Tuesday, April 25, 2017

प्रदेश की जनता को गुमराह कर रहे हैं मुख्यमंत्री, हरियाणा हितों की उन्हें कोई चिंता नहीं - अभय चौटाला



चंडीगढ़, 25 अप्रैल: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पीएम से एसवाईएल व किसानों के कर्जे के मुद्दे पर नहीं बल्कि भाजपा के विधायकों द्वारा उनके खिलाफ शुरू किए गए अभियान को लेकर मिलने गए थे और  भाजपा की अंदरूनी कलह पर अपनी सफाई देकर आए हैं। यह बात इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मंगलवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बाद मुख्यमंत्री 19 नवम्बर को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी और उस बैठक में एक प्रस्ताव पारित करके यह निर्णय लिया गया था कि सीएम की अगुआई में सभी दलों के लोग पीएम व राष्ट्रपति से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखेंगे ताकि प्रदेश में जल्द से जल्द एसवाईएल के जरिए अपने हिस्से का पानी लाया जा सके। इनेलो नेताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री पांच महीनों तक तो पीएम से एसवाईएल पर मिलने का समय नहीं ले पाए और अब अकेले मिलने की बात कहकर वे न सिर्फ अपनी विफलताएं छुपा रहे हैं बल्कि प्रदेश के लोगों के साथ भारी धोखा करने का प्रयास कर रहे हैं। इनेलो नेताओं ने प्रदेश में गम्भीर बिजली-पानी संकट, ठप पड़े विकास कार्यों और बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर भी प्रदेश सरकार की तीखी आलोचना की। उन्होंने एसवाईएल का निर्माण पूरा करने की मांग को लेकर जंतर मंतर पर चले रहे इनेलो के धरने के तम्बू उखाडऩे की भी कड़े शब्दों में आलोचना करते हुए कहा कि 29 अप्रैल को दिल्ली में होने वाली इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में व्यापक विचारविमर्श के बाद इनेलो की ओर से अगली रणनीति तैयार की जाएगी।
इनेलो नेताओं ने कहा कि सर्वदलीय बैठक के बाद प्रदेश के सभी दल सीएम की अगुआई में राष्ट्रपति से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखकर आए थे लेकिन मुख्यमंत्री पीएम से समय नहीं ले पाए। केंद्रीय गृह मंत्री से इस मुद्दे पर इनेलो ने न सिर्फ अलग से ज्ञापन देकर उन्हें एसवाईएल पर अब तक आए सभी फैसलों और कानूनी वस्तुस्थिति से अवगत करवाया बल्कि इनेलो नेता राजनाथ सिंह से मिलने के लिए सीधे अलग से गए थे। उन्होंने कहा कि अब अगर मुख्यमंत्री एसवाईएल पर पीएम से मिलने जा रहे थे तो सर्वदलीय बैठक के अनुसार उन्होंने अन्य दलों को भरोसे में क्यूं नहीं लिया और पीएमओ से भी एसवाईएल व किसानों के कर्ज माफी पर कोई विज्ञप्ति जारी क्यों नहीं हुई? इनेलो नेताओं ने कहा कि भाजपा के करीब डेढ दर्जन विधायक मुख्यमंत्री के खिलाफ पिछले काफी समय से मुखर हो गए हैं और उस मामले में सीएम प्रधानमंत्री को अपनी सफाई देने गए थे। इनेलो नेताओं ने कहा कि दस साल प्रदेश को कांग्रेस ने दोनों हाथों से लूटा और अब पिछले अढाई सालों से भाजपा सरकार प्रदेश को बर्बाद करने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा के बागी विधायक ठप पड़े विकास कार्यों का मुद्दा उठा रहे हैं क्योंकि आज प्रदेश का हर वर्ग सरकार से नाराज है और सत्तापक्ष के विधायकों को लोगों के बीच जाने में भी मुश्किल आ रही है। 


इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो हरियाणा को अपने हिस्से का पानी एसवाईएल के माध्यम से दिलाने के लिए संघर्षरत है और इसी के अंतर्गत हमने न सिर्फ एसवाईएल खुदाई के लिए पंजाब की ओर कूच किया बल्कि संसद का घेराव भी किया और पंजाब में गिरफ्तारियां देने के अलावा दिल्ली में पुलिस की लाठियां भी सहन की। उन्होंने कहा कि अब इनेलो कार्यकर्ता जंतर-मंतर पर शांतिपूर्वक धरना दे रहे थे लेकिन भाजपा सरकार ने केंद्र से कहकर इनेलो कार्यकर्ताओं के धरनास्थल के तम्बू उखाडऩे का काम किया। उन्होंने इसकी कड़े शब्दों में आलोचना करते हुए कहा कि 29 को राज्य कार्यकारिणी की बैठक में इन सभी मुद्दों पर व्यापक विचारविमर्श कर आगामी रणनीति तय की जाएगी। उन्होंने सरकार की नीति और नीयत पर भी सवाल उठाया। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज प्रदेश की जनता बिजली-पानी को लेकर त्राहि-त्राहि कर रही है और प्रदेशभर में सुबह साढे चार से लेकर शाम साढे छह बजे तक 14 घंटे का निरंतर कट लगाया जा रहा है। एक तरफ सरकार सरप्लस बिजली होने का दावा करती है दूसरी तरफ लोगों को पीने के पानी के लिए भी बिजली नहीं मिलती और जिन फीडरों पर बिजली बिलों की सौ फीसदी वसूली हो रही है वहां भी बिजली के कट लगाए जा रहे हैं। इनेलो नेताओं ने कहा कि कोयले की दरों में कटौती के बावजूद बिजली की दरें कम नहीं की जा रही और सरकार आए दिन अलग-अलग उत्सव मनाकर सरकारी खजाने को दोनों हाथों से लुटाने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि इनेलो इन मुद्दों को आगामी विस सत्र में भी प्रमुखता से उठाएगी। इनेलो प्रदेशअध्यक्ष ने सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों को सभी सुविधाएं दिए जाने और विभिन्न स्कूलों व कॉलेजों में फीस के नाम पर मचाई जा रही लूट बंद करवाए जाने की भी सरकार से मांग की। उन्होंने सरकार पर वादों के विपरीत काम करने का आरोप लगाया। पत्रकारों द्वारा सरकार द्वारा सूचना आयुक्त व मुख्य सूचना आयुक्त के पद पर की जा रही विवादित नियुक्तियों संबंधी सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि वे बुधवार को इस संबंध में होने वाली बैठक में अपनी बात रखेंगे और बैठक के बाद ही इस बारे में अपना पक्ष मीडिया के समक्ष रख पाएंगे। उन्होंने पिछले चुनाव के समय कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए नेताओं पर टिप्पणी करते हुए कहा कि इनमें से ज्यादातर लोग कांग्रेस संस्कृति के हैं और आज भाजपा की हालत कांग्रेस से भी ज्यादा बुरी है। पत्रकार सम्मेलन में नेता प्रतिपक्ष व इनेलो प्रदेशाध्यक्ष के अलावा विधायक परमेंद्र सिंह ढुल, आरएस चौधरी, महेंद्र सिंह मलिक, डॉ. केसी बांगड़, बीडी ढालिया, राम सिंह बराड़, अशोक शेरवाल व प्रवीन आत्रे समेत अनेक प्रमुख इनेलो नेता मौजूद थे।

