावत (महेंद्रगढ़), सुरेश यादव पटीकरा (नारनौल), अमर सिंह ब्रह्मचारी (नांगलचौधरी), अशोक यादव (अटेली), ऋषिपाल रावल (समालखा), कुलदीप राठी (पानीपत ग्रामीण), गुरचरण सिंह (इसराना), राजबीर परनाला (बहादुरगढ़), महावीर गुलिया (बादली), राकेश जाखड़ (झज्जर), बलराज राठी (बेरी), सज्जन लावट सोनी (हिसार), सरपंच सतपाल (नलवा), सतवीर सिसाय (नारनौंद), भागीरथ नम्बरदार (आदमपुर), इंद्र सिंह फौजी (हांसी), रणबीर पुनिया (उकलाना), सत्यवान (बरवाला), गजेंद्र सिंह श्योराण (लोहरू), महेंद्र शास्त्री (बाडढ़ा), रामनिवास (दादरी), कुलवंत कोटिया (भिवानी), रवींद्र पटौदी (तोशाम) व जगदीश धनाना को बवानीखेड़ा विस क्षेत्र का हलकाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।
सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का नेता प्रतिपक्ष ने किया स्वागत

 इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने सुप्रीम कोर्ट के उस ताजा फैसले का स्वागत किया है जिसमें कहा गया है कि सरकारी विज्ञापनों में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री अथवा मुख्य न्यायाधीश के अलावा किसी अन्य मंत्रियों अथवा राजनेताओं की तस्वीर नहीं होनी चाहिए। इनेलो नेता ने कहा कि तत्कालीन भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने लोगों को बहकाने एवं अपने राजनीतिक फायदे के लिए सरकारी कोष से अरबों रुपए के विज्ञापन जारी किए और सरकारी धन का राजनीतिक लाभ के लिए खुलकर दुरुपयोग किया गया। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अब मौजूदा मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार भी उसी राह पर चल रही है और आए दिन सरकारी कोष से करोड़ों रुपए के विज्ञापन केवलमात्र राजनीतिक फायदे व अपने फोटो छपवाने के लिए जारी किए जा रहे हैं।
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि पिछले दस सालों के दौरान सरकारी कोष से बेवजह फिजूल में खर्ची गई इस राशि की वसूली इन राजनेताओं के निजी खातों से वसूल करके उसे प्रदेश के विकास कार्यों पर खर्च किया जाए। नेता प्रतिपक्ष ने यह भी मांग की कि देश व प्रदेश में शुरू होने वाली सभी नई योजनाओं व परियोजनाओं के नाम विभिन्न राजनेताओं के नाम पर रखने की बजाय देश को आजाद करवाने वाले महान स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर ही रखे जाएं ताकि आने वाली पीढिय़ां उन महान स्वतंत्रता सेनानियों व देशभक्तों के जीवन से प्रेरणा ले सकें। 
डीके बंसल के निधन पर जताया शोक : हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने पंचकूला एवं अम्बाला के पूर्व विधायक डीके बंसल के निधन पर गहरा दुख जताते हुए शोकग्रस्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि स्व. डीके बंसल एक बेहद मिलनसार एवं मृदुभाषी राजनेता थे और पेशे से वकील होने के साथ-साथ सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढक़र भाग लेते थे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि श्री बंसल के निधन से प्रदेश ने एक मृदुभाषी एवं मिलनसार राजनेता खो दिया है। 51 वर्षीय श्री बंसल का बुधवार को मुम्बई के लीलावती अस्पताल में निधन हो गया था जहां वे पिछले कुछ समय से अपना इलाज करवा रहे थे। वे अपने पीछे पत्नी, एक बेटा व बेटी छोड़ गए हैं। श्री बंसल 2004 में अम्बाला से और 2009 में पंचकूला से विधायक चुने गए थे। वे 2014 के चुनाव में पंचकूला से हार गए थे।

Wednesday, May 13, 2015

छोटे कारोबारियों को मिले अपने गृहक्षेत्र में मुकद्दमा करने का अधिकार-दुष्यंत चौटाला

