Saturday, October 1, 2016

इनेलो की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में लिए गए कई फैसले


जींद : विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता एवं इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार किसानों को प्रताडि़त करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। हाल ही में 12 हजार किसानों को सरकार द्वारा नोटिस जारी करना इसका जीता जागता सबूत है। यह बात अभय सिंह चौटाला ने यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। 
अभय सिंह चौटाला ने कहा कि जिन किसानों की जमीन नेशनल हाइवे के अंतर्गत आई है, उन किसानों को अब उन 12 हजार सरकार ने नोटिस जारी करके पैसे पर सर्विस टैक्स मांगा है। यह सरकार की किसानों के प्रति प्रताडऩा है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने से पहले अनेक वायदे किए थे लेकिन एक भी वायदा पूरा नहीं किया। भाजपा ने सबसे ज्यादा किसानों के साथ धोखा किया है। पिछले दिनों सफेद मक्खी के कारण बर्बाद हुई किसानों की कपास की फसल का पूरा मुआवजा भी किसानों को नहीं दिया गया। सरकार ने 12 जिलों में गिरदावरी करवाई थी और केवल 5 जिलों के किसानों को ही मुआवजा दिया गया। किसानों के बाजरे तथा ग्वार की फसल का मंडियों में कोई खरदीदार नहीं मिला। यह सब सरकार की एक सोची समझी साजिश है। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को हरियाणा में लागू करके सरकार ने किसानों को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। चौटाला ने कहा कि यदि यह योजना इतनी ही अच्छी होती तो पड़ोसी राज्य भी इस योजना को लागू करते लेकिन केवल भाजपा शासित राज्यों में ही इस योजना को लागू किया गया। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इनैलो एक सप्ताह के अंदर प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में जाकर किसानों को जागरुक करेगी तथा किसानों की लड़ाई लड़ेगी। भाजपा ने किसानों को जो नोटिस जारी किए हैं, सरकार को एक भी पैसा वापस नहीं दिलाया जाएगा। चौटाला ने कहा कि सेना ने बहुत ही बहादुरी का परिचय देते हुए पाकिस्तान को उनकी जमीं पर जाकर सबक सिखाने का काम किया। इसके लिए भारतीय सेना बधाई की पात्र है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि इसमें प्रधानमंत्री मोदी की कोई भूमिका नहीं है। यह सब भारतीय सेना ने अपने शहीद सैनिकों का बदला लेने के लिए किया। इसलिए भारतीय सेना को इनैलो एक पत्र लिखकर बधाई देगी। इस मौके पर सांसद दुष्यंत चौटाला, सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, रामपाल माजरा, गोपीचंद गहलौत, डॉ. केसी बांगड़, अशोक शेरवाल, शीला भ्याण, कलीराम पटवारी, परमेंद्र सिंह ढुल, डॉ. हरिचंद मिढ़ा, कृष्ण राठी, कृष्ण ढांडा, सुभाष गोयल, विधायक वेद नारंग, बलकौर सिंह, केहर सिंह, रविंद्र बलियाना, भागीराम, पूर्ण सिंह डाबड़ा, राज सिंह मोर, रामचंद्र कम्बोज, अनुप धानक, नक्षत्र सिंह महलान, प्रदीप गिल, डॉ. रामचंद्र जांगड़ा, सतीश नांदल, यशवीर सिंह राणा, नरेंद्र सांगवान, राजपाल डेविड गिल मिर्चपुर, विश्ववीर नंबरदार, आनंद लाठर, सतीश पिंडार भी मौजूद थे। 
