Saturday, February 28, 2015

पूंजीपतियों के ईशारे में किसानों को बेघर करने पर तुली मोदी सरकार

 केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण अध्यादेश से स्पष्ट हो जाता है कि भाजपा पूंजीपतियों के ईशारों पर किसानों को उसी की भूमि से बेघर करने पर तुली हुई है। पूर्व इनेलो विधायक एवं जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने पिंजौर ब्लॉक के गांव चरनियां में एक समाजिक समारोह के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहें। पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी यहां पूर्व इनेलो जिला किसान प्रकोष्ठ अध्यक्ष मान सिंह चरनियां के निवास पर एक समारोह में शिरकत करने आए थे। भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए प्रदीप चौधरी ने कहा मौजूदा स्वरूप में भूमि अधिग्रहण बिल ने फिर से अंग्रेजी हकूमत के काले कानून की याद ताजा कर दी है। देश के किसानों का इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या होगा कि देश के अन्नदाता किसानों के विरूद्ध सरकार द्वारा लिए गए गलत फैसले के खिलाफ अदालत जाने का रास्ता भी किसानों के लिए बंद कर दिया गया है। उन्होने कहा वर्तमान सरकार देश की उस आम जनता को भूल गई जिन्होने उसे बहुमत देकर सत्ता तक पहुंचाया सत्ता में आते ही सरकार केवल बड़े पूंजीपतियों और उद्योगपतियां को खुश करने में लगी हुई है। उन्होने कहा कि दिल्ली में मिली करारी हार के बावजूद भी भाजपा ने कोई सबक नहीं सीखा है। उन्होने कहा कि देश में किसानों के मसीहा पूर्व उपप्रधानमन्त्री ताऊ देवीलाल की नीतियों पर चलकर ही देश के अन्नदाता किसान का भला हो सकता है। पूर्व विधायक ने कहा कि सरकार ने उद्योगपतियों की भूमि को किसानों को वापिस देने का काम कभी नहीं किया है। यहां बंद हो चुकि बीसीडब्ल्यू सूरजपुर की एसीसी सिमेंट फैक्टरी की उस सैकड़ों एकड़ भूमि को बड़े बिल्डर को बेचे जाने का उदाहरण देखने को मिलता है जिसे किसानों से लेकर दिया गया था। उन्होने चेतावनी देते हुए कहा कि इनेलो वर्कर किसानों एंव आम लोगों के हितों के लिए मौजूदा स्वरूप में लागू होने वाले भूमि अधिग्रहण अध्यादेश का संसद और सडक़ तक विरोध करती रहेगी। इस अवसर पर पूर्व जिलाध्यक्ष दीनानाथ शर्मा, रविन्द्रपाल मैहता, रूलदू कोना, बंता सिंह, विक्रम राणा, महेन्द्र लाकड़ा, डा. पदम, अमर राणा, रामप्रताप भौंरिया, हरदीप मैहता, देशराज सरपंच, हरबंस सिंगला, कुलदीप, मदन लाल, गुलाब नबी, गुरदास सहित अन्य लोग मौजूद थे। 


"आम बजट" से मिली निराशा -  राजेन्द्र लितानी

इनेलो के जिला प्रधान राजेंद्र लितानी ने संसद में आज पेश किए गए आम बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि आम बजट से किसान, आम आदमी, छोटे व्यापारी व युवाओं को निराशा हाथ लगी है। उन्होंने कहा कि आम बजट में किसानों के लिए कोई विशेष योजना ना लेकर आने से मौजूदा केंद्र सरकार का किसान विरोधी चेहरा एक बार फिर उजागर हो गया है। विपक्ष में रहते हुए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की बात करने वाली केंद्र की भाजपा सरकार ने आज उसको बिलकुल दरकिनार कर दिया है। उन्होंने कहा कि खेती पर सब्सीडी को बढाया जाना चाहिए था, कृषि लोन माफ होने चाहिए थे, कृषि में काम आने वाले मशीनों की इंपोर्ट पर किसानों को छूट मिलनी चाहिए। आधुनिक व एक्सपेरिमेंटल खेती को सरकारी संरक्षण मिलना चाहिए था। उन्होंने कहा कि जब तक कृषि को उद्योग का दर्जा नही मिलेगा और उद्योग की तर्ज पर किसानों की फसलों का बीमा नहीं होगा तब तक इस देश का किसान इसी तरह कर्ज के बोझ तले दबता चला जाएगा। खेतीहर मजदूरों को भी किसानों के बराबर लाभ मिलने चाहिए। इनेलो नेता कहा कि आम बजट में युवाओं के लिए कोई ठोस स्वरोजगार योजना नहीं लाई गई है। ऐसा लगता है जैसे मौजूदा केंद्र सरकार बेरोजगार युवाओं को इंडस्ट्रियल मजदूर के रूप में तैयार कर रही हो। उन्होंने कहा कि आज के मौजूदा आर्थिक माहौल को देखते हुए इन्कम टैक्स स्लैब बढनी चाहिए थी, टैक्स की स्लैब ना बढऩे से व इन्कम टैक्स कानून में सजा का प्रावधान होने से इंस्पेक्टरी राज को बढावा मिलेगा, जिससे आम छोटे व्यापारी का जीना मुश्किल हो जाएगा और उसपर इन्कम टैक्स अधिकारियों की प्रताडऩा बढ़ जाएगी। वहीं सर्विस टैक्स 14 प्रतिशत होने से भी महंगाई को और अधिक बढ़ावा मिलेगा। 

प्रदेश की वर्तमान स्थिति पर जिला कार्यकर्ता बैठक का आयोजन

 इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन ने कहा कि किसानों और आम लोगों की वर्तमान हालत को लेकर आगामी 2 मार्च को प्रात: 11 बजे पार्टी कार्यालय में जिला स्तरीय कार्यकर्ता बैठक आयोजित की जाएगी। उन्होंने इस बैठक में सभी कार्यकर्ताओं को समय पर पहुंचने का आह्वान करते हुए कहा कि बैठक में सरकार की किसान विरोधी सोच और कार्यशैली पर आगामी रणनीति तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि जबसे देश व प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है तब से आम लोग बेहाल है और विशेष रूप से किसान वर्ग की हालत दयनीय हो गई है। न तो किसानों को समय पर खाद, बीज समय पर मिल रहा है और न ही फसलों के दाम मिल रहे हैं। किसानों और आम लोगों के कथित अच्छे दिन लाने वाली सरकार केवल सत्ता में बैठे लोगों के अच्छे दिन ला रही है और सरकार को किसानों की हालत से कोई लेना देना नहीं है, यही कारण है कि आज प्रदेश का किसान अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है। जैन ने कहा कि सरकार अपने प्रत्येक वायदे से मुकर रही है तथा यूटर्न लेकर वायदों से मुंह मोड़ रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने चुनाव से पहले स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने का झंडा बुलंद किया था, लेकिन सत्ता में आते ही इससे मुकर गई। यहां तक कि खाद हासिल करने के लिए न केवल किसानों को अलसुबह 3 बजे लम्बी कतार में लगना पड़ता है, बल्कि किसानों के परिवारों की महिलाओं को भी घरबार छोड़कर खाद की लाईन में खड़े होने के लिए मजबूर कर दिया है। जिलाध्यक्ष जैन ने कहा कि सरकार के जुल्म यहीं समाप्त नहीं हुए और किसानों की भूमि को अधिग्रहण के नाम पर लूटने के लिए भी नई नीति बना दी। इस नीति के तहत किसान सरकार के खिलाफ न तो अदालत जा सकता है और न ही किसी अन्य स्तर पर अपील कर सकता है। अधिग्रहण नीति की अनूठी बात यह है कि जमीन छीनने के लिए किसान की सहमती लेना भी जरूरी नहीं है और भरपूर उपजाऊ भूमि को भी सरकार किसी भी नाम पर कब्जे में ले सकती है। निरंतर किसानों पर अत्याचार करने वाली सरकार अब यह भी कह रही है कि आने वाले गेहूं के सीजन में एफसीआई हरियाणा में गेहूं की खरीद नहीं करेगी। सरकार की इस नई साजिश से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ रही है। इन सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए 2 मार्च को प्रात: 11 बजे चौ. देवीलाल सदन में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई गई। 

Friday, February 27, 2015

इनेलो की ओर से पूर्व सीएम को दी गई श्रधांजली 


 पूर्व मुख्यमंत्री हुक्म सिंह के निधन पर इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, सांसद दुष्यंत चौटाला, विधायक राजदीप फोगाट, विधायक ओमप्रकाश गोरा व जिला प्रधान सुनील लांबा सहित अन्य इनेलो नेताओं ने गहरा शोक व्यक्त किया है। आज सांसद दुष्यंत चौटाला, अशोक अरोड़ा सहित अन्य इनेलो नेताओं ने दादरी में उनके निवास स्थान  हुक्म सिंह के पार्थिवं शरीर पर पुष्पाजंलि अर्पित कर दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। बाद में उक्त नेता स्व. हुक्म सिंह के दाह संस्कार में शामिल हुए। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हुक्म सिंह एक सरल व सीधे स्वभाव के नेता थे और इमानदारी की मिसाल थे। पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि हुक्म सिंह ने जननायक स्व. चौधरी देवीलाल व इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला के साथ काम किया। 
इनेलो बी सी सैल की जिला स्तरीय बैठक का हुआ आयोजन 


 इनेलो जिला पार्टी कार्यालय में बी सी सैल की जिला स्तरीय बैठक का आयोजन हुआ जिसकी अध्यक्षता बी सी सैल के पुर्व जिलाध्यक्ष हरी सिंह सैन की अध्यक्षता में हुई। बैठक में मुख्यतिथि के तौर पर बी सी सैल के प्रदेशाध्यक्ष तेलू राम जोगी पहुचें।
बैठक का मुख्य एंजेडा संगठन को लेकर चर्चा हुई जिसमें संगठन को मजबुत बनाने पर विचार विमर्श किया गया। इस विषय पर उचाना के  पुर्व हल्काध्यक्ष बलवंत सिंह,चतर सिंह जांगड़ा,राकेश रोहिला,जगबीर जांगड़ा,जयप्रकाश दहिया ने संगठन में पुर्ण मजबुती देने के लिए समर्पित कार्यकर्ता को जिम्मेवारी देने का जोर दिया। इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष ने बताया की प्रदेश में आज की बीजेपी सरकार पथ से भटक कर अपने जेब भरने पर जोर दे रही है। उन्होने प्रदेश के गरीब वर्ग के हित के लिए कोई नया काम नही किया है और न ही गरीबों को पक्के मकान,न ही पेट भरने के लिए अनाज देने की कोई नई पहल की है। बल्कि देश प्रदेश में बीजेपी सरकार ने लोगों को 15 लाख रूपए देने के नाम पर लोगो से वोट बटोरने का काम किया है। जिससे लोगोंं का सरकार से मोह भंग हो गया है। आज प्रदेश में आम आदमी के लिए न कोई कानुन है न कोई सुरक्षा है। प्रदेश में गरीबी के नाम का एक कलकं  लग चुका है। जिसका इस सरकार ने राजनैतिक फायदा उठा कर अपनी सरकार बनाकर बनाने का काम किया है। आज गरीब वर्ग के लोग इस सरकार को सबक सिखाने के लिए आतुर बैैठे है। इनेलो संगठन के साथ भारी सख्यंा में जुडऩे के लिए तैयार है।  इस अवसर पर उमेश नरवाना,कप्तान,संदीप पंवार,राजु सैन,सुभाष जांगड़ा,धर्मपाल यादव,सुलतान सिंह बैरागी,राजु निडाना,भरथरी अलेवा,होशियार सिंह अहलावत,प्रकाश कंडैला अनेको कार्यकर्ताओं ने बैठक में हिस्सा लिया। 

भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल पूरी तरह से किसान विरोधी - राजेन्द्र लितानी

