Sunday, November 30, 2014

हिसार में युवाओं के लिए लगाएं भर्ती कैंप-दुष्यंत 


 देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला रविवार को पुणे स्थित राष्ट्रीय सुरक्षा अकादमी में आयोजित पासिंग आउट परेड समारोह में शिरकत की। सांसद चौटाला ने इस दौरान देश के सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान सांसद चौटाला ने सेना प्रमुख को बताया कि हिसार में सेना की छावनी भी बनी हुई है जिस कारण इस क्षेत्र के युवाओं में हमेशा से ही फौज में भर्ती होने को लेकर खासा क्रेज रहा है। यहां के युवा सेना में भर्ती के लिए अपने स्तर पर शारीरिक परीक्षा पास करने के लिए तैयारियां भी करते हैं।


सांसद ने सेना प्रमुख से आग्रह किया कि हिसार में नियमित अंतराल पर सेना में भर्ती के लिए  विशेष शिविर लगाए जाएं जिससे कि न केवल यहां के युवाओं का देश की सेवा करने का सपना पूरा होगा बल्कि अन्य युवाओं के साथ साथ आम लोगों में देश प्रेम की भावना और ज्यादा जागृत होगी। उन्होंने बताया कि भारतीय सेना में हरियाणा के युवाओं की भारी भागीदारी है और प्रदेश के सैनिक समय समय पर देश के काम आए हैं। युवा सांसद ने सेना प्रमुख के समक्ष हिसार के साथ साथ हरियाणा के अन्य क्षेत्रों में भी इस तरह के भर्ती शिविरों के आयोजन पर बल दिया।
इससे पूर्व हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला का राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में पहुंचने पर पारम्परिक ढंग से स्वागत किया गया। दुष्यंत चौटाला ने पासिंग आउट परेड समारोह में हिस्सा लिया तथा पासिंग आउट सैन्य अधिकारियों के उज्जवल भविष्य की कामना की। इस अवसर पर पर अकादमी में दुष्यंत चौटाला हरियाणा के युवाओं से भी मिले जो इसी पासिंग आउट परेड का हिस्सा थे। उन्होंने गोल्ड मेडलिस्ट सैन्य अधिकारियों को पूरे प्रदेश के लोगों की तरफ बधाई देते हुए कहा कि उनपर प्रदेश ही नहीं पूरे देश को नाज है। 

Friday, November 28, 2014

इनेलो की सभी इकाइयां भंग, संगठन का जल्द होगा पुनर्गठन: अशोक अरोड़ा

 इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी की सभी इकाइयां शुक्रवार को भंग किए जाने की घोषणा करते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि पार्टी संगठन का जल्द ही पुनर्गठन किया जाएगा। श्री अरोड़ा ने कहा कि इनेलो की प्रदेश कार्यकारिणी, पदाधिकारी, जिला, हलका व शहरी इकाइयों के साथ-साथ सभी प्रकोष्ठों को भी तुरंत प्रभाव से भंग कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ व्यापक विचारविमर्श के बाद पार्टी संगठन का फिर से पुनर्गठन किया जाएगा ताकि संगठन को और ज्यादा प्रभावी व सक्रिय बनाया जा सके और चुनाव में पार्टी के लिए मेहनत करने वाले जुझारू, कर्मठ, समर्पित व संघर्षशील कार्यकर्ताओं को संगठन में स्थान दिया जा सके।

Wednesday, November 26, 2014

डीजल पर बढ़ी वैट वापिस ले सरकार 

इंडियन नेशनल लोकदल के जिला प्रधान उमेद लोहान व जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्रोई ने भाजपा प्रदेश सरकार द्वारा डीजल की वैट दरों में की गई बढ़ोतरी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। आज यहां जारी एक संयुक्त बयान में इनेलो नेताओं ने भाजपा के इस कदम को किसानों के हितों पर कुठाराघात करते हुए इस निर्णय को तुरंत वापस लेने की मांग की। 
इनेलो प्रधान लोहान और प्रवक्ता बिश्नोई ने कहा कि किसान पहले ही सिंचाई के लिए नहरी पानी और बिजली जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं। उनके समक्ष अपनी बर्बाद होती फसलों को बचाने के लिए एकमात्र संसाधन डीजन ट्यूबवेल ही थे। लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा डीजल कीमतों में की गई बढ़ोतरी से उनपर अतिरिक्त बोझ बढ़ेगा। इनेलो नेताओं ने कहा कि पूर्व की कांग्रेस सरकार और अब भाजपा द्वारा किसानों की लगातार अनदेखी के कारण खेती घाटे का सौदा बनती जा रही है। जिससे किसानों की हालत बद से बदतर हो गई है। अब डीजल के रेट बढ़ जाने से अन्य उपभोक्ता वस्तुओं की कीमतों में भी वृद्धि होगी, जिसका सीधा प्रभाव आमजन पर पड़ेगा। इनेलो नेताओं ने कहा कि भाजपा ने चुनाव पूर्व अपने घोषणा पत्र में स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की बात कही थी, लेकिन सरकार गठन के एक महीने बीत जाने के बाद भी अभी तक इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया। उन्होंने कहा कि जिले के 80 से भी अधिक गांवों के किसान सिंचाई व पेयजल को लेकर पिछले लगभग दो महीने से आंदोलनरत हैं। ये किसान पिछले एक सप्ताह से लघुसचिवालय पर बैठे हैं, लेकिन अभी तक सरकारी प्रतिनिधि तो दूर कोई भी प्रशासनिक अधिकारी किसानों की समस्याओं को जानने और बात करने उनतक नहीं पहुंचा। इससे ज्यादा किसानों के हितों के साथ खिलवाड़ और क्या होगा। इनेलो नेताओं ने मांग की कि सरकार किसानों की समस्याओं का शीघ्र समाधान करें तथा डीजल के बढ़े हुए रेटों को तुरंत वापस लिया जाए। अन्यथा इनेलो किसाानों के हित में कोई भी बड़ा फैसला लेने के लिए मजबूर हो जाएगी। 

Tuesday, November 25, 2014

सीबीआई डायरेक्टर की नियुक्ति के लिए प्रतिनिधि को मिले वोट देने का अधिकार : दुष्यंत चौटाला

सदन में दिल्ली पुलिस इस्टेबलिशमेंट अमेंडमेंट बिल का स्वागत करते हुए कहा कि सदन में विपक्ष के पास जरूरी आंकड़ा न होने पर विपक्ष का नेता नहीं है। दुष्यंत चौटाला ने  सरकार के प्रस्ताव जहां विपक्ष का नेता नहीं है वहां लोकसभा में सबसे बड़ी पार्टी के नेता को सीबीआई की नियुक्ति के लिए सदस्य बनाने का स्वागत किया। उन्होंने कहा सीबीआई की नियुक्ति के लिए विपक्ष का के नेता न होने पर कहा कि यदि कोई सदस्य नहीं आता तो उसके प्रतिनिधि को वोट का अधिकर मिलना चाहिए ताकि लोकतांत्रिक व्यवस्था मजबूत हो।  उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव पर सरकार दोबारा विचार करे क्योंकि सीबीआई देश की सर्वोच्च जांच एजेंसी है परन्तु पिछले वर्षों से सीबीआई पर राजनीति दबाव के तहत सीबीआई का दुरूपयोग देखते आए हैं इसलिए सीबीआई निदेशक की नियुक्ति में विपक्ष को भी अधिकार मिलना चाहिए।
सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज इंडियन इंस्टीच्यूट इन्फॉर्मेशन बिल 2014 का स्वागत किया। उन्होंने केंद्र सरकार से इस बिल में संशोधन करने को कहा जिससे तहत जो यहां आईआईटी या टिप्पल करने पास करके जाते हैं वे अपने देश में पांच वर्ष काम करें, इसके बाद वे देश से पलायन करे ताकि उनकी प्रतिभा का देश को फायदा मिले।
किसानो की अधिकृत जमीन हो वापिस : दुष्यंत चौटाला 

इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने मंगलवार को लोकसभा में सेज का मुद्दा उठाते हुए तात्कालिक हुड्डा सरकार द्वारा अधिगृहित की गई हजारों एकड़ जमीन को किसानों को वापस दिलवाने की मांग की। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने नियम के 377 के तहत इस मुद्दे को सदन में उठाते हुए केंद्र सरकार से सेज के नाम पर अधिग्रहित की गई किसानों को वापस लौटाने की मांग की। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने सदन में कहा कि भूमि अधिग्रहण एव पुनर्वास एक्ट 2013 की धारा 101 के मुताबिक सेज के तहत अधिग्रहित की गई उस जमीन को भू-स्वामियों को वापस लौटाया जाने का प्रावधान है जिस सेज पर पर पांच वर्षों बीत जाने के बावजूद काम शुरू नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि देश में सेज के नाम पर हजारों एकड़ भूमि सेज बनाने के लिए अध्रिहित की थी परन्तु अभी तक सेज के लिए उन जमीनों पर काम शुरू नहीं हो पाया। उन्होंने केंद्र सरकार ने हरियाणा सहित देश के तमाम किसानों को सेज के नाम पर ली गई जमीन को वापस लौटाने की मांग की जिन पर अभी काम शुरू नहीं हो पाया। अन्यथा यह उन किसानों के साथ अन्याय होगा जिनसे जनहित के नाम पर सस्ते दामों पर जमीन ली गई थी। 
यहां बता दें कि हरियाणा में हुड्डा सरकार ने प्रदेश के किसानों से सेज के नाम पर हजारों एकड़ जमीन ली थी, पांच वर्ष से अधिक समय बीत जाने के बाद इन सेज पर काम शुरू नहीं हो पाया। हुड्डा सरकार ने भी सेज पर काम शुरू होने की स्थिति में हाथ खड़े कर दिए थे परन्तु अभी तक  झज्जर सहित अन्य जिलों में किसानों से ली गई हजारों एकड़ जमीन वापस नहीं लौटाई गई है, जिसेकि जनहित के नाम पर किसानों पर दबाव डाल कर ली गई थी। देश भर में 34 ऐसे सेज हैं जिनके लिए भूमि अधिग्रहण की गई है परन्तु इन पर अभी तक काम शुरू नहीं हो पाया है। हरियाणा के किसान लंबे समय से मांग रही है कि सेज के तहत ली गई उनकी जमीनें वापस दी जाएं ताकि किसान का रोजी-रोटी के पुश्तैनी स्त्रोत उन्हें मिल सके। 

