Wednesday, April 30, 2014

प्रदेश में दिनों दिन बिगड़ रही है कानून व्यवस्था- अशोक अरोड़ा

चंडीगढ़। इनेलो ने हरियाणा में दिनोंदिन बिगड़ रही कानून व्यवस्था की स्थिति और प्रदेश में पूरी तरह जंगलराज पर चिंता जताते हुए सरकार से इस ओर ध्यान दिए जाने और लोगों की जानमाल की पूरी सुरक्षा उपलब्ध करवाए जाने की मांग की। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि हुड्डा सरकार को लोकसभा चुनाव में ही यह अहसास हो गया है कि तमाम तरह की तिकड़में लड़ाने के बावजूद प्रदेश से कांग्रेस व उसकी बी टीम का सुपड़ा साफ होने जा रहा है इसलिए मुख्यमंत्री व उनकी जुंंडली प्रदेशवासियों को पूरी तरह पुलिस प्रशासन व अपराधियों के रहमोकर्म पर छोडक़र जाते-जाते कुछ और घोटाले करने और पिछले घोटालों पर पर्दा डालने के लिए जुटे हुए हैं और उन्हें आम लोगों की कहीं कोई चिंता नहीं है।
इनेलो नेता ने कहा कि एक तरफ मंडियों में गेहूं का उठान न होने से प्रदेश में किसान, मजदूर व व्यापारी वर्ग बेहद परेशान है वहीं दूसरी ओर बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति और इसकी तरफ सरकार की बेरुखी को लेकर बुधवार को हिसार के व्यापारी वर्ग ने एकजुट होकर हिसार व्यापार संघ के नेतृत्व में हिसार पूरी तरह बंद रखकर यह दर्शा दिया कि अब प्रदेश की जनता इस भ्रष्ष्ट और निकम्मी सरकार को एक पल के लिए भी और सहन करने के लिए तैयार नहीं है। श्री अरोड़ा ने कहा कि सोनीपत जिले के गांव मंडोरी में एक शिक्षक की गला रेतकर हत्या किए जाने, पानीपत में एक महिला की हत्या होने, यमुनानगर में मंदबुद्धी बच्ची से बलात्कार का प्रयास, सिरसा में नाबालिग से दुष्क्रम और जींद में रेप पीडि़त युवती द्वारा जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास जैसी अनेक घटनाएं पिछले चौबीस घण्टों में घटी हैं और अखबारों की सुर्खियां बनी हंै। सरकार में बैठे लोग इन घटनाओं व प्रदेश में बिगड़ रही कानून व्यवस्था की स्थिति की तरफ ध्यान देने की बजाय सत्ता से जाते-जाते एक बार फिर प्रदेश को लूटने और अपने चहेतों को अहम पदों पर बिठाने के प्रयासों में लगे हुए हैं।
श्री अरोड़ा ने कहा कि आज हर कोई अपने आपको पूरी तरह असुरक्षित व असहाय मान रहा है और व्यापारी वर्ग की स्थिति सबसे ज्यादा खराब है। उनसे सरेआम फिरौतियां मांगी जा रही है और फिरौती न देने वालों को पुलिस व प्रशासन को सूचना के बावजूद खुलेआम गोलियों से भून दिया जाता है।  उन्होंने कहा कि हिसार, हांसी, रोहतक, कैथल, जींद, पानीपत, गुडग़ांव, फरीदाबाद जैसे तमाम शहरों में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकारी संरक्षण प्राप्त अपराधियों व असामाजिक तत्वों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि वे दिनदिहाड़े सरेआम हत्या, अपहरण, बलात्कार, फिरौती, लूटपाट व डकैती की घटनाओं को अंजाम देने में जरा भी डर महसूस नहीं करते और हुड्डा सरकार के साथ-साथ पुलिस व प्रशासन पूरी तरह मूकदर्शक बना हुआ है। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि आज प्रदेश की जनता इस सरकार से पूरी तरह नफरत करने लगी है और लोकसभा चुनाव में प्रदेशवासियों ने कांग्रेस का पूरी तरह सुपड़ा साफ कर दिया है और अब लोग विधानसभा चुनाव का इंतजार कर रहे हैं ताकि घपलों, घोटालें व भ्रष्टाचार में संलिप्त हुड्डा सरकार का पूरी तरह सफाया किया जा सके। इनेलो नेता ने कहा कि पिछले विधानसभा में प्रदेशवासियों ने कांग्रेस को मात्र 40 और विपक्ष के 50 विधायक जितवाकर हुड्डा सरकार के खिलाफ अपना फतवा दिया था। उन्होंने कहा कि खरीदोफरोख्त व जोड़ तोड़ के बलबूते सत्ता में आई हुड्डा सरकार ने आते ही दोनों हाथों से प्रदेश को लूटना शुरू कर दिया और किसानों की जमीनें बड़े-बड़े बिल्डरों  और भू-माफिया को देने के साथ ही प्रदेश के बार-बार मास्टर प्लॉन भी बदले गए। उन्होंने कहा कि पिछली बार इनेलो को अपने बलबूते पर 32 सीटें हासिल हुई थी और इस बार प्रदेश की जनता इनेलो को दो तिहाई से ज्यादा बहुमत दिलाकर प्रदेश में इनेलो की सरकार बनाएगी ताकि फिर से प्रदेश विकास की राह पर आगे बढ़ सके और कानून व्यवस्था की स्थिति में सुधार हो सके।

बिगड़ती कानून व्यवस्था व बढ़ते अपराध के विरोध में इनेलो ने किया हिसार बंद का समर्थन


हिसार। शहर में बढ़ रहे अपराधों पर लगाम लगाने में पुलिस प्रशासन व सरकार पूरी तरह से नाकाम रही है। जिस कारण अपराधियों के हौंसले बुलंद है व शहर में दहशत का माहौल बना हुआ है। व्यापारियों के साथ साथ आम नागरिक भी अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। शहर में आए दिन किसी भी समय किसी भी स्थान पर अपराधी लूटपाट, छीना झपटी की घटनाओं को अंजाम दे देते हैं। पुलिस प्रशासन पूरी तरह से पंगु साबित हो रहा है। इनेलो नेताओं ने पुलिस प्रशासन को आगाह करते हुए कहा कि व्यापारी से लूट हुए पांच दिन बाद भी आज तक लुटेरों का कोई सुराग नहीं लग रहा है। बदमाशों का आतंक इस कदर है कि लोग अपने घरों से बाहर निकलने से भी कतराते हैं। दिन के समय जो स्कूल अध्यापिकाएं छुट्टी के बाद घर आती है तो वे भी डरी सहमी घर पहुंचती हे। हर घटना के बाद पुलिस खाना पूर्ति करके फाइल को बंद कर देतेी है। सरकार में बैठे जन प्रतिनिधि भी इस ओर से बिलकुल आंखें मूंदे बैठे हैं। उन्होंने आगे कहा कि व्यापारी हितैषी होने का दंभ भरने वाली स्थानीय विधायक व मंत्री सावित्री जिंदल भी अब तक पांच दिन बीत जाने के बावजूद भी पीडि़त व्यापारी से मिलने नहीं आई और न ही इस संबंध में पुलिस को कोई कड़े निर्देश दिए। उन्होंने आरोप लगाया कि निकाय मंत्री बिलकुल नकारा साबित हुई है। वहीं अपने आप को व्यापारियों का खैरखवां बताने वाले और समय समय पर मुख्यमंत्री का अभिनंदन समारोह कराने वाले कैन्फेड चेयरमैन की इस मामले में चुप्पी इस बात को साबित करती है कि सरकार के प्रतिनिधि व्यापारियों की सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं है। इनेलो नेताओं ने आगे कहा कि व्यापारियों के द्वारा घोषित हिसार बंद को सफल बनाने में इनेलो कार्यकर्ता व्यापारियों का पूरा सहयोग व समर्थन करेगा। उन्होंन मांग की कि जल्द से जल्द अगर अपराधियों को नहीं पकड़ा गया तो इनेलो व्यापारियों के सहयोग से हिसार बंद के बाद बड़ा आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेगी।


हरियाणा में इनेलो व पंजाब में अकाली दल लहराएगा जीत का परचम

फतेहाबाद। इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रामराज मेहता ने दावा किया कि हरियाणा में इनेलो और पंजाब में अकाली दल बादल के प्रत्याशी लोकसभा चुनावों में जीत का रिकार्ड परचम लहराएंगे। उन्होंने बताया कि पंजाब में प्रचार के लिए इनेलो की तरफ से उनकी ड्यूटी आबोहर लगाई गई थी। पंजाब के विभिन्न क्षेत्रों में किए चुनाव प्रचार के दौरान लोगों में बादल सरकार के प्रति भारी स्नेह-समर्थन का माहौल देखा गया। उन्होने कहा कि पंजाब में विधानसभा चुनाव की तरह जनता एक बार फिर तमाम अफवाहों पर विराम लगाते हुए बादल सरकार के विकास कार्यों पर जीत की मुहर लगाने जा रही है। उन्होंने हरियाणा में भी इनेलो प्रत्याशियों की रिकार्ड जीत का दावा करते हुए कहा कि केंद्र में सरकार कोई भी बने, उस सरकार में हरियाणा से इनेलो सांसदों की भागीदारी अहम रहेगी।

क्षेत्र में बढ़ रही आपराधिक गतिविधियों के लिए सरकार व प्रशासन जिम्मेदारः दौलतपुरिया

फतेहाबाद। इनेलो हलकाध्यक्ष बलवान दौलतपुरिया ने फतेहाबाद क्षेत्र में लगातार बढ़ रही आपराधिक गतिविधियों पर चिंता व्यक्त करते हुए इसके लिए सीधे रूप से सरकारी एवं प्रशासनिक कमजोरी को जिम्मेवार ठहराया। उन्होंने कहा कि लचर कानून व्यवस्था के चलते ही शांति का प्रतिक माना जाने वाले फतेहाबाद की तस्वीर आज हत्या, चोरी, डकैती, वेश्यावृति जैसे संगीन मामलों के चलते लगातार बदल रही है। इनेलो हलकाध्यक्ष ने मांग की कि क्षेत्र की जनता को भयमुक्त माहौल देने के लिए जिला प्रशासन ठोस कदम उठाए। इनेलो हलकाध्यक्ष दौलतपुरिया ने कहा कि यह दुर्भाग्यपुर्ण आंकड़े ही कहे जाएंगे कि पिछले करीब तीन माह में ही शहर में आधा दर्जन हत्याओं के मामले प्रकाश में आए। चोरी, लूटमार, चेन स्नेचिंग जैसे आपराधिक मामले भी इस दौरान लोगों में दहशत का माहौल पैदा करते रहे। बावजूद इसके क्षेत्र में शांति व्यवस्था कायम करने में न तो किसी सत्तासीन नुमाईंदे ने इस माहौल को सुधारने का प्रयास किया और न ही जिला प्रशासन ने इस दिशा में कोई ठोस कदम उठाने की जहमत उठाई। उन्होंने कहा कि आज क्षेत्र के हालात इतने गंभीर हो चुके हैं कि जो मुख्य बाजार रात 9 बजे तक खुले रहते थे, आज उनके दुकानदार 7-8 बजे ही दुकानें बंद करने को मजबूर हो गए हैं। व्यापारी, किसान, मजदूर, महिला, आमजन सब इन घटनाओं से दहशत में हैं। उन्होंने प्रशासन से मांग की कि शहर के मुख्य बाजारों में पुलिस गश्त को बढ़ाया जाए। आवारा किस्म के संदिग्ध युवाओं पर नकेल कसने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं। उन्होंने कहा कि यदि जल्द क्षेत्र की कानून व्यवस्था को सुधारने के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए तो इनेलो संगठनात्मक स्तर पर आंदोलन करने को मजबूर हो जाएगी।

इनेलो नेताओं ने समस्याओं का पर्याय बन चुके सोनीपत में किया प्रदर्शन



सोनीपत। आम जनता समस्याओं से पूरी तरह ग्रसित है और आए दिन सड़कों पर उतरने को मजबूर है। सोनीपत जिला समस्याओं का पर्याय बन कर रह गया है। यह बात काठमंडी टिम्बर एसोसिएशन के प्रधान एवं इनैलो जिला प्रवक्ता पवन तनेजा ने मंडी क्षेत्र एवं मिशन चौंक पर प्रदर्शन कर रहे लोगों को संबोधित करते हुए कही। प्रदर्शनकारी प्रेमनारायण गुप्ता, फतेहचंद गर्ग, सुभाष चन्द्र गर्ग, यामिन,ज्ञान ङ्क्षसह राणा, मोहित राणा, उमेश गोयल, देवेन्द्र रोहिल्ला ,शिवकुमार ,पवन जैन, सुरेश जैन,चन्द्र प्रकाश,राकेश गोयल आदि ने बताया कि  मंडी क्षेत्र में बनाई जा रही सड़क में घटिया सामग्री का इस्तेमाल करने व सड़क का लेवल ठीक न किए जाने से व्यापारी वर्ग व आम जन अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है। हडबड़ी में बनाई गई सड़क आए दिन धंस जाती है और यहां से गुजरने वाले वाहनों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सीवरेज व पानी की लाईनों में खराबी के चलते जगह जगह पर गड्डे बने हुए हैं और प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है। मिशन चौंक पर भी सड़कों पर बिजली के खंभे पड़़े हुए हैं और अधिकारियों को बार बार निवेदन करने के बावजूद भी मामला ज्यों का त्यों है। सीवरों के मेन होल के ढक्कन खुले पड़े हैं और संबधित अधिकारियों से शिकायत करने के बावजूद भी उनकी समस्याओं का कोई निदान नहीं हो रहा। प्रदर्शन कारियों का नेतृत्व कर रहे पवन तनेजा ने कहा कि यदि इस मामले को सरकार ने गंभीरता से नहीं लिया तो इनैलो व्यापारियों के साथ मिलकर जनआंदोलन चलाएगी।