एस वाई एल को लेकर नूँह विधानसभा के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली 25 अप्रैल: इनेलो ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल को लेकर राजनीति करने और दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद सरकार इस मुद्दे पर गम्भीरता दिखाने की बजाय टाल मटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत मंगलवार को नूँह जिले के नूँह विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का नेतृत्व नूँह से इनेलो विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन, जिलाध्यक्ष मास्टर बदरुद्दीन व इनेलो के कार्यालय सचिव नछत्तर सिंह मल्हान ने किया। धरने में विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट,हाजी इसराईल, मौ0 तलहा एडवोकेट, अल्ली प्रधान, हाजी फते मौ0, शोकत सरपंच, राजीव यादव एडवोकेट, हाजी अब्दुल्ला सरपंच, मनोज यादव, जगन पार्षद, अमर सिंह, जाकिर भड़ंगाका, जेकम चंदेनी, शहनाज घासेड़ा, हाजी आसम, रमजान सरपँच रोजकामेव, हाजी अलीन,  इमरान खतोली, जाकिर सलंबा, इसराईल रेहना, कासम किरंज, तय्यब सरपंच मेवली, युनुस इन्ना सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
  विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोई दिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एस वाई एल के पानी से अहीरवाल और मेवात क्षेत्र को भी भरपूर सिँचाई का पानी मिलेगा।
   इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने न सिर्फ  गम्भीर प्रयास किए बल्कि पंजाब में एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करवाकर उसके निर्माण के लिए भी चौधरी देवीलाल के नेतृत्व वाली सरकार ने सरकारी खजाने से पंजाब को धनराशि भी जारी की। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य हुआ और यह बात पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बंसीलाल  ने खुद हरियाणा विधानसभा में स्वीकार की जो कि रिकार्ड में दर्ज है। उन्होंने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एसवाईएल के मामले में सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि 2004 में इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई और सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से नहर के अधूरे निर्माण को किसी केंद्रीय एजेंसी से पूरा करवाए जाने के आदेश दिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नदी जल समझौते रद्द करने का एक असंवैधानिक बिल पारित कर दिया ताकि नहर के निर्माण कार्य को लटकाया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और दो साल तक पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस नहर को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर एक शब्द तक नहीं बोला और मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी इस दौरान भाजपा की गठबंधन सरकार रही लेकिन नहर निर्माण के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर पंजाब में अलग व हरियाणा में दूसरी भाषा बोलते हैं जिससे साफ है कि उनकी भाषा न सिर्फ दोहरी है बल्कि उन्हें हरियाणा के हितों से भी कोई लेना-देना नहीं। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी और बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।


आज नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट का जन्मदिन था। चौ0 ताहिर हुसैन ने अपना जन्मदिन अपने पिता चौ0 ज़ाकिर हुसैन व नूँह विधानसभा के इनेलो कार्यकर्ताओं के साथ जलयुद्ध में भाग लेकर जंतर-मंतर पर मनाया। इस अवसर पर सभी इनेलो कार्यकर्ताओं ने युवा इनेलो नेता चौ0 ताहिर हुसैन को जन्मदिन की मुबारक़बाद भी दी। ताहिर हुसैन आज  इनेलो द्वारा एस वाई एल के निर्माण के लिए दिए जा रहे जंतर-मंतर पर धरने में शामिल हुए थे। उन्होंने हरियाणा व मेवात के हितों के लिए तथा एस वाई एल के पानी के लिए अपने जन्मदिन की भी परवाह ना करते हुए अपना पूरा दिन धरने पर गुजारा।
चौ0 ताहिर हुसैन एडवोकेट ने मरहूम चौधरी मौ0 यासीन खाँ व मरहूम चौ0 तय्यब हुसैन के पद्चिन्हों पर चलते हुए अपना जन्मदिन संघर्ष में मनाकर मिसाल कायम की है।
इस अवसर पर ताहिर हुसैन एडवोकेट ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोई दिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि एस वाई एल के पानी से अहीरवाल और मेवात क्षेत्र को भी भरपूर सिँचाई का पानी मिलेगा।