इनेलो संसदीय दल के नेता दुष्यंत चौटाला ने आज लोकसभा में नेगोशिएबल इंस्टरूमेंट्स अमेंडमेंट एक्ट 2015 का समर्थन करते हुए इसमें संशोधन कासुझाव दिया। उन्होंने कहा कि इस बिल में गांव रहने वाले लोगों को कानूनी लड़ाई लेने के लिए उनके क्षेत्र में ही मुकद्दमा करने का अधिकार हो। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि मैं इस बिल का समर्थन करता हूं। उन्होंने कहा कि मैं सरकार द्वारा चलाई गई इस मुहिम का स्वागत करता हूं। उन्होंने कहा कि बड़ी-बड़ी कंपनियां चैक दे देती थी। उन्होंने सुझाव दिया कि बड़े उद्योगों के बारे में सोचते हैं पर साथ ही उन छोटे लोगों के बारे में भी सोचिए जिन्हें बड़ी कंपनियां चैक दे देती हैं और चैक बांउंस हो जाते हैं। युवा सांसद ने कहा कि ऐसे लोगों के पास बराबर अधिकार होना चाहिए जहां उनका गृह क्षेत्र है वहां उनके खिलाफ मुकद्दमा कर पाए। उन्होंने कहा कि बड़ी कंपनियां दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में पंजीकृत हैं और गांव का व्यक्ति दिल्ली में आकर वकील करके उन कंपनियों के खिलाफ कानूनी लड़ाई नहीं लड़ सकता। उन्होंने कहा कि सरकार को ऐसे लोगों के बारे सोचते हुए इनमें संशोधन करना चाहिए। 
 उन्होंने कहा कि इस तरह का अत्याचर रोकने के लिए सदन यह बिल लेकर आया है। 

Tuesday, May 12, 2015

नेता प्रतिपक्ष ने कहा मुआवजे में हो रही है बंदरबांट, सभी प्रभावित किसानों को मुआवजा मिले

इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने बेमौसमी बारिश व ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा वितरण में की गई बंदरबांट की तीखे शब्दों में आलोचना करते हुए प्रदेश के उन सभी किसानों को जिनकी फसलें बर्बाद हुई हैं, बिना किसी भेदभाव के मुआवजा राशि तुरंत दिए जाने की मांग की। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि आज प्रदेशभर में जगह-जगह किसान धरने-प्रदर्शन व आंदोलन कर रहे हैं और गिरदावरी ठीक से न होने और प्रभावित किसानों को मुआवजा न मिलने से किसानों में भारी रोष और गुस्सा पाया जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष ने सरकार से उन सभी कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई किए जाने की मांग की जिन्होंने खराब हुई फसलों की ठीक से गिरदावरी नहीं की।
नेता प्रतिपक्ष ने सरकार से कहा कि विशेष गिरदावरी में जिन किसानों की फसलों को हुए नुकसान का ठीक से आकलन नहीं किया गया और जहां-जहां विशेष गिरदावरी को लेकर किसानों की शिकायतें आ रही हैं वहां सरकार विशेष टीमों का गठन करके उन गांवों में मौके पर जाकर टीमें किसानों से मिलकर तुरंत रिपोर्ट तैयार कर प्रभावित किसानों को अविलम्ब मुआवजा दे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि फसलों को हुए नुकसान के चलते जिन किसानों की सदमे से मौत हुई है अथवा आर्थिक तंगी व तनाव के चलते आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवारों को भी सरकार तुरंत दस-दस लाख रुपए की आर्थिक मदद प्रदान करे।
इनेलो नेता ने सरकार से प्रदेश के गन्ना किसानों को जिन्हें चीनी मिलों से अभी तक भुगतान नहीं मिला है, उन्हें भी तुरंत भुगतान करवाए ताकि किसानों को आर्थिक संकट से उभारा जा सके। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि गन्ना किसानों के बकाया का मुद्दा इनेलो ने पिछले विस सत्र में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के माध्यम से उठाया था और सरकार ने भरोसा दिलाया था कि गन्ना किसानों को उनके बकाया का भुगतान जल्द ही कर दिया जाएगा लेकिन इसके बावजूद अभी तक गन्ना किसानों को चीनी मिलों की तरफ बकाया राशि का अभी तक भुगतान नहीं हुआ है। उन्होंने यमुनानगर चीनी मिल बंद किए जाने को लेकर किसानों को दिए जा रहे नोटिस पर भी चिंता जताते हुए कहा कि इनेलो ने यह मामला भी पिछले विस सत्र में काफी प्रमुखता से उठाया था और सरकार ने भरोसा दिलाया था कि यमुनानगर चीनी मिल को बंद नहीं होने दिया जाएगा। इसके बावजूद चीनी मिल बंद होने के नोटिस आने से किसान बेहद परेशान हैं और सरकार इस संबंध में तुरंत कड़े कदम उठाए ताकि किसानों को बर्बाद होने से बचाया जा सके।
अपना अस्तित्व बचाने को जूझ रही है कांग्रेस: अशोक अरोड़ा

इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के उस बयान की कड़े शब्दों में निंदा की है जिसमें उन्होंने इनेलो के अस्तित्व को लेकर टिप्पणी की थी। श्री अरोड़ा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अपना अस्तित्व पूरी तरह से खत्म हो गया है और लोकसभा, विधानसभा व दिल्ली के चुनाव में कांग्रेस पार्टी की जो दुर्गती हुई है वह सबके सामने है और इन दिनों कांग्रेसी नेता केवल अपना अस्तित्व बचाने के लिए आए दिन बे सिर-पैर की बयानबाजी करने में लगे हुए हैं। श्री अरोड़ा ने कहा कि दस साल तक जो पार्टी केंद्र में सत्तारूढ़ रहने के बाद लोकसभा चुनाव में नेता प्रतिपक्ष के लायक भी सीटें न हासिल कर पाई हो और जिस पार्टी की हरियाणा में दस साल तक सत्ता में रहने के बाद विधानसभा चुनाव में मुख्य विपक्षी दल बनने लायक भी सीटें न मिली हों, ऐसी पार्टी के लोगों को दूसरों पर छींटाकसी करने की बजाय अपने अंदर झांककर देखना चाहिए। 
इनेलो नेता ने कहा कि दिल्ली में 15 सालों तक सत्ता में रहने के बाद विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी का न सिर्फ पूरी तरह से सफाया हुआ और पार्टी अपना खाता भी नहीं खोल पाई वहीं दिल्ली की करीब 90 प्रतिशत सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों की जमानतें जब्त होने से यह बात पूरी तरह साफ हो गई कि आज कांग्रेस का देश व प्रदेश में कहीं कोई अस्तित्व नहीं है। उन्होंने कहा कि अगले चुनाव में देश व प्रदेश में कांग्रेस का कोई नामलेवा भी नहीं मिलेगा। इनेलो नेता ने कहा कि आज हरियाणा में कांगे्रस पार्टी पूरी तरह से गुटबाजी की शिकार है और पूर्व मुख्यमंत्री की बात प्रदेश की जनता तो क्या कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष व विधायक दल की नेता भी सुनने को तैयार नहीं है। आज कांग्रेसी नेता अखबारी बयानबाजी करके सिर्फ अपना अस्तित्व बचाने के प्रयासों में लगे हुए हैं।
श्री अरोड़ा ने कहा कि इनेलो एक मजबूत जनाधार वाली पार्टी है और हरियाणा विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल है। उन्होंने कहा कि इनेलो ही लोकसभा व विधानसभा में प्रदेश के लोगों और विशेषकर किसान, मजदूर व कमेरे वर्ग के हितों की आवाज उठाती है और हरियाणावासियों के हितों की लड़ाई हमेशा इनेलो ने ही मजबूती से लड़ी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के हितों के लिए इनेलो न सिर्फ संघर्ष करने में अग्रणी रहेगी बल्कि प्रदेशवासियों के हितों के लिए हमेशा बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी कभी पीछे नहीं हटेगी। इनेलो नेता ने कहा कि इनेलो कार्यकर्ता बेहद मेहनती एवं जुझारू हैं और निष्ठावान कार्यकर्ताओं के दम पर ही इनेलो ने हमेशा लोगों के हितों की लड़ाई लड़ी है।
जब तक कालाधन वापिस लाकर लोगों के खातों में नहीं जाएगा तब तक सही मायने में कोई फायदा नहीं होगा: इनेलो सांसद