Tuesday, April 29, 2014

इनेलो गुड़गांव की जिला इकाई ने किया बैठक का आयोजन

चंडीगढ़। इनेलो श्रमिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विद्यानन्द लाम्बा की अध्यक्षता में आज इनेलो गुडग़ांव जिला इकाई की एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें निर्णय लिया गया कि हर वर्ष की भांति आगामी 1 मई वीरवार को सायं 4 बजे निखिल वाटिका, नजदीक फायर स्टेशन, सैक्टर 10 ऐ के सामने, गुडग़ांव में मजदूर सम्मेलन का आयोजन कर श्रमिक दिवस मनाया जायेगा। उक्त जानकारी देते हुए हरियाणा विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर एंव इनेलो के वरिष्ठ नेता गोपीचन्द गहलोत ने बताया कि आगामी 1 मई को आयोजित होने वाले मजदूर सम्मेलन में मुख्य अतिथि खेलरत्न एंव इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला होंगे तथा सम्मेलन को कर्मचारी नेता धारा सिंह, कर्मचारी नेता बलदेव घनघस सहित अन्य श्रमिक नेता भी सम्बोधित करेंगे। उन्होंने बताया कि गुडग़ांव में मजदूर दिवस मनाने के पीछे इनेलो की सोच है कि इनेलो पार्टी ने पूरी तरह से श्रमिक वर्ग के हितों की लड़ाई लडऩे का ऐलान किया है। चुनाव के समय में जब कांग्रेस घोषणा करती है तो ऐसा लगता है कि इन से बड़ा हितेषी कोई और नहीं हैं परन्तु जब नीति निर्धारित करने का समय आता है तो इनको बड़े बड़े ओद्योगिक घराने ही नजर आते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सत्ता के बदलाव की बयार चलाने में श्रमिक वर्ग के सहयोग और समर्थन की आवश्यकता है, स्व0 चौ0 देवीलाल जी ने तो अपनी राजनीति की शुरूआत ही मुजारा आन्दोंलन के मजदूरों के सहयोग से ही की थी उन्होनें खेतीहर मजदूरों के हितों के लिए आजीवन लड़ाई लड़ी तथा सत्ता के शिखर तक पंहुचे। उनकी नीतियों को लागू करने के लिए इनेलो पार्टी को मजदूर वर्ग के सहयोग की दरकार है। इस अवसर पर मजदूर प्रकोष्ठ के जिला संयोजक स्वर्ण धनखड़ ने बताया कि इनेलो के मजदूर प्रकोष्ठ की एक टीम तैयार की गई है जो गुडग़ांव की सभी कम्पनियों में जाकर प्रत्येक मजदूर से आगामी सम्मेलन को सफ ल बनाने के लिए आग्रह करेंगे।
आज की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनन्तराम तंवर, जिलाध्यक्ष रमेश दहिया, शहरी जिलाध्यक्ष राजेश सूटा, पटौदी विधायक गंगाराम, पूर्व विधायक भूपेन्द्र चौधरी, हल्काध्यक्ष सतबीर खटाणा पहलवान, कृष्ण यादव, अटलबीर कटारिया, रामनिवास राव एडवोकेट, सुनिता कटारिया, गजेसिंह कबलाना, राजेन्द्र धनखड़, जयसिंह अहलावत, नरेश घनघस, सतपाल पांचाल, सुशील सहरावत, समरजीत यादव, धर्मबीर बाघोरिया, नारायण सरपंच, श्रीनिवास, नरेश गोयल, भानाराम मलिक, रतीराम शर्मा, बेगराज गुर्जर एडवोकेट, मांगेराम चौहान, शकील अहमद, समसूल, मनीष रोहिल्ला, हीरालाल शर्मा, ओमप्रकाश पूनिया, दलबीर धनखड़ सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी एंव कार्यकर्ता उपस्थित थे।

इनेलो नेताओं ने मंडियों का दौरा कर किसानों व आढ़तियों की समस्याएं सुनी

चंडीगढ़। इनेलो नेताओं ने प्रदेशभर में मंडियों का दौरा किया और गेहूं की खरीद व उठान को लेकर किसानों व आढ़तियों को आ रही परेशानी को लेकर सरकार की आलोचना करते हुए गेहूं की उठान में तेजी लाए जाने की मांग की। उन्होंने किसानों को गेहूं के बोनस दिए जाने की भी मांग की। जींद के इनेलो जिला शहरी प्रधान भगवानदास ने नरवाना पुरानी अनाज मंडी, नई अनाज मंडी व मेला मंडी का दौरा किया और किसानों व आढ़तियों की समस्याओं से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा नियमों में तो बदलाव किया गया, लेकिन नियत में बदलाव नही किया गया जिसके कारण अनाज मंडियों में गेहूं उठान की समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। सरकार द्वारा गेहूं की सिलाई व लोडिंग आढ़तियों द्वारा करवाए जाने पर यह समस्या तो खत्म हो गई, लेकिन गेहूं के उठान की समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। 
उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार की गलत नीतियों के कारण किसान की गाढे खून-पसीने की कमाई गलियों में बिखरने को मजबूर है। जिस कारण किसान तो परेशान है ही और आढ़ती भी दो पाटों के बीच पीसकर रह गया है। जहां कई बार किसानों की फसल तुलने के बाद सरकार द्वारा 48 घंटे में उठान जरूरी होता है, लेकिन कई सप्ताह बीत जाने के बाद भी खरीद एजेंसी द्वारा नही उठाई जाती तो उसका खामियाजा आढ़तियों को भुगतना पड़ता है। किसानों का हितैषी होने का दावा करने वाला हरियाणा का मुख्यमंत्री भूपेंद्र ङ्क्षसह हुड्डा जहां दूसरे राज्यों के चुनाव प्रचार में मशगुल है वहीं मुख्यमंत्री की अनदेखी के चलते किसान व आढ़ती दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। अभी तक गेहूं का लगभग एक चौथाई भाग ही उठान हो पाया है बाकी गेहूं मंडियों में बिखर रहा है तथा मंडियों में हड़ताल जैसी स्थिति बनी हुई है। उन्होंने सरकार से मांग की कि जिस प्रकार से लोडिंग व सिलाई की जिम्मेवारी आढ़तियों को दी गई है उसी प्रकार गेहूं की ट्रांसपोर्ट की जिम्मेवारी भी आढ़तियों को दी जाए, ताकि आढ़तियों व किसानों को गेहूं उठान की समस्या से निजात मिल सके। इस मौके पर व्यापार प्रकोष्ठ के हलका प्रधान देवराज मित्तल, रामबिलास गर्ग, कृष्ण सिंगला, नरेश गोयल, महाबीर, नरेश जैन, जयभगवान ङ्क्षसगला, सुभाष, राजेंद्र, रामकुमार ङ्क्षसगला, बलवान नैन धमतान, कृष्ण चहल, रघबीर नैन, सतीश उझाना, छोटूराम बेलरखा, जसमेर जुलहेड़ा, केके मोर, बलराज दनौदा, समुंद्र ङ्क्षसह, भूपेंद्र मोर सहित काफी संख्या में आढ़ती व किसान मौजूद थे।
हिसार अनाज मंडी में अव्यवस्थाओं व फसल का उठान न होने पर इनेलो के राज्य महासचिव हनुमान गोयल ने कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि फसल की आवक तेज होने के कारण नई अनाजमंडी में पैर रखने की भी जगह नहीं है। गेहूं की सरकारी खरीद होने के बादवूद डीएफएससी और हैफेड जैसी सरकारी एजेंसियां उठान नहीं करवा रही। जिससे मंडी में अनाज लेकर आने वाले किसानों को फसल रखने की जगह नहीं मिल रही है। वहीं आढतियों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि मंडी में अव्यवस्थाओं का बोलबाला है और सुरक्षा राम भरोसे हैं। लेकिन पुलिस प्रशासन, अधिकारी व स्थानीय मंत्री व विधायक वातानुकुलित कमरों में आराम की नींद सो रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को बोनस भी नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने मांग की कि किसानों को गेहूं पर तीन सौ रुपए प्रति क्विंटल बोनस दिया जाए। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर किसानों व व्यापारियों की सुनवाई नहीं हुई तो इनेलो को आंदोलन छेडऩे पर विवश होना पड़ेगा। अम्बाला की अनाज मंडी में युवा इनेलो जिलाध्यक्ष संदीप राणा, धर्मपाल सैनी, राजेश शर्मा, श्याम सुंदर यादव, अंकित, अभिषेक, विक्की व लाली ने किसानों की समस्याओं को सुना। इधर, डबवाली, सिरसा, फतेहाबाद, टोहाना, कैथल सहित अन्य मंडियों में भी इनेलो नेताओं ने मंडियों का दौरा कर किसानों व आढ़तियों को पेश आ रही समस्याओं का जायजा लिया और सरकार से इस संबंध में तुरंत जरूरी कदम उठाए जाने व समय पर उठान निश्चित किए जाने की मांग की। 

इनेलो के प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्य चुनाव आयुक्त से की मुलाकात


चंडीगढ़। इनेलो के एक प्रतिनिधिमण्डल ने मंगलवार को देश के मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस सम्पथ से मुलाकात कर उन्हें देश की सेना व अर्धसैनिक बलों में कार्यरत हरियाणा से संबंधित जवानों को उनके वैधानिक व लोकतांत्रिक मतदान संबंधी अधिकार से वंचित किए जाने का मामला उठाते हुए एक ज्ञापन सौंपा और उनसे इस संबंध में तुरंत दखल दिए जाने व देश की रक्षा कर रहे जवानों को उनके मतदान के अधिकार दिलाने के लिए हर सम्भव प्रयास किए जाने की मांग की। इनेलो के आठ सदस्यीय प्रतिनिधिमण्डल का नेतृत्व इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने किया। इस प्रतिनिधिमण्डल में इनेलो सांसद रणबीर सिंह प्रजापति, नवनिर्वाचित इनेलो के राज्यसभा सांसद रामकुमार कश्यप, पूर्व सांसद तरलोचन सिंह, पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू, इनेलो के फरीदाबाद से लोकसभा प्रत्याशी व वरिष्ठ एडवोकेट आरके आनंद, पूर्व स्पीकर सतबीर सिंह कादियान व पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत भी शामिल थे। 
video

इनेलो नेताओं ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को बताया कि इस बार सैनिक जवानों को पोस्टल बैलेट आधे अधूरे पतों पर अथवा गलत पतों पर भेजे गए जो कि बिना डिलीवर हुए ही वापिस आ गए। इनेलो नेताओं ने हिसार संसदीय क्षेत्र का उदाहरण देते हुए बताया कि वहां पर करीब 7300 पोस्टल बैलेट भेजे गए थे जिनमें से 329 पोस्टल बैलेट सही पते पर पहुंचने के बाद सैनिकों द्वारा वापिस चुनाव अधिकारियों को भेज दिए गए जबकि करीब 2300 पोस्टल बैलेट अब तक आधे अधूरे अथवा गलत पतों के कारण बिना डिलीवर हुए ही वापिस लौट आए हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा को यह सौभाग्य हासिल है कि देश की सीमाओं की रक्षा के लिए हरियाणा के सबसे ज्यादा जवान फौज में भर्ती हैं और उन्हें उनके लोकतांत्रिक व संवैधानिक मतदान के अधिकार दिलवाना चुनाव आयोग व निर्वाचन अधिकारियों का दायित्व बनता है। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि सैनिकों को पेश आ रही इस दिक्कत को लेकर इनेलो ने 22 अप्रैल और 26 अप्रैल को हिसार लोकसभा क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी व प्रदेश चुनाव अधिकारी के साथ-साथ मुख्य चुनाव आयुक्त कार्यालय को भी एक शिकायत भेजकर इस संबंध में तुरंत उचित कार्रवाई किए जाने की मांग की गई थी। इनेलो नेताओं ने कहा कि समय रहते अधिकारियों के ध्यान में यह मामला लाए जाने के बावजूद इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की गई। इनेलो नेताओं ने कहा कि मतगणना 16 मई को होनी है और इसके लिए अभी तक भी पर्याप्त समय है ताकि सेना व अद्र्धसैनिक बलों में कार्यरत जवानों को उनके मौजूदा सही पतों और बटालियन व यूनिट के माध्यम से अगर मत पत्र भिजवाए जाएं तो निश्चित तौर पर सेना के जवानों को उनके लोकतांत्रिक व संवैधानिक अधिकारों की रक्षा की जा सकती है। उन्होंने कहा कि वैसे भी यह हमारा फर्ज बनता है कि मातृभूमि की रक्षा के लिए देशभर में तैनात समर्पित सैनिकों को उनके अधिकारों से वंचित किए जाना किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता। इसलिए इस दिशा में और ज्यादा कारगर व फौजी कदम उठाए जाने चाहिए ताकि सेना के जवानों के हौसले पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े। 
श्री अरोड़ा ने बताया कि इनेलो प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को इस संबंध में एक ज्ञापन भी सौंपा और उनकी बात को पूरी तरह ध्यान से सुनने के बाद भरोसा दिलाया कि वे इस दिशा में फौरन कार्रवाई करेंगे। मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने प्रतिनिधिमण्डल को बताया कि वैसे भी चुनाव आयोग ने इस बार यह हर सम्भव प्रयास किया है कि ज्यादा से ज्यादा लोग मतदान में भाग लें और उन्हें मतदान में भाग लेने के लिए प्रत्येक सम्भव सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं। बाद में निर्वाचन सदन के बाहर पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री अरोड़ा ने कहा कि इनेलो सैनिक जवानों की समर्पण भावना और उनके बलिदान के जज्बे की बेहद कदर करती है और इसीलिए उनके संवैधानिक व लोकतांत्रिक अधिकारों की लड़ाई को  जारी रखे हुए है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी सिर्फ वोट की राजनीति नहीं करती बल्कि अपने सामाजिक दायित्व के प्रति भी हमेशा पूरी जिम्मेदारी के साथ अपना फर्ज निभाती रही है।

प्रदेश में रोहतक मंडी की हालत सबसे खराब, न बिजली न पानी और न किसानों के बैठने की व्यवस्था

