Saturday, August 27, 2016

दुष्यंत के प्रस्ताव पर रेलमंत्रालय ने लगाई मुहर, रेलयात्रियों के लिए शुरू होगी 92 पैसे में बीमा योजना 

हिसार, 27 अगस्त : सांसद दुष्यंत चौटाला के रेल यात्रियों के बीमा करने के प्रस्ताव पर रेलमंत्रालय ने मुहर लगा दी है। रेलमंत्रालय इस माह के अंत तक रेल यात्रियों का बीमा की सुविधा उपलब्ध करवाने जा रहा है। इस बीमे के तहत रेलयात्री अतिरिक्त शुल्क देकर बीमा का लाभ दे सकते हैं। इस बीमे के तहत रेल हादसे में दस लाख रूपये की मुआवजा राशि का प्रावधान है। हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने रेल यात्रियों के बीमा करवाने का प्रस्ताव वर्ष 2015 में व वर्ष 2016 में भी रेल बजट पर चर्चा के दौरान रखा था। सांसद दुष्यंत चौटाला रेल यात्रियों की सुरक्षा और उनके मुआवजे को लेकर इतने गंभीर थे कि उन्होंने 27 जून 2016 को केंद्रीय रेलमंत्री सुरेश प्रभु व देश भर के सांसदों को इस मुद्दे पर पत्र लिखा था। सांसद दुष्यंत चौटाला ने रेल यात्रियों को हादसों में बीमे के तहत 10 लाख रूपये की मुआवजा राशि का प्रावधान करने के लिए केंद्रीय रेलमंत्री सुरेश प्रभु व सभी सांसदों का आभार व्यक्त किया है। 
चौधरी देवीलाल की एक रूपया योजना से आया था आइडिया-इनेलो संसदीय दल के नेता सांसद दुष्यंत चौटाला ने सबसे पहले 12 मार्च 2015 को रेल यात्रियों का बीमा एक रूपये करने का सुझाव लोकसभा में दिया था। इसके बाद 8 मार्च 2016 को फिर से दुष्यंत चौटाला ने बीमा योजना पर सदन में चर्चा की। उन्होंने यात्रियों के लिए मुआवजा राशि भी कम से कम 10 लाख रूपये करने की मांग भी अपने पत्र में की थी। सांसद दुष्यंत चौटाला को एक रूपये में यात्रियों का बीमा करने का आइडिया जननायक स्व. चौधरी देवीलाल की योजनाओं से आया था। स्व. देवीलाल ने अपने शासनकाल में एक रूपये से कई जनकल्याणकारी योजनाएं आमजन और विद्यार्थियों के लिए शुरू की थी। एक रूपये एक हाजिरी विद्यार्थियों के लिए एक महत्वकांक्षी योजना थी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि उन्हें बेहद खुशी है कि केंद्र रेलमंत्री ने रेलयात्रियों के लिए बीमा प्रीमियम राशि एक रूपये से भी कम 92 पैसे निधारित की है। 
क्या है रेलवे की बीमा योजना-- रेलमंत्रालय 31 अगस्त से रेलयात्रियों का 92 पैसे का बीमा करने जा रहा है। यात्रियों को यह बीमा आनलाइन टिकट खरीद के समय करवाना होगा। आनलाइन टिकट खरीदते समय यात्रियों को बीमा का विकल्प मिलेगा। यह विकल्प सामान्य सहित सभी श्रेणियों के लिए उपलब्ध होगा और केवल पांच वर्ष से अधिक आयु वर्ग से बच्चों सहित देश के सभी रेलयात्रियों के लिए है। रेल हादसे में मृत्यु अथवा पूर्ण विकलांगता पर यात्री के परिजनों को 10 लाख रूपये, आशिंक विकलांगता पर साढ़े सात लाख रूपये और घायल के इलाज के लिए अस्पताल खर्च दो लाख रूपये का प्रस्ताव है। इस बीमा कवर में रेल दुर्घटना के अलावा आतंकी घटना, डकैती, दंगा, गोलीबारी आदि घटनाएं भी शामिल होंगी। विदेशी यात्री इस बीमा योजना का लाभ नहीं उठा सकते।