स्व. बराड़ को श्रद्धांजलि देने डबवाली पहुंचे प्रदेश भर के दिग्गज

 इनेलो प्रवक्ता एवं पार्टी के मीडिय़ा प्रभारी राम सिंह बराड़ के पिता मिठ्ठू सिंह बराड़ को मंगलवार को डबवाली में आयोजित एक समारोह में विभिन्न प्रमुख नेताओं ने भावभीनी श्रद्धांजलि दी और उनकी आत्मिक शांति के लिए प्रार्थना की। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौ. अभय सिंह चौटाला, इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला, विधानसभा में उपनेता एवं पूर्व कृषि मंत्री जसविंद्र सिंह संधु, फतेहाबाद के विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, जिला परिषद चेयरमैन डा. सीता राम, भाजपा प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष जगदीश चोपड़ा, भाजपा नेता देव कुमार शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार बलजीत बल्ली, खुशहाल लाली व अमरजीत सिंह सहित अनेक सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक व राजनीतिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने स्व. मिठ्ठू सिंह बराड़ को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। 
इस अवसर पर उनके निमित्त डबवाली के गुरूद्वारा विश्वकर्मा में रखे श्री गुरू ग्रंथ साहिब के पाठ का भोग डाला गया एवं अंतिम अरदास में हजारों प्रमुख लोगों ने भाग लिया। इस मौके पर धार्मिक दीवान सजाए गए व अटूट् लंगर लगाया गया। इस अवसर पर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष एवं सिरसा के पूर्व सांसद अशोक तंवर, कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता होशियारी लाल शर्मा, नामधारी संगत, प्रैस क्लब डबवाली, नगरपरिषद सिरसा, श्री रामहंस चैरिटेबल ट्रस्ट सिरसा, विद्युत कर्मचारी यूनियन, भगवान परशु राम ब्राह्मण सभा, श्री सत्तगुरू प्रताप सिंह समिति जल सेवा दल, शांत फांऊडेशन, नारी शक्ति संस्था, भाजपा डबवाली मंडल, ब्लॉक कांग्रेस, जिला बार एसोसिएशन अध्यक्ष रमेश मैहता, गुरूनानक मिशन चैरिटेबेल ट्रस्ट सिरसा, प्रगतिशील किसान क्लब सिरसा, वरिष्ठ नागरिक कल्याण संघ, आर्य समाज डबवाली, गुरू नानक दरबार ट्रस्ट, श्री अरोडवंश धर्मशाला सभा एवं प्रापर्टी डीलर एसोसिएशन सहित अनेक संस्थाओं ने शोक संदेश भेजकर दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि दी। 78 वर्षीय स्व. मिठ्ठू सिंह बराड़ का निधन गत 16 अक्टूबर को हो गया था।

Monday, November 24, 2014

खानक में खनन शुरू करवाए सरकार: कमला

 खानक पहाड केवल तोशाम ही नहीं बल्कि पूरे भिवानी जिले के लिए कुदरत का तोहफा है। यहाँ खनन बन्द होने से पूरे जिले के कामगारों में मायूसी है और सरकारी खजाने को भी नुकसान हो रहा है। यह बात हलके से इनेलो प्रत्याशी रही कमला रानी ने अपने धन्यवादी दौरे के दौरान खानक गांव में ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कही। कमला ने कहा कि इनेलो ने तो सरकार बनने पर पहली कलम से खानक पहाड़ खुलवाने का वायदा किया था साथ ही भाजपा ने भी इसी पहाड़ को चलवाने की बात कही थी। अब भाजपा सरकार का फर्ज बनता है कि हल्के से बेरोजगारी कम करने तथा हल्के के विकास के लिए पहाड़ को चालू करवाए। उन्होंने यह भी कहा कि पहाड़ बन्द होने के कारण आज भी प्रतिदिन करोड़ों का नुकसान सरकार को हो रहा है और कोई वैज्ञानिक अड़चन भी नहीं है। उन्होंने सरकार से पहाड़ खुलवाने की मांग की और कहा कि इस मुद्दे को विधानसभा में भी उठवाएंगे । उन्होंने लोगों का आभार जताया और कहा कि इनेलो मजबूत विपक्ष का रोल अदा करेगी। इस अवसर पर उनके साथ अनेक पार्टी पदाधिकारी भी साथ उपस्थित थे।

Saturday, November 22, 2014

स्व. बराड़ के निधन पर दु:ख जताया

 हिसार से लोकसभा सांसद दुष्यंत चौटाला, सिरसा के विधायक मक्खन लाल सिंगला, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा, रतिया के विधायक प्रो. रविन्दर सिंह बलियाला, इनेलो के प्रदेश कार्यालय सचिव एन एस मल्हान, सिरसा के जिला अध्यक्ष पदम जैन, जिला शहरी अध्यक्ष प्रदीप मेहता, हल्का प्रधान बिकार सिंह हडोली, शहरी प्रधान रमेश सिंगला, जिला महासचिव जेके अग्रवाल, रमेश लॉली, रणबीर राणा, महावीर शर्मा व विनोद अरोड़ा ने इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता व पार्टी के मिडिया प्रभारी राम सिंह बराड़ के पिता सरदार मिठू सिंह बराड़ के निधन पर शोक व्यक्त करने उनके डबवाली स्थित निवास पर पहुंचे । उन्होंने स्वर्गीय श्री बराड़ के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना वयक्त की। वरिष्ठ पत्रकार व इनेलो के मिडिया प्रभारी राम सिंह बराड़ के पिता का रविवार को सुबह डबवाली में निधन हो गया था। वे 78 वर्ष के थे। स्व. मिठू सिंह बराड़ की आत्मिक शांति के लिए रखे गए पाठ का भोग व अंतिम अरदास 25 नवंबर मंगलवार को दोपहर 12 से 1 बजे तक डबवाली के विशवकर्मा गुरुद्वारा में रखी गई है। इससे पहले डबवाली की विधायक श्रीमती नैना सिंह, पूर्व विधायक डॉ. सीता राम, रवि चौटाला, राधे राम गोदारा भाजपा नेता श्री जगदीश चोपड़ा सहित अनेक प्रमुख नेताओं ने डबवाली पहुँच स्व. श्री बराड़ के निधन पर दु:ख जताया। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, चंडीगढ़ व दिल्ली के अनेक राजनैतिक, धार्मिक, सामाजिक व पत्रकार संगठनो ने स्व. बराड़ के निधन पर गहरा दु:ख जताते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है।
प्रशासनिक स्तर की समस्याओं को लेकर सिधा मिले जनता: संधू 

इनेलो विधायक दल के उपनेता एवं पूर्व कृषि मंत्री जसविन्द्र सिंह संधू ने हल्का के गांवों का दौरा कर लोगों की समस्याएं सुनी और 28 नवम्बर को कुरूक्षेत्र में होने वाली जिला स्तरीय इनेलो कार्यकर्ता बैठक को लेकर कार्यकर्ताओं को निमन्त्रण दिया। उन्होंने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रशासनिक स्तर की समस्याओं को लेकर वे उन्हें सीधा मिले ताकि अधिकारियों से मिलकर उसका समाधान करवाया जा सके। गांव भेरिया में संधू ने कहा कि जनता ने अपना नुमाइंदा बनाकर विधानसभा में उन्हें भेजा है, जनता की आवाज को उठाने में वे कोई कोर कसर नही छोड़ेंगे। संधू ने कहा कि पार्टी कार्यकत्र्ता किसी भी राजनीतिक संगठन की रीढ़ की हड्डी होते हैं और इनेलो कार्यकत्र्ता न सिर्फ पूरी तरह अनुशासित, समर्पित, मेहनती, कर्मठ और जुझारू हैं बल्कि बेहद संघर्षशील भी हैं। संघर्ष के दौर में पार्टी कार्यकत्र्ता पार्टी के साथ चट्टान की तरह मजबूती से खड़े रहे, संधू ने पार्टी के कार्यकर्ताओं का सहयोग के लिए धन्यावाद किया।

भंग किया जाएगा संगठन: अशोक अरोड़ा


इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने शनिवार को घोषणा की है कि अब पार्टी संगठन को भंग किया जाएगा। इसके पीछे अध्यक्ष का तर्क है कि विधानसभा चुनाव में जिन कार्यकर्ताओं ने अथक मेहनत की है उनको अच्छे पदों पर लगाया जाएगा। अशोक अरोड़ा पार्टी कार्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हार-जीत एक सिक्के के दो पहलू हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं ने पूरी मेहनत के साथ लड़ाई लड़ी, लेकिन चुनाव के परिणाम उसके अनुरूप नहीं आए। इसके पीछे सभी ताकतों ने इनेलो के खिलाफ साजिश रची। जहां पर हजकां व कांग्रेस के प्रत्याशी पिछड़ रहे थे। वहां सभी ने मिलकर बीजेपी का साथ दिया। बीजेपी ने भी कांग्रेस की तर्ज पर सीबीआई का दुरुपयोग करते हुए चौधरी ओम प्रकाश चौटाला को चुनाव के ठीक पहले जेल भिजवा कर चुनाव में काफी हानी पहुंचाई है। चुनाव पर जयललिता की सजा होना भी इनेलो पार्टी के खिलाफ गया है। अशोक अरोड़ा ने कहा कि वे पार्टी के प्रधान होने के नाते हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेते हैं और जो खामियां पिछले चुनाव में रही हैं उन्हें नहीं दोहराया जाएगा। कार्यकर्ताओं को पूरा मान सम्मान दिया जाएगा। 


इनेलो नेता ने कहा कि 25 सितम्बर की जींद की रैली उनके राजनीतिक कैरियर की सबसे बड़ी रैली थी। किन्तु इनेलो पार्टी को बाकी सभी दलों ने मिल कर हराया है। अब कार्यकर्ता नए जोश के साथ पार्टी संगठन से जुड़ जाएं व सरकार की जनविरोधी नीतियों को संबिधान के दायरे में रह कर विरोध करें। पार्टी अध्यक्ष अरोड़ा ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा गत विधानसभा चुनाव में कांग्रेस व हजकां ने बीजेपी की बी टीम के रूप में काम किया। जहां उनकी हालत पतली दिखाई दी वहीं पर बीजेपी के उम्मीदवारों को जिताने का काम किया।
कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष सतीश नांदल ने कहा कि कार्यकर्ताओं को निराश होने की आवश्यकता नहीं है। यह समय चिंता करने का नहीं बल्कि चिंतन करने का है। उन्होंने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की अनुपस्थिति में सभी कार्यकर्ता श्री चौटाला के रूप में प्रत्येक कार्यकर्ता शशक्त विपक्ष की भूमिका निभाए। बैठक में पूर्व सांसद कैप्टन इन्द्रसिंह, पूर्व विधायक बलवंत मायना, पूर्व विधायक सरिता नारायण, पूर्व जिलाध्यक्ष बलवान सुहाग, पूर्व चेयरमैन धर्मपाल मकडोली, एड. कृष्ण कौशिक, पूर्व चेयरमैन इन्द्र सिंह ढुल, सतीश भालोट, शहरी प्रधान राजीव खुराना, राज शर्मा, महंत सतीश दास, सतीश फरमाना, डा. नफे सिंह लाहली, डा. संदीप हुड्डा, महिला प्रधान उमेश देवी, प्रेमलता खत्री,जगदीश खत्री, आशीष गुलिया, रविन्द्र सांगवान, जनत्रीदेवी, सुनीता हुड्डा, राजोराठी आदि उपस्थित थे।
संसद में उठाएंगे नलवा व आदमपुर के गांवों में पानी न आने का मुद्दा-दुष्यंत चौटाला