रोहतक। इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता व जिलाध्यक्ष सतीश नांदल ने कहा कि पूरे प्रदेश की मंडियों में सबसे खस्ता हालत रोहतक की मंडी की है। जहां न बिजली, पानी है न किसानों के बैठने की व्यवस्था है न सुरक्षा है। श्री नांदल आज रोहतक अनाज मंडी में इनेलो नेताओं के साथ पहुंचे और मंडी का जायजा लिया। उन्होंने मंडी में मौजूद आढ़तियों, किसानों से बात की। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री चौ ओमप्रकाश चौटाला ने इस मंडी का निर्माण करवाया था। वर्तमान सरकार इस मंडी में सुधार की तो बात छोडिय़े रख-रखाव तक नहीं कर पा रही है। मंडी में न किसानों के लिए उचित पेयजल की व्यवस्था है न बैठने की। साथ ही मंडी की चार दीवारी छोटी हो चुकी है उसे ठीक करवाये जाने की जरूरत है। इस तरफ भी सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया है। नांदल ने कहा कि मंडी पूरी तरह से असुरक्षित है। कल एक किसान से दिन दहाड़े मंडी परिसर से पैसे लूटे गये हैं। यदि सरकार समय रहते मंडी में बैंक सुविधा उपलब्ध करवा देती तो इस तरह की घटनाओं को रोका जा सकता था। उन्होंने कहा कि पूरा मंडी परिसर वे घूमे हैं लेकिन कहीं कोई पुलिसकर्मी नजर नहीं आया। नांदल ने कहा कि अब कुछ ही महीने बचे हैं । जल्द ही प्रदेश में इनेलों की सरकार होगी और जो असुविधा किसानों को हो रही है उसे तुरंत दूर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मंडी की चार दीवारी ऊंची की जाएगी जहां तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी और मंडी परिसर में बैंक भी स्थापित किया जाएगा। इस अवसर पर मीडिया से बातचीत करते हुए नांदल ने कहा कि रोहतक में अपराध का ग्राफ निरंतर बढ़ रहा है। अपराधियों के हौंसले इतने बुलंद हैं कि वे जज के घर भी चोरी करने से नहीं चूकते। सतीश नांदल ने कहा कि मुख्यमंत्री को पुलिस अधिकारियों को असामाजिक तत्वों से सख्ती से निपटने के निर्देश देने होंगे ताकि जनता सुकुन से रह सके। अन्यथा जनता को अपने हकों के लिए सड़कों पर उतरना आता है। सतीश नांदल ने कहा कि शहर की जनता हर रोज बढ़ रही अपराधिक वारदातों से त्रस्त है। लोग खुद को असुरक्षित समझ रहे हैं। पुलिस प्रशासन को ऐसे में जरूरत है अपराधियों के साथ स ती से निपटने की। इस अवसर पर उनके साथ अनाजमंडी प्रधान मनोज, हल्का अध्यक्ष राजेश सैनी, डा नफे सिंह लाहली, पूर्व विधायक सरिता नारायण सूरत सिंह खटक, नागाराम बाल्मिकी, अभीजीत खुराना, विरेन्द्र कन्हेली, जे पी भाली, सत्यप्रकाश बिसला, संदीप खत्री, सुशील इन्दौरा, जय सिंह शिमली, दलेल ढाका, महेन्द्र सुंडाना, राजन बोहत, महावीर कुंडू, करतार मलिक, जितेन्द्र गहलौत, सुदेश ठेकेदार, विजय हुड्डा, राजेश सुंडाना दि प्रमुख रूप से मौजूद थे।

इनेलो विधायक प्रदीप चौधरी 2 मई को कार्यकर्ताओं के साथ करेंगे बैठक

पंचकूला। रायपुररानी-बरवाला क्षेत्र में मक्खियों की गंभीर समस्या से लोगों को छुटकारा मिले इसको लेकर इंडियन नेशनल लोकदल 2 मई को सुबह 11 बजे रायपुररानी में पार्टी के कार्यकर्ताओं, नेताओं, समर्थकों और पार्टी से सहानुभुति रखने वालों के साथ रणनीति तैयार करेगी और कार्यकर्ताओं के साथ रणनीति पर विचार-विमर्श करने के लिए बैठक आयोजित की जाएगी। इनेलो के कालका से विधायक प्रदीप चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि रायपुररानी व बरवाला क्षेत्र में मक्खियों की समस्या बहुत गंभीर बनी हुई है। प्रशासन केवल निर्देश और चेतावनियों तक ही सीमित रह गया है, समस्या के जि मेदार लोगों पर स त नही है। उन्होंने कहा कि दशकों से चली आ रही मक्खियों की गंभीर समस्या से छुटकारा कैसे पाया जाए, इसके लिए कार्यकर्ताओं, नेताओं, पदाधिकारियों के साथ विचार-विमर्श किया जाएगा, मीटिंग में जो भी तय होगा, इनेलो लोगों के हितों को लेकर प्रशासन के कानो तक अपनी आवाज पहुंचाएगी और समस्या के लिए हर संघर्ष करेगी।

आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में हुई सुनवाई


ऐलनाबाद। आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन मामले में मंगलवार को दोनों पक्षों ने सहायक निर्वाचन अधिकारी एवं एसडीएम के कार्यालय में पेश होकर अपने पक्ष में जवाब सौंपा। सहायक निर्वाचन अधिकारी सुभाष श्योराण ने इस मामले में आगामी 7 मई को सुनवाई तय की है। इससे पूर्व सुबह शिकायतकर्ता इनेलो पक्ष के दर्जनों लोग पूर्व मंत्री भागीराम, हल्काध्यक्ष अभयसिंह खोड के साथ एसडीएम कार्यालय पहुंचे। उन्होंने सहायक निर्वाचन अधिकारी एवं एसडीएम सुभाष श्योराण को मतदान के दिन की एक सीडी भी सौंपी। बताया जाता है कि इस सीडी में कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष सतपाल मैहता को अपनी निजी गाड़ी लेकर मतदान केंद्र की 200 मीटर की परिधि के भीतर दिखाया गया है। वहीं उन्हें बाकायदा मतदान केंद्रों के भीतर जाते भी दिखाया गया है। इनेलो की ओर से सहायक निर्वाचन अधिकारी से ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सतपाल मैहता के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई। इनेलो पक्ष में पूर्व शहरी अध्यक्ष अशोक ब्यूटी, प्रवक्ता प्रवीण फुटेला, मुरारीलाल पोहड़केवाला, ओपी पारीक, भंवरलाल सिकरिया, एडवोकेट राजकुमार खत्री, अनेत पंवार, सचिन जांगड़ा, विजय अटवाल, दारासिंह सिकलीगर, चंद्रशेखर शर्मा, महेश शर्मा सहित अन्य कई कार्यकर्ता थे। दूसरी ओर सतपाल मैहता भी अपने साथ कई कांग्रेसी नेताओं को लेकर पहुंचे। सतपाल मैहता ने दो पेज का अपना अंग्रेजी में लिखित जवाब पेश करते हुए इस मामले में स्वयं को निर्दोष बताया। सतपाल मैहता ने अपने जवाब में लिखा है कि इनेलो से जुड़े लोग राजनैतिक प्रतिद्वंद्वता के चलते उन पर आरोप लगा रहे हंै जबकि उन्होंने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया है। मतदान के दिन उनके पास सभी जरूरी कागजात थे। उनके साथ डा. नथमल गोयल, डा. राजेश अरोड़ा, मोहन कामरा, मदन सुथार, नंदलाल वर्मा, आत्म प्रकाश छाबड़ा, राजेंद्र सरदाना, भूषण नंबरदार सहित अन्य कई कार्यकर्ता थे। दोनो पक्षों के जवाब आने के बाद सहायक निर्वाचन अधिकारी एवं एसडीएम सुभाष श्योराण ने दोनों पक्षों को आगामी 7 मई को सुबह 11 बजे उनके कार्यालय में उपस्थित होने के आदेश दिए हैं। गौरतलब है कि इनेलो ने ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सतपाल मैहता पर गत 10 अप्रैल को मतदान के दिन आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए सहायक निर्वाचन अधिकारी एवं एसडीएम सुभाष श्योराण को लिखित शिकायत दी थी। जिस पर श्योराण ने दोनों पक्षों को लिखित नोटिस जारी कर 25 अप्रैल को सुबह 11 बजे अपने कार्यालय में बुलाकर अपने पक्ष रखने के आदेश दिए थे। लेकिन उस दिन सहायक निर्वाचन अधिकारी के किसी आवश्यक बैठक में चले जाने से यह सुनवाई नहीं हो सकी थी।

इनेलो नेता ने किसानों व आढ़तियों से मिलकर उनकी समस्याएं सुनीं


नरवाना। इनेलो पार्टी के जिला शहरी प्रधान भगवानदास नरवाना ने पुरानी अनाज मंडी, नई अनाज मंडी व मेला मंडी का दौरा किया और किसानों व आढ़तियों की समस्याओं से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा नियमों में तो बदलाव किया गया, लेकिन नियती में बदलाव नही किया गया जिसके कारण अनाज मंडियों में गेहूं उठान की समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। सरकार द्वारा गेहूं की सिलाई व लोडिंग आढ़तियों द्वारा करवाए जाने पर यह समस्या तो खत्म हो गई, लेकिन गेहूं के उठान की समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार की नीतियों के कारण किसान की गाढे खून-पसीने की कमाई शहर की गलियों में बिखरने को मजबूर है। जिस कारण किसान तो परेशान है ही और आढ़ती भी दो पाटों के बीच पीसकर रह गया है। जहां कई बार किसानों की फसल तुलने के बाद सरकार द्वारा 48 घंटे में उठान जरूरी होता है, लेकिन कई सप्ताह बीत जाने के बाद भी खरीद एजेंसी द्वारा नही उठाई जाती तो उसका खामियाजा आढ़तियों को भुगतना पड़ता है। किसानों का हितेषी बनने वाला हरियाणा का मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा जहां दूसरे राज्यों के चुनाव प्रचार में मशगुल है वहीं मुख्यमंत्री की अनदेखी के चलते किसान व आढ़ती दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। अभी तक खाद्य आपूर्ति विभाग एजेंसी द्वारा 3 लाख 2 हजार कट्टों की खरीद की और उठान हुआ 1 लाख 52 हजार कट्टों का, हरियाणा एग्रो द्वारा 4 लाख 75 हजार कट्टों की खरीद की तथा उठान 1 लाख 68 हजार कट्टों का हुआ। हेफड की खरीद 2 लाख 75 हजार, उठान 1 लाख 60 हजार कट्टों का हुआ। अभी तक गेहूं का लगभग एक चौथाई भाग ही उठान हो पाया है बाकी गेहूं मंडियों में बिखर रहा है तथा मंडियों में हड़ताल जैसी स्थिति बनी हुई है। उन्होंने सरकार से मांग की कि जिस प्रकार से लोडिंग व सिलाई की जिम्मेवारी आढ़तियों को दी गई है उसी प्रकार गेहूं की ट्रांसपोर्ट की जिम्मेवारी भी आढ़तियों को दी जाए, ताकि आढ़तियों व किसानों को गेहूं उठान की समस्या से निजात मिल सके। इस मौके पर व्यापार प्रकोष्ठ के हलका प्रधान देवराज मित्तल, रामबिलास गर्ग, कृष्ण सिंगला, नरेश गोयल, महाबीर, नरेश जैन, जयभगवान ङ्क्षसगला, सुभाष, राजेंद्र, रामकुमार ङ्क्षसगला, बलवान नैन धमतान, कृष्ण चहल, रघबीर नैन, सतीश उझाना, छोटूराम बेलरखा, जसमेर जुलहेड़ा, केके मोर, बलराज दनौदा, समुंद्र सिहं, भूपेंद्र मोर सहित काफी संख्या में आढ़ती व किसान मौजूद थे।

प्रदेश में कभी भी बज सकता है विधानसभा का चुनावी बिगुलः इनेलो नेता बलवीर सैनी

ढ़ांड। कुरूक्षेत्र लोकसभा सीट से इनेलो प्रत्याशी व पूर्व मंत्री बलवीर सैनी ने कहा कि कार्यकर्ता लोकसभा चुनावों की तरह विधानसभा चुनावों की तैयारियों में जुट जाए ताकि विधानसभा चुनावों में जीत का परचम लहराया जा सके। उन्होने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे हर समय विधानसभा चुनावों के लिए तैयार रहें, क्योंकि किसी भी समय प्रदेश में विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है। लोकसभा चुनावों के साथ-साथ प्रदेश में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस का सूपड़ा पूरी तरह से साफ हो जाएगा। इनेलो ने वरिष्ठ नेता बलवीर सैनी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में इंडियन नेशनल लोक दल की सरकार बनेगी। साथ ही इंडियन नेशनल लोक दल लोकसभा चुनावों में भी सर्वाधिक सीटे जितने के साथ-साथ विधानसभा में स्पष्ट बहुमत के साथ सत्ता में आएगी। लोकसभा चुनावों में होने वाली जीत लोकसभा प्रत्याशियों के साथ-साथ हर एक कार्यकर्ता की जीत होगी। उन्होने कहा कि बगैर कार्यकर्ताओं के कोई भी पार्टी सफल नहीं हो सकती है। कार्यकर्ताओं का पार्टी को जीत दिलाने में विशेष योगदान होता है। प्रदेश में सिर्फ इनेलो के नाम की लहर चल रही है जो जल्द ही आंधी में तब्दली होने वाली है। 36 की पार्टी इनेलो के पक्ष में लोगों ने मतदान करके यह साबित कर दिया है कि वे प्रदेश का अगला मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला को देखना चाहते हैं। प्रदेश की जनता कांग्रेस को सत्ता से बाहर करने का संकल्प ले चुकी है। जनता अच्छे से जानती है कि देश में सबसे अधिक शासन कांग्रेस ने किया है, लेकिन उसके बाद भी देश में आज मंहगाई व बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है। जनता कांग्रेस को पूरी तरह से नकार चुकी है। 

इनेलो ने मंडियों में अव्यवस्था व फसल का उठान न होने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की

हिसार। हिसार अनाज मंडी में अव्यवस्थाओ व फसल का उठान न होने पर इनेलो के राज्य महासचिव हनुमान गोयल ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। गोयल ने कहा कि फसल की आवक तेज होने के कारण नई अनाजमंडी में पैर रखने की भी जगह नहीं है। गेहूं की सरकारी खरीद होने के बादवूद डीएफएससी और हैफेड जैसी सरकारी एजेंसियां उठान नहीं करवा रही। जिससे मंडी में अनाज लेकर आने वाले किसानों को फसल रखने की जगह नहीं मिल रही है। वहीं आढतियों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि मंडी में अव्यवस्थाओं का बोलबाला है और सुरक्षा राम भरोसे हैं। लेकिन पुलिस प्रशासन, अधिकारी व स्थानीय मंत्री व विधायक वातानुकुलित कमरों में आराम की नींद सो रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को बोनस भी नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने मांग की कि किसानों को गेहूं पर तीन सौ रुपए प्रति क्विंटल बोनस दिया जाए। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर किसानों व व्यापारियों की सुनवाई नहीं हुई तो इनेलो को आंदोलन छेडऩे पर विवश होना पड़ेगा।