इससे पहले यहां एक होटल में इनैलो स्टेट कार्यकारिणी की बैठक हुई। बैठक में लगभग एक हजार कार्यकारिणी सदस्यों ने भाग लिया। कार्यकारिणी में पूर्व सांसद एवं नलवा से विधायक रणबीर सिंह गंगवा ने प्रधानमंत्री फसल बीमा का विरोध करते हुए इस योजना को रद्द करवाने की मांग की। इसी प्रकार टोहाना से पूर्व विधायक निशान सिंह ने धान व बाजरे घोटाले की जांच करवाने की मांग की। उन्होंने कहा कि भाजपा ने अधिकारियों वे मील मालिकों के साथ मिलकर धान की सरकारी खरीद नहीं की जिस कारण किसान धान को औने-पौने दामों पर बेचने को मजबूर हुए। इस मामले में लगभग दस हजार करोड़ रुपए का घोटाला हुआ है। उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच करवाई जाए। पूर्व डीजीपी महेंद्र सिंह मलिक ने बैठक में प्रस्ताव रखा कि जिस बहादुरी से हमारे सैनिकों ने पाक की सरजमीं पर घुसकर उनको करार जवाब दिया है, वे बधाई के पात्र हैं। इसलिए एक पत्र लिखकर थलसेना अध्यक्ष दलबीर सुहाग को बधाई दी जाए। सभी ने इन प्रस्तावों को पारित किया।

Friday, September 30, 2016

आतंंकवाद के खिलाफ देश का हर नागरिक कड़ी कार्रवाई के पक्ष में है : कर्नल छिल्लर
चंडीगढ़, 30 सितंबर: इनेलो पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष व पूर्व विधायक कर्नल रघुबीर सिंह छिल्लर ने भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक को ऐतिहासिक करार देते हुए कहा कि ऐसा कर सेना ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जबाव दिया है। इस ऐतिहासिक सर्जिकल स्ट्राइक ने यह साबित कर दिया है कि हमारे बहादुर जवानों का मनोबल दूसरे देशों की सेना से कहीं ज्यादा एवं बेहतरीन है और हमेशा रहेगा। हमें अपनी सेना पर गर्व है और हम सेना के बहादुर जवानों के जज्बे को सलाम करते हैं। सेना ने हमेशा ही देश के लिए प्राणों का बलिदान दिया है और सेना का हर जवान इसके लिए हमेशा तैयार है। कर्नल रघुबीर सिंह ने केंद्र सरकार से पाकिस्तान से भारतीय राजदूत वापस बुलाने सहित सभी संधियों को रद्द करनेे और वैश्विक स्तर पर पाक को अलग-थलग करने के लिए सभी संभावित कार्रवाई करने की भी मांग की है।
 कर्नल छिल्लर ने कहा कि आतंंकवाद के खिलाफ देश का हर नागरिक कड़ी कार्रवाई के पक्ष में है तथा भारतीय सेना ने कड़ी कार्रवाई कर जता भी दिया है। पीओके में चल रहे आंतकी कैंपों को चिह्ंित कर नष्ट करना चाहिए ताकि आंतकियों व आतंकवाद को कड़ा संदेश दिया जा सके। इनेलो पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि केंद्र सरकार पाकिस्तान के राजदूत को तुरंत वापस भेजने, भारतीय राजदूत को वापस बुलाने व जल और व्यापार सहित अन्य सभी समझौतों को रद्द कर पाक को घुटने टेकने पर मजबूर करे तथा सेना पीओके में चल रहे आतंकियों के ट्र्रेनिंग कैंपों को तबाह करना निरंतर जारी रखें। आज देश का हर नागरिक हमारी सेना के बहादुर जवानों के साथ खड़ा है। 

Thursday, September 29, 2016

पहली अक्तूबर को जींद में होगी इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक

इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक शनिवार 1 अक्तूबर को जींद में होगी। बैठक की अध्यक्षता इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला और प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा करेंगे। सफीदों रोड जींद में होने वाली इस बैठक में पार्टी के सभी विधायक, सांसद, पूर्व विधायक, प्रदेश व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य, जिला-हलका व शहरी प्रधान और विभिन्न प्रकोष्ठों के प्रदेश व जिला संयोजक हिस्सा लेंगे। बैठक में करनाल रैली को सफल बनाने के लिए पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को बधाई देने के साथ-साथ सरकार द्वारा किसानों के खातों से फसल बीमा योजना के नाम पर जबर्दस्ती काटी गई राशि और किसानों को धान व बाजरा का न्यूनतम समर्थन मूल्य न मिलने और पार्टी की ओर से प्रदेश के सभी 90 हलकों में शुरू की जाने वाली बैठकों को लेकर व्यापक विचारविमर्श कर आगामी रणनीति को अंतिम रूप दिया जाएगा।