सांसद दुष्यंत चौटाला लघु सचिवालय परिसर में पानी के लिए आंंदोलनरत किसानों को अपना पूरा समर्थन व्यक्त करते हुए उनके साथ धरने पर बैठे। उन्होंने किसानों की पानी की मांग को जायज बताते हुए कहा कि वे हर कदम पर किसानों के साथ हैं और उनकी मांगों को दो दिन बाद शुरू होने वाले शीतकालीन सत्र के दौरान संसद में उठाएंगे। युवा सांसद ने कहा कि जल संघर्ष समिति एक प्रतिनिधि मंडल का गठित करे और वे स्वयं इस प्रतिनिधि मंडल के साथ जाकर केंद्रीय कृषि मंत्री व केंद्रीय जल संसाधन मंत्री कुे समक्ष उनकी समस्या रखेंगे और इसका समाधान करवाएंगे। धरना स्थल पर दुष्यंत चौटाला के साथ नलवा के विधायक रणबीर सिंह प्रजापति भी पहुंचे। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि वे नलवा व आदमपुर के किसानों की टेल तक पानी न पहुंचने व महीने में कुछ ही दिन पानी चलाने की समस्या को समझते हैं। वह इसे लेकर वह बेहद संदीजा हैं। उन्होंने कहा कि टेल के आखिरी छोर तक पानी पहुंचाने व महीने में दो सप्ताह पानी चलवाने की मांगों के संबंध में वह मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को 8 नवंबर को पत्र लिख चुके हैं। उन्होंने कहा कि आज वह फिर से एक और पत्र मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सहित प्रदेश के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ को एक पत्र भेजा है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यह अफसोसनजक है कि किसान पिछले पांच दिनों से लघु सचिवलाय परिसर में धरना दे रहे हैं और एक भी प्रशासनिक अधिकारी उनकी समस्या सुनने नहीं आया। 
इससे पहले सांझा संघर्ष समिति ने सांसद दुष्यंत को बताया कि  पानी के मुद्दे को लेकर बुड़ाक गांव के लोग विधानसभा चुनावों का बहिष्कार कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि चुनावों के समय तो नहर में पानी चला परन्तु चुनाव परिणाम आते ही इस क्षेत्र की नहरों में पानी आना बंद हो गया है और महीने में केवल एक सप्ताह नहर में पानी आता है। इससे कृषि के साथ साथ पीने के पानी का भारी संकट पैदा हो गया है। समिति के अध्यक्ष विरेंद्र पूनिया ने कहा कि टेल तक केवल तीन इंच पानी आ रहा है जबकि टेल में तीन फीट पानी चलना चाहिए। किसानों ने बताया कि आदमपुर व नलवा हलके के किसान पिछले दो महीनों से धरने पर बैठे हैं परन्तु सरकार व अधिकारी पूरी तरह से असंवेदनशील हो गए हैं और उनकी समस्या का समाधान नहीं कर रहे हैं। 
हिसार लोकसभा क्षेत्र में काफी हिस्से में नहरी पानी की भारी किल्लत है जिसके कारण हजारों एकड़ रकबा बारानी है। हालात इतने बदतर हैं कि इस क्षेत्र में पीने का पानी भी नहीं है परन्तु सरकार ने अभी तक पानी की समस्या के समाधान के लिए कोई कदम नहीं उठाया है। धरने पर  इनेलो के वरिष्ठ नेता पाटी के उपाध्यक्ष सतबीर वर्मा, सोमवीर श्योराण, मनोज नेहरा, प्रवीण ढांडा सहित पार्टी के अन्य नेता भी पहुंचे और अपना समर्थन किसानों को दिया। 
ग्रामीणों की समस्याए को जल्द करेंगे दूर : माखन लाल सिंगला 


इनेलो विधायक माखन लाल सिंगला ने आज डबवालीरोड़ स्थित इनेलो जिला पार्टी कार्यालय चौ.देवीलाल सदन में कार्यकर्ताओं से व ग्रामीण आचंल से आए ग्रामीणों की समस्याओं सुनी और उन्हें इन समस्याओं को हल करने का आश्वासन दिया। विधायक ने कहा कि वे  सिरसा की समस्याओं को विधानसभा में प्रमुखता से उठाएंगे। जनता के उचित कामों को जि मेवारी के साथ सरकार व प्रशासन तक पहुंचाकर काम करवाएंगे। 

उन्होंने कहा कि वह सिरसा के विकास हेतु सरकार से बात करेंगे। इनेलो नेता ने कार्यकर्ताओं को आह्वान किया कि वे जनता के संपर्क में रहकर उनकी समस्याओं को जाने तथा प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर उन्हें हल करवाने का प्रयास करें। विधायक ने कहा कि आज किसानों को धान व नरमें जैसी जींसों के भाव बहुत कम मिल रहे है जिससे किसानों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। तथा किसान मायूस और निराश है। इस मौके पर काफी सं या में ग्रामीण व पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।
एमपी रोही ने रखी मेरी जीत की नीवं, अब बेटा बनकर हल करूंगा गांव की समस्याएं : दौलतपुरिया


इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया अपने धन्यवादी दौरे के तहत पूर्व सीएम स्व. भजनलाल के पैतृक गांव एमपी रोही के अलावा बिश्नोई बाहुल्य गांव धांगड़, खजूरी, काजलहेड़ी, कुम्हारिया, बड़ोपल आदि में पहुंचे। इन गांवों में ग्रामीणों ने विधायक बलवान सिंह के साथ-साथ उनके साथ चल रहे पार्टी के अन्य वरिष्ट नेताओं का भी गर्मजोशी के साथ अभिनंदन किया। बलवान दौलतपुरिया ने एमपी रोही में उमड़ी भीड़ को क्षेत्र में विधानसभा चुनाव उपरांत हुए एक बड़े बदलाव की खुशी का प्रतीक बताया। ग्रामीण सभाओं को पूर्व विधायक रणङ्क्षसह बैनीवाल, राष्ट्रीय सचिव युद्धवीर आर्य, कुलजीत कुलडिय़ा, सुरेन्द्र लेगा, जिप पार्षद बलविन्द्र कैरों, भरत ङ्क्षसह परिहार, सत्या विद्यार्थी, कृष्ण मांझू, सुमनलता सिवाच, रिछपाल बाजिया, एडवोकेट राजेश शर्मा, बजरंग तरड़ आदि ने भी मुख्य तौर पर संबोधित किया।


एमपी रोही में ग्रामीण सभा को संबोधित करते हुए बलवान दौलतपुरिया ने कहा कि इस बार के विधानसभा चुनाव में इनेलो प्रत्याशी के रूप में मेरी जीत की नींव यदि किसी गांव ने रखी, तो वह एमपी रोही रहा। उन्होंने कहा कि  उन्हें यह कहने में जरा भी संकोच नहीं है कि इस गांव के हर वर्ग ने परिवारवाद की राजनीति करने वाले लोगों से आजादी पाने की चाह में इनेलो के प्रति तन-मन-धन से सहयोग करने का विश्वास जताया। उन्होंने कहा कि गांव के लोगों द्वारा इनेलो में जताई गई आस्था के परिणामस्वरूप ही पूरे विधानसभा क्षेत्र की जनता को यह संदेश मिला कि इस बार फतेहाबाद सीट पर जात-पात के नाम पर राजनीति करने वालों की नहीं, बल्कि हर वर्ग को साथ लेकर चलने वाली इनेलो की जीत होगी। दौलतपुरिया ने एमपीरोही, काजलहेड़ी, बड़ोपल, धांगड़ आदि गांवों के लोगों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि बेटा बनाकर इन गांव के लोगों ने एक बड़ी जीत के साथ अपना फर्ज अदा कर दिया है। अब एमपी रोही का बेटा बनकर मै भी इस गांव के साथ-साथ अन्य सभी गांवों की उस हर समस्या को हल करवाने का प्रयास करूंगा, जो बरसों से एक परिवार विशेष की ओच्छी राजनीति के चलते हल होने से वंचित थी। उन्होंने कहा कि उनका यह प्रयास रहेगा कि जनता की समस्याओं को जनता के बीच रहकर समझें और जनता को साथ लेकर ही उनका हल करवाने का काम भी करें। एमपी रोही में पहुंचने पर सरपंच अमरजीत, भागचंद गोदारा, देवीलाल गोदारा, जीरा सिंह, जयदेव गोदारा, सुभाष देहडू, सुभाष गोदारा, रामस्वरूप गोदारा, दलीप सिंह बाबरी, गुरदयाल गोदारा, कृष्ण सिहाग, अमरीक बावरी, राजेन्द्र गोदारा आदि ने फूल-मालाएं एवं सम्मान सूचक पगड़ी बांधकर विधायक बलवान दौलतपुरिया का अभिनंदन किया। ग्रामीण धन्यवादी दौरे में विकास मेहता, हरपाल तनेजा, बंटी बरसीन, डॉ. रामप्रकाश बीघड़, नवीन कटारिया आदि पदाधिकारी व कार्यकत्र्ता उपस्थित रहे।

Friday, November 21, 2014

सडक़, बिजली तथा पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं से लोग आज भी वंचित: संधू

 
पिहोवा से इनेलो विधायक दल के उपनेता एवं पूर्व कृषि मंत्री जसविन्द्र सिंह संधू ने कहा कि प्रदेश के गांवों में रहने वाले लोग आज भी सडक़, बिजली तथा पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। संधू आज दर्जनों गांवों का दौरा कर गांव असमानपुर में ग्रामीणों की समस्याएं सुन रहे थे। उन्होंने कहा कि डेरों व ढ़ाणियों में आज भी जाने के लिए रास्ते कच्चे है, जहां सडक़े है उनकी मरम्मत हुए सालों गुजर गए है, बिजली की व्यवस्था नही है, बिजली कनैक्शन लेने की प्रक्रिया काफी जटिल है, ट्रॉस्फार्मर की कमी के कारण कई-कई दिन अन्धेरे में रहना पड़ता है। गांवों व शहरों में पानी की पाइप लाइन पुरानी होने के कारण स्वच्छ पानी नही मिल पाता, गन्दे पानी की निकासी के उचित प्रबन्ध न होने के कारण गलियों में गन्दा पानी खड़ा रहता है जिससे बिमारी फैलने का डर बना रहता है। उन्होंने प्रशासन से लोगों की इस प्रकार की समस्याओं को प्राथमिकता के अधार पर हल करने की मांग की। श्री संधू  रोजाना 10 बजे से 12 बजे तक स्थानीय सिंचाई विभाग के रैस्ट हाउस में बैठकर लोगों की समस्याओं को सुनकर सम्बंधित विभागों के अधिकारियों को बुलाकर उन्हें अवगत करवाएंगे।