इंडियन नेशनल लोकदल ने केंद्र सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण बिल में किए जा रहे बदलाव पर कड़ी आपत्ति जताई है। पार्टी के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी ने कहा कि मौजूदा भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल पूरी तरह से किसान विरोधी है व सरकार इस बिल के माध्यम से बड़े बड़े कॉरपोरेट घरानों को लाभ पहुंचाने की कोशिश में है। आज यहां जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि इस बिल से सबसे ज्यादा प्रभावित हरियाणा प्रदेश के किसान होंगे, क्योंकि हरियाणा प्रदेश देश की राजधानी दिल्ली को तीनों तरफ से घेरता है व देश के बड़े बड़े कॉरपोरेट घरानों की नजर इन जमीनों पर है। लोकसभा चुनाव व उसके बाद हुए विधानसभा चुनावों में इन कॉरपोरेट घरानों ने भारतीय जनता पार्टी की हर तरह से मदद की थी। अब उन्हीं के प्रभाव में आकर मौजूदा केंद्र सरकार यह किसान विरोधी अध्यादेश लेकर आई और अब इसे संसद के माध्यम से कानून बनाना चाहती है। उन्होनें कहा कि वर्ष 2013 में जो भूमि अधिग्रहण बिल पास हुआ था, उस पर संसद में व्यापक विचार विमर्श हुआ था तथा राज्य सरकारों व किसान संगठनों से भी विचार विमर्श किया गया था। उस समय मौजूदा भाजपा सरकार विपक्ष में थी। उन्होंने भी अपने सुझाव उस वक्त दिए, परंतु अब वही भाजपा नेता इस बिल में संशोधन की वकालत कर रहे हैं। जोकि भाजपा की दोहरी मानसिकता को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री विरेंद्र सिंह ने भी भूमि अधिग्रहण बिल 2013 की उस समय भरपूर वकालत की थी, परंतु आज मौजूदा केंद्र सरकार ने अपने आप को किसानों का हितैषी बताने वाले केंद्रीय मंत्री विरेंद्र सिंह को इस संशोधन बिल को पेश करने की जिम्मेवारी सौंपी है। ऐसा करके केंद्रीय मंत्री विरेंद्र सिंह ने किसानों के लिए जीवनभर संघर्षरत रहे सर छोटूराम की आत्मा को भी ठेस पहुंचाई है। उन्होंने गत दिवस केंद्रीय रेल बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि प्रदेश की जनता को मौजूदा रेल बजट से निराशा ही हाथ लगी है। रेल मंत्री को रेल बजट पेश करके संसद के माध्यम से देश की जनता को पिछले वर्ष का लेखा जोखा व आगामी वर्ष की योजना के बारे में बताना होता है, परंतु मौजूदा रेल बजट में मंत्री महोदय ने किसी प्रकार का लेखा जोखा व वर्ष 2014-15 में जो घोषणाएं की गई थी, उनको क्रियांवित कैसे किया जाना है इस बारे में भी कुछ भी नहीं बताया गया। मौजूदा रेल बजट में देश की जनता को जो सुविधाएं देने की बात कही गई है, इन सुविधआों को केंद्र के पिछले नौ महीने के कार्यकाल में भी शुरू किया जा सकता था। परंतु आज नौ महीने बीत जाने के बाद भी रेलवे स्टेशनों पर व रेलगाडिय़ों में हालात जस के तस हैं। इससे सरकार की मंशा पर सवालिया निशान उठ रहे हैं। 

Thursday, February 26, 2015

SYL Canal & Hansi Bhutana should be linked at the earliest : Dushyant Chautala

Leader of INLD in Lok Sabha, MP Sh Dushyant Chautala today raised the issue of the increasing population and need to control it in the parliament. In his speech, Sh Dushyant brought the concern of the government towards the Direct Subsidy Scheme being implemented in the country as it would put additional burden on the farming community. He also took up the matters of connecting the Sutlej Yamuna Link Canal and Hansi Butana canal besides MP Adarsh Village Scheme. Pointing out that the address by the President has nothing new to ofer, Sh Dushyant said that while the issues pertaining to the development and smart cities are being talked about, the union government during its nine months tenure so far has not touched the crucial issue of controlling the population in the country. He further said that one day India will cross China in terms of population. "The manner in which the population is going up in the country, there is need to discuss how many households are required to provide shelter to each and every person in the country", he said in his speech. The youngest MP also said that it was unfortunate that the government talks of giving one lakh death insurance cover at the time of opening account under the Jan Dhan Scheme. On the issue of the direct subsidy, Sh Dushyant pointed out that government must see towards the pocket of the farmers. "With the implementation of the direct subsidy, the urea bag will cost Rs 848 and for every acre, the farmer will have to fetch Rs 1700. Government should look into this", he demanded. Sh Dushyant also informed the house that following the PM scheme, he too has adopted village Makhand in Uchala constituency, where camps have been organised, while adding, "But so far the state government has not started any new scheme in this village." Sh Dushyant said that he is grandson and son of a farmer and will talk for the farming community. "The economy of the country is dependent on the farm sector but in its address, the President has not spoken about any consolidated farm policy. Without laying stress on the agriculture sector, how will we be able to provide food to the country", he said. Sh Dushyant also demanded that the inter-linking of the SYL canal and Hansi Butana should be done fast so that farmers in Haryana can get the water for irrigation.    
संसद में गूंजा एसवाईएल व हांसी-बुटाणा का मुद्दा, दुष्यंत ने हिसार में केंद्रीय पशु विश्वविद्यालय की मांग भी उठाई

इनेलो संसदीय दल के नेता दुष्यंत चौटाला ने आज लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर रखे गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान सतलुज-यमुना लिंक नहर व हांसी-बुटाणा लिंक को जल्द मुकम्मल करवाकर हरियाणा के खेतों तक पानी पहुंचाने, श्वेत क्रांति के लिए हिसार स्थित 133 साल पुराने पशु महाविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिए जाने और कृषि को बढ़ावा देने के लिए विशेष उपाय किए जाने के साथ-साथ देश में दिनोंदिन बढ़ रही जनसंख्या पर भी नियंत्रण करने के लिए जरूरी कदम उठाए जाने की मांग की।
हिसार से इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि स्व. उपप्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल हमेशा कहा करते थे कि हमारे देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह कृषि पर आधारित है। एक तरफ जहां हमारे पास दुनिया की मात्र 2.2 फीसदी भूमि है वहीं दुनिया की 17 फीसदी जनसंख्या हमारी है। अगर हम कृषि की तरफ ध्यान नहीं देंगे तो इस 17 फीसदी जनसंख्या को भोजन देने का कैसे सोचा जा सकेगा? उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना  के लिए वे सरकार को बधाई देते हैं और इस योजना के अंतर्गत कृषि मंत्री हर खेत तक पानी पहुंचाने का काम करें और जिस दिन हर खेत में पानी पहुंच जाएगा उसी दिन हमारे किसान बंजर भूमि में भी बाग लगाकर दिखा देंगे। उन्होंने कहा कि पिछली बार नदियों को जोडऩे की योजना सामने आई थी, ये बेहद अहम व बहुत जरूरी मुद्दा है और जल्द से जल्द सतलुज-यमुना लिंक व हांसी-बुटाना जैसे सभी लिंक जोड़े जाएं ताकि हमारे खेतों तक पानी पहुंच सके। उन्होंने पढ़ेगा भारत, बढ़ेगा भारत के अंतर्गत हिसार स्थित पशु विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देकर श्वेत क्रांति को आगे बढ़ाने का भी आह्वान किया।
इनेलो सांसद ने कहा कि स्व. जननायक ने 1989 में संसद में कहा था कि लोकराज लोकलाज से चलता है। उसी की तर्ज पर आज प्रधानमंत्री भी कह रहे हैं कि सबका साथ सबका विकास। आज हमारा देश प्रतिदिन विकास की ओर तेजी से बढ़ रहा है और हम स्मार्ट सिटी से लेकर आदर्श गांव तक की बात कर रहे हैं लेकिन पिछले नौ महीनों के दौरान एक बार भी एनडीए सरकार ने जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कोई उल्लेख नहीं किया। इसी के चलते हम 123 करोड़ से बढक़र आज 124 करोड़ का देश हो गया है। उन्होंने कहा कि अगले 13 साल बाद हम जनसंख्या के मामले में चीन को भी पीछे छोडक़र सबसे आगे पहुंच जाएंगे। इनेलो सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री 2022 तक हर सिर पर छत देने  की सरकार की ओर से बात करते हैं। हर नागरिक का यह जन्मसिद्ध अधिकार है कि उसके सिर पर सरकार छत देने का काम करेगी लेकिन 2022 तक क्या हम यह कल्पना कर सकते हैं कि 124 करोड़ से बढक़र आबादी 132 करोड़ तक पहुंच जाएगी और हमें कितने मकान और बनाने पड़ेंगे?
सांसद दुष्यंत चौटाला ने सरकार की जन-धन योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकार ने 13.2 करोड़ नए खाते खोलकर गिनीज बुक में अपना नाम तो दर्ज करवा लिया है लेकिन वे खाताधारक आज भी सरकार से उम्मीद लगाए बैठे हैं कि उनके खाते में 15 लाख रुपए कब आएंगे? उन्होंने कहा कि ये बेहद शर्म की बात है कि सरकार विज्ञापन देती है कि एक लाख रुपए का बीमा करवा दिया गया है और 15 लाख तो नहीं मिलेंगे लेकिन निधन होने पर एक लाख का बीमा जरूर मिल जाएगा। उन्होंने डायरेक्टर ट्रांसफर स्कीम का उल्लेख करते हुए कहा कि इसकी सभी सराहना करते हैं और बहुत अच्छी बात है क्योंकि सबसे ज्यादा चोरी सब्सिडी प्राडक्ट में ही होती है लेकिन क्या हम गरीब की जेब को आंकने का भी काम करते हैं? इनेलो सांसद ने कहा कि अब खाद की सब्सिडी भी खाते में डाली जाएगी। उन्होंने कहा कि यूरिया का एक कट्टा सब्सिडी वाला 382 रुपए का मिलता है और बिना सब्सिडी के लेंगे तो 848 रुपए का मिलेगा। प्रति एकड़ में तीन कट्टे यूरिया डलते हैं और किसान की जेब से करीब 1700 रुपए प्रति एकड़ और बोझ बढ़ जाएगा तो क्या सरकार इस पर कोई विचार करेगी?
इनेलो संसदीय दल के नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त को हर सांसद से एक गांव गोद लेने की बात कही थी, उन्होंने भी उचाना हलके के मखण्ड गांव को गोद लिया था जहां पर सारी गलियां टूटी थी और लोगों के घरों तक पानी भी नहीं पहुंच रहा था। सेमिनार के दौरान हमें जो 42 स्कीमें केंद्र सरकार की बताई गई थी उन्हें लागू करने और गांव का विकास करवाने के लिए अधिकारियों को कहा गया। वहां मेरे प्रयास से कैम्प लगाने का काम और एनसीसी से अपील भी की गई लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा कोई भी नई स्कीम वहां लागू नहीं की गई। उन्होंने राष्ट्रपति के अभिभाषण को सरकार का विजन डाकूमेंट बताते हुए कहा कि पिछली बार के विजन डाकूमेंट और इस बार के विजन डाकूमेंट कहीं कोई खास अंतर नहीं नजर आ रहा। उन्होंने प्रधानमंत्री द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम की शुरुआत हरियाणा की धरती से शुरू किए जाने के लिए पीएम का धन्यवाद करते हुए कहा कि राष्ट्रपति के अभिभाषण में एक भारत श्रेष्ठ भारत की बात कही गई है और वे सदन में सबसे युवा सांसद होने के नाते हर सदस्य से अपील करेंगे कि जो लोग जिम्मेदार नागरिक होते हुए भी घर वापसी, चार बच्चे, धार्मिक संस्थाओं को तोडऩे जैसी जो बातें करते हैं, वे इसे बंद करें क्योंकि 50 साल बाद हम युवाओं को ही इस सदन में आना है और तब भी हम गर्व से कह पाएंगे कि एक भारत श्रेष्ठ भारत है। दुष्यंत चौटाला के चर्चा में भाग लिए जाने के दौरान उन्होंने सदन में यह कहते हुए सबको हंसा दिया कि वे अल्पसंख्यक समुदाय से तो नहीं लेकिन उनकी पार्टी मात्र दो सांसदों की होने के नाते वे अल्पसंख्यक ही हैं इसलिए उन्हें बोलने का पूरा मौका दिया जाए। सांसद ने चर्चा के दौरान देश व प्रदेश से जुड़े हर मुद्दे पर अपनी बात रखी और पार्टी का पक्ष रखने के साथ-साथ प्रदेश के लोगों के हितों की बात भी जोर-शोर से उठाई।
इनेलो ने रेल बजट को निराशाजनक बताया 


 इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा व हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने केेंद्रीय रेल बजट को पूरी तरह निराशाजनक बताते हुए कहा कि केंद्रीय रेल मंत्री ने बजट में समाज के किसी भी वर्ग को कोई राहत न देकर सभी वर्गों को न सिर्फ निराश किया है बल्कि रेल बजट के नाम पर केवलमात्र औपचारिकता निभाने का प्रयास किया गया है। चौधरी अभय चौटाला व श्री अरोड़ा ने कहा कि केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु इस समय हरियाणा से राज्यसभा सांसद हैं और इसी नाते केंद्रीय रेल मंत्री के पद पर बने हुए हैं। केंद्रीय रेल मंत्री क्योंकि राज्यसभा में हरियाणा का प्रतिनिधित्व करते हैं इसलिए प्रदेशवासियों को उनसे भारी उम्मीदें थी लेकिन हरियाणा के लिए कोई भी नई रेलवे लाइन अथवा नई रेल गाडिय़ों या पिछली घोषणाओं को पूरा करने के लिए कोई भी ऐलान न किए जाने से प्रदेश के लोगों को भारी निराशा हुई है। इनेलो नेताओं ने कहा कि इस समय अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें आधे से भी कम रह गई हैं और लोगों को रेल मंत्री से रेल व मालभाड़े में कमी की उम्मीद थी लेकिन उन्होंने इस मामले में भी पूरी तरह निराश किया है। इनेलो नेताओं ने कहा कि इससे पहले दस साल तक कांग्रेस नेता रेल बजट में फर्जी घोषणाएं करके प्रदेश के लोगों को बहकाते रहे हैं और इस बार लोगों को उम्मीद थी कि केंद्रीय रेल बजट में उन्हें पूरा करने का कोई ठोस आश्वासन दिया जाएगा लेकिन लोगों की सारी उम्मीदें धरी की धरी रह गई। इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला व चरणजीत सिंह रोडी ने भी केंद्रीय रेल बजट को पूरी तरह निराशाजनक व समाज के सभी वर्गों को मायूस करने वाला बजट बताया।
भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में इनेलो करेगी आंदोलन:  अशोक अरोड़ा