Monday, April 24, 2017

दुष्यंत चौटाला हिसार के 28 गांवों में भेजेंगे वाटर टैंकर

हिसार : पूरे हिसार लोकसभा क्षेत्र में बिजली पानी के लिए हा-हाकार मचा हुआ है लेकिन शासन एवं प्रशासन के कानों तक जूं नहीं रेंग रही है। एसी कमरों में रहने वाली प्रदेश की सरकार लोगों को मूलभूत सुविधाएं देने में पूरी तरह से विफल हुई है। यह आरोप इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने लगाते हुए कहा कि जिले में पानी की कमी को देखते हुए वह अपने सांसद निधि कोष से 28 गांवों में वाटर टैंकर भेजेंगे। इसके अतिरिक्त प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत कर हर गांव एवं शहर के वार्ड में पीने का शुद्ध पानी सुनिश्चित करने बारे निर्देश देंगे। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोग बिजली पानी के लिए सडक़ों पर उतर रहे हैं पर सरकार या प्रशासन ने उनकी समस्या का समाधान करना तो दूर उनसे बातचीत तक नहीं की। इससे जाहिर है कि सरकार जानबूझ कर लोगों को सडक़ों पर आने के लिए मजबूर कर रही है। सांसद ने कहा कि जो सरकार मूलभूत सुविधाएं अपने प्रदेश के लोगों को उपलब्ध नहीं करवा सकती, उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है।
सांसद दुष्यंत ने बताया कि पिछले वर्ष भी उन्होंने अपने सांसद निधि कोष से हिसार शहर सहित 8 गांवों में पीने के पानी की व्यवस्था के लिए टैंकर भिजवाए थे। इस बार भी मसूदपुर, सिंधड़, खानपुर, गोरछी, किन्नर, नाड़ा, रावलवास खुर्द, मैहजद, गढ़ी अजिमा,  हैबतपुर, भाडा खेड़ा, राखीशाहपुर, गामड़ा, कागसर, धर्मखेड़ी, खारिया, भकलाना, रोशनखेड़ा, सिंघवा, रावलवास कलां, फरीदपुर, बधावड़, सीसर, हिसार शहर का मेला गांउड सेक्टर एरिया, बडाला, लोहारी राघो, खेड़ी लालब, सिसाय कालीरावण, बालसंमद गांव में पानी के टैंकर भेजने के लिए अतिरिक्त उपायुक्त पत्र लिख दिया गया है। सांसद चौटाला ने कहा कि हिसार लोकसभा क्षेत्र के लोगों को बिजली एवं पानी उपलब्ध करवाना उनकी प्राथमिकता है। इसके लिए वह पिछले तीन साल से प्रयासरत हैं और एक हजार से अधिक ढाणियों में बिजली कनेक्शन देकर उनको रोशन किया जा चुका है।
इनेलो ने प्रदर्शन कर क्षेत्रवासियों के लिए प्रशासन से मांगा बिजली-पानी 


चरखी दादरी : दादरी जिले के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में व्याप्त बिजली व पेयजल संकट को लेकर सोमवार को इनेलो कार्यकर्ता विधायक राजदीप फौगाट के नेतृत्व में सड़कों पर उतरे। शहर की सोनी धर्मशाला में आम बैठक के बाद 
कार्यकर्ता उपायुक्त कार्यालय पहुंचे। यहां उनकी गैरमौजूदगी में तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर बिजली, पानी सहित सभी जन समस्याओं का जल्द समाधान करने की मांग की। विधायक राजदीप फौगाट व मौजूद सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी कि समय रहते समस्याएं दूर नहीं करने की सूरत में इनेलो संबंधित सरकारी कार्यालयों के सामने बेमियादी धरना शुरू करने को मजबूर होगी। सरकारी विभागों द्वारा आम जनता की समस्याओं की अनदेखी किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 
विधायक राजदीप फौगाट ने कहा कि भीषण गर्मी में लोग बिजली, पानी के संकट से जूझ रहे हैं। बार-बार लिखित, मौखिक शिकायतों पर भी अधिकारी कोई गौर नहीं कर रहे, आखिरकार लोगों को धरना, प्रदर्शन करना पड़ रहा है। लोगों की समस्याएं जानना और तत्परता से समाधान करना विभागीय अधिकारियों की डयूटी है, लेकिन देखने में आ रहा है कि अफसरशाही बेलगाम है और लोग परेशान, इनेलो इन हालातों को कतई सहन नहीं करेगी। फौगाट ने कहा कि वर्तमान में बिजली संकट के कारण किसान, व्यापारी सहित हर वर्ग का जीना मुहाल हो गया है, कामकाज ठप हो रहा है। बिजली के साथ ही पेयजल संकट भी परेशानी का कारण बनी है। अधिकतर गांव के तालाब, जलघर सूखे पड़े हैं ऐसे में आमजन व पशुओं को पानी नहीं मिल रहा। विधायक फौगाट ने कहा कि अधिकतर क्षेत्रों में वर्षों पुराने तार लगे हैं जो पूरी तरह जर्जर हो चुके हैं, ऐसे में लाइन लॉस के नाम पर लंबे-लंबे कट घोषित करना भीषण गर्मी में आम उपभोक्ता से नाइंसाफी है।