Friday, August 26, 2016

इनेलो विधायक दल बैठक मेें विस में उठाए जाने वाले मुद्दों व पार्टी की अगामी रणनीति पर हुई चर्चा

चंडीगढ़, 26 अगस्त: इनेलो विधायक भाजपा सरकार द्वारा किसानों पर जबरदस्ती थोपी जा रही फसल बीमा योजना व प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति को मौजूदा विधानसभा सत्र में प्रमुखता से उठाऐंगे। यह निर्णय इनेलो विधायक  दल की आज यहां चंडीगढ में हुई बैठक में लिया गया। बैठक की अध्यक्षता इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने की। बैठक में पार्टी विधायक दल के उपनेता जसविंदर सिंह संधू, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा, विधायक रणबीर गंगवा, परमिंदर ढुल, जाकिर हुस्सैन, नसीम अहमद, डा. हरि चन्द मिढा, पिरथी सिंह नबंरदार, मक्खन लाल सिंगला, राम चन्द कंबोज, प्रो. रविंद्र बलियाला, बलवान सिंह दौलतपुरिया, राजदीप फौगाट, ओम प्रकाश लोहारू, वेद नारंग, अनूप धानक, केहर सिंह रावत, बलकौर सिंह कालांवाली, आरएस चौधरी, राम सिंह बराड़, एनएस मल्हान, प्रवीण आत्रेय व अशोक शेरवाल सहित अनेक प्रमुख नेता मौजूद थे। बैठक में इनेलो प्रमुख चौधरी ओम प्रकाश चौटाला की बुआ व जननायक चौधरी देवीलाल की छोटी बहन परमेशवरी देवी के आज सुबह अबूबशहर में हुए निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए गए।
बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए चौधरी नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि आज विस में सिर्फ शोक प्रस्ताव रखे जाने थे और इसके अलावा पहले तय किए गए कार्यक्रम के अनुसार मौजूदा सत्र सिर्फ  एक दिन और यानि 29 अगस्त को ही चलना था। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उन्होंने विधानसभा कार्य संचालन समिति बीएसी की आज सुबह हुई बैठक में सत्र की अवधि को बढाए जाने की मांग करते हुए कहा था कि प्रदेश के गोल्डन जुबली वर्ष में एक तरफ सरकार लंबा सत्र चलाने और सभी को अपनी बात रखने का अवसर प्रदान करने की बात करती है और दूसरी तरफ सदन में चर्चा के लिए मात्र एक दिन रखा गया है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सभी विधायक अपने अपने हल्के की मांगो और समस्याओं को विधानसभा में रखना चाहते हैं उन्हें पूरा समय मिलना चाहिए। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उनके सुझाव को मानते हुए स्पीकर ने सत्र की अवधि को बढ़ाकर 31 अगस्त तक करने का निर्णय लिया। बीएसी की बैठक में उन्होंने कांग्रेस के निलंबित विधायकों का निलंबन रद्द कर उन्हें सदन की कार्यवाही में भाग लेने की इजाजत दिए जाने की भी मांग करते हुए स्पीकर से कहा था कि उनकी सजा अब खत्म होनी चाहिए।
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि आज प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है और पिछले कुछ दिनों के दौरान राज्य में घटी लूटपाट, हत्या, बलात्कार व गैंगरेप की घटनाओं ने प्रदेशवासियों को हिला कर रख दिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जब पुलिस वाले खूद सुरक्षित नहीं तो बाकि लोगों को क्या सुरक्षा मिल पाएगी। उन्होंने कहा कि फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों के खातों से पैसे काट कर सरकार निजी बीमा कंपनियों को फायदा पहुंचा रही है ताकि फसलें खराब होने पर किसानों को दिए जाने वाले मुआवजे से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की जेबें काटने की बजाय सरकारी खजाने से खूद प्रीमियम भरे। उन्होंने कहा कि इन अह्म मुद्दों पर विधानसभा में व्यापक चर्चा करवाए जाने की जरूरत है। जैन मुनि तरूण सागर द्वारा विधानसभा में प्रवचन दिए जाने संबंधी पूछे गए सवालों पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि ये अच्छी बात है कि कोई बडा संत आए और हम सबके बीच बैठ कर कोई अच्छे प्रवचन दे, जिन्हें हम सुनने के लिए अकसर दूर दूर तक जाते हैं। लेकिन विधानसभा में विधायकों को भी अपने हल्के व प्रदेश से जुड़े मुद्दों पर चर्चा का पूरा अवसर जरूर मिलना चाहिए।
सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि स्व. जननायक चौधरी देवीलाल के संघर्ष से ही हरियाणा अलग राज्य के रूप में अस्तित्व में आया था और प्रदेश के हितों पर इनेलो कोई आंच नहीं आने देगी, इसके लिए पार्टी को चाहे कोई भी बडी से कुर्बानी क्यों न देनी पड़े। उन्होंने कांग्रेस व भाजपा पर प्रदेश के हितों को नुकसान पंहुचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि दोनों दल नदी जल समझौते रद्द करने वाला कानून व एसवाईएल के लिए अधिगृहित भूमि को डी-नोटीफाई करने के बिल पारित कर हरियाणा के हितों को नुकसान पंहुचाने में एकसाथ रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि कांग्रेस को अगर हरियाणा के हितों की चिंता होती तो दस साल तक केंद्र व हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले अनुसार एसवाईएल के अधूरे निर्माण को केंद्र ने पूरा करवाना था, लेकिन कांग्रेस ने एसवाईएल के निर्माण को पूरा करवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। अब पिछले दो साल से केंद्र व हरियाणा में भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी भाजपा सरकार में शामिल है, लेकिन भाजपा भीे एसवाईएल को पूरा करवाने में कोई पैरवी नहीं कर रही, उल्टे नहर भरने का काम शुरू करवा दिया था।
इनेलो नेता ने कहा कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने, एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने, प्रदेश के महत्वपूर्ण पदों पर बाहरी लोगों को बिठाने, फसलों को प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान का अभी तक पूरा मुआवजा न मिलने, बिजली की कीमतों में की गई बढौतरी वापस लेने, प्रदेश की खराब आर्थिक स्थिति, गन्ना किसानों का अभी तक पूरा भुगतान न होने, लाभ में चल रहे बिजली उपमंडलों के निजीकरण का फैसला वापस लेने, ढाणियों में बिजली की सुविधा प्रदान करने, अवारा पशुओं से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने और भाजपा द्वारा लोगों से किए चुनावी वादे पूरे न करने सहित राज्य से जुड़े अनेक अह्म मुद्दे काम रोको प्रस्ताव व ध्यानार्कषण प्रस्ताव के माध्यम से प्रमुखता से उठाएगी। 