हिसार ब्लाक समिति के चेयरमैन बने बलजीत मंगाली


हिसार, 29 सितम्बर : सरकार के तमाम अलोकतांत्रिक हथकंडो के बावजूद भी उसे हिसार ब्लॉक समिति -एक के चेयरमैन के चुनाव में मुंह की खानी पड़ी। इनेलो विधायक रणवीर गंगवा ने चेयरमैन पद के लिए हुए चुनाव के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि आज के चुनाव के बाद बीजेपी को सीख लेनी चाहिए, उसकी उल्टी गिनती शुरू हो गई है। उन्होंने कहा कि पिछले कई महीनों से बीजेपी सरकार ब्लॉक समिति हिसार -एक के चेयरमैन व वाइस चेयरमैन के चुनाव को स्थगित करवाती आ रही थी। गौरतलब है कि यह चुनाव तीन बार स्थगित किया जा चूका है। इनेलो विधायक गंगवा ने ब्लॉक समिति के सभी सदस्यों को सरकार के खिलाफ एकजुटता रखने के साथ साथ नवनियुक्त चेयरमैन बलजीत मंगाली को बधाई दी। उन्होंने कहा कि सरकार ने बार बार चुनाव को स्थगित करके सदस्यो को प्रलोभन देकर उनका ईमान खरीदने की कोशिश की परन्तु सदस्यो ने जागरूक प्रतिनिधि की जिम्मेदारी निभात्र  हुए सरकार को उसकी हैसियत दिखा दी। बरवाला से इनेलो विधायक वेद नारंग ने कहा कि आज की जीत सभी सदस्यों की भाईचारे की जीत है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि आज के परिणाम से शायद बीजेपी को अक्ल आ जाये और आने वाले समय में वो जनता से किये गए अपने वायदों को पूरा करे। नारंग ने कहा कि अगर अब भी सरकार के लोग नही सुधरे तो ब्लॉक व गाँव स्तर पर सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध करेंगे। इस मौके पर नव नियुक्त चेयरमैन बलजीत मंगाली ने कहा कि ब्लॉक समिति के सदस्यो ने निर्विरोध तरीके से  उन्हें चुनकर जो सम्मान उन्हें दिया है, वे इसके लिए उनके आभारी है ।जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गयी है वे इसको निभाने में अपनी तरफ से कोई कोर कसर नही छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वे इनेलो के सिपाही है, जननायक चौधरी देवी लाल की नीतियों में विश्वास रखते है। चौधरी औम प्रकाश चौटाला के नेतृत्व व युवा सांसद दुष्यंत चौटाला व विधायक रणवीर गंगवा के मार्गदर्शन में पूरे ब्लॉक के विकास कार्य बिना किसी भेदभाव के करवाएंगे। इस मौके पर इनेलो जिला अध्यक्ष राजेंद्र लितानी, विधायक अनूप धानक, पूर्व विधायक पूर्ण सिंह डाबड़ा, शीला भ्याण, सतपाल सरपंच, सत्यवान बिछपड़ी, डॉ सत्य  नारायण मंगाली, एडवोकेट मनदीप बिश्नोई, डॉ महेंद्र गंगवा, राम चन्द्र गंगवा, किताब सिंह देवा व ब्लॉक समिति हिसार के सदस्यों सहित सैंकड़ो की संख्या में इनेलो कार्यकर्ता उपस्थित थे।
रास चुनाव धांधली के मामले में चुनाव आयोग ने सीईओ को दोषियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करवाने को कहा