इनेलो संसदीय दल के नेता एवं हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने सोमवार को लोकसभा में विदेशों में जमा अघोषित काले धन संबंधी बिल पर चर्चा के दौरान कहा कि जब तक कालाधन विदेशों से वापिस लाकर लोगों के खातों में नहीं पहुंचेगा तब तक इस बिल का सही मायने में कोई फायदा नहीं होगा। इनेलो सांसद ने कालेधन संबंधी मामलों की जांच एक निश्चित समयावधि छह से बारह महीनों के बीच मुकम्मल किए जाने और जांच के दौरान मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए जांच अधिकारी का तबादला न किए जाने का भी सुझाव दिया। 
इनेलो सांसद ने कहा कि लम्बे समय से हम विदेशों में जमा कालेधन को लेकर लड़ाई लड़ते आए हैं और पिछले तीन-चार सालों से काले धन पर निरंतर चर्चा हो रही है और दशकों से इस पर विचारविमर्श चलता रहा है। उन्होंने कहा कि स्व. प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने 24 अगस्त 1974 को अपने पत्र में लिखा था कि अगर कालाधन गरीब के पास होगा तो उसे पकडक़र जेल में डाला जाएगा और अगर अमीर के पास होगा तो उससे जुर्माना लेकर छोडऩे का काम सरकार करेगी। इनेलो सांसद ने कहा कि जब यह बिल पास होकर लागू हो जाएगा और यहां पर हुई चर्चाओं और रूपरेखा के बाद जब तक इसका सही मायने में फायदा गरीब आदमी को नहीं होगा तब तक यही मानेंगे कि इसमें कहीं कोई कमी रही है।
इनेलो सांसद ने कहा कि ऐसे संवेदनशील मामलों की जांच एक निश्चित समय सीमा के भीतर की जानी चाहिए जो कि छह महीने से बारह महीनों के बीच हो और दोषियों से 30 फीसदी से लेकर 120 फीसदी तक जुर्माना और सजा के साथ-साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए कि ऐसे संवेदनशील मामलों की जांच के दौरान संबंधित जांच अधिकारी का कहीं तबादला न किया जाए। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के दौरान जब भी कोई बड़ा घोटाला हुआ तो जांच अधिकारी का तबादला करके कहीं और भेज दिया गया और जब उस घोटाले की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक हुई तो उसमें अनेक तरह की कमियां सामने देखने को मिली।
युवा सांसद ने कहा कि स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने जब बुढ़ापा पेंशन लागू की थी तो उसका फायदा एक समान सभी बुजुर्गों को दिया था। उन्होंने कहा कि अब जन-धन योजना के अंतर्गत सभी के बैंक खाते मौजूद हैं तो जब तक विदेशों में जमा कालाधन देश में नहीं आएगा और लोगों के खातों में नहीं पहुंचेगा तब तक इस बिल का कोई फायदा नहीं होगा। उन्होंने यह भी कहा कि जब तक विदेशों से कालेधन को वापिस लाकर इसका देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने में उपयोग नहीं होगा तब तक उनका मानना है कि बिल आधा अधूरा ही रहेगा। उन्होंने बिल का समर्थन करते हुए इस संबंध में कई महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए और संसद में विदेशों में जमा अघोषित कालेधन बिल पर पार्टी का पक्ष भी रखा।