Thursday, August 25, 2016

इनेलो विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी

चंडीगढ़, 25 अगस्त: इनेलो विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी। बैठक की अध्यक्षता इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला करेंगे। बैठक में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा सहित पार्टी के सभी विधायक व प्रमुख नेता भाग लेंगे। बैठक में इनेलो की ओर से हरियाणा विधानसभा के शुक्रवार से शुरू हो रहे सत्र में उठाए जाने वाले मुद्दों और पार्टी की अगामी रणनीति पर चर्चा की जाएगी। इनेलो प्रदेश में भाजपा सरकार द्वारा किसानों पर जबरदस्ती थोपी जा रही फसल बीमा योजना, स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने, एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने, प्रदेश के महत्वपूर्ण पदों पर बाहरी लोगों को बिठाए जाने, किसानों की फसलों को प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान का अभी तक पूरा मुआवजा न मिलने, बिजली की कीमतों में की गई बढौतरी वापस लेने, प्रदेश की खराब आर्थिक स्थिति, गन्ना किसानों का अभी तक पूरा भुगतान न होने, औधोगिक घरानों को फायदा पंहुचाने के लिए लाभ में चल रहे बिजली उपमंडलों के निजीकरण का फैसला वापस लेने, ढाणियों में बिजली की सुविधा प्रदान करने, प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था, सरकारी स्कूलों में शिक्षा का निरंतर गिरते स्तर को सुधारने, अवारा पशुओं से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने, प्रदेश के अनेक इलाकों में सेम की समस्या से निजात दिलाने और भाजपा द्वारा लोगों से किए चुनावी वादे पूरे न करने सहित राज्य से जुड़े अनेक अह्म मुद्दे काम रोको प्रस्ताव व ध्यानार्कषण प्रस्ताव के माध्यम से प्रमुखता से उठाएगी। 
इनेलो नेता ने कहा कि आज सरकार स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करके किसानों को फसलों के लाभकारी मूल्य देने की बजाए प्राकृतिक आपदा से खराब होने वाली फसलों के मुआवजे से बचने के लिए जबरदस्ती प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लागू कर रही है और इसके प्रीमियम की राशि भी किसानों के खातों से जबरदस्ती काटी जा रही है। इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा सरकार को चुनाव के समय लोगों से किए सभी चुनावी वायदे पूरे करने चाहिए और बुजुगों को बुढ़ापा पेंशन दो हजार रूपए महीना देने के साथ साथ बेरोजगारों को 6 हजार व 9 हजार रूपए प्रति माह पेंशन देनी चाहिए। इनेलो नेता ने भाजपा सरकार से कर्मचारियों को पंजाब के समान वेतनमान व भत्ते दिए जाने और  सभी कच्चे कर्मचारियों को पक्के किए जाने और अपने चुनावी वायदे पूरे करने की मांग की। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद बिजली के रेट बार बार बढ़ाए गए और आज बिजली के रेट पूरे देश के मुकाबले सबसे ज्यादा हरियाणा में हैं। चुनाव के समय भाजपा ने गेस्ट टीचरों, कंप्यूटर टीचरों व अन्य कर्र्मचारियों को पक्का करने का भी वादा किया था, लेकिन सत्ता में आते ही वादों के ठीक उल्ट काम किया और सभी गेस्ट टीचरों व कंप्युटर टीचरों को बार-बार नौकरी से निकालने का काम किया। 