 इनेलो ने केंद्र सरकार द्वारा लाए गए भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल को किसान, मजदूर, गरीब व पिछड़े वर्ग के हितों पर कुठाराघात पहुंचाने वाला बताते हुए केंद्र सरकार से तुरंत इसे वापिस लीए जाने की मांग की है। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने गुरुवार को यहां पत्रकारों से बाचतीत करते हुए कहा कि अगर जनविरोधी इस काले कानून को सरकार ने वापिस न लिया तो इनेलो न सिर्फ प्रदेशभर में लोगों को संगठित करने के लिए जिला मुख्यालयों पर बैठकें आयोजित करेगी बल्कि किसानों को साथ लेकर दिल्ली में संसद पर विशाल प्रदर्शन भी किया जाएगा। इनेलो नेता ने कहा कि इस काले कानून का सबसे ज्यादा असर हरियाणा के किसानों पर पड़ेगा और प्रदेश के किसान जिसे पहले दस सालों तक हुड्डा सरकार ने लूटने का काम किया, वे इस संशोधन विधेयक के बाद पूरी तरह बर्बाद ही हो जाएंगे। पत्रकार सम्मेलन में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आरएस चौधरी, इनेलो के वरिष्ठ नेता बीडी ढालिया, पार्टी के मीडिया प्रभारी राम सिंह बराड़, कार्यालय सचिव एनएस मल्हान व पार्टी प्रवक्ता प्रवीण आत्रे सहित अनेक पार्टी नेता मौजूद थे। 
श्री अरोड़ा ने कहा कि किसानों को लम्बे संघर्ष के बाद 2013 का भूमि अधिग्रहण बिल हासिल हुआ था और उस बिल पर संसद में व्यापक विचारविमर्श के साथ-साथ राज्य सरकारों और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से भी व्यापक विचारविमर्श के बाद अंतिम रूप दिया गया था और उस समय संसद में मुख्य विपक्षी दल भाजपा के सुझावों को भी उसमें शामिल किया गया था। श्री अरोड़ा ने कहा कि जिन उद्योगपतियों व बिल्डरों ने केंद्र में भाजपा सरकार बनवाने के लिए पैसा खर्चा अब उन उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार इस काले कानून को ला रही है और उसे संसद में पेश करने की जिम्मेदारी भी दीन बन्धू सर छोटू राम के नाती होने का दावा करने वाले बीरेंद्र सिंह को दी गई। इनेलो नेता ने कहा कि इस नए कानून में उस धारा को भी हटा दिया गया जिसमें भूमि अधिग्रहण से पहले 70 से 80 फीसदी किसानों की सहमति होना जरूरी और अधिग्रहण से दलित, पिछड़े व मजदूर वर्ग पर पडऩे वाले सामाजिक प्रभाव का जायजा लेने की भी बात कही गई थी।
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जबसे भाजपा केंद्र व प्रदेश में सत्ता में आई है तब से उसका निरंतर किसान व गरीब, मजदूर विरोधी चेहरा सामने आ रहा है। उन्होंने कहा कि स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने के नाम पर लोगों के वोट हासिल करने के बाद अब न सिर्फ भाजपा सरकार अपने उस वायदे से पीछे हट गई है बल्कि भूमि अधिग्रहण बिल में व्यापक परिवर्तन कर किसानों के हकों को छीना जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहली बार हुआ है कि खाद के लिए न सिर्फ किसानों को कई-कई दिन लगातार लाइनों में खड़ा होना पड़ा बल्कि महिलाओं को पुलिस थानों में जाकर लाइनें लगाकर खाद की पर्चियां लेनी पड़ी। इनेलो नेता ने कहा कि उनकी पार्टी ने लोकसभा में जब यह बिल पेश किया गया तो वहां उस समय न सिर्फ भारी विरोध किया गया बल्कि इनेलो सांसदों ने वॉकआउट भी किया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी आगामी विधानसभा सत्र में यह मांग रखेगी कि प्रदेश विस में एक प्रस्ताव पारित करके केंद्र सरकार को भेजा जाए जिसमें भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल वापिस लिए जाने की मांग की जाए।
श्री अरोड़ा ने कहा कि इनेलो राज्य कार्यकारिणी की जल्दी ही बैठक बुलाकर जिलास्तर पर आयोजित की जाने वाली बैठकों की रूपरेखा तैयार करने के अलावा पार्टी की ओर से इस संशोधन विधेयक के खिलाफ दिल्ली में किए जाने वाले प्रदर्शन को लेकर भी विचारविमर्श किया जाएगा। इनेलो नेता ने कहा कि इनेलो अपनी पार्टी के बैनर तले बिल का विरोध प्रदर्शन जारी रखेगी और अगर अन्य कोई किसान, सामाजिक व राजनीतिक संगठन इस बिल के विरोध में इनेलो के साथ आना चाहेगा तो उनका स्वागत किया जाएगा। इनेलो नेता ने कहा कि आगामी विस सत्र में प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति, बिजली-पानी संकट, यूरिया संकट, बुढ़ापा पेंशन व बेरोजगारी भत्ता सहित भाजपा सरकार द्वारा लोगों से किए गए चुनावी वायदे पूरे न किए जाने का मामला भी उठाया जाएगा और सरकार से तुरंत अपने सभी चुनावी वायदे पूरे किए जाने की मांग की जाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों के चलते इस बार किसानों को नरमा, कपास व धान का लागत मूल्य भी नहीं मिल पाया और किसान की हालत दिनोंदिन बेहद खराब होती जा रही है। उन्होंने कहा कि  केंद्र सरकार द्वारा लाया गया मौजूदा भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल केवलमात्र बड़े-बड़े औद्योगिक घरानों को फायदा पहुंचाने और किसानों को बर्बाद करने का प्रयास है और इनेलो इसे किसी भी कीमत पर सफल नहीं होने देगी।
इनेलो की जिलास्तरीय बैठक एक मार्च को

इण्डियन नैशनल लोकदल पार्टी ने अपने संगठन को मजबुत एवं प्रभावी बनाने के लिए तैयारी शुरू कर दी हैं। इनेलो ने एक मार्च को प्रात: दस बजे धवन बैंक्ट हाल एटलस रोड़ पर अपने कार्यकर्ताओं की एक अह्म बैठक् बुलाई है। यह जानकारी देते हुए जिला कार्यालय सचिव संजय मलिक ने बताया इस बैठक में पार्टी के सोनीपत जिले के सभी प्रदेश, हल्का, गांव व वार्ड स्तर के कार्यकर्ता शामिल होगें। इस बैठक में प्रदेश में मौजुदा हालात एवं पार्टी की आगामी रणनीति के बारे में विस्तार से चर्चा की जाएगी। 

बजट में हरियाणा को 'प्रभु' भरोसे छोड़ गए रेल मंत्री प्रभु : चरणजीत रोड़ी

इनेलो ने केंद्रीय रेल बजट में हरियाणा की पूरी तरह अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए इसे रेल मंत्री का फस्ट इंप्रेशन में ही फेल होना करार दिया। बजट पर जारी प्रतिक्रिया में सिरसा संसदीय क्षेत्र के सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, प्रदेश प्रवक्ता स. निशान सिंह, जिलाध्यक्ष बलविन्द्र कैरों, विधायक बलवान दौलतपुरिया, प्रो. रविन्द्र बलियाला व पूर्व विधायक रणसिंह बैनीवाल ने भाजपा सरकार पर हरियाणा का राजनीतिक इस्तेमाल किए जाने के आरोप जड़े।
इनेलो नेताओं ने कहा कि सुरेश प्रभू को भाजपा ने हरियाणा से राज्यसभा सांसद बनाए जाने का कार्ड केवल मात्र अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने मात्र से ही किया था। हरियाणा से राज्यसभा सांसद सुरेश प्रभु के केंद्रीय रेल मंत्री बनने पर प्रदेशवासियों को उम्मीद जगी थी कि मोदी सरकार के पहले रेल बजट में राज्य को अनेक बड़े तोहफे मिलेेंगे। लेकिन वीरवार को पेश किए गए रेल बजट के बाद पूरे हरियाणा से एक ही बात निकल कर सामने आ रही है कि इस बजट में हरियाणा को 'प्रभु' भरोसे छोड़ गए रेल मंत्री सुरेश प्रभु। सांसद चरणजीत रोड़ी ने कहा कि उनकी तरफ से रेल मंत्री के समक्ष अनेक बार हिसार-फतेहाबाद रेल लाइन के मुद्दे को रखा गया, लेकिन बजट ने स्पष्ट कर दिया है कि भाजपा भी कांग्रेस की तर्ज पर सिरसा संसदीय क्षेत्र के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। इनेलो सांसद ने कहा कि सिरसा क्षेत्र के लिए किसी तरह की कोई नई ट्रेन की घोषणा तक नहीं हुई, जिससे स्पष्ट तौर पर कहा जा सकता है कि केंद्र सरकार का पहला रेल बजट इस क्षेत्र के लिए बुझे हुए कारतूस की तरह ही रहा, जिसने यहां की जनता को पूरी तरह से निराशा किया।

Wednesday, February 25, 2015

मोदी सरकार को महंगी पड़ेगी किसानों की अनदेखी : पारस मित्तल

केंद्रीय सरकार द्वारा लाया गया भूमि अधिग्रहण अध्यादेश छोटे दुकानदार, किसान व मजदूरों के लिए काले कानून के समान है। देश की मोदी सरकार को किसानों की अनदेखी महंगी साबित होगी। यदि यह बिल सरकार ने जबरदस्ती लागू किया तो देश व प्रदेश का किसान बिल के विरोध में सड़कों पर उतर आएगा। यह आरोप इनेलो के प्रदेश कोषाध्यक्ष पारस मित्तल ने पत्रकारों से बातचीत में लगाए। उन्होंने सरकार पर बोलते हुए आरोप लगाया कि इस भूमि अधिग्रहण बिल से जमींदार, किसान और किसान के साथ जो मजदूर जुड़ा हुआ है, वह मारा जाएगा और जो व्यापारी भूमि पर आधारित है, उनसे उनका रोजगार छीन जाएगा। इस बिल से सबसे बड़ा नुकसान छोटा दुकानदार, मजदूर व किसानों को होगा। पहले ही यूरिया की दिक्कत से प्रदेश के किसान की फसल को बहुत नुकसान हुआ है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने अब तक बासमती के एक्सपोर्ट के बारे में भी कोई कदम नहीं उठाया है। जिससे किसान व व्यापारी वर्ग को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के नए बिल के प्रावधानों के मुताबिक सरकार द्वारा किसी जमीन के लिए अधिग्रहण का नोटिस जारी होने के बाद न तो किसान इसका विरोध कर सकेंगे और न ही 70 प्रतिशत किसानों की सहमति की जरूरत होगी। अब एक बार जमीन लेने के बाद किसी भी सूरत में किसानों को यह भूमि दोबारा नहीं मिलेगी जबकि पूर्व कानून के मुताबिक पांच वर्ष तक निजी कंपनी द्वारा इस भूमि पर काम न शुरू करने पर संबंधित अधिग्रहित भूमि को किसानों को लौटाने का प्रावधान था। बिल में भूमि के मुआवजे के लिए किसी कमेटी के गठन का भी प्रावधान नहीं है। उन्होंने कहा कि नया कानून बनने से सरकार स्वयं निजी कंपनियों के लिए भूमि का अधिग्रहण करेगी। यह बिल किसानों के लिए फंदे के समान है। यह बिल पास होता है इसका सबसे अधिक नुकसान हरियाणा के किसानों को होगा। उन्होंने कहा कि पुराने भूमि अधिग्रहण कानून के मुताबिक किसानों को भूमि अधिग्रहण के विरोधस्वरूप मुआवजा न उठाने व माननीय न्यायालय की शरण लेने का अधिकार था परन्तु इस बिल में मोदी सरकार ने किसानों के इस अधिकार को समाप्त कर दिया है। नए कानून के आने पर सरकार मुआवजा राशि सीधा बैंकों में खाते में जमा करवा देगी। उन्होंने कहा कि इस बिल के मुताबिक किसी भी जमीन के अधिग्रण से होने वाले सामाजिक प्रभाव व उनके नुकसान का जायजा लिया जाने का प्रावधान था परन्तु नए बिल अब ऐसी कोई व्यवस्था नहीं रखी गई है। पारस मित्तल ने कहा कि यह देश कृषि प्रधान है और अगर सरकार को किसानों के हितों को देखते हुए कृषि को बढ़ावा देना है तो वह स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करें। 
जिले के लिए विशेष पैकेज की जाएगी मांग- ढुल