चंडीगढ़, 28 सितंबर: भारतीय चुनाव आयोग ने राज्यसभा चुनाव के दौरान पेन बदलने और इसके चलते 12 वोट रद्द होने के मामले में हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को आपराधिक षड्यंत्र, धोखाधड़ी व जालसाजी का मामला दर्ज करवाए जाने के आदेश दिए हैं। इसमे कहा गया है कि इस मामले में जनप्रतिनिधि कानून व भारतीय दंड सहिता की विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज करवाई जाए ताकि चुनाव प्रकिया दौरान डियूटी पर तैनात व अन्य लोगों जो कथित तौर पर पैन बदलने के लिए जिम्मेदार हैं, उनकी पहचान कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो सके। चुनाव आयोग ने हरियाणा के मुख्य सचिव को भी चुनाव के रिटर्निंग अधिकारी व विधानसभा सचिव आरके नांदल के खिलाफ इस मामले में डियूटी में गम्भीर कोताही बरतने और उनके सुपरवाईजरी कंट्रोल मे कमी के चलते अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को कहा है। चुनाव आयोग ने कहा कि निर्वाचन अधिकारी ने वोटों की गिनती शुरू करवाने की इजाजत लेने से पहले आयोग से तथ्य छुपाए और अपनी रिपोर्ट में भी चुनाव प्रक्रिया के दौरान एक अन्य पैन मिलने जैसे गम्भीर मामले का उल्लेख तक नहीं किया।
चौधरी अभय सिंह चौटाला ने बुधवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग को इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाए जाने की मांग करते हुए पत्र लिखा था और अब आयोग ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को आपराधिक मामला दर्ज करवाए जाने की हिदायत दी है। इनेलो नेता ने कहा कि रास चुनाव के षडयंत्र में कांग्रेस व भाजपा की मिलीभुगत से प्रजातंत्र का गला घोंटा गया और प्रदेश कलंकित हुआ। आयोग ने हरियाणा के मुख्य सचिव को लिखे पत्र में कहा कि रास चुनाव के लिए जारी किए गए पत्र में कहा गया था कि निर्वाचन अधिकारी मतदाताओं को मतपत्र के साथ बैंगनी रंग की स्याही वाला पैन  उपलब्ध करवाएगा और उसी पेन से मतपत्र पर निशान लगाया जाएगा। लेकिन चुनाव के दिन रिटर्निंग अधिकारी ने आयोग के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए मतपत्र के साथ बैंगनी स्याही वाला पैन देने की बजाय उस पैन को एक डोर के साथ बांधकर वोटिंग वाले हिस्से में रखवा दिया। ये सीधा-सीधा चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों की जानबूझकर उल्लंघना करने का मामला है। इस बारे में आयोग ने 18 अगस्त को निर्वाचन अधिकारी से जवाब मांगा था कि उन्होंने अपने स्तर पर चुनाव प्रक्रिया को क्यूं बदला? लेकिन निर्वाचन अधिकारी द्वारा इस बारे में 22 अगस्त को दिए गए जवाब में इस मुद्दे को स्पष्ट नहीं किया गया। 
आयोग ने यह भी कहा कि मुख्य चुनाव अधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में निर्वाचन अधिकारी के 30 जून को सीईओ को लिखे पत्र में कहा है कि जब चुनाव प्रक्रिया चल रही थी तो क्रम संख्या 10 पर वोट डालने आए विधायक सुभाष बराला ने कहा कि वोटिंग वाले हिस्से में एक पैन डोर के साथ बंधा हुआ है और एक अन्य बालपैन और रखा हुआ है जो कि निर्वाचन अधिकारी व सहायक निर्वाचन अधिकारी द्वारा वहां रखे गए बालपैन को वहां से हटा दिया गया और मतदाताओं से कहा गया कि बैंगनी रंग के पैन से ही मतपत्रों पर निशान लगाए जाएं जो कि वहां पर बंधा हुआ है। यह बात वीडियोग्राफी को गहराई से देखने पर भी साफ नजर आती है कि भाजपा विधायक श्रीमती रोहिला रेवड़ी क्रम संख्या 7 पर वोट डालने आई और अपने साथ एक पैन लेकर आई थी। रोहिता रेवड़ी के बाद क्रम संख्या 8 पर भाजपा विधायक श्रीमती कविता जैन और क्रम संख्या 9 पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल वोट डालने आए। उनके बाद वोट डालने आए भाजपा विधायक सुभाष बराला ने वहां एक अन्य पैन होने की बात नोटिस में लाई और उसके बाद वोटिंग वाले