इनेलो नेता ने कहा कि सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है और लोगों का ध्यान अपनी विफलताओं से हटाने के लिए लोगों को आपस में लडाने और प्रदेश के आपसी भाईचारे को तोडऩे में लगी हुई है। इनेलो नेताओं ने कहा कि सरकार पिछले करीब दो साल से यही कहती रही है कि प्रदेश का खजाना खाली है और दूसरी तरफ झूठी वाहवाही बटोरने और लोगों को बहकाने के लिए सरकारी खजाने से करोड़ों रूपए विज्ञापनों पर बेवजह पानी की तरह बहाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति लोगों के लिए बेहद चिंता का विषय है और सरकार इस दिशा में कोई ध्यान नहीं दे रही। इनेलो नेताओं ने कहा कि वे प्रदेश से जुड़े अह्म मुद्दे प्रमुखता से विधानसभा में काम रोको प्रस्ताव व ध्यानार्कषण प्रस्ताव के माध्यम से उठाऐंगे ताकि प्रदेश के लोगों की भावनाओं से सदन को अवगत करवाने के साथ साथ इन मुद्दों पर व्यापक चर्चा हो सके। उन्होंने कहा कि इनेलो द्वारा कांग्रेस के भूमि घोटालों पर दी गई चार्जशीट पर अभी तक कोई कार्रवाई न करके भ्रष्ट कांग्रेसी नेताओं को बचाने के प्रयास सहित पार्टी के विधायक अपने अपने विधानसभा क्षेत्रों से जुड़ी दिक्कतों और समस्याओं को सदन के समक्ष रखने के अलावा प्रदेश से जुड़े अह्म मुद्दे भी प्रमुखता से उठाऐंगे। 
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश में पिछले दिनों घटी हिंसक घटनाओं के दौरान सरकार पूरी तरह से विफल रही और 30 से ज्यादा लोगों की न सिर्फ जान चली गई बल्कि प्रदेश की अरबों रूपए की संपति का भी नुकसान हो गया। इनेलो नेताओं ने कहा कि कुरूक्षेत्र से भाजपा सांसद, प्रदेश के मंत्रियों व भाजपा के नेताओं के साथ साथ कांग्रेस नेताओं ने न सिर्फ लोगों को भडक़ाने का काम किया बल्कि प्रदेश के आपसी भाईचारे को भी तोडऩे का भरसक प्रयास किया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार हिंसक घटनाओं के दौरान पूरी तरह से फेल हो गई थी और प्रदेश में सरकार नाम की कोई चीज नहीं थी। इसलिए सरकार ने अपनी विफलता से लोगों का ध्यान हटाने व अपने लोगों को बचाने के  लिए पहले उत्तरप्रदेश के पूर्व  डीजीपी प्रकाश सिंह की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया, फिर पूर्व न्यायधीश झा की अध्यक्षता में न्यायिक आयोग का गठन किया गया और अब वित्तमंत्री की कोठी को आग लगाए जाने की घटना सहित कुछेक चुनिंदा मामलों को सीबीआई के हवाले करने की बात कही जा रही है। इनेलो नेता ने कहा कि सरकार का अपनी पुलिस व प्रशासन से भी भरोसा उठ गया है और जिलों में आरएसएस के लोगों को सुशासन सहयोगी के नाम पर सुपर डीसी के तौर पर तैनात किया जा रहा है। इन सभी मुद्दों को भी अगामी विधानसभा सत्र में प्रमुखता से उठाया जाएगा और सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की भी मांग की जाएगी।