इनेलो ने बढ़ते अपराध के विरोध में शहर बंद करने का किया आह्वान

हिसार। इनेलो के जिलाध्यक्ष उमेद लोहान व शहरी जिलाध्यक्ष हनुमान ऐरन ने शहर में दिनों दिन बढ़ रहे अपराध व अपराधियों पर लगाम लगाने को लेकर व्यापारियों द्वारा 30 अप्रैल को हिसार बंद का समर्थन किया है। एक संयुक्त बयान में उन्होंने कहा कि शहर में बढ़ रहे अपराधों पर लगाम लगाने में पुलिस प्रशासन व सरकार पूरी तरह से नाकाम रही है। जिस कारण अपराधियों के हौंसले बुलंद है व शहर में दहशत का माहौल बना हुआ है। व्यापारियों के साथ साथ आम नागरिक भी अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि शहर में आए दिन किसी भी समय किसी भी स्थान पर अपराधी लूटपाट, छीना झपटी की घटनाओं को अंजाम दे देते हैं। पुलिस प्रशासन पूरी तरह से पंगु साबित हो रहा है। इनेलो नेताओं ने पुलिस प्रशासन को आगाह करते हुए कहा कि व्यापारी से लूट हुए पांच दिन बाद भी आज तक लुटेरों का कोई सुराग नहीं लग रहा है। बदमाशों का आतंक इस कदर है कि लोग अपने घरों से बाहर निकलने से भी कतराते हैं। दिन के समय जो स्कूल अध्यापिकाएं छुट्टी के बाद घर आती है तो वे भी डरी सहमी घर पहुंचती हे। हर घटना के बाद पुलिस खाना पूर्ति करके फाइल को बंद कर देतेी है। सरकार में बैठे जन प्रतिनिधि भी इस ओर से बिलकुल आंखें मूंदे बैठे हैं। उन्होंने आगे कहा कि व्यापारी हितैषी होने का दंभ भरने वाली स्थानीय विधायक व मंत्री सावित्री जिंदल भी अब तक पांच दिन बीत जाने के बावजूद भी पीडि़त व्यापारी से मिलने नहीं आई और न ही इस संबंध में पुलिस को कोई कड़े निर्देश दिए। उन्होंने आरोप लगाया कि निकाय मंत्री बिलकुल नकारा साबित हुई है। वहीं अपने आप को व्यापारियों का खैरखवां बताने वाले और समय समय पर मुख्यमंत्री का अभिनंदन समारोह कराने वाले कैन्फेड चेयरमैन की इस मामले में चुप्पी इस बात को साबित करती है कि सरकार के प्रतिनिधि व्यापारियों की सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं है। इनेलो नेताओं ने आगे कहा कि व्यापारियों के द्वारा घोषित हिसार बंद को सफल बनाने में इनेलो कार्यकर्ता व्यापारियों का पूरा सहयोग व समर्थन करेगा। उन्होंन मांग की कि जल्द से जल्द अगर अपराधियों को नहीं पकड़ा गया तो इनेलो व्यापारियों के सहयोग से हिसार बंद के बाद बड़ा आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेगी।

Monday, April 28, 2014

सिख समाज के कल्याण के लिए किया गया है संस्था का गठनः इनेलो नेता ओंकार सिहं


अंबाला कैंट। प्रदेश में सिख समाज के कल्याण के लिए संस्था के कार्यकर्ता एकजुट हो गए हैं। इसी को लेकर कैंट के बीसी बाजार गुरुद्वारा में बैठक हुई, जिसमें सक्रिय कार्यकर्ताओं का चयन किया गया। संस्था में इन कार्यकर्ताओं को जल्दही पदभार सौंपे जाएंगे। बैठक में इनेलो जिला प्रधान शहरी ओंकार सिंह ने कहा कि यह सामाजिक संस्था सिख समाज के कल्याण के लिए संस्था का गठन किया गया है। यह संस्था सिख समाज के जरूरतमंद बच्चों की शिक्षा, यूनिफार्म आदि का खर्च वहन करेगी। इसके अलावा संस्थान समाज के उन लोगों की भी मदद करेगी, जिनको चिकित्सा की जरूरत है और वे इस में समर्थ नहीं है। संस्था ऐसे लोगों को आर्थिक मदद भी करेगी। इसी तरह जरूरतमंद कन्याओं की शादी का जिम्मा भी संस्था उठायेगी। संस्था इनका खर्च भी उठायेगी। उन्होंने बताया कि संस्था समाज के लोगों को लीगल सहायता भी देगी। किसी भी मामले में यदि समाज के लोगों को कानूनी सहायता चाहिये, तो बेहतर से बेहतर वकील देने की सलाह दी जाएगी। इसी तरह अन्य सामाजिक गतिविधियों में संस्था के सदस्य सक्रिय रहेंगे। ब्रह्मजीत सिंह खालसा ने कहा कि समाज का एक कमजोर वर्ग है, जो आर्थिक हालातों के चलते आगे नहीं आ सकता है। इसी को देखते हुए 'सिख समाज नाम से संस्था का गठन किया गया है। यह संस्था मात्र सिख समाज के लोगों के लिए नहीं बल्कि समाज के हर उस व्यक्ति के लिए है, जो किसी भी कारण से खुद को असहाय महसूस कर रहा है। संस्था जाति व धर्म के भेदभाव से ऊपर उठकर समाज की भलाईे कार्य करेगी। संस्था का उद्देश्य जनकल्याण है। बैठक में ब्रह्मजीत सिंह खालसा, ओंकार सिंह, सुदर्शन सिंह सहगल, हरजिंदर सिंह छतवाल, गुरपाल सिंह, विक्की गरीब, राजा जी, जीत सिंह, दमनप्रीत सिंह, अमर सिंह नूर, सुखप्रीत सिंह सेठी, मन्नी कोहली, अवनीत सिंह, परमिंदर सिंह, नवजिंदर सिंह, तरनप्रीत सिंह, अमरीक सिंह, बलविंदर कालड़ा, इंद्रजीत सिंह, हरदेव सिंह, जसपाल सिंह, रणजीत सिंह, सिमरनजीत सिंह, मंजीत पंजोखरा, रतन सिंह शाहपुर, मंजीत सिंह मछौंडा, हरचरण सिंह गरनाला, राजेंद्र पाल सिंह, तरविंदर सिंह को संस्था में शामिल किया गया है, जिनको पद की जिम्मेदारी जल्द ही सौंप दी जाएगी। 

इनेलो का प्रतिनिधिमण्डल मुख्य चुनाव आयुक्त से मिलकर सैनिकों के पोस्टल बैलेट गलत पते पर भेजने की करेगा शिकायत

चंडीगढ़। इनेलो नेताओं का एक प्रतिनिधिमण्डल इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं ऐलनाबाद के विधायक चौधरी अभय सिंह चौटाला व इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा के नेतृत्व में मंगलवार 29 अप्रैल को नई दिल्ली में देश के मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस सम्पथ से मिलकर सेना में कार्यरत सैनिकों के पोस्टल बैलेट गलत पते पर भेजकर उन्हें उनके संवैधानिक व लोकतांत्रिक अधिकारों से वंचित किए जाने के मामले को निजी रूप से उठाएगा और इस संबंध में तुरंत जरूरी कार्रवाई किए जाने की मांग करेगा। प्रतिनिधिमण्डल में हरियाणा के पूर्व स्पीकर सतबीर सिंह कादियान, हरियाणा के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत, पूर्व कृषि मंत्री जसविंदर सिंह संधू एवं फरीदाबाद से इनेलो प्रत्याशी रहे वरिष्ठ एडवोकेट आरके आनंद भी शामिल होंगे। इनेलो ने कुछ दिन पहले हिसार संसदीय क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी, हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी व मुख्य निर्वाचन आयुक्त को एक पत्र भेजकर उनका ध्यान इस ओर दिलाया था। इनेलो ने चुनाव आयोग का ध्यान इस तरफ दिलाते हुए बताया था कि सेना में कार्यरत हरियाणा के जवानों और विशेषकर हिसार संसदीय क्षेत्र के जवानों के पोस्टल बैलेट गलत पते पर भेजे जाने से उनमें से करीब 88 से 90 प्रतिशत तक पोस्टल बैलेट सही पता न होने के अभाव में वापिस आ गए थे। इनेलो ने चुनाव आयोग एवं हरियाणा के मुख्य चुनाव अधिकारी व निर्वाचन अधिकारी को आग्रह किया था कि वे समय रहते इस गलती को सुधारें और आर्मी पोस्टल सर्विसेज के माध्यम से सैनिकों को उनकी ब्रिगेड तक समय रहते पोस्टल बैलेट पहुंचाएं ताकि वे अपने संवैधानिक व लोकतांत्रिक अधिकारों का इस्तेमाल कर सकें और मतगणना से पहले-पहले सेना के जवानों के भी पोस्टल बैलेट वापिस निर्वाचन अधिकारियों तक पहुंच सकें। इनेलो ने पिछले एक हफ्ते में दो बार हरियाणा के चुनाव अधिकारी व हिसार के निर्वाचन आयुक्त को पत्र भेजकर इस गलती को सुधारे जाने की मांग की थी लेकिन इस दिशा में कोई भी उचित कार्रवाई न होने पर अब इनेलो नेताओं ने निजी रूप से देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त से मिलकर उन्हें पूरी वस्तुस्थिति से अवगत करवाए जाने और इस संबंध में फौरी तौर पर कार्रवाई किए जाने की मांग करने का निर्णय लिया है।

जनता के भरपूर समर्थन से आगामी सरकार इनेलो की होगी : ऋषिपाल

चरखी दादरी। इनेलो प्रेस प्रवक्ता ऋषिपाल उमरवास ने कहा कि प्रदेश में जनता इनेलो को सत्ता सौंपने का मन बना चुकी है। लोकसभा चुनाव में प्रदेश की जनता ने इनेलो को भरपूर समर्थन दिया जिसकी बदौलत सभी दस सीटों पर इनेलो विजयी होगी और आने वाले विधानसभा चुनाव में भी जीत का परचम लहराएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अगली सरकार इनेलो की होगी और चौ. ओमप्रकाश चौटाला मुख्यमंत्री होंगे। ऋषिपाल ने कहा कि कांग्रेस की जन विरोधी नीतियों से जन-जन में रोष है। इससे प्रदेश की जनता छुटकारा पाना चाहती है। इनेलो ही एकमात्र विकल्प है जो प्रदेश में सुशासन को स्थापित कर सकता है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के नतीजे आते ही अन्य दलों का सफाया होगा। कार्यकर्ता  आने वाले विधानसभा की तैयारियों में अभी से जुट गए हैं। कार्यकर्ताओं की बदौलत इनेलो सत्ता में आएगी और एक समान विकास को बढ़ावा दिया जाएगा। ऋषिपाल ने कहा कि कांग्रेस ने जिस षडयंत्र के तहत इनेलो नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की है उसका सबक कांग्रेस को मिल रहा है। प्रदेश का व्यापारी, किसान, मजदूर, श्रमिक, दलित हर वर्ग इनेलो के साथ है। 

पंजाब चुनाव प्रचार के लिए इनेलो विधायक प्रदीप चौधरी ने जताया कार्यकर्ताओं का आभार

पंचकूला। इंडियन नेशनल लोकदल के कालका विधायक प्रदीप चौधरी ने आज पंजाब लोकसभा चुनाव प्रचार से लौटने के बाद इनेलो कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों, नेताओं का आभार जताते हुए कांग्रेस के खिलाफ लड़ाई में अपना योगदान देने के लिए सराहना करते हुए कहा कि पंजाब में लोकसभा चुनावों में शिरोमणी अकाली दल प्रत्याशी भारी बहुमत से जीत दर्ज करेगें, क्योंकि हमनें आनंदपुर लोकसभा सीट पर अकाली दल से चुनाव लड़ रहे प्रेम सिंह चंदूमाजरा के लिए चुनाव प्रचार किया, जहां लोगों ने अकाली दल को वोट देने में एक खास ही जनून नजर आ रहा है। चौधरी ने चुनाव प्रचार से लौटने के बाद यह भी कहा कि कांग्रेस के 10 वर्ष के कार्यकाल ने देश को बहुत आर्थिक नुकसान पहुंचाया, देश की जनता ने कांग्रेस को भगाने की मन में ठान ली और पंजाब में शिरोमणी दल तथा हरियाणा में इंडियन नैशनल लोकदल के उम्मीदवारों की जीत तय है। 

लोकसभा चुनाव परिणाम के तुरंत बाद इनैलो की आंधी तूफान में बदल जाएगी : कैमिस्ट

कैथल। आगामी 16 मई को जैसे ही लोकसभा चुनाव परिणाम आएंगे, इंडियन नैश्नल लोकदल की आंधी तूफान में बदल जाएगी, क्योंकि प्रदेश में लोकसभा की सबसे ज्यादा सीटें इनैलो के खाते में जाएगी। यह दावा इनैलो के जिला प्रवक्ता धर्मबीर कैमिस्ट ने पत्रकारों से रुबरु होते हुए किया। उन्होंने कहा कि इस परिणाम के बाद जहां एक तरफ कांग्रेस पार्टी का देश व प्रदेश से सफाया पूरी तरह से निष्चित है वहीं दूसरी तरफ हजकां का अस्तित्व हविपा की तरह खत्म होना तय है। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में प्रदेष में इनैलो ही केवलमात्र जनता की पसन्द है। धर्मबीर ने कहा कि प्रदेश की जनता ने पूरी तरह से इनैलो सुप्रीमो चौधरी आेमप्रकाष चौटाला के नेतृत्व में आस्था व विष्वास प्रकट करते हुए स्पष्ट बहुमत से मुख्यमंत्री बनाने का मन बना लिया है। उन्होंने कहा कि जहां एक तरफ कुरुक्षेत्र लोकसभा से बलबीर सैनी भारी मतों से विजयी होंगे, वहीं दूसरी तरफ हिसार लोकसभा से जनता की पसन्द इनैलो प्रत्याषी युवा नेता दुष्यंत चौटाला हजकां व कांगेस प्रत्याषियों की जमानत जब्त करवाते हुए रिकार्ड मतों से विजयी होंगे। उन्होंने इस अवसर पर पार्टी के स्टार प्रचारक अभय सिहं चौटाला को विषेष रुप से बधाई दी क्योंकि यह चुनाव उन्हीं के नेतृत्व में लड़ा गया है। इस अवसर पर उनके साथ जिला शहरी प्रधान डा0 प्रदीप शर्मा, शहरी प्रधान मंजीत डोरा, हल्का प्रधान रोशन लाल सिरटा, इनसो जिला प्रधान दर्पण मित्तल, युवा जिला प्रधान बलराज नौच, गुज्जर फैडरेशन के युवा जिलाध्यक्ष चरण सिंह गुज्जर, किसान सैल के जिलाध्यक्ष चन्द्रभान दयौरा व युवा नेता काका सचदेवा भी उपस्थित थे।