ãUܷ𤠷¤è ÁÙÌæ ·¤è â×SØæ¥æð´ ·¤æð ÎêÚU ·¤ÚUÙæ ÂýæÍç×·¤ÌæÑ ŠææÙ·¤


 §UÙñÜæð çߊææØ·¤ ¥Ùê ŠææÙ·¤ Ùð ¥æÁ âð ¥ÂÙæ Šæ‹ØßæÎè ÎæñÚUæ àæéM¤ ç·¤ØæÐ çߊææØ·¤ ¥Ùê ŠææÙ·¤ Ùð ¥æÁ »æ´ß çÕÆU×Ǹæ, âéÚÔUßæÜæ, ÂýÖéßæÜæ, ÕéɸUæ¹ðǸæ, ©U·¤ÜæÙæ ×´ÇUè, ×ÎÙÂéÚUæ, ·é´¤ÎÙÂéÚUæ, ©U·¤ÜæÙæ »æ´ß, ×é»ÜÂéÚUæ, àæ´·¤ÚUÂéÚUæ, ¿×æÚU¹ðǸæ, ¹ñÚUè, ÉUæ‡æè ¿ãUÜ, âæãêU, ÖñÚUè ¥·¤ÕÚUÂéÚU, ÎæðÜÌÂéÚU, Öñ‡æè ÕæÎàææãUÂéÚU, ÙØæ »æ´ß, ·¤„ÚUÖñ‡æè ¥æçÎ »æ´ßæð´ ·¤æ ÎæñÚUæ ç·¤Øæ ¥æñÚU ¿éÙæßæð´ ×ð´ ©U‹ãð´U â×ÍüÙ ÎðÙð ÂÚU ÁÙÌæ ·¤æ Šæ‹ØßæÎ ç·¤ØæÐ »æ´ß ×ð´ Âãé´U¿Ùð ÂÚU »ýæ×è‡ææð´ Ùð çߊææØ·¤ ¥Ùê ŠææÙ·¤ ·¤æ Èê¤Ü×æÜæ¥æð´ ·ð¤ âæÍ ÁæðÚUÎæÚU SÃææ»Ì ç·¤ØæÐ çߊææØ·¤ ¥Ùê ŠææÙ·¤ Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ©UÙ·¤è ÂýæÍç×·¤Ìæ ÚUãðU»è ç·¤ ãUܷ𤠷¤è ÁÙÌæ ·¤è â×SØæ¥æð´ ·¤æð ÁËÎ âð ÁËÎ ÎêÚU ·¤ÚUßæØæ Áæ° ÌÍæ ãUܷ𤠷¤æ â×éç¿Ì çß·¤æâ ·¤ÚUßæØæ Áæ°Ð ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ·¤æ´»ýðâ ÂæÅUèü ·ð¤ àææâÙ·¤æÜ ×ð´ ©U·¤ÜæÙæ ãUÜ·¤æ çß·¤æâ ·ð¤ ×æ×Üð ×ð´ ÂêÚUè ÌÚUãU âð çÂÀUǸ »Øæ ãñ ¥æñÚU ÂèÀðU ¿Üæ »Øæ ãñUÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ßð ãUÜ·ð¤ ×ð´ çàæÿææ ·¤æð ÕɸUæßæ Îð´»ð ÌÍæ ãUÜ·ð¤ ×ð´ çÕÁÜè, ÂæÙè ·¤æ ©Uç¿Ì ÂýÕ´Šæ ·¤ÚUßæÙð ·¤æ ÂýØæâ ·¤ÚÔ´U»ðÐ çÁâ उम्मीद ·ð¤ âæÍ ãUܷ𤠷¤è ÁÙÌæ Ùð ©U‹ãð´U ¥ÂÙæ çߊææØ·¤ ¿éÙæ ãñU ßð ©Uâ ÂÚU ¹ÚUæ ©UÌÚÔ´U»ð ¥æðÚU ãUܷ𤠷¤è ÁÙÌæ ·¤è âðßæ ×ð´ 24 ƒæ´ÅðU ÁéÅðU ÚUãð´U»ðÐ ãUܷ𤠷¤è ÁÙÌæ Ùð ©U‹ãð´U ¥ÂÙæ çߊææØ·¤ ÕÙæ·¤ÚU §UÙñÜæð ·¤è ÙèçÌØæð´ ÂÚU ×æðãUÚU Ü»æÙð ·¤æ ·¤æ× ç·¤Øæ ãñUÐ çߊææØ·¤ ¥Ùê ŠææÙ·¤ Ùð §Uâ ×æñ·ð¤ ÂÚU wy ÙߐÕÚU ·¤æð çãUâæÚU ×ð´ ãUæðÙð ßæÜè çÁÜæ SÌÚUèØ ÕñÆU·¤ ×ð´ Âãé´U¿Ùð ·¤æ ‹ØæñÌæ Öè çÎØæÐ ŠææÙ·¤ Ùð ÕÌæØæ ç·¤ §Uâ ÕñÆU·¤ ·¤è ¥ŠØÿæÌæ ßçÚUDU §UÙñÜæð ÙðÌæ çߊææØ·¤ ¥ÖØ ¿æñÅUæÜæ ·¤ÚÔ´U»ðÐ §UÙñÜæð ÂýßQ¤æ ãUæðçàæØæÚU ¨âãU çÕÆU×Ǹæ Ùð ÕÌæØæ ç·¤ çߊææØ·¤ ¥Ùê ŠææÙ·¤ ww ÙߐÕÚU ·¤æð ÕŠææßǸ, ¹ÚU·¤ ÂêçÙØæ, अयाना ¹ðǸæ, ÂçÙãUæÚUè, ™ææÙÂéÚUæ, âÚUâæÙæ, ÖæÇUæ¹ðǸæ, âæñÍæ, â´ÎÜæÙæ, ÀUæÙ, ÕÙÖæñÚUè, ×ÌÜæðÇUæ, âÚUãðUǸæ, ¹ÚU·¤Ç¸æ, ÕæðÕé¥æ, ·é´¤Öæ¹ðǸæ, ãUâٻɸU, çÜÌæÙè ¥æçÎ »æ´ßæð´ ·¤æ ÎæñÚUæ ·¤ÚÔ´U»ðÐ §Uâ ¥ßâÚU ÂÚU ãUÜ·¤æŠØÿæ ÚUæÁð´ý çÜÌæÙè, ÀU”æéÚUæ×, ãUæðçàæØæÚU ¨âãU çÕÆU×Ǹæ, ÕÜÁèÌ ·é´¤Öæ, âéÚÔ´UÎý, â´Îè ÉUæ·¤æ, ×ãð´UÎý âæðÙè, ßðÎÂý·¤æàæ धारीवाल, ÁØÕèÚU âçãUÌ ¥Ùð·¤ Üæð» ©UÂçSÍÌ ÍðÐ


हिसार जिला कार्यकर्ता सम्मेलन स्थगित

हिसार में इंडियन नेशनल लोकदल की ओर से 24 नवंबर को पार्टी कार्यालय के नजदीक प्रस्तावित जिला सम्मेलन किन्हीं कारणों से स्थगित कर दिया गया है। जिला प्रवक्ता एडवोकेट मनदीप बिश्रोई ने बताया कि इस सम्मेलन को इनेलो विधायक दल के नेता अभय सिंह चौटाला व इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा को संबोधित करना था, लेकिन किन्हीं कारणों को लेकर अब यह सम्मेलन बाद में आयोजित किया जाएगा। जिसकी तिथि व स्थान बाद में निर्धारित किए जाएंगे। 
ãUæÚU-ÁèÌ °·¤ çâP¤ð ·ð¤ Îæð पहलू,ãUæñ´âÜæ ÕéÜ´Î ÚU¹ð´ §UÙðÜæð 
·¤æØü·¤Ìæü Ñ ¥ÖØ ¿æñÅUæÜæ


 §UÙðÜæð ÂýˆØæçàæØæð´ ·¤æð çÁÌßæÙð ×ð´ §UÙðÜæð ·¤æØü·¤Ìæü¥æð´ Ùð ·¤æð§üU ·¤æðÚU ·¤âÚU Õæ·¤è ÙãUè´ ÀUæðǸè ãñU ¥æñÚU ÂæÅUèü ·¤æ »ýæòȤ Âæ´¿ ÂýçÌàæÌ ÕɸUæ ãñUÐ ·¤æØü·¤Ìæü ÂýØæâ ×ð´ âÈ¤Ü ÙãUè´ ãUæð Âæ° çȤÚU Öè ßð ÕŠææ§ü ·ð¤ Âæ˜æ ãñ´UÐ ãUæÚU ¥æñÚU ÁèÌ Ìæð °·¤ çâP¤ð ·ð¤ Îæð ÂãUÜê ãñ´´Ð ·¤æØü·¤Ìæü ×æØêâ Ù ãUæð ¥æñÚU ¥ÂÙæ ãUæ´ñâÜæ ÕéÜ´Î ÚU¹ð´Ð ØãU ÕæÌ °ðÜÙæÕæÎ âð çߊææØ·¤ °ß´ ÙðÌæ ÂýçÌÂÿæ ¹ðÜÚU% ¿æñ.¥ÖØ çâ´ãU ¿æñÅUæÜæ Ùð âæðÙèÂÌ çÁÜð ×ð´ ·¤æØü·¤Ìæü¥æð´ ·¤æð â´ÕæðçŠæÌ ·¤ÚUÌð ãéU° ·¤ãUèÐ §UÙðÜæð ÂýÎðàææŠØÿæ ¥àææð·¤ ¥ÚUæðÇ¸æ ©UÙ·ð¤ âæÍ ÍðР·¤æØü·ý¤× ·¤è ¥ŠØÿæÌæ »ýæ×è‡æ çÁÜæ ¥ŠØÿæ ·é¤ÜÎè ×çÜ·¤ °ß´ àæãUÚUè çÁÜæ ¥ŠØÿæ âÌÂæÜ »æðØÜ Ùð âéØ´Q¤ M¤Â âð ·¤èÐ
            ¿æñ.¥ÖØ çâ´ãU ¿æñÅUæÜæ Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ÂæÅUèü ×ð´ ÕǸð ÂÎæð´ ÂÚU çßÚUæÁ×æÙ ÙðÌæ¥æð´ °ß´ ÂÎæçŠæ·¤æçÚUØæð´ ×ð´ ÖÜð ãUè ·¤×è ÚUãU »§üU ãUæð ÂÚU‹Ìé §UÙðÜæð ·¤æØü·¤Ìæü¥æð´ Ùð Áè ÁæÙ âð ×ðãUÙÌ ·¤è ãñUÐ ÀUæðÅðU âð ÀUæðÅðU ·¤æØü·¤Ìæü Ùð §UÙðÜæð उम्मीदवारों ·¤æð ÁèÌæÙð ×ð´ ÖÚUâ·¤ ÂýØæâ ç·¤Øæ ÂÚU‹Ìé  §UÙðÜæð âÚU·¤æÚU ÕÙÙð ·ð¤ ãUæÜæÌ ÙãUè´ ÕÙ Âæ°Ð ÇðUÚÔU ·ð¤ ȤÚU×æÙ Ùð ¿éÙæßè çȤÎæ ·¤æð ÕÎÜ ÇUæÜæ çÁâ·¤æ ¹æç×ØæÁæ §UÙðÜæð ÂæÅUèü ·¤æð Öé»ÌÙæ ÂǸæÐ §UÙðÜæð ÂæÅUèü ·¤æð सत्ता âð ÚUæð·¤Ùð ·ð¤ çÜ° âæÚUè ÂæçÅüUØæ´ °·¤ ãUæ𠻧üÐ ©U‹ãUæðÙð ·¤ãUæ ç·¤ ÕæÕæ¥æð´ ·¤è Ìâ„è ·¤æðÅüU ãUè ·¤ÚUæ°»èÐ