Monday, August 22, 2016

सांसद दुष्यंत चौटाला का ट्रैक रिकार्ड, सवाल पूछने और चर्चाओं में भाग लेने में दुष्यंत सबसे आगे

चंडीगढ़,  22 अगस्त: देश के सबसे युवा सांसद दुष्यंत चौटाला का लोकसभा में ट्रैक रिकार्ड हरियाणा में अव्वल है। दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में सबसे अधिक सवाल पूछने और चर्चाओं में हिस्सा लेने के मामले में हरियाणा के अन्य सभी सांसदों पर भारी पड़े। सांसद दुष्यंत चौटाला ने बीते मानसून सत्र तक सबसे अधिक 427 मौखिक व लिखित सवाल सरकार से लोकसभा में पूछे हैं और 144 बार विभिन्न मुद्दों को लेकर हुई चर्चाओं और बहस में हिस्सा लिया है। प्राईवेट मैंबर बिल भी सदन में पेश करने का रिकार्ड भी सांसद दुष्यंत के नाम है। उन्होंने अब तक कुल 13 प्राईवेट मैंबर बिल सदन में रखे हैं। रोहतक के सांसद दीपेंद्र हुड्डा नेे अब तक केवल दो प्राईवेट मैंबर बिल सदन में रखे बाकि हरियाणा के किसी भी अन्य सांसद ने एक भी प्राईवेट मैंबर बिल नहीं रखा। 
हरियाणा के सत्तारूढ़ दल भाजपा और कांग्रेस के सांसदों की बात करें तो करनाल से सांसद अश्विनी चोपड़ा ने 236 प्रश्न, अंबाला से भाजपा सांसद रतन लाल कटारिया ने अब तक 194 प्रश्न, रोहतक से कांग्रेसी सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने केवल 33 प्रश्न पूछे हैं। कुरूक्षेत्र से सांसद राजकुमार सैनी ने अब तक केवल 30 सवाल, सोनीपत से सांसद रमेश चंद्र कौशिक ने 117 सवाल पूछे हैं। हिसार से इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने देश व प्रदेश से जुड़े ज्वलंत मुद्दों को न केवल उठाया बल्कि सदन में हुई विभिन्न चर्चाओं में भाग लेकर मुद्दों को धार देने का काम भी किया। बीते मानसून सत्र में दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा के खिलाडियों, किसानों, मजदूरों, कर्मचारियों और उनके संगठनों,सडक़ों, सेना, युवाओं के रोजगार से जुड़े हर विषय को सदन में बखूबी रखा। 
 रियो ओलम्पिक में जाने वाले हरियाणा के खिलाडिय़ों के साथ किए गए भेदभाव के मुद्दे को दुष्यंत ने उठाया वहीं फसल बीमा योजना की खामियों को दूर करते हुए मुआवजे के लिए एक किसान को नुकसान की इकाई की मांग को सदन में रखा। दुष्यंत ने हिसार लोकसभा के लोगों को सुविधाओं और उनकी मांग को ध्यान में रखते हुए हिसार में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के साथ साथ, हिसार से चंडीगढ़ तक डेमू रेल चलाने की मांग को जोर-शोर से उठाया। इनेलो सांसद ने केंद्र सरकार द्वारा जुगलान को वाई-फाई योजना पर ब्रेक लगाने पर एतराज जताते हुए इस योजना को हरी झंडी दिखाने के लिए लोकसभा में खुल कर वकालत की। उन्होंने हरियाणा की भाजपा सरकार द्वारा कर्मचारी संगठनों और उद्यमों के लिए निर्धारित नए मानदंडों का विरोध भी लोकसभा में जताया। दुष्यंत ने केवल अपने स्थानीय मुद्दों के साथ राष्ट्रीय स्तर के मुद्दों की ओर भी सरकार का ध्यान खींचा। उन्होंने वायु-दुर्घटनाओं में जान गंवाने वाले वायुसैनिकों और अधिकारियों को शहीद का दर्जा देने की मांग रखी और सरकार ने इस दिशा में काम करने का भरोसा दिया। उन्होंने वायुसेना के दुर्घटनाग्रस्त हो रहे जहाजों का मुद्दा उठाया और सरकार को इसका जवाब देने के लिए आगे आना पड़ा।