किसानों, व्यापारियों व मजदूरों की समस्याओं को लेकर इनैलो ने किया प्रदर्शन


उकलाना। इनैलो के कार्यकर्ताओं ने अनाज मंडी में किसानों, व्यापारियों व मजदूरों को गेहूं बिक्री व उठान में आ रही समस्याओं को लेकर शुक्रवार को मार्केट कमेटी कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया तथा मांगों को लेकर मार्केट कमेटी सचिव सुरेंद्र कुमार को एक ज्ञापन सौंपा। प्रदर्शन का नेतृत्व इनैलो जिलाध्यक्ष उमेद लोहान ने किया। लोहान ने कहा कि आज किसानों को अपनी गेहूं की फसल की ब्रिकी के लिए अनाज मंडी में अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सरकार गेहूं की खरीद सही ढंग से व सही समय पर नहीं कर रही है। अनाज मंडियों में किसानों को अन्य प्रकार की गई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अनाज मंडी में शैडों की कमी के चलते किसानों को अपनी फसल खुले आसमान के नीचे डालनी पड़ रही है। जिसके कारण किसानों को बरसात होने का हर समय भय बना रहता है। सरकार द्वारा किसानों को अनाज मंडी में सभी मूलभुत सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि इसी तरह से गेहूं का उठान कार्य बिल्कुल ही धीमी गति से किया जा रहा है। अनाज मंडी में गेहूं की आवक ज्यादा हो रही है लेकिन उठान कम हो रहा है। जिसके चलते अनाज मंडी गेहूं से अट गई है और किसानों को गेहूं डालने के लिए भी जगह नहीं मिल रही है। उन्होंने गेहूं का उठान धीमी गति से होने के कारण गेहूं अनाज मंडी में ही सूख जाता है और व्यापारी को इसकी घटती देनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की किसान, मजदूर व व्यापारी विरोधी नीतियों के चलते आज इन्हें अनाज मंडी में अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा और सरकार इसकी सुध तक नहीं ले रही है। उन्होंने कहा कि इसी तरह से सरकारी एजैंसी सरसों की खरीद भी नहीं कर रही है। जिसके कारण किसानों को अपनी सरसों की फसल ओने-पौने दामों में बेचनी पड़ रही है। इसके बाद इनैलो कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन करते हुए सुरेवाला स्थित नई अनाज मंडी में पहुंचे और गेहूं खरीद व गेहूं के उठान की समस्या को लेकर प्रदर्शन किया तथा सरकार को जमकर कोसा। इसके बाद कार्यकर्ताओं ने नायब तहसीलदार ओ.पी. मेहत्ता व मार्कीट कमेटी सचिव सुरेंद्र कुमार को अपनी मांगों का एक ज्ञापन सौंपा और मांग की कि किसानों को अनाज मंडी में सभी प्रकार की सुविधाएं मुहैया करवाई जाएं तथा गेहूं की खरीद करने व उठान कार्य में तेजी लाई जाए। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष उमेद लोहान, हलकाध्यक्ष राजेंद्र लितानी, सीमा गैबीपुर, अनूप धानक, अशोक पूनियां, रवि लांबा, अनिल बालकिया, हरिङ्क्षसह दहिया, महेंद्र सोनी, बलराज गर्ग, अजित लितानी, सुखबीर नैन, शेर ङ्क्षसह बतरा, सुंदर बंसल, ओमा बिठमड़ा, गुलशन आहुजा, होशियार ङ्क्षसह बिठमड़ा, शमशेर गिल, मृर्ति देवी, रणधीर, कलीराम, प्रताप, कृष्ण मुवाल सहित अनेक इनैलो कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Sunday, April 27, 2014

सीएम द्वारा बिल्डरों व भू-माफियाओं को फायदा पहुंचाने का फैसला बेहद निन्दनीय- अभय सिहं चौटाला

चंडीगढ़।  इनेलो के वरिष्ठ नेता व ऐलनाबाद के विधायक चौधरी अभय सिंह चौटाला ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा व केंद्र सरकार द्वारा चुनावी प्रक्रिया के दौरान एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की शुक्रवार को हुई बैठक में बिल्डरों व भू-माफिया को फायदा पहुंचाने के लिए जल्दबाजी में लिए गए फैसलों की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि सत्ता से बाहर हो रही केंद्र व हरियाणा की कांग्रेस सरकार जाते-जाते अपने घपलों, घोटालों व गैर कानूनी कार्यों को सही ठहराने और कुछ अन्य घोटालों को अंजाम देने में लगी हुई है। इनेलो नेता ने कहा कि हरियाणा में सैकड़ों एकड़ जंगल काटने को जल्दबाजी में मंजूरी दिए जाने और इसे मंजूरी दिलाने के लिए भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा कांग्रेसी नेता गिरीजा व्यास को फोन करके एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की बैठक में बुलाने और कांग्रेस नेताओं द्वारा किए जा रहे अनैतिक व गैर कानूनी कार्र्यों का विरोध करने वाले पर्यावरण सचिव को बैठक से बाहर निकाले जाने का फैसला ये दिखाता है कि सरकार अपने घोटालों को जायज ठहराने के लिए बेहद हड़बड़ी में है। इनेलो नेता ने कहा कि इसे किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा और पार्टी इस संबंध में केंद्रीय चुनाव आयोग को भी शिकायत भेजकर हुड्डा सरकार व इस अनैतिक कार्यों में लगे हुए अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने का आग्रह करेगी। 
चौधरी अभय चौटाला ने कहा कि इस समय देश में चुनाव प्रक्रिया चल रही है और अब तक के रुझानों से साफ हो गया है कि लोगों ने केंद्र की यूपीए सरकार और हरियाणा की हुड्डा सरकार को सत्ता से उखाड़ बाहर फैंक दिया है। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री कमलनाथ व भूपेंद्र ङ्क्षसह हुड्डा की मौजूदगी में हुई एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की बैठक में पर्यावरण मंत्रालय की कड़ी आपत्ति और सुप्रीम कोर्ट द्वारा वन क्षेत्र के लिए घोषित की गई भूमि में से सैकड़ों एकड़ जंगल को काटने की मंजूरी दी गई और करीब दस लाख हेक्टेयर वन भूमि की श्रेणी बदलकर उसे नैचुरल कंजरवेशन जोन बना दिया गया। इस जमीन पर बड़े-बड़े बिल्डरों द्वारा अब पर्यटन के नाम पर इमारतों व भवनों का निर्माण किया जाएगा। इस फैसले में सबसे ज्यादा असर दिल्ली के साथ लगते गुडग़ांव, फरीदाबाद व अरावली पर्वत के आसपास के इलाकों पर पड़ेगा और सरकार ने इन्हीं क्षेत्रों की लाखों हेक्टेयर भूमि की श्रेणी में बदलाव किया है।
इनेलो नेता ने कहा कि बैठक के लिए कोरम पूरा न होने पर मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कांग्रेसी नेता गिरीजा व्यास को फोन करके बुलाया जो इस बोर्ड की एक सदस्य हैं। इसके अलावा इस बैठक में अन्य अधिकारी भी मुख्यमंत्री ने दबाव देकर शामिल करवाए। उन्होंने कहा कि पर्यावरण सचिव इस वन भूमि से छेड़छाड़ के खिलाफ थे और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का हवाला भी दिया लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई। बैठक में मौजूद कांग्रेसी नेताओं ने उन्हें यह कहकर बैठक से बाहर भेज दिया कि अगर उन्हें कोई आपत्ति है तो वे बैठक से चले जाएं क्योंकि वे बोर्ड का हिस्सा नहीं हैं। पर्यावरण सचिव बैठक से तो चले गए लेकिन उन्होंने अपनी लिखित आपत्ति बोर्ड को भिजवा दी। पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार पंजाब कंजरवेशन लैंड एक्ट के तहत सुप्रीम कोर्ट ने इस भूमि को वन क्षेत्र घोषित किया हुआ है। साथ ही वन क्षेत्र के 10 किलोमीटर बाहर की भूमि को भी इको सेंसेटिव जोन घोषित किया गया है। 
इनेलो नेता ने कहा कि बोर्ड की बैठक में जो भी कोई गलत फैसले लिए गए हैं और बिल्डरों अथवा कॉलोनाइजरों को फायदा पहुँचाने के लिए और सरकार के घोटालों को सही ठहराने का जो प्रयास किया गया है इसकी 16 मई के बाद न सिर्फ उच्चस्तरीय जांच करवाई जाएगी बल्कि इन घोटालों में संलिप्त लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई भी की जाएगी। इनेलो नेता ने कहा कि केंद्र व प्रदेश से कांग्रेस सरकार बाहर हो गई है और मौजूदा सरकार सिर्फ अगले दो हफ्तों की मेहमान है इसलिए अधिकारियों को भी इस भ्रष्ट सरकार के गलत आदेशों की पालना करने की बजाय 16 मई के बाद देश व प्रदेश में बनने वाली नई सरकार का इंतजार करना चाहिए ताकि बाद में उन्हें स्वयं कोई बेवजह परेशानी न झेलनी पड़े।

Saturday, April 26, 2014

इनेलो नेता अभय चौटाला ने शिअद प्रत्याशी शेर सिहं के पक्ष में किया जनसंपर्क


सिरसा। ऐलनाबाद के विधायक अभय सिंह चौटाला ने शनिवार को अबोहर हलके के करीब डेढ़ दर्जन गांवों में अकाली दल बादल पार्टी के उम्मीदवार शेर सिंह के पक्ष में जनसंपर्क किया। गांव कुलार, भागू, रामसरा, शेरेवाला, वरियामखेड़ा, ढिंगावाली, शेरगढ़, मौजगढ़, दौलतपुरा, पंचकोसी, कटेहडा आदि में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए अभय सिंह चौटाला ने कहा कि चौधरी देवीलाल और बादल परिवार का रिश्ता पारिवारिक है और इसी कारण वे शिरोमणि अकाली बादल के उम्मीदवार के समर्थन में किसी राजनेता की हैसियत से नहीं बल्कि पारिवारिक सदस्य के नाते वोटों की अपील करने आए हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र में यूपीए ने अपने दस सालों के शासन के दौरान देश को केवल भ्रष्टाचार, घोटाले, गरीबी व महंगाई दी है। ऐसे शासन को सदा के लिए समाप्त करने के लिए जरूरी है कि आम आदमी अपनी वोट की ताकत का इस्तेमाल कर ऐसी जुल्मी सरकार को बदल दे। उन्होंने आम आदमी की सरकार लाने के लिए शिरोमणि अकाली दल बादल पार्टी के उम्मीदवारों को अधिक से अधिक मतों से विजयी बनाने की अपील की। इस अवसर पर उनके साथ आदलाल जाखड़, विधायक गुरतेज सिंह, प्रकाश भट्टी, रामकुमार, प्रह्लाद, धर्मवीर नैन, राधेराम गोदारा, संदीप गंगा, सर्वजीत मसीतांं, महेंद्र बाना, विकास खीचड़, सुभाष, गिरधारी, सुभाष न्यौल आदि पार्टी कार्यकर्ता थे। 

कांग्रेस नेता पर आचार संहिता उल्लंघन के मामले में कार्रवाई न किए जाने से इनेलो कार्यकर्ता नाराज

ऐलानाबाद। इनेलो ने सहायक निर्वाचन अधिकारी व एसडीएम पर प्रदेश सरकार के दबाव में काम करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस कमेटी के ब्लॉक अध्यक्ष सतपाल मेहता ने गत 10 अप्रैल को आचार संहिता का उल्लंघन किया था। लेकिन अभी तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। जिससे इनेलो कार्यकर्ता काफी नाराज है। उन्होने कांग्रेसी नेता के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है। 

Friday, April 25, 2014

इनेलो नेता मनोज जौरासी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में लोगों ने पार्टी में शामिल होने की घोषणा की

समालखा। प्रदेश में लोकसभा चुनाव संपन्न होने के बाद इनेलो के नेता व कार्यकर्ता आगामी विधानसभा चुनावों की तैयारियों में जुट गए हैं। इसी क्रम में नलवा कॉलोनी में बड़ी संख्या में लोगों ने इनेलो में शामिल होने की घोषणा की। इस मौके पर इनेलो नेता मनोज जौरासी ने कहा कि प्रदेश में इनेलो की सरकार आने पर सभी वर्गों को साथ लेकर चला जाएगा तथा हर वर्ग को समान सम्मान दिया। युवाओं के लिए अधिक से अधिक रोजगार पैदा किया जाएगा। आज कांग्रेस के राज में युवा अपने को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। प्रदेश में महिलाओं व युवतियां अपनी सुरक्षा को लेकर काफी परेशान है। लेकिन प्रदेश की हुड्डा सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है। जिससे प्रदेश में महिलाओं के साथ लगातार अपराध बढ़ते जा रहे हैं।