इनेलो विधायक परमेंद्र ढुल ने प्रदेश की भाजपा सरकार को कांग्रेस सरकार के शासन की तर्ज पर कार्य करने का आरोप लगाया है। ढुल ने कहा कि कांग्रेस जिस तरीके से ईमानदार अधिकारियों को तंग करती थी। उसी तर्ज पर अब भाजपा की सरकार भी ईमानदारी से काम करने वाले आईएएस प्रदीप कासनी को बार-बार तबादले करके उन्हें परेशान किया जा रहा है। इसका इनेलो विरोध करती है। ढुल ने कहा कि जींद जिले के साथ कांग्रेस सरकार ने लगातार दस साल तक विकास के मामले में भेदभाव किया और केवल विज्ञापनों के माध्यम से जिले में विकास का दावा किया। कांग्रेस के भेदभाव को झेल रहे जींद जिले को विकास मामले में पिछड़पने को मिटाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर से बिना भेदभाव के कार्य करने की मांग की जाएगी। विधानसभा सत्र के दौरान जींद जिले के विकास के लिए विशेष पैकेज की मांग भी उठाई जाएगी। इस अवसर पर विधायक प्रमेन्द्र सिंह ढुल,पिरथी नम्बरदार,सुबेसिह लोहान,प्रताप लाठर,अजमेर रेढु,महेन्द्र लोधर,विश्वनाथ शर्मा,भुपेन्द्र जुलानी,नरेश भनवाला,मौजीखान,बिजेन्द्र सिंह रेढु,जगदीश गिल,मा० ईश्वर मलिक,बिटटु नैन,शमशेर ढाण्डा,बलराज नगुरा,प्रेम पजेठा,ओम सिह मनोहरपुर,जसमेर रजाना,सतबीर पड़ाना,कृष्णा बधाना,सोनम दहिया,केलो देवी,माया देवी,आनंद लाठर,नंदलाल शर्मा,भले राम श्योकंद,रामकुमार जांगडा,सुभाष सैणी,बलबीर राणा,शमशेर नंगुरा,जगदीप बुआना,रणधीर चहल,सुरेन्द्र अहिरका,कुलबीर चहल,कुलदीप गिल,सुभाष देशवाल,दरबारा देशवाल,राजकुमार डुमरखां,अजमेर श्योकंद,डा० रणबीर राठी,गुरनाम खर्ब,मा० भरतसिंह,अनुराग खटकड़,रमेश जामनी,सत्यनारायण हाट,मदनलाल धानक,सुबेसिंह धतरवाल,कर्मपाल ढुल,सुरेशखान,रमेश कुचराना,संजित मोर,सुरजभान सिहाग,जगबीर मलिक,धर्मराज शर्मा,राजेन्द्र शास्त्री,नफेसिंह मलिक,सोनू गुलिया, सुशील टुर्ण,जिला कार्यालय सचिव गुरदीप सांगवान इत्यादि अनेकों कार्याकर्ता मौजुद थे।
जिले में पार्टी संगठन को और मजबूत  बनाया जाएगा : पटवारी


इनेलो ने पार्टी संगठन में जींद जिले के नेताओं को अहम जिम्मेदारी सौंपी है। पार्टी संगठन के फेरबदल में जिला प्रधान कलीराम को  जिले की बागडोर सौंपी गई है।  इसके करतार सफर को राष्ट्रीय सचिव, रामचन्द्र जागड़ा को पीएसी सदस्य, जींद के विधायक डॉ. हरीचंद मिढ़ा को प्रदेश महासचिव, सुमित्रा देवी को प्रदेश सचिव,बलदेव  बाल्मीकि को अनुसूचित जाति का प्रदेश संयोजक नियुक्त किया गया है। पुर्व विधायक रामफल कुण्डु,सुरजभान काजल एंव प्रदीप गिल को प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य की जिम्मेवारी सौंपी गई है इनके अलावा दयानंद कुण्डु,कवर रामपालराणा,डा० ए के चावला,अशोक गोयल,सुरेन्द्र कालवन  को विशेष आमत्रि सदस्य के पद पर प्रदेश कार्यकारिणी में लिया गया है। पार्टी द्वारा जिले के नेताओं को अहम जिम्मेदारी सौंपने पर सोमवार को यहां पार्टी कार्यालय में एक जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में कार्यकत्र्ताओं ने कलीराम को जिलाप्रधान बनने पर मिठाई खिलाकर बधाई देते हुए फूलों की माला पहनाकर गर्मजोशी के साथ स्वागत कि या। इनेलो के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष कलीराम पटवारी एंव कार्यकत्र्ताओं ने पार्टी सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला, प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा तथा राष्ट्रीय महासचिव अजय सिंह चौटाला,प्रतिपक्ष नेता अभय सिंह चौटाला एंव सांसद दुष्यंत चौटाला  का आभार जताया । जिले की प्रधानगी की कुर्सी संभालने के बाद पटवारी ने कहा कि  पार्टी ने उन पर जो विश्वास जताया है वे उस पर खरा उतरेंगे और पार्टी के लिए पूरे जी-जान से कार्य करेंगे। जिले में इनेलो परिवार को और ज्यादा मजबूत बनाया जाएगा तथा इसके साथ जिले में हर वर्ग से ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ा जाएगा। जिस प्रकार आज किसान,मजदुर,व्यापारी की दुर्दशा भारतीय जनता पार्टी के शासन में हो रही है इससे प्रदेश की जनता को अपने पराये का लगातार पता चलता जा रहा है। 


कलीराम पटवारी ने बताया की आज प्रदेश में किसानो को समय पर न तो खाद मिल रहा है न ही किटनाशक इसके विपरित किसानों को कालाबाजारी का सामना भी करना पड़ रहा है। आज किसान की बहु- बेटियों को खाद के लिए लम्बी लाइनों  में लगना पड़ रहा है। दुसरी और प्रदेश में बुजुर्गों के साथ पैंशन के नाम पर भद्दा मजाक किया जा रहा है। जो 70 वर्षीय बुजुर्ग आसानी से चारपाई पर भी नही बैठ सकता आज उसे आधार कार्ड के नाम पर पेंशन के लिए बैंको के चक्कर काटने पड़ रहे है। प्रदेश में बीजेपी सरकार ने अच्छे दिन लाने के नाम पर प्रत्येक वर्ग के हित के साथ खिलवाड़ किया है। इन सभी मुद्दो के साथ साथ वो जनता के हित के लिए इनेलो कार्यकर्ताओं के साथ पुरजोर आवाज उठाने का काम करेगें।
 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने यूरिया की कालाबाजारी की विस्तृत जांच करवाने की मांग

हरियाणा में यूरिया के लिए महिलाओं को थाने में जाकर पर्ची कटवाने और प्रदेश में यूरिया की कालाबाजारी का मुद्दा आज लोकसभा में गूंजा। इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने रबी के सीजन में हरियाणा में यूरिया संकट का मुद्दा जीरो आवर में उठाया। सांसद दुष्यंत चौटाला ने प्रदेश में यूरिया की कमी और कालाबाजारी को लेकर केंद्र सरकार से विस्तृत जांच करवाने की मांग की है। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने जीरो आवर में यूरिया संकट का मुद्दा उठाते हुए कहा कि केंद्रीय उरवर्क मंत्री ने सदन को बताया था कि देश में 13 लाख मीट्रिक टन यूरिया की मांग है और देश में 23 लाख मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि नवंबर, दिसंबर व जनवरी में जब यूरिया की सबसे ज्यादा जरूरत थी। उन्होंने कहा कि इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि हरियाणा में महिलाओं को यूरिया की पर्ची कटवाने के लिए थाने में जाना पड़ा। रबी के सीजन के लिए दिसंबर माह  हरियाणा में डेढ़ लाख मीट्रक टन यूरिया की जरूरत थी जबकि हरियाणा को केवल 80 लाख मीट्रक टन यूरिया मिला। उन्होंने कहा कि इसका सबसे बड़ा कारण था कि हरियाणा से पंजाब व राजस्थान में यूरिया की कालाबाजारी चरम पर थी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उन्होंने स्वयं ने केंद्रीय उरर्वक व रसायन मंत्री से मिल कर व हरियाणा सरकार से मांग की थी कि प्रदेश में यूरिया की कालाबाजारी रोकी जाए। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एक ओर तो माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हरियाणा की धरती से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरूआत करते हैं वहीं दूसरी ओर हरियाणा में माताओं और बहनों को पुलिस चौकियों में जाकर यूरिया की पर्ची कटवानी पड़ती है, यह एक विडंबना है। उन्होंने केंद्र सरकार से इस मामले की एक विस्तृत जांच करवाने की मांग की है। 
पार्टी के विश्वास पर खरा उतरूंगा - जिलाध्यक्ष बलविन्द्र कैरों


इनेलो नव-निर्वाचित जिलाध्यक्ष एवं जिप पार्षद बलविन्द्र कैरों ने कहा कि संगठन द्वारा सौंपी गई जिला मुखिया के पद की अहम जिम्मेवारी का वे ईमानदारी से निर्वाह करेंगे। बतौर जिलाध्यक्ष उनका मुख्य ध्येय जनहित मुद्दों के समाधान का हरसंभव प्रयास और जिला में इनेलो को जनता की आवाज बुलंद करने वाला एक सशक्त केंद्र बिंदु बनाना रहेगा। वे आज हिसार रोड स्थित एक होटल में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। अपनी नियुक्ति पर उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद रहे प्रदेश प्रवक्ता स. निशान सिंह, विधायक बलवान दौलतपुरिया, प्रो. रविन्द्र बलियाला, पूर्व विधायक रणसिंह बैनीवाल, राष्ट्रीय सचिव युद्धवीर आर्य के अलावा इनेलो सुप्रीमो औमप्रकाश चौटाला, राष्ट्रीय महासचिव अजय चौटाला, प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला का आभार प्रकट किया। 


जिलाध्यक्ष कैरों ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पूर्व और केंद्र में सत्तासीन होने उपरांत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश-प्रदेश की जनता को जो अच्छे दिन लाने जैसे सब्जबाग दिखाए थे, वे पूरी तरह से भाजपा के जनता को दिखाए ख्याली पुलाव ही साबित हुए। उन्होंने दिल्ली चुनाव का हवाला देते हुए कहा कि जिस प्रकार दिल्ली में जनता ने भाजपा के विश्वासघात का करारा जवाब दिया, भाजपा के लिए ठीक उसी प्रकार के हालात हरियाणा में भी बने हुए है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के 100 दिन के कार्यकाल से ही हर वर्ग ऊब चुका है। किसान वर्ग को बीते दिनों जिस प्रकार से खाद के लिए बेहाल होना पड़ा, सड़कों पर उतर आंदोलन करने पड़े, पुलिस की लाठियां तक खाई, उसने स्पष्ट तौर पर भाजपा का असली किसान विरोधी चेहरा उजागर किया। जो भाजपा चुनाव से पूर्व कांग्रेस की जमीन अधीग्रहण नीतियों का विरोध करती थी आज वही भाजपा उसी कांग्रेस के नक्शे कदम पर चलते हुए किसान वर्ग की मातृभूमि को निगलने के अध्यादेश जारी करने में लगी हुई है। कर्मचारी तबका अपने अधिकारों का हनन होते देख सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आंदोलन करने को मजबूर हो चुका है। आलम यह है कि देश-प्रदेश के हजारों कर्मचारी इसी माह भाजपा सरकार की हठधर्मिता देखते हुए गिरफ्तारियां देने जैसा कठोर कदम उठाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि इनेलो ही प्रदेश का एकमात्र ऐसा संगठन है, जो न कभी हार से डरा न कभी जनहित मुद्दों का हल करवाने में किसी बड़े से बड़े आंदोलन से पीछे हटा। जिलाध्यक्ष ने स्पष्ट तौर पर कहा कि प्रदेश भर की भांती जिला फतेहाबाद में भी इनेलो को एक बार फिर सबसे मजबूत जनहितैषी संगठन के रूप में खड़ा किया जाएगा। मेहनती कार्यकर्ताओ को पूरा मान-सम्मान देते हुए उन्हें जनता के बीच जाकर उनकी समस्याओं को हल करवाने के लिए प्रेरित करेंगे। साथ ही रिकार्ड सदस्यों को जोड़ते हुए जिला फतेहाबाद इनेलो संगठन को प्रदेश में अग्रणी रखते हुए पार्टी हाईकमान के विश्वास पर खरा उतरने में भी किसी तरह की कमी नहीं छोड़ी जाएगी। इस अवसर पर कुलजीत $कुलडिय़ा, राजेन्द्र चौधरी काका, सुरेन्द्र लेगा, बिकर ङ्क्षसह हड़ोली, हरि सिंह डांगरा, विद्या रत्ति, सरोज सांगा, मोहनलाल जुनेजा, एडवोकेट सुमनलता सिवाच, बजरंग तरड़, नंद लाल कंबोज, खैरातीलाल छौकरा, होशियार सिंह नहला, हरबंस खन्ना, पवन चुघ, रमेश लाली, राजकुमार मित्तल, रिछपाल बाजिया, बलदेव कसवां,भागीराम सोनी, गुलाब सूंडा, स. मिठू सिंह तेलीवाड़ा, जगदीश नायक, मनोहर नायक, राकेश सिहाग, विकास मेहता, राणा जोहला, अनिल नहला सहित पार्टी के अनेक पदाधिकारी, कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Tuesday, February 24, 2015