Friday, May 8, 2015

सांसद दुष्यंत ने संसद में उठाई राईट टू रिकॉल की मांग

सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज लोकसभा में कंपलसरी वोटिंग बिल 2014 पर बोलते हुए इसमें अनेक खामियों का जिक्र किया और इसमें संशोधन करने की मांग करते हुए कहा कि अधिक जनसंख्या वाले कंपलसरी वोटिंग के बीच में सबसे बड़ी बाधा है। उन्होंने कहा कि 20 से अधिक देशों में यह प्रथा है परन्तु कम जनसंख्या वाले छोटे देश सिंगापुर में कामयाब है जबकि आस्टे्रलिया जैसे अधिक जनसंख्या देश में यह यह कामयाब नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि मतदान एक दिन की प्रणाली न लागू करके इसमें बदलाव लाना होगा जैसा अमेरिका में हो रहा है। फर्जी वोटिंग रोकने के लिए आधार कार्ड की तर्ज पर वोटिंग मशीन पर फिंगर प्रिंट व बायो मेट्रिक प्रणाली का प्रयोग किया जाना चाहिए। 
उन्होंने बुजुर्गों के लिए मोबाईल वोटिंग की सुविधा का भी सुझाव दिया। युवा सांसद ने कहा कि यदि दस दिन का मतदान लागू होता है तो वोटिंग से पहले मीडिया में विज्ञापन व एग्जिट पोल पर प्रतिबंध लगानी चाहिए। सांसद दुष्यंत चौटाला ने काम न करने वाले सरपंच, जिला परिषद सदस्य  विधायकों व सांसदों को राईट टू रिकॉल लागू करने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि स्व. चौधरी देवलाल ने राईट टू रिकॉल का सुझाव 1989 में इसी सदन में दिया था। इनेलो सांसद ने डिजीटल इंडिया को आगे बढ़ाते हुए एनआरआई के वोटिंग का प्रावधान करने व मतदान में डयूटी देने वाले पुलिस कर्मियों, अध्यापकों व अन्य कर्मचारियों के वोट डालने का उचित प्रावधान व व्यवस्था करने की मांग की। उन्होंने कहा कि जरूरी मतदान न करने वालों के लिए किए जाने वाली सजा के प्रावधानों का सबसे अधिक नुकसान गरीब आदमी को होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए नगद जुर्माना लगाकर, बिजली-पानी कनेक् शन व गैस कनेक् शन रद्द करने की व्यवस्था लागू करना चाहिए। 
दुष्यंत चौटाला ने बहादुरगढ़ में आयूष केंद्र बनाने का मुद्दा भी लोकसभा में उठाया

इससे पहले इनेलो संसदीय दल के नेता दुष्यंत चौटाला ने शुक्रवार को लोकसभा में  बहादुरगढ़ में प्रस्तावित 15 करोड़ का प्रोजेक्ट के तहत आयूर्ष रिचर्स सेंटर स्थापित करने का मु्द़दा उठाया। सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज प्रश्नकाल के दौरान योग को बढ़ावा देने व योग संस्थान और योगाचार्यों के सर्टिफीकेट देने संबंधी भी सरकार से अहम सवाल पूछा। केंद्रीय राज्य आयूष मंत्री श्रीपद येषो नायक ने दुष्यंत चौटाला क सवाल के जवाब में आज लोकसभा में भरोसा दिया कि हरियाणा में प्रस्तावित आयूष केंद्र जरूर बनेगा। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने सदन में कहा  सरकार के अनुसार 606 करोड़ रूपये खर्च नहीं किए हैं। उन्होंने पूछा कि किसी राज्य को कोई ग्रांट नहीं दी गई तो सरकार राष्ट्रीय मिशन के तहत सरकार द्वारा यह पैसा क्यों बचाया गया। उन्होने सदन में पूछा कि हरियाणा में 15 करोड़ रूपये का प्रस्तावित केंद्र के लिए सरकार ने एक भी पैसा क्यों नहीं जारी किया। उन्होंने यह भी पूछा कि क्या हरियाणा में आयूष या योग होम्योपैथी से संबंधित कोई संस्थान खोलेगी। इसके जवाब में आयूष राज्य मंत्री ने कहा कि हरियाणा में यदि इस संंबंध में कोई प्रस्ताव आया होगा तो वह इस बारे में निश्चित तौर पर विचार करंगा। सांसद दुष्यंत चौटाला के पूरक प्रश्न के जवाब में केंद्रीय आयूष राज्य मंत्री ने जवाब दिया कि सरकार ने हरियाणा में 100 बिस्तर का योग व नैचुरलपैथी का बनाने की अनुमति दी है और यह केंद्र हरियाणा में बनेगा।
गिरदावरी में धांधली को लेकर इनेलो ने दिया एकदिवसीय धरना