सांसदों द्वारा पूछे गए प्रश्न व चर्चाओं में भाग लिए आंकड़े--
सांसद का नाम   ---  सांसदों द्वारा लोकसभा में  कुल पूछे गए सवाल  ---   सांसदों द्वारा भाग ली गई चर्चाओं की संख्या
दुष्यंत चौटाला       -----   427-----------------  144
अश्विनी चोपड़ा      -----   236 ------------------   4
रतनलाल कटारिया  -----  194  -----------------  79
रमेश चंद्र कौशिक   -----   117 -----------------  15
दीपेंद्र हुड्डा           -----    33 ------------------   34
राजकुमार सैनी       -----   30 ------------------   21
धर्मवीर सिंह           -----   88 -------------------   7

स्त्रोत-- डब्ल्यूडब्ल्यूडबल्यू.पीआरएसआईएनडीआईए.ओआरजी

अंतराष्ट्रीय हर्बल परियोजना पर पूर्व विधायक प्रदीप चौधरी ने उठाए सवाल

पंचकूला, 21 अगस्त : भाजपा सरकार केवल झुठ और फरेब के रास्ते पर चल कर प्रदेश की जनता को मानसिक रूप से ठगने का काम कर रही है, उसके चुनावों में किए वायदे और सत्ता में आने के बाद की गई एक भी घोषणा का पूरा नही होना सरकार की विफलता नही तो क्या है। मानसून बीच चुका है, लेकिन भाजपा की मोरनी में हर्बल फोरेस्ट परियोजना पर सरकार एक कदम भी आगे नही बढ़ पाई। मोरनी में हर्बल पार्क बनाने का मामला केवल सरकार और फाईलों में ही सिमट कर रह गया। उक्त आरोप इनैलो के पूर्व एम.एल.ए एवं मौजूला जिलाध्यक्ष प्रदीप चौधरी ने लगाएं।
प्रदीप चौधरी ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि भाजपा सरकार जिस हर्बल फोरेस्ट परियोजना को अपनी एक महत्वाकांक्षी परियोजना मानकर चल रही थी, उस परियोजना का मानसून में काम शुरू नही होना ही परियोजना की विफलता का सबसे बड़ा राज खुल गया है। चौधरी ने कहा कि सरकार मोरनी में करीब 50 करोड़ की लागत से1700 एकड़ क्षेत्र पर अंतराष्ट्रीय हर्बल पार्क विकसित करने की बात कर रही थी और उसमें सरकार का उद्देश्य विश्वभर में उपलब्ध प्राकृतिक जड़ी-बूटियों की 25,000 प्रजातियों वाले अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के हर्बल फोरेस्ट विकसित करना लेकिन सरकार इस बात का जवाब दे कि सरकार की हर्बल पार्क बनाने की घोषणा के इतने दिनों बाद भी कोई काम नही हो सका और यह सरकार के लिए बेहद शर्मनाक है और उसके झुठे वायदे करने की आदतों की सच्चाई पेश कर रहे है। इनैलो पूर्व विधायक ने कहा कि मोरनी में हर्बल पार्क बनाने का मामला केवल अफसरों और सरकार के बीच फाईलों में ही सिमट कर रह गया है, लेकिन मानूसन बीत रहा है और अभी तक हर्बल पार्क का काम केवल फाइलों तक ही सिमटना सरकार की इस योजना पर सवाल खड़े करता है। चौधरी ने कहा कि जनता ने वोट देकर भाजपा सरकार को इसलिए चुना कि वो प्रदेश का विकास करें, ना कि सत्ता को अपने फायदें के लिए यूज करें, क्योंकि जनता की ढेरों समस्याएं है, जिन से लोग जुझ रहे है। सरकार केवल तानाशाही फैसलें जनता पर थोपने तक ही सीमित है, उसके अलावा उसे जनता के दुख-दर्द की कोई फिक्र नही है। उन्होंने कहा कि भाजपा अपने वायदों को पूरा करने से भाग रही है, लेकिन जनता की उसे फिक्र नही है।
हरियाणा को अपने हिस्से का पूरा पानी मिले - खर्ब