भूमि अधिग्रहण बिल किसानो के लिए फंदा - दुष्यंत चौटाला

इनेलो संसदीय दल के नेता सांसद दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व में मंगलवार को लोकसभा में पेश किए गए भूमि अधिग्रहण बिल का कड़ा विरोध करते हुए इनेलो सांसदों ने सदन से वाकआउट किया और कहा कि यह बिल किसानों के लिए फंदे के समान है। उन्होंने कहा कि यदि यह बिल पास होता है इसका सबसे अधिक नुकसान हरियाणा के किसानों को होगा। दुष्यंत चौटाला ने कहा भूमि अधिग्रहण एक काला बिल है और इसे किसी भी कीमत पर पास नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बिल के विरोध में इनेलो अन्य दलों से भी बातचीत करेगी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने मोदी सरकार द्वारा लाए गए भूमि अधिग्रहण अध्यादेश का कड़ा विरोध किया था। सांसद दुष्यंत चौटाला ने महामहिम राष्ट्रपति से मिलकर इसे पारित न करने का ाी अनुरोध किया था तथा माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसके विरोध में पत्र लिखा था। था। इस पत्र के माध्यम से दुष्यंत चौटाला ने केंद्र द्वारा लाए गए अध्यादेश को वापस लाने लेने की मांग की थी। आज जैसे ही लोकसभा में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री ने भूमि अधिग्रहण बिल पेश किया, उसी दौरान सांसद दुष्यंत चौटाला व सिरसा से सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी ने सदन से वाक आउट किया। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री बीरेंद्र सिंह ने आज बिल पेश किया जो कि किसानों से के लिए काले कानून के समान है। उन्होंने कहा कि दीनबंधु सर छोटूराम ने किसानों की जमीन बचाने के लिए और उनका हक दिलवाने के लिए जीवन भर संघर्ष किया जबकि उनके नाती व केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री बीरेंद्र सिंह स्वयं इस काले बिल को सदन में लेकर आए हैं। उन्होंने कहा कि आज सर छोटूराम की आत्मा बड़ी दुखी होगी, उनका जीवन किसानों हो हक दिलवाने की लड़ाई में बीत गया और उनका नाती आज किसानों के लिए स्वयं सदन में भूमि अधिग्रहण बिल के रूप में काला बिल लेकर आए हैं। अब केंद्रीय मंत्री बिरेंद्र सिंह को सर छोटू राम का वारिस कहलवाने का कोई हक नहीं है। युवा दुष्यंत चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार के नए बिल के प्रावधानों के मुताबिक सरकार द्वारा किसी जमीन के लिए अधिग्रहण का नोटिस जारी होने के बाद न तो किसान इसका विरोध कर सकेगें और न ही 70 प्रतिशत किसानों की सहमति की जरूरत होगी। अब एक बार जमीन लेने के बाद किसी भी सूरत में किसानों को यह यह भूमि दोबारा नहीं मिलेगी जबकि पूर्व कानून के मुताबिक पांच वर्ष तक निजी कंपनी द्वारा इस भूमि पर काम न शुरू करने पर संबंधित अधिग्रहित भूमि को किसानों को लौटाने का प्रावधान था। बिल में भूमि के लिए मुआवजे के लिए न किसी कमेटी के गठन का भी प्रावधान नहीं है। उन्होंने कहा कि नया कानून बनने से सरकार स्वयं निजी कंपनियों के लिए भूमि का अधिग्रणह करेगी। उन्होंने कहा कि पहले कृषि योग्य भूमि के अधिग्रणह का प्रावधान नहीं था जबकि नए अध्यादेश में इस प्रावधान को समाप्त कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पुराने भूमि अधिग्रहण कानून के मुताबिक किसानों को भूमि अधिग्रहण के विरोधस्वरूप मुआवजा न उठाने व माननीय न्यायालय की शरण लेने का अधिकार था परन्तु इस बिल में मोदी सरकार ने किसानों के इस अधिकार को समाप्त कर दिया है। नए कानून के आने पर सरकार मुआवजा राशि सीधा बैंकों में खाते में राशि जमा करवा देगी। उन्होंने कहा कि इस बिल के मुताबिक किसी भी जमीन के अधिग्रण से होने वाले नुकसान का जायजा लिया जाता था परन्तु नए बिल अब ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। 

Sunday, February 22, 2015

केंद्रीय भैंस अनुंसधान केंद्र के वैज्ञानिकों ने किया मखंड का दौरा

हिसार लोकसभा क्षेत्र के चयनित आदर्श गांव मखंड में पशुपालन के प्रति ग्रामीणों की रूचि बढ़ाने को लेकर केंद्रीय भैंस अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिकों ने आज गांव का दौरा किया। उनके साथ सांसद दुष्यंत चौटाला भी थे। वैज्ञानिकों की टीम ने शनिवार को ग्रामीणों से बातचीत की और मुर्रांह नस्ल को बढ़ावा देने के लिए जानकारी दी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि गांव मखंड में मार्च माह में छह दिन का पशु जागरूकता शिविर लगेगा जिसके प्रथम चरण में तीन दिन के शिविर महिलाओं को पशुओं से अधिक दूध उत्पादन व विभिन्न बीमारियों से बचाव को लेकर जागरूक किया जाएगा। दूसरे चरण में युवाओं व बुजूर्गों को जागरूक किया जाएगा। 
उन्होंने बताया कि इसके बाद गांव में लाला लाजपतराय पशुपालन एवं चिकित्सा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक भी दौरा करेंगे। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इसके अलावा गेहूं कपास व अन्य फसलों में जैविक खाद को बढ़ावा देने को लेकर भी शिविरों का आयोजन होगा। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक कृषि योग्य भूमि की मिट्टी की जांच कर उनके हिसाब से जैविक खाद के लिए परामर्श देंगे। उन्होंने कहा कि मौजूदा दौर में कृषि लगातार घाटे का सौदा साबित हो रहा है और किसान लगातार कर्ज के मर्ज में मरा जा रहा है। ऐसे में डेरी फार्मिंग किसानों के लिए एक संजीवनी साबित हो सकती है। 
उन्होंने कहा कि हरियाणा की मुर्राह नस्ल ने देश में नहीं बल्कि विदेशों तक अपनी धाक जमाई है। आज दौरे में उनके साथ केंद्रीय भैंस अनुसंधान केंद्र के निदेशक डा. इंद्रजीत सिंह, प्रधान वैज्ञानिक डा. आरके शर्मा, डा. पीसी लायबर, डा. विशाल मुदगिल, डा. अशोक बूरा, डा. राजेश, डा. रामकुमार खर्ब, डा. महावीर खर्ब, इनेलो के हलका सूबे सिंह लोहान, सरपंच प्रतिनिधि खुशीराम, जीवनराम, रमेश कुचराणा, दलबीर खटकड़, बलवान डयोला, कृष्णा बधाना सहित अन्य उपस्थित थे। प्रधान सूबे सिंह लोहान, युवा प्रधान विश्ववीर नंबरदार, 

इनेलो जनता के हितो की आवाज उठाती रहेगी - दुष्यंत चौटाला

सीएम के विपक्ष का काम बोलना है के सवाल के जवाब में सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि विपक्ष का काम जनता की आवाज सदन के बाहर व सदन के अंदर उठाना, सरकार को इसका तार्किक ढंग से जवाब देना व जनता के हित में फैसला करना है। उन्होंने कहा कि यूरिया संकट सरकार की कुप्रबंधन का नतीजा था। उन्होंने कहा कि सरकार व नौकरशाही के बीच तालमेल नहीं है और जनता इसका खामियाजा भुगत रही है। इस अवसर पर सांसद दुष्यंत चौटाला, महिला विंग की शीला भ्याण,पूर्व जिला प्रधान उमेद लोहान, उकलाना के विधायक अनूप धानक, बरवाला के विधायक वेद नारंग सहित अन्य इनेलो नेताओं ने नवनियुक्त जिला प्रधान राजेंद्र लितानी को माला पहना कर उनका अभिनंदन किया। इसके बाद सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोगों की समस्याएं सुनी और कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित किया। इस अवसर पर हरफूल खान भट्टी, प्रहलाद सैनी, होशियार सिंह सिंघरान, राजसिंह मोर, राजीव शर्मा, एडवोकेट मनदीप बिश् नोई, बहादुर सिंह नायक, भागीरथ नंबरदार, सतपाल पालू, राजकुमार सलेमगढ़, यशपाल गोदारा,  ज्जन लावट, अशोक पूनिया, सिल्क पूनिया, अमित बूरा, रवि आहुजा, डा. राजकुमार दिनोदिया, रमेश माटा, रमेश चुघ, राजपाल मांडु, अमित ग्रोवर सहित भारी संख्या कार्यकर्ता उपस्थित थे। 



प्रदेश सरकार ने टोल टैक्स लगाकर जनता पर दोहरी मार मारी,भूमि अधिग्रहण अध्यादेश वापस ले सरकार, - दुष्यंत चौटाला

सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश सरकार की हिसार-तोशाम व तोशाम भिवानी पर टोल टेक्स लगाने की योजना को पूरी तरह से जनता के हितों के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि खानक पहाड़ों को खनन कार्यों के लिए भाजपा सरकार ने खोला नहीं है उपर से इन मार्गों पर टोल टेक्स लगा कर दोहरी मार मार रही है। उन्होंने कहा कि इनेलो इस फैसले का पूरी तरह से विरोध करेगी।
भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के मुद्दे पर सांसद ने कहा कि महामहिम राष्ट्रपति भी इसके विरोध में टिप्पणी कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि यह अध्यादेश किसान व कमेरे वर्ग के खिलाफ व पूंजीपतियों के हक में है, इसलिए इनेलो लोकसभा व राज्यसभा में इस बिल का विरोध करेगी। उन्होंने मांग की कि मोदी सरकार इस अध्यादेश को वापस ले और सदन में इस पर कोई बिल भी न लाए।


रेल बजट में नई रेल लाइन,ओवर ब्रिज और अंडर ब्रिज बनाने की मांग करूंगा - दुष्यंत चौटाला 

संसद के बजट सत्र शुरू होने के पांच दिन बाद आने वाले रेल बजट को लेकर युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि बजट से पूर्व ही इनेलो ने उकलाना-नरवाना व हांसी जींद के बीच नई रेलवे लाइन बिछाने व हिसार संसदीय क्षेत्र में 12 रेलवे ओवरब्रिज व 18 अंडर ब्रिज बनाने की मांग को पुरजोर तरीके से उठाया है। इस संबंध में वे केंद्रीय रेलमंत्री सहित रेलवे के महाप्रबंधक सहित अन्य अधिकारियों को पत्र लिख चुके हैं। उन्हें उम्मीद है कि आगामी रेल बजट में उनकी इन मांगों को शामिल किया जाएगा। 



स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करवाने के लिए देश-भर के किसान लामबंध हों-दुष्यंत चौटाला

चुनावों से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने  30 चुनावी रैलियों में किसानों को स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करवाने का भरोसा दिया था परन्तु सत्ता में आते ही अब भाजपा अपने वायदे से पीछे हट रही है। ऐसे में जरूरी हो गया है कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करवाने के लिए देश भर के किसान लामबंद होकर मोदी सरकार पर दबाव बनाएं। यह बात सांसद दुष्यंत चौटाला ने कही। वे पार्टी कार्यालय में नवनियुक्त जिला प्रधान राजेंद्र लितानी के पदभार संभालने के अवसर पर आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश के कृषिमंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने विपक्ष में रहते हुए प्रदेश में पदयात्रा तक निकाली थी। परन्तु केंद्र व प्रदेश में भाजपा के सत्ता में आने के बाद श्री धनखड़  तरह-तरह के बयान देकर अपने जिम्मेवारी से भाग रहे हैं। 