भजनलाल सरकार में हुडा के प्लॉट आवंटन में हुआ था सबसे बड़ा घोटालाः निशान सिहं

चंडीगढ़। इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व विधायक निशान सिंह ने हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा मल्टीपल प्लॉट अलाटमेंट मामले में हाईकोर्ट को जो रिपोर्ट सौंपी है उससे दो बातें साफ हो गई हैं कि भजनलाल सरकार के समय इन प्लॉटों के मामले में सबसे बड़ा घोटाला हुआ और उनके घोटालेबाजों में भजनलाल के सगे भतीजे व पूर्व विधायक दूड़ा राम बिश्नोई भी शामिल थे। इनेलो नेता ने कहा कि हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्नोई जो राजनीति में नैतिकता और स्वच्छता की बड़ी लम्बी-लम्बी ढीेंगें हांकते हैं इस घोटाले के उजागर होने के बाद चुप्पी क्यों साधे हुए हैं? इनेलो नेता ने कहा कि प्रदेश में बच्चा-बच्चा जानता है कि भजनलाल ही भ्रष्टाचार के जनक थे और उन्होंने ही भ्रष्टाचार, दलबदल व खरीदोफरोख्त को मान्यता प्रदान करने का काम किया था। पूर्व विधायक ने कहा कि कुलदीप बिश्नोई को अब प्रदेशवासियों को बताना चाहिए कि दूड़ा राम बिश्नाई द्वारा करोड़ों रुपए के प्लॉट पंचकूला, फरीदाबाद, हिसार व करनाल में हथियाने और अपने परिवार के सदस्यों के नाम चार प्लॉट लिए जाने के बाद क्या अब कुलदीप बिश्नोई अपनी पार्टी के नेता व अपने चचेरे भाई दूड़ा राम बिश्रोई के खिलाफ कोई कार्रवाई करेंगे या भजनलाल सरकार में हुए इस घोटाले और घोटालेबाजों में प्रमुख रहे दूड़ा राम के प्रति आंखे मूंद लेंगे? 
उन्होंने कहा कि मौजूदा कांग्रेस सरकार भी इस घोटाले पर पर्दा डालने का प्रयास कर रही है और जिस व्यक्ति ने इस पूरे घोटाले को उजागर किया है उसे न सिर्फ मानसिक प्रताडऩा दी जा रही है बल्कि जान से मारने की धमकियां भी मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि इससे बड़ा घोटाला क्या होगा कि प्रधानमंत्री आवास और सोनिया गांधी के आवास के पते पर भी प्लाटों का आबंटन करके बहुत बड़ा घोटाला किया गया है। उन्होंने कहा कि अगर कुलदीप बिश्नोई में जरा सी भी नैतिकता बची है तो वे न सिर्फ दूड़ा राम को पार्टी से बाहर करने का दम दिखाएं बल्कि अपने परिवार की ओर से किए गए इस घोटाले की नैतिक जिम्मेदारी भी अपने ऊपर लें, क्योंकि कुलदीप बिश्नोई अब तक यही दावे करते रहे हैं कि वे स्वच्छ राजनीति के सबसे बड़े पैरोकार हैं और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं रहा है।

इनेलो नेता अशोक अरोड़ा ने कांग्रेस की किसान विरोधी नीति की कड़े शब्दों में की निन्दा

चंडीगढ़। इनेलो ने केंद्र की कांग्रेस सरकार द्वारा खरीफ फसलों में से कुछेक के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य में मामूली बढ़ौतरी किए जाने अथवा बाजरा व सामान्य मक्के की कीमतों में कोई बढ़ौतरी न करके उसे पिछले साल के बराबर रखे जाने के प्रस्ताव को कांग्रेस की किसान विरोधी सोच बताते हुए इसकी कड़े शब्दों में निंदा की है। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि कांग्रेस सरकार का अब सत्ता से बाहर होना तय है और इसके बावजूद कांग्रेस किसान विरोधी फैसले लेने से बाज नहीं आ रही। इनेलो नेता ने कहा कि एक तरफ सरकार साल में 12 से 15 बार डीजल के दामों में बढ़ौतरी कर रही है और दूसरी तरफ पिछले साल के मुकाबले खाद, बीज, कीटनाशक दवाओं सहित सभी चीजों के मूल्य आसमान छूने लगे हैं। इसके बावजूद कांग्रेस सरकार किसानों को उनका लागत मूल्य भी न देकर उन्हें पूरी तरह से बर्बाद करने पर तुली हुई है। इनेलो नेता ने स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट तुरंत लागू किए जाने और उस रिपोर्ट के अनुसार किसानों की फसलों के दाम तय किए जाने की मांग करते हुए किसानों को उनकी उपज की लाभप्रद कीमत दिए जाने और गरीब आदमी को खाने के लिए सब्सिडी के आधार पर गेहूं, चावल व दालें उपलब्ध करवाए जाने की मांग की। 
श्री अरोड़ा ने कहा कि केंद्र सरकार के कृषि मंत्रालय ने आगामी खरीफ फसलों के लिए जो न्यूनतम समर्थन मूल्य की सिफारिश की है उसके अनुसार बाजरे व सामान्य मक्के की कीमत में कोई बढ़ौतरी न किए जाने हाइब्रिड मक्के की कीमत में मात्र 30 रुपए क्विंटल बढ़ौतरी करने, सामान्य धान के समर्थन मूल्य में 50 रुपए और ग्रेड ए के धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 55 रुपए बढ़ौतरी किए जाने की सिफारिश की गई है। उन्होंने कहा कि दालों में मूंग के समर्थन मूल्य में एक रुपया प्रति किलो और उड़द व तूअर की दालों के समर्थन मूल्य में 50 पैसे प्रति किलो बढ़ौतरी किए जाने का प्रस्ताव कृषि मंत्रालय ने रखा है। इसके अलावा कपास व सूरजमुखी बीज के समर्थन मूल्य में भी 50 रुपए क्विंटल बढ़ौतरी किए जाने की सिफारिश की गई है। इनेलो नेता ने कहा कि सरकार की गलत व किसान विरोधी नीतियों के कारण आज खेती पूरी तरह घाटे का सौदा हो गया है और कर्ज में डूबा हुआ किसान पूरा साल मेहनत करने के बाद भी परिवार के साथ भूखे पेट सोने व आत्महत्या करने को मजबूर है। 
इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस सरकार की गलत नीतियों के कारण महंगाई चरम पर है और कृषि उपजों का लागत मूल्य निरंतर बढ़ रहा है। सरकार द्वारा किसानों को समय पर बिजली व पानी भी उपलब्ध नहीं करवाया जाता और खाद, बीज, डीजल व कीटनाशक दवाओं को भी महंगे दामों पर खरीदना पड़ता है। इस सबके बावजूद अगर किसान मेहनत करके अन्न पैदा कर लेता है तो उसे उस अनाज का लागत मूल्य भी नहीं मिल पाता। उन्होंने कहा कि सरकार की इन्हीं गलत व जनविरोधी और किसान विरोधी नीतियों के कारण लोकसभा चुनावों में देशभर से कांग्रेस का सुपड़ा साफ कर दिया गया है। इसके बावजूद भी कांग्रेस ने कोई सबक नहीं हासिल किया है और अपनी इन्हीं पुरानी किसान विरोधी नीतियों पर ही कायम है। इनेलो नेता ने कहा कि सरकार अपनी इन सिफारिशों पर पुनर्विचार करते हुए बढ़ती हुई महंगाई के दृष्टिगत किसानों को उनकी फसलों के पूरे भाव उपलब्ध करवाए ताकि किसानों को बर्बाद होने से बचाया जा सके। 

27 अप्रैल से युवा इनेलो तिगांव हलके में हस्ताक्षर अभियान शुरू करेगा


तिगाँव। हलके की गणपति कॉलोनी में युवा इनेलो के कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए युवा इनेलो जिला अध्यक्ष अरविंद भारद्वाज ने बताया कि तिगांव विधानसभा में सभी सड़कों की हालत बदतर है और जगह-जगह सड़कों पर गड्ढ़े हैं चाहे गाँव हो या कॉलोनिया सभी स्थानों पर सड़कों का बुरा हाल होने की वजह से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है और आए दिनों दुर्घटनाएं होती रहती हैं और अभी जब बरसात शुरू हो जयेंगी तो सड़कों का और भी बुरा हाल हो जयेगा, कांग्रेस राज को 10 साल होने को हैं परन्तु सरकार ने इन सड़कों की कोई सुध नहीं ली और ना ही भाजपा विधायक ने कोई ध्यान दिया इसीलिये प्रशासन और कांग्रेस सरकार का ध्यान केंद्रित करने के लिए युवा इनेलो की ओर से तिगाँव में 27 अप्रैल से एक हस्ताक्षर अभियान  की शुरुआत कर रहा है इस अभियान में सभी गाँव ओर कॉलोनियो  में युवा कार्यकर्ता एक एक गली एक एक घर जाकर लोगों को जागरूक कर उनके हस्ताक्षर लेंगे, ओर 10 मई के बाद जिला उपयुक्त को ज्ञापन के साथ सभी  हस्ताक्षर सौंपे जायेंगे,  और सभी बूथों से कम से कम 100 लोगों के हस्ताक्षर लिए जाएंगे और 180 बूथों के हिसाब से लगभग 20,000 हस्ताक्षरों का टारगेट रखा गया है। इस अवसर पर मुख्य रुप से दीपक गर्ग, प्रदीप चौधरी, सुबोध सिंह, प्रेम भारद्वाज, गणपति झा, प्रशांत राजपूत, राहुल भारद्वाज, गौरव शर्मा, राजीव शर्मा, गणेश कुमार, सुनील कुमार, पूजा कुमारी आदि उपस्थित थे

हुडा प्लॉट आवंटन मामले में बेनकाब हुई पूर्व सीएम भजनलाल परिवार की भ्रष्टाचारी: निशान सिहं

फतेहाबाद। इनेलो प्रदेश प्रवक्ता स. निशान सिहं ने कहा कि हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण ने अपने मल्टीपल प्लाट अलॉटमेंट मामले में हाईकोर्ट को सौंपी जांच रिपोर्ट में इस बात को प्रमाणित कर दिया है कि इन प्लाटों के आवंटन में पूर्व सीएम भजनलाल के भतीजे एवं पूर्व विधायक दुड़ाराम भी घोटालेबाजी का हिस्सा रहे है। उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच रिपोर्ट ने एक बार फिर भजनलाल परिवार की भ्रष्टाचारीता को जनता के सामने बेनकाब करने का काम किया है। साथ ही हजकां मुखिया कुलदीप बिश्नोई की बोलती भी बंद करने का काम किया, जो यह कहते नहीं थकते कि भजनलाल परिवार कभी भ्रष्टाचार का हिस्सा नहीं रहा। इनेलो प्रवक्ता ने कुलदीप बिश्नोई पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि यदि अभी भी उनमें एक स्वच्छ राजनीति करने की जरा सी भी लालसा बची है और जनता के हकों के साथ अपने चचेरे भाई द्वारा किए गए खिलवाड़ का प्रयाश्चित करना चाहते हैं तो दुड़ाराम को हजकां से बाहर करने का दम दिखाए। 
इनेलो प्रदेश प्रवक्ता स. निशान सिंह ने बताया कि हुडा ने हाईकोर्ट को सौंपी अपनी जांच रिपोर्ट में इस बात को प्रमुखता से अंकित किया है कि पूर्व सीएम भजनलाल के भतीजे दुड़ाराम ने भी गोलमाल करके पंचकुला, फरीदाबाद, हिसार व करनाल में अपने व अपने परिवारिक सदस्यों के नाम 4 प्लाट लिए हुए हैं। जांच रिपोर्ट में हुडा ने दुड़ाराम की इस तरह प्लाट लिए जाने के गोलमाल को बड़ा अपराध माना है, क्योंकि नियमानुसार एक व्यक्ति व उसके परिवार को एक ही प्लाट आवंटित किया जा सकता है। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस सरकार को भी इस मामले में पूरी तरह संलिप्त करार देते हुए कहा कि जिस व्यक्ति ने इस मामले में न्याय की उम्मीद लेकर शिकायत दी। उस पर लगातार जान से मारने की धमकी देने के मामले सामने आए, मानसिक प्रताडऩा देने के तथ्य उजागर हुए। बावजूद इसके प्रदेश सरकार ने शिकायतकत्र्ता को सुरक्षा मुहैया नहीं करवाई, क्योंकि उसकी मंशा शिकायतकर्ता को बड़ा नुकसान पहुंचाने की थी। अब हाइकोर्ट ने प्रदेश सरकार को इस मामले में फटकार लगाते हुए शिकायतकर्ता को सुरक्षा मुहैया करवाने की बात कही है। इनेलो ने हजकां व कांग्रेस को एक ही थाली के चट्टे-बट्टे करार देते हुए कहा कि जांच रिपोर्ट में हजकां संरक्षक स्व. भजनलाल के भतीजे दुड़ाराम का नाम उजाकर हुआ, साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तक के पते पर प्लाट आवंटन हुआ। इस मामले में इनेलो चुप नहीं बैठेगी हजकां और कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलकर सड़कों पर उतर आंदोलन करने की जरूरत पड़ी तो जनहित में वह भी किया जाएगा। 

धान का समर्थन मूल्य 1310 से बढ़ाकर 1360 किया जाए- उमेद सिहं लोहान

हिसार। इनेलो के जिला प्रधान उमेद सिंह लोहान ने केन्द्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा धान के समर्थन मूल्य में 50 से 55 रूपए बढ़ोतरी की सिफारिश को हास्यास्पद करार दिया है। लोहान ने कहा कि केंद्र सरकार ने प्रस्ताव रखा है कि धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1310 रूपए से बढ़ाकर 1360 रुपए कर दिया जाए। जो ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। उन्होंने कहा कि अगर प्रस्ताव ही 50 रुपए की मामूली बढ़ोतरी का हो तो इससे ज्यादा मूल्य वृद्धि की गुंजाइश क्या होगी। इस तरह का प्रस्ताव किसानों के साथ एक भद्दा मजाक है। उन्होंने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के चलते किसान पहले ही कर्ज के बोझ के तले दबा हुआ है। एक तरफ बढ़ती महंगाई के कारण जहां पहले ही कृषि लागत बढ़कर कई गुणा हो गई है, वहीं प्राकृतिक आपदाओं के चलते खेती घाटे का सौदा बन गई है। हालात यह है कि अब किसान खेती को छोड़कर दूसरे धंधे अपनाने के लिए मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि खुद सरकारी रिपोर्टों में इस बात का खुलासा हो चुका है कि किसानों की माली हालत सुधारने के लिए किसानों को लागत मूल्य से अधिक समर्थन मूल्य दिया जाना चाहिए। लेकिन किसान विरोधी सरकार केवल पूंजीपतियों की तिजौरी भरने में मशगूल है। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो सरकार स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने के दावे कर रही है, वहीं दूसरी तरफ किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं दिया जा रहा। इनेलो जिला प्रधान लोहान ने मांग की कि किसानों को धान का समर्थन मूल्य कम से कम दो हजार रुपए दिया जाए ताकि किसान अपना गुजर बसर सही ढंग से कर सके।