पानीपत : इनेलो के जिला प्रेस संयोजक शेर सिंह खर्ब एडवोकेट ने आज यहां जिला न्यायालय परिसर स्थित अपने चैम्बर में आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि  हरियाणा के हित में अगर सरकार कोई कदम उठाएगी तो इनेलो प्रदेश के हित में होने वाले किसी भी कदम पर मजबूती से उसका साथ देगी। इनेलो नेता ने कहा कि अगर सरकार ने प्रदेश के हितों को कुठाराघात पंहुचाने का प्रयास किया तो इनेलो इसे किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेगी और प्रदेश हित में कोई भी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगी। श्री खर्ब ने कहा कि पिछले 32 सालों से पंजाब के राज्यपाल को निरंतर चंडीगढ़ प्रशासन के प्रशासक की जिम्मेदारी दी जा रही है जोकि सरासर हरियाणा के साथ अन्याय है। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले अनुसार हरियाणा को अपने हिस्से का पूरा पानी मिल सके।  उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा की जीवन रेखा है और इसके निर्माण को लेकर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला ओम प्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली इनेलो सरकार के समय हरियाणा के पक्ष में आ चुका है। इस फैसले के अनुसार एसवाईएल नहर के अधूरे निर्माण को केंद्र सरकार ने अपनी किसी एजेंसी से पूरा करवाना है। सर्वोच्च न्यायालय के उस फैसले पर किसी भी अदालत की कोई रोक नहीं है। आज संयोग से केंद्र के साथ साथ हरियाणा में भी भाजपा की सरकार है और पंजाब में भी भाजपा की गठबंधन सरकार होने के कारण मनोहर लाल खट्टर सरकार को अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए एसवाईएल के अधूरे निर्माण को पूरा करवाने के लिए भी केंद्र सरकार पर दबाब बनाना चाहिए ताकि हरियाणा को उसके  हिस्से का पूरा पानी मिल सके। श्री खर्ब ने रियो ओलंपिक में देश को पहला पदक दिलाने वाली हरियाणा की बेटी साक्षी मलिक, उनके परिवार व कोच को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश की इस बहादुर बेटी ने देश व प्रदेश का नाम पूरी दुनिया में बुलंद कर दिया है। मौजूदा प्रदेश सरकार को चाहिए की वह साक्षी मलिक को 5 करोड़ 1 लाख रूपये नगद व केन्द्र सरकार 2 करोड़ रूपए नगर दे। श्री खर्ब ने कहा कि खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित करने के लिए नकद पुरस्कार देने की खेल नीति पूरे देश में सबसे पहले इनेलो सरकार के समय चौ. ओम प्रकाश चौटाला ने बनाई थी और ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक लाने पर एक करोड़, रजत पदक पर 50 लाख और कांस्य पदक लाने पर 25 लाख देने की न सिर्फ  घोषणा की बल्कि कर्णम मल्लेशवरी को ओलंपिक पदक लाने पर नकद पुरस्कार व हुडा का प्लाट देने के साथ साथ हर प्रकार का मान सम्मान भी देने का काम किया। इसके बाद से ही प्रदेश में खिलाडिय़ों के हौंसले बुलंद हुए और खिलाडिय़ों ने दिल से खेलों में भाग लेना शुरू किया। इस अवसर पर उनके साथ सतीश वर्मा एडवोकेट, किसान प्रकोष्ठ के हल्का पानीपत ग्रामीण अध्यक्ष राजु नांदल व राजेश कादियान एडवोकेट आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।                                         
सांसद चौटाला ने रियो जाकर पदक विजेता साक्षी मलिक को दी बधाई