Friday, February 20, 2015

बदरूद्दीन मेवात के इनेलो जिला अध्यक्ष चौथी बार नियुक्त                             

इनेलो के कर्मट नेता बदरूद्दीन को मेवात का फिर से इनेलो का चौथी बार जिला अध्यक्ष बनाया गया है। इनकी नियुक्ति पर जिले के सभी नेताओ ने खुशी जताते हुए मिठाई बांटी।
 गौरतलब है कि शुक्रवार को अखबारों में इनेलो आलाकमान द्वारा जिला अध्यक्षों की लिस्ट जारी की गई  है। जिसमें मेवात से झुझारू नेता बदरूद्दीन को मेवात का फिर से इनेलो का चौथी बार जिला अध्यक्ष बनाया गया है। जिला प्रवक्ता राहुल जैन ने बताया कि इनेलो नेता बदरूद्दीन की सराहनीय कार्यशैली को देखते हुए इनेलो सुप्रिमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला व प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोडा ने दोबारा उनको पार्टी की सेवा का मोैका दिया है। वे इनेलो सुप्रिमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला जी का नजदीकी व विश्सवसनीय है। इसके अलावा जिलाध्यक्ष बदरूद्दीन के कुशल व सफल नेतृत्व में जिला मेवात मे इनेलो पार्टी अपना परचम लहराने मे सफल हुई है। उनकी नियुक्ति पर  नूंह विधायक जाकिर हुसैन, फिरोजपुर झिरका विधायक  नसीम अहमद, पूर्व मंत्री मोहम्मद इल्यास, हरीश मलिक, योगेश शर्मा हिलालपुर, एडवोकेट राहुल जैन, आसमोहम्मद सालाहेडी, सुबराती खान, गणेशदास अरोडा, सरोज, मिठ्ठन भारद्वाज, इब्राहिम पहलवान, एडवोकेट हितेश देशवाल, धर्मवीर जैन,शिराजूद्दीन मीणा, डा0 हामीद, धर्मपाल उजीना, अकबर शाह, जमील मालब,  नासिर खान इत्यादि ने इनेलो सुप्रिमो चौ० ओमप्रकाश चौटाला, इनेलो प्रधान महासचिव अजेय सिह चौटाला, विधायक अभय सिंह चौटाला तथा प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोडा का आभार जताया है, साथ ही मिठाई बांट कर धन्यवाद व आभार भी व्यक्त किया ।

इनेलो हाईकमान ने जींद जिले के नेताओं को सौपी कई अहम जिम्मेदारियां

जिला कार्यालय सचिव गुरदीप सांगवान ने बताया की  इनेलो हाईकमान ने पार्टी संगठन में जींद जिले के कार्यकर्ताओं का अहम जिम्मेदारी सौंपी है पार्टी संगठन में जिलाप्रधान के पद पर कलीराम पटवारी पुर्व विधायक सफिदों को सौपी है। करतार सिंह सफर को राष्ट्रीय सचिव,रामचन्द्र जागड़ा को पीएसी सदस्य, जींद के विधायक डॉ. हरीचंद मिढ़ा को प्रदेश महासचिव, सुमित्रा देवी को प्रदेश सचिव,बलदेव  बाल्मीकि को अनुसूचित जाति का प्रदेश संयोजक नियुक्त किया गया है। प्रदीप गिल को प्रदेश कार्यकारिणी  सदस्य नियुक्त किया है। दयानंद कुंडु पिल्लुखेड़ा,डा० अविनाश चावला पुर्व वीसी,एडवोकेट कंवर रामपाल सिंह राणा,अशोक गोयल,सुरेन्द्र नैन कालवन को प्रदेश कार्यकारिणी में विशेष आमंत्रि सदस्य नियुक्त किया गया है। 
 सांगवान ने बताया की आगामी 25 फरवरी बुधवार को जिला पार्टी कार्यालय जींद में 11 बजे जिलास्तरीय कार्यकर्ता बैैैठक होगी जिसमें उपरोक्त नवनियुक्त पदाधिकारियों का स्वागत कर इनेलो पार्टी हाईकमान का आभार व्यक्त किया जाएगा। बैठक में हलको के विधायक,पुर्व विधायक एंव पदाधिकारियों सहित जिला के सभी हल्को से ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ता उपस्थित होगें। 

Thursday, February 19, 2015

जनहित के मुद्दे जोरदार तरीके से सदन में उठाएगी इनेलो: अभय चौटाला


इनेेलो विधायक दल की गुरुवार को चंडीगढ़ में हुई बैठक में आने वाले बजट सत्र को लेकर पार्टी की रणनीति बनाई गई और जनहित से जुड़े मुद्दों को सदन में जोरदार तरीके से उठाने के विषय पर व्यापक विचारविमर्श हुआ। बैठक की अध्यक्षता इनेलो विधायक दल के नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने की। बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए अभय सिंह चौटाला ने कहा कि 5 व 6 फरवरी को होली व फाग का दिन है इसलिए उनकी पार्टी स्पीकर से आग्रह करेगी कि होली-दिवाली हर व्यक्ति परिवार के साथ मनाना चाहता है इसलिए विधानसभा का सत्र 4 फरवरी से या फिर छह से आठ की छुट्टी के बाद नौ फरवरी से शुरू किया जाए ताकि सभी विधायक त्यौहार अपने परिवार के साथ रहकर मना सकें। उन्होंने कहा कि इनेलो चाहेगी कि आगामी बजट सत्र में भाजपा सरकार चुनाव में लोगों के साथ किए गए अपने सभी चुनावी वायदे पूरे करते हुए बजट में उनके लिए व्यापक प्रावधान करें और लोगों पर पेट्रोल व डीजल पर वैट मेें बढ़ौतरी करके डाला गया आर्थिक बोझ वापिस लिया जाए। उन्होंने कहा कि इनेलो ने सरकार को लोगों से किए वायदे पूरे करने के लिए समय दिया था और अब सरकार के लिए आगामी बजट में वादे पूरे करके दिखाने का समय आ गया है।


चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि वे सरकार से विधानसभा में यह भी पूछेंगे कि कांग्रेस सरकार के घपलों, घोटालों व भ्रष्टाचार के मामलों में अब तक मौजूदा सरकार में क्या कदम उठाए हैं, क्योंकि पिछले विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री ने सदन में ये भरोसा दिया था कि वे वाड्रा सहित उन सभी मामलों की जांच करवाएगी जो सरकार के संज्ञान में लाए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बिजली-पानी संकट और विभिन्न विधायकों के हलके की समस्याओं को उठाने के साथ-साथ वे भाजपा सरकार के चुनावी घोषणा पत्र के सभी मुद्दों को अविलम्ब पूरा किए जाने की मांग करेंगे। इनेलो विधायक दल की बैठक में अभय चौटाला के अलावा विधायक दल के उपनेता जसविंद्र संधु, प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, पूर्व सीपीएस रामपाल माजरा के अलावा विधायक रणबीर गंगवा, नसीम अहमद, जाकिर हुसैन, मक्खन लाल सिंगला, बलवान दौलत पुरिया, राजबीर फोगाट, अनूप धानक, वेद नारंग, प्रो. रविंद्र बलियाला, पिरथी नम्बरदार, डॉ. हरिचंद मिड्डा, रामचंद्र कम्बोज, ओमप्रकाश लोहारू, केहर सिंह रावत,नगेंद्र भड़ाना, परमिंद्र ढुल, बलकौर सिंह कालांवाली के अलावा इनेलो नेता आरएस चौधरी, बीडी ढालिया, एमएस मलिक, राम सिंह बराड़, एनएस मल्हान व प्रवीन आत्रेय शामिल थे।


नेता प्रतिपक्ष ने सवालों के जवाब में कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की जीत से एक बात पूरी तरह साफ हो गई है कि देश की जनता कांग्रेस व भाजपा दोनों को पसंद नहीं करती और जहां पर भी उन्हें ठोस एवं मजबूत तीसरा विकल्प उपलब्ध होता है तो उसकी तरफ जाती है। उन्होंने सरकार द्वारा एसवाईएल को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर किए जाने के मुद्दे पर हो रही बयानबाजी पर कहा कि हमने  तो पिछले विस सत्र में ही कहा था कि एसवाईएल पूरी करने के लिए विस में दो लाइन का सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित करके केंद्र के पास भेजा जाए और केंद्र से आग्रह किया जाए कि इसे तुरंत मुकम्मल करवाया जाए। उन्होंने कहा कि एसवाईएल को लेकर सर्र्वाेच्च न्यायालय का फैसला पहले ही हरियाणा के पक्ष में आ चुका है और उस फैसले में नहर को पूरा करवाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। इस फैसले पर किसी भी अदालत का कहीं कोई स्थगन आदेश नहीं है तो ऐसे में हरियाणा की भाजपा सरकार को केंद्र की भाजपा सरकार से इस नहर का निर्माण अविलम्ब पूरा करवाना चाहिए।
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण कानून को लेकर जो अध्यादेश लाया गया है वे पूरी तरह से किसान विरोधी है और इनेलो संसद व विस में हर जगह इसका विरोध करेगी। सवालों के जवाब में इनेलो नेता ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर तीसरा मोर्चा जरूर बनेगा और इनेलो जनता दल परिवार को एकजुट करने में अग्रणी भूमिका निभाएगी। उन्होंने कहा कि जनता दल का गठन चौधरी देवीलाल ने किया था और इनेलो पूरी तरह से चौधरी देवीलाल के विचारों की पार्टी है। उन्होंने कहा कि कोई भी परिवार जब बिखरता है तो एकजुट करने में समय लग जाता है तो लेकिन यह एकजुट जरूर होगा। विवादास्पद एमएसजी पर पूछे गए सवालों पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि एक तरफ बाबा अपने आपको संत कहता है और दूसरी तरफ फिल्म बनाकर उस फिल्म में अपने आपको भगवान के रूप में प्रस्तुत करता है तो इससे समाज में कटुता पैदा हो रही है और इसीलिए इनेलो ने फिल्म का विरोध किया है।
आम आदमी पार्टी द्वारा हरियाणा में अपनी गतिविधियां तेज किए जाने को लेकर पूछे गए सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि लोकतंत्र में सभी को चुनाव लडऩे और अपनी बात कहने का पूरा अधिकार है। आम आदमी पार्टी ने पिछली बार हरियाणा की सभी दस सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ा था और आप पार्टी की सभी दस सीटों पर जमानत जब्त हो गई थी।
इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी का गठन, अशोक अरोड़ा को मिली फिर से अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी

इनेेलो राज्य कार्यकारिणी का पुनर्गठन करते हुए पूर्व परिवहन मंत्री अशोक अरोड़ा को पांचवीं बार फिर से प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई है। पार्टी प्रदेश कार्यकारिणी के नए पदाधिकारियों की घोषणा इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला व अशोक अरोड़ा ने गुरुवार को चंडीगढ़ में की। उन्होंने बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी ओमप्रकाश चौटाला से विचार-विमर्श करके नई कार्यकारिणी का गठन किया गया है। इसमें कुछ नए संघर्षशील व जुझारू साथियों को जिम्मेदारी दिए जाने के साथ-साथ कुछ पुराने पदाधिकारियों को भी बरकरार रखा गया है। उन्होंने बताया कि पूर्व सांसद डॉ. अजय सिंह चौटाला को फिर से पार्टी का प्रदेश प्रधान महासचिव नियुक्त किया गया है। इसके अलावा पूर्व मंत्री जसविंदर सिंह संधू, सतवीर वर्मा, रामभगत गुप्ता, ओमप्रकाश माटा व राजिंद्र बिसला को प्रदेश उपाध्यक्ष, रामकुमार सैनी, अशोक शेरवाल, डॉ. हरिचंद मिड्डा, बूटा सिंह लुखी व ईश्वर पलाका को महासचिव, श्रीमती सुमित्रा देवी, डॉ. अशोक कश्यप, बलदेव सिंह घनघस, रामकुमार ऐबला व महेंद्र सिंह चौहान को सचिव नियुक्त किया गया है। इनेलो नेताओं ने बताया कि पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा को पार्टी का संगठन सचिव, निशान सिंह को प्रदेश प्रवक्ता, राजकुमार रिढाऊ को प्रचार सचिव, पारस मित्तल को खजांची, डॉ. दलबीर भारती को पार्टी नीति एवं कार्यक्रम कमेटी का अध्यक्ष, शेर सिंह बडशामी को पार्टी अनुशासन कमेटी का अध्यक्ष व नछत्तर सिंह मल्हान को पार्टी के कार्यालय सचिव की जिम्मेदारी दी गई है।