हिस्से से वो अतिरिक्त पैन हटा दिया गया और सहायक निर्वाचन अधिकारी को जिम्मेदारी दी गई कि वे वोटिंग वाले हिस्से की नियमित रूप से निगरानी करें और ये बात वीडियो ग्राफी से भी साफ झलकती है। चुनाव आयोग ने कहा कि निर्वाचन अधिकारी ने न तो यह घटना आयोग के नोटिस में लाए और न ही मतदान दिवस की रिपोर्ट के फारमेट में इसका उल्लेख किया और न ही मतगणना की इजाजत मांगते समय आयोग के पास इसका कोई उल्लेख किया गया। यह मामला चुनाव आयोग से तथ्यों को सीधे-सीधे छुपाने का है। चुनाव आयोग ने कहा कि राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान परिसर और चुनाव से संबंधित सभी गतिविधियों के लिए निर्वाचन अधिकारी ओवरऑल प्रभारी होता है। इसलिए आयोग यह मानता है कि निर्वाचन अधिकारी आरके नांदल जो कि हरियाणा विस के सचिव भी हैं, ने अपनी ड्यूटी निभाने में गम्भीर कोताही बरती और ये उनके सुपरवाइजरी नियंत्रण की भी कमजोरी है जिसके चलते मतदान वाले हिस्से में अनधिकृत पैन पाया गया और एक अन्य अनधिकृत कथित पैन का इस्तेमाल हुआ जिसके चलते 12 मतपत्र गिनती के दौरान अलग स्याही के होने से रद्द किए गए। इसलिए आयोग ने चाहा है कि आरके नांदल के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए। नेता प्रतिपक्ष ने मुख्य सचिव व सीईओ को लिखे कथित पत्र की प्रतियां भी पत्रकारों को सौंपी।
अभय चौटाला ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर रास चुनाव के नतीजे बदलने का अपराधिक षडय़ंत्र रचने वालों के खिलाफ आयोग की ओर से पुलिस के पास अपराधिक मामला दर्ज करवाए जाने की मांग करते हुए कहा था कि ये मामला सिर्फ एक प्रत्याशी की हार जीत का न होकर उससे कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस का शिकार भारतीय लोकतंत्र व हरियाणा की जनता हुई है जिन्हें अपनी इच्छा अनुसार रास के लिए अपना प्रतिनिधी चुनने के अवसर से वंचित किया गया है। उन्होंने यह भी कहा था कि इस षडय़ंत्र से न सिर्फ भारतीय लोकतंत्र की साख को क्षति पंहुची है, बल्कि ये भारतीय संविधान पर भी आघात है।
उपायुक्तों के माध्यम से भेजे जाने वाले ज्ञापन राज्यपाल तक पहुंचते ही नहीं, अधिकारी पूरी तरह बेलगाम : नेता प्रतिपक्ष



चंडीगढ़, 28 सितंबर: इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला  ने भाजपा सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि आज प्रदेश की मंडियों में करीब 30 फीसदी से ज्यादा धान की फसल आ चुकी है और सरकारी खरीद न होने के कारण किसानों को 200 से 250 रुपए प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर धान बेचने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने सरकार द्वारा किसानों का बाजरा भी एमएसपी पर न खरीदने का आरोप लगाते हुए कहा कि किसानों को करीब 400 रुपए प्रति क्विंटल कम मूल्य पर अपना बाजरा बेचना पड़ा। इनेलो नेता ने कहा कि आज प्रदेश के अधिकारी इतने बेलगाम हो गए हैं कि जिला उपायुक्तों के माध्यम से जो भी मांग पत्र महामहिम राज्यपाल के पास भेजने के लिए सौंपे जाते हैं वे मांग पत्र अधिकारी आगे राज्यपाल को भेजते ही नहीं हैं। उन्होंने कहा कि इनेलो ने जनवरी 2015 से अगस्त 2016 तक राज्यपाल को 11 ज्ञापन भेजे थे जो कि आरटीआई में हुए खुलासे से पता चला कि पिछले डेढ साल के दौरान राज्यपाल को उपायुक्तों के माध्यम से कोई भी ज्ञापन नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि मुख्य विपक्षी पार्टी द्वारा दिए गए ज्ञापनों को लेकर यह हालत है तो आम आदमी द्वारा राज्यपाल के नाम जिलों से भेजे गए ज्ञापनों की क्या हालत होगी, सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। पत्रकार सम्मेलन में पार्टी के अनेक विधायक व प्रमुख नेता भी मौजूद थे। 