हिसार, 21 अगस्त : इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने रियो में प्रदेश की बेटी व देश की  महिला पहलवान साक्षी मलिक से मिलकर उन्हें ओलंपिक में पदक जीतने पर बधाई दी है। इनेलो सांसद ने साक्षी मलिक को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश की इस बेटी ने न केवल हरियाणा का बल्कि पुरे देश का नाम दुनिया में रोशन किया है। वंही इनेलो सांसद ओलंपिक में बैडमिनट में रजत पदक जीतने पर देश की बेटी पी वी सिंधु को भी बधाई दी व उनके सुनहरे भविष्य की कामना करते हुए अगले ओलंपिक में रजत को गोल्ड में बदलने की शुभकामनाएं दी।  इस दौरान वे ओलंपिक में गए अन्य भारतीय खिलाडिय़ों से भी मिले।  विनेश व बबीता फौगाट से भी मिलकर उनकी होंसला अफजाई की तथा अगले ओलंपिक के लिए शुभकामनाएं दी। इसके साथ साथ सांसद दुष्यन्त ने खेल के दौरान घायल हुई महिला पहलवान विनेश फोगाट को भी एक विजेता की तरह मान सम्मान व आर्थिक सहायता देने की मांग सरकार से की ताकि अन्य खिलाडीयो का भी हौंसला बढे।  युवा सांसद चौटाला ने कहा कि आज बेटियां किसी भी क्षेत्र में कम नही है, उन्हें बस केवल प्रोत्साहित करने व इसके लिए उचित अवसर प्रदान करने  की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि साक्षी ने रियो ओलंपिक में देश को पहला मेडल दिलाकर सवा करोड़ भारतवासियों का मान बढ़ाया है, जिसकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है। उन्होनें इसके लिए साक्षी मलिक व पी वी सिंधु के अभिभावकों व प्रशिक्षकों को भी बधाई दी। सांसद चौटाला ने कहा कि इनेलो की खेल नीति भी ग्रामीण स्तर के खिलाडिय़ों को हमेशा ऊंचा उठाने की रही है और भविष्य में भी इनेलो खिलाडिय़ों को आगे बढ़ाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि वे इस दिशा में खिलाडिय़ों की सुविधाओं के लिए देश व प्रदेश की सरकार से मांग भी करेंगे ताकि ग्रामीण आँचल से अन्य बेहतरीन खिलाड़ी भी ओलंपिक तक पहुंच सके।