¿æñ.¥ÖØ çâ´ãU ¿æñÅUæÜæ Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ÂæÅUèü âéÂýè×æ𴠷𤠥æÎðàææÙéâæÚU ãU× Ù§üU âÚU·¤æÚU ·¤æð â×Ø Îð ÚUãðU ãñ´UÐ ¥‘ÀðU Èñ¤âÜæð´ ·¤æ Sßæ»Ì ç·¤Øæ Áæ°»æ ¥æñÚU §UÙðÜæð ÁÙ çßÚUæðŠæè Èñ¤âÜæð´ ·¤æð ÇUÅU ·¤ÚU çßÚUæðŠæ ·¤ÚÔ»èÐ मुख्यमंत्री Ùð ÚUæÕÅüU ßæÇþUæ °ß´ âè.°Ü.Øê. ƒææðÅUæÜð ·¤è Áæ´¿ ·¤ÚUßæÙð ·¤ð çÜ° ãU×ð´´ ¥æESÌ ç·¤Øæ ãñU ¥æñÚU ãU×Ùð मुख्यमंत्री ·¤æð §Uâ·ð¤ çÜ° â×Ø çÎØæ ãñUÐ ÂýÎðàæ â𠷤活ýðâ ·¤æ ÂêÚUè ÌÚUãU âð âȤæØæ ãUæð »Øæ ãñUÐ Âêßü âè.°×.ãéUaUæ âè.°Ü.Âè ·ð¤ ÙðÌæ Öè ÙãUè´ ÕÙ Âæ° ã´ñ´ ¥æñÚU ãéUaUæ ·¤æ ÚUæÁÙñçÌ·¤ ÌæñÚU ÂÚU ß¿üSß ¹ˆ× ãUæð »Øæ ãñUÐ
 §UÙðÜæð ÂýÎðàææŠØÿæ ¥àææð·¤ ¥ÚUæðǸæ Ùð Á×èÙ âð ÁéǸ𠷤æØü·¤Ìæü¥æð´ ·¤æð ¥æÖæÚU ÃØQ¤ ç·¤ØæÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤  ÂýÎðàæ ×ð´ §UÙðÜæð ·ð¤ Âÿæ ×ð´ ÜãUÚU Íè ¥æñÚU 17 ¥Qê¤ÕÚU ·¤æð ¿æñ.¥æð×Âý·¤æàæ ¿æñÅUæÜæ ·¤æð ·¤æðÅüU ×ð´ Âðàæ ãæðÙæ ÍæÐ ç·¤‹Ìé 11 ¥Qê¤ÕÚ ·¤æð ÂæÅUèü âéÂýè×æð ·¤æð ÁðÜ ×ð´ ÇUæÜ·¤ÚU ·¤æØü·¤Ìæü¥æð´ ·ð¤ ãUæñâÜð´ ·¤æð ÌæðǸÙð ·¤æ ·¤æ× ç·¤Øæ »ØæÐ §UÙðÜæð ·¤æð ãUÚUæÙð ·ð¤ çÜ° ÇðUÚUæ ¥æñÚU ×ãUæˆ×¥æð´ ·¤æð âãUæÚUæ çÜØæ »ØæÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤æØü·¤Ìæü¥æð´ âð ¥æã¸UßæÙ ·¤ÚUÌð ãéU° ·¤ãUæ ç·¤ §UÙðÜæð ×ð´ ÁÕ Ì·¤ ¥æ Áñâð çâÂæãUè àææç×Ü ãñU ÌÕ Ì·¤ §UÙðÜæð ¹ˆ× ÙãUè´ ãUæð»è ¥æñÚU ¥æÁ Öè 20 âèÅð´U Üð·¤ÚU §UÙðÜæð ÂýÎðàæ ×ð´ Ù.2 ÂÚU ãñUÐ
 §Uâ ×æñ·ð¤ ÂÚU ÚUæCþUèØ ÂýßQ¤æ ÇUæ. ·ð¤.âè.Õ活Ǹ, ÌðÜêÚUæ× Áæð»è, ÂÎ× çâ´ãU ÎçãUØæ, Ÿæèç·¤àæÙ »é#æ,ßðÎ çâ´ãU ×çÜ·¤, çÕ»ýðçÇUØÚU ¥æð.Âè.¿æñŠæÚUè,âéÚÔU‹Îý ÎçãUØæ,âéÚÔU‹Îý ´ßæÚU, çÙ×üÜ ¿æñŠæÚUè,§U‹ÎýÁèÌ ÎçãUØæ,·¤ÂêÚU ÙÚUßæÜ, ¥ÙèÌæ ¹æ´ÇUæ,ÚUæ×·é¤×æÚU âñÙè, ÚU×ðàæ ¹ÅU·¤,ÚUæÁ·é¤×æÚU çÚUɸUæ©U,ÚU‡æÕèÚU ÎçãUØæ,ÚUæÁÂæÜ ÖÅU»æ´ß,ÚUæðãUÌæàæ ÎçãUØæ, ÚUæ×ç·¤àæÙ ÌéáèÚU, ÕÕèÌæ ÎçãUØæ, Âýæðç×Üæ ×çÜ·¤,ÚÔU¹æ ÕæËØæ‡æ,âéç×Ì ÚUæ‡ææ,×ãðU‹Îý âñÙè,ÖæÙðÚUæ×, ÂßÙ ÌÙðÁæ, ÚUçß‹Îý âÚUæðãUæ, ÚU×ðàæ Sßæ×è, ãUçÚUÂý·¤æàæ ×´ÇUÜ, ¥æð×Âý·¤æàæ »æðØÜ,·é¤ÜÕèÚU âÚUæðãUæ, ×ãðU‹Îý ×ðãUÌæ, ÆUæ·é¤ÚU Îæâ ×P¤ÇU, ÚUæÁðàæ ãUâèÁæ ¥æçÎ ÂÎæçŠæ·¤æÚUè ×æñÁêÎ ÚUãðUÐ
 §Uâ ¥ßâÚU ÂÚU ÇUæ.·é¤ÜÕèÚU âæ´»ßæÙ,°ÇUßæð·¤ðÅU ¥ÌÚU çâ´ãU , âæÕÚU ¥Üè, ãUçÚUÂý·¤æàæ ×´ÇUÜ, ¥M¤‡æ ÕǸæñ·¤,âéÚÔU‹Îý ·¤æ´âǸè,¥ç×Ì ÎçãUØæ,ÕÜÁèÌ ×çÜ·¤, ·¤ŒˆææÙ çâ´ãU ·¤àØÂ,ÕÕÜê ÕæçË×·¤è, Öè× ×ðãUÚUæ, ãUÚUÕèÚU ×æðÚUßæÜ, ¥àææð·¤ ß×æü ß ×ãðU‹Îý âñÙè Ùð Öè ¥ÂÙð âéÛææß ÃØQ¤ ç·¤°Ð
विधायक से पहले जनता का सेवादार हूं, हमेशा जनसेवा करूंगा : दौलतपुरिया


इनेलो विधायक बलवान दौलतपुरिया ने कहा कि आज विधानसभा में यदि वे क्षेत्र की जनसमस्याओं, गंभीर मुद्दों को बतौर एमएलए मजबूती के साथ उठाने में सक्षम हुए हैं, तो वह केवल मात्र फतेहाबाद विधानसभा क्षेत्र की जनता की बदौलत ही संभव हो सका है। उन्होंने कहा कि विधायक से पहले वे क्षेत्र की जनता के सेवादार हैं और जिस जनता ने उन्हें अपना विश्वास देकर उन्हें विधानसभा में भेजा, उस जनता की सेवा करना ही उनका  परम कर्तव्य रहेगा। वे अपने धन्यवादी दौरे के प्रथम दिन गांव बरसीन, ढाणी माजरा, मोची, गोरखपुर, दहमन, चोबारा आदि गांवों में ग्रामीणों से रूबरू होते हुए उन्हें संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उनके साथ राष्ट्रीय सचिव युद्धवीर आर्य, वरिष्ठ नेता कुलजीत कुलडिय़ा, जिप पार्षद बलविन्द्र कैरों, सत्या विद्यार्थी, सुमनलता सिवाच, मा. बसंतलाल, कृष्ण मांझू, सतपाल सिद्धु, रविन्द्र बैनीवाल ठुईयां, गुलाब सूंडा, बजरंग तरड़, विकास मेहता व जिला प्रवक्ता प्रमोद बजाज सहित पार्टी के कई अन्य नेतागणों ने भी ग्रामीणों को संबोधित किया। गांव मोची में पहुंचने पर ग्रामीणों ने सरपंच भलेराम के नेतृत्व में इनेलो विधायक व अन्य नेतागणों का स्वागत किया।
बलवान दौलतपुरिया ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पूर्व बनी संभावनाओं के अनुरूप भले ही प्रदेश में इनेलो की सरकार न बन पाई हो, लेकिन एक रिकार्ड जीत के साथ फतेहाबाद की जनता ने उन्हें अपना नुमांइदा बनाकर विधानसभा में भेजकर 5 वर्ष के लिए सेवा करने का सुनहरी अवसर प्रदान करके उन्हें हमेशा के लिए अपना कर्जदार बना लिया है। उन्होंने कहा कि विधायक बनाने की जिम्मेवारी को जनता ने पूरी निष्ठा के साथ निभाया, अब बतौर विधायक उनका यह नैतिक कर्तव्य बनता है कि वे क्षेत्र के सभी तबकों से जुड़ी समस्याओं, उनकी विकास में अड़चन बन रही गंभीर समस्याओं को हल करवाने के लिए विधानसभा में मजबूती के साथ जनता का पक्ष रखें। उन्होंने क्षेत्र की जनता को आश्वस्त किया कि वे गांवों में बिजली-पानी, कच्ची गलियों सहित तमाम समस्याओं का निदान करवाने का हरसंभव प्रयास करेंगे। दौलतपुरिया ने ग्रामीणों को 30 नवंबर को फतेहाबाद में आयोजित होने वाले इनेलो के जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने का न्यौता भी दिया। उन्होंने कहा कि इनेलो कोई राजनीतिक पार्टी न होकर ईमानदार-निष्ठावान कार्यकत्र्ताओं का विशाल परिवार है, जो हर मुश्किल से मुश्किल घड़ी का सामना एकजुटता के साथ करना जानते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे निष्ठावान कार्यकत्र्ताओं का धन्यवाद करने के लिए पार्टी के शीर्ष नेता अभय चौटाला, प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा सहित कई अन्य वरिष्ठ नेतागण 30 नवंबर के जिला स्तरीय कार्यकत्र्ता सम्मेलन में पहुंचेंगे। इस अवसर पर दरेश खान, मांगेराम शेखुपूर, युवा नेता नवीन कटारिया, रिछपाल बाजिया, तनुज मदान, बंटी बरसीन, रोहित मदान सहित पार्टी के अनेक पदाधिकारी, कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।
क्षेत्र के लोगो की समस्याए जल्द होगी दूर : दुष्यंत चौटाला



दुष्यंत चौटाला ने कार्यकर्ताओं से 30 नवंबर को सिरसा में होने वाली जिला स्तरीय बैठक को लेकर चर्चा की। सांसद ने कहा कि पार्टी विधायक व पदाधिकारी जनता से सीधे मिलें और उनकी समस्याओं को सुनकर उनका समाधान करवाएं। उन्होंने कहा कि यदि प्रशासनिक स्तर की समस्याएं है तो जनता के साथ जाकर अधिकारियों को अवगत करवाएं और उनकी समस्याओं को हल करवाएं। युवा सांसद ने मिलने आए किसानों ने बताया कि उन्हेंं कपास व जीरी के बहुत कम दाम मिल रहे हैं। ये दाम इतने कम हैं कि इनसे फसल की लागत भी पूरी नहीं हो पा रही है। किसानों ने बताया कि कम भाव मिलने के कारण उन्हें प्रति एकड़ 15 से 20 हजार रूपये का नुकसान हो रहा है। किसानों ने सांसद से मांग की कि कपास व जीरी के कम भाव मिलने का मुद्दा आगामी लोकसभा सत्र में उठा कर केंद्र सरकार का ध्यान इस ओर दिलवाएं जिससे कि किसान और अधिक आर्थिक संकट में न फंसे। युवा सांसद ने किसानों को भरोसा दिलाया कि वे स्वयं न केवल इस मुद्दे को लोकसभा में उठाएंगे बल्कि केंद्र सरकार से मिलकर इस संबंध में बातचीत करेंगे। उन्होंने कहा कि जब तक देश का किसान खुशहाल और आर्थिक रूप से सुदृढ़ नही होगा तब तक देश तरक्की की रफ्तार नहीं पकड़ सकता। जरूरी है कि किसानों को उनकी फसलों के लाभकारी मूल्य मिलें, समय पर खाद, सिंचाई के लिए समूचित पानी व बिजली अच्छे व गुणवत्तायुक्त बीज, कीटनाशक मिलें। सरकार का दायित्व बनता है कि वह जितनी गंभीरता देश-प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए योजनाएं बनाने व उनके क्रियान्वन में गंभीरता दिखाती है, वैसी ही गंभीरता कृषि क्षेत्र में भी दिखाए। इस अवसर पर नगर परिषद चैयरमेन सुरेश कुक्कू, महावीर बागड़ी, योगेश शर्मा, महावीर शर्मा, आकाश चावला सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने जी न्यूज के रिपोर्टर शिवम भट्ट के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। उन्होंने दोनों घायल पत्रकारों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। शिवम भट्ट की सड़क हादसे में उस समय मौत हो गई थी जब वे बरवाला से करवरेज करने के बाद चंडीगढ़ जा रहे थे। 