इनेलो ने गिरदावरी एवं मुआवजे में हुई धांधली को लेकर एक दिवसीय जिलास्तरीय धरना जींद जिला सचिवालय के सामने गोहाना रोड पर दिया। धरने का नेतृत्व जिला प्रधान कलीराम पटवारी, विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल, विधायक पिरथी सिंह नंबरदार ने किया। इस अवसर पर जिलेभर से आये हुए इनेलो कायकर्ताओं एवं गांव से आये हुए किसानों ने अपने अपने सुझाव एवं दर्द सांझा किया। धरने के बाद आईएएस अधिकारी प्रदीप दहिया के माध्यम से हरियाणा सरकार को ज्ञापन दिया। इनेलो जिलाध्यक्ष कलीराम पटवारी ने कहा कि इनेलो पार्टी लगातार पिछले दो महीने से प्रशासनिक अधिकारियों व हरियाणा सरकार को बार-बार ज्ञापन के माध्यम से जिले में बेमौसमी बारिश और ओलावृष्टि के चलते हुई खराब फसल की गिरदावरी और मुआवजे को लेकर अनुरोध किया था परंतु हरियाणा सरकार द्वारा मुआवजे बांटने का काम शुरू किया गया जो किसी भी रूप में संतोषजनक नहीं है।


इनेलो विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल ने कहा कि जींद जिले में लगभग एक लाख तीस हजार एकड़ भुमि की फसल खराब हुई जिसमें 100 प्रतिशत आधी से ज्यादा खराब हुई थी जिसका अनुरोध 10 अप्रैल और 17 अप्रैल को उपायुक्त महोदय के माध्यम से हरियाणा सरकार से किया गया था परंतु आंकलन केवल 67 हजार एकड़ का ही सामने आया जो उचित नहीं है। जिले में आधे से अधिक गांव छोड दिये गये और जिन गांवों में नाममात्र आंकलन किया गया उनका मुआवजा बांटा जा रहा है। जिससे सपष्ट होता है कि किसानों के साथ भेदभाव हुआ है और फर्जी गिरदावरी की गई है। जिसका उपायुक्त महोदय के माध्यम से हरियाणा सरकार को 1 मई को फिर अनुरोध किया गया था। आज तक गिरदावरी को लेकर सरकार ने कोई गंभीरता नहीं दिखाई। जिले में गन्ना किसानों को भी फसल का भुगतान नहीं किया जा रहा है जिससे आज किसान परेशान और बेहाल है। 
कली राम पटवारी ने कहा कि संपूर्ण गिरदावरी की उच्च स्तरीय जांच करवाकर जींद जिल के किसानों को उचित मुआवजा प्रदान किया जाए तथा किसानों को उनकी फसल का बकाया भुगतान तुरंत करवाया जाए। 


इस अवसर पर भूपेन्द्र सिंह जुलानी, सुभाष देशवाल, प्रताप सिंह लाठर, सुदेश चोपड़ा, सुबे सिंह लोहान, सुरेन्द्र नैन, बिजेन्द्र रेढू, मौजी खान, अशोक गोयल, कै.रणधीर सिंह चहल, देशराज माटा, हरीश अरोड़ा, हर्ष मित्तल, बिटु नैन, विश्ववीर नंबरदार, बलराज नगूरां,खजान सिंह खटकड़, शमशेर सिंह ढाण्डा,जय नारायण जिलेदार,नफे सरपंच निडानी,कुलदीप सिहाग हैबतपुर,जसवीर रेढू,कूलदीप गिल,सतीश पिंडारा, कर्मपाल ढुल, विश्वनाथ शर्मा, धर्मराज शर्मा,जगबीर मलिक, रामकुमार मलिक, रामनिवास खटकड़, प्रेम सिंह पंजेठा, सुभाष सैनी, सोहन सिंह पीपलथा, राजेंद्र मलिक, संजय गोयत, भूपेन्द्र नायक, महेन्द्र सिंगला, सोनू गुलिया, विजय पिंडारा, सुरजभान सिहाग, गुरदीप सांगवान इत्यादि सैकड़ों किसान व पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे।
इनेलो ने बिजली दरों में बढ़ौतरी की निंदा करते हुए इसे वापिस लेेने की मांग की 