रोष प्रदर्शन करते हुए उपायुक्त कार्यालय पहुंचे इनेलो कार्यकर्ताओं ने तहसीलदार राजकुमार को ज्ञापन सौंपकर बिजली, पानी व्यवस्था सुचारु करने, पुरानी जर्जर हाल तारों को बदलने, लाइन लॉस दूर करने, जलापूर्ति की लाइनों को डबल करने के अलावा जिले के विभिन्न हिस्सों में जनसंख्या के हिसाब से और नए जलघर बनाने की मांग रखी ताकि आम जन को बिजली, पानी संबंधी कोई परेशानी न हो। सैकड़ों ने किया रोष प्रदर्शन इस मौके पर विधायक राजदीप फौगाट, हलकाध्यक्ष रामनिवास मिर्च, पं. मनफूल शर्मा रावलधिया, महेंद्र जाखड़, अजीत जांघु, शकुंतला श्योराण, विनोद कुमारी, राकेश कलकल, मेहरचंद एडवोकेट, राजेश सोनी, अवतार सांगवान, रमेश वर्मा, सतपाल वर्मा, विनोद मौड़ी, अशोक सिहाग, पार्षद मनोज वर्मा, आनंद महराणा, नप वाइस चेयरमैन बबलू श्योराण, राजेंद्र सैनी, आशीष निमड़ी, रणसिंह लांबा, जयसिंह लांबा, सुशील शर्मा सरपंच, राजेश सरपंच, रणबीर, हरिसिंह, प्यारेलाल लांबा, रवींद्र तक्षक, वेदपाल कादियान, बाबूलाल यादव, मा. वीरेंद्र, दलजीत फौगाट, सुरेंद्र पैंतावास, बलजीत रासीवास, प्रदीप गुप्ता, सत्यपाल अटेला, शमशेर डोहका, बलवंत सिंह, लीलाराम डोहकी, नीटू बिरही, राजकुमार, सुखबीर, धर्मबीर, जगदीश यादव, सूरज बेनीवाल, बबलू चौधरी, ललित फौगाट व संजीत धवन सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। 
एसवाईएल को लेकर कोसली हलके के इनेलो कार्यकर्ताओं ने जंतर-मंतर पर दिया धरना