चौधरी अभय सिंह चौटाला व अशोक अरोड़ा ने बताया कि राम सिंह बराड़ पार्टी का फिर से चीफ मीडिया को-ऑर्डिनेटर नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि श्री गुरविंद्र तेजली यमुनानगर को इनेलो युवा प्रकोष्ठ, तेलू राम जोगी को पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ, पूर्व मंत्री सुभाष गोयल को व्यापार प्रकोष्ठ, बलदेव बाल्मीकि को अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ, जाहिद खान को अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ और श्रीमती शीला भ्यान को महिला प्रकोष्ठ का प्रदेश संयोजक नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि पार्टी के कर्मचारी प्रकोष्ठ व पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ को इकठ्ठा कर दिया गया है और ब्रिगेडियर ओपी चौधरी इस प्रकोष्ठ के संयोजक व धारा सिंह अध्यक्ष होंगे। पार्टी की ओर से नए नियुक्त किए गए जिलाध्यक्षों में प्रदीप चौधरी को पंचकूला, शीशपाल को अम्बाला, कुलदीप सिंह लबाणा को कुरुक्षेत्र, कंवरपाल शर्मा को कैथल, कलीराम को जींद, बलविंद्र सिंह भुना को फतेहाबाद, पदम जैन को सिरसा, सुनील लाम्बा को भिवानी, राजिंद्र सिंह लितानी को हिसार, सतवीर यादव को महेंद्रगढ़, गंगा राम को गुडग़ांव, प्रवेश मेहता को फरीदाबाद, सतीश नांदल रोहतक, कर्मवीर राठी झज्जर, पदम दहिया सोनीपत, सुरेश मित्तल पानीपत, यशवीर राणा करनाल, बिशनलाल सैनी यमुनानगर, बद्रुद्दीन मेवात, अजीत सिंह बॉबी पलवल, और सुनील यादव को इनेलो जिला रेवाड़ी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।पूर्व मंत्री जगदीश यादव, सुरेंद्र मदान, सतबीर कादियान, पूर्ण सिंह डाबड़ा, भागीराम, धर्मपाल ओबरा, डॉ. मलिक चंद गम्भीर, रण सिंह बेनिवाल, डॉ. सीता राम, रमेश खटक, रामजीलाल डागर, मेहर सिंह सैनी, सुंदरलाल सेठी, राव होशियार सिंह, जयप्रकाश कम्बोज, धर्मवीर सिहाग, माया राम, हरफूल खान भट्टी, बलवान सुहाग, कंवरजीत प्रिंस, राजिंद्र गोयल, जगमाल सिंह रोला, अनीता गोस्वामी, जसवीर सिंह जस्सा, धर्मपाल मकडौली, महेश चौहान, बलदेव सिंह बड़ैच, वजीर सिह खरकड़ा, जयप्रकाश हुड्डा, जोगीराम एसई, विद्यानंद लाम्बा, बहादुर सिंह नायक, प्रदीप गिल, बाबूराम गुप्ता, कैलाश भगत, राव बहादुर सिंह, नगेंद्र सिंह भड़ाना, सतपाल पहलवान, मदन लाल गुज्जर व राज सिंह गागड़वास को पार्टी प्रदेश कार्यकारिणी का सदस्य नियुक्त किया गया है। इसके अलावा पार्टी के सभी मौजूदा सांसद, विधायक, पूर्व विधायक व जिला परिषद के चेयरमैन पदेन पार्टी कार्यकारिणी के सदस्य होंगे। 
राज्यकारिणी के विशेष आमंत्रित सदस्यों में सुरेश कांसल, ईश्वर सिंह पूजम, कुलजीत कुलडिय़ा, सुरजीत सिंह सोंडा, रविंद्र बतौड़, उमराव सिंह शेरगिल, प्रहलाद शर्मा, शिव कुमार गुप्ता, सतीश यादव, रामपाल राणा, अशोक गोयल लीलू, पन्नालाल जैन, सुशील शर्मा, सतीश भलोट, भाना राम सैनी, डॉ. केसी काजल, हवा सिंह धनखड़, धर्मपाल छोत, मलखान सिंह कलसी, कृष्ण राणा, मखन सिंह लबाणा, रूप चंद लाम्बा, सम्मी सोंडा, नित्यानंद होडल, मनोज कम्बोज, दुर्गाप्रसाद मिश्रा, सुरेंद्र नैन, दयानंद कुंडु, अनिवाश चावला, तैयब हुसैन घासेडिय़ां, नरेश जैन, रणबीर दहिया, किरपाल सिंह अरोड़ा, महेंद्र सिंह लाकड़ा, आरडी मारडा, ईश्वर नारा, ईश्वर महला, आरएस हुड्डा, इंद्र सिंह ढुल, जयभगवान कश्यप, रमेश दहिया, कुलदीप मलिक, सुरेंद्र रोड व तूही राम भारद्वाज शामिल हैं। पार्टी की राजनीतिक मामलों की कमेटी में चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के अलावा अशोक अरोड़ा, डॉ. अजय सिंह चौटाला, अभय सिंह चौटाला, रणबीर सिंह प्रजापत, शेर सिंह बडशामी, जसविंद्र सिंह संधू, गोपीचंद गहलोत, सुभाष गोयल, मोहम्मद इलियास, डॉ. केसी बांगड़, डॉ. रामचंद्र जांगड़ा, प्रदीप चौधरी, एमएस मलिक, आरएस चौधरी, बीडी ढालिया, बनारसी दास, सरोज मोर व अश्विनी दत्ता शामिल हैं। उन्होंने बताया कि विभिन्न चैनलों पर पार्टी की ओर से इनेलो का पक्ष रखने के लिए आरएस चौधरी, एमएस मलिक, अशोक शेरवाल, प्रवीन आत्रेय, गोपीचंद गहलोत व रवि शर्मा महमिया को पार्टी प्रवक्ता की जिम्मेदारी सौंपी गई है।


चौधरी अभय सिंह चौटाला व अशोक अरोड़ा ने बताया कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की अध्यक्षता में गठित पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में कोई बदलाव नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि पहले की तरह साधु राम चौधरी, नारायण प्रसाद अग्रवाल, अनंत राम तंवर, कुमारी फूलवती व केएल शर्मा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, आरएस चौधरी प्रधान महासचिव, रमेश गर्ग, देवेंद्र चौहान, बृज शर्मा, कैप्टन इंद्र सिंह राष्ट्रीय महासचिव, राव कंवर सिंह कलमाड़ी, युद्धवीर आर्य, छत्तर सिंह, बलवान सिंह मायना, करतार सिंह सफर, राष्ट्रीय सचिव, डॉ. केसी बांगड़ राष्ट्रीय प्रवक्ता व दीपचंद गोयल राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष पद पर बने रहेंगे।  उन्होंने बताया कि पार्टी के संसदीय बोर्ड में चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के अलावा श्री अशोक अरोड़ा, नंदलाल चौधरी, डॉ. केसी बांगड़, बीडी ढालिया, श्रीमती अंजु सिंह व कमल नागपाल शामिल हैं। पार्टी के प्रदेश अध्यक्षों में अशोक अरोड़ा हरियाणा के अलावा महेंद्र सिंह प्रधान उत्तरप्रदेश, मोतीलाल मध्यप्रदेश व पूर्व विधायक भरत सिंह दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष पद पर बने हुए हैं।
गुडग़ांव में लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड द्वारा देश के युवा सांसद दुष्यंत को किया गया सम्मानित

देश के सबसे युवा सांसद के तौर पर लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवा चुके हिसार के इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला को आज कोका कोला इंडिया कंपनी द्वारा गुडग़ांव में आयोजित एक कार्यक्रम में सर्टिफिकेट व रिकॉर्ड बुक 2015 की कॉपी देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर कोका कोला एशिया के वाईस प्रेसिडेंट दीपक जॉली व लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड की एडिटर विजया घोष द्वारा सांसद दुष्यंत चौटाला को सम्मानित किया। कोका कोला इंडिया के लीगल सेल के हेड गुलशन कालरा ने बताया कि दुष्यंत चौटाला न सिर्फ  इस बार बल्कि अब तक के इतिहास में सबसे युवा सांसद हैं। इस मौके पर मीडिया को संबोधित करते हुए सांसद दुष्यंत चौटाला ने इसे पूरे हिसार के लिए एक सम्मान का विषय बताया और कहा कि वे अपने सांसद कार्यकाल में युवाओं पर विशेष ध्यान दिए जाने पर जोर देंगे और उनकी आवाज संसद में रखने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि देश के युवाओं को उनसे बहुत उम्मीदें हैं और वे देश व प्रदेश के युवाओं के साथ-साथ हिसार के लोगों की उम्मीदों पर भी खरा उतरेंगे।

Tuesday, February 17, 2015

भूना मुंशी आत्महत्या मामले में एमएलए ने की एसपी से मुलाकात, निष्पक्ष जांच की मांग

इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने भूना एएसआई लालचंद द्वारा कीटनाशक पीकर आत्महत्या किए जाने के मामले में एसपी संगीता कालिया से उनके लघु सचिवालय स्थित कार्यालय में मुलाकात की। इस दौरान एमएलए दौलतपुरिया ने पूरे मामले में अब तक नामजद किए गए आरोपियों में निर्दोष लोगों के नाम भी शामिल किए जाने पर कड़ी आपत्ती दर्ज करवाई। साथ ही एसपी से आग्रह किया कि वे इस मामले में निष्पक्ष जांच करते हुए निर्दोश लोगों को न्याय दिलाने का काम करें। एसपी संगीता कालिया ने विधायक को आश्वस्त किया कि पूरे मामले में जांच को लेकर पुलिस गंभीर है और टीमें बनाकर एक-एक तथ्य को खंगाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि मामले में यदि कोई निर्दोष लोगों पर दर्ज हुआ है तो इसकी भी निष्पक्ष जांच करवाकर उनके साथ न्याय किया जाएगा और यदि कोई कसूरवार होता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई जरूर होगी। बातचीत उपरांत विधायक दौलतपुरिया ने स्पष्ट किया कि यदि मामले में नामजद निर्दोष लोगों पर किसी तरह की दंडात्मक कार्रवाई होती है तो इस मामले में इनेलो निर्दोष लोगों के साथ खड़ी होगी और पुलिस की कार्रवाई का डटकर विरोध करते हुए आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि पुलिस से निर्दोष लोगों को न्याय जरूर मिलेगा।
प्रिंट मीडिया का भविष्य चुनौतियां भरा:दुष्यंत चौटाला


भारतीय संसद में सबसे युवा इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि टीवी चैनलों में लगातार बढ़ रही प्रतिस्पर्धा एवं बहुतायत के चलते प्रिंट मीडिया के समक्ष आने वाले समय में ढेरों चुनौतियां होंगी। इन चुनौतियों से निपटने के लिए मीडिया को एकजुटता से प्रयास करने होंगे।
दुष्यंत चौटाला कल कुरूक्षेत्र में इंडियन जर्नलिस्ट्स यूनियन के आठवें वार्षिक डैलीगेट सम्मेलन के तीसरे दिन आयोजित सत्र में बतौर मुख्य वक्ता भाग लेकर देश के 24 राज्यों से आए हुए पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से पत्रकारिता के मूल्यों में गिरावट आई है। आज पत्रकारिता का क्षेत्र पेड न्यूज और राजनीति का शिकार है। फील्ड में काम करने वाले पत्रकारों के पास आज कलम तो है लेकिन उन्हें अपनी बात को सही तरीके से जनता के समक्ष पहुंचाने की आजादी नहीं है। यह गंभीर चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि मीडिया व राजनीति एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। अगर यह दोनों मिलकर काम करें तो समाज को नई दिशा प्रदान कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि आज के दौर में पत्रकारिता की विश्वसनियता पर सवालिया निशान लग रहा है। आज फील्ड में काम करने वाले पत्रकार डैस्क के दबाव में है। मौजूदा परिवेश में पत्रकारों को न केवल पत्रकारिता बल्कि हिंदी भाषा में परिवक्ता लाने की जरूरत है। वर्किंग जर्नलिस्ट एक्ट में संशोधन की वकालत करते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जब तक पत्रकारिता रोचक नहीं बनेगी और तथ्यों पर आधारित नहीं होगी तब तक प्रिंट मीडिया का भविष्य सुरक्षित नहीं होगा। 
दुष्यंत चौटाला ने आईजेयू के नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष केबी पंडित को इस नियुक्ति पर बधाई देते हुए वह पत्रकारों के हितों के लिए हर संभव मदद करने का प्रयास करेंगे। इस अवसर पर बोलते हुए आईजेयू के नवनिर्वाचित अध्यक्ष के.बी. पंडित ने कहा कि देश के 24 राज्यों में इस समय आईजेयू की शाखाएं चल रही हैं। आईजेयू के साथ इस समय देश में 15000 से अधिक सदस्य जुड़े हुए हैं। इस अवसर पर राजेश शांडिल्य, राजीव अरोडा, आईजेयू के निवर्तमान अध्यक्ष सुरेश अखोरी, बीआर प्रजापति, जी प्रभाकरन के अलावा विभिन्न राज्यों से आए हुए प्रदेशाध्यक्ष व पत्रकार प्रतिनिधि मौजूद थे।