 इनेलो ने प्रदेश सरकार द्वारा बिजली की दरों में साढ़े आठ फीसदी तक की बढ़ौतरी किए जाने की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसे तुरंत वापिस लिए जाने की मांग की है। इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि महंगाई व प्राकृतिक आपदा की मार से आज प्रदेश का हर वर्ग पूरी तरह परेशान है और सरकार ने लोगों के साथ किए हुए वायदे के अनुसार उन्हें कोई राहत देने की बजाय उन पर और अतिरिक्त बोझ डालकर बिजली उपभोक्ताओं की कमर तोडऩे का प्रयास किया है। इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा सरकार बिजली कंपनियों की नालायकी, कुप्रबंधन, बिजली चोरी व तत्कालीन कांग्रेस सरकार के घपलों, घोटालों और भ्रष्टाचार का बोझ पूरी तरह से बिजली उपभोक्ताओं पर डालकर लोगों की परेशानियां बढ़ाने में लगी हुई है। इनेलो नेता ने कहा कि मौजूदा सरकार के सत्ता में आने के बाद बिजली की दरों में लगातार यह चौथी बढ़ौतरी है। श्री अरोड़ा ने कहा कि सत्ता सम्भालते ही नवम्बर 2014 में भाजपा सरकार ने फ्यूल सरचार्ज के नाम पर 14 पैसे बढ़ाने का काम किया और फिर अप्रैल में फ्यूल सरचार्ज के नाम पर 37 पैसे प्रति यूनिट की सभी बिजली उपभोक्ताओं पर बढ़ौतरी डाली गई। अब एक बार फिर बिजली की दरों में 80 पैसे प्रति यूनिट तक की बढ़ौतरी करके प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं की पूरी तरह कमर तोड़ दी है।
इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा सरकार लोगों के साथ काफी लम्बे-चौड़े वायदे करके सत्ता में आई थी लेकिन अपने वायदे निभाने की बजाय सरकार वायदों के विपरीत काम कर रही है। उन्होंने कहा कि बिजली निगमों में व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार एवं घपलों, घोटालों के साथ-साथ बड़े स्तर पर बिजली चोरी की मार ईमानदारी से बिल भरने वाले आम बिजली उपभोक्ताओं को भुगतनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि आज हरियाणा की बिजली कम्पनियां पूरी तरह कुप्रबंधन का शिकार हैं और सरकार बिजली कंपनियों के भ्रष्टाचार व खरीद घोटालों को रोकने में सफल नहीं हो पाई है। इनेलो नेता ने कहा कि सरकार आए दिन बिजली की दरों में बढ़ौतरी करके लोगों पर बेवजह बोझ डालने की बजाय बिजली कंपनियों के कामकाज को ठीक करने और पारदर्शिता लाने की बजाय तत्कालीन भ्रष्ट हुड्डा सरकार की राह पर ही चल रही है जिससे बेवजह बिजली उपभोक्ताओं को मार झेलनी पड़ रही है। 
श्री अरोड़ा ने कहा कि हुड्डा सरकार ने कमीशन खाने के चक्कर में जहां प्रदेश के ताप बिजली घरों में घटिया मशीनरी लगवाई और फिर हरियाणा के ताप बिजली घर बंद करके बाहर से कमीशन खाने के लिए निजी कंपनियों से महंगी बिजली खरीदने का काम किया था। आज मौजूदा सरकार कांग्रेस सरकार के उन घपलों, घोटालों व भ्रष्टाचार का बोझ भी बिजली उपभोक्ताओं पर कभी फ्यूल सरचार्ज के नाम पर तो कभी बिजली निगमों के घाटे की भरपाई करने के लिए बिजली दरों में बढ़ौतरी करके आम उपभोक्ताओं पर बोझ यह कहकर डाला जा रहा है कि बिजली उपभोक्ताओं को महंगे दामों पर खरीदकर जो बिजली दी गई है, यह उसका बोझ है। इनेलो नेता ने कहा कि एक तरफ तो सरकार ने बिजली उपभोक्ताओं को स्लैब प्रणाली से मिलने वाले लाभ से वंचित कर दिया है दूसरी तरफ लोगों पर आए दिन कभी बिजली दरें बढ़ाने के नाम पर तो कभी फ्यूल सरचार्ज के नाम पर बोझ डाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समय हरियाणा के बिजली उपभोक्ता एक साथ चार-पांच तरह के फ्यूल सरचार्ज दे रहे हैं जो कि सरासर बिजली उपभोक्ताओं के साथ अन्याय है। इनेलो नेता ने सभी प्रकार के बिजली सरचार्ज हटाए जाने और इस बिजली दरों में बढ़ौतरी को तुरंत वापिस लिए जाने और लोगों को राहत प्रदान किए जाने की मांग की है।