नई दिल्ली : इनेलो ने कांग्रेस व भाजपा पर एसवाईएल को लेकर राजनीति करने और दोहरी भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद सरकार इस मुद्दे पर गम्भीरता दिखाने की बजाय टालमटोल का रवैया अपनाए हुए है। इनेलो की ओर से जंतर-मंतर पर दिए जा रहे धरने के अंतर्गत सोमवार को रेवाड़ी जिले के कोसली विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का नेतृत्व इनेलो के जिलाध्यक्ष डॉ. राजपाल यादव, कोसली के हलका प्रधान जगफूल यादव, इनेलो व्यापार प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष सुभाष गर्ग व इनेलो के कार्यालय सचिव नछत्तर सिंह मल्हान ने किया। धरने में रामफल कोसलिया, जस्सु लाल, संदीप टुना, महावीर, मंगल, आजाद, राजू, सज्जन सिंह व कुणाल गहलावत सहित पार्टी के अनेक प्रमुख नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
इनेलो नेताओं ने कहा कि हरियाणा के अलग राज्य बनने पर उसे अपने हिस्से के तौर पर जो पानी मिला था उस पानी को एसवाईएल के माध्यम से हरियाणा में लाया जाना था। हरियाणा बने हुए पचास साल से ज्यादा समय हो गया है लेकिन अभी तक प्रदेश को अपने हिस्से का पानी नहीं मिल रहा। उन्होंने कहा कि हरियाणा किसी से खैरात नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है जो कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार उसे तुरंत मिलना चाहिए और एसवाईएल के अधूरे निर्माण को तुरंत पूरा किया जाना चाहिए। इनेलो नेताओं ने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और इस नहर के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने की जिम्मेदारी सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार केंद्र सरकार पर है। इसके बावजूद प्रदेश की भाजपा सरकार इसे पूरा करवाने में न तो कोईदिलचस्पी दिखा रही है और न ही वह इस मामले में गम्भीर लग रही है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवनरेखा है और इसे मुकम्मल करवाने और प्रदेश के हिस्से का पानी हरियाणा में लाने के लिए इनेलो बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने में भी पीछे नहीं हटेगी। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि एसवाईएल के निर्माण के लिए स्व. जननायक चौधरी देवीलाल ने न सिर्फ  गम्भीर प्रयास किए बल्कि पंजाब में एसवाईएल के निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण करवाकर उसके निर्माण के लिए भी चौधरी देवीलाल के नेतृत्व वाली सरकार ने सरकारी खजाने से पंजाब को धनराशि भी जारी की। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल के कार्यकाल में एसवाईएल का सबसे ज्यादा निर्माण कार्य हुआ और यह बात पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बंसीलाल  ने खुद हरियाणा विधानसभा में स्वीकार की जो कि रिकार्ड में दर्ज है। उन्होंने कहा कि चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एसवाईएल के मामले में सर्वोच्च न्यायालय में जोरदार पैरवी की जिसके चलते 2002 में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला हरियाणा के पक्ष में आया। उन्होंने कहा कि 2004 में इस फैसले के खिलाफ पंजाब सरकार द्वारा दायर की गई पुनर्विचार याचिका भी खारिज हो गई और सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से नहर के अधूरे निर्माण को किसी केंद्रीय एजेंसी से पूरा करवाए जाने के आदेश दिए।
इनेलो नेताओं ने कहा कि उस समय पंजाब में कैप्टन अमरेंदर सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने नदी जल समझौते रद्द करने का एक असंवैधानिक बिल पारित कर दिया ताकि नहर के निर्माण कार्य को लटकाया जा सके। उन्होंने कहा कि इसके बाद दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और दो साल तक पंजाब में भी कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस नहर को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी लेना तो दूर एक शब्द तक नहीं बोला और मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि अब पिछले अढाई सालों से हरियाणा व केंद्र में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी इस दौरान भाजपा की गठबंधन सरकार रही लेकिन नहर निर्माण के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा के नेता एसवाईएल पर पंजाब में अलग व हरियाणा में दूसरी भाषा बोलते हैं जिससे साफ है कि उनकी भाषा न सिर्फ दोहरी है बल्कि उन्हें हरियाणा के हितों से भी कोई लेना-देना नहीं। इनेलो नेताओं ने कहा कि जब तक नहर का अधूरा निर्माण पूरा नहीं हो जाता इनेलो अपना आंदोलन जारी रखेगी और बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेगी।

Sunday, April 23, 2017

मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द भरवाया जाए - ज़ाकिर हुसैन

   