Sunday, February 15, 2015

कबड्डी मैच प्रतियोगिता में पहुंचे इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला


खेलो का जीवन में अहम स्थान होता है और खेल की भावना से ही व्यक्ति में उर्जा का संचार होता है हरियाणा में कबड्डी खेलो के प्रति विशेष झुकाव रहा है जिसके बूते पर आज हरियाणा प्रदेश के खिलाड़ी राष्ट्रिय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपनी अटूट पहचान बना चुके हैं खेलों से जुड़ा व्यक्ति केवल परिवार तक सिमित नही होता है उस खिलाड़ी से उसके जिले की ही नही अपितु प्रदेश व देश की पहचान होती है। उक्त विचार इनेलो के युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज महम हल्के के खंड लाखन माजरा में आयोजित एक दिवसीय स्टेट चैंपियनशिप कबड्डी प्रतियोगिता में बतौर मुख्यातिथि बोलते हुए कहे। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा की कबड्डी हरियाणा की पहचान है और इसको खेलने वाले खिलाडियों को स्कूल स्तर पर ही बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध करवानी चाहिए जिससे प्रदेश में बेहतरीन खिलाडियों की फ़ौज तैयार हो सके। 



प्रतियोगिता में विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रदेश प्रवक्ता व जिलाध्यक्ष सतीश नांदल ने भी विजेता खिलाडियों को सम्बोधित करते हुए कहा की समय समय पर ऐसे आयोजन होने चाहिए जिससे गांव में छुपी हुई प्रतिभा को पहचाना जा सके उन्होंने कहा की इनेलो पार्टी सदेव इस बात की पक्षधर रही है कि खिलाडियों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।
प्रतियोगिता के आयोजक एवं लाखन माजरा के सरपंच कुल्फी पहलवान ने बताया की रोहतक की टीम पहले स्थान पर चुनी गयी और महम चौबीसी को दुसरा स्थान व जींद की टीम को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है। 
इस अवसर पर कुल्फी पहलवानए सत्यप्रकाश बिसलाए बलराम मकड़ोलीए प्रताप मदीनाए वेद भरानए नसीबए नरेन्द्र सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

Friday, February 13, 2015

एमएसजी के खिलाफ प्रदेशभर में इनेलो कार्यकर्ताओं ने किया विरोध प्रदर्शन, रोक लगाने की मांग की


इनेलो कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों के साथ-साथ पार्टी के छात्र संगठन इनसो के कार्यकर्ताओं ने भी शुक्रवार को प्रदेशभर में डेरा सच्चा सौदा के विवादित बाबा की फिल्म एमएसजी का जोरदार विरोध करते हुए धरने-प्रदर्शन दिए और प्रशासन के माध्यम से ज्ञापन देकर समाज में कटुता पैदा करने वाली और आपराधिक छवि के बाबा को तथाकथित भगवान का दूत दर्शाने वाली फिल्म पर तुरंत रोक लगाए जाने की मांग की गई। इनेलो नेताओं ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन करते हुए कहा कि हत्या, बलात्कार व अन्य गम्भीर आपराधिक मामलों में आरोपी बाबा द्वारा न सिर्फ इस फिल्म के माध्यम से काले धन को सफेद करने का प्रयास किया जा रहा है बल्कि वे अपने आपको भगवान का दूत बताकर समाज में कटुता पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं। समाज के विभिन्न वर्ग आर्य समाज, सिख समाज के अलावा अन्य अनेक सामाजिक, धार्मिक व राजनीतिक संगठन बाबा की इस विवादास्पद फिल्म पर तुरंत रोक लगाए जाने की मांग कर रहे हैं। विभिन्न धर्मों के नेताओं का कहना है कि फिल्म के माध्यम से बाबा ने धर्म का मखौल उड़ाने का प्रयास किया है। आज सिरसा में इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला सहित सैकड़ों इनेलो कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया और गुडग़ांव सहित कई स्थानों पर इनेलो कार्यकर्ताओं को शांतिपूर्वक विरोध करते हुए पुलिस ने गिरफ्तार किया।
MSG फिल्म के विरोध में सैंकड़ो कार्यकर्ताओ ने दी गिरफ्तारियां 

सिरसा में विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व इनेलो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने किया और बाबा की फिल्म का विरोध करते हुए गिरफ्तारियां दी। इस अवसर पर पूर्व मंत्री भागीराम सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता मौजूद थे। प्रदर्शनकारियों ने काली पट्टियां बांध रखी थी। सिख समाज की ओर से संत बलजीत सिंह दादुवाल ने भी फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए इस पर तुरंत रोक लगाए जाने की मांग की। 
गुडग़ांव में प्रदर्शन का नेतृत्व इनेलो नेता अनंत राम तंवर, दलबीर धनखड़, दिनेश अग्रवाल, रमेश दहिया सहित अनेक नेताओं ने किया और पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करते हुए उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इनेलो नेताओं ने पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किए जाने व कार्यकर्ताओं को घसीटकर गाडिय़ों में डालने की कड़ी निंदा करते हुए सरकार की तीखी आलोचना की। इनेलो कार्यकर्ता एमजीएफ मॉल के बाहर फिल्म को लेकर विरोध जता रहे थे।
जींद में इनेलो कार्यकर्ताओ ने MSG फिल्म पर रोक लगाने के लिए सौंपा ज्ञापन 

जींद में इनेलो कार्यकर्ताओं ने बाबा की विवादित फिल्म एमएसजी पर रोक लगाए जाने को लेकर प्रदर्शन किया और प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर जसमेर रजाणा, अमित खटकड़, सुशील टुर्ण, अनिरुद्ध खटकड़ व गुरदीप सांगवान सहित अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे। सोनीपत में भी इनेलो कार्यकर्ताओं ने कुलदीप मलिक व सतपाल गोयल के नेतृत्व में एमएसजी के खिलाफ विरोध किया और फिल्म पर रोक लगाए जाने की मांग की। इस मौके पर पूर्व मन्त्री वेद मलिक, तेलुराम जोगी, पद्म सिंह दहिया, सुरेन्द्र दहिया, राजकुमार रिढाउ, जौनी लठवाल, रामफल चिढाना, रामकुवार सैनी, रमेश खटक, महेन्द्र सैनी,रामकिशन तुषीर, राजपाल भटगोव, कपूर नरवाल, भानेराम, इन्द्रजीत दहिया, बबिता दहिया, प्रोमिला मलिक, हरिप्रकाश मण्डल, सुरेन्द्र, राकेश, नरेश मलिक, सुरजीत ठकेदार, आदि मौजूद थे। इनेलो कार्यकर्ताओं की ओर से फरीदाबाद, मेवात, कैथल, अम्बाला, पलवल, रेवाड़ी व महेंद्रगढ़ सहित प्रदेश के सभी प्रमुख शहरों व कस्बों में फिल्म के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए सरकार से इस पर तुरंत रोक लगाए जाने की मांग की।
भिवानी में इनेलो और इनसो ने MSG फिल्म के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन



भिवानी में इनेलो व इनसो कार्यकर्ताओं ने जिला प्रधान सुनील लाम्बा, विधायक राजदीप फोगाट, पूर्व विधायक रघुबीर सिंह छिल्लर, विधायक ओमप्रकाश गोरा व इनसो जिलाध्यक्ष सुरेंद्र राठी के नेतृत्व में प्रदर्शन किया और विवादित बाबा की फिल्म पर रोक लगाने की मांग की। इस अवसर पर बदलेव सिंह घणघस, दया भुरटाना,   सुरेंद्र राठी, पूनीत मस्ता, जितेंद्र शर्मा, कुलवंत कोटिया, दिनेश उमरावत, राजू मेहरा, सूरज भान एसडीओ, लीलाराम डोहकी, भोम ङ्क्षसह, सतलपाल सरपंच, राम कुमार मित्ताथल, शिव कुमार खरक, बिटटू शर्मा व भारी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे। करनाल में जिलाध्यक्ष यशवीर राणा के नेतृत्व में एमएसजी का विरोध किया गया और लघु सचिवालय में धरना दिया गया। इस अवसर पर पूर्व विधायक मामूराम, हरपाल रोड़, राम कुमार ऐबला, कंवलजीत सिंह विर्क, जयप्रकाश कांबोज, मनोज कांबोज, ओमप्रकाश सलूजा, पालेराम धनखड़, ज्ञान सिंह चावला, प्रदीप कांबोज, गुरदेव रंबा, बालकिशन शामगढ़, जगमाल राणा, धर्मवीर पाढा, सतीश बल्हारा, जेपी दूहन, स्वर्ण सिंह, रणदीप, प्रकाश कौर, सुनीता अरडाना सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

 इनेलो कार्यकर्ताओं ने MSG  फिल्म पर रोक लगाने की मांग 


कुरुक्षेत्र में इनेलो कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन का नेतृत्व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और इनेलो विधायक दल के उपनेता एवं पेहवा के विधायक जसविंदर सिंह संधू ने किया। प्रदर्शनकारी कुुरुक्षेत्र की जाट धर्मशाला से एकत्रित होकर विरोध करते हुए कैसल मॉल की ओर जाने लगे तो महाराणा प्रताप चौक पर पुलिस ने उन्हें रोक लिया व आगे नहीं जाने दिया। प्रदर्शनकारियों ने वहीं जमकर नारेबाजी की और कुरुक्षेत्र-पेहवा मार्ग पर यातायात जाम हो गया। 


श्री अशोक अरोड़ा, जसविंदर संधू व इनसो के राष्ट्रीय महासचिव जसविंदर खैरा ने राज्यपाल के नाम जिला प्रशासन के माध्यम से ज्ञापन सौंपा और फिल्म पर रोक लगाने की मांग की। श्री अरोड़ा व संधू ने कहा कि संतों का काम धार्मिक कार्यक्रम आयोजित करना होता है न कि समाज में कटुता पैदा करने के लिए फिल्में बनाना। इस अवसर पर कंवलजीत सिंह अजराणा, बूटा सिंह लुखी, कुलदीप सिंह मुल्तानी, ओमप्रकाश हथीरा, कुलदीप जखवाला व योगेश शर्मा सहित सैकड़ों कार्यकर्ता प्रदर्शन में शामिल हुए।

इनेलो ने काली पट्टी बाँध एमएसजी फिल्म का जताया विरोध


आज प्रदेश में रिलीज हुई एमएसजी फिल्म का विरोध पूरे प्रदेश में जिला स्तर पर इनेलो द्वारा बाजू पर काली पट्टी बाँध कर शान्ति पूर्वक तरीके से विरोध किया गया इसी क्रम में रोहतक जिले में विरोध प्रदर्शन मेडिकल मोड़ स्थित पार्क में किया गया। प्रदर्शन की अगुवाई करते हुए प्रदेश प्रवक्ता व रोहतक जिले के अध्यक्ष सतीश नांदल ने कहा की जिस प्रकार के गंभीर आरोप उक्त डेरा बाबा पर लगे हैं उनको देखते हुए यही कहा जा सकता है की इस फिल्म के जरिये ढोंगी बाबा काले धन को सफ़ेद बनाने में लगे हैं और स्वयं को भगवान बता कर लोगों को बरगलाने का काम कर रहे है। इस फिल्म के रिलीज होने से न केवल सिख समुदाय में रोष व्याप्त है अपितु पूरे समाज के युवाओं में गलत संदेश फैलाने का काम ढोंगी बाबा ने किया है। 


सतीश नांदल ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा की इनेलो पार्टी सदेव जनता के हित में कदम उठाती रही है और जनता ने इनेलो को विपक्ष की जो जिम्मेवारी सौंपी है उस पर इनेलो खरा उतर रही है और इस फिल्म के विरोध करने का मुख्य कारण भी यही है क्योंकि प्रदेश सरकार जनता की सेवा करने की बजाय ढोंगी बाबाओं के साथ मिल कर फिल्म बनाने व लोगों की भावनाओं को आहत करने का काम कर रही है। दिल्ली विधानसभा चुनावों के चलते डेरा बाबा द्वारा बीजेपी को समर्थन दिया जाना भी एक सोची समझी साजिश का हिस्सा है परन्तु दिल्ली की जनता ने ढोंगी बाबा ही नही अपितु बीजेपी को सिरे से नकार दिया। उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा की खट्टर सरकार खुले दरबार लगा कर प्रदेश की जनता का मजाक बनाने पर लगी है क्योंकि सरकार के मंत्री जनता की समस्याओं को सुनने के बाद सरकार उन समस्याओं को सुलझाने के लिए कोई भी ठोस कदम नही उठा रही है चुनाव के समय बड़े बड़े वादे करने वाली बीजेपी एक भी वादा पूरा नही कर पाई है न तो प्रदेश के कर्मचारियों को पंजाब के सामान वेतनमान मिल पाया और ना ही बुढ़ापा पेंशन को वादा अनुसार बढाया। सतीश नांदल ने प्रशासन से इस फिल्म पर रोक लगाने की मांग की।