Thursday, April 24, 2014

गुड़गांव से इनेलो प्रत्याशी जीत के दावेदारों में सबसे मजबूतः मनोज मदान



इनेलो के लिए हरियाणा के हित हमेशा सर्वोपरि रहे हैंः अशोक अरोड़ा

चंडीगढ़। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्रोई के बयानों पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि इनेलो के लिए हरियाणा के हित हमेशा सर्वोपरि रहे हैं और प्रदेश के हितों के लिए इनेलो ने पहले भी अनेक कुर्बानियां दी हैं और आगे भी जरूरत पडऩे पर पार्टी बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में पीछे नहीं हटेगी। श्री अरोड़ा ने कहा कि हरियाणा का निर्माण चौधरी देवीलाल के संघर्ष के कारण अलग राज्य के रूप में हुआ था और हरियाणा के हितों पर हमेशा भजनलाल परिवार द्वारा कुठाराघात किया गया है और सबसे ज्यादा नुकसान हरियाणा के हितों को बिश्रोई के परिवार द्वारा ही पहुंचाया गया है। श्री अरोड़ा ने कहा कि कुलदीप बिश्रोई हिसार व सिरसा से अपनी स्वयं की और पार्टी प्रत्याशी सुशील इंदौरा की सम्भावित हार को लेकर पूरी तरह विचलित हो गए हैं और बे सिर-पैर की बयानबाजी करने में लगे हुए हैं। इनेलो नेता ने कहा कि हरियाणा से कांग्रेस और उसकी बी टीम (हजकां) का सुपड़ा साफ होने से कुलदीप बिश्रोई बेहद तिलमिलाए हुए हैं और अब उन्हें कोई रास्ता नहीं सूझ रहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश से जुड़े हर मुद्दे पर इनेलो का स्टेंड हमेशा स्पष्ट था और उस स्टेंड में कभी कोई बदलाव नहीं आया है। 
श्री अरोड़ा ने कहा कि चंडीगढ़ व एसवाईएल पर इनेलो का वर्षों से एक ही स्टेंड है और वही स्टेंड पार्टी विधानसभा के अंदर व बाहर कई बार स्पष्ट कर चुकी है। श्री अरोड़ा ने कहा कि चंडीगढ़, एसवाईएल व यमुना जल बंटवारे को लेकर हरियाणा के हितों को चौधरी भजनलाल परिवार ने भारी नुकसान पहुंचाया। उन्होंने कहा कि 24 जुलाई, 1985 को राजीव-लौंगोवाल समझौते के तहत चंडीगढ़ पंजाब को दिए जाने का प्रधानमंत्री ने इस समझौते में फैसला लिया था उस समय प्रदेश में भजनलाल के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार थी और प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा जब यह फैसला किया गया तो हरियाणा के मुख्यमंत्री भजनलाल से पूछा तक नहीं गया था। इतना ही नहीं उस समय चंडीगढ़ व नदी जल को लेकर हरियाणा के हितों से हुए कुठाराघात को लेकर चौधरी देवीलाल द्वारा न्याययुद्ध छेडऩे से ही हरियाणा के हितों की रक्षा हो पाई थी। इनेलो चंडीगढ़ को हरियाणा का अभिन्न अंग मानती है।
इनेलो नेता ने कहा कि 12 मई, 1994 को जब भजनलाल मुख्यमंत्री थे उस समय केंद्रीय जनसंसाधन मंत्री की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में यमुना के पानी पर नया समझौता किया गया। भजनलाल द्वारा किए गए इस समझौते के दौरान हरियाणा का लगभग छह अरब घन पानी कम करके दिल्ली सहित अन्य राज्यों को दे दिया गया। इनेलो ने जब इसका भारी विरोध किया और नारनौल से चंडीगढ़ तक ट्रैक्टर यात्रा की तो भजनलाल ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया था कि हरियाणा का पानी अन्य राज्यों को उन्होंने मानवीय आधार पर दिया है। इनेलो नेता ने कहा कि हरियाणा से कांग्रेस और उसकी बी टीम (हजकां) का सुपड़ा साफ होने से कुलदीप बिश्रोई बेहद तिलमिलाए हुए हैं और अब उन्हें कोई रास्ता नहीं सूझ रहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश से जुड़े हर मुद्दे पर इनेलो का स्टेंड हमेशा स्पष्ट था और उस स्टेंड में कभी कोई बदलाव नहीं आया है।
इनेलो नेता ने कहा कि बिश्नोई को इनेलो का स्पष्टीकरण मांगने से पहले अपनी सहयोगी पार्टी भाजपा तथा जिसकी बी टीम के रूप में वे काम कर रहे हैं उस कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व से भी इन मुद्दों पर उनका स्टेंड पूछ लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुलदीप बिश्रोई अपने आपको एनडीए का हिस्सा बताते हैं और उन्हें अपनी सहयोगी पार्टी भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व से उनका चंडीगढ़ व एसवाईएल पर क्या स्टेंड है, इसके बारे में पूछकर प्रदेशवासियों को जरूर बताना चाहिए? इनेलो नेता ने कहा कि कुलदीप बिश्रोई अपने आपको भाजपा का सहयोगी बताता है लेकिन कांग्रेस व हुड्डा सरकार के बारे में एक शब्द भी नहीं बोलता जिससे साफ लगता है कि यह सारी बयानबाजी हुड्डा सरकार व कांग्रेस के कहने पर ही की जा रही है।
 इनेलो नेता ने कहा कि जब कुलदीप बिश्रोई भिवानी से सांसद थे, उनके पिता प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और भाई चंद्रमोहन बिश्रोई हुड्डा सरकार में उपमुख्यमंत्री थे उस समय संयोग से पंजाब-हरियाणा व केंद्र में तीनों जगह कांग्रेस की सरकारें थी और सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार एसवाईएल के अधूरे काम को पूरा करवाने की जिम्मेदारी अदालती फैसले अनुसार केंद्र सरकार की थी। उस समय बिश्रोई बाप-बेटों ने इस पर एक शब्द नहीं बोला और हरियाणा के हितों की इन्हें याद नहीं आई। इनेलो नेता ने कहा कि उनकी पार्टी ने हमेशा ही हरियाणा के हितों को सर्वोपरि रखा है और हरियाणा के हित उनके लिए हमेशा ही सर्वोपरि रहेंगे।

संभावित हार को देखकर बौखला गए कुलदीप बिश्नोई: आनंद


जींद। जुलाना हलका के इनेलो प्रेस प्रवक्ता आनंद लाठर ने कहा कि हजकां सुप्रीमो कुलदीप बिश्नोई लोकसभा चुनावों में होने वाली उनकी संभावित हार को देखकर बौखला गए हैं। उनकी हालत खिसयानी बिल्ली खंभा नोचने वाली हो गई है क्योंकि वे पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और चौटाला परिवार पर अनाप-शनाप बयानबाजी करके अपनी बौखलाहट जाहिर कर रहे हैं। वीरवार को पत्रकारों से बातचीत में लाठर ने कहा कि हजकां नामक दुकान इन लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद बंद हो जाएगी। बिश्नोई ने हजकां नाम से कांग्रेस की जो बी टीम बनाई थी, उसकी पोल पूरी तरह से लोगों के सामने खुल चुकी है और इस बार लोकसभा में हजकां का खाता खुलने वाला नहीं है। जिस तरह से दीया बुझने से पहले फडफ़ड़ाता है उसी तरह अपनी संभावित हार को देखकर कुलदीप बिश्नोई अब फडफ़ड़ा रहे हैं। हिसार से खुद कुलदीप बिश्नोई बुरी तरह से दुष्यंत चौटाला के मुकाबले चुनाव हार रहे हैं जबकि सिरसा से हजकां के प्रत्याशी जिसे वे उधार मांगकर कांग्रेस से लाए थे, वे मुख्य चुनावी मुकाबले से ही पूरी तरह बाहर हैं। उन्होंने कहा कि जिन सीटों पर हजकां ने अपने प्रत्याशी उतारे थे उन सीटों के साथ-साथ प्रदेश की कई अन्य सीटों पर इनेलो प्रत्याशी भारी बहुमत से चुनाव जीतने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन चुनावों में प्रदेश की जनता ने ही कुलदीप बिश्नोई को राजनीति से संन्यास दिला दिया है। अब वे अपने अस्तित्व के लिए कांग्रेस या उस जैसे किसी अन्य दल में विलय के लिए प्रयासरत हैं ताकि हजकां की दुकान बंद होने पर वे अपने लिए कोई ठिकाना तलाश कर सकें। उनके साथ सुरेंद्र खटकड़, राजपाल राठी, योगेश लाठर, शिव कुमार, विक्रम, ईश्वर दलाल भी मौजूद थे।

पिछले करीब डेढ़ दशक में जिन्दल परिवार ने हिसार में विकास के नाम पर कुछ नहीं किया

हिसार। पिछले 14 वर्षां से हिसार का प्रतिनिधित्व जिंदल परिवार करता आ रहा है। परंतु विकास के नाम पर एक ईंट भी नहीं लग पाई। जिससे जनता मूलभूत सुविधाओं से वंचित हो रही है। शहर की शिवनगर, सूर्यनगर व 12 क्वार्टर की कॉलोनियों में बिजली की हाईटेंशन तारों की वजह से हादसों में नागरिकों की जान जा रही है। प्रभावित क्षेत्र के लोगों ने घरों की छतों पर जाना बंद कर दिया है। इसके लिए सत्ता में बैठे लोग जिम्मेदार है। यह बात वरिष्ठ इनेलो नेता जोगेंद्र काहलो ने कही। उन्होंने कहा कि बार बार प्रशासन, बिजली विभाग व सत्ता में बैठे जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाने के बावजूद स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है। इनेलो नेता ने कहा कि सरकार वैसे तो करोड़ों रुपए की कर्जा माफी व बिजली बिल माफी की घोषणा करके ढिंढोरा पीट रही है, परंतु जिस समस्या से आम जनता का जीवन खतरे में है, उसकी तरफ सरकार का बिलकुल भी ध्यान नहीं है। उन्होंने सरकार व प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि इन हाईटेंशन तारों को जल्द से जल्द हटाएं ताकि आगे से किसी नागरिक की जान न जाए। अन्यथा इनेलो नागरिकों के सहयोग से बड़े से बड़ा आंदोलन करने के लिए विवश हो जाएगी।

कुलदीप बिश्नोई ने जात-पात के नाम पर समाज को बांटने का काम किया हैः हनुमान ऐरन

हिसार। हजकां सुप्रीमों कुलदीप बिश्नोई अपनी राजनीतिक दुकान को 16 मई से पहले ही बंद होने से बचाने के लिए चौटाला परिवार के खिलाफ बयान बाजी कर रहे हैं। असल में वे अपनी संभावित हार को देखकर घबरा गए हैं। यह बात इनेलो के शहरी जिलाध्यक्ष हनुमान ऐरन ने कही। उन्होने कहा कि कुलदीप बिश्नोई ने समाज को जातिपाति के नाम पर बांटकर वोट हासिल करने का काम किया है। परंतु काठ की हांडी बार बार नहीं चढ़ती। इनेलो नेता ने कहा कि हजकां सुप्रीमो गैर जाट के नाम पर राजनीति करते है और अपने आप को व्यापारी हितैषी बताते हैं। परंतु वास्तव मेे वे केवल वोट हासिल करने के लिए करते हैं। कुलदीप बिश्नोई के पिता भजनलाल लंबे समय तक प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे, परंतु उन्होंने हमेशा व्यापारी, दलित व पिछड़े वर्ग का वोटों के नाम पर इस्तेमाल किया। उनके शासन काल में ट्रक यूनियन के नाम पर अपने गुंडों के द्वारा व्यापारियों को प्रताडि़त किया था। इसी प्रकार जब कभी उनके शासनकाल में उप चुनाव हुए तो उन्होंने टोहाना, फतेहाबाद, कालका व आदमपुर में अपने पारिवारिक सदस्यों को चुनाव लड़वाकर दूसरे समाज के राजनीतिक हस्ती को समाप्त करने का काम किया है, जबकि दूसरी तरफ इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने चुनाव में हमेशा चाहे वो यमुनागर व फतेहाबाद का उपचुूनाव हो, क्षेत्र के लोगों के हितों को ध्यान में रखकर उम्मीदवार उतारे। 2010 और 2014 में  जब राज्यसभा में सांसद भेजने की बात आई तो बहुत पूंजीपति घरानों ने इनेलो सुप्रीमों से राज्यसभा में भेजने के लिए पार्टी फंड में करोड़ों रुपए चंदा देने का ऑफर दिया, परंतु इनेलो सुप्रीमो ने प्रदेश के पिछड़ा वर्ग के हितों को ध्यान में रखते हुए 2010 में रणबीर सिंह प्रजापत और 2014 में रामकुमार कश्यप को राज्यसभा में भेजा। उन्होंने आगे कहा कि कुलदीप बिश्नोई ने इस बार भी समाज को बांटने की बात कही थी, परंतु जागरूक जनता ने उनकी एक ना चलने दी। दस अप्रैल को हजकां की दुकान का शटर तो जनता ने डाउन कर दिया तथा 16 मई को उसपर पूरी तरह से सील लग जाएगी।

दुष्यंत चौटाला ने कुलदीप बिश्रोई को एसवाईएल व चंडीगढ़ के मुद्दे पर सार्वजनिक बहस की दी चुनौती