Thursday, November 20, 2014

भाजपा प्रदेश पर कर्ज बताकर विकास में रोड़ा न अटकाएं : प्रदीप चौधरी



इंडियन नैशनल लोकदल के कालका से पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी व पंचकूला विधानसभा के रहे इनैलो प्रत्याशी कुलभुषण गायल बुधवार को बरवाला ब्लॉक के इनैलो कार्यकर्ताओ के साथ मटांवाली में बैठक की। उक्त नेताओं ने  बैठक में चुनावों के नतीजों पर मंथन हुआ, साथ ही प्रदीप चौधरी ने बरवाला खंड के कार्यकर्ताओ का चुनावों में इनैलो के लिए किए गए सहयोग समर्थन के लिए भी कार्यकर्ताओ का आभार जताया। इससे पूर्व बैठक में कई वरिष्ठ नेताओं ने भी अपने विचार रखें। कुलभुषण गोयल व प्रदीप  चौधरी ने संयुक्त रूप से कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए कहा  कि इस बात को नकारा नही जा सकता कि चुनावों मे इनैलो कार्यकर्ताओ ने बहुत कड़ी मेहनत की, इनैलो प्रत्याशी के खाते में हर वोट डलवाने के लिए बहुत मेहनत की। चौधरी ने कहा कि प्रदेश में भाजपा  की नई सरकार बन गई, जो लोगों की समस्याओं को गंभीरता से  समझे और उन समस्याओं का हल शीघ्र करें। क्योंकि जनता  कांग्रेस राज में बहुत गंभीर समस्याओं से दुखी है और जो भाजपा को परिणाम मिले, वो जनता की उम्मीद है कि उनके काम शीघ्र किए जाए। चौधरी ने कहा कि नई सरकार कर्ज का हवाला देकर अपनी जिम्मेदारी से बचने का काम न करें, क्योंकि केन्द्र  में भाजपा की सरकार है और ऐसे में कर्ज विकास के आगे आड़े नही आना चाहिए। इनैलो नेताओं ने अंत में कार्यकर्ताओ को 27 नवंबर को सुबह 11 बजे सैक्टर-12 स्थित चौधरी कॉम्पलैक्स  (विष्णु भवन) पंचकूला में होने वाले कार्यकर्ता सम्मेलन का भी न्यौता दिया और कहा कि कार्यकर्ताओ सम्मेलन में विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा शिरक्त करेगें। वहीं बैठक में बरवाला सतलोक आश्रम के बाहर पुलिसद्धारा मीडिया पर किए गए हमले की भी कड़े शब्दों में निंदा की गई। पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी व कुलभुषण गोयल ने कहा कि मीडिया प्रजातंत्र का चौथा स्तंभ है, जो समाज में हो रही गतिविधियों का आयना दिखाता है, यदि इस प्रकार से मीडिया पर पुलिस होगी तो यह बहुत गलत बात है। इस अवसर पर हलका प्रधान जितेन्द्र सैणी, डा. पदम खटौली, धर्मपाल मटांवाला, बक्षीश बिल्ला, पाला राम, जयपाल, रसीद बिल्ला, रमला, दवेन्द्र, सुखदेव, भाग सिंह, सफी मोहम्मद, लज्जा राम, गुरदास अलीपुर सहित काफी संख्या में कार्यकर्ताओ व पदाधिकारी मौजूद थे।

Wednesday, November 19, 2014

The attack on the media attack on democracy

Shri Ashok Arora, the State President of Indian National Lok Dal (INLD), has strongly condemned the unwarranted and brutal assault on the media by the State police at Satlok Ashram, Barwala. It is unfortunate that one of the four pillars of democracy, working within and approved norms, was obstructed from performing its duty of faithfully narrating the events of the day. He added that he fervently hoped that the handling of the media by the government was not a precursor of the events to come that might see the existence of only the State controlled media.
Shri Arora saw a clear pattern that had evolved before the actual assault on the media. While accusing the government of complicity in lowering the dignity of the judiciary and diminishing the majesty of law while dilly-dallying in the case of executing arrest warrants of Baba Ram Pal of Satlok Ashram he saw it as the culmination of a series of events that preceded the violent confrontation at the Ashram. In the run up to the Vidhan Sabha polls, the BJP leadership had sought the ‘blessings’ and electoral support from another self styled Godman and after reaping handsome dividends had paraded thirty of its winning candidates before the said Godman for further ‘blessings’.
In fact, Shri Arora said that for quite sometime now the BJP has been hobnobbing with sect leaders and self styled spiritualists to polarize and win votes. This also explains why the State administration perhaps hesitated in executing the warrants of arrest issued by the Punjab and Haryana High Court against Baba Ram Pal. This reluctance not only amounted to challenging the authority of the Hon’ble High Court but also was an attempt to lower its dignity.
Therefore the INLD strongly condemns the inertia, willful or induced, that has allowed  a simple case of law order to deteriorate into a situation where the judiciary and the State, both stand challenged.
बरवाला में प्रशासनिक तंत्र हुआ फेल : अभय चौटाला



प्रशासनिक अधिकारियों की लापरवाही के कारण बरवाला में संत रामपाल के आश्रम के बाहर जहां सैकड़ों लोग घायल हो गए वही प्रशासन की नाकामी भी साफ रूप से देखने को मिली है। यह बात ऐलनाबाद से विधायक अभय सिंह चौटाला ने अपने सिरसा स्थित आवास पर कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुनने उपरांत पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही। उन्होंने कहा कि बरवाला की घटना को रोका जा सकता था चंूकि सरकार नई थी लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों की अदूरदर्शिता के कारण इतनी बड़ी घटना घट गई। उन्होंने प्रदेश के लोगों से शांति व सौहार्द बनाए रखने की अपील भी की। उन्होने आश्रम के बाहर पुलिस द्वारा पत्रकारों की पिटाई की घटना की भी कड़े शब्दों में निंदा की। 
इनेलो नेता ने कहा कि वे इस मुददे पर कोई राजनीति करना नही चाहते। एक प्रश्न के ऊतर में उन्होने कहा कि यदि सरकार उनकी पार्टी से कोई राय लेती है तो वह प्रदेशहित में सरकार को अच्छी राय देगें। इस मौके पर उन्होंने कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुनकर ना केवल उनका मौके पर ही समाधान किया बल्कि उन्होने कार्यकर्ताओं से ये भी कहा कि बेशक इनेलो की सरकार नही आई है लेकिन आपके जायज कामों को करवाने की पूरी जिम्मेवारी हमारी है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे पार्टी को मजबूत करने के लिए सदैव तत्पर रहने के साथ-साथ पार्टी के पदाधिकारियों के साथ मिलकर सामाजिक कार्यो में भी बढ़ चढक़र भाग लें ताकि आमजन को पार्टी की तरफ से पूरा सहयोग मिल सकें। इस अवसर पर इनेलो विधायक मक्खन लाल सिंगला,विधायक रामचंद्र कंबोज,विधायक बलकौर सिंह, इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन, पूर्व मंत्री भागीराम, शहरी जिलाध्यक्ष प्रदीप मेहता,शहरी प्रधान मनोहर मेहता, इनेलो नेता वीरभान मेहता, पूर्व चेयरमैन अमीर चावला, महिला विंग की अध्यक्षा कृ ष्णा फौगाट, युवा अध्यक्ष धर्मवीर नैन, जिला महासचिव महावीर बागड़ी, तरसेम मिढ़ा, कृष्ण झोरड़, कश्मीर सिंह करीवाला, मधु चौहान, कमलेश सिंधु सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मौजूद थे।
मीडिया पर हुआ हमला लोकतंत्र पर हमला : अशोक अरोड़ा

इंडियन नेशनल लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष श्री अशोक अरोड़ा ने सतलोक आश्रम बरवाला के बाहर मीडिया पर राज्य पुलिस द्वारा अवांछित और बर्बरतापूर्ण हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रजातंत्र का चौथा स्तम्भ जब स्थापित दायरे के बीच रहकर जनता तक कार्रवाई का ब्यौरा देने का कर्तव्य निर्वहन कर रहा था, उसे अपना कर्तव्य निभाने से रोका गया। उन्होंने आशा वक्त की कि इस प्रकार की घटना आने वाले ऐसे समय का कोई संकेत नहीं दे रही जिसमें यह आशंका हो कि राज्य मीडिया को केवल नियंत्रित वातावरण में ही कार्य करने की अनुमति देगा। 
श्री अरोड़ा ने कहा कि मीडिया पर हमले से पूर्व का घटनाक्रम एक ऐसा ब्यौरा है जो चिंता का विषय है। उन्होंने एक तरफ तो सरकार पर न्यायपालिका की गरिमा को कम करने के प्रयासों में भागीदार बताया और साथ ही कहा कि सतलोक आश्रम के बाबा रामपाल को हिरासत में लेने के पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के वारंट को क्रियान्वित करने में जो देरी की गई उस से भी न्यायपालिका की गरिमा को आघात पहुंचा है। उन्होंने याद दिलाया कि विधानसभा के चुनावों के पूर्व भाजपा के नेतृत्व द्वारा स्वयंभू ‘भगवानों’ से आशीर्वाद प्राप्त किया गया था और उनमें से एक विशेष भगवान के समक्ष तो जीते हुए तीस विधायकों को पुन: आशीर्वाद के लिए प्रस्तुत किया गया था। 
श्री अरोड़ा ने कहा कि सच्चाई यह है कि एक लम्बे समय से भाजपा बाबाओं और मठों से सम्पर्क स्थापित किए हुए है ताकि उनकी आड़ में मतों की फसल बटोर सकें। इसी राजनीति के कारण राज्य सरकार बाबा रामपाल के विरुद्ध उच्च न्यायालय द्वारा जारी किए गए वारंट के तहत उन्हें गिरफ्तार करने में हिचक दिखा रही थी। इस हिचक से जहां माननीय उच्च न्यायालय की शक्ति को चुनौती देने का प्रयास किया गया वहीं इससे उसकी गरिमा को भी प्रभावित किया गया। इनेलो कड़े शब्दों में सरकार की कमजोरी की निंदा करती है जिस कारण न्यायपालिका और राज्य दोनों को ही आज चुनौती दी गई है।

क्षेत्र के विकास के लिए हर संभव कदम उठाए जाएंगे: संधू 

 इनलो विधायक दल के उपनेता एवं पूर्व कृषि मंत्री जसविन्द्र सिंह संधू ने हलका के  गांव खेड़ी शीशगरां, मागंना, धुलगढ़, गुलडैहरा, हेलवा, स्योंसर व रामगढ़ आदि गांवों में जाकर ग्रामीणों का उन्हें विजयी बनाने के लिए आभार जताया और उनकी समस्याओं को सुना और कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए हरसंभव कदम उठाऐ जाएगें। विधायक बनने के बाद पहली बार गांवों में पहुचने पर संधू का ग्रामीणों ने जोरदार स्वागत किया। संधू ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा चुनावी घोषणा पत्र में जनता से किए गए वायदों पर कितना खरा उतरती है इनेलो द्वारा इसका आकलन किया जा रहा है, जनता के हितों क ी अनदेखी बर्दास्त नही की जाएगी। बेरोजगार युवाओं को योग्यता के अधार पर रोजगार देने में भाजपा सरकार अगर पारदर्शिता रखती है तो सरकार का सहयोग करेंगे। बुजुर्गो को 2000 रूपये मासिक सम्मान पैंशन के  वायदे से मुकर कर सरकार द्वारा 1200 रूपये पैंशन देने व किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य न मिलने पर उन्होंने भाजपा सरकार की अलोचना की। उन्होंने हलका के लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए रोजाना लोगों के बीच में रहने का वायदा किया। इस मौके पर उनके साथ जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, हलका प्रधान कर्ण सिंह ईस्हाक, राजू रामगढ़ रोड़, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ट के प्रधान सोनी कश्यप, ओमप्रकाश वाल्मीकि, किसान प्रकोष्ट से सर्वजीत सिंह, महिन्द्र कंथला आदि कार्यकर्ता एवं ग्रामीण उपस्थित थे।