Thursday, May 7, 2015

केंद्रीय मंत्रालय ने सांसद दुष्यंत की ड्राई पोर्ट बनाने की मांग पर जताई सहमति, अब गेंद प्रदेश सरकार के पाले में 
हिसार में ड्राई पोर्ट बनाने को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला के प्रयास अब रंग लाने लगे हैं। सांसद दुष्यंत चौटाला के हिसार में ड्राई पोर्ट बनाने के प्रस्ताव पर केंद्रीय सडक़ परिवहन राजमार्ग एवं पोत परिवहन मंत्रालय ने सहमति जताते हुए अब गेंद प्रदेश सरकार के पाले में डाल दी है। मंत्रालय ने कहा है कि यदि प्रदेश सरकार हिसार में ड्राई पोर्ट बनवाने के लिए जमीन उपलब्ध करवाती है तो इस दिशा में काम शुरू हो सकता है। 
इस संबंध में सांसद दुष्यंत चौटाला ने 22 नवंबर 2014 को केंद्रीय सडक़ परिवहन राजमार्ग एवं पोत परिवहन मंत्रालय को पत्र लिखा था। इस पत्र में हिसार में ड्राई पोर्ट स्थापित करने का प्रस्ताव सांसद ने भेजा था। सांसद का कहना है कि हिसार में सरकारी जमीन उपलब्ध है और राष्ट्रीय राजधानी से करीब 160 किलोमीटर दूरी पर होने के साथ-साथ हिसार में ड्राई पोर्ट के लिए तमाम सुविधाएं व अनुकूल माहौल है। 
इसी पत्र के जवाब में 27 अप्रैल को भेजे पत्र में मंत्रालय ने सांसद दुष्यंत चौटाला की मांग को उचित ठहराते हुए है कि इसके लिए यदि प्रदेश सरकार ड्राई पोर्ट के लिए जमीन मंत्रालय को उपलब्ध करवाती है तो पोत मंत्रालय ड्राई पोर्ट स्थापित करने की दिशा में अगला कदम उठा सकता है। मंत्रालय निजी क्षेत्र की कंपनियों के साथ मिल कर पोर्ट निर्माण का काम करता है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि यदि हिसार में ड्राई पोर्ट का निर्माण हिसार के बेहतर भविष्य के लिए जरूरी है। उन्होंने कहा कि यदि हिसार में ड्राई पोर्ट बनता है तो इससे न केवल लोगों को रेाजगार मिलेगा बल्कि ट्रांसपोर्ट क्षेत्र में उन्नति होगी और क्षेत्र का विकास होगा। उन्होंने कहा कि हिसार में ड्राई पोर्ट का लाभ हिसार, जींद, भिवानी, फतेहाबाद-सिरसा को भी मिलेगा।