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि करनाल रैली की सफलता से यह बात साफ हो गई है कि प्रदेश के लोगों में भाजपा सरकार के खिलाफ भारी गुस्सा है और लोगों की सारी उम्मीदें अब इनेलो से ही हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि एक तरफ जहां सरकार ने किसानों के खाते से फसल बीमा योजना के नाम पर 300 करोड़ रुपए जबर्दस्ती काट लिए वहीं मंडियों में 30 फीसदी धान आने के बावजूद अभी तक न तो कोई जे फार्म कटा है और न ही मार्केट कमेटियों को मार्केट फीस के तौर पर कोई राशि मिली है। जिससे साफ है कि किसानों से औने-पौने दामों पर धान खरीदकर रख ली गई है और अब इसके जे फार्म सरकारी खरीद शुरू होने के बाद एमएसपी पर जारी कर रकम का एक बड़ा हिस्सा कुछ लोगों की जेबों में चला जाएगा। उन्होंने कहा कि पहली तारीख को इनेलो राज्य कार्यकारिणी की बैठक जींद में रखी गई है जिसमें किसानों के मुद्दों सहित सभी मुद्दों पर पार्टी पदाधिकारियों की राय लेकर आगे आगामी कार्रवाई की जाएगी और इनेलो इन मुद्दों पर सभी 90 हलकों में भी जाएगी। 
नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि स्वर्ण जयंती योजना के नाम पर सरकार ने 500 करोड़ रुपए का बजट रखा है लेकिन कल हुई बैठक के लिए मात्र एक दिन पहले फोन पर सूचना दी गई और कहीं बैठक का कोई एजेंडा भी नहीं भेजा गया जिसके चलते 80 प्रतिशत सदस्य इस बैठक में नहीं आ पाए। इनेलो नेता ने कहा कि एक  नवम्बर से सरकार स्वर्ण जयंती कार्यक्रम शुरू करने जा रही है और दूसरी तरफ यह कहती है कि पूर्व विधायकों की राय जानने के लिए नवम्बर के आखिरी हफ्ते में विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा।  उन्होंने कहा कि सरकार कहती है कि जिलास्तर पर खेल पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे लेकिन ऐसे कार्यक्रम तो जिलों के हर स्कूलों व कॉलेजों में निरंतर चलते ही रहते हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि  बैठक में प्रोटोकॉल की भी ध्यान रखा गया और पूर्व उपराज्यपाल श्रीमती चंद्रावती को ऐसी पंक्ति में बैठा दिया गया जो उनकी गरीमा के अनुरूप नहीं था। उन्होंने कहा कि लगता है सरकार स्वर्ण जयंती के नाम पर 500 करोड़ रुपए के बजट से अपने चहेतों को फायदा पहुंचाने की फिराक में है।
सवालों के जवाब में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि चुनाव से पहले प्रधानमंत्री कहा करते थे कि कोई एक जवान का सिर कलम करेगा तो 10 सिर लेकर आएंगे लेकिन आज 56 इंच की छाती व एक के बदले 10 सिर वाले बयानों से भाजपा पूरी तरह बेनकाब हो गई है। उन्होंने भाजपा पर हमेशा जातपात के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि डिंगरहेड़ी के नाबालिक दोहरे गैंगरेप व दोहरे हत्याकांड के मामले को लेकर मुख्यमंत्री द्वारा इसे मामूली घटना कहना पूरे समाज को अपमानित करने वाली बात है और सरकार के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की नारे की भी पोल खोलती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को शायद अपने पद की गरिमा का भी ध्यान नहीं जो उन्होंने डिंगरहेड़ी मामले में ऐसा गैर जिम्मेदाराना बयान दिया। 