Tuesday, November 18, 2014

जनता से किए वादे जल्द होंगे पूरे : राजदीप फौगाट


 ¿éÙæß ·ð¤ â×Ø ÿæð˜æ ·¤è ÁÙÌæ âð ç·¤° »° ßæØÎæð´ ·¤æð ãUÚU ãUæÜÌ ×ð´ ÂêÚUæ ç·¤Øæ Áæ°»æÐ ØãU ÕæÌ ÎæÎÚUè ãUܷ𤠷ð¤ çߊææØ·¤ ÚUæÁÎè Ȥæñ»æÅU Ùð çßçÖóæ »æ´ßæð´ ×ð´ Šæ‹ØßæÎè ÎæñÚUæð´ ·ð¤ ÎæñÚUæÙ ·¤ãUèÐ çߊææØ·¤ ÚUæÁÎè Ȥæñ»æÅU ×´»ÜßæÚU ·¤æð ãUܷ𤠷𤠻æ´ß ÜæðãUÚUßæǸæ, ×æðÚUßæÜæ, §üU×ÜæðÅUæ, ·¤‹ãðUÅUè, âM¤Â»É¸U, âæÌæñÚU, çÙ×Üè, Öæ»ßè ×ð´ »ýæ×è‡ææð´ ·¤æ Šæ‹ØßæÎ ·¤ÚU ÚUãðU ÍðÐ §Uâ ÎæñÚUæÙ ©U‹ãUæðÙð´ »ýæ×è‡ææð´ ·¤è â×SØæ°´ Öè âéÙè ÌÍæ ÁËÎ â×æŠææÙ ·¤æ ¥æEæâÙ Öè çÎØæÐ çߊææØ·¤ ÚUæÁÎè Ùð »ýæ×è‡ææð´ ·¤æð âÕæðçŠæÌ ·¤ÚUÌð ãéU° ·¤ãUæ ç·¤ ÁÙÌæ âð ç·¤° ßæØÎæð´ ·ð¤ çÜ° ßð ÂêÚUè ÌÚUãU âð ß¿ÙÕhU ãñ´UÐ ÿæð˜æ ·¤è ÁÙÌæ ·¤æð ç·¤âè Öè Âý·¤æÚU ·¤è ÂÚÔUàææçÙØæð´ ·¤æ âæ×Ùæ ÙãUè´ ·¤ÚUÙð çÎØæ Áæ°»æÐ ©U‹ãUæðÙð´ ·¤ãUæ ç·¤ ÿæð˜æ ·ð¤ ÕðÚUæðÁ»æÚU Øéßæ¥æð´ ·ð¤ çÜ° Öè ÁËÎ âð ÁËÎ ÚUæðÁ»æÚU ·ð¤ ¥ßâÚU उपलब्ध ·¤ÚUßæ° Áæ°ð´»ðÐ ÚæÁÎè Ȥæñ»æÅU Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ãÚ ß»ü °ß¢ ÿæð˜æ ×ð´ â×æÙ çß·¤æâ ·¤æð »çÌ Îè Áæ°»èÐ ÚæÁÎè Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ßð ¿éÙæß âð ÂãUÜð ÁÙÌæ ·ð¤ Õè¿ ÚãUð, ¥Õ भी Üæð»æð´ ·ð¤ Õè¿ ÚãU·¤Ú ©UÙ·¤è âðßæ ·¤Úð´»ðÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ãUܷ𤠷ð¤ çß·¤æâ ×ð´ ·¤æð§ü ·¤âÚ ÙãUè´ ÀUæðǸUè Áæ°»èÐ §Uâ ¥ßâÚU ÂÚU ¥æð× âÚU´¿ §üU×ÜæðÅUæ, ÚUæ×çÙßæâ ç׿ü, ×ãðU‹Îý Áæ¹Ç¸, ×èÚU çâ´ãU ·¤æâÙè, ÚUæÁðàæ âÚU´¿ ¥ÅðUÜæ, àæçàæ ¿ÚU¹è, ÜèÜæ ÚUæ× ÇUæðãU·¤è, ÚUæ×È¤Ü ÇUæðãU·¤è, ãUßæçâ´ãU ¥ˆØæÚUÂéÚUæ, ÚU×ðàæ ß×æü ȤÌðãU»É¸U, çßÙæðÎ ×æðǸè, ¥ç×Ì ÕÚUâæÙæ, ·ë¤c‡æ ´¿ ÕÚUâæÙæ, ÚUæÁÕèÚU, Øæð»ðàæ §U×ÜæðÅUæ, ÚUæ·ð¤àæ ·¤Ü·¤Ü, Îðßð‹Îý §U×ÜæðÅUæ, â´ÁØ âæãêU, ¥Ùê ÇêÇUè, ÙßèÙ ×æðÚUßæÜæ, çÁÌð‹Îý, ×ðãUÚU çâ´ãU, ÁØçâ´ãU, ·ë¤c‡æ ¥ÅðUÜæ, ×æðçãUÌ âM¤Â»É¸U, ÙâèÕ âæÌæñÚU, ÚUçß‹Îý Ìÿæ·¤, àææS˜æè çÙ×Üè, ·¤æÜê çÙ×Üè, âˆØßæÙ çÙ×Üè, ¥çÙÜ Öæ»ßè, »ÚUèÕÎæâ §UˆØæçÎ Öè ©UÂçSÍÌ Íð
किसानों की बर्बाद हुई फसल का मिले उचित मुआवजा : अभय चौटाला


इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं ऐलनाबाद के विधायक चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि ऐलनाबाद हलके के गांवों में पेयजल की चल रही कमी से हरेक ग्रामीण त्रस्त है। इसका नकारात्मक प्रभाव बिजाई की जाने वाली गेहूं की फसल पर भी व्यापक रूप से पड़ रहा है। इस गंभीर स्थिति को देखते हुए सरकार को इलाके को सूखाग्रस्त घोषित करना चाहिए और किसानों केा उचित मुआवजा देना चाहिए। 
इनेलो विधायक मंगलवार को अपने विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों मिर्जापुर, थेड़ दया सिंह, थोबरिया, बेहरवाला, धोलपालिया, नीमला, काशी का बास व कर्मशाणा आदि गांवों में ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने विधानसभा चुनावों में ग्रामीणों द्वारा इनेलो को दिए गए समर्थन के लिए उनका आभार जताया। इनेलो विधायक ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि बेशक इनेलो सत्ता में नहीं है मगर पार्टी के हरेक कार्यकर्ता को प्रशासनिक स्तर पर पूरा मान स मान मिलेगा और उनके जायज काम रूकने नहीं दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र विकास से अछूता नहीं रहेगा और वे इलाकावासियों की प्राथमिक मांगों को विधानसभा में पुरजोर तरीके से उठाएंगे।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासन के दौरान सिरसा जिले से किए गए राजनीतिक भेदभाव के कारण यहां अपेक्षित विकास नहीं हो पाया मगर सत्ता परिवर्तन के बाद उन्हें मौजूदा सरकार से उम्मीद है कि वह राजनीतिक दुर्भावनाओं से ऊपर उठकर समुचित हरियाणा में समान विकास को तरजीह मिलेगी। इस अवसर पर उनके साथ इनेलो के जिलाध्यक्ष पदम जैन, रानियां के विधायक रामचंद्र कंबोज, कालांवाली के विधायक बलकौर सिंह, पूर्व विधायक भागीराम, कश्मीर सिंह करीवाला, तरसेम मिढ़ा मौजूद थे।

Monday, November 17, 2014

छात्र संघ चुनावों को लेकर इनसो प्रतिनिधिमण्डल मुख्यमंत्री से मिला



To,
Hon’ble Chief Minister,
Haryana.

Sub:     Holding of Election for Student Unions in State Colleges and Universities.
Sir,
It is extremely unfortunate and regrettable that no democratic elections have been held in the colleges and universities of Haryana for the college and university Students’ Unions since 1996. This is all the more unfortunate since our country has a rich tradition of students’ participation in the freedom struggle of this country. The list of teachers and students in that movement is long and distinguished.
This tradition had continued after the Independence and it is a matter of record that some of the most powerful peoples’ movements to secure the democratic rights of the people and ensure socio-economic justice for all were led by the Students’ Unions. The ‘Sampoorn Kranti’ of Lok Nayak Jai Prakash Narain was primarily composed of the students of this country. This movement was preceded by the uprising of the students of Gujarat against the then corrupt Chimanbhai Patel led Congress government of the state. Similarly in the eastern corner of the country the All Assam Students’ Union ushered in a revolutionary era that finally put an end to the secessionist movement in that state apart from putting democracy back on rails.
The world over the commitment of the youth towards community and its wellbeing is acknowledged and it remains a bounden duty of the authorities to ensure that this is channelized in the form of political involvement that leads to their greater participation in the democratic processes of the country. Any devious plan that deprives the students of this opportunity leads to tragic results.
The case in point is the suspension of Students’ Unions in Haryana in 1996. With no meaningful opportunities for the students being available, when the State slipped into one of the worst law and order situations posed by the ill advised implementation of prohibition policy, the students were the first victims since in the absence of any constructive and creative challenge they toyed with the excitement of breaking the law. The fall out of that period of 1996-99 continues to reverberate even today since even a cursory glance at the political scenario of the State today would reveal that there is not even a single leader who has emerged after having shouldered responsibility as a planner, motivator, debater and administrator at the micro level of democracy. The loss obviously is not just of the youth that lost opportunities of learning vital lessons in democracy but also of the society that lost opportunity to train future leaders and administrators.
It is fair to say that sixty percent of college students are naturally involved in community service activities. The next step is of political engagement and this is what is being deprived in Haryana. The result is that the space that should be occupied by students as a matter of fact too has been appropriated by people who often have very little element of community service. Any random survey would reveal that being more accessible and result-oriented they are a powerful force as community servants. However, the same cannot be said of their contribution as political activists since they are deprived of the kind of opportunity and training that they would have availed as elected representatives in their colleges and universities.
INSO represents Five Lac students of Haryana. This organization reflects the yearnings of the youth of Haryana and has been advocating through all available democratic channels to urge the successive State governments to ensure that the students who participate in democratic process in not only casting their votes in the elections to local bodies, State assembly and Parliament are also given an opportunity to vote for the Unions of the colleges and universities. If 18 year old students are old enough to participate in the Assembly and Parliament elections and are responsible for all their acts of omission and commission then they are old enough for running their own affairs as well.
Therefore, we urge you to lift the unreasonable and undemocratic ban on elections to the Students’ Unions and pave the way for the more meaningful, constructive and creative participation of the youth in running and assisting in the administration of the colleges and universities. The country is on the cusp of change; let not the youth lag behind.
Thanks
Dated: 17/11/2011                                                                                          Your’s Sincerely,
                                   

                                                                                            (Digvijay Singh Chautala)