नूँह से इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने मेवात क्षेत्र में पीने के पानी, सूखे पड़े जौहड़ों व बिजली की गंभीर समस्या के सिलसिले में उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा से मुलाकात की। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि मेवात क्षेत्र जलसंकट के दौर से गुजर रहा है।  पेयजल की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। पूरे मेवात क्षेत्र के जोहड़ सूखे पड़े हुए हैं। गाँवों में बिजली की सप्लाई सही तरीके से नहीं हो पा रही है। श्री हुसैन ने उपायुक्त से आग्रह किया कि जल्द से जल्द मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को भरवाया जाए। जिन गाँवों मे पेयजल की समस्या है उन गाँवों में टैंकरों द्वारा पीने के पानी की आपूर्ति की जाए।
उन्होंने उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा को अवगत कराते हुए कहा कि जोहड़ों के ना भरने में सबसे बड़ी कठिनाई है ड्रैनों से गाँवों के जोहड़ों तक नालियों का ना होना। उन्होंने कहा कि सरकार जल्द से जल्द ड्रैनों से नालियों की खुदाई का प्रावधान करे और मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द से जल्द भरवाया जाए।
श्री हुसैन ने कहा कि मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को जल्द नहीं भरवाया गया तो पशु प्यासे मर जाएँगे, जिसके गंभीर परिणाम होंगे। उपायुक्त श्री मनीराम शर्मा ने विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन को आश्वासन दिया कि मेवात क्षेत्र के सभी जोहड़ों को एक हफ्ते के अंदर अंदर भरवा दिया जाएगा। उन्होंने विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन की उपस्थिति में ही डी डी पी ओ नूँह व अन्य अधिकारियों को मेवात क्षेत्र के जोहड़ों को भरवाने के निर्देश जारी कर दिए।
इनेलो विधायक चौ0 ज़ाकिर हुसैन ने 25 अप्रैल मंगलवार को कार्यकर्ताओं से दिल्ली में जंतर-मंतर पर एस वाई एल के निर्माण के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुँचनें की अपील की। इनेलो विधायक ने कहा कि एस वाई एल के निर्माण में केंद्र व राज्य की भाजपा सरकार उदासीन है इसलिए इनेलो ने प्रत्येक विधानसभा द्वारा अलग-अलग दिन जंतर-मंतर पर एक दिन का धरना देने का क्रम चालू किया है, जिससे एस वाई एल का निर्माण शीघ्र हो और हरियाणा खासतौर पर अहीरवाल व मेवात क्षेत्र को एस वाई एल का पानी मिल सके तथा इस इलाके में भी सिँचाई हो सके। विधायक चौधरी ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि 25 अप्रैल को नूँह विधानसभा का दिन धरने के लिए निश्चित है तथा सभी कार्यकर्ता 25 अप्रैल को सुबह 7 बजे उनके नूँह निवास पर पहुँचे। उनके निवास स्थान से सुबह 7 बजे सभी कार्यकर्ता दिल्ली जंतर-मंतर के लिए प्रस्थान करेंगे।
इनेलो नेताओं ने किया अनाज मंडी में गेहूं खरीद का निरीक्षण


हिसार : इनेलो नेताओं ने इनेलो के किसान प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष पूर्ण ङ्क्षसह डाबड़ा के साथ उकलाना की अनाज मंडी का दौरा किया और गेहूं खरीद के बारे में किसानों और व्यापारियों से बातचीत की। अनाज मंडी में किसानों और व्यापारियों द्वारा कच्चे स्थान पर मिट्टी में गेहूं डालने पर इनेलो नेताओं ने इसे सरकार की विफलता बताया और कहा कि भाजपा सरकार में किसान और व्यापारी दुखी हैं। 
डाबड़ा ने कहा कि अनाज मंडी गेहूं से अटी पड़ी हैं और किसानों को मजबुरन अपनी गेहूं कच्चे में डालनी पड़ रही है। गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है। अगर बरसात आ गई तो इससे किसानों और व्यापारियों को भारी नुकसान हो सकता है। सरकार से मांग करते हैं कि गेहूं उठान में तेजी लाई जाए। उन्होंने कहा कि बीमा पॉलिसी पूरी तरह से किसान विरोधी है और भाजपा सरकार ने तीन कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए इसे लागू किया गया है। आगजनी की घटनाओं का किसानों को बीमा देने से इंकार किया जा रहा है। सरकार किसानों से जबरन फसल बीमा की राशि वसूल रही है।
उन्होंने कहा कि सरकार सरसों खरीद में किसानों के साथ धोखाधड़ी कर रही है। हिसार जिले में सरसों की खरीद केवल हिसार शहर में की जा रही है। किसानों को सरसों की फसल बेचने के लिए 60 किलोमीटर दूर अपनी फसल लानी पड़ रही है। उसके बाद भी किसानों को फसल का पूरा भाव नहीं दिया जा रहा है।
इस मौके पर इनेलो जिलाध्यक्ष राजेंद्र लितानी, विधायक अनूप धानक, शील्ला भ्याण, रवि लांबा, होशियार ङ्क्षसह बिठमड़ा, सुंदर बंसल, रणधीर पूनिया, सुभाष फरीदपुरिया, गुलशन आहुजा, ङ्क्षबद्र, कै. छज्जु राम, कली राम खेदड़, इकबाल, स. गुरबख्श सिंह, धूप सिंह थाकन आदि मौजूद रहे।