इनेलो नेताओं ने कहा कि इनेलो की करनाल रैली को विफल करने के लिए सरकार ने जानबूझकर 25 सितम्बर को पंचायत उपचुनावों की घोषणा की लेकिन इसके बावजूद प्रदेश की जनता ने रैली में रिकार्ड तोड़ भागीदारी पर सरकार को जवाब दे दिया। एक अन्य सवाल के जवाब में इनेलो नेता ने कहा कि सरकार पूरी तरह से आरएसएस के एजेंडे को लागू करने में लगी हुई है और अब पंचायतों की जमीन आमदनी वाला पैसा जो पहले पंचायत खाते में रहता था अब उन्हें भी बीडीओ के पास मंगवाए जाने लगा है। कुरुक्षेत्र के सांसद राजकुमार सैनी द्वारा एचसीएस भर्ती को लेकर दिए गए बयान पर नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भाजपा सांसद एक जाति विशेष के खिलाफ केवल जहर उगलने के लिए मौके की ही तलाश में रहते हैं। उन्होंने कहा कि कल को भाजपा सांसद यह भी मांग कर सकते हैं कि साक्षी मलिक द्वारा रियो में जीते गए ओलंपिक पदक की भी जांच करवाई जाए।   उन्होंने सरकार द्वारा आए दिन की जा रही नई-नई घोषणाओं पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री की जगमग गांव योजना और गोद लिए हुए गांव की योजना पहले से ही बुरी तरह विफल हो चुकी है।

Wednesday, September 28, 2016

सोशल मीडिया पर भी रही इनेलो की रैली सुपरहिट - दुष्यंत चौटाला
इनेलो ने करनाल में आयोजित रैली को इस बार फेसबुक पर लाइव देश व प्रदेश की राजनीति में एक इतिहास बना डाला। यह पहला मौका था जब किसी भी राजनैतिक रैली को देश में फेसबुक पर लाइव किया गया हो। सद्भावना और सम्मान दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित यह रैली देश-विदेश में 10 लाख से अधिक लोगों तक पहुंची। इतना ही नहीं यू-टयूब पर भी इस रैली का पूरा लाइव किया गया जिसे हजारों लोगों ने देखा। रैली में 103 टै्रक्टरों के साथ पहुंचने वाले इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला के शो का भी फेसबुक पर लाइव किया गया था जोकि 4 लाख 70 हजार लोगों तक पहुंचा। इसके अलावा पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इस रैली को फेसबुक पर बहुप्रचारित किया। सोशल मीडिया के माध्यम से रैली को अधिक अधिक लोगों तक पहुंचाना सांसद दुष्यंत चौटाला की हसरत थी। 
आंकड़ों के अनुसार इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला के फेसबुक पेज से यह रैली लगभग 6 लाख 33 हजार लोगों तक पहुंची। डा. अजय सिंह चौटाला के पेज से 2 लाख 40 हजार लोगों तथा इंडियन नेशनल लोकदल के फेसबुक पेज से लगभग एक लाख 9 हजार लोगों तक यह रैली पहुंची। नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला के फेसबुक पर भी हजारों की संख्या में विभिन्न तस्वीरों को पंसद किया गया और कमेंट्स किए। इसके अलावा फेसबुक पेज पर 360 डिग्री के व्यू से विभिन्न प्रकार की तस्वीरें पोस्ट की गई जिसमें रैली के हर कोने को दिखाया गया। इस तस्वीरों को लाइक करने वालों की संख्या करीबन 3 लाख है। 
यू-टयूब पर इस रैली का लगातार 4 घंटे 42 मिनट तक लाइव किया गया और 17 हजार लोगों ने यू टयूब पर इसे देखा।सांसद दुष्यंत चौटाला का कहना है कि सोशल मीडिया पर इस रैली को बहुत रिस्पांस मिला और प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर जननायक स्व. देवीलाल जयंती पर आयोजित सदभावना एवं सम्मान दिवस समारोह करीबन 18 लाख तक पहुंचा। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर भी इनेलो की करनाल सुपरहिट रही।