इंडियन नेशनल लोकदल के छात्र संगठन इनसो का एक प्रतिनिधिमण्डल  राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला के नेत़ृत्व में सोमवार सुबह हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से उनके चंडीगढ़ स्थित निवास पर मिला और उन्हें एक ज्ञापन देकर हरियाणा में छात्र संघ चुनाव जल्द बहाल करवाए जाने की मांग की। मुख्यमंत्री को सौंपे गए ज्ञापन में इनसो प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री को बताया कि हरियाणा के विश्वविद्यालयों एवं विद्यालयों में 1996 से लेकर चुनाव नहीं हुए और यह इसलिए और भी ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश के स्वतंत्रता आंदोलन में छात्रों की भागीदारी की एक महान परम्परा रही है और छात्र व शिक्षकों का उस आंदोलन में विशेष योगदान रहा है। प्रतिनिधिमण्डल में दिग्विजय सिंह चौटाला के अलावा इनसो प्रभारी रणधीर चीका, इनसो के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप देशवाल, इनसो प्रवक्ता कुलदीप नारा व अन्य प्रमुख पदाधिकारी भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री के साथ इनसो नेताओं की बैठक करीब आधा घण्टा चली।
इनसो प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री को बताया कि इनसो में करीब पांच लाख छात्र सदस्य हैं। उन्होंने कहा कि अगर 18 वर्षीय छात्र देश की लोकसभा एवं विधानसभा के अलावा स्थानीय निकाय चुनावों में अपने मतदान का इस्तेमाल करके देश व प्रदेश की सरकार चुनने में अहम जिम्मेदारी निभाता है तो फिर उन्हें अपने छात्र संघ चुनावों के लोकतांत्रिक अधिकारों से क्यों वंचित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में कॉलेज छात्र सामुदायिक सेवाओं में हमेशा सक्रिय रहते हैं और उन्हें अपने अधिकारों का इस्तेमाल करने और छात्र संघ चुनावों पर लगाए गए गैर जरूरी व अलोकतांत्रिक प्रतिबंध को तुरंत हटाया जाए ताकि हरियाणा के छात्रों को भी देश व अन्य राज्यों के छात्रों के बराबर लोकतांत्रिक अधिकार का मौका मिल सके।
इनसो प्रतिनिधिमण्डल ने कहा कि देश में आजादी के बाद यह बात भी बेहद अहम है कि देश में जितने भी लोकतांत्रिक अधिकारों व सामाजिक, आर्थिक न्याय के लिए आंदोलन चले उनमें ज्यादातर का नेतृत्व छात्र संगठनों ने किया। लोकनायक जयप्रकाश नारायण द्वारा शुरू किए गए सम्पूर्ण क्रांति आंदोलन भी पहले छात्रों का ही आंदोलन था। यह आंदोलन छात्रों द्वारा गुजरात की भ्रष्ट कांग्रेस सरकार जिसका नेतृत्व चिमन भाई पटेल करते थे, के खिलाफ शुरू किया गया था। इतना ही नहीं असम में भी छात्र संगठनों द्वारा ही क्रांतिकारी आंदोलन शुरू किया गया जिससे उस राज्य में फिर से लोकतांत्रिक प्रक्रिया की बहाली हुई। इनसो प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री को बताया कि 1996 में सरकार की शराब बंदी नीति पूरी तरह से फेल हो गई और प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब होने पर सरकार ने सबसे पहले छात्र संघ चुनावों पर भी प्रतिबंध लगा दिया। 1996 से 1999 तक लगाया गया प्रतिबंध ज्यों का त्यों जारी है और इसी के चलते लोकतंत्र की बुनियाद माने जाने वाले छात्र संघ चुनावों की गैर मौजूदगी में अच्छे योजनाकार प्रोत्साहन देने वाले प्रशासक व परिचर्चा में भाग लेने वाले युवा नेताओं को समुचित अवसर नहीं मिल पाए।
नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला अपने धन्यवादी दौरे के दौरान जनता की समस्याओ से भी हुए रूबरू


ऐलनाबाद के विधायक एवं हरियाणा विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता अभय सिंह चौटाला ने सोमवार को अपना तीन दिवसीय धन्यवादी दौरा गांव बकरियांवाली से आरंभ किया। करीब एक दर्जन से अधिक गांवों में जाकर इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने न केवल ग्रामीणों का उन्हें विजयी बनाने के लिए आभार जताया बल्कि उनकी समस्याएं भी जानी। गांव बकरियांवाली, निर्बाण, रूपावास, रायपुरिया, बरासरी, जोड़कियां, कुताना, ढूकड़ा व जमाल आदि गांवों में अभय सिंह चौटाला ने विधानसभा चुनावों में इनेलो को दिए गए सहयोग के लिए ग्रामीणों का आभार जताया और क्षेत्र के विकास के लिए हरसंभव कदम उठाने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि अधिकांश गांवों में पेयजल संबंधी दिक्कतों से उन्हें दोचार होना पड़ रहा है और स्थिति इतनी गंभीर है कि उन्हें पीने का पानी भी खरीदना पड़ रहा है। इसके अलावा फसलों का भी उचित भाव उन्हें नहीं मिल रहा जिससे उनकी आर्थिक स्थिति डावांडोल हो रही है। 
इस पर इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि वे इस गंभीर मामले को विधानसभा में उठाएंगे और इसके हल के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे।  इस दौरान गांव जमाल में पत्रकारों से बातचीत करते हुए अभय सिंह चौटाला ने कहा कि  प्रदेशभर में किसानों की फसलों के उचित भाव न मिलने के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट का लागू न किया जाना है। उन्होंने राज्य सरकार से मांग की कि किसानों की दुर्दशा रोकने के लिए यह जरूरी है कि इस रिपोर्ट की सिफारिशों को शीघ्रातिशीघ्र लागू किया जाए और किसानों के आर्थिक जीवन स्तर को ऊपर उठाया जाए। इनेलो नेता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को इस दिशा में त्वरित कदम उठाना चाहिए क्योंकि उन्होंने अपने चुनावी घोषणापत्र में इस रिपोर्ट की सिफारिशों को हुबहू लागू करने की घोषणा की थी। 
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि उन्होंने विधानसभा में सरकार को किसानों की समस्याओं को हल करने में मदद के लिए एक महत्वपूर्ण सुझाव दिया था जिसमें केंद्र सरकार की ओर से गेहूं की फसल के लागत मूल्य में 50 फीसदी अतिरिक्त राशि जोडक़र किसानों को दी जाए ताकि उनकी आर्थिक स्थिति ठीक हो। उन्होंने कहा कि वे इस मुद्दे को लेकर गंभीर हैं और सरकार से निरंतर स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की मांग कर रहे हैं। इस धन्यवादी दौरे पर उनके साथ इनेलो के जिलाध्यक्ष पदम जैनए रानियां के विधायक रामचंद्र कंबोजए सिरसा के विधायक मक्खनलाल सिंगला, कालांवाली के विधायक बलकौर सिंह, पूर्व विधायक भागीराम, कश्मीर सिंह करीवाला, तरसेम मिढ़ा आदि पदाधिकारी थे।
हलके के पिछड़ेपन को दूर करेंगे : राजदीप 



दादरी हलके के विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि हलके के पिछड़ेपन को दूर किया जाएगा। बिजली, पानी व अन्य मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाने को लेकर वे प्रयासरत हैं। उन्होंने दावा किया कि हलके में विकास को बढ़ावा मिलेगा। यह बात उन्होंने सोमवार को धन्यवादी दौरे के दौरान गांव हलके के गांव पांडवान, मानकावास, अखत्यारपुरा, फतेहगढ़, मिर्च, साहुवास, घीकाड़ा, सौंफ, रावलधी में ग्रामीण सभाओं को संबोधित करते हुए कही। राजदीप फौगाट ने ग्रामीणों द्वारा विस चुनाव में समर्थन देने पर आभार जताया और कहा कि हलके के विकास के लिए विधानसभा में आवाज बुलंद की जाएगी तथा शिक्षा, चिकित्सा, खेल व अन्य मूलभूत सुविधाएं प्राथमिकता से मुहैया करवाई जाएंगी। राजदीप ने कहा कि युवाओं, बुजुर्गों, महिलाओं सहित हर वर्ग के हितों को सर्वाेपरि रखते हुए कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हलके की मेडिकल कालेज, सरकारी शिक्षण संस्थान व खेल स्टेडियम इत्यादि की मांग को पूरा करवाने के लिए आवाज बुलंद की जाएगी। इस अवसर पर उनके साथ इनेलो नेता रामनिवास मिर्च, नितिन जांघु, हवासिंह अखत्यारपुरा, मीरसिंह कासनी, शशि चरखी, रामफल डोहकी, लीलाराम डोहकी, संदीप पांडवान, राजबीर पांडवान, रामबख्श सरपंच, कृष्ण, सुरेश साहुवास, हरिसिंह साहुवास, धर्मेंद्र घीकाड़ा, रामोतार मिर्च, रणबीर फौगाट, प्रवीन पहलवान रावलधी, राजेश पोले, मा. सतीश, सुरेंद्र घीकाड़ा इत्यादि भी थे। 
नैना चौटाला ने डबवाली हल्के के कई गावों में किया धन्यवादी दौरा



डबवाली से नवनिर्वाचित विधायक नैना सिंह चौटाला ने सोमवार को डबवाली हलके का धन्यवादी दौरा शुरू किया। हलके के लोगों का आभार व्यक्त करते हुए विधायक नैना चौटाला ने कहा कि डबवाली हलके के लोगों ने उन्हें विजयी कर विधानसभा में भेजा है, इसके लिए वह हमेशा हलके के लोगों की ऋणी रहेंगी और हलके के लोंगों के लिए साथ कदम से कदम मिला कर वह उनके हित के लिए काम करेंगी। विधायक बनने के बाद पहली बार गांवों में पहुंचने पर नैना सिंह चौटाला का जोरदार स्वागत किया। आज नैना सिंह चौटाला ने ऐतिहासिक गुरूद्वारे चोरमार साहिब में माथा टेककर अरदास की। इस अवसर पर इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला भी थे। 
विधायक ने कहा कि जनता ने हलके से विजयी बना कर जता दिया है कि संघर्ष की घड़ी में डबवाली हलके की जनता इनेलो के खड़ी है। उन्होंने कहा कि इनेलो की बेशक सरकार न बनी हो परन्तु वह विपक्ष में रह कर हलके की जनता की आवाज उठाएंगी और उनके हितों के लिए संषर्घ करेंगी। 



उन्होंने कहा कि हलके की जनता ने उन्हें अपने परिवार की सदस्य मानते हुए विधानसभा में भेजा कर भरोसा जताया। उन्होंने लोगों को भरोसा दिलाया वह विधानसभा में हलके की जनता की आवाज बन कर उनके हितों की लड़ाई लड़ेगी। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास होगा कि महिलाओं के उत्थान के लिए वह प्राथमिकता के आधार पर काम करेंगी। नैना सिंह ने कहा कि लड़की पढ़ाओ, लड़की बचाओं को लेकर वह बेहद संजीदा हैं और इस मुद्दे पर वह गंभीरता से काम करेंगी। आज नैना सिह चौटाला ने गांव नूईयांवाली, ओढां, चोरमार, डबवाली गांव व डबवाली शहर का दौरा किया। 
इस अवसर पर दिग्विजय सिंह चौटाला ने भी नैना सिंह चौटाला को जीताने के लिए आभार जताया। उन्होंने कहा कि जनता ने भाजपा को सत्ता में बैठाया है और भाजपा के कार्यों का आकलन करेंगे कि भाजपा सरकार कितनी जनता की अपेक्षाओं पर खरी उतरती है। उन्होंने कहा कि हम पहले से ज्यादा संघर्ष कर जनता के हितों के लिए उनके साथ कदम से कदम मिला कर काम करेंगे।