हिसार।  इनेलो प्रत्याशी व युवा इनेलो नेता दुष्यंत चौटाला ने कहा हैै कि ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसेे हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्रोई हरियाणा में लोकसभा की दोनों सीटों पर मंडरा रहे हार की बादलों से पूरी तरह से व्यवथित हो चुके हैं और वे इस प्रकार की बयाजबाजी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्रोई को कोई भी बयान देने से पहले अपना होमवर्क पूरा करना चाहिए ताकि आधी अधूरी जानकारी के चलते उन्हें जनता के सामने अपनी बयानबाजी के चलते हंसी का पात्र न बनना पड़े। उन्होंने यह भी कहा कि जो व्यक्ति उन्हें इस प्रकार की सलाह दे रहे हैं, उन्हें भी अपडेट रहना चाहिए।  दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कुलदीप बिश्रोई को पता होना चाहिए कि  इनेलो का एसवाईएल व चंडीगढ़ को लेकर बरसों से अपना स्टैंड स्पष्ट है और कई बार दोनों मुद्दों पर इनेलो नेता बयान दे चुके हैं।युवा नेता ने कहा कि इनेलो ने एसवाईएल को लेकर प्रदेश के हित में कानूनी लड़ाई उस समय न लड़ी थी बल्कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की अगुवाई वाली सरकार के समय हरियाणा के पक्ष में फैसला आया था। जब यह फैसला आया था उस समय कुलदीप बिश्रोईं की पार्टी हजकां का प्रदेश में वजूद कहीं नहीं था और बिश्रोई स्वयं कांग्रेस में थे। इतना ही नहीं एसवाईएल नहर के निर्माण का काम भी स्व. चौधरी देवीलाल के प्रयासों से शुरू हुआ था।  दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यदि कुलदीप बिश्रोई को यदि इसके बावजूद भी स्प्टष्टीकरण चाहिए तो पहले वह अपनी सहयोगी पार्टी भाजपा से एसवाईएल व चंडीगढ़ को लेकर स्पष्टीकरण मांगे।
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एसवाईएल का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो के शासनकाल में माननीय सर्वोच्च न्यायालय में न केवल कानूनी लड़ाई लड़ी थी कि पुरजोर पैरवी के चलते माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने भी एसवाईएल के निर्माण व पानी को लेकर हरियाणा के पक्ष में फैसला दिया था। इस दौरान केंद्र व प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन गई। उन्होंने कहा कि उस समय भी हुड्डा सरकार में उनके सगे भाई चंद्रमोहन उपमुख्यमंत्री थे और पंजाब में कांग्रेस की सरकार थी। केंद्र पंजाब व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और कुलदीप बिश्रोई व उनका भाई चंद्रमोहन बिश्रोई तब कांग्रेस में थे।   दुष्यंत चौटाला ने सवाल किया कि कुलदीप बिश्रोई बताए कि कुलदीप बिश्रोई भी कांग्रेस के सांसद थे और उनके भाई प्रदेश की कांग्रेस सरकार में उपमुख्यमंत्री थे तो , उन्होंने एसवाईएल का पानी हरियाणा में लाने के लिए कुछ नहीं किया। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एसवाईएल नहर को अब भी बतौर सांसद विधायक रहते हुए भी संसद व विधानसभा में एक शब्द भी नहीं बोला। अब केवल जनता को गुमराह करने के लिए इस तरह सकी बयानबाजी कर रहे हैं। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनेलो का रवैये स्पष्ट है कि चंडीगढ़ हरियाणा का अभिन्न हिस्सा है और हरियाणा में एसवाईएल का पानी भी केवल इनेलो ही ला सकती है। उन्होंने कुलदीप बिश्रोई को एसवाईएल व चंडीगढ़ को लेकर सार्वजनिक बहस की चुनौति दी और कहा कि इस बारे में जब चाहें वे मुझ से जहां चाहे बहस कर सकते हैं और इसके लिए समय व स्थान भी कुलदीप बिश्रोई स्वयं निर्धारित कर लें। 

इनेलो मार्केट कमेटी किसानों की मांगे पूरी न होने पर अधिकारियों का करेगी घेराव

सिरसा। इनेलो के शहरी प्रधान मनोहर मेहता ने कहा कि वीरवार को इनेलो की ओर से किसानों व व्यापारियों के कल्याण के लिए किए जाने वाला वाला प्रदर्शन किन्हीं आवश्यक कारणों से स्थगित कर दिया गया है। गुरुवार को अपने बयान में मनोहर मेहता ने कहा कि इनेलो ने अनाजमंडी सिरसा में किसानों व व्यापारियों की सुविधा व्यवस्था ठीक करने के लिए तीन दिन का अल्टीमेटम दिया है। यदि इन तीन दिनों के दौरान स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों ने किसानों के लिए पेयजल, शौचालय, आवारा पशुओं से उनकी फसल की सुरक्षा, आढतियों से गेहूं उठान के लिए नाजायज राशि न वसूलने आदि दिक्कतों का समाधान नहीं किया तो इनेलो मार्केट कमेटी सिरसा कार्यालय का घेराव करेगी। मनोहर मेहता ने कहा कि इस समय अनाजमंडी पूरी तरह से गेहूं की फसल से अटी पड़ी है और किसानों को अपनी फसल उतारने के लिए स्थानाभाव का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे हालात में वे आवासीय स्थलों पर अपनी फसल उतारने को मजबूर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि आढतियों को अपनी दामी ट्रक चालकों को ही सुविधाशुल्क देने में चुकानी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि आढती बारदाने की कमी से जूझ रहे हैं मगर सरकारी खरीद एजेंसियां इस दिशा में उदासीन हैं। उन्होंने उपरोक्त समस्याओं के हल के लिए त्वरित कदम उठाने की मांग की। 

पंजाब में अकाली दल के प्रत्याशियों के जीतने के बाद विकास की बयार जारी रहेगीः मेहता

सिरसा। इनेलो नेता वीरभान मेहता ने कहा कि पंजाब के संसदीय चुनावों में अकाली दल बादल पार्टी सभी सीटों पर विजय हासिल करेगी और पंजाब में विकास की बयार बदस्तूर जारी रहेगी। वे गुरुवार को पंजाब के हलका लंबी में अकाली दल बादल प्रत्याशी हरसिमरत कौर बादल के पक्ष में जनसंपर्क अभियान के दौरान बोल रहे थे। मंडी लंबी, बठिंडा, बडिंगखेड़ा, लोहारा, गांव किलियांवाली व मंडी किलियांवाली आदि में डोर टू डोर करने के बाद वीरभान मेहता ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा गरीबों के साथ-साथ हर वर्ग के कल्याण के लिए योजनाएं बनाकर उन्हें अमलीजामा पहनाने से पंजाब बादल सरकार में काफी खुशहाल हुआ है। महिला सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाएं आदि में हुए क्रांतिकारी कदमों के चलते पंजाब के लोग मौजूदा सरकार से बेहद खुश हैं और उसी का परिणाम है कि पूरे पंजाब में अकाली दल बादल के प्रत्याशियों को बेहद समर्थन मिल रहा है। वीरभान मेहता के साथ जनसंपर्क अभियान में अजमेर सेठी, सोमप्रकाश चावला, ओम डाबर व वीरभान सोनी आदि इनेलो कार्यकर्ता मौजूद थे। 

कांग्रेस की बी टीम हजकां का असली चेहरा जनता के सामने आयाः दुष्यंत सिहं चौटाला

गुड़गांव। इंडियन नेशनल लोक दल शुरू से कहता आया है कि हजकां  और कांग्रेस एक दूसके के लिए काम कर रही है। हजकां ने हमेशा से कांग्रेस की बी टीम के रूप में काम किया है। हर चुनाव में दोनों दल एक दूसरे को फायदा पहुंचाने के मकसद से काम करते हैं। दोनों दलों ने हमेशा से जनता के साथ विश्वासघात किया है। यह बाते इंडियन नेशनल लोक दल के वरिष्ठ युवा नेता दुष्यंत सिहं चौटाला ने कहीं। उन्होने कहा कि हजकां प्रमुख हर चुनाव में कांग्रेस के लिए बी टीम के रूप में काम करते हैं। हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्नोई के पास न दिखाने को कुछ है और न बताने को। जिस तरह से पंजाब में फिरोजपुर सीट से हजकां के कार्यकर्ता कांग्रेस के लिए काम कर रहे हैं उससे दोनों दलों की आपसी मिली भगत सामने आती है। इन दोनों दलों का केवल एक ही मंत्र है कि जनता को बरगालकर किसी तरह से उनसे वोट हासिल किए जाए और सफल होने पर एक साथ मिलकर दोनों भ्रष्टाचार व घोटालों को अंजाम दे सकें। यही काम हजकां ने हरियाणा में हाल में हुए लोकसभा चुनावों मे किया था। दोनों दलों ने एक दूसरे के प्रत्याशियों को जितने के लिए काम किया। आज हजकां प्रमुख ने स्पष्ट कर दिया है कि वे पंजाब में होने वाले लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के प्रत्याशी का समर्थन करने की घोषणा  की है। प्रदेश की जनता हजकां व कांग्रेस की चाल को समझ चुकी है। इसलिए जनता ने लोकसभा चुनावों में दोनों दलों के खिलाफ मतदान किया है। आगामी विधानसभा चुनावों में जनता इन दोनों दलों को पूरी तरह से नकार देगी। फिरोजपुर सीट से कुलदीप बिश्नोई और हजकां कार्यकर्ताओं द्वारा कांग्रेस प्रत्याशी को दिए जा रहे समर्थन ने यह स्पष्ट कर दिया है कि जल्द ही दोनों दलों के बीच कोई नई सांठ-गांठ भी होने आने वाली है। 

Wednesday, April 23, 2014

शिअद की हरियाणा इकाई ने हजकां नेता कुलदीप बिश्नोई की बयानबाजी को बताया बौखलाहट

चंडीगढ़। शिरोमणी अकाली दल की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष सरनजीत सिंह सोता ने हजकां अध्यक्ष कुलदीप बिश्रोई द्वारा देश के सबसे वरिष्ठतम राजनेता एवं पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ की गई बयानबाजी को बिश्रोई की बौखलाहट बताते हुए कहा कि हिसार व सिरसा से हजकां उम्मीदवारों की सम्भावित शर्मनाक हार को देखते हुए कुलदीप बिश्रोई पूरी तरह विचलित हो गए हैं। उन्होंने कहा कि मात्र खबरों में बने रहने और अपनी झेंप मिटाने के लिए बे सिर-पैर की बयानबाजी करने में लगे हुए हैं। अकाली दल के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि कुलदीप बिश्नोई को अपने गिरेबान में झांकने की नसीहत देते हुए कहा कि एक तरफ अपने आपको एनडीए का हिस्सा बताते हैं और दूसरी तरफ कांग्रेस या हुड्डा सरकार के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोलते और इसी से साफ है कि वे भूपेंद्र हुड्डा के हाथों की कठपुतली हैं और उन्हीं के इशारे पर ही इनेलो व अकाली दल नेताओं के खिलाफ आए दिन बयानबाजी करने में लगे रहते हैं। उन्होंने कहा कि भजनलाल सरकार द्वारा जिस तरह से एशियाई खेलों के दौरान सिखों को अपमानित किया गया और उनकी सरकार में हुए 1984 के दंगों में सिखों पर जो अत्याचार हुए उसे सिख समाज आज तक नहीं भूला है और हरियाणा के सिख किसी भी कीमत पर कांग्रेस अथवा कांग्रेस की बी टीम (भजनलाल परिवार की पार्टी हजकां) के साथ जाने को तैयार नहीं हैं। 
सरनजीत सिंह सोता ने कहा कि जैसे ही कुलदीप बिश्रोई को यह अहसास हुआ कि वे स्वयं हिसार से इनेलो प्रत्याशी दुष्यंत चौटाला के मुकाबले और सिरसा में उनकी पार्टी के प्रत्याशी व कांग्रेस से उधार लाए गए सुशील इंदौरा इनेलो उम्मीदवार चरणजीत सिंह के मुकाबले बुरी तरह से हार गए हैं तो बिश्नोई घटिया बयानबाजी पर उतर आए हैं। अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल का सम्मान आज एनडीए के नेता ही बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर सभी राजनीतिक दल दलगत राजनीति से ऊपर उठकर करते हैं उससे साफ है कि श्री बादल का कद देश के अन्य सभी राजनेताओं से कहीं बहुत ऊंचा है। सरनजीत सिंह ने कहा कि सरदार प्रकाश सिंह बादल की वरिष्ठता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वे 1970 में पहली बार पंजाब के मुख्यमंत्री बन गए थे, उस समय तक कुलदीप बिश्नोई जैसे लोगों का कहीं कोई नामोनिशान नहीं था। उन्होंने कहा कि श्री बादल पंजाब में पांचवीं बार मुख्यमंत्री बने हैं और पिछले दो चुनावों में लगातार कांग्रेस को हराकर सत्ता में आए हैं। उन्होंने कहा कि इसीलिए कांग्रेस की बी टीम के मुखिया को सबसे ज्यादा तकलीफ हो रही है। हरियाणा अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि जो लोग आसमान की तरफ मुंह करके थूकने का प्रयास करते हैं तो उनका अपना मुंह ही गंदा होता है। 
हरियाणा अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि राजनीति की अपनी मर्यादाएं होती हैं और कुलदीप बिश्नोई को भी अपनी मर्यादा में ही रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति अपनी खुद की सीट बचाने में सक्षम न हो और जिसकी सोच अपने परिवार से आगे न बढ़ पा रही हो उससे कोई अन्य व्यक्ति मर्यादाओं की उम्मीद क्या कर सकता है? उन्होंने कहा कि हजकां को भाजपा के साथ गठबंधन में मात्र दो सीटें मिली थी और कुलदीप बिश्नोई ने अपने परिवार तक सीमित रहते हुए दोनों सीटों पर ही खुद को हिसार लोकसभा सीट से और अपने भाई चंद्रमोहन बिश्नोई को करनाल लोकसभा सीट से प्रत्याशी बनाकर अपनी मानसिकता का परिचय दे दिया था कि उनकी सोच अपने परिवार से आगे जा ही नहीं सकती। उन्होंने कहा कि हरियाणा के सिख समाज ने खुलकर इनेलो का साथ दिया है और आने वाले चुनाव में भी हरियाणा का सिख समाज खुलकर पूरी तरह इनेलो प्रत्याशियों का साथ देगा। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति को बात करने की भी सभ्यता नहीं है उससे किसी सभ्य बात की क्या उम्मीद की जा सकती है?